बुर वाली बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ पिक्चर बढ़िया में

तस्वीर का शीर्षक ,

कक्षा 11 हिंदी आरोह: बुर वाली बीएफ, पहले तो चुदाई की रफ्तार स्लो थी … फिर मैंने जो तूफान मेल की स्पीड पकड़ी, तो उसकी चीखें कमरे को गुंजायमान करने लगीं.

हॉलीवुड हिंदी बीएफ

बस अब उसने मेरी ओर झुकते हुए मेरे होंठों पर अपने होंठ जमाए और लंड को चूत के अन्दर ठेल दिया. सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ दिखाओमेरा हाथ कब मेरी मैक्सी के बटन खोल कर मेरी चूत को रगड़ने लगा मुझे इसकी भनक भी नहीं लग पाई.

हुआ यूं कि मेरी कहानी पढ़ कर मुझे राजस्थान से एक 24 साल के जवान लड़के अजय का ईमेल आया. हिंदी बीएफ फुल सेक्सी फिल्मफिर मैंने उसके सख्त हो चुके गुलाबी निप्पलों को मसलना शुरू किया और उसका हाथ अपने लंड पर ले गया, जो कि सख्त हो कर एफिल टावर की तरह खड़ा था.

कोई दस मिनट बाद सनी ने मेरी गांड में से अपना लंड खींचा और अल्पना को अपनी भुजाओं में उठा कर उसे कुतिया बना दिया.बुर वाली बीएफ: पड़ोसन आंटी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी पड़ोसन को एक लड़के के साथ सेक्स करते देखा.

मैं पीछे से उनके कातिलाना मम्मों को अच्छी तरह से मसल रहा था … जिसमें मुझे बहुत उत्तेजना आ रही थी.साड़ी ऊपर को हुई, तो मैंने अपने हाथों को साड़ी में अन्दर डाल दिया औऱ सहलाते हुये उसकी पैंटी पर आ गया.

बीएफ डाउनलोडिंग एचडी - बुर वाली बीएफ

फिर भाभी बोली- चलो हम चारों मिल कर एक गेम खेलते हैं, गेम के रूल मैं बता देती हूं.इधर हम दोनों, मैं और अल्पना लाइव चुदाई शो देखकर दोनों एक दूसरे की उंगली करके पानी छोड़ चुके थे.

उसकी तरफ से विरोध न होने पर मेरी हिम्मत थोड़ी और बढ़ गई और न जाने कब मेरे होंठ उसके होंठों पर पहुंच गए, इसका पता ही नहीं चला. बुर वाली बीएफ उन चारों में एक लड़का और एक लड़की अपने घर निकल जाते थे और बाकी की दो लड़कियां अलग-अलग पीजी में रह रही थीं.

एक रात वो अपनी मॉम के चूत को चाटने के बाद लंड डाल रहा था, तो शिखा आंटी ने अमित को एक थप्पड़ मार दिया.

बुर वाली बीएफ?

फिर मैंने सोचा कि यहां खड़े होकर बोर होने से अच्छा है कि दुकान में जाकर कुछ टाईम पास कर लूं. जितनी तेजी से आकाश का लंड मेरी सास के मुंह में अंदर बाहर हो रहा था, उतनी ही तेजी से मेरी उंगली मेरी चूत में अंदर बाहर हो रही थी. मैं अच्छी तरह से जानता था कि मैं क्या कर रहा हूं और ऐश्वर्या भी अच्छी तरह से जानती थीं कि जल्द ही वो नग्न अवस्था में बेड पर लेटी होंगी.

सोनम उस दोस्त की बात सुनकर चुप रह गई और मैंने उससे सॉरी कह कर उसका साथ छोड़ दिया. आगे से भी और पीछे से भी।रूपा की बातें सुनने के बाद मैं रात को काफी देर तक जागती रही. चूत पर हाथ से सहलाते ही वो तड़प उठी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी और मेरे होंठों को काटने लगी।मैंने अंजलि का हाथ पकड़कर अपनी पैंट के ऊपर रख दिया.

