बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,तब्बू के सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बुर लैंड की चुदाई: बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी, फिर मैंने अपने लंड को एक झटका मारा और रागिनी की चूत में पूरा लंड पेल दिया.

भाभी देवर के नाजायज संबंध

मैं भी लंड को अंदर किये किये उसकी गोरी कमर पर उसके ऊपर पसर गया और उसके गालों और गर्दन पर किस करने लगा. मिया खलीफा के सेक्सी वीडियोअब मामा जी का लंड सारा रस निकल चुका था, धीरे धीरे लंड सुकड़ने लगा था, मामा जी को नींद आने लगी थी, शायद काफ़ी थक चुके थे, मैंने मामा जी को आवाज़ दी पर मामा जी जवाब नहीं दे रहे थे, मैंने दो तीन बार आवाज़ दी तो मामा जी की नींद खुल गयी, मामा जी उठ कर बाथरूम चले गये.

और वैसे भी फ्लॉरा को देख कर साफ पता लगता है कि उसने चुदाई जरूर की है. क्सक्सक्स गेमतब हरमीत बोल उठी- सैम, ज़रा आराम से करना… अभी तक मैं गांड से कुंवारी हूँ.

फिर मुँह से लंड निकाल कर मैंने बिना देर किए उनकी चुत पे रख कर एक जोरदार झटका मारा.बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी: xxx ब्लू फिल्म देख कर उसे थोड़ा-थोड़ा ब्लोजॉब करने का तरीका समझ में आ गया था.

मैंने देखा उसके हाथ में बैग था, तो मैंने पूछा- कहाँ जाना है?बोली- राहुल का कॉल आया था कि उसके अंकल की डैथ हो गई है तो मुझे जाना पड़ेगा… उसने मेरी टिकट करा दी है… रात की ट्रेन है.सुबह के 7 बज चुके थे, आंटी ने हमारे घर आते ही दूध के गिलास हाथ में थमा दिए.

जापान सेक्स रेप - बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी

उसके बाद वो अपने काम पे चला गया और अब मोना और नीतू घर में अकेली थी.फिर पायल ने मेरे लंड को अपनी चुत में लेकर चूचे हिलाते हुए उछलने लगी.

फिर मैंने दूसरा झटका दिया और मेरा पूरा लंड उनकी फुद्दी में चला गया. बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी इसके बाद घर के नजदीक पहुँचे तो भाभी अपने कमरे में चली गईं और मैं भी अपने कमरे में आ गया.

इससे अब मम्मी को पूरी आज़ादी मिल गई और वो अब भी उस नौकर से चुदवाती है.

बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी?

मैंने कुछ ज्यादा ही बोल दिया, लेकिन उसने मुझे नीचे झुकाया और मेरी चुत में बड़े प्यार और आराम से लंड टिकाया. तो घर वालों ने ये फ़ैसला किया कि दादी की सेवा के लिए किसी को रखा जाए. रवि की आवाज़ सुनकर उन पहलवानों ने नज़र हमारी तरफ घुमाई… रेत में लथपथ उन पहलवानों में एक संदीप था, जिसे देख कर मेरे चेहरे पर हैरानी और डर का नंगा मुखौटा लग गया जिसके नीचे मेरे ज़हन में उथल पुथल मच गई कि अब मैं क्या करूं.

मेरे मन में पहले से ही उसे चोदने का प्लान था, इसलिए मेरा लंड खड़ा हो रहा था और मैं लंड को संभाल रहा था. मैंने सोचा इसके मुँह में लंड घुसा दूँगा तो चुप रहेगी क्योंकि वैसे भी मैं इसे अभी तो चोदने वाला था भी नहीं, बस फिलहाल ओरल सेक्स ही ठीक लग रहा था. उसके बाद मैंने पिंकी से कहा- अब तो रेखा तुम्हारे साथ रहेगी तो तुझे चोदूँगा कैसे?पिंकी बोली- मैं रेखा को पटा लूंग़ी.

इन्होंने आर्डर दिया कि उसी हालत में मैं रसोई में जा कर उनके लिए चाय बना कर लाऊं. वह पूरी तरह उत्तेजित हो गई थी; वह उठी और मुँह मेरी तरफ घुमा कर अपनी टाँगें चौड़ी करके मेरे लंड को लोअर से बाहर निकाल कर चूत पर रगड़ने लग गई. मैंने खेत में नुकसान का जायजा लिया और फिर मैं फॉर्म हाउस की तरफ पलटा.

