यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,ब्लू फिल्म सेक्सी चुदाई ब्लू फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी एचडी क्वालिटी: यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो, और जोर से चूसो… ओह ओह ओह ओह ओह… हाँ हाँ हाँ ऐसे ही… चूसो इन्हें…उसका ऐसा कहने से जैसे मुझमें और जोश आ गया था और मैं बस उसके मम्मों में घुसा जा रहा था.

सेक्सी पिक्चर हिंदी में सॉन्ग

!उसका भूरे रंग का दाना दूर से ही चमक रहा था, उसकी चूत के दो द्वारों को खोलते ही लालिमा चमक उठी जैसे बादलों के बीच बिजली चमक रही हो।वो मेरे लिंग को खींचने लग गई, उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया, उसकी मादक सिसकारियाँ पूरे कमरे में गूँज रही थीं। ‘हूं…आ…आह. अंग्रेज की सेक्सी मूवीमैं- ओह… चलो तुम घर पहुँचो… मुझे भी एक डेढ़ घण्टा लग जाएगा…सलोनी- ठीक है कॉल कर देना जब आओ तो…मैं- ओके डार्लिंग… बाय.

‘अच्छा सच बता क्या तू मुझे उस समय एक भाई की नज़र से देख रहा था या एक मर्द की नज़र से?’ दीदी ने बड़े भोलेपन से पूछा. पिक्चर का गाना सेक्सीसाजन ने पीछे से री सखी, आकर मुझको बाँहों में घेरामैं कसमसाई तो बहुत मगर, साजन ने मुझको न छोड़ागालों पर चुम्बन लेकर के, मुझे अपनी तरफ घुमाय लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

!रेनू को मैं नज़र बचा कर बार-बार देख रहा था कि वो क्या कर रही है।फिर जब उसने देखा मेरे पर कोई असर नहीं है, तो वो पूरे लंड को अपने हाथों में भर कर मसलने और खींचने लगी। मेरे लंड का आकार बढ़ने लगा।रेखा- क्या हुआ…!रेनू- लंड हिला रही हूँ.यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो: मैंने कहा अब तू भी गिन, नितम्ब धीरे-धीरे गतिमान कियापच्चीस की गिनती पर मैंने तो, सखी खुद को लेकिन रोक लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

इस बीच मीरा दो बार झड़ चुकी थी… मैंने जैसे ही गति बढ़ाई तो वो अपने हाथ से चूत मसलते हुए आह… और जोर चोद मुझे… मेरी प्यास बुझा… आह… उई…मर… गयी… इ इ… स…स…कहते हुए झड़ने लगी।मैं अब चरम सीमा पर था, मैंने आख़िर के धक्के मारते हुए सारा माल चूत में डाल दिया।कुछ देर बाद वो सामान्य हुई तो बोली- विनोद, तुमने तो सारा माल अन्दर डाल दिया.उसके बाद ही तेरी गाण्ड मारूँगा।दीपक और प्रिया अब एक-दूसरे के होंठों का रस पीने लगे थे।बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं.

मसाज पार्लर की सेक्सी वीडियो - यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो

बाँहों में उठाकर उसने मुझे, खाने की मेज पे लिटा दियामैंने भी अपने अंग से सखी, सारे पहरों को हटा दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.दिल सातवें आसमान पर था। मानो जगत की सारी खुशियाँ मिल गई हों।मैं हवा में उड़ने लगी थी।अब बस पीयूष ही पीयूष दिख रहा था। बार-बार मेरा हाथ मेरी चूचियों पर जाता था।उसके हाथों ने मेरी चूचियों को मसका था, बस बार-बार उसी स्पर्श को याद कर रही थी।तभी पीयूष का मैसेज आया, आई लव यू”.

उसने भी दो दिन तक बात नहीं कि उसके बाद वो एक दिन मेरे रूम में आई और बोली- आप मुझसे गुस्सा हो क्या?मैंने कुछ नहीं बोला, तो वो मेरे पास आई और मेरे माथे पर चूम लिया, तो मैंने अपना मुँह घुमा लिया. यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो जब मेरी मम्मी ने मुझसे कहा कि वे मेरी चूत में लंड पेलवा देंगी, तो मैं बहुत खुश हुई। मैं इस बात पर बहुत आह्लादित हुई कि मैंने मम्मी को मजबूर कर दिया था।उसी दिन जब मैं नहाने जा रही थी, तो मम्मी बाथरूम में आ गईं और दरवाजा बंद कर लिया और बोलीं- अपने कपड़े उतारो.

फ़ूफ़ी की सिसकारियाँ निकलती जा रहीं थीं- उउम्म्म्म… आअहह… उउइई ईईई इम्म्ममा आआ… आआवर्ररर जोर सीईईई… बऊऊत मज़्ज़ाआ आआआअ रहाआआअ हाइईई…करीब 10 मिनट तक मैं लगातार चोदता रहा, उस दौरान वो 1 बार झड़ चुकी थीं.

यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो?

मैं स्वयं गिरी उसके ऊपर, होंठों से होंठ मिलाय दियासाजन के मुख पर मैंने तो, चुम्बन की झड़ी लगाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. तो क्या मज़ा आएगा…!रेहान- जान, मैंने अभी तो तुमको बताया ना रात को राहुल को खुश कर देना और तुम्हारी बहन को भी शामिल कर लेंगे तो सब मिलकर मज़ा करेंगे…!आरोही- लेकिन रेहान आपने बताया भाई जूही को भी चोदना चाहते है पर वो तो अभी कमसिन है, कही कुछ हो ना जाए उसको…!रेहान- मैं हूँ न. हम दोनों का यह नियम था कि एक बार में सिर्फ एक छेद की चुदाई करते थे, पर आज मैंने कहा- चाचू दोनों छेदों को अपने लौड़े की दुआ दो.

!मैंने लंड को चूत में फँसा कर धक्के रोक दिए और उसके खरबूजों को चूसना जारी रखा और मम्मों को मसलने लगा।दो मिनट के बाद सरिता नीचे से चूतड़ उठाते हुए बोली- बस अब जी भर के मेरी चुदाई करो. 15 दिन मेरी अम्मी अपनी अम्मी के पास रहीं और जब वो वापिस आ गईं, तो रोज रात को एक बजे मैं बाथरूम जाती और चाचू भी आ जाते और एक घन्टे तक बाथरूम में चुदाई के बाद वापिस रूम में आकर सो जाते. मैंने कहा- इसमें मैं क्या मदद कर सकता हूँ?उसने कहा- तुमको उसे भी अपना लंड देना होगा!मैंने उसे कहा- क्या मैं सिर्फ़ सेक्स करने के लिए ही हूँ?तो उसने कहा- मेरे लिए उसकी मदद कर दो!और कहा- मुझे तुम पर विश्वास है इसलिए तुमसे मदद मांगी!मैंने भी सोचा कि एक और चूत का इंतजाम हो रहा है तो मैं क्यों मना करूँ, इसलिए मैंने हाँ कर दी.

!”वो तो बहुत ही बड़ी वाली थी, बोली- साले तू दस मिनट में क्या कर लेगा…! मैं गरम तो हो जाऊँगी फिर ठंडा क्या तेरा बाप करेगा. अभी चुदाई खत्म नहीं हुई है… मेरा माल निकलेगा तब मुझे पूरा मजा आएगा।सरिता बोली- हाँ मूझे मालूम है, बस अपनी सरिता को जी भर के चोदो… बहुत मज़ा आता है।मैंने लंड पूरा बाहर निकाल लिया और ज़्यादा सा बेबी आयल लंड पे फिर से लगाया, फिर चूत में वापस डाला।अब तो मैं लम्बे-लम्बे स्ट्रोक मारने लगा।अब सरिता दोबारा से बहुत रसीली हो गई और बोलने लगी- फाड़ दो मेरी फाड़ दो मेरी चूत. कॉम पर पढ़ रहे हैं।शिप्रा को इस तरह बदन ढकते देखकर राजीव ने कहा- मुझे तो बस तुम्हारा ये सुंदर जिस्म कुछ देर के लिए प्यार करने को चाहिए।यह सुनते ही शिप्रा तुरंत खड़ी हो गई, बोली- तुम्हारा दिमाग खराब तो नहीं हो गया है राजीव.

