सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी

छवि स्रोत,16 साल लड़की की

तस्वीर का शीर्षक ,

जिंदगी की बीएफ: सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी, उसने मेरी आंख से आंख मिलाई तो मैंने उससे आंख दबा कर कहा- पूरा खेल देखना है?उसने हां में मुंडी हिला दी.

सेक्स वीडियो करते हुए दिखाएं

बस में भीड़ देखकर एक पल के लिए तो मैं घबरा गई, पर ये आखिरी बस थी तो जैसे तैसे मुझे जाना ही था … नहीं तो फिर अपना पर्सनल ऑटो करके जाना पड़ता, जो कि इस ढलती शाम में मुझे ज्यादा सुरक्षित महसूस नहीं हो रहा था. ओपन नंगा शॉटये सेक्स कहानी 2 साल पहले उस वक्त की है, जब मैं रिश्तेदार के यहां शादी में जा रहा था.

’बाहर से अनन्या की कोई आवाज नहीं आयी मगर मैं बस उसे छेद को फाड़ देना चाहता था. भारत और पाकिस्तान का मैच दिखाइएभाभी के मुँह से आउच निकला और वो बोलीं- आह धीरे करो यार … सोम जाग जाएगा.

मेरे लंड के चारों तरफ नर्म-नर्म गर्म-गर्म … रंगोली किसी मछली की तरह तड़पने लगी.सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी: फिर मुझे लगा कि अब मेरा होने वाला है … तो मैंने उनसे कहा कि मौसी मेरा होने वाला है.

कुछ देर अपने मन की करने के बाद मैंने अर्शिया की ब्रा वापस ठीक की और टॉप के बटन भी लगा दिए.सुहागरात पर गाँव की लड़की की चुदाई का मजा लेने के बाद उसका पति उसकी चूत का दीवाना हो गया.

पकौड़ी कैसे बनाई जाती है - सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी

ये सब चलते चलते पूरे कमरे में उसकी मादक सिसकारियों और मनमोहक खुशबू फ़ैल गई थी.वह भी मेरे निकले हुए वीर्य को अंदर गटक गई और बोली- तुम्हारा रस बहुत टेस्टी है.

हम दोनों में ही बेताबी इतनी अधिक थी कि उसने होंठ चूसते हुए ही मेरी जींस का बटन खोल दिया और जींस को मेरे पैरों में सरका दिया. सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी लेकिन मेरा मन उनका मोटा लंड देख कर मचल उठा था और मान ही नहीं रहा था.

उसकी चाल कुछ धीमी हो गई थी और मेरे लौड़े ने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी थी.

सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी?

इसी दौरान मैंने शरद के कहने पर असीम को सर्वेंट क्वार्टर से निकाल कर घर में ही रहने कह दिया था. वो जब भी मेरे घर मम्मी से मिलने आती थीं और मम्मी उनके लिए कुछ चाय आदि लेने जाती थीं, तो उस समय मैं उनके पास आकर उनसे बात करने की कोशिश करने लगता था. कामवाली बाई के होंठ बहुत बड़े और ऐसे रसीले थे मानो उनका मजा हर एक घंटे में कोई लेता हो.

उधर रेशमा भाभी भी कस कस कर मेरे लंड पर कूदते हुए अपने मम्मों को शताब्दी एक्सप्रेस के जैसे उछाल रही थीं. कुछ ही दिनों में ऐसा होने लगा कि मैं मैडम से पढ़कर आने के बाद अपने बाथरूम में आकर मैडम के नाम कि मुठ मारने लगा था. मैं जल्दी से पार्लर हो आयी थी और मैंने अपने थोड़े से बाल कुछ अलग अंदाज से सैट किए थे.

साथ में हम दोनों लोग बीच बीच में एक दूसरे के गुप्तांग भी सहला रहे थे. दोस्तो, मैं निर्वाण शाह एक बार फिर से अपने और कोमल के बीच की चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूं. इस बार सबसे पहले मैंने मैडम की गांड में उंगली की, तो मैडम ने कहा- पीछे से शुरुआत करोगे?मैंने कहा- हां, मुझे आपकी गांड बहुत मस्त लगती है.

होटल से पिकअप एंड ड्राप की सुविधा मौजूद थी तो मैंने होटल के मैनेजर को बता दिया कि 9 बजे तक मैं निकल जाऊंगा. मैं दीदी के कान में चुपके से बोला- दीदी कैसा लगा आपको?दीदी- वीर, आज तक मेरी चूत को कोई ने इस तरह से नहीं चूसा.

