बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी

छवि स्रोत,नई सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

ভোজপুরি সেক্স ভিডিও: बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी, हमारे नैन मटक्का के बारे में रेशमा को आभास हुआ तो उसने अपना सिर उठाकर देखा.

मृत्यु के बाद पिहोवा कब जाएं

पर नींद कहाँ … रात को बारह बजे के करीब कुछ आवाज हुई तो मैं उठी तो संजय दरवाजा बंद करके अन्दर आ रहा था।मैं जल्दी से अपने पति के कमरे की तरफ गयी तो उनके सोने की आवाज आ रही थी. चुदाई कहानी चुदाई कहानीमैं उठ कर बाहर गई और जानने की कोशिश करने लगी कि दरवाजे पर कौन आया था.

बाद में भाभी ने बच्चों उठा कर तैयार किया और स्कूल भेज कर फारिग हो गईं. क्रीम बिस्कुटसाथ ही ऊंउम ऊंउउह कहती हुई आवाज निकालती … कभी धीरे … कभी जोर से करने कहती.

एक पल बाद उनके चूचे हवा में छलने लगे थे, ब्रा को एक तरफ गिर जाने की सजा दे दी गई थी.बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी: उसने मुस्कुरा कर अपने लंड का टोपा मेरी गांड की छेद में फंसाया और बोला- तुझे जितना चीखना चिल्लाना है, चीख लेना … इधर तेरी कोई नहीं सुनने वाला है.

मैं- तो आपने बर्दाश्त कैसे किया था?भाभी- तब तो तुम्हारे भाई ने जबरन पेल दिया था.ड्राइवर ने गाड़ी स्टार्ट की और गियर डालने के लिए जब उसने हैंडल को आगे पीछे किया तो उसका हाथ सीधा मेरी फुदी पर आकर टकराया.

কাঁচা আম সাধারণত টক হয় বচন করো - बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी

कहानी में अगर आपको मजा आ रहा हो तो मुझे अपनी प्रतिक्रिया जरूर भेजें.मैंने उससे उसका चेहरा पकड़कर पूछा- क्या हुआ?उसने धीरे धीरे बोलना शुरू किया कि उसकी रूममेट के मम्मे उसके मम्मों से बहुत बड़े हैं.

कमरे में घमासान चुदाई के बाद करीब दस मिनट बाद वो तीनों झड़ गए और मैं दो मिनट बाद झड़ गया. बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी जब मैं वापिस आया, तो मैंने शर्ट उतार कर अपनी एक फोटो खींची और रात को रंजीत को सेंड कर दी.

तो उन्होंने मेरा डर कम करने की कोशिश की- पूरा नहीं, जितना ले सकता है उतना ही ले, ज़्यादा ज़बरदस्ती नहीं है।मैंने उनके आंड से लंड तक अपनी जीभ को बाहर निकाल कर चाटा और उनको मज़े आने लगे। मैंने उनका लंड मुँह में लिया जो मुश्किल से आधा ही मेरे मुँह के अंदर गया।भैया ने थोड़ा सा धक्का दिया तो थोड़ा सा और अंदर चला गया पर मेरी जैसे साँसें रुक सी गयी.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी?

कुछ देर बाद मैंने नीतू को शावर के नीचे ही झुका कर घोड़ी बना दिया और उसकी चूत में लंड पेल दिया. उस चुदाई के बाद से में मेरा जब भी मन होता या उनका मन होता, तो वो मुझे फोन करके बुला लेतीं. इस पर संदीप ने कहा- अरे पार्टी नहीं रखी है, मैं तो सिर्फ तुम्हें बुला रहा हूँ.

मगर अगले ही पल उसने मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर चूमना शुरू कर दिया और एक हाथ से मेरी चुत को रगड़ने लगी. वह घोड़ी बन गई, मैंने उसके पीछे आकर उसका पेटीकोट ऊपर किया तो देखा, अपनी चूत शेव करके आई थी. जवान लड़की की नंगी चूचियां जैसे ही मेरे सामने आईं मैं उन पर टूट पड़ा.

