सेक्सी देवर भाभी बीएफ

छवि स्रोत,खुला फागन सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स पावर वीडियो: सेक्सी देवर भाभी बीएफ, मेरे दिमाग में एक शैतानी तरीका आया और मैंने बाहर से उसे आवाज लगाई- काम्या, जरा दरवाजा खोलो, मेरा हाथ जल गया है, टूथपेस्ट दे दो.

सेक्सी फिल्म वीडियो चोदा चोदी सेक्सी

पूनम और मैं हम लोग आपस में सब कुछ शेयर करने लगी थी यहाँ तक कि प्राईवेट बातें भी!एक दिन पूनम मेरे घर आई तो मैं अपने कमरे में टी वी देख रही थी, दोपहर का समय था, मेरा बेटा, बेटी स्कूल गये थे और कोई घर पर था नहीं… मैं मर्डर मूवी देख रही थी. हिंदी सेक्सी गुजराती बीपीजब हम वहां पर पहुंचे, तब वो दोनों पहले से ही हमारा इंतज़ार कर रही थीं.

मैंने अपने लन्ड को बहू की चूत में पड़ा रहने दिया और पूजा को किस करने लगा. मराठी सेक्सी ओपन सेक्सी मराठीआंटी भी मेरा लंड चूसना चाहती थी, उन्होंने मेरा लंड पकड़ पर अपनी ओर खींचा तो अब हम 69 की पोजीशन में आ गए.

आप मुझसे बात करना चाहते हैं तो मेरी मेल औऱ फेसबुक की आईडी यह रही![emailprotected].सेक्सी देवर भाभी बीएफ: ”ओह्ह पिंकी मेरे पास सिर्फ यही बोतल है और तुम्हारा जूस रुकने का नाम ही नहीं ले रहा, अब क्या करूँ.

कुछ ही देर में ट्रक में पूरा अंधेरा हो गया था, किसी को कुछ नहीं दिख रहा था.क़यामत तो नहीं, पर गोरे बदन पे लाल रंग और ऊपर से तंग फिटिंग का होना, मेरे शरीर का एक एक अंग अलग से दिख रहा था.

सेक्सी बढ़िया ब्लू फिल्म - सेक्सी देवर भाभी बीएफ

उसने फेसबुक पर मैसेज कर रखे थे कि जीतू मैने कभी सोचा भी नहीं था कि तुम मुझ से झूठ बोलोगे.अब आगे:वैसे मन तो एकदम से कसैला हो गया था पर मन की बात शरीर नहीं सुन रहा था, उसे तो बस लंड चाहिये था। राय साहब तब तक मेरे दोनों पैरों के बीच में आकर लंड को फांक में रगड़ने लगे थे चूत का कामरस लंड को पूरे तरीके से भिगो दिया था। सर ने लंड को बुर के गुफाद्वार पर रखा और अंदर ठेल दिया लेकिन उसी समय मैंने अपनी बुर को सिकोड़ लिया और लंड लहराता हुआ बाहर ही फिसल गया.

वैसे तो मैं आज भी मम्मी पापा के बीच में ही सोती हूँ पर इस स्पर्श में कुछ अलग बात थी. सेक्सी देवर भाभी बीएफ दीदी ने कहा- मुझे मालूम है तू मुझे चोदना चाहता है और मैंने बहुत बार तुझे मेरी तस्वीरों को हाथ में लेकर मुठ मारते देखा है.

भाबी की मेहरून कलर की साड़ी उनके दोनों मम्मों के बीच से होते हुए गले तक गई थी.

सेक्सी देवर भाभी बीएफ?

सवा दस बजे सोनू आई, वो बला की खूबसूरत लग रही थी, उस रेड टॉप और ब्लू जीन पहनी हुई थी; उसका टॉप एकदम टाइट और गहरे गले का था जिसमें से उसके स्तन बाहर की हवा खा रहे थे। उसके बाल खुले थे और एक बात… उसकी चाल बड़ी ही मस्त थी। जब वो अंदर आ रही थी तो मैं उसे शीशे में से देख रहा था और नून्नू महाराज अंगड़ाई ले रहे थे. कुछ महीनों बाद हम तीनों प्रेगनेंट हो गई थे, जिसका हमारे घर वालों को पता चला. मुझे अपनी इस फंतासी को पूरा करने का मौका मिला, जब मुझे बस से बंगलोर जाना था.

उस वक्त स्मार्ट फोन भी नहीं हुआ करते थे कि मैं अपने बेटे की तस्वीर भी देख पाता. मैं अपने लंड को हाथ में लेकर हिलाने लगा और दो पल बाद ही मेरा माल निकलने लगा. एक मादक पसीने की गंध ने मेरे अन्दर एक नई मदहोश कर देने वाली ऊर्जा को रोम रोम में भर दिया.