थोड़ी देर बाद आरू बोली- भाई अब रहा नहीं जा रहा है … पेल दो अपना लंड … अपनी बहन की बुर में.

न जाने मुझे क्या लगा कि और मेरे लंड में न जाने कहां से उत्तेजना आ गई कि मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मेरे बगल में बैठते ही उसने एक बार तो नज़र उठा कर मुझे देखा लेकिन फिर वो नीचे सर करके बैठ गया. मुझे वो बर्दाश्त नहीं होता क्योंकि कोमल शाम से ही मुझे सिग्नल दे रही थी. कुछ देर बाद मैंने उसकी बहन को भी घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चुत चोदने लगा.

उसकी चुत के अन्दर तक कुछ तेल गया, तो अब मेरी उंगली उसकी चुत में आसानी से अन्दर चली गयी. मैंने उसे लंड चूसने को कहा, तो वो बैठ गई और लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. अभी इस माहौल में सब लोग घर में ही हैं, मैं सभी से इल्तिजा करता हूं कि आप अपने घरों से बाहर ना निकलें.

जितना मैंने सोचा था, उससे भी ज्यादा बड़े और गोरे थे और एकदम टाइट थे.

फिर से अब्बू ने अपने लण्ड पर थूक लगाई और मेरी बुर के लबों को फैलाकर अपने लण्ड का सुपारा लबों के बीच में फंसा दिया और अपनी कमर को नीचे धकेलने लगे. मेरी रण्डी माँ की सेक्स कहानी के पहले भागपापा के दोस्त और मेरी मां के सेक्स सम्बन्धमें अब तक आपने पढ़ा था कि पापा के दोस्त राजेश अंकल ने मेरी मां को अकेली पाकर चोद दिया था और दुबारा चोदने की बात कह कर चले गए थे. मेरी बहन ने भी सारी बात सुन ली थी, वो भी बहुत खुश थी और मम्मी भी खुश थीं क्योंकि अब मैं जॉब करने वाला था.

भाई ने अलग-अलग सेक्स साईट से गांड मारने की पोजीशन देख देख कर मुझे चोदा था. क्या सच में मैं भी उन लड़कों की तरह बन जाऊंगा जो शादी के पहले सेक्स कर लेते हैं और गर्लफ्रैंड को झूठी बातें कहकर उनके जिस्म को चूस लेते हैं. ”लण्ड को मुमताज की बुर में ठोंकते हुए मैंने कहा- अभी तो मुमताज चुदवा रही है और विजय चोद रहा है, फिर तुम बकरी बना कर बकरा चोदेगा.

ये सुनकर मैं भी जोश में आ गया और बोला- आज रंडी सरोज साली जाटनी, बिहारी लंड से चुद रही है … आह जाटनी ले रंडी साली.

खैर, अब मैंने उसकी चूत को अपने मुँह में भर लिया और जितना हो सकता था उतनी ही जोर से उसकी चूत को चूसने लगा. मैं भी पूरी ताकत से भाभी से लोहा ले रहा था, उनके छेद को और भी चौड़ा कर रहा था.

सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी फिर तेज आहहहह की आवाज करते हुए मैंने उसकी गांड में अपना वीर्य छोड़ दिया. दूसरी तीसरी बार का मामला होता तो ऐसी मखमली चूत का रस तो मैं पहली बार में ही निचोड़ कर पीता.

सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी एक घंटे बाद उसका फोन आया और उसने कहा कि मैं होटल के रिशेप्शन पर हूँ. अर्शिया जब भी छुट्टियों में मेरे घर आती है, तो हम सब लोग काफी मस्ती करते हैं.

उसका एक हाथ मेरी नंगी पीठ को सहला रहा था और दूसरा हाथ मेरे उभरे हुए चूतड़ों पर था.

बीपी लाइव

लिंग को ढीला छोड़कर मैंने अपनी तर्जनी उंगली उसके लिंग के छिद्रित भाग पर ले आई. मेरे चुपचाप रहने से उसकी हिम्मत बढ़ गई और उसने अपने हाथ मेरी कमर में डालकर मुझे उठा लिया. दुकान क्या एक काफी बड़ा अहाता था, जिसके अलग अलग कमरों में अलग अलग आइटम का भण्डार था.