साथ ही ऊंउम ऊंउउह कहती हुई आवाज निकालती … कभी धीरे … कभी जोर से करने कहती. पापा आते हैं, मम्मी की सलवार और पैन्टी उतारते हैं, अपना पैजामा उतारते हैं, हिला हिलाकर अपना लण्ड खड़ा करते हैं और उस पर निरोध चढ़ा देते हैं और मम्मी की चूत पर हाथ फेरने लगते हैं, कभी कभी ऊंगली भी करते हैं फिर टांगों के बीच आ जाते हैं और फिर से लण्ड पकडकर हिलाने लगते हैं और मम्मी की चूत में डाल देते हैं, मम्मी चुपचाप लेटी रहती हैं, पापा उचकने लगने लगते हैं. उस रात में मैंने 4 बार मालकिन पर चढ़कर उनको चोदा … और 2 बार मालकिन ने मेरे लंड के ऊपर चढ़ कर मुझे चोदा.

मुझे यकीन नहीं होता था कि लड़कियां इस तरह के अंडरगार्मेंट्स भी पहनती होंगी. खाला और उनकी बेटियों ने मेरा हाथ पकड़ कर उस कमरे में पहुंचा दिया … जहां ज़ेबा घूंघट में सिर झुकाए बैठी थी.

पर वहां पहुंच कर देखा कि वो अभी सो कर अंगड़ाई लेते हुए उठ रही है और इसीलिए उसकी आवाज कुछ मरी सी आ रही थी.

जैसे ही मैंने लंड पकड़ा, मेरे जवाब में संदीप ने चूमना छोड़ कर मुझे अपने से पीठ के बल सटा लिया.

वो घबराते हुए- आइये ना अंदर!अंदर जाते ही माहौल पता चला, खूब गंदगी थी, खाने के पैकेट इधर उधर और कुछ बियर की बोतलें भी थी. जब मैं चूत की दरार में जीभ को ले जाने लगा तो वो मेरे सर को पकड़ कर इतना जोर से दाब रही थी कि उसका बस चले तो मेरे पूरे सर को अपनी चूत में घुसा ही लेगी. ये जानकर मन में थोड़ा दुख हुआ, पर उससे ज्यादा खुशी इस बात की हुई कि मुझे एक अनुभवी चोदने वाला मिला है.

थोड़ी देर बाद सभी के लिए मिठाई और कोल्ड ड्रिंक आ गई … हम लोग खाने लगे … साकेत भैया दीदी के साथ बातें भी कर रहे थे. दीदी- अर्णव मुझे अब नींद आ रही है, मैं सोऊंगी … तुम भी अपने कमरे में जाकर सो जाओ … बाकी पढ़ाई शाम में कर लेंगे. इधर मैं अब तक अपनी सलहज प्रियंका की ब्रा और पेन्टी को अलग कर चुका था.

मैंने झट से स्वीटी आंटी की चुत के अन्दर अपने लंड का धक्का मार दिया.

संजू बहुत वफादारी से बोली- मुझे माफ कर दीजिएगा, मैंने आपसे बिना पूछे ऐसा कह दिया, पर हालात ही वैसे थे. जब भी वो घर आते थे तो उनके और मेरे बीच में बहुत सारी बातें होती थीं. फिर रात को 9:30 बजे में सोने चला, तो मेरा भतीजा मेरे साथ सोने की जिद करने लगा.

तभी तो मैंने उसे पैंट को पैरों से बाहर निकालने का भी समय नहीं दिया और अपने दोनों हाथों को उसकी जांघों पर रख कर लंड को मुँह से ही संभाला और बिना समय गंवाए सुपारा मुँह में भर लिया. उसकी मादक सिसकारियों से मुझे भी जोश चढ़ने लगा और जोर जोर से उसकी चुत की जबरदस्त चुसाई में जुट गया. इतने देर में दीदी की एक फ्रेंड मुझे देख कर गेट पर आई और मुझसे बोली- अरे अर्णव यहां क्या कर रहे हो? कॉलेज नहीं गए?मैं- हां गया था … मेरे कॉलेज में छुट्टी हो गई.

मैंने देखा कि श्वेता ने अपने पैरों को मेरे पैरों के ऊपर रखा हुआ था.