उसे मेरा लंड मुंह में लेने में दिक्कत हो रही थी, क्योंकि लंड उसके गले में फंस जाता था. मैंने मना कर दिया, मेरी आँखों में तो आँसू तक आ गए, पर वो रेगुलरली मेरे मम्मों को सहलाए जा रहा था.

साधु- मोना बेटी, तुम और नीतू अपने सारे वस्त्र निकाल दो, अब ये चंदन का टीका तुम्हारी और इसकी योनि पे लगाऊंगा.

मैं भी वही करने लगी, जब मेरा भाई लैपटॉप पर कुछ करता मैं उसके करीब जाकर झुक के देखती और पूछती कि क्या कर रहे हो भाई.

अब उसकी चूचियां आज़ाद हो चुकी थीं, जो मेरी आँखों के सुन्दर लग रही थीं. फिर मैंने अपने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू किया, तो भाभी को मज़ा आने लगा और वो अपनी कमर हिला कर साथ देने लगीं. तभी नीचे से मेरे स्टाफ का फोन आया- सर जी, सब मरीज को इंजेक्शन और दवाई दे दिया है और अब मैं घर जा रहा हूं.

वाह क्या छाती थी उसकी… बिल्कुल कड़क और बीच में एक दरार… मैंने उसके छाती के उभर पर एक ज़ोरदार किस कर दी और अपने चेहरे को उसकी छाती पर रगड़ने लगा और अपनी नाक फूली छाती के बगल में घुसा दी. जब भी मैं तरुण के नग्न लिंग को देख लेती तब दिन हो या रात हर समय मुझे आँखें बंद करते उसी लिंग की छवि दिखाई देती रहती. लेकिन मैंने पल भर से ज्यादा उसे देखने की हिम्मत नहीं की क्योंकि मैंने उससे वादा किया था कि कोई ऐसी हरकत नहीं करूंगा जिससे उसको मेरी तरफ से शर्मिंदा होना पड़े.

हम रात के लगभग 11 बजे तक चैट करते रहे जब उसके मम्मी पापा सो गए, तब उसने कहा- आ जाओ.

यह पूरी सेक्स कहानी लड़की की मधुर सेक्सी आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है. मेरी गर्लफ्रेंड पूरी नंगी थी, उसकी माँ ने बेल्ट ले कर मेरी नंगी गर्लफ्रेंड को खूब मारा. उतनी सी लाइट में कुछ दिखता तो नहीं था हां खिड़की के कांच चमकते से लगते थे.

मैं हाथ बढ़ा कर नीचे ले गया तो देखा मेरा लंड ठीक चूत के मुहाने पर था. पर किसी में तेरे जितना दम ही नहीं था इसलिए सिर्फ़ मसलने पे ही बात खत्म हुई. माया मेरे पास आई और बोली- आपको पार्टी डांस आता है क्या?मैंने झूठ बोलते हुए कहा- पूरा नहीं आता.

जब सिंडी का दर्द कम हुआ तो परीक्षित ने उनके लंड से कंडोम निकालकर दूसरा कंडोम लगाया और फिर से उसकी चूत में लंड डाल दिया.

मैंने उससे चूमना बंद कर दिया, पर अपनी बांहों में थामे रखा और उससे बातें करने लगा, मैंने उससे कहा- तुम बहुत सुंदर और सेक्सी हो. आंटी बोली कि आज तक उन्होंने ऐसी मजेदार चुदाई नहीं की थी, मजा आ गया.

बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी मेरी कुछ ख़ास पाठिकाएँ और पाठक जो मेरे साथ वटसऐप पे जुड़े हुए हैं, उनका भी धन्यवाद जो समय समय पर मुझे और कहानियाँ लिखने के लिए कहते हैं और मेरी कहानियाँ पढ़ कर अपनी चूतें और लंड को शांत करते हैं या चुदाई करते हैं. सभी तुझे नहीं दिखेंगे, ये मुझे ही करना होगा और वैसे भी आज से तू कपड़े नहीं पहनेगी.

बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी उसने लंड को चुत पे एक दो बार रगड़ा, फिर सुपारे को चुत में फंसा कर ज़ोर से धक्का दे मारा. मैं चुद रही थी, गरम थी, मैं भी उसका एक एक कतरा पी गई और चाट चाट के साफ कर डाला.

मैंने दूसरे हाथ से उसकी मक्खन गांड के छेद को सहलाना और उंगली करना स्टार्ट कर दिया.