अब मैं रुकने वाला नहीं था क्योंकि बड़ी मशक्कत के बाद ऐसा आनन्द आ रहा था. वो सोढ़ी के हाथों से अपने मम्मे मिंजवाती हुई गांड लंड पर ऊपर नीचे पटक रही थी. मैंने अपनी मौसी की गांड मार ली थी और अब तो मौसी के सभी छेद रमा हो गए थे.

तभी अचानक से मुझे याद आया कि मैंने एक नॉनवेज पिक्चर देखी थी, उसमें भी लड़की शुरूआत में मेरी ही तरह रहती थी.

मुंतजिर की ये बात सुन कर मैंने अपना कामरस उनके मुँह में निकाल दिया. मेरी दीदी की देवर के साथ चुदाई खत्म हुई तो मैं वहां से धीरे से चल दिया. थोड़ी देर बाद आरू बोली- भाई अब रहा नहीं जा रहा है … पेल दो अपना लंड … अपनी बहन की बुर में.

उसने अपनी उंगली से मुझे पास आने का इशारा किया, तो मैं समझ गई और बिस्तर से नीचे उतर कर उसके सामने अपने घुटनों पर बैठ गई. हाय दोस्तो, हम निशा और विराट आज फिर से आपके लिए अपनी सच्ची सेक्स कहानी लेकर हाजिर हैं. पूरा हफ्ता इंट्रो और कंपनी पॉलिसी की ट्रेनिंग थी तो हम दोनों एक दूसरे के काफी करीब आ गए थे.

ऐसा कहते ही मैंने उसके दोनों चूचों को कसके अपने हाथों में जकड़ लिया. जैसे ही वो मेरे सीने से लगी, उसके कड़क बूब्स मेरी छाती में धंस से गए और मुझे तो नशा सा चढ़ गया.

उस दिन हमारे बीच में क्या हुआ, मैं वह सब अपनी अगली सेक्स कहानी में बताऊंगी. देसी लड़की Xxx कहानी में पढ़ें कि जिस लड़की का मैंने बड़ी होने का सालों इन्तजार किया, वो अब मेरा लंड खाने को तैयार थी. बहुत देर तक उन्होंने मेरे बोबों को दबाया, फिर मुझको जोर से पलट दिया.

मगर अलीज़ा के बारे में अभी ये कहना मुश्किल था कि वो मेरे लंड से चुदेगी भी या नहीं.

जब अशी ने हद ही कर दी, तो उसको (प्रियंका को) बीच में आना पड़ा और उसने यह सब मुझे बता दिया. नाश्ता करते समय भी अंकल मेरे जोबन को ही निहारते रहे, मैं भी अंकल को अपनी जवानी के दीदार कराती रही. कुछ देर बाद में मोटो बहुत ही बुरी तरह से काम्पने लगी और उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया.

वो कराहती हुई बोलीं- आह मर गई … थोड़ा बाहर निकालो … मुझे दर्द हो रहा है. इस बार जब भी अनिकेत घर आएगा, मैं उसको ड्रिंक कराके सुला दूंगी, फिर तुम्हें कोई प्रॉब्लम नहीं होगी.

फ्रेंड सिस्टर सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने अपने दोस्त के साथ रूम में रहता था. निशा एकदम से शॉक्ड हो चुकी थी, उसे इस बात का भी ध्यान नहीं रहा कि उसका स्कर्ट ऊपर उसकी जांघों तक ऊंचा उठ चुका है. सेक्स के खेल में सबसे ज्यादा जरूरी बात ये है कि आप जिसकी भी चूत चोदकर चबूतरा बनाना चाहते हैं, उस लड़की की मान मर्यादा और इज्जत का विशेष ख्याल रखें तथा प्राइवेसी बनाकर रखें.

त्रिशकर मधु viral video

निशा ने वापस मेरा सर दबाना शुरू कर दिया और मैंने उसके एक हाथ को सहलाना शुरू कर दिया.

मैं लंड के झटके मुँह के अन्दर तक मारने लगा और वो गपागप गपागप चूसने लगी. मैंने उसकी और सवालिया नजरों से देखा तो वो बोली- मेरा मतलब है कि आपके साथ ही हूं. ये बात शायद हर औरत समझ सकती है कि कोई मर्द के द्वारा चुदने के बाद जब वो अपनी चुत को लंड से निकले वीर्य से भर जाती है तो उसका अहसास चाह कर भी शब्दों में बयान नहीं हो पाता.