तो उन्होंने मुझे कहा- सलवार उतार और बेड पकड़ कर झुक जा!मैं झुक गयी और उन्होंने लंड डाल कर चुदायी शुरू बस एक मिनट में ही ढीले हो गये और बोले- चल भाग यहाँ से!चुपचाप सलवार उठा के मैं बाथरूम में गयी और अपनी चूत में उगंली करने लगी और फिर नहा धोकर आगे वाले कमरे में आकर लेट गयी।अब मैं अकेली थी तो मुझे संजय का ख्याल आने लगा. फिर अंकल मुझे किस करते करते मेरे पेट से होते हुए मेरे बूब्स तक आ गए और मेरी ब्रा को मेरे बदन से अलग कर दिया.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी एक दिन अपनी तन्हाई को अपने साथ बैठाकर मैं उसे अपनी गुज़री जिन्दगी की एल्बम पलटकर दिखा रहा था. जब हाथ अलग किया, तो मकड़े की जाल जैसी एक तार ने उंगली और चूत को अलग नहीं होने दिया.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी हाय दोस्तो, मैं राजू गोरखपुर का रहने वाला हूँ, ये मेरा सच्ची सेक्स कहानी आज से एक साल पहले की है. कभी मैं उनके होंठों को अपने दांतों से पकड़ कर खींचती, तो कभी चूसती और यही सब जेठजी भी मेरे होंठों के साथ कर रहे थे.

मैंने अपनी ब्रा को देखा तो अभय सेठ ने कहा- तू चिंता मत कर, मैं तेरे लिए अच्छी क्वालिटी की मस्त सी ब्रा ला दूंगा.

ब्लू पिक्चर सेक्सी दिखाइए वीडियो

मुझे इस समय मेरी परीक्षा ज्यादा महत्वपूर्ण लग रही थी और मैं देरी नहीं चाहता था तो मैंने ओके कह दिया. मैं सोचने लगी कि इसमें दीदी के बॉस और उसके दोस्त का कोई कसूर नहीं … मैं खुद अपनी मर्जी से यहाँ चुदाई के लिए ही तो आयी थी. अब मैं वासना में भूल गई कि मेरी उम्र कितनी है, बच्चे कितने बड़े हैं.

बीस मिनट से ज्यादा समय हो गया था उसकी चूत चोदते हुए मुझे।फिर मैं पिंकी के बदन से ऊपर उठकर मैं अब अपने हाथों बल‌ हो गया और अपनी‌ पूरी तेजी व ताकत से धक्के लगाने शुरु कर दिये। पिंकी ने भी अपनी गांड को ऊँचा कर लिया जिससे लंड की ठोकर एकदम बच्चेदानी पर लग रही थी. मेरी हालत को देख अब अंकल ने कुछ धक्के अपने हिसाब से मारे मेरी चूत में और वो झड़ने लगे. जब जीजा का लंड खड़ा हो गया तो उन्होंने मेरी चूत को पर लंड को धकेलना शुरू कर दिया.

मुझे तो ऐसा लग रहा था … जैसे आज मुझे पहली बार कोई भाभी चोदने के लिए मिली हो.

वो अपनी जेब से फोन निकाल कर फिर से मेरे भाई का नम्बर मिलाने लगा तो मैंने उसका फोन छीन लिया और उसी की जेब में डाल दिया. मैंने गैस को बंद करके उनको रसोई की स्लैब के ऊपर ही बिठा दिया और उनकी टांगें फैला कर चूत पर अपना लंड रख दिया. हमने अनमने मन से हां में सर हिलाया, क्योंकि हमें लगा कि दीदी के कहने से हम घर थोड़े देर से पहुंचेंगे, तो चलेगा.

अपनी पहली सेक्स कहानीबॉडी मसाज और चूत की चुदासके बाद मैं आपके लिए अपनी नयी कहानी लेकर आया हूं. मैंने इस बात को सुनकर समझ लिया कि वो मस्त होने लगी है, तो मैंने धीरे से उसका लोअर और पेंटी एक साथ निकाल दी. शादी में चूसा कज़न के दोस्त का लंडसे लेकरमेरे गांडू जीवन की कहानीतक कई गे सेक्स कहानियों की शृंखला अन्तर्वासना की कृपा से मैंने अपने समलैंगिक भाइयों तक पहुंचाई.

वैसे भी मैं भीगा नहीं हूं, मुझे जरूरत नहीं है”चूंकि छोटे कपड़े तो मैं घर में भी पहनती थी। वैसे भी नंगी तो वो मुझे देख ही चुका था। उसे रिझाने का ये मौका मैं कैसे गंवा देती।मैं कपड़े बदलने गयी तब तक उसने होटल वालों से कह कर अलाव का इंतजाम करवा लिया था। कुछ देर आग के सामने बैठे हुए हम बातें करते रहे। आग की गर्मी से हमें कुछ राहत मिली. तो दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी, आप सभी के मेल के इंतजार में आपका अपना शरद सक्सेना।[emailprotected].

