सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती

छवि स्रोत,भोजपुरी मधु का वीडियो वायरल

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी सेक्सी वीडियो बफ: सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती, थी तो ऐसी हसीन कि हमेशा मेरे मन में ख्याल आता था कि काश इतनी बुरी न होती।अंदर आ जाओ।” वह रूखे स्वर में बोली तब मैंने गौर किया कि उसके शरीर पर घरेलू कपड़े ही थे, यानि वह तैयार नहीं हुई थी अभी।कोई जवाब दिये बिना खामोशी से मैं नीचे उतर कर उसके पीछे चल पड़ा।इस बारिश ने भी मुसीबत कर रखी है.

प्ले बॉय सेक्स

मैंने भाभी को किस करते हुए अपनी स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से उन्हें चोदने लगा. मॉम चुदाईरजनी जी ने कहा- पर किसी ने देख लिया तो?फूफा जी समझ गए कि इनको चुदना तो है.

चूंकि वो मेरी अच्छी दोस्त थी, तो एक बार वो मुझसे मेरी सेक्स लाइफ के बारे में पूछने लगी. वॉलपेपर यादवउन्हें तुम अभी आज के दिन भी रखो और उनसे मज़े लो, मुझे परसों दे देना.

ऐसा नहीं है की उसने मयूरी को पहले कभी नंगी नहीं देखा था पर अभी पता नहीं क्यूँ वो बहुत ही कामुक लग रही थी और शीतल को इतनी हसीं लड़की को देखकर अपने शरीर में एक अलग तरह का गनगनाहट महसूस हुई, उसका मुँह खुला का खुला ही रह गया.सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती: वो देख कर मेरे पहले सुनील ने ही उसकी ब्रा खींच कर निकाली और दूर फेंक दी.

साला हर बार यही कहता है कि चूत को साफ़ करके आना, जैसे वो मेरी चूत को अपनी प्रॉपर्टी समझता है.पर मैं उसकी कोई बात सुने बिना, उसकी चूत में धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर करने लगा.

इंग्लिश चुदाई की वीडियो - सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती

क्या लंड में जंग लग गई है?उसके मुँह से इतना सुनते ही मैं कंट्रोल बाहर हो गया और मैंने अपनी वाइफ को सेक्स के लिए पूरी नंगी कर दिया.वो बोली- तुम बहुत कमीने हो!फिर मैंने कहा- तो चलो तुमको आज कमीनापन दिखाता हूँ।मैंने उसके पेट पर हाथ फेरना शुरू किया और धीरे धीरे से उसकी कमर पर हाथ फेरने लगा और पेट को सहलाने लगा और उसके बूब्स को चूमते हुए पेट पर आने लगा.

अब मेरा लंड मेरे कंट्रोल से बाहर हो रहा था तो मैंने मौसी की फुद्दी पर अपना लंड सैट किया और धीरे से अन्दर डाला. सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती अब परिवार में भाई-बहन, पति-पत्नी, पिता-पुत्र, पिता-पुत्री, बहु-ससुर सबके बीच का सम्बन्ध बिल्कुल बदल चुका था.

खैर, मयूरी अब पापा की गोद में बैठ गयी अपनी दोनों टाँगें अपने पापा के दोनों तरफ फैला कर.

सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती?

मैंने उनसे अपना हाथ छुड़ाया और कमरे से जाने लगी तो उन्होंने रोक के कहा- निशा, आई लव यू।मैंने कुछ भी नहीं कहा और कमरे से बाहर निकल कर रसोई में चली गई जहाँ मम्मी चाय बना रहीं थीं।भैया के लिए भी चाय ले जा!” मम्मी ने कहा. मेरी मम्मी की चुचियों की साइज 42 डी है और उनकी गांड भी बड़ी और गोल है. मौसी बोलीं- आह्ह्ह्ह साले मादरचोद … उस दिन गरम करके मुझे छोड़ दिया था.

मैंने उसे सोफे के किनारे पर खड़ा करके आगे की ओर झुकाया और अपना लंड एक ही झटके में उसकी चूत में उतार दिया. वो मुझे कभी कभी ड्रेस भी लाकर देता था और मैं वो ड्रेस पहनकर उसके साथ घूमने जाती थी. रात को करीब एक बजे लगभग सब सो गए थे तब अचानक मेरे कंधे को पकड़ कर किसी ने दबाया.