नंगा ब्लू सेक्सी

गुलशन जी ने पहले तो उसकी जाँघों को चूमा-चाटा, उसके बाद वो सीधे चुत को चूसने में लग गए. फिर मैंने उसकी टांगें फैला दीं और अपना लंड उस की चूत पर रगड़ने लगा. प्रिय पाठको, क्या आप ने कभी विचार किया कि हमारी गरमा गर्म सविता भाभी अपने जिस्म को, अपनी फ़ीगर को इतने अच्छे से कैसे मेंटेन रखती हैं?हाँ वो बेशक जिम जाती हैं लेकिन उस तरह से नहीं, जैसे आप या हम या सब लोग जाते हैं, बल्कि सविता भाभी का अपना एक ‘व्यक्तिगत’ ट्रेनर अमन है, जो उन्हें फिट चुस्त दरुस्त रखने के लिए सबकुछ करने को तैयार रहता है.

उसने कोई विरोध नहीं किया तो मैं अपना हाथ उसकी दोनों जाँघों के बीच में घुसेड़ने लगा. बाकी टीना इन दिनों मायूस रहने लगी तो गुलशन जी ने सुमन को मना कर दिया कि कुछ दिन टीना से ज़्यादा बात ना करो, वो कहीं खोई हुई है. मैंने जब कक्ष में रखे पलंग को ध्यान से देखा तब पाया की वह इतना बड़ा था कि उस पर दो इंसान बहुत ही सुविधापूर्वक सो सकते थे.

एक दिन भैया ड्यूटी से वापस आ रहे थे, वे अपने हाथ में कुछ सामान लिए हुए थे.

उस रात को खाना खाकर जब तरुण खेतों का चक्कर लगाने गया तब मैंने वरुण को सुलाते हुए सोचा कि तरुण ने तो पहल कर ही दी थी तो अब मुझे भी कदम आगे बढ़ाना चाहिए. मॉम बोलीं- क्या बात है तुम बहुत परेशान नज़र आ रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं बस यूं ही… सिर में हल्का दर्द हो रहा है. नीता कुछ बोलने की हालत में नहीं थी, वो सिर्फ़ अपना हाथ चूत के पास घुमाते हुए दर्द से भरी चूत को आराम देने की कोशिश कर रही थी.

वहां शानू के गर्लफ्रेंड के ज़िद करने पर हम लोग अगले दिन पिक्चर के लिए तैयार हो गए. उसने ये भी बताया कि उसकी बेटी प्रिया बहुत समझदार है, वो कुछ भी एक्सट्रा डिमांड नहीं करती. मैं ममता को अपने ऊपर बिठाकर चोद रहा था और वो बहुत मज़े से मेरे लंड पर उछल रही थी.

उससे लंड चुत कुछ समझ नहीं आया और पूछने लगी कि इसका मतलब क्या हुआ?मैंने कहा- जानना चाहती हो?वो ‘हाँ’ बोली. यहाँ पर मैं बताना चाहूँगा कि मुझे चूत चाटना इतना अच्छा लगता है कि मैं घण्टों चूत चाटता रहूँ.

पीटर- फुल स्पीड पे ऑन करो वाइब्रेटर को!पीटर की आवाज में पता नहीं क्या जादू था कि बिना कोई विरोध किये मैंने वाइब्रेटर को फुल स्पीड पे डाल दिया. मुझे लगा जैसे वो थोड़ा खीझ सी गई है, तभी सोनिया बोली- चलो यार अगर घर जा सकते हो, तो पहले घर ही चलो, फिर वहां से आगे निकलेंगे. रास्ते में बारिश की बौछार से बचने के लिए मैं शहज़ाद से पूरी तरह चिपक कर बैठी थी और अपने दोनों हाथ उसकी छाती पर कसे हुए थे.

मैं उठा और उससे पूछा- झांटें साफ नहीं करती क्या कभी?बोली- पहले करती थी, अब नहीं करती.

कुछ देर बाद हम दोनों साथ में छूटने वाले थे कि मैंने अपना लंड उसकी चुत से बाहर निकाल दिया और सारा स्पर्म उसकी चुत के ऊपर गिरा दिया. उसको चोद कर 3 बार ठंडा किया, तब कहीं जाकर संजय के लंड ने पानी उगला. टीना ने बरखा की चुत को एकदम क्लीन कर दिया, साथ ही उसने अपनी चुत भी चमका ली थी.

दीदी अपने चुचे उठाते हुए बोलीं- तेरा मतलब क्या है?मैंने सोचा दीदी भी गरम सी हो रही हैं तो मैंने उनको छेड़ा. आंटी ने अपनी कई सहेलियों को मुझसे चुदवाया है सब काफी खुश हैं मुझसे.