फिर मैंने फिर एक बार जाल फेंका और बोल दिया- तू बोल तो … सनी के इसी कड़क लंड से तेरी चूत चुदवा दूँ … वैसे भी तू विवेक के लंड से बोर हो गई है. दोस्तो, पिछले भागएक्स-गर्लफ्रेंड के साथ दोबारा सेक्स सम्बन्ध- 2में आपने पढ़ा कि प्रिया ने कैसे अपने बॉयफ्रेंड से अपनी चूत चुदवाई. मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा। उसकी चूत से लगातार कामरस बह रहा था.

मैं पागल हो गया। उसने मेरी टीशर्ट उतार दी और दोनों निप्पलों को जोर जोर से मसलने लगा।दोस्तो, मैं आपको बता दूं कि कोई मर्द जब मेरे निप्पलों को छेड़ता था तो मैं बेकाबू हो जाता था. मैं उसे मनाने की कोशिश करती हूं … कहीं मान जाएगी … तो तुम्हारे नीचे जरूर आ जाएगी.

इसके बाद मैंने भाबी को बेड पर चित लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उनके होंठों से होंठ लगाते हुए उन्हें किस करने लगा.

हम दोनों को समझ आ रहा था कि जवानी चुदने चोदने के लिए मचल रही है … मगर दोनों में से कोई भी आगे बढ़ने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे.

आते ही सुभाष से बोला- क्या मस्त चीज है सुभाष भाई, चुत और गांड बराबर है बिल्कुल. मैंने उसे कस कर अपनी बांहों में भींच लिया और उसको जोर जोर से चूसने लगा. आशू के पिता के पास धन और ज्ञान की कमी नहीं थी लेकिन बेटे के पास दिमाग की बहुत कमी थी.

थोड़ी देर में शैली की चूत ने पानी छोड़ दिया तो वो निढाल होकर मेरे ऊपर लेट गई. लेकिन चुत देखने से नहीं लगा कि ऐश्वर्या इतने सालों से दो लंड से चुदवाती आई हैं. इधर हम दोनों, मैं और अल्पना लाइव चुदाई शो देखकर दोनों एक दूसरे की उंगली करके पानी छोड़ चुके थे.

उसको उस दिन मैंने उसे नंबर दे दिया और उस दिन से हम दोनों के बीच फोन पर बात होने लगी.

उसने मेरी टी-शर्ट को खींच कर फाड़ दिया और मेरे सीने में किस करने लगी. मैं खुद अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए अपनी चुत को जोर जोर से भाई के लंड पर घिसती गयी. वह सीत्कार भरते हुए बोली- प्लीज काटना मत … निशान पड़ जाएंगे, बेकार की मुश्किल होगी.

फिर जेठानी जी रवि को सोफे पर ले जाकर बोलीं- मेरे देवर जी, चलो आज आपको मैं आसमान की सैर कराती हूँ … तुम बस चुपचाप मज़े लो. अपनी सारी ख्वाहिशें पूरी कर ले आज।फिर क्या था … मैं सर और मैडम के बेडरूम की ओर चल पड़ी. क्योंकि जिस तरह से समीर ने दीपक जीजा जी की गांड मारी थी … और अब वो रवि की गांड मार रहा था.

मैंने दीदी के मम्मों को दबाना शुरू कर दिया और वो मेरे लंड को पेन्ट के ऊपर से ही सहलाने लगीं.

तो मैंने आगे को गांड करते हुए उसका हाथ हटा दिया और बस के गेट की तरफ बढ़ने लगी. उधर उसने मेरे लिए एक स्वेटर खरीदा और मेरे सीने से स्वेटर लगा आकर नाप चैक करने लगी.

बुर वाली बीएफ मगर ऐसा नहीं हुआ … मेरी चुत से लंड की रगड़ से कुछ ही देर बाद उनके लंड से कुछ सफेद सा रस निकल गया. मुझे सुनने में आया कि आस-पास के लोग मेरी बेटी को लेकर कुछ उल्टी सीधी बातें भी बनाने लगे थे.

बुर वाली बीएफ मैं उसके होंठों को अपने मुंह में लेकर चूस रहा था। उसके होंठ इतने मुलायम थे कि बस पूछो मत।उसके होंठों को मैं लगातार चूसे जा रहा था। अपने हाथों से मैं उसके बालों को भी सहलाये जा रहा था। मैं उसकी जीभ अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। लगभग 20 मिनट तक ऐसे ही चूसने के बाद अपने एक हाथ से मैं उसके स्तनों को उसके सूट के ऊपर से ही दबाने लगा. जब राज मेरी चूत के बालों की सफाई का काम पूरा कर चुका, तो उसने मेरे चूत को मेरी हथेली से छुआया और फर्क महसूस करने को कहा.