फिर चाचू ने लण्ड को अन्दर-बाहर करना चालू किया, मुझे लग रहा था कि मेरी चूत में कोई गर्म लोहे की रोड अन्दर-बाहर हो रही है. !मुझे पसीना आने लगा। सरिता ने अपने पेटीकोट उठा कर मेरा माथे पर पसीने को पोंछने लगी और चुंबन देने लगी।पूरे 10 मिनट मैंने खूब चुदाई की, बाद में बोला- सरिता मैं आ रहा हूँ.

मुझे भी कंडोम लगाकर सेक्‍स संतुष्टि नहीं मिलती।अभी हम परम आनन्द यानि वीर्यस्राव होने से कुछ सेकेण्ड पहले लिंग को योनि से निकाल लेने वाला तरीका इस्तेमाल कर रहे हैं.

मेरी बहन की नथ खुली है… मीठा मुंह तो होना चाहिये न !’ इतना कह कर नंगी चंदा रानी कमरे से बाहर चली गई।.

सॉरी दोस्तो, रिकॉर्डिंग ने धोखा दे दिया… लगता है यहाँ तक बैटरी थी…उसके बाद बैटरी खत्म !मगर इतना कुछ सुनकर मुझे यह तो लग गया था कि सलोनी को अब रोकना मुश्किल है. !रेहान बहुत एक्सपर्ट था, वो बड़े आराम से अपना लौड़ा अन्दर-बाहर कर रहा था। आरोही पर मस्ती चढ़ने लगी थी। अब वो गाण्ड को पीछे धकेल कर चुद रही थी।लगभग 5 मिनट तो रेहान धीरे-धीरे करता रहा, पर उसके बाद उसने स्पीड बढ़ा ली। अब दोनों की जाँघों की आवाज़ आने लगी थी, ठप. सब एक साथ काम करेंगे तो मज़ा आएगा।रेहान- अभी हम फिल्म की ही बात कर रहे थे तुमने सीन तो सुन हे लिया होगा.

सम्पादक – इमरानजैसा कि हम दोनों यह सोच कर आज घर से निकले थे कि आज केवल होगी तो मस्ती- मस्ती और बस मस्ती…तो आज की रात ऐसी ही गुजर रही थी. जाओ पहले मेरे नाग को तैयार करो जी।आरोही अन्ना के लौड़े पर हाथ रख देती है, तभी डोर पर नॉक होती है।अन्ना- क्या हुआ जी?रेहान- डोर खोलो जल्दी से…!अन्ना मूड ऑफ करके डोर खोल देता है।रेहान- तुमने ठीक से बताया नहीं कि राहुल कहाँ है, ठिकाने लगा दिया का मतलब कहीं तुमने उसको मार तो नहीं दिया न. जैसे जैसे जवानी ने दस्तक देनी शुरु की, तैसे तैसे मेरा ध्यान लड़कों में लगने लगा, मेरी दिलचस्पी अपनी तरफ देख उनकी हिम्मत बढ़ने लगी.

और कल सुबह जल्दी बुलाया है…मैं मधु के घर के अंदर गया, मुझे कोई नजर नहीं आया…मैं- अरे कहाँ है तेरे माँ, पापा?मधु- पता नहीं… सब बाहर ही गए हैं… मैंने ही आकर दरवाजा खोला है…बस उसको अकेला जानते ही मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया…मैंने वहीं पड़ी एक टूटी सी चारपाई पर बैठते हुए मधु को अपनी गोद में खींच लिया।मधु दूर होते हुए- ओह.

!’तो हिमानी इस बात के लिए सहमत हो गई। मैंने जैसे ही उसकी चूत पर हाथ फ़िराया तो वो गीली-गीली सी लगी और हल्का सा पानी उसकी झांटों पर भी लगा हुआ था। पहले तो मैंने अपनी ऊँगली उसकी चूत में अन्दर डाल कर अन्दर-बाहर करनी चालू की, तो वो तेजी के साथ ‘आह आह ऊओह्ह ऊऊई स्सस्ससीईईई. हम शाम को मिलेंगे।मैं वहाँ से चला गया। घर जाते ही उसके नाम की एक मुठ मारी। मैं बहुत खुश था, शाम को पढ़ाने उसके घर पहुँचा तो देखा दिव्या एकदम तैयार बैठी थी।उस दिन उसने पीले रंग का सूट पहन रखा था। क्या लग रही थी वो उस सूट में. !” चमेली ने अपनी भूमिका में जान डालते हुए बड़े नाटकीय ढंग से इस बात को कहा।कामिनी ने दरबार से फरियाद की, रहम… रहम हो सरकार … कनीज अब यह ग़लती नहीं करेगी”ठीक है, इसकी सज़ा माफ़ की जाती है पर अब यह ग़लती बार-बार कर हमारा मनोरंजन करती रहेगी, मैं इसकी अदाओं से खुश हुआ.

बस तुम्हारी खातिर कर रही हूँ… जाओ अब मैं कुछ नहीं करूँगी।फिर पति मिमयाने लगे- अरे तुम मेरी जान हो… मज़ाक किया यार… सॉरी !मैं बोली- चलो, बात मत बनाओ. पर थोड़ी ही देर में मेरा लंड फिर तन गया, मैंने फिर हिला लिया।अगले दिन मैं ढंग से फुटबॉल नहीं खेल पाया। अब तो मैं हर घड़ी भाभी को ही देखता रहता था. मैं तो बिस्तर पर ऐसे ही पड़ी रही और मजे लेने लगी।करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद ननदोई जी का सारा माल मेरी चूत में आ गया और वो मेरे ऊपर पसर गए.

बगल में सीमा अपनी चूत पोंछ रही थी और उसके बाद उसने उठ कर एक गिलास में रम भरी। मैंने देखा तो मेरा मन भी हुआ, पर सोच रहा था कि कहीं भांग के ऊपर रम कुछ हरकत न कर दे.

जिससे चूत और खुल गई और मैं और ज्यादा चाटने लगा।फिर मैं धीरे-धीरे उसे चाटता हुआ उसके ऊपर आया और उसकी टांगों को खोल लिया।अब मैं फिर से उसके कान खाने लगा और वो फिर से बहुत पागल होने लगी।अब मैंने मौका देखकर लंड उसके छेद पर लगाया. आ जाओ सब यहाँ आराम से बैठ कर ड्रिंक करेंगे।रेहान ने अच्छे से टेबल लगाई थी, सब वहाँ बैठ गए, शैम्पेन खोली गई.

यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो तू यहाँ कैसे…!राहुल- मैंने कहा था न… मेरी नज़र तुम दोनों पर है।संजू- अरे सब बातें छोड़… ये देख सिम्मी की जवानी तुझे आवाज़ दे रही है, जा मज़े कर डाल दे चूत में लौड़ा…!राहुल- नहीं यार इसकी गाण्ड मुझे बहुत पसन्द है… मैं तो गाण्ड ही मारूँगा और आरोही यहाँ इतनी देर तक क्या कर रही थी…!संजू- अरे कुछ नहीं इसका एमएमएस बना रही थी।राहुल- भाड़ में जाने दो सब. मैंने देखा सुन री ओ सखी, साजन कितना कामातुर थाऊँगली के संग-संग जिह्वा से, मेरे अंग को वो सहलाता थाआनन्द दुगुणित हुआ सखी, जिह्वा ने अपना काम कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो आप सबको मेरी कहानी कैसी लगी, जरूर ईमेल करना!और बहुत कुछ है जो आपको बताना है, पहले आपके ईमेल का इन्तज़ार रहेगा. डरो मत जैसे प्यार से तुम्हारी सील तोड़ी थी, वैसे ही उसकी भी तोड़ूँगा और फिल्म में भी रोल दिलवा दूँगा… खुश?आरोही- वाउ मज़ा आएगा.