हमारे यहाँ भी!” मैंने भी उत्साह के साथ कहा और 3 बियर के कैन खोल दिए. और रम की बोटल खोल के फ़िर मेरे ऊपर बैठ गईं और एक चूचे को पकड़ कर मेरे मुँह में दे दिया. कॉलेज की एक सीधी साधी सी दिखने वाली प्रिंसिपल के पीछे इतनी सेक्सी औरत छुपी है, मुझे पता नहीं था.

नीना जैसे ही डॉक्टर के केबिन में अंदर गयी, तभी डॉक्टर पहली ही बॉल पर क्लीन बोल्ड हो गया था. और इधर खाली खेत में डरने का नाटक कर रही है रंडी… यहां मेरे अलावा तुझे चोदने कोई भी नहीं आएगा साली.

मैं जल्दी में बाथरूम की तरफ दौड़ा, तभी मुझे एहसास हुआ कि बगल वाले बाथरूम में ममता दीदी हैं.

थोड़ा आराम करने के बाद सबने एक एक पेग लगाया और फिर से चुदाई के लिए तैयार हो गए.

नवीन बीच बीच मॉम के मम्मों को पकड़ लेता तो मम्मे मचलने बंद हो जाते और नवीन के हाथों में पिसने लगते. सर ने मुझे पैन ड्राइव दी और कहा- इसमें बहुत पोर्न मूवीज़ हैं, इनको ध्यान से देखना, कल ऐसे ही चुदाई करेंगे।मैंने पैन ड्राइव अपनी किट में रख ली. मैंने भाभी का हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया, भाभी बिना हिले डुले वैसे ही खड़ी रही और मैं अपने लंड को आगे पीछे ठुमके देने लगा.

मैं बोला- क्या मैं सलवार खोल दूँ सोनिया?अब उसने हां में सिर हिला दिया. घर पहुँचे तो बाई को आवाज़ दी, बाई ने खाना लगाया, थोड़ा थोड़ा खाना सबने खाया. जब भी कोई लड़का मेरी तरफ देख कर आहें भरता तो मुझे अन्दर से एक ख़ुशी सी मिलती थी.

मैंने लंड सहलाते हुए कहा- वो क्यों?तो वो बोली- देखो ना कितना उतावला हो रहा है.

?भाबी- उनका लंड तुम्हारे लंड का आधा है वैसे भी तुम्हारा लंड मोटा भी काफ़ी है, जिस किसी की भी चुत में जाएगा, फाड़ के रख देगा. हमारे यहाँ नई दोस्ती की शुरुआत जाम उठा कर की जाती है!” आर्थर मुस्कुराया. अब भीतर से दरवाजा बंद करने के बाद मेरी जान नीना बिल्कुल बिंदास हो गई, जैसे उसे कोई बहुत बड़ा खजाना मिल गया हो.

यह कह कर मनोरमा ने उसकी पैन्ट की जिप नीचे कर दी और उसका पूरे 7 इंच का लंड बाहर निकल कर सलामी देने लगा. फिर आंटी मेरे लंड के ऊपर नीचे होने लगीं और आह्ह्ह्ह्ह… उह्स्स्स्स…” करने लगीं. वैशाली भाभी ने दोबारा फोन किया, मैंने उठाया तो उन्होंने घर आने को कहा.

मैंने उसकी गाण्ड के गुलाबी गोल छेद पर सुपारा रख कर एक जोरदार शॉट मारा तो उसकी चीख निकल गई और मेरा आधा लंड उसकी गांड में बैठ गया.

जैसे ही उस बुड्डे ने मेरीसफाचट चुतदेखी तो बोला- ज़रा इसको मेरे पास लाओ. बड़ी प्रसन्नता हुई, मैं साशा हूँ और ये मेरी वा… दोस्त नताशा है!” मैंने पता नहीं क्यों नताशा को अपनी वाइफ कहते कहते अपनी जबान काट ली, और उसका परिचय अपनी गर्लफ्रेंड के रूप में दिया.

सेक्सी देवर भाभी बीएफ इस बार भी काफ़ी वीर्य निकला था… मैंने उसके काले मोटे लंड के खुले हुए सुपारे को जुबान से चाटकर साफ़ किया. फिर मैंने उसे चित लिटाया और उसकी टांगें फैला कर अपना लंड उसकी चुत पर रगड़ने लगा.

सेक्सी देवर भाभी बीएफ आग मुझे लग ही चुकी थी, पर मैंने उनसे खुद को छुड़वाने की कोशिश की, क्योंकि ये मेरा पहला संभावित सम्भोग था, और मैंने मामा जी के साथ कभी ऐसा सोचा भी नहीं था, इसलिए इतनी हरकतों और चूत की इजाजत के बाद भी मेरा दिल, मेरी अंतरात्मा इस चुदाई के लिए गवाही नहीं दे रही थी।दोस्तो, हिंदी एडल्ट कहानी जारी रहेगी. तो कुछ देर बाद मुझे लगा कि मेरे पीछे कोई खड़ा है, जब मैंने पीछे की ओर देखा तो पाया कि एक बहुत ही खूबसूरत औरत बगल वाली छत से मेरे तरफ ही देख रही थी.