काफ़ी देर सहलाने के बाद उन्होंने मुझसे पूछा कि मुझे अच्छा लग रहा है क्या?मैंने हां में अपना सिर हिला दिया. दोस्तो, ये मेरी ज़िंदगी के सबसे हसीन लम्हे थे, मेरी सेक्सी मौसी मेरी बांहों में थीं, वो मेरा लंड सहला रही थीं और मैं उनकी गर्म चूत को सहला रहा था. उन तीनों ने एक साथ पूरी ताकत से इतने जोर से लंड पेला और अन्दर तक घुसा दिया.

मैंने लंड को प्रिया की चूत से बाहर निकाला और सारा माल उसकी पीठ पर गिरा दिया. अभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि भाभी ने अपने पैर से पीछे से मुझे टच किया और अपने ऊपर आने का इशारा किया.

क्योंकि मैंने बड़े ध्यान से उनकी पेंटी को देखा था कि उनकी पेंटी में बहुत से सफेद दाग लगे रहते थे, जिससे ये पता चलता था कि मामी रात को या फिर दिन में ही कितनी बार झड़ जाती होंगी.

पिंकी किसी भी तरह का विरोध नहीं कर रही थी बल्कि उसका पूरा साथ दे रही थी.

फिर हम आगे की योजना बनाने में व्यस्त हो गए, अब शाम हो चली थी, रात का खाना फ्लैट में ही बनाने का प्लान बनाया।दोनों मां बेटी ने मिलकर खाना बनाया, इसी दौरान दिव्या मेरे पास आकर बोली- देखो, मैंने दिल के आकार की रोटी बनाई है!उसकी इस मासूमियत भरी बात पर मेरे चेहरे पर मुस्कान छा गयी. समाली अंकल गांड मारते हुए बोले भी जा रहे थे- वोहह माई गॉड वन्द्या … तेरी गांड बहुत टाइट है और बहुत चिकनी भी है. उसको कुछ समझ नहीं आया, उसने पूछा- पर इससे क्या होगा?मयूरी- बोला न… मुझे अच्छा लगेगा.

कैसा लग रहा है?मामी जी- आज से पहले मुझे पता ही नहीं था कि गांड चुदाई में इतना मज़ा आता है. दोनों एक साथ झड़ गए, चाचा का समूचा वीर्य चाची की चूत के अन्दर ही पिचकारी छोड़ते हुए निकल गया. मैंने सोचा ‘बेटा आज मौका है चौका मार दे … नहीं तो अपना लंड हाथ से हिलाते रहना उसे कभी चुत नसीब नहीं होगी।’यह सोचकर मैं रसोई में गया और उसको पीछे से पकड़ लिया और गले पर चुम्बन करने लगा.

उन्होंने मुझे औंधा कर दिया और मेरी गांड पर किस किया, हल्के से उस पर काटा.

वो दे दूँगा लेकिन मेरे से बात कर लिया कर क्योंकि दिल्ली से आने के बाद मेरा टाइम पास नहीं होता. दोस्तो, आप मुझे मेल करके लिखें कि आपको मेरी ट्रेन में चुदाई की स्टोरी कैसी लगी. मैंने अपने नीचे हाथ लगा कर देखा, तो मेरी योनि खिल सी गयी थी, पंखुड़ियां और स्तनों के चूचक सख्त हो गए थे, योनि के ऊपर का दाना भी पत्थर सा हो गया था.

हां इतना जरूर करूंगा कि कहीं कोई मौका देख कर चूमा चाटी हो जाय और कम्मो के मम्में दबाने सहलाने को मिल जायें बस. दोपहर तक मुझे थोड़ा आराम करने का मौका मिला, सो मैं अपने कमरे में सोने चली गई. मैं और मेरे पति बहुत दिनों से इस साईट पर चुदाई की कहानी पढ़ रहे हैं.

हम दोनों की सिस्कारियां अब चीखों में बदल गयी और हम दोनों झड़ने वाले थे.

मैंने चूत पर लंड रखा एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर कर दिया और रात भर आंटी को इतना चोदा कि सुबह वो ठीक से चल नहीं पा रही थीं. मैंने कहा- आपने मेरी बॉडी एक्सरसाइज़ करते से देखी न?तो अंकिता बोली- हाँ तभी देखी थी न.

सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती कुछ दिनों बाद डीके का फिर मैसेज आया, हमारी बातचीत के बारे में डीके ने उस सफेद लड़के को बताया था. तभी वो एक दम से पलटा और बोला- सम्राट, ये तुम क्या कर रहे हो?मैं हड़बड़ाते हुए कहा- कुछ नहीं, अरे वो गलती से हो गया, क्यों तेरा उठता नहीं है क्या?शौर्य- उठता तो है मगर मुझे दूसरों का लंड उठाना ज्यादा पसंद है.

सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती वो फोटो खुलते ही कम्मो थोड़ी घबरा सी गयी और उसने फोन की स्क्रीन को अपने हाथ से छुपा लिया. अब वो भी बड़ी मेरी आंटी बड़ी कमसिन नज़रों से मुँह पलट कर हंसते हुए मेरी गांड पे चमाट मारते हुए गांड को नोंचते हुए बोलीं- लगता है अभी भी मन नहीं भरा मेरे योगू का.

मौसी चुदासी सी बोलीं- बस कर रे लवड़ा हमी मन लवड़ो दे थारो मारे मुडा म.

કાઠીયાવાડી ભાભી

मगर जब मैं घर आया तो वो मेरे पास आ गई और बोली- सॉरी कपिल कल के लिए. अभी मुझे पिता के घर आये कुछ ही दिन हुए थे कि मुझे पता लगा मेरी ननद जिसका एक 6 महीने का बच्चा भी था अपने पति के साथ किसी दुर्घटना में चल बसी। दुर्घटना में सारा परिवार परलोक सिधार गया मगर बच्चे को कुछ भी नहीं हुआ, उसे तो एक खरोंच तक नहीं आई. करीब 6-7 लेडीज थी और 10-12 जेन्ट्स!जब मैं लेटी तो करीब 10:30 बजे रात का समय हो चुका था पर मुझे बिल्कुल नींद नहीं आ रही थी, मेरे को सुबह के बाद अंकित भी नहीं दिखा, पता नहीं कहाँ चला गया था.

तो फिर मैंने उम्मीद ही छोड़ दी थी और मैं भी उसको अनदेखा करने लगा था. वो किसी रंडी लड़की के चक्कर में आ गए थे और वो रोज रात में उस रंडी लड़की के पास जाने लगे थे. चाचा ने अपने हाथ की स्पीड बढ़ाते हुए मादक स्वर में कहा- कसम से आज तेरी चूत को बहुत चोदूँगा.

पता ही नहीं चला कि कब हम दोनों अपने चरम सुख तक पहुंच गए और एक दूसरे से लिपट गए.

हां इतना जरूर करूंगा कि कहीं कोई मौका देख कर चूमा चाटी हो जाय और कम्मो के मम्में दबाने सहलाने को मिल जायें बस. तो कम्मो ने मेरे हाथ से फोन ले लिया और उस पर हाथ फिरा कर उलट पलट कर देखा. उनके गोल और बड़े आकार के मम्मों को छूकर मैं मन ही मन बहुत खुश हो रहा था.

मुझे मेरे लंड पे गर्म खून का अहसास हुआ और साथ उसके पानी से लंड पे बहुत गर्म अहसास होने लगा. लगभग 15 मिनट के बाद हम उठे, तो वो बेड पर गिरे खून के निशान देखकर घबरा गई. कुछ ही देर में उसका पानी निकल गया और फिर हम एक दूसरे को चूमते हुए एक दूसरे को बांहों में भरकर सो गए.

इमरान भाई, आप अपनी छोटी बहन को चोदेंगे।” उसने शरारत से मुस्कराते हुए कहा।क्या हर्ज है. पहली बार मेरे साथ ये सब हो रहा था तो उत्तेजना के मारे मेरा लौड़ा बुरी तरह तन्ना रहा था.

मुझे पता है कि आपको बहुत चिंता हो रही है ‘वो वाला’ सामान चेक करने की!” बहूरानी द्वीअर्थी बात मुस्कुरा कर बोली. वह सेक्स से इतनी बेहाल थी कि वह झट से नीचे बैठ कर लण्ड को मुँह में भर कर चूसने लगी. तभी उन्होंने इधर उधर देखकर अपना पेटीकोट भी उतार दिया और मेरी और पीठ करके खड़ी हो गईं.

उसी दिन शाम की ट्रेन थी, मैंने खाना बनाया और सब खाना खाकर हम लोग निकल गए.

मैं उसके ऊपर चुत में लंड फंसाए वैसे ही पड़ा रहा और चूचियां सहलाता रहा. पर मैंने इस तरह उसके कंधे पर अपना सिर रखा कि मेरी गर्म सांसें उसकी कान की लौ और गरदन को छूने लगीं. वन्द्या को थोड़ा इधर खिसका के जगह बना कर मस्त जमकर इसकी चुदाई करते हैं.

मैं भी थोड़ा जोश मैं आकर भाभी के निप्पलों को ज़ोर से दबाने लगा और उनके मम्मों के रस को निचोड़ने लगा. चूँकि उस वक्त में गांव में रहता था और आगे की पढ़ाई के लिए शहर में आ गया था.