!तो मेरा चेहरा भी खिल उठा, फिर हम तैयार होने अपने-अपने रूम में चले गए, मेरा और उसका रूम आमने-सामने था। फिर हम लोग जब पार्टी में जा रहे थे, तो संयोगवश लिफ्ट में हम अकेले ही थे।उसने मौका देख सामने शीशे में देख कर कहा- आज तो सिर्फ तुम्हीं तुम दिख रही हो.

नंगी औरत सेक्सी वीडियो

अनेकों पुरुष अपने लंड को मोटा कड़क करने के लिए जापानी तेल, सांडा तेल, वियाग्रा टेबलेट, पॉवर कैप्सूल का इस्तेमाल करते हैं पर उनको कोई फायदा नहीं होता. मैं कुछ देर तक बस सोच ही रहा था कि अब आगे क्या और कैसे करना चाहिए…दोस्तो, आप भी अपना मशवरा दें कि आप ऐसी परिस्थिति में क्या करते…?आपके सुझाव के इन्तजार में…आपका दोस्त…. मैं तेरी तरह नहीं हूँ जो किसी के भी साथ यूँ ही घूमने लगूँ…नज़ाकत- हाँ हाँ… मैं तो ऐसी वैसी हूँ… और तू कैसे घूम रही थी वो सब देखा मैंने… मेरी आवाज भी नहीं सुनी.

देख रहे होते हैं वह उनसे पूछता है- डैड, पुस्सी क्या है?पिता मैच का मज़ा किरकिरा नहीं करना चाहते, तो उन्होंने दराज़ में से एक अश्लील पत्रिका उठाई और योनि के चारों ओर पेन्सिल से एक घेरा बनाया और कहा- बेटा, यह पुस्सी है!बच्चे को अब समझ में आने लगा था कि वे बड़े लड़के क्या बात कर रहे थे, उसने अब अपने पिता से पूछा- तो फिर बिच क्या है?पिता ने उत्तर दिया- उस घेरे के बाहर की बची हुई चीज़!. 36-28-34 की कुछ सांवली मगर अच्छी सूरत वाली रोज़ी कुल मिलाकर बहुत खूबसूरत दिखती है। उसने अभी एक महीने पहले ही ज्वाइन किया था इसलिए उसको यहाँ के बारे में ज्यादा नहीं पता था।मैंने मदन लाल को जल्दी भेजने के चक्कर में बोल दिया- ठीक है, भेज देना उसको …मगर मदन लाल पूरा घाघ आदमी था- अरे नीलू मेमसाब कहाँ हैं साब… कॉफ़ी ठंडी हो जायेगी।ओ बाप रे. !”मैं खिलखिला कर हँस पड़ी।प्रिय पाठको, आपकी मदमस्त सुधा की रसभरी कहानी जारी है। आपके ईमेल की प्रतीक्षा में आपकी सुधा बैठी है।[emailprotected].

मैं जानबूझ के ज़ोर ज़ोर से रोने लगी- क्या किया तुमने मेरी छोटी सी चूत को इतना बड़ा कर दिया तुमने मुझे क्यूँ चोद दिया?जय- मुझे माफ़ कर दो, जो बोलोगी वो करूँगा!मैंने अपने चूत के द्वार को फैलाया और उसे दिखाने लगी.

प्रणाम दोस्तो, एक बार फिर से आपका गांडू सनी आपके लिए अपनी चुदाई लेकर हाज़िर है। मुझे बहुत ज़रूरी काम के लिए आगरा जाना पड़ा, एक तो पहले से ही स्टेशन पर ही एक लंड ने मेरी गांड गर्म कर दी, मेरी बुकिंग थी छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस की लेकिन बीस नंबर वेटिंग में मिला था, मुझे वहाँ टी. कपड़े पहनो नहीं तो आज खैर नहीं हमारी…!सब भाग कर अन्दर चली जाती हैं। अन्ना को दूर से सब दिख जाती हैं।अन्ना- अईयो नीलेश… ये क्या जी ये सब छोकरी पागल होना जी. ! और उससे बोला- अब मैं तुम्हें डॉगी-स्टाइल में चोदूँगा।वो बोलीं- कैसे?मैंने कहा- अरे पागल आज तक ऐसे नहीं करवाया तो क्या मस्ती मिली रे.

पर मेरा विरोध देख कर उसने प्यार भरी नज़रों से देखते हुए बोली- राहुल बस इत्ती सी बात पर नाराज़ हो गए… तुम्हारे लिए तो मेरी जान भी हाज़िर है. !उसने मुझसे कहा-शर्म और हया भी कोई चीज़ होती है मेरे सनम,कैसे समा जाऊँ तुझमें मेरे सनमकि नखरे और अदा भी कोई चीज़ होती है. मैं सिर्फ़ हल्के-हल्के से करूँगा दर्द नहीं होगा। मुझे ऐसा करना अच्छा लगता है।हम दोनों थोड़ी देर तक यूँ ही एक-दूसरे का शरीर टटोलते रहे और चुम्बन लेते रहे। जब बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया, तो हमने एक-दूसरे के कपड़े उतारने शुरू कर दिए।हिमानी बोली- ओफ़्फ़ोह पहले लाईट तो बुझा दो.

इससे अच्छा होता कि मैं ज़हर खा लूँ या फिर पुलिस के पास! हाँ, यही सही होगा, मैं पुलिस के पास जाके सब सच सच बता दूँ कि तुमने मेरे साथ क्या किया. धीरे-धीरे मैंने उसका सिर पकड़ा और पूरा लंड मुँह में दे दिया। वो मुझे दूर करने लगी।वो बोली- साले आराम से कर.

शायद इतना काफी न था, साजन ने आगे का सोच रखाजिह्वा से मेरे अंग को उसने, उचकाय दिया, उकसाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. भाई प्लीज़ आह फास्ट उई फास्ट आह…और फास्ट आह उईईई आआआ आआ…!आरोही ने राहुल के लौड़े को चूत में जकड़ लिया और झड़ने लगी। कभी उसकी चूत सिकुड़ती. !इतना बोलकर अन्ना चला गया।बस दोस्तो, आज यहीं तक !उम्मीद है आपको पसन्द आया होगा।और आपके दिमाग़ में कई सवाल खड़े हो गए होंगे कि आख़िर आरोही ने ऐसा क्या किया रेहान के साथ, जो रेहान उसका बदला ले रहा है और ये अन्ना सच में डायरेक्टर है या कोई और.

मेरे एक चोदू ने मुझे बताया था जब मुझे ऑर्गनस्म आ रहा था तब उसने चूत के अंदर उठने वाली संकुचन को महसूस किया था, उसने कहा था कि उसे ऐसा लग रहा था जैसे उसका लंड चूत में फंस गया था और फिर एक तेज़ बहाव आया, जिसे पानी छोड़ना कहते हैं.

पर साला फट्टू था।वो बस होंठों पर जुबान फेर कर रह जाता था, बड़ी हद हुई तो लौड़ा सहला देता था।मैं मन ही मन कुढ़ती थी कि कहीं मैं साले नामर्द पर दांव तो नहीं लगा रही हूँ. मैंने कहा- क्या?तो वो मेरी नियत समझ गई, पर वापस बोली- मुझे भी एक गिलास पानी दे दो। मैंने उसके लिए पानी का गिलास भरा और उसको दिया, जैसे ही उसने पानी का गिलास हाथ में लिया तौलिया उसी पल नीचे गिर गया और मेरी नजरें उसके मम्मों पर ठहर गईं।वो भी एकदम से घबरा गई और तौलिया उठाने नीचे झुकी।तो मैंने कहा- अब जो छुपा हुआ था वो तो दिख ही गया है. रात को मैं जल्दी सात बजे ही आ गया, चाची को उठा क़र बेडरूम में ले गया और सीधे कुत्तों की तरह चाटने लगा.