हर लाइन के घरों के पिछवाड़े पिछली वाली लाइन के घरों के पिछवाड़ों के आमने सामने हैं और बीच में किचन गार्डन.

कोरिया की सेक्सी पिक्चर

जिससे मुझे पता चला कि वो पंजाब के एक गाँव की रहने वाली है और जयपुर में सोडला में एक ‘पीजी’ में रहती है।अब वो जब भी इन्स्टिट्यूट से बाहर जाती थी. फिर 4 दिन बाद रात को 9 बजे एक कॉल आया, मैंने वो कॉल उठाया तो वो कॉल पायल भाभी का था. जब अशोक अपने लंड का पानी निकालने वाला था तो उसने लौड़ा चुत से निकाल कर मेरे मम्मों के बीच में रख कर मुझे बूब फक करते हुए चोदा.

दो साल बाद मेरा मौसी से मेरा मिलना हुआ किसी अन्य रिश्तेदार के घर में किसी उत्सव में तो मैंने अपने बेटे को देखा, मेरी आँखें गीली हो गयी थी, मैं बहुत भावुक हो गया था लेकिन मैंने किसी तरह अपने पर काबू रखा. वो तो एकदम बेड से उछल पड़ी- अहाआहह… आअहहाहह… आहहाह… कम ऑन बेबी… अन्दर तक चाटो और जोर से चाटो हां ऐसे ही आह… आह…वो मेरे मुँह को अपनी बुर पे दबाने लगी. फिर वो बाजू हो गया और अपना अंडरवियर उतार कर उसने अपना लंड बाहर निकाला.

मेरे घर के पड़ोस में कुछ दिन पहले ही पूनम जी रहने आई हैं, पूनम की उम्र 36 साल है, वो बहुत ही सेक्सी हैं, फिगर 36सी 34 40 है.

तभी वो एकदम से उठी और मुझपे चिल्लाने लगी- भैया, ये आप क्या कर रहे हैं, मैं आपकी बहन हूँ और आप मेरे साथ ही ये सब कर रहे हैं छी:. हालाँकि मुझे भी लग रहा था कि मेरे लंड को कोई चाकू से छील रहा हो, बहुत तेज जलन हो रही थी।मैं अपनी ताकत लगाता रहा और रेशमा की चीखें निकल रही थी। रेशमा की चीखों को सुन कर सोनी भी डर गयी और वो रेशमा से अलग हो गयी।मेरी सेक्स स्टोरी इन हिंदी जारी रहेगी. उसने कहा- आप बिल्कुल ठीक हैं ना?मैंने कहा- हां, मैं बिल्कुल ठीक हूँ.

वो दूध रख के बाहर गई और उसने कमरे का दरवाज़ा बन्द कर दिया और शायद बाहर से कुण्डी भी लगा दी थी. जैसे बिल्ली चूहे को एक बार पकड़ कर नहीं छोड़ती, उसी तरह से वो मेरी टांगों को फैला कर चुत में अपनी ज़ुबान घुमा रहा था. जैसा कि मैं पहले भी बता चुका हूँ कि अपनी इसी गुणवत्ता की वजह से मेरी बीवी मुझसे पूरी तरह से संतुष्ट थी और उसके झड़ने के बाद भी मैं काफ़ी देर तक उसको चोदता रहता था.

दोस्तो, आज भी मुझे याद है, जब उसका पानी निकला तो उसके पानी ने मेरे लंड की जड़ तक बौछार मारी थी, बहुत सुखद समय था. एक बार फिर मैंने पानी में डुबकी लगायी, उसको नितंबों से पकड़ा और ऊपर उठा लिया.

थोड़ी देर में ही मेरा पानी निकल गया और मैं शांत हो कर रूम में जाकर सो गया. रिमझिम के मुँह से ‘उआआह…’ की आवाज आई और उसने दर्द से आंखें बंद कर लीं. मैंने उससे गोद में उठाया किस करते हुए और पूल (ट्यूब वेल) की तरफ ले गया.

जब मैं नहा कर फ्री हुआ और पजामा पहना ही था कि दीदी ने मुझसे कहा- वीशु, अगर तुम्हारे पास समय हो तो इस संडे हमारा कूलर फिट कर दोगे?दीदी की आवाज़ सुनकर मैं एकदम से चौंक गया कि अचानक से यह कौन आ गया?मैंने सँभलते हुए अपने लंड को अपने हाथ से छिपाने की कोशिश की क्योंकि मैंने अभी ऊपर कुछ नहीं पहना था और पजामा पता होने के कारण और बिना अंदरूनी वस्त्र पहने होने के कारण पानी से भीगा लंड साफ़ दिख रहा था.