तभी रोस्टन ने सिंडी की चूत से लंड को बाहर बाहर निकाला और वो मेरी चूत को चोदने के लिये आया और मेरी चूत को चोदने लगा. निकाह के बाद हम दोनों शहज़ाद के परिवार में नहीं रहेंगे और घर से दूर शहर में अलग मकान ले कर रहेंगे. क्या हुआ? आप कहाँ थीं अब तक?फ्लॉरा- तू तो सो गई और मैं तेरे पापा के मज़े लेने गई थी मगर उल्टा उन्होंने मेरे मज़े ले लिए यार.

चीत बुला घालायचा

मैं आनन्द से सराबोर थी, मेरी आँखें बन्द थी, मैंने आशीष के हाथों और जीभ को सब कुछ करने दिया.

मैं बोला- नहीं बस आवारागर्दी में घूमता था, तो उसके लिए मना किया था. शनिवार ऑफ होने के कारण मैं उस दिन नाइट शो ही देखता था, साथ ही बाहर खाना भी खा लेता था और आउटिंग भी हो जाती थी. फिर मैंने कुछ ही देर में उसको घुमा दिया और उसकी पीठ को भी चूमने और चाटने लगा.

आज मैं हरमीत की बदौलत एक अनुभवी कालबॉय बन चुका हूँ और ढेर सारी प्यासी लड़कियों व आंटियों को चोद कर खुश कर चुका हूँ. मेरा नाम सोनाली, मैं रहती हूँ दिल्ली में और मेरे पति कुवैत में बिजनेस करते हैं. मिया खलीफा ब्रेकिंग न्यूज़ टुडेकुछ देर हम चारों अपने साँसों पे काबू पाते रहे, फिर उन दोनों ने हमारा बदन साफ़ किया। मैंने और रिया ने उनको एक एक लम्बा फ्रेंच किस दिया और फिर हम मेरी का इंतजार करने लगी.

मैंने लंड बाहर निकाला, एक साफ कपड़े से उसकी चूत साफ़ की, वह बाथरूम गई और चूत धो कर आ गई. मज़ा तो खूब मिलता होगा ना तुझे रानी? श्वेता इतनी से बात से डर गई? ज्यादा से ज्यादा क्या होता? वो लड़के लोग उसे चोदते ही ना और क्या करते? वैसे भी तू और तेरी बहन जैसी गर्म लड़कियाँ हमारी रंडी बनने के लिए पैदा होती हैं, कुछ जल्दी बनती हैं जैसे तेरी माँ… कुछ लेट जैसे श्वेता बनेगी.

सुमन ने आज पिंक टॉप और येलो स्कर्ट पहनी थी, जिसमें उसका निखार अलग ही नज़र आ रहा था. अपने मुलायम मम्मों पे पप्पू के खुरदुरे पैरों से होता खिलवाड़ उसे अच्छा लगा और वो बोली- हाँ साले… डालती हूँ! पहले झाँटों से तो स्वाद खतम करने दे. हालांकि मैं वहां के हर एरिया को जानता था लेकिन फिर भी मैंने अनजान बनते हुए उससे वहां के एरिया का पता पूछ डाला और ऐसा करते हुए मैंने बहाने से साइड में निकले उसके सोए हुए लंड को टच कर दिया.

शहज़ाद ने सैफिना को उठाया और उसे 69 की पोजीशन में अपने ऊपर लिटा लिया. करीब तीन घंटे उसको चोदने के बाद मुझे तसल्ली हुई कि आज बड़ा आनन्द आया. अपनी कमर उठा कर, चूत पप्पू के मुँह पे रगड़ते हुए वो चिल्लाने लगी- आआआआ आआ ऊऊफ्फ, अंकल और चाटो और अन्दर डालो जीभ और मेरी चूत चोदो अपनी जीभ से.

जब बगल वाले कमरे में वो सो रही हो जिसे आप पहले कई बार चोद चुके हों तो खड़े लंड को ज्ञान की बातों से नहीं बहलाया जा सकता, उसे तो सिर्फ चूत ही चाहिये… एक बिल चाहिये घुसने के लिए.

मैं अपने कॉलेज के गेट से अन्दर जाने लगी, तभी विवेक ने मुझे आवाज़ दी. तो मैंने बोला- तो फिर चलो ना दीदी, चुदाई कर ही लेते हैं, अभी इतना कुछ तो हो गया ना.