एक बार फिर से मैंने अन्दर झांका, तो उसकी अम्मी बेसुध होकर सो रही थी.

पाकिस्तान हिंदी बीएफ

उस दिन जेठ जी मुझसे बोले- रानी हम दोनों भाई में ये वादा था कि सुहागरात एक साथ मनाएंगे. मैं कई सालों से अन्तर्वासना पर सेक्स कहानियां पढ़ रही हूं और उसी के हिसाब से मैं अपनी पहली कहानी लिख रही हूं। दोस्तो, मैं आगे भी कई कहानियां लिखूंगी जिनमें बताऊंगी कि मेरी जिन्दगी में कब और कितने मर्द आये और किन किन से मैंने चुदवायी है. एक ओर तो मैं उसके बूब्स को दबा रहा था और दूसरी ओर उसका हाथ मेरे लंड को सहला रहा था.

करीब दो मिनट बाद मेरी दो उंगलियां बड़ी आसानी से देवर की गांड में अन्दर बाहर हो रही थीं. मैं समझ गया और भाभी की चूत ऐसे चाटने लगा, जैसे कुत्ता जीभ से पानी पीता है. आपकी पीहू गुप्ता[emailprotected]बॉयफ्रेंड एंड गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी का अगला भाग:सहेली के बॉयफ्रेंड संग सेक्स पार्टी.

भाभी ने बोला- आज घर पर कोई नहीं है … और तुम एक घंटे बाद आज ही आ जाओ.

वो आज भी मुझे उस दिन की चुदाई के लिए याद करती है मगर मुझे उसके पास जाने का समय नहीं मिल रहा है. एक दिन की बात है कि मां गर्मी का समय था और दोपहर में पापा आराम करने घर आए थे. मैंने उसे खुश करने के लिए उसकी गान्ड चाटना शुरू किया। इस पॉजिशन में मैं उसकी गांड को सही से नहीं चाट पा रहा था.

मैं जितना उठने का कोशिश करती, वो उतना जोर से मेरे चुचों को कस कर पकड़ लेते और नीचे से जोरदार धक्का लगा देते. ये कहते हुए माया दीदी मेरे भाई के लंड पर चुत फंसा कर बैठ गईं लंड की सवारी करते हुए ‘आह … आह. कुल मिला कर हम दोनों मियां-बीवी सेक्स चैट करते समय पूरे हब्शी हो जाते थे.

वो तो लगभग 30 साल का पूरा आदमी लग रहा था। अब तो मेरा डर और भी ज्यादा बढ़ गया कि ये तो मुझसे बड़ा लड़का है. इस बार झटका कुछ जोरदार लगा था, तो मेरी मां की तो समझो जान ही निकल गयी.

जिया मेम- तुमने कंपनी के लिए इतना कुछ किया है अब हमें भी तुम्हारे लिए कुछ तो करना पड़ेगा. जैसे ही मैं गिलास उठाने के लिए हाथ बढ़ाती, चारों मेरे भरे हुए स्तनों को एकटक घूरने लगते और जब मैं गिलास रख कर जैसे ही अपने स्तनों को ढक लेती, वो लोग अपने बातों में मशगूल हो जाते. अब वो कौन थी? और उससे मैं कैसे मिला? और फिर हमारे बीच क्या हुआ? ये सेक्स कहानी फिर कभी लिखूंगा.

कुछ देर बाद जो लौंडा मेरी बहन की चुत में लंड डाले हुए था … वो तेजी से रानी को चोदने लगा.

तभी चम्पा ने पीछे से आकर सुंदर के गालों पर अपने हाथ रख दिए और सुंदर के गालों को अपने लाल रंग से रंगे हाथों से रंगने लगी. जब मेरी मां ने उन दोनों से कहा कि मेरी मां को मालूम पड़ेगा कि मैं क्यों सही से नहीं चल पा रही हूँ, तो क्या होगा?वे बोले- तेरी मां इस समय घर पर होगी ही नहीं. शायद प्रिया की ही थी क्योंकि उसकी मां की चूचियों का साइज तो प्रिया से काफी बड़ा था.