आह, ओह, सीत्कार सिवा, हमरे मुख में कोई शब्द न थेमैं जितनी थी बेसब्र सखी, साजन भी कम बेसब्र न थेसाजन के अंग ने मेरे अंग में, कई शब्दों का स्वर खोल दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. !तो रीना ने मुझसे पूछा- क्या तुमने कभी किसी के साथ किया है?तो मैंने ना बोल दिया, क्योंकि मैंने इससे पहले कभी किसी के साथ चुदाई नहीं की थी।मुझे तो पता ही था कि आज मुझे कुँवारी चूत मिलने वाली है।वो मुझसे पूछती- क्या तुमने ऐसी मूवी पहले कभी देखी है?तो मैंने बता दिया- देखी है तीन चार-बार.

अपने तीसरे प्रयास में मैंने उसके कौमार्य को भंग कर दिया… उसकी आँखों में ख़ुशी और दर्द दोनों के भाव थे. साजन बेसुध सा सोया था, मैंने अंतःवस्त्र उतार दियादस अंगुल के चितचोर को फिर, मैंने मुख माहि उतार लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. भट्टी- बीए फेल पीएचडी लगने लगता है…सेल्सगर्ल- जी सर, हमारे लैपटॉप हैं ही ऐसे…भट्टी- फिर तो मैं एक लैपटॉप खरीद ही लेता हूं.

हॉट देसी वीडियो

गब्बर- बसंती, चड्डी उतार !वीरू- नहीं बसंती, इस कुत्ते के सामने चड्डी मत उतारना।बसंती- वीरू तू डर मत, मैंने चड्डी पहनी ही नहीं है।***गब्बर रात के अँधेरे में बसंती से चुदाई कर रहा था।गब्बर- बोलो मेरी जान बसन्ती, मज़ा आया?औरत- बहुत मज़ा आया कुत्ते, लाइट जलाकर देख। मैं बसंती नहीं.

!फिर भाभी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और होंठों को चूसने लगी। मेरा लंड चूत में जाने को बेताब हो रहा था। होंठों से हटा और भाभी के पैरों के बीच बैठ गया। लंड डालने की कोशिश कर रहा था कि भाभी ने लंड पकड़ा छेद पर सैट किया और कहा- अब डालो. !कविता सिसकारियाँ लेते हुए जोर-जोर से लण्ड चूसने लगी। अब मैं झड़ने लगा था… कविता ने लण्ड को मुँह खोलकर जीभ पर रख लिया और एक हाथ से जोर-जोर से मुठ मारने लगी। मैंने अपना सारा पानी कविता के मुँह में निकाल दिया, जिसे वो मजे से पीने लगी और चाट-चाट कर पूरा लण्ड साफ कर दिया।कविता- कैसा रहा दीप मजा आया?दीप- खूब. वो मेरी मम्मों को सहला रहा था और मुझे शांत कर रहा था, 5 मिनट के बाद मुझे अच्छा लगने लगा तो मैंने उसे कहा- अब तुम धक्के मारो.

मैंने उनके मुंह में अपना लंड डाला, वो तो जैसे तैयार थी, पूरा लंड मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी, जैसे रेगिस्तान की गर्मी में किसी को पानी मिल जाए!कुछ देर बाद मैं अपनी जीभ से उनकी नाभि चाटने लगा. कर लो, मैं किसी से नहीं कहूँगा।दीदी ने मेरे गाल पर चुम्बन किया और फिर मुझसे कहा- सारे कपड़े निकाल दे. हिंदी की चुदाई सेक्सीइतनी कम उम्र में भी वो सेक्स की देवी थी…उसने अपना एक हाथ मेरे सीने पर और एक पैर मेरे लण्ड पर रख दिया था.

मेरा सीना उसकी चूचियों से हल्का सा छू भर रहा था और वो खड़े हो कर मेरी आँखों में देखती हुई मेरे लन्ड को हिला रही थी. अब तो सन्ता का भी रोज़ का काम हो गया था कि रात को आना, इरफ़ान की गाण्ड मार कर 50 का नोट जेब में डाल कर चले जाना.

!लेकिन अब उन्होंने मुझसे मीठी-मीठी बातें करना शुरू कर दिया था। मैं रोज उनके यहाँ आने-जाने लगा और उनसे बातें करने लगा।एक दिन मैंने हिम्मत करके उनको एक ख़त लिखा जिसमें लिखा था कि आज रात को आठ बजे मिलना, क्यूंकि गाँव में सर्दी के दिनों में सब जल्दी ही सो जाते हैं।यह ख़त मैंने उनको चुपके से पकड़ाया तो उन्होंने भी शाम को मुझे एक ख़त पकड़ाया, जिसमें लिखा था कि आठ बजे नहीं. अब तो दीदी की पनियाई चूत और जोर से बहने लगी और उनका चूतरस उनकी चूत से बहता हुआ उनकी गाण्ड के छेद तक चला गया. !राहुल अपने कमरे में तैयार होने गया और आरोही भी जल्दी से बाथरूम में घुस गई।ठीक 8 बजे रेहान ने हॉर्न मारा तो राहुल बाहर आया।राहुल- हाय ब्रो… गुड मॉर्निंग कैसे हो?रेहान- मैं तो अच्छा हूँ.

बड़ी बेसब्री से अंग मेरा, स्तम्भ पे चढ़ता उतरता थाजितनी तेजी से चढ़ता था, उतना ही तीव्र उतरता थामेरे अंग ने उसके अंग की, लम्बाई-चौड़ाई नाप लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. मैं- ओह… चलो तुम घर पहुँचो… मुझे भी एक डेढ़ घण्टा लग जाएगा…सलोनी- ठीक है कॉल कर देना जब आओ तो…मैं- ओके डार्लिंग… बाय. !आरोही बोलते-बोलते चुप हो जाती है।रेहान- क्या उसने मुझे…! जान पूरी बात बताओ शरमाओ मत, मेरा जानना जरूरी है।आरोही पूरी बात बता देती है कि कैसे राहुल ने गेम खेलने के बहाने उसके मम्मों को दबाया और जूही के बारे में भी सब कुछ बता दिया ब्रा-पैन्टी में राहुल के सामने गई.

उन्होंने मुझे बेडरूम में लाकर बिस्तर पर लिटा दिया। फिर वो मेरी बगल में लेट गये और मेरे चेहरे को कुछ देर तक निहारते रहे। फिर मेरे होंठों पर अपनी उँगली फ़िराते हुए बोले, मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि तुम जैसी कोई हसीना कभी मेरी बाँहों में आयेगी।”क्यों? भाभी तो मुझसे भी सुंदर हैं !” मैंने उनसे कहा।होगी.

! बिल्कुल चिकनी चूत मेरी आँखों के सामने थी। मुझे ये सपना सा लग रहा था। बुआ ने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पर रखा। वो गीली और गर्म थी।बुआ ने पूछा- कैसा लग रहा है?बहुत अच्छा।”और मज़ा लेना चाहते हो?”वो कैसे बुआ?”ये जो तुम्हारा है न. !अब मैं रोज दिव्या को पढ़ाने उसके घर जाने लगा। पहले मैं दिव्या को इस नजर से नहीं देखता था, लेकिन एक दिन जब मैं जब दिव्या से उसके पेपर के बारे में जानने उसके घर पहुँचा, तो उस वक्त उसकी मासिक परीक्षा चल रही थी।उस वक्त दोपहर के दो बजे थे, मैंने घन्टी बजाई, दिव्या ने दरवाजा खोला।मैंने कहा- दिव्या मम्मी कहाँ हैं।उसने कहा- सो रही हैं। आप दो मिनट रुकिए मैं कपड़े बदल कर आती हूँ।मैंने कहा- ठीक है.