मोटे लंड के एकदम से घुसने से एक सिहरन सी उसके पूरे शरीर में दौड़ गई. इस मदमस्त रंगीन कहानी में सेक्स का इतना धीमा मजा है कि लंड और चुत पल पल गीले होते रहेंगे. वो एकदम मस्त होकर आवाज करने लगीं- आह … जानू आज से मैं बस तुम्हारी हो गई … मुझे जब चाहे तब चोद लेना … आज से मैं तुम्हारी रंडी हो गई … मुझे तुम जब भी बुलाओगे, मैं चुदने चली आऊंगी.

और उसने भी मेरे मम्मों को अपने दोनों हाथों में पकड़ कर अच्छे से दबा दिया.

इस बार मैंने सांस को छोड़ दिया था, चूत को भी सामान्य रहने दिया और पैरों को भी थोड़ा खोल लिया था. ड्राइवर के मुँह से आहह … की आवाज़ निकल गयी और वो अपने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़ कर मेरे बालों में हाथ घुमाने लगा. इस समय मैं सोच रहा था कि अभी आलिया के रूम में जाकर उसके बाथरूम में घुस जाऊं और आलिया को चोद डालूं.

इसके सपने देखना तो मेरे जैसी लोमड़ी के लिए अंगूर खट्टे होने वाली बात थी. फिर अंकल दीदी की जांघों के बीच में बैठ गए और अपने लंड को दीदी की पानी छोड़ती हुई चुत पर रख दिया.

आअह आह आह उफ्फ …” की तेज़ सिसकारी सिल्क के मुँह से निकली और फिर मैं बारी बारी से दोनों जांघों को चाटने लगा जीभ निकाल कर!मेरे हाथ खुदबखुद चूत पे पहुंच गए, पैंटी के ऊपर से उसको मसलने लगा. दीदी ने गांड उठाते हुए आकाश का लंड अन्दर लिया और कहा- राज … अब जिया को और मत तड़पा … जल्दी से उसे चोद डाल. वो मेरे इस हमले हड़बड़ा गईं और जोर जोर से ‘आहह … ओह्ह!’ की आवाज़ें करने लगीं.

ब्लू पिक्चर वीडियो में देहाती

एक दिन ऐसे ही घूमते घूमते उसने मुझे अपने कॉलेज के दोस्तों से मिलवाने के लिए कहा.

मैंने कहा- मैं समझा नहीं!तभी भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और बोलीं- बैठ … सब समझाती हूँ. मैं- ये आपका बेटा उनकी औलाद है?भाभी- हां … इसके आने तक उनके पास मेरे लिए वक्त था, पर अब नहीं है. वो सब कुछ इतनी तेजी के साथ कर रही थी कि मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि कोई औरत किसी मर्द के जिस्म की इस तरह प्यासी हो सकती है.

बिक्कू ने तुरंत जाकर गेट बंद कर दिया और बोला- देख बंध्या, अब तेरे घर वाले भी काफी देर से पहुंचने वाले हैं. मम्मी बोलीं- मैंने सुना है आपका अपनी बीवी से तलाक हो गया?अंकल बोले- हां भाभी जी, उससे मेरा तलाक हो गया. सांडे का तेल प्राइसअब आप जानते ही हैं कि जब कोई आपकी चाहत आपके सामने सेक्स की भूख को लेकर रोए तो आपका लंड खड़ा हो जाना लाजिमी है.

संदीप ने मेरे अंगूठे को चूसना शुरू कर दिया, जिसकी मैंने कल्पना भी नहीं की थी. बस के धचके के साथ ही वो ऊपर से उछल रही थी और मैं नीचे से धक्के लगा रहा था.

मेरी मामी का मायका मेरे गाँव के पास वाले गाँव में ही है सिर्फ 6 किलोमीटर की दूरी पर!मैंने मामी की तीसरे नम्बर की बहन कामिनी की चुदाई की है. वो तो जब उनके चूचे से मेरी कोहनी टच हुई और भाभी ने मेरी तरफ देख कर आह भरी, तब मुझे लगा कि मुझसे गलती हो गई. आख़िर 15 – 20 धक्के लगाने के बाद मैं भी 10-12 झटकों के साथ झड़ गया.