इधर मेरे साथ वाले ने मेरे बदन पे चुम्बनों की झड़ी लगा दी; साथ ही साथ वो मेरे बदन का हर अंग टटोल रहा था. मैंने तौलिए से अनु का लंड अच्छी तरह से साफ किया और मैंने भी उसी के सामने खड़े होकर अपनी चुत को अच्छी तरह से पौंछ कर साफ किया. अब वक़्त आ गया कि इसको चोदने का प्लान बना लिया जाए… मगर किस्मत को कुछ और मंजूर था.

और कौन सी चीज़ की सुगंध है?मैंने ऐसी चीज़ जिंदगी में पहली बार सूँघी थी. पहला शॉट होने के बाद वो मेरे रसभरे लंड को गांड में दबा कर चूसने लगी. सुबह बच्चे और रात में पति की सेवा मेरा ख्वाब चकनाचूर करते चले गए, जिसे देखने और समझने वाला कोई ना था.

बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी मैं वो प्यार याद करने लगी थी, जिसे मम्मी ने थप्पड़ मार कर भगा दिया था. मैंने मनोज को कॉल की तो उसने बताया कि उसके एक दोस्त का फोन आ गया था, वो थोड़ा उधर चला गया था, बस 15-20 मिनट में आ रहा है.

चोदी चोदा वाली सेक्सी

तभी रीना आ गयी, वो हंस कर बोली- हाँ तो हो गयी आपकी मसाज पूरी?तीनों ने काफी पी और कविता उठ कर वाश रूम में चली गयी. सैफिना ने मेरी तरफ देखा तो मुझे भी कुछ समझ नहीं आया कि शहज़ाद क्या चाहता है और सैफिना को मैं क्या कहूँ. मेरे प्यारे साथियो, आप हिंदी सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें.

ये बोल कर कि मैं तुम्हें अपने घर वालों से मिलवाने ले जा रहा हूँ… इस बात से वो खुश हो गई. संजय और सुमन के इस खेल में टीना इतनी खोई हुई थी कि बस पूछो मत, वो अपनी चुत को रगड़ रही थी और बहुत ज़्यादा उत्तेजित हो गई थी. इंग्लिश में ब्लू पिक्चर दिखाओसब लोग पैसे देकर चले गए लेकिन कोई झवर अंकल थे जो घर नहीं थे और वो उनके आने का वो इंतज़ार कर रहा था।इंतज़ार में हमारी बातचीत बढ़ने लगी और हम लोग पार्किंग में लगी लंबी कुर्सी पर बैठ गए। मैं उससे अपनी दोस्ती बढ़ाना चाहता था ताकि उस मस्त जवान लौंडे के जिस्म और कडक लंड का आनन्द ले सकूँ।उसने अपना नाम बताया- सर्वेश राजपूत।मैं उसका नाम सुनते ही उसके सैक्सी लुक और चोदू अंदाज़ का कारण समझ गया.

मोना और नीतू घुटनों के बल बैठ गईं और बारी बारी से लंड को चूसने लगीं.

मैंने अपना नाम बताया क्योंकि मैं उससे पहली बार मोबाइल से बात कर रहा था. क्योंकि काफी दिनों से तुम्हारी वासना की तृप्ति नहीं हुई है शायद इसलिए तुम्हें नींद नहीं आ रही है.

लेकिन तब तक शहज़ाद ने इंदौर में एक 3 बेडरूम सेट एक अच्छी सी सोसाइटी में किराये पर ले लिया. आप सभी को पता होगा कि अक्सर मर्द लोग गर्मियों में घर में अपने कपड़े उतार कर कच्छे-बनियान में ही घूमते रहते हैं. मैंने उसकी शर्ट में हाथ डाल कर ब्रा सहित ऊपर कर के उसे चुचे बाहर निकाल लिए और दबाने लगा.

मैं छूटने की कोशिश करने लगा पर उसकी पकड़ इतनी टाईट थी कि मैं अपने आपको छुड़ा ही नहीं पाया.

हम तीनों काम वासना के मज़े में मस्त थे कि अचानक हमारे दरवाजे पे दस्तक हुई, हम दरवाजा लॉक करना भूल गए थे और मनोज खाने का सामान लेकर अन्दर दाखिल हुआ. और दूसरा रास्ता था कि चाची को नींद की गोली खिला दूँ और पूरा मजा लूं. इसके बाद मैंने चाची का ब्लाउज निकाल दिया, फिर चाची की ब्रा पेंटी के साथ में मैंने अपना अंडरवियर भी निकाल दिया.