वो मुझे अपना भाई मानती थी और अक्सर आरोही के बारे में बात करती थी। उसने कई बार मुझे और साहिल को उससे मिलाना चाहा, पर मौका ही नहीं मिला, उससे मिलने का. !राहुल झटके से उठा और आरोही भी स्पीड से उठकर घुटनों पर आ गई।राहुल ने धप्प से लौड़ा चूत में पेल दिया।आरोही- आ सस्स ससस्स फक मी आह फक हार्ड अई आ गो डीप. जल में छप-छप अंग में लप-लप, मुंह में थे आह-ओह के शब्दसाँसें थी जैसे धौंकनी हो, हमें देख प्रकृति भी थी स्तब्धउसके जोशीले नितम्बों ने, जल में लहरें कई उठाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मैं 24 साल की हूं।मुझे आदमी और औरत दोनों को ही देख कर आकर्षण होता है।जब मैंने इसके बारे में अपनी दोस्त को बताया तो उसका कहना था कि ऐसा हो ही नहीं सकता।क्या मुझमें कुछ गड़बड़ी है?क्या मुझे किसी सेक्सॉलजिस्ट या साइकायट्रिस्ट के पास जाना चाहिए?एक पाठिका. !पर जीजाजी कहाँ मानने वाले थे। उन्होंने कामिनी की गाण्ड के छेद पर लण्ड लगाया और एक जबरदस्त शॉट लगाया और लण्ड गाण्ड के अन्दर दनदनाता हुआ घुस गया।कामिनी चीख उठी, उई माँ. फिर तो जब भी हमें मौक़ा मिलता, दीपक मेरी चूत और चूची को जम कर पीता और मैं भी उसका लंड बहुत ही अच्छे से चूसती.

यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो सखी साजन ने जल के अन्दर, मुझे पूर्णतया निर्वस्त्र किया,हाथों से जलमग्न उभारों को, कई भांति दबाकर छोड़ दिया,जल में तर मेरे नितम्बों को, कई तरह से उसने निचोड़ दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. तभी तो लोगों को पता चलेगा कि ये कुँवारी कली है…अच्छे से रिकॉर्ड करना तुम…!रेहान ने लौड़े पर दबाव बनाया और एक इंच लौड़ा अन्दर घुसा दिया, चूत बहुत टाइट थी अगर तेल ना होता तो लौड़ा छिल जाता या चूत छिल जाती, चूत इतनी टाइट हो रही थी कि लौड़ा घुसते ही उसका दर्द के मारे जूही का बदन अकड़ने लगा नशा उतरने लगा था।जूही- उई रोनू उफ़फ्फ़ रूको अई बहुत दर्द हो रहा है, अई आह उ प्लीज़ रूको आ धीरे से आ आ.

पंजाबी सेक्सी पिक्चर चुदाई

कि क्यों निकाल लिया… फिर से पूरी ताकत से डाल दो ना…मैंने जल्दी से उसको उठाकर फिर से मेज के नीचे घुसा दिया. अब मेरे मन में कोई प्रश्न न था, मैंने सब उत्तर पाए सखीइस उनहत्तर (69) से उनके मुख से, कोटि सुख मुझमें समाये सखीऐसे साजन पर वारी मैं, जिसने अद्भुत ये प्यार दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. अगले दिन इरफ़ान ने अपनी जेब में 200 रुपये देखे तो उसकी आँखें फटी की फटी रह गई, वो सीधा ठेके पे गया और बोला- ये ले पैसे और आज तो एक अँग्रेज़ी का पव्वा दे दे, साला देसी पी पी कर तो गाण्ड में दर्द होने लगा है!***एक बार सन्ता समुद्रतट पर नंगा होकर उल्टा लेटा था.

रोज़ी के घूमने से उसकी गुलाबी कच्छी ढीली हो उसके घुटनों से सरक कर नीचे गिर गई…उसकी साड़ी और उसका पेटीकोट दोनों वो खुद पूरा उठाकर अपने चेहरे तक ले गई थी…उसका कमर के नीचे का भाग पूरा नंगी अवस्था में बाथरूम की सफ़ेद चमकती लाइट से भी ज्यादा चमक रहा था. उसने आँखें खोल ली थीं और प्रिया को दीपाली समझ कर उसकी गाण्ड दबा रहा था।दरअसल प्रिया की पीठ उसकी तरफ थी और वो लौड़ा चूस रही थी। उसका जिस्म भी दीपाली जैसा ही था. सेक्सी मोठी व्हिडिओ!यह कहानी आप लोग अन्तर्वासना पर पढ़ रहे हैं, यह मेरी सच्ची कहानी है।मैंने उससे हिम्मत करके कहा- अगर तुम्हारी इच्छा हो, तो तुम भी माँ बन सकती हो। तुम्हारी बदनामी भी नहीं होगी।उसने बड़ी उत्सुकता से पूछा- कैसे.

!”और वो मुझे खाना परोसने लगीं और सामान्य तरीके से बात करने लगीं, जैसे उन्हें कुछ पता ही नहीं कि उनके साथ क्या हुआ है.

सी मुझे सीट देगा? कहीं जुर्माना न लगा डाले !लुधियाना से काफी यात्री चढ़े और मुझे वो सीट छोडनी पड़ी, खिड़की के पास वाली सीट खाली थी। लुधियाना से जब ट्रेन छूटी, तब रात हो गई थी, मैंने देखा दूसरी खिड़की वाली साइड से टी. ?जूही- ओह रेहान, तुम कहाँ चले गए, सभी जगह ढूँढ़ कर ही यहाँ आई हूँ और ये सब कौन है और संजू, अंकित तुम यहाँ क्या कर रहे हो?रेहान धीरे से बोलता है, इसने कुछ नहीं सुना शायद सब नॉर्मल रहना.

उन्होंने मुझे बिठाया और चाय बनाने चली गई।बाद में उसने सर को भी बोल दिया कि कूलर ठीक हो गया।जब हम चाय पी रहे थे तो मैडम मेरी ओर झुक कर बैठी हुई थी. !कुछ देर बाद वे सब जाने लगे, उन्होंने मनु को आवाज दी, पर मनु नहीं उठी। वो गहरी नींद में थी, नानी और मामी थके हुए थे।वो सोने के लिए चले गए और जाते-जाते उन्होंने बोला- परेशान नहीं करना।और वे चले गए। उस समय रात के 9 बजे थे।मनु उठी और बोली- गए क्या. गलती हो गई और रोड पर ध्यान दे।’फिर वो मुझसे बोली- वैसे हम डिनर पर कहाँ चल रहे हैं?तो मैंने बोला- जहाँ आप सही समझो।उसने बोला- अब तेरी पहली डेट को कुछ स्पेशल तरीके से बनानी है.

अचानक नीचे ज़ोर का दर्द उठ आया है सो तकिया लगा कर दबा रही थी, पर दर्द जाता नहीं है। तू मेरा एक काम करेगा.

!उसने कहा- सिर्फ़ एक कप कॉफ़ी।फ़िर मैंने उसे कॉफ़ी बना कर दी। हम दोनों कॉफ़ी पीने लगे, मैं उसकी चूचियों को देख रहा था।फिर वो बोली- क्या तुम मुझसे कुछ कहना चाहते हो?मैंने शरमा कर ‘ना’ कह दिया। वो मेरी घबराहट समझ गई और मुझसे मेरे पढ़ाई के बारे में पूछने लगी।फ़िर उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्ल-फ्रेंड है क्या?मैंने कहा- हाँ. मैं नहीं करुंगी।मैंने कहा- फिर कब ऐसा मौका मिलेगा, तुम्हें तो मुझसे आधा ही करना है…असल में वो मोमबत्ती से चूचियों पर मोम टपकाने से डर गई. पर मैंने खुद को संभाल लिया… तभी झट से नीचे लेट कर फिर मोमबत्ती जला कर दो मिनट उसकी लपट बढ़ने तक इन्तजार किया.