संदीप ने पहले तो सभी से हमारा परिचय करवाया, फिर खाना खाने के लिए कहने लगा. गुरू के डैडी तो हमेशा दुबई में रहते हैं और यहां मेरी जवानी तड़पती रहती है. वैसे शर्म लिहाज़ तो मैं त्याग ही चुकी थी, पर फिर भी पता नहीं क्यों … मैं ये सब करने से खुद को रोक नहीं पायी.

पर परमीत के यहां उसकी फैमली के आ जाने के बाद सबका एक साथ मिलना कम ही हो पाता था और ज्यादातर हम खुद ही चूत में डिल्डो या केला डालकर खुद को शांत कर लिया करती थी.

उसके बाद उसने अपने लंड में भी बहुत सारी क्रीम पोत ली और मेरी गांड पर लंड का सुपारा सैट कर दिया. सफेद जीन्स और लाल टॉप में, गले में स्कार्फ, खुले कर्ली बाल, आँखों में काजल, सुर्ख होंठ, हील वाली सफेद सैंडल, उफ्फ … क़यामत तक समय रूक जाए!रूपसी अप्सरा … वो किसी भी तरह से 30 या 32 साल की नहीं लग रही थी.

पर कोई बात नहीं कल होली के दिन तो मैं किसी न किसी तरह से स्वीटी आंटी को चोद कर ही रहूंगा. क्या वास्तविकता में, उनकी चुदाई उसी तरह से हो पाती है … या नहीं … या फिर शिखा मामी को मैं चोद भी पाता हूं कि नहीं. उसके बाद उसके दोनों हाथों को जोर से पकड़ा और निधि को देखकर मुस्कुराया.

मुझे जल्दी घर जाना है … आज वैसे ही बहुत देरी हो गई … मेरी मम्मी डांटेंगी. एक दिन मैंने फोन पर उससे उसका फिगर पूछा, तो उसने 32-30-34 का बताया. क्या मस्त फिगर है उसका 34-32-34 का! उषा के जाने के बाद मैं प्रीति से कोई भी भी मौका मिलने का नहीं छोड़ता था.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी फिर मैं रज़ाई के बीचों बीच नीचे सरकती गयी और अपने चेहरे को उसके लंड के सामने ले आई. वो मेरे इस हमले हड़बड़ा गईं और जोर जोर से ‘आहह … ओह्ह!’ की आवाज़ें करने लगीं.

एक्स एक्स बीएफ वीडियो एचडी में

प्रीति के शब्द:उसने मेरी पैन्टी भी निकाल दी और मेरी गीली हो चुकी चूत पर हमला बोल दिया. करीब 15 मिनट की जबरदस्त लंड चुसाई के बाद उसके मुँह में मेरी पिचकारी छूट गयी. वन्दना मुझे देख कर खुश हो गयी और मुझे गले लगा कर अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये.

तो अब बात पर आते हैं कि हर ट्रान्सफर वाले व्यक्ति के सामने जो समस्या आती है वो होती है मकान की. सब विभा मैम पर टूट पड़े मैं और सर मैम की दोनों चूची चूस रहे थे, मैम की सहेली नाज़िमा मैम की चूत चाट रही थी।फिर सर ने अपना लण्ड विभा मैम के मुँह में डाल दिया. হিন্দি ফিল্ম সেক্সি ভিডিওदस मिनट तक इस पोजीशन में मेरी चूत को चोदने के बाद उसने मुझे घोड़ी बना लिया.

पूरा लंड दीदी की चूत के अन्दर चला गया और दीदी की चूत से खून आने लगा.

फिर वन्दना ने अपने बेटे को नौकरानी के साथ पार्क में भेज दिया और 8 बजे वापिस आने का बोल दिया. मुझे उम्मीद है कि आपको लेस्बियन सेक्स की यह कहानी पढ़ कर मजा आया होगा.

सपना- आह चूसो रणजीत … इनको आज खाली कर दो … आहाआ उफ्फ़ बहुत मज़ा आ रहा है आहा … और ज़ोर से दबाओ … मेरे दर्द की चिंता ना करो … खा जाओ … आहाआ आहा … मैं बरसों की प्यासी हूँ … मिटा दो आज मेरी प्यास को … पी जाओ आहहहा. हम दोनों के बदन पसीने में भीग चुके थे लेकिन पहले सेक्स का मजा भी इतना मदहोश करने वाला था कि कुछ भी होश नहीं रह गया था. तो माज़रा क्या था … वसुंधरा के पहने हुए अंडर-गारमेंट्स थे कहाँ?मैंने इधर-उधर देखा तो परे कोने में पड़ी वॉशिंग-मशीन दिखी.