कॉलेज के प्रोजेक्ट तैयारी पूरी हो चुकी थी … सब फ़्री हो चुके थे, जिसके कारण सोना कुछ दिनों के लिए अपने घर चली गई … क्योंकि वह बहुत दिन से अपने घर नहीं गई थी. मगर उसके शरीर में नशा भरा हुआ था, इसलिए वो बॉडी से ज्यादा कुछ नहीं कर पा रही थी.

मैं अहमदाबाद में किराए पर रह रहा था और मेरे रूम के ठीक सामने एक सेक्सी भाबी रहती थीं. मैंने कहा- किनको? हाथ से बताओ न!उसने मेरी आंखों में आंखें डालीं और बोली- हाथ की जगह मैं सीधे मुँह से पूछ लेती हूँ कि तुम मेरे बूब्स को ऐसे क्यों देख रहे हो?मुझे उसकी आंखों में वासना दिखाई दी और मैंने साफ़ साफ़ कह दिया- यार तेरे बूब्स सच में बहुत मस्त हैं. वो भाभी के सामने हाथ जोड़ते हुए बोली- सॉरी भाभी, किसी से कहना मत, आज बहुत मन कर रहा था इसलिए मैंने साधना को अपने घर बुला लिया था.

छोटे-छोटे बच्चन की बीएफ

ये अलग बात थी कि मैं जुबैदा की जगह उसकी लौंडिया सलमा जो बीस साल की थी, को लाइन मारता था.

शुक्र ये रहा कि इस बात के बारे में कम्पनी वाले बाकी लोगों को कुछ पता नहीं चला. दोस्तो, मैं अंकित आज आप लोगों को ये बताऊंगा कि मेरी मां कैसे एक सीधी साधी लड़की से एक चुदक्कड़ औरत बन गईं. मेरी गुदा पीछे दीवार पर सटी थी और मैं उस मर्द की जीभ को अपनी योनि में बर्दाश्त करने की कोशिश कर रही थी.

मैं सोच रही थी कि आज यदि भाई मेरी चुत में लंड पेलेंगे, तो मैं लंड अन्दर ले ही लूंगी. ये अलग बात थी कि मैं जुबैदा की जगह उसकी लौंडिया सलमा जो बीस साल की थी, को लाइन मारता था. सेक्स भाभी की बीएफमेरा विरोध अब आहों में बदल गया था।मोहित को अब मैंने छूट दे दी थी और उसने दोनों दूधों को ब्रा से बाहर निकाल लिया और बारी बारी से चूसने लगा और दबाने लगा। उसके इस प्रकार चूसने से मेरी चूत भी पानी निकालने लगी।मैं आँखें बंद किये हुए उसके चुम्बनों का मजा ले रही थी कि तभी उसने मेरी सलवार का नाड़ा खींच दिया.

ना चाहते हुए भी मेरे पैर अपने आप खुलने लगे और मैं पैर खोल कर खड़ी हो गई. उसने भी मेरे पूरे कपड़े निकाल दिए और वो कामातुर होकर मेरे पूरे शरीर पर चुंबन करने लगी.

देखने में जवान ही लग रही थी लेकिन बाद में ध्यान गया कि उसकी मांग में सिंदूर भी है. मेम मेरे होंठों को चूसने में लगी हुई थी और मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था. मेरा हाथ कब मेरी मैक्सी के बटन खोल कर मेरी चूत को रगड़ने लगा मुझे इसकी भनक भी नहीं लग पाई.

एक हॉल में और दूसरा किचन में, उसके अलावा बाकी पूरे घर में अंधेरा था. दोस्तो, मैं आपको बताना चाहता हूँ कि मैं पैंट, जीन्स या बरमूडा के अंदर कुछ भी नहीं पहनता हूँ. एक चुनरी डाल कर उसने अपने तने हुए मम्मों को न ढकने जैसा प्रयास किया था.

मैंने धीरे से मुकेश के सर को अपनी चूचियों पर दबाते हुए सहलाया, तो वो समझ गया कि मैं चुदाई का मजा लेने लगी हूँ.

पति ने पूछा- तुम क्या कर रही हो?वो मुझे देखकर स्माइल करते हुए बोलीं- अभी तो बनाना आइसक्रीम खा रही हूं. फिर मैंने उसकी कमर पर हाथ फेरा और उसकी पैंटी की इलास्टिक में उंगलियों को फंसाते हुए उसकी पैंटी भी उतार दी.