मिश्रा का सेक्सी वीडियोसाजन ने कई-कई आह भरीं, और अपनी अखियाँ मूंद लईंमैं बेसुध थी मुझे पता नहीं, कब ज्वालामुखी था फूट गयाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. एक बार में एक अमेरिकन और एक फ्रेंच और बंता बैठे बैठे दारू पी रहे थे…तीनों ने अपनी अपनी पिछली रात के बारे में बताने का फैसला किया…अमेरिकन बोला- मैंने तो अपनी पत्नी की जैतून के तेल से मालिश की और उसके बाद मैंने उसके साथ सेक्स किया…और वो पूरे दस मिनट तक चीखती रही.

खाने वाला सेक्स वीडियो

मैंने एक ही ज़ोरदार धक्के में आधे से भी ज़्यादा लंड चाची की चुदी चुदाई, खेली खाई फ़ुद्दी में उतार दिया. शैलेश भैया- तेरा मन भीगने को किया या कुछ और वजह से भीग रहे थे…! नुसरत के लिए तो नहीं न भीग रहे थे?मैं- नहीं नहीं, मैं तो आपके लिये भीग रहा था।शैलेश भैया- क्यूँ गाण्ड मरवाना चाहता है क्या?वो फ़िर से गमछा पहने हुए थे, मगर इस बार उनका लंड पूरा टाईट था और गमछे के ऊपर से ही पूरा शेप पता चल रहा था।मैंने उनके गमछे के ऊपर से ही लंड छू कर कहा- इतना मोटा लंड…मुझे तो डर लगता है. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।अब फिर से मैं उसके ऊपर था… अपने लिंग को उसके योनिद्वार पर लगाए हुए ! एक बार मैंने उसकी आँखों में देखा.

तो आप बैठिए और आज मैं ही पूरी ड्राइविंग करूँगा और उसे एक आँख मार कर गाड़ी में बैठने लगा।तो गार्ड बोला- मैडम आप रिस्क क्यों ले रही हैं. इसलिए ऑफिस के वक्त में कटवाए !सन्ता- लेकिन तुम्हारे बाल तो उस वक्त भी बढ़ते हैं जब तुम घर पर रहते हो?इरफ़ान- जी सर. मेरा नाम आर्यन है। मैं कानपुर में रहता हूँ। यह मेरी काम-कथा है जो 2007 में घटित हुई, जब मैं अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा था।मैं एक रूम किराये पर लेकर रहता था। वहाँ पर और भी कई परिवार रहते थे लेकिन मैं मोनी नाम की एक लड़की को देख कर अपना कण्ट्रोल खो बैठता था।वो बहुत मस्त माल थी, लेकिन जब वो मुझे ‘भैया’ बोलती थी तो मुझे उस पर बहुत गुस्सा आता था, पर कर भी क्या सकता था.

!मैंने भी उसकी चूत के होंठ खोल कर अपना मुँह उसकी गुलाबी चूत से लगा दिया और तेजी के साथ चाटने लगा।जैसे ही मैं उसकी चूत चाटने लगा। वो अपनी गाण्ड उठा-उठा कर अपनी चूत को मेरे मुँह से सटाने लगी और कहने लगी, ‘ह्हह्हा ययययई ह्हह्ह्हहीईईई. सलोनी ने भी थोड़ा सा खिसक कर अपने चूतड़ों को हिलाकर लण्ड को सही जगह सेट कर लिया।अब मैंने अपना हाथ बढ़ा कर सीधे मधु की चादर में डाल दिया… मुझे पता था कि सलोनी आँखे खोले मेरे हाथ को ही देख रही है…मगर मैंने सब कुछ जान कर भी अपने हाथ को मधु की चादर में डाल दिया और हाथ मधु के नंगे पेट पर रखा…मधु की समीज उसके पेट से भी ऊपर चली गई थी. !रूपा- लंड… तुम्हारा कितना बड़ा है?मैं- तुम्हें कैसा साईज पसंद है?रूपा- सुना है 9”लम्बा और 3” मोटा हो.

!”अरे दीदी ने मुझसे पैकेट मंगवाया था, यह लीजिए।”और उसने अपने चोली से निकाल कर जीजाजी को सिगरेट पकड़ा दी।जीजाजी चाय पीते हुए बोले- अरे एक सुलगा कर दे ना !चमेली ने सिगरेट सुलगाई और एक कश लगा कर धुआँ जीजाजी के ऊपर उड़ाते हुए बोली- दीदी का मसाला लगा दूँ या सादा ही पिएगें. !राहुल- अरे यार अब तुझसे क्या छिपाऊँ, तू अध-नंगी की बात कर रहा है, मेरा बस चले तो उसको पूरी नंगी कर दूँ.

!दो मिनट अच्छे से चूसने के बाद आरोही ने लौड़ा मुँह से निकाल दिया और रेहान को कहा- अब बर्दाश्त नहीं होता.

मैं ट्यूब ले आता हूँ फिर तुझे मलहम लगा दूँगा।बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं. राजस्थान रंडी सेक्सी वीडियोहम स्कूल में हैं… भाभी की जॉब लग गई है… वो अंदर हैं…मैं- क्यों? तू बाहर क्यों है?मधु- अरे अंदर उनका इंटरव्यू चल रहा है… वो कुछ समझा रहे थे !मैं- ओह… मगर तू उसका ध्यान रख… देख वो क्या कर रही है?मधु- हाँ भइया… पर क्यों?मैं- तुझसे जो कहा, वो कर ना…मधु- पर वो अपने कोई पुराने दोस्त के साथ हैं. सेक्सी वीडियो मूवी परथोड़ी देर बाद सलमा का फिर से मन हो जाता है- सुनो जी जेल खुली है, कैदी को अंदर घुसाओ ना !इरफ़ान बेचारा हिम्मत करके फिर से चालू हो जाता है और पसीने से लथपथ होकर लेट जाता है. !अपने आप से बात करता हुआ रेहान अपने कपड़े उतार कर आरोही के पास लेट जाता है और उसके मम्मों को सहलाने लगता है दस मिनट तक वो उसके मम्मों को सहलाता रहा, तब कहीं आरोही की नींद खुली।आरोही- उहह ओह रेहान आपने मुझे उठाया क्यों नहीं.

डाल दो पूरा आराम से।साहिल ने पूरा लौड़ा चूत में घुसा दिया और धीरे-धीरे झटके मारने लगा। जूही भी आपने कूल्हे पीछे धकेल कर मज़ा लेने लगी।जूही- आ.

प्रेषक : विजयमेरा नाम विजय है। मैं अहमदाबाद में रहता हूँ, मैं एक सादा और सामान्य लड़का हूँ। मैं गोरा तो नहीं हूँ, लेकिन स्मार्ट लड़का हूँ, मेरी हाईट 5’9” फ़ुट है, और मेरा लन्ड 5. अंगों की क्षुधा बढ़ती ही गई, संग स्पंदन भी बढ़े सखीपल भर में ऐसी बारिश हुई, शीतल हो गई तपती धरतीसाजन के अंग ने मेरे अंग में, तृप्ति के बांध को तोड़ दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. ओह नो !!! ये तो शराब भी पीने लगी है!!!”फिर दरवाज़ा पूरा खोला तो सामने एक लड़का पप्पू बैठा दिखाई दिया…ओहो तो ये सब इस लड़के का है, और मैं ख्वामखाह अपनी बेटी पर शक कर रहा था… भगवान तेरा लाख-लाख शुक्र है… !!!”और इरफ़ान दरवाज़ा बंद करके वापिस चला आया!!!***इरफ़ान अपनी साली जीनत के लिए चूड़ियाँ लेकर आया.