इसके कुछ सेकंड बाद उसने मुझे सहलाना शुरू किया और मेरी चूचियों को पीने लगा. मैंने अपने लंड पर हाथ फेरते हुए पीहू को इशारा किया, तो उसने भी मुस्कान बिखेरते हुए जवाबी इशारा कर दिया. भाभी की चूत में लौड़ाआप सभी से निवेदन है कि मेरी सेक्स कहानी पर आप अपनी राय मेल से भेजें और मुझे कोई वेश्या न समझें.

मेरे नंगे होते ही मुंतजिर ने लंड को मुँह में ले लिया और ब्लोजॉब देने लगीं. मुझको कुछ अजीब सा लगा, परन्तु मैं था तो एक कमसिन ही, जिसने अभी अभी जवानी में कदम रखा था.

उसने अपनी जांघों को मोड़ लिया, जिससे कि मेरा लंड उसकी चूत के ठीक ऊपर आ गया था. मैंने उसके कान में बोला- रुक क्यों गई … हम पर किसी की भी नजर नहीं पड़ने वाली. आह … वो हलचल मैम की उंगलियों की थी जो पैंट के ऊपर से लंड को महसूस करने की नाकाम कोशिश कर रही थी.

चुत रस मैंने पहली बार पिया था, तो थोड़ा सा स्वाद कसैला, खट्टा और नमकीन सा स्वाद था. ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, एक हॉट सेक्सी गर्ल बेडरूम में आयी, यही कहानी है. मैं उसे देख रहा था तो ऐसा लग रहा था जैसे मैं आज सातवें आसमान पर हूँ.

अब मैं झड़ने वाली थी- आह मेरी जान, ओहतेरी चुत फाड़ दूंगा मैंआज रात … आह मेरी रश्मि … फाड़ दो मेरी चुत … हां और तेज चोदो … शरद … आह … शरद आह … ऊई मां … आह.

फिर वो पलट गई और उसने इस बार मेरे लंड को अपनी गांड के छेद पर लगा दिया. ओमी अंकल ने तो एक बार मेरी गांड पर भी हाथ फेर कर मुझे शाबाशी दी थी.

लता बार बार मुझे बधाई पर बधाई दिए जा रही थी कि मुझे आपकी सेक्स कहानी में जो आपने किया है … वो बहुत पसंद है. इसी बीच मेरी कुंवारी चुत में आशीष के मोटे लंड से चुदने की बहुत चुल्ल मचने लगी थी. तभी उसने अपने हाथ में थूक लगाया और लंड को धीरे धीरे आगे पीछे करने लगी.

आंटी को गांड फाड़ चुदाई में काफी देर तक दर्द हुआ मगर बाद में आंटी को अच्छा लगने लगा. अपने बाएं हाथ में फोन लेकर उसने शायद मैसेज में कुछ लिखा और मोबाइल को तिरछा करके मेरी तरफ घुमाया. वो मेरे सीने से चिपक कर सुबकने लगी थी और मुझसे बार बार माफ़ी मांग रही थी.

सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी उनकी चूत बहुत गीली थी, इसीलिए आधे से ज्यादा लंड चुत के अन्दर घुसता चला गया था. इस वक्त मुझे खुद एक लंड की जरूरत थी … जो मेरे सामने मुझे चोदने के लिए रेडी था.

चोदी चोदा का

पैरों में सफ़ेद जूते पहन कर मैंने खुद को आईने में देखा, तो आज मैं बहुत सेक्सी और कड़क माल लग रही थी. कुछ देर बाद में मोटो बहुत ही बुरी तरह से काम्पने लगी और उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया. भाभी ने दूध हिलाते हुए मुझसे पूछा- क्या देख रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी … आपका मंगलसूत्र देख रहा था.

मैं कपड़े धो रही थी और पीछे से जेठ जी मुझे देख रहे थे; ये बात मुझे पता नहीं थी. मैंने भी बोतल से मुँह लगाया और एक लम्बा घूंट लेकर उससे चिपक कर सो गया. भोजपुरी हॉट सेक्सी वीडियोरंगोली ने अपने पैर साहिल के कंधे में रख दिए और सिहरने लगी- साहिल भैया धीरे … अअअअ!पर साहिल नहीं रुका.

मैंने उसे सहारा देकर उठाया और अपनी गोद में उठा कर उसे बाथरूम में ले गया, उसे बाथटब में लिटा दिया और हल्का गर्म पानी भर दिया.