ताश के पत्ते बांटे गए।पते बाँटने से पहले रमेश सर बोले- जो हारेगा, उसे एक एक कपड़ा उतारना पड़ेगा.

उसने अपने दोनों हाथों से बेडशीट पकड़ ली और तकिये पर सर को इधर उधर करने लगी. खा पीकर अब सोने की बारी आई, तो मामी बोलीं- तुम मेरे कमरे मैं ही सो जाना. आज जो कहानी मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूं वह मेरे पहले प्यार और सेक्स की कहानी है.

मारवाड़ी+सेक्सीमैंने लंड को हल्का सा बाहर खींचा तो उसके मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… करके दर्द भरी सिसकारी सी निकल गयी. चूंकि वो मुझसे उम्र में छोटा है … इसलिए उसने मुझे बड़े सम्मान से नमस्ते भी की.

सेक्सी ब्लू फिल्म पुरानी

मुझे किसी भी चीज की जरूरत होती है तो मेरे घर वाले मुझे लाकर देते हैं. उनकी कंपित ध्वनि के साथ ही लंड रूपी हब्शी डिल्डो महाराज चूत में जड़ तक पेवस्त हो गए. ’ करके मेरे सर को सहलाते हुए बोलने लगी- आशु तुम्हारे हाथों में जादू है … ऐसा लग रहा है कि मैं जन्नत में हूँ.

फिर उसने सहेली के ब्वॉयफ्रेंड के जरिए उसके दोस्त को पटाकर अपनी कामवासना को शांत किया. संदीप का लंड बड़ा था, इसलिए मैं चाहती, तो भी आधे से भी कम लंड ही मुँह में समा पाता. परमीत हमेशा ही गीत की बहुत तारीफ करती रहती है और उससे ज्यादा तारीफ आपकी करती है.

लाल सुपारे के साथ गेहुंआ रंग का जेठजी का लंड, जो अभी आसमान की तरफ मुँह उठाये खड़ा था … बीच बीच में कभी वो मेरी तरफ हल्का सा झुक जाता, फिर एक झटके और अकड़ के साथ आसमान की तरफ देखने लगता. उन्हें देख कर मोहल्ले के क्या लौंडे … और क्या बुड्डे … सभी का लंड फनफनाने लगता है. दीदी अपनी चूत की तरफ़ उंगली से इशारा करते हुए बोली- यहां और कमर में.

बहुत दिनों से मेरे मन में बात चल रही थी कि क्यों ना अपनी भी सेक्स कहानी आप सभी के सामने पेश की जाए. मन कर रहा था कि बस पूरा का पूरा लंड जड़ तक उसके मुंह में घुसेड़ दूं और सारा माल उसको पिला दूं.

पांचवें दिन मैंने मम्मी से पूछा- मम्मी हमारे कॉलेज का ग्रुप गोवा जा रहा है, वहां मैं भी चली जाऊं क्या … प्लीज़!मम्मी- कौन कौन जा रहा है?मैंने अपनी 4-5 सहेलियों के नाम बता दिए.

मैंने कहा- भाभी, ये क्या?भाभी ने आंख दबाते हुए कहा- क्या क्या … सामने की भी मालिश कर ना … तेरा हाथ बहुत सही है. ಮಲಯಾಳಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೋಸ್स्वीटी आंटी ने मादक आवाज निकालते हुए कहा- आह आह रॉकी … मार ही डालोगे क्या. गंजी लड़कीइधर मैं अब तक अपनी सलहज प्रियंका की ब्रा और पेन्टी को अलग कर चुका था. मैं सोचने लगा था कि यदि इस मादरचोद अंकल की जगह मैं अपनी मॉम की चुदाई कर रहा होता तो बहुत प्यार से उनकी चूत की चुदाई करता.

आह्ह्हह … धीरे संदीप … दर्द होता है!”पर सिल्क ने रोकने की कोशिश नहीं की.