अब रोड पर भी देख लूँगी।मैंने उसको एक आँख मारी और फिर मैं और वो चल दिए।माया ने अपार्टमेंट के गार्ड को चाभी दी और बोला- जाओ कार बाहर ले आओ. जो लपलपा रहा था और पूरी तरह से वीर्य से भरा हुआ था।तभी मुझे इशारे से पीछे जाने के लिए बोला और मैं फिर से अपनी पुरानी जगह वापिस चला गया।फिर उस रात एक बार और चुदाई हुई, इस बार तो दीदी दर्द से चीखने लगी. !रेहान- उबासी लेना बन्द करो, जाओ फ्रेश हो जाओ, उसके बाद इन रण्डियों को भीउठा देना, साली कैसे चूत खोले सो रही हैं।राहुल- हा हा हा अभी डाल दूँ क्या लौड़ा चूत में.

एक्स एक्स वीडियो भोजपुरी एचडी

मैं उसकी चूचियों को मसलता हुआ उसकी चूत में धक्के लगा रहा था…यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !और दरवाजे के बाहर खड़ी रोज़ी की दरवाजे पर की जा रही खट-खट. राहुल झट से मेरे कमरे से बाहर निकल गया। मैं उसके पीछे पीछे उसी हालत में ड्राइंग रूम तक आई और घर का दरवाज़ा अन्दर से बंद किया और बाथरूम में जाकर बाथटब में जाकर पानी में जो लेटी और बीते हुए आनन्ददायक पलों को याद करते करते कब शाम हो गई कुछ पता ही ना चला।मेरी गांड की खुजली मिट चुकी थी, राहुल ने अपना वादा निभाया और अब अक्सर मेरी इच्छानुसार आकर मेरी गांड और चूत की खुजली मिटाता रहता है।. चोद साले मेरी चूत…!सेठ ने मेरी बात सुन कर मस्त होकर चोदने की रफ्तार बढ़ा दी और बोलने लगा- ले साली… रंडी खा… मेरा लौड़ा… अपनी चूत में.

मुझे अचानक से वो सब बातें याद आ गई जो दीदी ने चाची को बोली थी-ज़्यादा बकवास मत करो चाची, वरना अगर तुम्हारे बारे में घर में बता दिया तो तुम घर से निकाल दी जाओगी.

!”मैं रुका और और उसकी चूचियों पर लगे गुलाबी निप्पलों को अपनी जीभ से खींचने लगा उधर शब्बो भी लगातार नीलू के सर को सहला रही थी, लगभग एक मिनट तक मैं शान्त पड़ा रहा फिर थोड़ा लंड को उसकी चूत में ही हल्के से हिलाया उसकी ऊँ.

कभी कभी हम दिन भर में 6-7 बार सेक्स कर लेते थे और जब मेरी छुट्टी होती है तब वो अपने सारे फ्रेंड को घर पर बुला लेता है और फिर हम बहुत मजा करते हैं. लेखक : इमरानमैंने जाकर मुख्य दरवाजा खोला, सामने हनी खड़ी थी फिरोजी स्कर्ट और बेबी पिंक टॉप में ! कसे टॉप में उसके उभार बाहर छलक पड़ने को हो रहे थे. भाई बहन की सेक्सी कहानी सुनाएंअभी तक कूल्हा लाल है… फिर तूने उस दुकानदार लड़के से… शैतान कितनी देर तक मेरे सभी अंगों को छूता रहा… उसने तो मेरी चूत को सहलाया था……देख़ा था ना तूने…पारस- …हाँ भाभी… सच बताओ… मजा आया था ना…सलोनी- अगर अच्छा नहीं लगता.

मगर हालत तो उसकी भी खराब हो गई थी।दीपाली एकदम नंगी हो गई थी और जब वो पलटी तो उसके तने हुए चूचे उसकी कसी हुई गुलाबी चूत की फाँकें देख कर तीनों मद-मस्त हो गए।दीपाली- हा हा हा. तुम मेरा मतलब समझ रहे हो न?राहुल कुछ बोलता, इससे पहले आरोही बोल पड़ी- रेहान जी डांस मुझे बहुत अच्छा आता है, रही बात एक्टिंग की, आप अभी आजमा लो और जो आप कह रहे हो न. ‘हाय’ करो…!जूही बड़ी नजाकत से साहिल के पास जाकर हाथ आगे बढ़ा कर उसको ‘हैलो’ कहती है। साहिल भी उसका हाथ पकड़ कर चूम लेता है।जूही- इन दोनों को मैं जानती हूँ, ये यहाँ क्या कर रहे हैं?रेहान- व वो दरअसल ये अन्ना के आदमी हैं फिल्म में इनका भी काम है, इसलिए यहाँ आए हैं।जूही- ओह्ह वाउ.

।रूपा- मेरी चूत में जाएगा या नहीं…! सुना है बहुत दर्द होता है?मैं- दर्द में ही तो मजा है… क्यों दर्द बर्दाश्त नहीं कर सकती हो?रूपा- जान तुम्हारे लिए तो मैं कुछ भी सह सकती हूँ।मैं- अपने नीचे वाली में ऊँगली करो न. जुबान अंदर घुसाने की कोशिश, अब उसकी योनि का छेद थोड़ा और खुल गया और मुझे जुबान का अगला हिस्सा अंदर घुसाने में आसानी हुई.

रेहान आह… कुछ करो न… मेरा जिस्म गर्म हो रहा है…!रेहान पागलों की तरह आरोही पर टूट पड़ा उसके निप्पलों को चूसने लगा और मम्मों को दबाने लगा।आरोही-.

इसको पता लग गया कि आज ये मेरी कसी हुई गाण्ड में जाएगा।दीपक- हाँ मेरी जान ये सब महसूस करता है पहले तुझे अच्छे से चूमूँगा. चल जल्दी से लगा दे… आज दीपाली को ये भी सिखा देते हैं कि कभी दो से चुदना हो तो कैसे चुदना चाहिए।दीपाली- दो से चुदने का क्या मतलब है दीदी?अनुजा- अभी देख लेना यार।अनुजा ने एक सेक्सी डीवीडी लगा दी।तीनों पास बैठ कर देखने लगे. सखी मैं साजन से रूठी थी, और साजन मुझे मनाता थामैं और दूर हट जाती थी, वह जितने कदम बढ़ाता थासाजन के हाथों को मैंने, अपने बदन से परे हटाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

डॉक्टर की एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो पर मेरा विरोध देख कर उसने प्यार भरी नज़रों से देखते हुए बोली- राहुल बस इत्ती सी बात पर नाराज़ हो गए… तुम्हारे लिए तो मेरी जान भी हाज़िर है. और मैं बच्चा हूँ या मर्द, ये तो बाद में पता चलेगा।वो हँसने लगीं, तो मैंने उनका हाथ पकड़ कर कहा- चलो दीदी शर्त लगाते हैं… देखते हैं कौन जीतता है.

!और मैं ‘आआहह’ की आवाज़ के साथ झड़ गया। और हाँफने लगा, थोड़ी देर तक हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे।वो कहने लगी, राहुल मुझे आज तक ऐसा मज़ा मेरे पति ने नहीं दिया. तो हाथ भी नहीं लगाने देती उसको… हा…हा… उस सबको सोचकर अभी भी रोमांच आ रहा है…पारस- ओके भाभी… ठीक है… चलो उतरो. तभी सलोनी बोली- सुनो, आप कपड़े बदल लो… मैं दूध गर्म कर देती हूँ…मैं- हाँ मेरी जान, कितने दिन पारस के कारण हम कुछ नहीं कर पाये.