[emailprotected]अनतरवासना गरम चूत की कहानी का अगला भाग:दो आंटियों को चुदाई और औलाद का सुख दिया-3. एक बार प्राची से मुलाक़ात जो हुई, तो उसकी निगाहों ने मुझे घायल कर दिया था. चूंकि अब कंपनी को ये डील मिल गयी थी तो सर का वादा निभाने का टाइम भी आ गया था.

शेखर पर चिल्लाते हुए सास बोली- भोसड़ी के चोद दे मुझे अब, मेरी जान निकालेगा क्या मादरचोद? इतनी देर से तड़पा रहा है, जल्दी फाड़ मेरी चूत को, और नहीं रुक सकती मैं अब।शेखर भी जोश में आ गया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:होली पर मेरी ससुराल में घमासान सेक्स- 2. यूं कि मैं एक तवायफ हूँ, पर मेरे दिल में सच्चा प्यार है और उस पवित्र प्यार से मैं प्राची को भगवान मान कर उसकी पूजा करता हूँ.

बुर वाली बीएफ उसके चेहरे की चमक देख कर साफ पता चल रहा था कि वो मेरी खूबसूरती से कितना प्रभावित हुआ है. किसी एक की बारी छिप हुए बाकी को ढूँढने की आती थी और बाकी सब लोग छुप जाते थे.

इंग्लिश बीएफ एचडी व्हिडीओ

फिर भी जब आस-पास कोई नहीं होता, तो मौका देख कर मैं उनकी चूचियों और गांड को जरूर मसल देता था. उसने तीन बार मेरी चूत में अपना माल छोड़ा और कहने लगा कि उसको मेरे से एक बच्चा चाहिए क्योंकि उसको वाइफ को बच्चा नहीं हो रहा था. मैं मामी की चुदाई का पूरा मजा लेना चाहता था लेकिन मामी को कुछ ज्यादा जल्दी थी.

मीना ने हम दोनों से कहा- मैंने सब कुछ देख भी लिया और सुन भी लिया है. दिल्ली सेक्स कहानी में पढ़ें कि फेसबुक में एक लड़की से बात की तो झगड़ा हो गया लेकिन फिर दोस्ती भी हो गयी. हिंदी बीएफ मूवी हिंदी आवाज मेंतो दोस्तो, उस शादी में लंड का मजा लेने के बाद जब मैं घर आई तो मैंने देखा कि उस अपरिचित आदमी के लंड से गांड मरवाने से मेरी गांड लाल हो चुकी थी.

मैं- आपके पति ने कभी आपको ब्लो जॉब के लिए नहीं बोला!ऐश्वर्या- कई बार बोला है, लेकिन मैं मना कर देती हूँ … क्योंकि मुझे वो सब पसंद नहीं है.

मैंने पूछा- क्यों किसी ने तुझे घास नहीं डाली क्या?वो तुनक कर बोली- तू अपनी नजरों से पूछ ले न कि मैं घास डालने लायक लगती हूँ या नहीं!मैं बोला- तू घास डालने लायक तो क्या … सब कुछ डालने लायक लगती है. फिर मैं सोचने लगा कि यार अगर दीदी को बुरा लगा होता, तो वो मुझे उठकर थप्पड़ मार देतीं.

इधर से मैं नताशा को अपनी कल्पना की नायिका बनाना शुरू कर रहा हूँ और अब मैं नताशा जी को ऐश्वर्या कह कर सम्बोधित करूंगा. मैंने जल्दी से घर के खिड़की दरवाजे बंद किये और घर को लॉक करके अंकल के यहां चली गयी. मैंने एक कपड़े से अपनी चूत साफ की और लैगी पहनकर जाने को रेडी हो गई.

अब मैं ऐश्वर्या के शब्दों में ही इस सेक्स कहानी की फैंटेसी को लिख रहा हूँ … आप सब मजा लीजिए.

उसके बाद वो थोड़ा सा रुका और उसने फिर धीरे धीरे पूरा लंड मेरी गांड में उतार दिया. मैंने तब तक किसी से सेक्स नहीं किया था तो बहन की चुतकी कोशिश करने लगा. मैं काउंटर पर आई तो मैनेजर ने मुझे 3000 रूपये दिये और मैं होटल से बाहर आ गई.