हालांकि मुनीर अपनी टांगों में माइक को जकड़ने में असमर्थ रहती, फिर भी उसकी योनि की गुदगुदाहट उसे प्रेरित जरूर कर रही थी. बाद में मेरी इच्छा हुई थी कि खतरनाक शाम का वह विलेन मेरी गांड फिर से ले. फिर मैंने उसकी उम्र पूछी तो उसने बताया कि वो 28 साल की है और अभी तक उसका को बच्चा नहीं है.

सेक्सी वीडियो बहन की

मैं समझ तो रहा था कि मुझे इसकी चुत मिलने वाली है, पर वो इतनी तेज निकलेगी, ये मैंने भी नहीं सोचा था.

फिर मैंने देर ना करते उसकी चुत पर लंड टिका दिया और अन्दर डालने लगा. मौसी मेरी तरफ चारपाई डालकर सोती हैं और मौसा जी शराब के नशे में कहीं भी सो जाते हैं. तब अंकित ने मेरी टांगों को चौड़ा किया और चूत में अपने हाथ से थपकी दी और उंगली से फैला कर अपने लंड को जैसे ही रखा, तो इतना मोटा लंड बिल्कुल फिट नहीं हो रहा था.

मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और टॉयलेट में जाकर हस्तमैथुन करके लंड का पानी निकाल दिया. वे दोनों मर्द और स्त्री पूर्ण निर्वस्त्र थे और एक दूसरे के साथ आलिंगन कर रहे थे, जबकी मुनीर अपने कैमरे के सामने मुझसे बातें कर रही थी. ईनसटा गरामबस ये सोच कर ही मैं भाभी पर टूट पड़ा और साइड से उनके मम्मों को दबाने लगा.

इसलिए सोचा पूछ लूँ कि कौन है?शर्मा जी- अरे ये तो मेरा भतीजा है शौर्य, दिल्ली में रहता है, छुट्टियों के लिए मुंबई घूमने आया है. कुछ देर ऐसे ही चुदाई करने के बाद अब मैंने प्रिया की दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया.

जब सुबह वो आई तो मैं नाईट ड्रेस में सोया हुआ था और सुबह सुबह पेशाब नहीं करने की वजह से मेरा लंड तना हुआ था। पता नहीं उसने देखा होगा या नहीं … पर उस दिन के बाद वो मेरे नजदीक रहने लगी, मुझसे बात करने लगी थी और मेरी हर बात का ख्याल रखने लगी थी।फिर एक दिन कुछ काम से मेरे चाचा को राजस्थान गांव में जाना पड़ा, तो घर में मैं अकेला ही था क्योंकि चाचीजी ओर उनके बच्चे गांव में ही रहते थे. मैंने सोने का नाटक करते हुए उसकी छाती पर हाथ रख दिया और सूट के ऊपर से ही मैं उसके दूध को कभी धीरे से मसलता, कभी थोड़ा सा दबा देता. तुम काम खत्म होने के बाद पार्लर को बंद करके चाबी घर में देने आ जाना.

फिर वो मेरे ऊपर आकर बोले- सीमा मेरा वजन झेल लोगी ना?मैंने बोला- हां. इसलिए वो शेविंग क्रीम और रेज़र ले कर आया और मेरी चूत की शेव करने के लिए जब मेरी चड्डी नीचे की, तो उसे महकी हुई सेंट की महक मिलने लगी. जैसे जैसे उनकी किसिंग बढ़ती गयी, मैं अपने हाथों से दोनों को सहलाने लगा.

मैंने बाथरूम के दरवाजे को हल्का सा धक्का दिया तो वो खुल गया, उसने सिटकनी नहीं लगाई थी.

चूंकि हमारा ही घर था, तो चाचा के पास कुछ सप्ताह रुकने के बारे में सोचा. रजत- अरे कोई बात नहीं… मैं तो तुम्हारा भाई हूँ… किसी से कुछ नहीं कहूंगा.

मेरा पूरा मेकअप करने के बाद उन्होंने मेरे साथ एक सेल्फी ली और बोले- चलो अब तुम बेड पर बैठ जाओ. फिर वो बेड पर सीधी लेट गईं और मैं डीवीडी शुरू करके उसके पास बैठ गया. शायद वो खुद मुझसे कुछ पूछना चाहती थी, इसलिए बोली- तुम अपनी सीट पर चलो.

मैं भी इसी मौके की तलाश में था मैं धीरे धीरे उसके ऊपर आ गया और अपने आपको उसकी टांगों के बीच सैट कर लिया. पिछले महीने ही मेरे सास और ससुर जी ने बोला कि तुम दोनों भी एक बार खेत ओर गांव देखने चलो. उन्होंने अपनी टांग को सीधा करते हुए साड़ी उठा दी और कहा- शायद जाँघों पर है.

सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती तो चाची बोली- गौरी में ऐसा क्या देखा जो तूने उसको चोद दिया? और तू शादी के समय से मुझे भी घूरता रहता है. फ़िर मैंने एक तेज झटका मारा तो मेरा 3 इंच लंड आंटी की चुत में अन्दर चला गया.

কলেজের সেক্স

उसमे आयल निकाल लो और यहीं रख लो।” मुझे बताते हुए वह खुद टेबल पे लेट गयी और साथ लाये दूसरे तौलिये को रोल करके सरहाने की जगह रख दिया।अब खुद उस तौलिये पे चेहरा टिकाती औंधी हो गयी और आँखें मूँद लीं- जैसे समझ में आये करो. वो मेरा लंड पकड़ कर आगे पीछे करने लगी और थोड़ी देर बाद उसने जैसे ही अपने मुँह में मेरा लंड लेकर चूसना चालू किया … मेरे मुँह से एक लम्बी ‘ऊओह …’ निकल गई. शीतल- हाय मेरी प्यारी बेटी…और ऐसा कहकर शीतल के होंठों पर एक प्यारा सा चुम्बन देकर अपने बेटों के कमरे में चली गयी और मयूरी ने अशोक के कमरे का रुख किया.

मैंने कहा- चाची जब मेरी शादी की थी तब यह नहीं सोचा गया था? जो अब बोल रही हो. मैंने उससे पूछा- क्या बाकी के लैटर्स नहीं लेना है?वो हंस दी और बोली- अब मुझे कोई डर नहीं है. सेक्सी पिक्चर ब्लू इंग्लिशश्लोक- बाबा, कैसे संकट के बात कर रहे हो आप?बाबा- बेटा, मैंने सीमा के मस्तक की रेखाओं को पढ़ा है और मुझे ज्ञात हुआ है कि 2 साल बाद उसके पिता पर बहुत बड़ा आर्थिक संकट आने वाला है.

क्योंकि उसकी चुत अब भी कसी हुई थी जिस कारण उसको दर्द हो रहा था और अब वो रोने लगी थी.

एक दिन बुआ जी ने कहा- अब तो कुछ टाइम बाद मैं चली जाऊंगी, उसके बाद तुम क्या करोगे?मैंने कहा- दीदी, आपकी मुझे बहुत याद आएगी, अगर आप कहेगी तो मैं कभी कभी आपसे मिलने आ जाया करूँगा. मेरे लंड का पानी निकल गया, लेकिन भाभी ने लंड बाहर नहीं निकाला बल्कि वे मेरे लंड के रस को बड़े चाव से चटखारा लेते हुए पूरा पी गईं.

दूसरे दिन से में कॉलेज में जाकर हर किसी लड़के को देखकर स्माइल देने लगी, पर सब बदले में स्माइल देकर निकल जाते थे क्योंकि मैं शरीफ लड़की थी इसलिए लोग अब भी मुझे शरीफ ही समझ रहे थे. वो मेरी दोनों टांगों के बीच में आ गया और मेरी चूत में उंगली करने लगा. भाभी का पति अपनी फैमिली को अपने पास शहर में ले गया और मैं आज तक प्यार की तलाश में अकेला ही हूँ.

जैसे मेरी चूत में लंड घुसा लगा कि मैं मर गई, मुझे इतना तेज दर्द हुआ, तो समाली अंकल जल्दी से अपने होंठों से मेरे होंठों को काटने लगे.

प्रिया फोन पर बोली- हैलो!मैं बोला- हां बोलो!प्रिया बोली- आई मिस यू बेबी. मैं भाभी के दोनों मम्मों को बारी बारी से चूस रहा था और निप्पलों को कभी रगड़ता, कभी काटता. इसी बीच अशोक ने अपनी बेटी के टॉप के ऊपर से ही उसकी चूचियों का नाप ले लिया.

मेरे बेस्ट फ्रेंड का नाम बताओएक ही कप से आप और मैं दोनों ही आइस्क्रीम निकाल कर खा रहे हैं और किसी को नहीं लगता कि वो दूसरे की झूठी खा रही हैं. उसकी चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी, जिसकी वजह से पैंटी भी गीली हो गई थी.

नंदू सेक्सी

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले समस्त पाठकों को गोपाल कुमार का सादर नमस्कार! मैं बहुत दिनों से सोच रहा था कि अपनी चुदाई की नयी कहानी लिखूं लेकिन मौका ही नहीं मिल पा रहा था. अआआआ … उईईईई … मर गईईई … ईई …ई …” उसने फिर से मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया. मुझे बस मम्मी और पापा तब डांटते हैं जब मैं कभी कभी कभी गलती से ड्रिंक कर लेती हूँ.