कुछ मिनट बाद भाभी एकदम चुदासी सी होकर खड़ी हुईं और मेरे सारे कपड़े खोल कर मेरा लंड चूसने लगीं. ?भाबी- उनका लंड तुम्हारे लंड का आधा है वैसे भी तुम्हारा लंड मोटा भी काफ़ी है, जिस किसी की भी चुत में जाएगा, फाड़ के रख देगा. ”अच्छा… पर तुम तो बस नंगी देखना ही चाहते थे न?”अरे नंगी करने के बाद ये खड़े लंड को बिठाएगा कौन?”ये कहते हुए उसने मेरी नाइटी उतार दी.

उसकी पेंटी निकाल कर भाभी के चुत के पास जाकर चुत पर अपनी जीभ को रख दिया. मैंने मना कर दिया मिलने से… फिर उसने कहा- तुझे तेरी गर्लफ्रैंड की कसम है अगर तुम मेरे से मिल कर नहीं गए तो! अगर तुम अपनी गर्लफ्रैंड से प्यार करते हो तो मुझ से मिलकर जाओगे! मैंने उससे कहा- बोलो कहाँ पर मिलना है.

हम दोनों ने उस दिन थोड़ी बात की लेकिन उसके बाद बातों का सिलसिला चलता रहा है. इसलिए आज मैंने नेट की नई साड़ी और कट ब्लाउज पहना था, जिस कारण मैं पूरी छिनाल लग रही थी. पता नहीं कहां से मुझमें ताकत आई और मैं तेज़ी से केबिन के दाहिने से दीवार पार छलांग लगा कर दूसरे केबिन में घुस गया.

आसमानी कलर साड़ी

मॉम ने झट से अपने एक हाथ से अपनी पैंटी चुत से एक साइड खिसका दी और एक हाथ से थोड़ा सा थूक अपने मुँह से निकाल कर अपनी चुत के अन्दर लगा दिया.

मेरे रुकते ही उसने अपनी आँखें खोलीं और मेरी तरफ सवालिया निगाहों से देखने लगी जैसे कि पूछ रही हो कि चुत में उगली करना बंद क्यों किया. जब बिंदु वापिस आई तो उससे डेविड ने कहा कि आंटी हम लोग नेहा के कमरे में जाते हैं, आप आराम कीजिए. जब भी मैं उनके चूचुकों को काटता तो वो मेरे बालों को कस कर पकड़ लेतीं.

मैंने उनसे पूछा- क्या बात है भाभी?उन्होंने बताया कि जैसे आप मेरे बेटे को और मुझको खुश रखने की कोशिश करते हो, वैसे जिसको करनी चाहिए, वो नहीं करता है. तभी अचानक किसी ने मेरे रूम की खिड़की (मेरे रूम में कोई आता जाता नहीं था, तो मैं बस खिड़की को यूं ही बिना कुंडी के उड़का कर रखता था, जिससे मैं कभी भी उसे तुरंत खोल कर ममता दीदी को देख सकूं) को मेरा नाम लेते हुए धकेल दिया. सेक्सी चाची और भतीजाफिर कुछ देर में सारा काम निबटा कर चाची भी आकर मेरे बाजू में लेट कर सो गईं.

लेकिन मैंने वो फोन उसके पर्स में चुपके से रख दिया, क्योंकि उसकी यादें मेरे लिए सबसे बड़ा गिफ्ट थी।उसके बाद मैं 3 दिन आफिस नहीं गया क्योंकि अगर मैं जाता तो उसको विदा होते देख नहीं सकता था।फिर जब मैं ऑफिस गया तो वो अमेरका जा चुकी थी. कुछ पल बाद हिम्मत बढ़ी तो और मैंने अपना लेफ्ट हाथ उसकी कमर पर रख दिया और सोने का नाटक करने लगा.

मैंने भी हामी भरते हुए उसका हाथ पकड़ लिया, वो तो बस मुस्कुराए जा रही थी. बाद में भाबी मजाक करते हुए मुझसे बोलीं- क्या बात ऋतु, आज तो तू अपने भैया से ही अपने मम्मों को मसलवा रही थी… गेम अच्छा लगा या नहीं. तो नीलम भाभी कहने लगीं- मेरी चुत में ही पिचकारी मारना… तेरा माल को पी कर ही मेरी चुत की गर्मी ठंडी होगी.

तभी झटकों के साथ एरिक के लंड ने नताशा के होंठों और चेहरे पर सफ़ेद बूंदें उगलनी शुरू कर दीं, जिन्हें प्यार की देवी ने चाटते हुए पीना शुरू कर दिया जबकि हाथों में उसने अभी तक अपने दोनों प्रेमियों के ढीले हो चुके लंड पकड़ रखे थे. दूसरे दिन वो ऑनलाइन थी तो मैंने पूछा- आपने कॉल तो किया ही नहीं?उसने कहा- मैंने कॉल इसलिए नहीं किया कि अगर मैं कॉल करती तो आप ये सोचते कि कैसी चिपकू लड़की है, नंबर दिया नहीं और कॉल कर दिया. आशीष बोला- लो माँ, अब गया इसकी चूत में…इतना कहते ही उसने जोर का झटका मारा तो उसका लंड फिसल गया और लंड मेरी चुत के अन्दर नहीं गया.