बीएफ फिल्म 16 सालवो मेरी चूचियों से खेलता रहा और पांच मिनट बाद उसका लंड फिर से खड़ा होने लगा. ताकि मैं अजय के साथ मेरी अगली चुदाई की कहानी जल्द ही लिख कर आपके सामने पेश कर सकूँ।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected].

हिंदी देहाती बीएफ वीडियो एचडी

’उसके मुँह से इस तरह की भाषा सुनी, तो मैं भी गरमा गया और उसे दबा कर चोदने लगा- ले साली रांड … मादरचोदी … कुतिया … लंडखोर रंडी … ले लंड खा. वह और ज्यादा गर्म होने लगी। लगभग 5 मिनट तक उसकी चूचियों को दबा कर मैंने उनको लाल कर दिया. अनीता- देर मत करो जान … मैं बहुत प्यासी हूँ … पहले एक बार मेरी प्यास बुझा दो.

मैं उसको देख कर स्माइल कर देता था और बदले में वो भी मुझे देख कर स्माइल कर दिया करती थी. अंतर्वास्सना हिंदी कहानी में पढ़ें कि आखिरकार वो पल अब आ गया था जिसका मेरी बीवी और मेरा भाई दोनों को इंतजार था. वो अभी भी अपनी ड्रेस में थी और उनकी चुत के पास डिल्डो भी बंधा हुआ था.

ऐश्वर्या ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि वो कभी अपने ससुर से भी चुदेंगी. जब वो तौलिया लेपट कर बाहर आयी तो मैंने एक बार फिर से उसकी चूत मारी. अमित ने उनसे कहा- आप मेरे दोस्तों के लंड से चुद लेती हो, तो मेरे लंड में कौन से कांटे लगे हैं?मगर उसकी मॉम ने मना कर दिया.

रोज रोज ऑफिस में चुदाई नहीं हो सकती थी इसलिए कई बार हमें होटल भी जाना पड़ा. उसके बाद भी मेरे साथ इस दौरान काफी कुछ हुआ लेकिन वो अभी नहीं बता रही हूं.

मैं उसको बहुत जोशीले तरीके से किस करने लगी।हमारी जीभ आपस में टकरा रही थी.

तीसरे ने मेरे हाथ में अपना लिंग थमा दिया और मेरे हाथ को पकड़ कर अपने लिंग की मसाज करवाने लगा. बीएफ 4 साल कीफिर मैं बोतल को उधर ही रखकर ऐश्वर्या के पास आ गया और उनकी गर्दन पर हाथ रखकर किस करने लगा. मारवाड़ी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफमां अपने पैरों को चौड़े करके मेरे लंड को और अंदर तक ले जाने की कोशिश कर रही थी. उसने मेरी कमीज में हाथ डाल कर मेरी छाती पर हाथ फेरा और मेरी कमीज को उतार डाला.

मैं बोला= चिंता मत करो रानी आज से मैं तेरी चुत और गांड का मालिक हूँ.

मैंने अपने कमरे में गुलाब की पत्तियों से अपने बिस्तर को सजा दिया था. हम दोनों का मज़ाक का रिश्ता था … सो वो कभी कभी मज़ाक में थोड़ा डबल मीनिंग बात भी बोल देता था. उसके सामने छोटे कपड़े पहन कर जाओ और भी बहुत कुछ इस तरह से करो कि वो गरम हो जाए.

ये सुनकर जेठानी जी बोलीं- ओके, रानी तुम आज भाग की ठंडाई बनाओ और भजिए पकौड़ा बना कर उनमें भी भांग डालो. उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोलीं- कहां जा रहा है तू?मैंने कहा- दीदी लाइट क्यों गई, देखने जा रहा हूँ. उसने बहुत ही कामुक अंदाज में मेरे चेहरे की ओर देखा और कहा- पता नहीं ये रात फिर कभी आयेगी या नहीं, तू मुझे दिखा दे कि तू एक असली मर्द है, मुझे गंदी गंदी गालियां देकर पेल दे.