मामी जी का शरीर अब अकड़ने लगा था, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ा और ‘ह्ह्ह्हह… अह्हह. जब मैंने आँखें खोली तो देखा कि दरवाजे पर नौकरानी खड़ी है और बड़ी गौर से वह हम दोनों की लंड चुसाई देख रही थी. मेरी पत्नि सहमति में सिर हिलाते हुए बेड पर लेट चुके दीमा के पेट के ऊपर पैर फैला कर घुटने अगल-बगल में टिकाए हुए बैठ गई.

भाभी ने वो कवर पलटा तो वो ये देख कर हैरान रह गईं और बोलीं- दीप तुम ऐसे मूवी देखते हो?तो मैंने भी हिम्मत कर के बोल दिया- भैया भी तो मुझसे ही ये मूवी लेकर आपको दिखाते हैं. बहूरानी ने देखा तो उसने खुश होकर मुझे अपने होंठों से चूमने का इशारा किया. मैं चंडीगढ़ में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता हूँ और अपने मम्मी पापा, जो रिटायर्ड हैं, के साथ अपनी बड़ी सी कोठी में रहता हूँ.

पापा जी, कहां गया आपका वो?” वो अपना हाथ नीचे लेजाकर टटोलते हुए पूछने लगी. जैसे ही मैंने उसकी चूत में थोड़ी सी उंगली डाली, तो उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं.

धीरज बहुत ही मेहनती था और कुछ ही समय में वो कंपनी में उच्‍च पद पर आ गया।अब क्योंकि मैं उससे रोज़ ही मिलती जुलती थी धीरे धीरे मैंने खुद को पाया कि मैं उसको चाहने लगी हूँ मगर मैंने कभी उससे जाहिर नहीं होने दिया क्योंकि मुझे नहीं पता था कि वो मेरे बारे में क्या सोचता है.

पूरे 6 दिन हमारी चुदाई नहीं हुई थी, तो मेरी चुत में खुजली हो रही थी. ইংলিশ বিএফ সেক্সमैंने उससे पूछा- तुमको इतना अनुभव कैसे है सेक्स का? तुम तो बहुत अच्छी चुदाई कर रहे हो?तो वो बोला- मैं अपनी भाभी को भी चोदता हूँ. नहाने का वीडियोउनमें से मेरा एक दोस्त था मोहित। मोहित के अलावा रमन और सोहित भी मेरे अच्छे दोस्त थे जिनके साथ मेरी ज्यादा बनती थी इसलिए मेरा उसके घर भी ज्यादा आना जाना बना रहता था।मोहित एक बिजनेसमैन था और उसकी जिन्दगी बहुत अच्छे तरीके से चल रही थी। मोहित की पत्नी जिसका नाम नीलम था. उन्होंने अपनी जीभ मेरे मुँह में दे दी, मैंने अपने होंठों से उसे आइसक्रीम की तरह चूसा.

थोड़ी देर में सब लोग बाहर हॉल में आ गए, सब लोग सामान्य दिखने का प्रयास कर रहे थे पर अंदर से सब एक दूसरे से कुछ छुपा रहे थे.

शीतल- अरे पर तुम्हारे पापा तो अभी घर में हैं… कैसे जाऊँ?मयूरी छेड़ते हुए- क्यूँ? अपने पति की लंड की याद आ रही है?शीतल- अरे नहीं… नहीं… पर उन्होंने देख लिया तो?मयूरी- देख लिया तो क्या? तुम डरती क्यूँ हो? वो भी तो बेटीचोद बन चुके हैं. उसमे आयल निकाल लो और यहीं रख लो।” मुझे बताते हुए वह खुद टेबल पे लेट गयी और साथ लाये दूसरे तौलिये को रोल करके सरहाने की जगह रख दिया।अब खुद उस तौलिये पे चेहरा टिकाती औंधी हो गयी और आँखें मूँद लीं- जैसे समझ में आये करो. साथ ही उन्होंने अपने एक हाथ से मेरे दूसरे मम्मे को पकड़ लिया और हल्का हल्का मसलने लगे.