फोन पिक किया तो उधर से राजीव सर बोले- हैलो रश्मि!मैं- जी सर, क्या हुआ इतनी रात को आपका कॉल!राजीव- रश्मि मैं तुम्हारे घर के सामने हूँ, प्लीज मुझे तुमसे अभी मिलना है. वह तो चाहती थी कि अभी ही विजय का लंड हाथ में लेकर अपनी चूत में घुसवा ले … पर वह ऐसा नहीं कर सकती थी.

रात को सोने का समय हुआ तो मैं बुआ को इशारा करके छत पर चला गया और बुआ के आने का इंतजार करने लगा. मैंने कहा कि मेरा लौड़ा अब नहीं निकलने वाला है … आज जाटनी की गांड में पानी निकाल कर ही रूकेगा. ये क्या कर रहे हो चचा?”कुछ नहीं कर रहा!” इतना कहते कहते मैंने उसे बाँहों में जकड़ लिया और बुर्के के ऊपर से ही चूमने लगा.

उसका नाम विजय माथुर था, जो उत्तर प्रदेश के मथुरा से इस सुनहरे सपनों की नगरी मुंबई में आया था.

उसने मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लंड पर हाथ रख लिया और मेरे सीने से अपनी चूचियां सटा दीं. झड़ने से अब भाभी की चूत पूरी तरफ से गीली थी तो लंड बड़े आराम से अंदर बाहर हो रहा था. ” इतना कहकर मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला, नाज की टाँगें सहलाईं और उसको पलटाकर बकरी बना दिया.

पुरी सेक्स वीडियोउसने बड़ी तेजी से मेरी पैंटी को मुझसे अलग किया और सीधे नीचे जाकर मेरी गीली चुत को चूमने लगा. मैं बस भाई से कह रहा था कि भाई रूको मत … आज पूरी रात हम दोनों भरपूर मजा लेंगे.

बीपी फिल्म दिखाओ

ये अचानक से हुआ था, तो उसके मुँह से चीख निकल गयी- आआआ … आई … फाड़ दी … मेरी चूत!मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबा लिया और उसे स्मूच करना शुरू कर दिया. उनके मुँह से इतना सुन कर मैंने घर पर फ़ोन करके बोल दिया कि आज रात मैं अपने दोस्त के यहां रुक रहा हूँ. मैंने उसके हाफ लोअर को नीचे की ओर खींचा, तो उसने भी अपनी गांड उठा कर लोअर उतरवाने में मदद की.

मैंने एक बार उसके दोनों नंगी मम्मों को अपने हाथों से पकड़ कर मसला और उसकी एक मीठी आह सुनने के बाद मैं नीचे चूत की तरफ देखने लगा. उसके कोमल होंठों से मेरा लंड टकराने के बाद मुझे तो मानो जन्नत नसीब हो गयी थी. फिर उसने अपना फोन साइलेंट पर किया और मुझसे बोला- तू भी अपना फोन बंद कर दे.

मैंने कहा कि मेरा लौड़ा अब नहीं निकलने वाला है … आज जाटनी की गांड में पानी निकाल कर ही रूकेगा. फिर जांच कराके जब मैं टेबल से उतरी, तो अंकल ने अपने रुमाल से मेरे पेट पर लगी जेल को साफ किया. मैं दीदी के ऊपर आ गया और दीदी को हग करते हुए उनके गले को चूमने लगा.

जिन लोगों ने इस होटल रूम Xxx कहानी पिछला भाग नहीं पढ़ा है, उनके लिए बता दूँ कि मैं निर्वाण 6 फीट लम्बे चौड़े कद का मस्त लौंडा हूँ और अब तक कितनी ही चुत का रस अपने 7 इंच लंबे और ढाई इंच चौड़े लंड को पिला चुका हूं. सबेरा हुआ तो भाभियां पूछने लगीं कि क्या हुआ, कैसे हुआ?मैं करीब एक महीना वहां रही, एक महीने में उसनें सिर्फ मेरी कमर को छुआ और हर रोज गांड मारी.

मैंने पूछा- किसने तोड़ी तेरी सील?वो बोली- मेरा एक बॉयफ्रेंड है, उसके साथ सेक्स किया था तो मेरी सील टूट गई थी.