साले ने पता नहीं कितनी चूतों को रगड़ा है, आपसे बड़ी बड़ी औरतों को चोद कर वो बहुत खुश रहता है.

फिर उसे भी मज़ा आने लगा और वो बोलने लगी- मेरे रज्जा कहां थे तुम अभी तक… ऐसा कामसुख तुमने मुझे पहले क्यों नहीं दिया… प्लीज़ फक मी हार्ड… उऊहह यसस्स्स… यस… फक्क फक…वो बड़बड़ाये जा रही थी. वो शायद मनोरमा की बात समझ नहीं सका तो उसने उससे सीधा ही पूछा- मेरा मतलब है जो तुम्हारी टांगों के बीच में लटक रहा है, वो खत्म हो चुका होगा?मैडम जी, मेरी जवानी पर तरस खाइए और ऐसी बात ना करिए.

मैं अंदर गया तो देखा कि गुड़िया सो रही है; भाभी को देखा; कहीं नहीं दिखी, भैया भी नहीं दिखे. अब हम दोनों एक दूसरे को कम्बल के अन्दर ही किस करने लगे और फिर एक और दौर शुरु हुआ, हमारी चुदाई का… लंड चूसना वगैरा वगैरा!अभी के लिए इतना ही… अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे मैंने अर्पिता के जी स्पॉट को खोजा और अर्पिता को एक और नया अनुभव करवाया और खुद भी पहली बार जी स्पॉट को महसूस किया. आधे घंटे तक मैं नहाता रहा और फ़िर नहा कर कपड़े पहन के जैसे ही बाहर निकला, सेजल भाभी दरवाज़े के पास ही खड़ी थीं.

फिर बोली- हां… अब खड़े लंड के टोपा को मुँह में ले और कुत्ते की तरह जीभ निकल कर पूरी मार. मैंने नीचे लड़कियों वाली पेंटी पहन रखी थी, अंकल ने ध्यान से देखा और कहा कि मेरी रानी आज तो मजा ही आ जाएगा. पूनम चिल्ला रही थी- आगहहह उउ उउउउहह हहह हहह दीदी… प्लीज चोद दो! और तेज से मेरी चूत को चोदो… फाड़ दो मेरी चूत को! कुछ और डाल दो इसमें मोटा सा प्लीज दीदी!और इतना कह कर पूनम ने मेरे मुँह पर जोर से फच्च च्च्चचचच से पिचकारी छोड़ दी और मेरा सर पकड़ के अपनी चूत में पेलने लगी और वो झड़ गई.

सेक्सी देवर भाभी बीएफ करीब ढाई-तीन घंटे बाद मैं वापस आया तो हॉस्पिटल में बिलकुल सुनसान माहौल था. इतनी रात को घर जाने के लिए कुछ साधन नहीं मिल रहा था, तो मेरे एक दोस्त विशाल ने कहा कि तुम लोग मेरे रूम पे चलो, पास में ही है, सुबह चले जाना, अभी काफी रात हो गई है.

भाई बहन की सेक्सी ब्लू पिक्चर

किसी तरह से अपनीमदमस्त जवानीको काबू किए, आग बुझाने का रास्ता खोजती रहती हूँ कि कोई आए और मेरी बुर को चाट चाट कर बस निहाल कर दे. मैंने अपनी बहू की नई नवेली चूत में जोर जोर से धक्के मारने शुरू किये और कुछ ही देर में मेरी बहू सिसकारियान भर कर, किलकारियां मार मार कर झड़ गयी, मैंने भी अपना रस उसकी गर्म चूत में ही छोड़ दिया. मैं रात को सबसे गुड नाइट करके अपने रूम में चली गई और फिर दरवाजा जो आशीष के रूम में खुलता था, उसे खोल दिया.

किस करते करते मैंने उसके साड़ी का पल्लू नीचे किया और उसे लिटा दिया. मैंने कहा- और मेरा दोस्त?उसने कहा कि उससे मुझे थोड़ा भी मज़ा नहीं आया. दिल्ली की लड़की की सेक्सी फिल्म”मेरा इतना कहना था कि अजय ने ताश के गेम में बाजी जीत ली और मुझ पर एक झपट्टा मारा.

मैंने पानी में एक डुबकी मारी और सीधा उसकी स्कर्ट में से पेंटी तक पहुँच गया और पानी के अन्दर ही उसकी पेंटी के ऊपर से चूत पर एक किस कर दिया.

तभी वो मुझसे बोली- आप कौन है?मैंने उसको कुछ नहीं बताया और सीधा घर आ गया. सगे भाई बहन की चुदाई की अब तक की कहानीदीदी का नंगा बदन देख जागी मेरी कामुकता-1में आपने पढ़ा था कि दीदी मुझे चूमने लगी थी.