दो दिन बाद मेरे माँ बाप ने धीरज के मां बाप से मिल कर हमारा रिश्ता पक्का कर दिया. मैंने सिगरेट उठाई तो उसने मेरी सिगरेट ले ली और खुद ही लाइटर से जला कर बड़ी दिलकश अंदाज से कश खींच कर सिगरेट मेरी तरफ बढ़ा दी. साधना उठी और सीधा बाथरूम में घुस कर बिना देर किये नंगी हो गई और शावर चला कर उसके नीचे खड़ी हो गई। ठण्डे ठण्डे पानी की बूंदों ने बदन में एक बार फिर से हलचल मचा दी और रात का नजारा याद आते ही साधना का हाथ एक बार फिर से अपनी चुत पर पहुँच गया था।कहानी जारी रहेगी.

સેક્સ બ્લુ

फिर जब मुझे लगा कि प्रिया अब ठीक हो गई है, तो वैसे ही मैंने लंड को थोड़ा सा बाहर निकाल कर एक और जोर से धक्का दे दिया. वो मुझे कई बार बोलती थी कि आप इतने साल से बिना सेक्स किए कैसे रहती हो. पर जब सोहेल नहीं माना, तो पायल ने घर से ही किराना सामान का बिजनेस शुरू किया.

मेरी आँखों के ठीक सामने मौजूद भक्काड़ा छेद के अन्दर उथल-पुथल मची हुई थी.

फिर उसने अपने फोन से उसके लवर को कॉल किया और बोला- मैंने सीमा से आने को बोला है.

वो मुझे चोद रहा था और मैं सिसकारियां ले रही थी- आह आह जानू चोदो मेरी चूत को … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आज शांत कर दो मेरी चूत की प्यास बुझा दो … बहुत दिन से चुदी नहीं है आह आह आह…मेरे मुख से ऎसी आवाजें निकल रही थी. पद्रह मिनट की ठुकाई के बाद मैंने अपना माल उसकी चूत में उतार दिया और उस पर गिर पड़ा. लड़कियों का फोटो सेक्सीतो यह थी मेरी और रेशमा की चुदाई!दोस्तो, कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी, मुझे जरूर मेल कीजिएगा.

हालांकि अपनी गर्लफ्रेंड को भूलना मेरे लिए उतना आसान नहीं था, तब भी मैंने किसी तरह मन लगाना शुरू किया. अब मैंने उसके दोनों अमृत कलश के चूचुकों को चिकोटी से हौले हौले दबाते हुए उसकी जांघें पूरी तन्मयता से चाटने लगा. वो मेरा लौड़ा चूस रही थी और एक हाथ से आंडों के नीचे उंगली फिरा रही थी.

मैं उनसे लिपटी ही हुई थी, उन्होंने चुदाई की हालत में मुझे और अंकित को देखा तो अंकित घबरा गया, उसने जल्दी से अपना लन्ड मेरी गांड में से निकाला तो भी मुझे बहुत दर्द हुआ. तो मैंने बीच की दो उंगलियां ऊपर की तरफ पलट कर चूत में डाल दीं और जैसा नेट पे मैंने पढ़ा था, वैसे जी स्पॉट ढूंढ कर उस पर उंगलियों से हरकत करने लगा.

इस तरह से उसने मुझे उसके लव अफेयर के बारे में भी बताया और मुझसे पूछा- आपका कोई ब्वॉयफ्रेंड है?तो मैंने ना बोला.

अचानक इतने मोटे लंड से चूत में हुए फैलाव को मामी बर्दाश्त नहीं कर पायीं. मैंने सोचा कि अच्छा होगा अगर मैं यहाँ से कहीं और चली ज़ाऊं और फिर से नई जिंदगी शुरू करूँ. हामी भरते हुए और डीके का मनोमन शुक्रिया अदा करते हुए मैं उन दोनों के पीछे पीछे बेडरूम में चला गया.

सोनाली बेंद्रे की सेक्सी वीडियो अब वो बोली- राजे, अब और बर्दाश्त नहीं किया जाता! मेरे बाबू और मेरी मुनिया का मिलन करवा दो जल्दी!मैंने कहा- जो हुकुम मेरी जान!मैंने उन्हें सोफे पर लिटा दिया और दोनों पैरों को फैला दिया, उसके बाद मैंने अंगूठे से उनकी चूत को सहलाया और एक जोरदार चुंबन किया. जब वो ऊपर चढ़ीं, तब उन्होंने अपना गाऊन करीबन जांघ तक ऊपर को उठा लिया था.

उसने लंड को ताकत से मेरी चूत में दबाया तो मैं चिल्ला उठी- भाई अंकित … मार डालेगा क्या साले. पर मैं उसकी किसी बात पर ध्यान न देते हुए उसको अपनी बांहों में जकड़े हुए था. खैर इतना कहते ही माइक ने बड़ी शालीनता से मेरा स्वागत किया और भीतर आने का न्योता दिया.