फिर एक दिन मैं उसकी तरफ देख कर मुस्कुरा दी तो उसने हिम्मत करके मुझसे हाय कहा. सेक्सी पंजाबी फिल्म ब्लूमुंह में लंड लेते हुए उसने कहा- सच बताऊं तो मुझे आपसे कई दिनों से चुदने का दिल कर रहा था. लड़कियों के नंगे फोटोसेक्सी आंटी ने मेरे लण्ड का सुपारा अपनी चूत के मुखद्वार पर टिकाकर मुझे कमर से पकड़कर अपनी ओर खींचा तो मेरा लण्ड आंटी की चूत में समा गया. मैंने अपनी बीवी से उसके बारे में सुना बहुत था … लेकिन देख पहली बार रहा था.

कुछ देर बाद में मोटो बहुत ही बुरी तरह से काम्पने लगी और उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया.

इस पर वो बोलीं- अच्छा … कोई लड़की फंसा रखी होगी आपने?भाभी के मुँह से मैं ये सब सुनकर चौंक गया कि भाभी ये क्या बोल रही हैं. उसके उरोजों का अहसास होते ही मैंने एक हाथ सीधे ही उसके बोबे पर रखा और मसल दिया. उफ्फ क्या फीलिंग थी वो … पर मैंने उसे हटा दिया और कहा- पहले सेक्स कर लेते हैं … नहीं तो ब्लोजॉब में ही झड़ गया तो मज़ा खराब हो जाएगा.

हाय दोस्तो, मैं आपकी अंजलि, कैसे हो आप सब … उम्मीद है कि सब ठीक होगे. हम दोनों ने श्रेया को बधाई दी और उस शाम हम तीनों ने फिर दारू पार्टी की … श्रेया ने उस दिन खुल कर हम दोनों से चुदवाया. तो पाया कि सुबह जब मैं सोकर उठता हूँ, तो मेरा लंड मुझे झड़ा हुआ मिलता है.

भारत का सेक्सी फोटो

अर्शिया जब भी छुट्टियों में मेरे घर आती है, तो हम सब लोग काफी मस्ती करते हैं. अपनी उंगली की टपोरी को उसके चारों और घुमाने लगी और छिद्र पर दबाव देने लगी. अन्वेषी ने आगे बताया- मेरी ख्वाहिश एक बार ऐसे चुदने की है, जब वो मेरे बाजू में सो रहा हो … और कोई दूसरा मर्द मेरी चुदाई करे.

तभी उसका हाथ मेरे लंड और उसकी गांड के बीच में आया और उसने लंड को पकड़ लिया.

मैंने थोड़ी हिम्मत और दिखाई और अर्शिया का पैर थोड़ा सा ऊपर उठा कर मेरा लंड अर्शिया की चुत के पास कर लिया.

मैं अपने दोनों हाथ से उनकी एक चुची दबा रहा था और एक चूची के निप्पल को दांत से काट रहा था, जिससे उनको भी बहुत मजा आ रहा था. मेरा लंड अभी पानी छोड़ने के मूड में नहीं था तो मैंने अब अंजुमन को घोड़ी बनाकर उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया. सेक्सी वीडियो दिखा देमैंने अपना वीर्य अपनी बहन की चूत में उड़ेल दिया और निढाल होकर उसके ऊपर लेट गया.

मैं रेखा आंटी को छोड़ कर उनके पास गया और उनको गोदी में उठाकर ले आया, लाकर बेड पर ही लिटा दिया और उनके होंठों को किस करने लगा. मैंने एक बार तो सोचा कि साला बिल्कुल ही भोसड़ है क्या?इस बार मुझसे रहा नहीं गया. मैंने उसके होंठों को अपने होठों से चिपका लिया और उसे चोदने लगा।अब मेरे लौड़े ने रफ्तार बढ़ा दी। मैं गपागप गपागप चोदने लगा। अब गीला लंड चूत में आराम से जाने लगा था।जल्दी ही खुशबू की चूत ने मेरे लौड़े से दोस्ती कर ली थी।अब मैं तेजी से लंड को अंदर-बाहर करने लगा.

हालांकि वो कभी मिले नहीं थे क्योंकि उसका सीनियर गमन, इंटर्नशिप के लिए चेन्नई गया था. अब तो मैं कई बार छत पर जाकर भी उसके बाथरूम में उसके साथ ही घुस जाता था और उसकी चूचियां पीकर औरचूत चाटकर मजाकरके आ जाता था.

कभी रानी मेरी जीभ को चूसती, तो कभी मैं उसकी जीभ को अपने होंठों से चाटता.