जानवर और लड़कियों की बीएफ

हम दोनों पर ही चुदाई का खुमार चढ़ा हुआ था, कोई भी हार मानने को तैयार नहीं था. तो भाभी ने जैसे ही मेरी पैंट उतारी वैसे ही मेरा लंड उछल कर बाहर आ गया. मैंने तुरंत रूपा को आवाज दी और उसे ये सब बात उसे बताई तो उसने मुझे कहा कि डरने की जरूरत नहीं है.

फिर सलमा के साथ चुदाई का किस तरह से मजा आया और उसकी छोटी बहन की चुदाई की कहानी कैसे बनी.

जब मेरे पति या मेरे जेठ जी का लंड मेरी गांड में होता, तो जेठानी जी मेरी चुत चूस करके मुझे शांत कर रही होती थीं.

तो दीपक जी बोले- कहां सलहज़ जी, रिया तो पीछे से तो कुछ नहीं करने देती. अपना हाथ मौसी की चूची पर रखते हुए मैंने कहा- तुमने कई बार कहा कि तुमको मुझमें पापा की छवि दिखती है, लो आज महसूस भी कर लो. बीएफ गानों मेंदिया का तो ब्व़ॉयफ्रेंड भी था और वो उसके साथ काफी मजे किया करती थी.

कई दिन तक चूत चाटने के बाद अब वो मुझे भी अपना लौड़ा चूसने के लिए कहने लगा था. आंटी ने मुझे कस कर पकड़ लिया और सिसकारियां लेने लगीं- आह्ह्ह वाईह सल्लू … ओहह आह उम्म आए धीरे धीरे ओह आहाहह … मर गई … धीरे हां बहुत अच्छे … आह … ओह आह मज़ा आ रहा है … धीरे धीरे करते रहो. उसकी चूत के रसीले होंठ, इन सब के बीच मामी जी का गोरा चिकना पेट और मामी जी के खुले हुए बाल, आज तो वो कयामत बन कर बरस रही थी.

जिस पति से इतनी बेरुखी थी, जिसको छूती भी नहीं थी, वो उसके करीब जाने लगी. मेरा लंड पकड़ कर वो बोली- तुम्हारा लंड तो मेरे मियां से काफी मोटा और लम्बा तगड़ा है.

मेरा लंड तना हुआ था और बार बार वही सीन याद आ रहा था कि कैसे मेरा लंड उस जवान लड़की के हाथ में था.

मैं ख्यालों में ही खोया हुआ था कि मेम ने पूछा- क्या सोच रहे हो मानव?मैंने कहा- कुछ नहीं मेम. जितनी हड़बड़ाते हुए वो आया था उससे कुछ न कुछ गलती होने का अंदेशा था. लंड मोटा था तो उसकी कसी हुई चुत में दर्द होने लगा और उसकी तेज आवाज निकल गई.

जबरदस्ती सेक्सी हिंदी बीएफ मैं कई सालों से अन्तर्वासना पर सेक्स कहानियां पढ़ रही हूं और उसी के हिसाब से मैं अपनी पहली कहानी लिख रही हूं। दोस्तो, मैं आगे भी कई कहानियां लिखूंगी जिनमें बताऊंगी कि मेरी जिन्दगी में कब और कितने मर्द आये और किन किन से मैंने चुदवायी है. मैंने पूछा- क्या तुम्हारा उसके साथ सेक्स करने का मन था?वो हंस कर बोली- मन पहले से थोड़ी होता है.

कुछ देर बाद ससुर ने बहू की चुत में अपना रस गिरा दिया मतलब कंडोम में वीर्य त्याग करके वो अपनी बहू के ऊपर से उठे और कंडोम को हटा कर डस्टबिन में डाल कर अपने कपड़े लेकर कमरे से बाहर निकल गए. वो इतना ज्यादा हैंडसम था कि कोई भी लड़की उसे एक बार बिना देखे नहीं रह सकती थी. जिससे मुझे हल्के दर्द के साथ मजे आने शुरू हुए।करीब 15-20 मिनट तक वो मेरी चुदाई करते रहे और फिर अपना गर्म लावा मेरी चूत के अन्दर डालकर किनारे हो गये।मुझे भी खूब मजा आया। मेरे जिस्म के एक-एक अंग को निचोड़ कर रख दिया था।मेरा पानी निकलने के बाद ही उन्होंने अपना लावा मेरे अंदर डाला.