दीदी ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी गीली चूत के छेद पर लगाया और मुझे जोर से धक्का मारने को कहा. मैंने धीरे धीरे उस होल में अपनी जीभ डाल दी और बहुत देर गांड को तक चूसता रहा. वो एक जोरदार चीख के साथ झड़ने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआ… आआहह…फिर कुछ पल शिथिल रहने के बाद वो उठी और मेरे कपड़े खोलने लगी.

जैसे ही उस गाड़ी की शीशे उतरे, मैंने अंदर नजर घुमा कर देखा कि उसमें करीब चालीस की एक खूबसूरत सी आंटी बैठी हैं.

उनके सलवार खोलने पर उनकी पायल की आवाज ने मुझे वहीं पर मुठ मारने को मजबूर कर दिया और मेरे मुँह से आह आह की हल्की लेकिन लगातार आवाज आने लगी. कम से कम आधा घंटा यह सब करने के बाद बिना कुछ कहे उसने अपना लंड मेरी चुत में घुसा दिया. मेरे पापा पहले से ही आकर खड़े थे, उन्होंने बताया कि मेरा रिजर्वेशन कंफर्म हो गया है AC में.

पंजाबी फुल एचडी सेक्सीमेरी चुत तो चुद कर ढीली हो गई थी मगर आशीष का लंड मेरी चुत में घुसने के लिए पूरे जोर पर था. दोस्तो, मैं राहुल, मुज़फ़्फ़रपुर का रहने वाला हूँ, मेरी तरफ़ से आप सभी दोस्तों, भाभी और आंटी, लड़कियों को नमस्कार!वैसे तो मैं करीब सात साल से अन्तर्वासना पर आने वाली कहानियों का नियमित पाठक हूँ और यहाँ कीचुदाई की स्टोरीमुझे काफ़ी अच्छी लगती हैं.

बीपी इंग्लिश सेक्सी

आंटी ने फिर से मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं, जिससे मुझे मजा आ रहा था. जबकि फोन पर कह देते हैं कि आपको फलां ग्राहक की यौन संतुष्टि करनी होगी. तब तक एरिक अपने कपड़े उतारकर बेड पर चढ़ चुका था और आर्थर नीचे कारपेट पर खड़ा हुआ ही अपने कूल्हे हिलाता हुआ अपना अभी तक ढीला लंड मेरी पत्नी के मुंह में घुसेड़ना शुरू कर दिया था.

थोड़ी देर चूसने के बाद मैं उठकर बैठ गई और उसकी टांगों को चौड़ा करके उसकी बुर को एक पल के लिए निहारा और फिर अपना मुँह उसकी बुर पे लगा दिया. मैं रात के 10 बजे पूजा के घर के पीछे छुप कर सबके सोने का इंतजार करने लगा. वरना मैं तो घर पर ही आपको मौका दे देती, मैं भी तू आपसे प्यार करती हूँ.

सर्दियों के दिन थे, रात को मैं रजाई लेकर सोया हुआ था कि मेरे साथ कोई लड़की या औरत सोई हुयी थी, उसके ऊपर रजाई नहीं थी. रात के करीब डेढ़ बज रहे थे, नवीन किचन में ज़मीन पर लुंगी और कुर्ते में सो रहा था. मामी को भी मज़ा आने लग गया और वो उम्म्म्म… अहह… अहह… उम्म्म्ममम… की आवाज़ करने लगी.

इस चटाई ने तो रानी को बौरा दिया और वो अजीब अजीब सी आवाज़ें ऐसे निकाल रही थी जैसे उसका गला भिंच गया हो. अब भैया ने नीचे को होकर पहली बार मेरी क्लीन चूत पर किस किया और अपनी जीभ से मुझे चोदने लगे.

मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने आँख दबाते हुए लंड को मेरी खुली चुत में पेल दिया.

थोड़ी मोटी होने के कारण उसकी भरी हुई गांड और समय से पहले निकले चूचों को देख के किसी का भी मन उस कच्ची कली को चोद के औरत बनाने का हो जाए. एक्स वीडियो सेक्सी फिल्म एचडीमेरे मामा और मेरे पापा विस्की एंजाय कर रहे थे, मेरे मामा को रोज शराब चाहिए और मेरे पापा को भी, ये लोग पीने के मामले में बहुत आगे हैं, उस रात उन्होंने कम से कम एक बोतल ख़त्म कर दी थी. बाड़मेर राजस्थान सेक्सीमैं डर गई थी और मैंने धीरे से कहा- मोहन जी, रूको ना किसी ने देख लिया तो बहुत लोचा होगा. दरअसल मैंने ही उसको अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए कहा था ताकि वो चुदाई के लिए राजी हो जाए.

मैंने तुरंत अपनी पैन्ट उतारी और उससे चिपक गया, हम दोनों एक दूसरे को चूमते ही जा रहे थे, इस वक्त चूंकि थोड़ी जल्दी थी इसलिए मैंने उसे नीचे आने को कहा.