दीदी- तुम्हारे पास इतने पैसे आए कहां से?मैं- थे मेरे पास … मम्मी ने दिए थे और पापा ने दिए थे … वो सारे पैसे रखे थे. उस रूम में जहां अक्सर उसके मां पापा जन्नत जाया करते थे … ये मेरा सपना भी था कि उसी पलंग से जन्नत जाऊं, जिससे उसकी मम्मी पापा ने उसे जन्नत से निकाला था. जैसा कि मैंने ऊपर भी बताया था कि मैंने कभी सेक्स नहीं किया था, मगर सेक्स के वीडियो बहुत देखे थे … उस कारण मुझे सेक्स का काफी ज्ञान था.

आलिया मुझे प्यार से राजा कहकर बुलाती थी और मुझसे आलिया बड़ी होने पर भी मैं उनको प्यार से आलिया कहकर बुलाता था. उस दिन हम दोनों ही गर्म हो गये और मैंने भाभी की चूत में उंगली करते हुए उसकी चूत को अपने मोटे लंड से रौंद डाला. करीब 30-31 साल की सिल्क एक आकर्षक महिला थी जो किसी भी मर्द को दीवाना बना दे.

ब्लू फिल्म हिंदी में पिक्चर

इसी मौके का फायदा उठा कर मैंने उसकी चूत से जीभ को हटा लिया और मैं उससे अलग हो गई. मेरे पूछने पर सेवक राम ने बताया- नादान लड़की है बिना सोचे समझे इससे दोस्ती कर ली, अब वो परेशान कर रहा है. कोई 5 मिनट तक यही सब करने के बाद आंटी ने अपनी छाती पर हाथ रखते हुए मुझसे कहा कि रॉकी … क्या यहां पर अबीर नहीं लगाओगे?मेरी आंखें चमक गईं … मैंने कहा- क्यों नहीं.

करीब 5 मिनट के बाद उसने मेरा मुँह हटाया और बोली- क्यों रे मादरचोद … कभी कोई चुत नहीं मारी, जो ऐसे पेल दिया … अब रुका क्यों है चोद भैनचोद … फाड़ मेरी प्यासी चुत.

हुआ यूं कि टीवी पर दक्षिण अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड का सेमी फाइनल मैच चल रहा था.

लेकिन वसुंधरा की सिसकारियाँ पल-प्रतिपल धीमी होती जा रही थी और क्षण-प्रतिक्षण कामदेव हालात पर और हम दोनों के मन पर अपना अधिपत्य लग़ातार बढ़ाते चले जा रहे थे. फिर करीब बीस मिनट के बाद हम दोनों साथ में ही झड़ गए और चाची की चूत का पूरा पानी मैंने पी लिया। हम दोनों ने बहुत मजा लिया, बहुत आनंद लिया. सेक्सी फिल्म वीडियो में मूवीउसी समय मुझे शरारत सूझी और मैं आलिया के गालों पर किस करके भागने लगा.

मैंने कहा अपनी चूत के लब खोलकर मेरे लण्ड पर बैठ जाओ और फुदक फुदक कर चोदो. मैं उठा और उसके चूतड़ उठाकर नीचे एक तकिया रखा और लण्ड का सुपारा उसकी बुर पर फेरने लगा, वो बहुत व्याकुल हो रही थी. तभी श्वेता दीदी बोली- मैम इनके मम्मी पापा भी क्यूट हैं इसलिए ये दोनों भाई बहन भी क्यूट हैं.

आशा है आप सभी प्रिय पाठकों को पसन्द आयेगी।मेरी इससे पहली कहानी बॉडी मसाज और चूत की चुदास को लेकर आप लोगों के बहुत से सुझाव और मेल आये. न जाने कितने दिन बाद ऐसा मजा आ रहा है … और जोर से चोदो … आहं खा जाओ मुझे … और तेज धक्के मारो.

मुझे अपनी क्लास के लिए जाना था इसलिए मैंने फंक्शन में जाने से मना कर दिया.

विवेक ने नाइटी को जैसे ही जांघों के पास लाया तो उसके मुंह से निकल गया- तू तो बहुत चिकनी माल है बंध्या. फिर दीदी ने आलिया तरफ देखकर जीजा जी का लंड हाथ में ले लिया और धीमे से मुँह में डालने लगीं. जैसे ही उसने मुझसे से हाथ मिलाया, मुझे लगा आह क्या मक्खन से हाथ लगा दिया.