ब्लू बीएफ सेक्सी मूवी हिंदी

शमशेर बोला- आंह … साली क्या मस्त लौड़ा चूस रही है … मैं अब तक बहुत सी रंडियों के पास गया, तेरी जैसी रांड अब तक नहीं मिली. आप बड़े हैं, समझदार हैं, प्रोटेक्शन का ध्यान रखिये तो मुझे आपकी बात मानने में मुझे कोई आपत्ति नहीं. मेरी चूत को अपने वीर्य से भर दे मेरे लाल।मौसी की बातें इतनी कामुक थीं कि मैं उसके बाद पल भर भी अपने वीर्य के वेग को रोक नहीं पाया और मैंने मौसी की चूचियों को जोर से भींच कर उनके ऊपर लेटते हुए अपने लंड को उसकी चूत में पूरा ठूंस दिया.

उसके बदन से चिपकते ही मेरे लंड से फूट फूट कर वीर्य की पिचकारी मौसी की चूत में लगने लगी. मामी जी गांड को मटकाती हुई चल रही थी और मेरा लन्ड मामी जी की गांड को देख देखकर तूफान मचा रहा था। दिल तो कर रहा था कि मामी जी को यही चोद दूं लेकिन मैंने अपने आप को संभाला।थोड़ी देर बाद हम खेत पर पहुंच चुके थे।अब मेरे लन्ड ने पजामे में तम्बू बना दिया था। मामी जी भी मेरे लन्ड के तनाव को देख चुकी थी लेकिन जानबूझ कर मुझे इग्नोर करने की कोशिश कर रही थी.

मेरी चूत से भी पानी छूट पड़ा और मैं बुरी तरह से वहीं खड़ी खड़ी कांपने लगी.

उसने मेरी चड्डी को नीचे करके मेरा 6 इंच का लंड बाहर निकाल लिया और उसे हाथ में पकड़ कर देखने लगी. वो आकर मुझे गले से लग गईं और बोलीं- थैंक्स जान … तुमने आज इस प्यासी चूत की खुजली मिटा दी. चाची की चुदाई 2-3 मिनट में ही निपट जाने से मुझे बेहद शर्मिंदगी महसूस होने लगी.

मैंने दो बार मौका होने पर भी उन्हें समस्या बताकर मना कर दिया था, जिससे चुदाई हो ही नहीं सकी थी. कुछ समय बाद पापा ने अपना पानी मां की गोरी चिकनी गांड में गिरा दिया. मस्तराम कहानी सेक्स की में पढ़ें कि मैं होली वाले दिन ससुराल में था, मेरी बीवी ट्रेनिंग पर लन्दन गयी हुई थी.

मैं जाने लगा तो उसने मुझे टोका- गिफ्ट की नहीं पूछोगे?मुझे याद आया कि कल ये देर तक चलने पर कोई गिफ्ट देने की बात कह रही थी.

बुर वाली बीएफ: हम दोनों का मज़ाक का रिश्ता था … सो वो कभी कभी मज़ाक में थोड़ा डबल मीनिंग बात भी बोल देता था. मैं जैसे ही अन्दर घुसा, तो अचानक से लाइट चली गई और मैं एकदम से दीदी के ऊपर गिर गया.

अब मैं बोला- अब अगली बार कब चुदना है?वो बोली- अब अगले साल चोद लेना. मैंने पूछा- अभी जॉब करती हो?उसने ना में सर हिलाते हुए बताया कि अभी उसने जॉब छोड़ी हुई है और वो लखनऊ में 6 महीने से रह रही है. मैंने उसके शब्द दुहराए- अच्छा आज तो सूरज पश्चिम से निकला है … मैं जानू बन गया.

इस बार झटका कुछ जोरदार लगा था, तो मेरी मां की तो समझो जान ही निकल गयी.

अब मैं उनकी पूरी बॉडी को अपनी जीभ से चाट रहा था और उनकी बगल में मुँह डालकर पसीना पी गया. मैंने मस्ती में आकर अपनी उंगली थूक में गीली की और उसकी गांड में सरका दी. लेकिन ये बदनामी मेरी अकेली की नहीं, तुम्हारी भी होगी … और रही बात मेरे पति की, तो तुम पहले बेवकूफ आशिक नहीं हो मेरे … इसके पहले भी किसी ने यही करने की कोशिश की थी.