हैप्पी बर्थडे केक फोटो डाउनलोडमुझे डर था कि कहीं चाची को पता ना चल जाए कि दाल में कुछ मिला हुआ है. लेकिन मुझे उसका टेस्ट अच्छा नहीं लगा तो मैंने मुँह से निकाल दिया और हाथ से लंड हिलाती रही.

तमन्ना सेक्सी पिक्चर

मेरे साथ वाले ने सॉरी कह कर जैसे ही मुड़ना चाहा तो रिया ने कहा- हाय हैण्डसम, आ जाओ तुम यहीं हम दोनों लड़कियां एक साथ ही हैं. तब तक नेहा भी कपड़े पहन कर आ गई थी, परन्तु वो थोड़ा शर्मा रही थी और मनोज से आँखें बचाते हुए उसके पीछे खड़ी थी. मैं अजीब निगाहों से मॉम को और उनकी चूचियों को देखने लगा था और सोच रहा था कि कभी मौका मिला तो जम कर इन रस भरी चूचियों को मसलूँगा.

मडगांव कदंबा स्टॉप से मैंने रात 8 बजे की बस पकड़ी जो 2 बाय 1 स्लीपर थी. मेरा मन तो उसको वहीं चोदने का हो रहा था लेकिन मैं उसे पहले अपने रूम लेकर आया. और फिर शुरू हुआ गर्दन से लेकर चुत का मसाज। हमारा सर टेबल से लटक गया था.

फिर मैंने उसकी ब्लैक पैंटी को अपने दांतों में पकड़ा और बिना पैंटी को हाथ लगाए, उसकी पैंटी को चुत से खींच कर टाँगों से बाहर कर दी. मैं उनके गाउन के ऊपर से ही अपनी एक हाथ से उनकी चूचियों को दबा रहा था और दूसरी से आंटी की चूत को सहला रहा था. मनोज सोनिया को अल्फ नंगी कर रहा था, मनोज ने सोनिया के जिस्म से सलवार कमीज़ उतार दिए थे और उसके जिस्म को चूम रहा था.

अब मैंने अपना हाथ साड़ी के अंदर डाला तो पाया कि वो पूरी गीली हो चुकी थी. फिर एक दिन वो नहीं आये, फिर दूसरे दिन भी नहीं आये तो मैं ऑफिस से हाफ डे लेकर उनके घर गई.

और पहले तो नहीं थी आज कैसे हो गई?मॉंटी ज़िद पे अड़ा था और टीना को उसके सवाल परेशान करने लगे थे तो वो गुस्सा हो गई.

कभी आशीष मेरे निचला होंठ तो कभी ऊपर का होंठ चूसते रहे, कभी तो दोनों होंठों के एक साथ चूसने लगते. भजपुरीविडियो 2020मेरा लंड खड़ा था तो दीदी ने कहा- ये क्या है?तो मैंने कहा- कुछ नहीं दीदी. पीरियड का कम आनातो मैंने कहा- मॉम जब मैंने आपको देख ही लिया तो अब किस बात की शर्म है?ये सुन कर वो चुप हो गईं. तुम अगर चुदवाना नहीं चाहती तो कोई बात नहीं, मगर हम दोनों की चुदाई देख तो सकती हो ना.

राहुल उनके कान से लेकर उनके गले से होते हुए अपने होंठों को उनके ब्लाउज के पास चूचों की शुरुआती गहराइयों तक ले जा रहा था.

वो भी मेरे चूचे दबाती, मेरे निप्पल चूसती, मैं मना करती रह जाती लेकिन वो मुझसे ज्यादा ताकतवर थी तो मैं उसके सामने हार मान जाती और वो मेरे साथ अपनी मनमानी करके छोड़ती. कुछ मिनट बाद मेरे लंड का सारा वीर्य उनकी चुत की गहराई में गिर गया और मैं एकदम से लस्त हो गया. टीना- इसमें खास क्या है, ये तो पहले भी हो चुका है ना यार!सुमन- सुनो तो आप, मैंने पापा का लंड देखा है.

उस टाइम तो मैंने मोबाइल वापस कर दिया और उसी दिन से मन ही मन मैंने उन आंटी को चोदने का मन बना लिया. आँख तुम्हें बंद करनी होगी समझी!सुमन ने थोड़ी ज़िद की, मगर फिर वो मान गई. उत्तेजना के मारे रिया चिल्लाने लगी- निकी, साली कमीनी, देखा ना तूने कि कैसे यहाँ मजे है जिंदगी के.