जब भी मैं उसके दाने को चूसता तो वह टांगों को और चौड़ा करके आई… आई… करके चिल्लाने लग जाती थी. मैंने कहा- आंटी आप अकेली रहती हो, आप अपने बेटे के साथ कनाडा क्यों नहीं चली जातीं?वो बोलीं- मैं अगले साल चली जाऊँगी, जब से मेरे हज़्बेंड नहीं रहे हैं, तब से जीवन में वो मज़ा ही नहीं रहा. वो चीखने लगी- आहहहहह बाहर निकालो इसे… आहह… माँ रे… मैं मर गई… बहुत दर्द हो रहा है… मुझे नहीं चुदवाना.

तो हुआ यों कि एक दिन हम लोग यानि मैं और अनामिका सेक्स कर रहे थे और चुत चुदाई के बाद ऐसे ही साथ में लेटे हुए थे और बातें कर रहे थे और हम एकदम नंगे थे।और तब अनामिका ने ऐसा कुछ कहा जिससे मेरा दिल एकदम ख़ुशी से झूमने लगा था. जब मैं कुछ बोलती थी तो बोलता था कि मैं इनको ढीले करके ही यहाँ से जाऊंगा. वो काफी अन्दर तक मेरे लंड को लेने की कोशिश कर रही थी, पर ले नहीं पा रही थी.

शेरावाली मां के फोटो

मैंने राहुल से पूछा कि ये तेरी बारात में क्या कर रहे हैं?तो उसने हमे उनसे मिलवाया और बताया कि ये जब भी इंडिया आते हैं, मैं ही इंडिया के टूर पर घूमाता हूँ, लिहाजा मेरी इनसे अच्छी दोस्ती हो गयी है. उसके बाद मैंने एक जोर से झटका मारा और पूरा लंड की उसकी चूत में चला गया. इसके बाद कमर को जोर देकर मैंने आधा लंड चुत डाला तो भाभी ने मेरी कमर को पकड़ा और अपनी दोनों टांगों को मेरी कमर पर कैंची सा जकड़ लिया.

अब शादी के बाद भी प्रियंका ज्यादातर अपनी विदेश यात्रा आज भी मेरे साथ ही करती हैं और जम कर चुदती हैं।[emailprotected].

नताशा एक साथ अपने दोनों छेदों में दो दो लंड प्राप्त करती हुई किसी बिल्ली की तरह म्याऊँ म्याऊँ कर रही थी.

मेरी चालू बीवी की इंडियन सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी बीवी गैर मर्द की बांहों मेंमें आपने जाना था कि मेरी बीवी अपने बॉस के साथ पूरी रात कमरे में चुदवाती रही. वो खुद किसी कंपनी में काम करती हैं, उसी के प्रॉजेक्ट के लिए यहां आई हैं. कुत्तिया कुत्ते की सेक्सीअब बस मैं तो बस में गुज़री मेरी इस रात के बारे में सोचकर मुस्कुराने लगा.

वो मुझे देख कर बहुत खुश हुई और फिर से चुदाई करवाने के लिए तैयार होने लगी. वो एक हाउसवाइफ की मेल थी, उसका पति बिजनेस मैन था जो कि बिजनेस की वजह से अधिकतर समय बाहर ही रहता था. जब इतना बड़ा उपकार किया है तो फिर पूरी जिंदगी मेरी भाबी बन कर रहो ना.

पूजा मामी के चुचे दबा कर मानो स्वर्ग की प्राप्ति हो रही थी लेकिन मेरे लंड को खुशी तब तक नहीं मिलेगी जब तक मामी की चूत के दर्शन ना हो जाएँ!मैं धीरे से मामी के पास गया और उन्हें जगाया, मैंने कहा- मामी जी, कब तक नींद में मज़े लोगी, उठ जाओगी तो और भी मज़े करेंगे. पूरा लंड अन्दर करने के बाद वो बिंदु माँ से बोला- अब तुम मेरे ऊपर होकर मुझे चोदो.

कुछ देर बाद मैं वहाँ से उठ कर नीचे अपने कमरे में जाने लगा तो उसने मुझे बुलाया और पूछा कि मैं क्या करता हूँ और मेरा नाम भी पूछा.

वो नाराज हो गयी और मेरे से कहने लगी- मुझे ना तुमसे बहुत नफरत हो रही है. मुझे नहीं पता था कि रूम में एक कैमरा फिक्स है, जो पूरी ब्लू फिल्म बना रहा था. वो दोनों एक घंटे में नीचे उतर के आए और ड्राइंग रूम में बैठ कर टीवी देखने लगे.