लौंडिया लंदन से लाएंगे रात डीजे बजाएंगे पहली बार किसी मर्द का हाथ उसके मम्मों पर पड़ रहा था, तो वो सिसकारियां लेने लगी. उनमें रोपे गए संस्कार की ही प्रेरणा से हम लोगों ने भी झुककर अंकल को प्रणाम किया, फिर हम सोफे पर बैठ गए और सामान्य वार्तालाप के साथ ही नजर बचाकर घर को भी देखने परखने लगे.

जब मैं थक जाता तो वो गांड हिलाती और वो थकती तो मैं अपनी कमर हिला रहा था. उसकी निक्कर और पैंटी उतार कर उसकी चूत पर हाथ फेरते हुए बोला कि ये सब अब रात को करेंगे, अभी तुम अकेले कर आओ. पर मैं पूरे जोश में था, मेरा मूड अभी उसको छोड़ने का नहीं था। मैंने उसको थोड़ा किस किया और बूब्स दबा के गर्म किया और सोफे के पास घोड़ी बना लिया।ये तो यारो … मेरी सबसे पसंद की पोजीशन है.

एक्स एक्स ई मूवी

हर झटके पर उसकी गांड हिल जाती थी, जो मुझको और भी मजा दे रही थी … मेरा जोश चढ़ता जा रहा था. आगे अपनी सच्चाई आप लोगों तक पहुंचाने के लिए अपने कमेंट और अपनी राय मुझे मेरी मेल आईडी पर जरूर भेजें।मेरी मेल आई डी है-[emailprotected]. ” इतना कहकर मैंने खुद ही उतार दी और उसकी बुर चाटने लगा, वो कसमसा रही थी.

जब हाथ अलग किया, तो मकड़े की जाल जैसी एक तार ने उंगली और चूत को अलग नहीं होने दिया. मैं अब पूरे हाथों में उसके मस्त बोबों और चुटकियों के बीच उसके गुलाबी निप्पलों को मसलने लगा.

मैं- हां देख सकते हो, लेकिन कहां से देखोगे?तब उसने कहा- मैं अपने रूम की खिड़की से देख लूंगा.

मैंने चोदते समय प्रीति से कहा- कैसा लग रहा है मेरी जान?प्रीति ने कहा- बस चोदो मुझे!अब मैं भी चरम पर था, मैंने प्रीति से कहा- प्रीति, मेरा निकलने वाला है. तो वन्दना नीतू से बोली- वापिस कब तक आओगी?वो बोली- 8-9 बजे तक आ जाऊंगी. तुम्हारी चिकनी चिकनी पिंडलियां, जिन पर नजर भी जाते ही फिसल जाती हैं.

मैं भी लंड को अन्दर बाहर करने लगा और भाभी की चुदाई जोर जोर से करने लगा. संजू इस वक्त कैपरी और स्लीवलैस शर्ट पहने थी, जिससे उसकी जवानी कयामत ढा रही थी. मैंने इस पोजीशन में उसका एक पैर हवा में उठा कर लंड मेरी गर्लफ्रेंड की चूत पर सैट कर दिया.

मैंने उससे एक दो बातें भी की तो मुझे लगा कि किसी ने गलती से फोन मिला दिया होगा.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी एचडी: जेठजी मेरे पास आकर मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए. मैं किचन में गई, उसके लिए दूध लेकर आदी को उसके कमरे में जाकर दे दिया.

क्योंकि प्रीत का जब मन होता, तो वो हम दोनों को अपने फार्महाउस पर बुला लेता. मीना के एग्जाम खत्म होने के बाद एक दिन मनोज ने मीना को फ्लाइट में बैठा दिया और उसे रिसीव करने के लिए मैं एयरपोर्ट पहुंच गया. सेक्स के बीच ऐसी रूकावट मन को बेचैन कर देती है, मैं भी दीदी को जल्दी आने के लिए कह रही थी.

उसका लंड कभी मेरी जांघों पर लग रहा था तो कभी मेरी पैंटी के ऊपर से टच हो रहा था.

अगले ही पल दीदी ने अपने होंठों को मेरे होंठों पर रख दिया और मुझे प्यार करने लगी. अगले ही पल दीदी ने अपनी टी-शर्ट निकाल दी, जिससे उनकी प्रिन्टेड ब्रा और 36 बी साइज के कातिलाना चुचे दिखने लगे. ये कह कर भाभी ने अपना ब्लाउज हटा दिया और वे पेट के बल बिस्तर पर लेट गईं.