सेक्सी पिक्चर मजेदार

उन्होंने ये भी पूछा कि कल रामू तो मुझे चोदेगा और तुम क्या करोगे?मैंने कहा कि क्सक्सक्स मूवीस में मैं थ्रीसम के बहुत से सीन देखे हैं. लम्बीचुदाई का तूफानथमा तो एक-दूसरे को देख कर मुस्करा दिए; बिस्तर पर देखा तो खून था. वहाँ सबसे मिले और बच्चों के साथ वक्त बिताते रहे, ऐसे ही शाम हो गयी.

बाद में उन दोनों ने मुझे कई बार मेरे घर में ही चोदा, जिसमें मैंने भी बहुत मजे लिए.

बहूरानी को पता था कि मैं नमकीन वगैरह फ्राइड स्नेक्स पसंद नहीं करता.

फिर हम दोनों एक कमरे में बैठे हुए थे, लैपटॉप पर मूवीज़ देख रहे थे… कोई मूवी पसंद ही नहीं आ रही थी तो फिर मैंने अचानक चुदाई की वीडियो लगा दीं, तो पहले तो वो थोड़ा गुस्सा हुई फिर बाद में उसको भी मजा आने लगा. उसकी लंबाई 5 फीट 5 इंच, रंग गोरा, नशीली आँखें, पतले-पतले होंठ, पतली कमर, मीडियम साइज के चूचे… मतलब एकदम टंच माल थी।वह मेरा टारगेट इसलिए थी क्योंकि उसे मेरी और रचना की बातें पता चल चुकी थी और वह भी मुझे परेशान करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ती थी। वह जब भी मिलती तो ‘लड़की से पिट गया’ कह कर मुझे चिढ़ाती. सुहागरात कैसे बनाया जाएकरीब दो मिनट बाद उसमें मुझे ढीला छोड़ा और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी.

सॉरी दोस्तो मेरी तबीयत इन दिनों खराब चल रही है, लेकिन अब कहानी के अंत तक कोई देरी नहीं होगी, अब नियमित रूप से आपको मेरी इस सेक्स स्टोरी का मजा मिलता रहेगा. ख़ाना खाने के बाद हम दोनों सोने चले गये, मैं गांड के बल से नहीं लेट सकती थी इसलिए मैं मामा जी के छाती पर सर रख कर लेट गयी जिससे मेरी गांड ऊपर की ओर थी और मैंने घुटना मोड़ कर अपनी जांघ मामा जी लंड के ऊपर डाल दी. नीता के बालों पर हाथ फेरते हुए और उसका मुँह हल्के से चोदते हुए पप्पू बोला- हाँ नीता, यह सच है कि मैंने तेरी माँ को चोदा है.

आख़िर वो मेरे लंड तक पहुँच ही गई और उसने अपनी जीभ निकाल कर मेरे लंड का टोपा चाटना शुरू कर दिया और फिर पूरे लंड को लिक करती रही. मैं बहुत दिनों से लंड लेने को तड़फ़ रही हूँ, आज बुझा दे अपनी दीदी की प्यास.

मैंने हँसते हुए उसके मम्मों को दबाते हुए कहा- मेरी रानी, पहली बार थोड़ा दर्द तो होगा ही… लेकिन फिर तुझे बहुत मजा आएगा.

फिर उन्होंने मेरे सामने ही अपनी साड़ी उतार दी और फिर दूसरी तरफ घूम कर मेरी तरफ पीठ करके अपना ब्लाउज भी उतार दिया और मैक्सी पहन ली. सुमन खुलकर बोल नहीं सकती थी कि मेरी चुत को चाटो, वहां बेचैनी हो रही है और गुलशन जी अच्छी तरह जानते थे कि उनको कहाँ चूसना है. साधु ने नीतू को कुछ जड़ी बूटी खाने को दी, जिससे उसको दर्द कम हो तब तक गोपाल भी पावर वाली गोली ले चुका था और घी लेकर बाहर आ गया.

वर्ल्ड सेक्स जिस दिन दोपहर की यह घटना है उस दिन रात को और अगले दिन बहूरानी ने मुझे कुछ भी नहीं करने दिया; कहने लगी कि उसकी गांड बहुत दर्द कर रही है और उसे चलने फिरने में भी परेशानी हो रही है. मुझे मजा आ रहा था लेकिन मैं बोल रही थी- छोड़ दो, मुझे छोड़ दो! लेकिन कोई सुन नहीं रहा था, उन सबने मानो मुझे चोदने का प्लान बना रखा था.