सेक्सी बीपी शॉट इंडियन मैंने भाभी को बैठने के लिए कहा तो वो गेट के कोने में टेक लगा कर खड़ी हो गई. मैं समझ गया कि मेरी छोटी बहन भी गर्म हो चुकी है मम्मी की चुदाई देख कर।मम्मी अब नीचे बैठ गई और मैं खड़ा था, वो मेरा लौड़ा अपने मुख में पूरा अंदर लेकर चूस रही थी.

[emailprotected][emailprotected]कहानी का अगला भाग:इत्तेफाक से जेठ बहू के तन का मिलन-2. इसकी कम से कम 4 बार चुदाई होनी चाहिए और वो एक बार इसकी गांड भी मारे. जब रानी लौड़ा पूरा साफ़ कर चुकी तो मैंने उंगली से जांघों का माल समेट के रानी के मुंह में उंगली दे दी.

सुहागरात के बारे में दिखाइए

तो ले… ले ले ले ले… और ले… काफी है तुम्हारी नन्ही सी चूत के लिए या और लगाऊं?” आर्थर ने नताशा से इस आशा में पूछा कि वो अब संतुष्ट हो चुकी होगी. तभी भाभी अकड़ गईं और वो मेरे सिर को पकड़ कर चुत के अन्दर दबाने लगीं. मैंने भी कहा- हाँ मैं ठीक हूँ और पढ़ाई की अभी कोई बात मत करो प्लीज़; अभी मुझे छुट्टियां एन्जॉय करने दो.

मेरे मुँह से मादक सीत्कार निकल रही थी- आ उम्म्ह… अहह… हय… याह… हा हा हा. इंटरेस्टिंग बात ये थी कि जब उसने अपने हाथ फैलाये न्यूज़ पेपर खोलने के लिए तो उसने दाहिना हाथ मेरी जांघ पर रख दिया.

मगर तब भी उसने शालीनता के साथ कहा- मैडम, आपको केवल पजामी ही हटानी थी.

बस मुझे मैथ में थोड़ी प्राब्लम होती थी, जिसमें मैं रिमझिम की मदद लिया करता था और बदले में उसे कैमेस्ट्री पढ़ाया करता था, जिससे हम दोनों की आपसी कैमेस्ट्री काफी अच्छी हो गई थी. मैंने आंटी की चुत के मुँह में लंड सैट किया और अपनी पूरी ताकत से एक ही बार में लंड को चुत में पेल दिया, जिससे आंटी और मुझे थोड़ा दर्द हुआ. मैंने बड़ी प्यासी निगाहों से उसको खोजना शुरू किया तो वो मर्द जिसने मेरी चुदाई की थी, वो आगे किसी दूसरी सीट पर जाके बैठ गया था क्योंकि तब तक कुछ लोग बस से उतर गए थे.

इसी के साथ मोहन ने जब दूसरा झटका लगाया, तब उसका पूरा लंड मेरी चुत में घुस गया. अब मैं उनकी चुचियां पकड़ के जोर जोर से दोनों को बारी बारी से चूसने लगा. रास्ता थोड़ा खराब था, इसलिए जब भी ट्रक किसी गड्डे में आने से हिलता तो मेरे मम्मों के काले निप्पल तक ब्लाऊज के बाहर निकल आते थे.

मैंने उसके मोटे लंड को घूर कर देखा तो उसने उसी वक्त अपने लंड को सहलाया और मुस्कुराते हुए दरवाजा बंद करके ट्रायल रूम में वापस घुस गया.

सेक्सी देवर भाभी बीएफ: इसके बाद मेरी झिझक जैसे तैसे खत्म हुई और हम सब रात होने तक यूं ही बातें करते रहे. कुछ देर मैडम की फुद्दी बजाने के बाद मैंने कहा- मैडम गांड में डालूँ?तो मैडम ‘नहीं.

जैसे ही हम फ्लैट में पहुंचे मुझसे सब्र नहीं हुआ, मैंने उसे दरवाजे से चिपका कर अपनी गोदी में उठा लिया ओर उसके गुलाबी होंठों को चूसने और काटने लगा. मैं और भाभी बहुत बातें करते हैं और मुझे उनसे बातें करना बहुत अच्छा लगता था. मॉम नवीन को देख कर मुस्कुराने लगीं और अपने गाउन की डोरी को खोल कर उसे ढीला कर दिया.

मेरी हालत अब थोड़ा बिगड़ने लगी कि तभी बालू बोले- इधर तख्त पर आइये!अब हम दोनों तख्त पर चले गये.

लेकिन में इस सोच में पड़ा था कि हम लोग तो टोयलेट में जा रहे थे और जोश जोश में यहीं बरामदे पर शुरू हो गये. अब उसने मेरी पेंटी उतार दी और मेरे ऊपर लेट कर उसने अपना खड़ा लंड मेरी चुत के छेद में ज़ोर से घुसा दिया. बोलीं- भाभी जी नहीं… बस भाभी कहो… और आज तुम आ गए, बस ये मेरे लिए बहुत है… आज तुम मुझे खुश कर दोगे… यही मेरे लिए सबसे बड़ा गिफ्ट होगा.