मालिक ने नौकरानी को चोदा

विक्रम गुस्से से- मतलब?मयूरी- मतलब कि मैं तुम दोनों पर एक-साथ अपनी जवानी लुटाना चाहती हूँ. और मुझे तो बस यही चाहिए था … मैं वहीं पर पानी से उसके शरीर से साबुन उतारकर लगा उसकी चूत चाटने … और फिर उसकी सिसकारियां चालू हो गयी. मैं 5 फुट 11 इंच की हाइट का एक बहुत ही गोरा और एथलीट बॉडी का मालिक हूँ.

वैसे भी उनकी उंगलियों के तेल से भीगे होने के कारण मेरी गांड अन्दर तक तेल से सन चुकी थी. सुबह उठा तो मम्मी ने बोला- बेटा, रात का दूध फट गया है … तुम मदर डेयरी जाकर दूध ले आओ … तो मैं चाय बनाऊं.

मेरी सहेलियों के साथ ऐसा हुआ भी है कि उन्होंने अपने ब्वॉयफ्रेंड से चूत चुदवाई और बाद में उनके ब्वॉयफ्रेंड्स ने उनकी बदनामी भी कर दी.

मैंने उससे कहा कि अगर दिन में दिल किया करे तो तुम टीवी देख लिया करो. अब जल्दी से मिलवा दो इसे मेरी पिंकी से … टाइम कम है!”अदिति मेरी जान, लंड को लंड ही कहो न और तुम्हारी पिंकी नहीं चूत कहते हैं इसे!”धत्त, मैं नहीं कहती ऐसे गंदे शब्द!” बहू ने नखरे दिखाए. नमस्कार मित्रो!मेरे द्वारा लिखी चुदक्कड़ परिवार की कहानीभाई बहन की सेक्स स्टोरीकुछ माह पूर्व अन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई थी.

मैंने भी मन ही मन तय कर लिया कि इसे रोशनी में पूरी नंगी करके अपने लंड पर झूला न झुलाया तो मेरा भी नाम नहीं. मुस्कान अभी मेरा लंड मुँह में लेकर चूस रही थी और मैं उसकी गांड में उंगली को अन्दर बाहर कर रहा था. बस कुछ ही मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मेरा रस निकलने को हुआ तो मैंने मौसी की तरफ देखा.

हमारी नजरें टकराईं और क्या बताऊं दोस्तो, उसकी आंखों में मैं जैसे खो गया.

सेक्स बीएफ हिंदी में देहाती: ऐसा कहते हुए बड़े ही कामुक अंदाज़ में अपना हाथ अपनी पैंटी में डालकर अपने चूत को छेड़ने लगी. सिर्फ इस कारण कि वो हर दिन में हर रात में दो तीन राउंड चुदाई करवाती है। वैसे ही वन्द्या तुम भी इतनी उम्र में बिल्कुल मस्त माल बन गई हो, हर औरत तेरे सामने फेल है.

यह सुनते ही मेरी तो हवा निकल गयी, हम ऐसे इंटरनेशनल हालत में, कोई कच्छे में, कोई शॉर्ट में, मैं तौलिया लपेट के बैठा था, सभी ऊपर नंगे बदन ही बैठे थे. ये देखते ही वो चिल्लाने लगी- छी: कितना गंदा है ये, बदबू है इसमें, ये में बिल्कुल नहीं करूँगी, मुझे नहीं करना … प्लीज जीजू रोको इनको. मुन्ना ने जल्दी से कपड़े डाले और बोला- मैं अभी गोली खरीद लूँगा और तुमको सुबह सुबह दे दूँगा ताकि अगर प्राब्लम होगी तो भी उससे छुटकारा मिल जाए.

बाहर उसके पापा थे, उसने पापा से बोला- अंदर पानी नहीं है, मुझे भी बाल्टी चाहिए, अंदर पानी डालूंगा टायलेट में, तब आपके जाने लायक होगा.

और वो अपने पापा की एकदम नजदीक बैठी है इसलिए जरा सा भी हिलने-डुलने पर उसकी चूचियां उसके पापा की चेहरे से टकरा रही थी. यूं भी लोग सेक्स में अलग अलग एक्सपेरिमेंट्स करने को उत्सुक रहते हैं. उसी दिन लगभग 15 किलोमीटर आने के बाद बारिश शुरू हो गयी अचानक से हल्की सी … लेकिन हम दोनों ने ध्यान नहीं दिया क्योंकि हम तो बाइक पर बातो में मगन थे, वो मेरे पीछे चिपक कर बैठी हुई थी और मेरे सीने पर हाथ फेर रही थी.