वो थोड़ा सा मेरे पास आई, तो मैंने फिर उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया और उसकी जीन्स का बटन खोल दिया. मैंने उसकी चूत पे हाथ फेरते हुए कहा- अगर ये कमीनी साली सामने हो, तो बदमाशी भी इसे दिखानी पड़ती है!हम दोनों हंसने लगे. फिर किस करते-करते मैंने अपना एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चुत पर रख दिया.

भाभी की सेक्सी मूवी हिंदी

मैं जब बाथरूम से बाहर आई तो सैफिना बेडरूम के दरवाजे पर खड़ी अंदर झांक रही थी. मैं अपना लोवर और अंडरवियर उतार कर चोदने के लिए तैयार था, पर वो मेरा लंड छोड़ने को राजी नहीं थी. संजय- अभी तो तेरा रस निकाला था मेरी जान तब सुकून नहीं मिला था क्या.

मुझे मजा आ रहा है!मैंने उन को खूब गालियां दीं, उन की चुत एकदम लाल कर दी. अब नेहा के मम्मों को मैं बदल बदल कर चूस रहा था और उसकी चूत में उंगली भी कर रहा था.

इस दौरान हमने जिस तरीके से सोचा जा सकता है उन सब तरीकों से सेक्स का मज़ा लिया.

कुछ देर बाद उन्होंने अपनी गांड उठा कर इशारा किया, मैं समझ गया कि अब दर्द कम हो गया है. मैंने संगीता का शर्ट उतारा, उसने अन्दर ब्लैक ब्रा पहनी हुई थी, जिसमें उसके मोटे मोटे 36 साइज़ के चूचे बड़े सेक्सी लग रहे थे. इससे पहले कि वो कुछ बोलती शहज़ाद ने पूछ लिया- कौन है?तो मेरे मुंह से निकल गया- दो टांगों वाली बिल्ली है.

एक मेरे मम्मों को चूमने लगा, दबाने लगा, काटने लगा और दूसरा मेरी चुत बहुत बुरी तरह चाटने लगा. एक दिन भैया ड्यूटी से वापस आ रहे थे, वे अपने हाथ में कुछ सामान लिए हुए थे. मैंने कहा- ये क्या है?उसने बोला- या तो अन्दर बैठ जाओ या हम ये पुलिस को दिखाते हैं.

शुरू शुरू में गांड मराने में दर्द होता है, पर कुछ बार गांड मराने के बाद गांड खुल जाती है, तो फिर गांड मराने में भी उतना ही मज़ा आने लगता है, जितना कि गांड मारने में आता है.

बंगाली सेक्सी बीएफ हिंदी: उन्होंने तुरंत मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगीं. मैंने अपना लंड रखा ही था कि उसने रोका और बोली- बच्चा, प्लीज रेनकोट पहन कर भीगो ना!उसकी बात मस्त लगी, मैंने जल्दी से कंडोम लगाया और फिर अपना लंड पीछे से उसकी चूत पर रखा, उसने धीरे से जोर लगाया और घप से मेरा लंड अपने अंदर ले लिया ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ मैंने उसके गर्दन पर किस करना शुरू किया और धीरे धीरे उसको चोदने लगा.

जब टीना की नज़र अंकल के लंड पे गईं तो उसकी आँखें फटी की फटी रह गईं. लेकिन ये समझ नहीं आ रहा था कि उसको कैसा डर है?अब मुझ में थोड़ी हिम्मत आ चुकी थी और मैं वहीं खड़ा होकर उन पहलवानों की कुश्ती के दांव देखने लगा. नमस्कार दोस्तो, मैं अन्तर्वासना की कहानी काफी दिनों से पढ़ रही हूँ, मुझे यहाँ कहानियां पढ़ने में बहुत आनंद आता है इसलिए सोचा अब अपनी भी सच्ची कहानी लिख कर आप लोगों को मजा दूँ.

हाँ अदिति बेटा ये ले!” मैंने कहा और उसकी चोटी अपने हाथ में लपेट के खींच ली जिससे उसका मुंह ऊपर उठ गया और अपने धक्कों की स्पीड कम करके लंड को धीरे धीरे उसकी गांड में अन्दर बाहर करने लगा.

तीन-चार सप्ताह के बाद जब फसल कट जायेगी तब हम फिर वापिस हवेली में रहने आ जायेंगे. हाँ रेशमी चादर को भी जब बहुत ज़्यादा जरूरी हो, तभी इस्तेमाल करना था. हाय… साले के डोले उसे उठाने पर काफ़ी फूल गये थे और लग रहा था कि अब उसकी शर्ट फट जायेगी और मज़बूत भुजायें आज़ाद हो जाएँगी.