गुजराती आंटी का सेक्सी वीडियो

!मैंने कहा- हाँ भाभी रात में बहुत नींद आ रही थी, इसलिए ये चुदाई अधूरी रह गई पर अब उसे पूरा करने का टाइम आ गया है।तो भाभी ने कुछ नहीं कहा और हल्का सा थूक लिया और मेरे लंड और अपनी चूत पर लगाया। भाभी अभी भी रात के नशे में थीं। उन्होंने कहा- अर्पित हो जाओ शुरू. मैं- बस जय, अब मुझे जाने दो, बहुत देर हो गई है, घर पर पापा इंतज़ार कर रहे होंगे, रात को समराला से बस लेनी है जालंधर के लिए!जय- नहीं यार, रात भर आज रुक जाओ, कोई बहाना बना दो. !फ़िर उसने अपना नाम ‘आनन्द’ बताया।फ़िर उसने मेरे नंगे बदन पर हाथ फिराते हुए मेरी चूत में अपनी एक उंगली घुसा दी। मेरे मुँह से सिर्फ़ ‘आहह’ की आवाज़ निकली।वो बोला- तेरी चूत तो एकदम गीली है, लगता है मुँह में जो पानी डाला था वो तेरी चूत से निकल रहा है ! ज़रा बेड पर बैठ कर अपनी टाँगें तो फ़ैला.

मैं 8 बजे तक आ जाऊँगा।राहुल- ओके ब्रो… चलो मैं बाहर तक तुम्हारे साथ चलता हूँ।आरोही- भाई इनको छोड़ कर मेरे रूम में आ जाना।राहुल और रेहान बाहर आ गए।राहुल- वाउ यार. !जूही- साहिल मुझे अन्ना के बारे में कुछ बताना है।साहिल- बाद में बता देना, अभी चलो यहाँ से वरना रेहान पता नहीं क्या सोचेगा।दोनों नीचे आ जाते हैं। तब तक संजू और सचिन भी आ चुके थे, सचिन वहीं रेहान के पास खड़ा था और संजू अन्दर रूम में दारू पीने चला गया।रेहान- आओ हीरो, आओ दिमाग़ ठीक हुआ क्या इसका.

! बिल्कुल चिकनी चूत मेरी आँखों के सामने थी। मुझे ये सपना सा लग रहा था। बुआ ने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पर रखा। वो गीली और गर्म थी।बुआ ने पूछा- कैसा लग रहा है?बहुत अच्छा।”और मज़ा लेना चाहते हो?”वो कैसे बुआ?”ये जो तुम्हारा है न.

उन सबके ड्रेस भी ऐसे चोदू एक्सपोजिंग थे कि थोड़े से झुकने से ही उनके उरोजों के बीच की घाटी पूरी दिखने लगती थी. !अन्ना आपने आदमी लेकर वहाँ से चला जाता है। साहिल और सचिन बस जूही को देख रहे थे और रेहान कुछ सोच रहा था। आरोही अब भी वहीं खड़ी थी। रेहान सीधा उस रूम में जाता है जहाँ वो तीनों थे।राहुल- रेहान ये सब क्या है? इन लोगों ने मुझे सब बता दिया है तुम बदला लेने के लिए इतना गिर जाओगे. मैं पागल हूँ, जो बार-बार भूल जाती हूँ कि आप मुझे सिखा रहे हो।रेहान- ओके, अब बस फील करो कि तुम अपने बॉय-फ्रेंड के साथ मस्ती कर रही हो और यार तुम भी थोड़ा कुछ करो.

तभी 15 मिनट में लगभग एक साथ ही हम दोनों मर्द खलास हो गए और अपना माल आधे आधे ज़ेनी और माधुरी के चेहरे और वक्ष पर गिरा दिया. !राहुल ने घड़ी की तरफ देखा, सुबह 7 बज रहे थे, वो जल्दी से बाथरूम गया और शॉवर ऑन करके खड़ा हो गया।15 मिनट में फ्रेश होकर, वो तौलिया बाँध कर आरोही के कमरे के पास आया, वो बन्द था, तो राहुल ने आरोही को आवाज़ लगाई, तब उसकी आँख खुली।राहुल- आरोही, जल्दी उठो 7. ‘किसना, मुझे तुम्हारा ये केला बहुत अच्छा लगा, मेरी जिंदगी में भी मैंने ऐसा बड़ा लंड देखा नहीं है !’ ऐसा कहके उसने मेरे लंड की पप्पी ले ली !तो मैंने उसे अपनी ओर खींच लिया और उसके चुंबन लेने लगा, जुबैदा मेरे लंड को हाथ में लिये सहला रही थी.

मैंने अपने लौड़े को और जोर से खुजाते हुए कहा- अरे मुझसे कैसा डर? मैंने कोई गैर हूँ क्या?वो एकटक मेरे लौड़े की देखने लगी.

यूपी के बीएफ सेक्सी वीडियो: !मैंने चूत की दोनों पंखुरियों को अपने उंगली से खोला तो देखा चूत अन्दर से गुलाबी थी, छोटा सा छेद था, ऊपर एक मूँगफली के दाने की तरह एक दाना था।मैं अपनी जीभ से उसे चाटने लगा। दस मिनट बाद चूत चाट-चाट कर बिल्कुल गीली हो चुकी थी और मैं भी बहुत गरम हो चुका था। मैंने अपनी चड्डी उतारी और अपना 6. हाथों से दबाकर अगल-बगल, दोनों स्तन सखी मिला लियाएक गलियारा उभरा उसमें, होंठों से घुसने का यत्न कियाउन्मुक्त स्तनों को हिलोरें दे, मुख पर साजन ने रगड़ लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

बस हो गई ख़ुशी… अब तो दो ना !मैं- जी नहीं, यह तो अब मेरा गिफ्ट है… इसको मैं अपने पास ही रखूँगा…रोज़ी चुपचाप पैर पटकते हुए बाथरूम और फिर केबिन से भी बाहर चली गई… पता नहीं नाराज होकर या…फिर मैं कुछ काम में व्यस्त हो गया।शाम को फोन चेक किया तो तीन मिसकॉल सलोनी की थीं…मैंने सलोनी को कॉल बैक किया…सलोनी- अरे कहाँ थे आप… मैं कितना कॉल कर रही थी आपको…मैं- क्या हुआ?सलोनी- सुनो… मेरी जॉब लग गई है. !अन्ना पास आकर आरोही के पीछे खड़ा हो जाता है और अपना लौड़ा उसकी गाण्ड पर सटा कर उसकी गर्दन पर होंठ रख देता है।अन्ना- अब बेबी हम क्या बोलेगा जी तुम समझती ना हमको क्या होना जी. 30 बजे थे, उसने अपनी छोटी लड़की को अपने साथ में लिया जो एक साल की थी और उसका बैग मैंने पकड़ लिया।मैं बोला- तेरा बड़ा लड़का नहीं आ रहा क्या?तो वो बोली- उसका स्कूल है, वो अपने दादी के पास ही रहेगा।हम लोग 8 बजे बस-स्टैंड पहुँचे और 8.

वो इतनी गर्म हो चुकी थी कि उसका पानी जाँघों पर भी आ गया था।तभी नीलम बोली- चाट मेरे राजा!और मैं जैसे चाबी भरे खिलौने की तरह उसकी टांगों के बीच में ठीक चूत के ऊपर पहुँच गया।एक बार को तो मुझे बहुत घिन आई, पर भाभी की चूत की मादक खुशबू ने मुझे पागल कर दिया.

मैंने उसके भाई से दोस्ती कर ली और एक दिन मैं उसके साथ उसके घर गया तब पता चला कि उसका नाम पूजा है और वो मुझसे चार साल बड़ी है और उसने मास्टर ऑफ़ कंप्यूटर किया हुआ है. यहाँ बैठो, मैं अभी दिखाती हूँ आपको !आरोही बैग से अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गई और कपड़े पहन कर बाहर आई।आरोही- यह देखो, कैसी लग रही हूँ भाई, मैं?राहुल- अच्छी लग रही हो, अब दूसरा ड्रेस भी पहन कर दिखाओ।आरोही- भाई मैंने एक ही ड्रेस लिया है, दूसरा जूही का है. अब समझा बुद्धू … कहा था न … आराम से चोद, निकल गया न दो मिनट में ही!इस तरह से मुझे मेरी पड़ोसन भाभी ने चोदना सिखाया.