मैं आंटी के बेटे के स्कूल जाने का वेट कर रहा था ताकि हमारी चुदाई लीला चालू हो सके. ‘ये लेस्बियन है इसका क्या मतलब हुआ?’‘मतलब उसे लड़कियां अच्छी लगती हैं. मैंने बोला- अर्शिया प्लीज दबाने दे ना, तेरे बूब्स दबा कर बहुत अच्छा लग रहा है.

इंग्लिश नंगा शॉट कुछ देर पढ़ाने के बाद हमारी टीचर ने बताया कि आप सबको दो-दो के ग्रुप में मिल कर पांच चार्ट बनाना है … और सबको अलग अलग फ़ाइल करना है. मुझे ऐसा लगने लगा कि कहीं इस बार भी लंड का लावा उसके मुँह में ही न निकल जाए.

मैं भी नीचे से बराबर झटके लगाने लगा, उसकी चूचियां दबाने लगा और उसकी गांड पर हाथ फेरने लगा. उनकी पैंटी उतारने लगा ही था कि मैं उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर रुकने को कहा और बेड से उठ कर जाने लगीं. दीदी अपने दोनों हाथों से मम्मों को मसलते हुए बेचैन हो चली थीं- अहह उसस … उई ई ई ई … उम्मम!दीदी की कामुक आवाजों से पूरा कमरा गूंज रहा था, अपनी चूत चुसाई से दीदी सातवें आसमान में पहुंच चुकी थीं.

अन्तर्वासना.

फिर मैंने शीशे से बाहर का नजारा देखा, तो वो तीनों मेरी तरफ ही अपनी नज़र गड़ाए हुए थे. उसकी गांड उठ रही थी और वो जल्द से जल्द लंड चुत में लेने की आतुरता दिखा रही थी. दोस्तो, अक्सर ऐसे नाज़ुक से मौकों पर बस एक पल का छोटा सा फासला आपकी किस्मत तय करता है.

मैं इसी ताक में रहता कि कब वो छत पर आये और मैं उसको देखकर मुठ मारूं. उसका हाथ भी बार बार मेरे अंडरवियर के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ रहा था.

बीस मिनट चुत चोदने के बाद मैंने आंटी को दीवार के सहारे से खड़ा कर दिया.

दीदी अपनी चुदाई में बहुत चिल्ला रही थीं, जिससे मुझे मालूम चल गया कि अभी तक वो भी अनचुदी माल थीं. दीदी एकदम चिहुंक गईं और अपनी दोनों टांगों को फैलाने लगीं ताकि मैं उनकी भूरी नशीली कुंवारी गांड को अच्छे से चूस सकूं. क्योंकि मम्मी पापा को किसी शादी में जाना था और मेरे प्रेक्टिकल चल रहे थे जिस कारण से मैं मम्मी पापा के साथ नहीं जा रही थी.

बहुत देर तक तो वो आंखों में से कचरा निकालने का ड्रामा करती रहीं जबकि वो तो पहले ही निकल चुका था. धीरे धीरे मैंने उसको किचन की पट्टी पर बैठाया और अपने लंड को उसकी चुत पर सैट करने लगा. मैं सोचने लगा कि अनन्या ऐसी है!‘ये सब क्या है अनन्या?’‘मैं बताती हूँ.

हम दोनों होटल से आते थे और एक लड़की नई शादीशुदा थी तो वो अपने हस्बैंड के साथ दूसरे होटल में रहती थी.

सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी: मुंतजिर- अरे कहिए ना … इसमें क्या गलत है!मैंने धीरे से कहा- आपकी हंसी बहुत प्यारी है. मां मेरी काफी चुदक्कड़ थीं … ये मुझे जब पता चला जब मेरे डैड बिज़नेस के सिसिले से शहर से बाहर गए.

ये कुछ मुझे उसकी चैट से मालूम हो गया था और बाकी सभी बाद में पता चला था. अरविन्द ने मुझसे कहा- तो ठीक है चली जाइए, मगर अभी मेरा मन नहीं भरा था. मैं मुस्कुरा दिया तो उसने पूछा- और मैं कैसी लगी?मैंने कहा- मस्त कांटा माल … अभी अन्दर से खोल कर देखूंगा … तब फाइनल कहूँगा.

मौसी ने मुझसे पूछा- ऋषि तू भी चल रहा है घूमने के लिए छत पर?मैंने भी हां बोल दिया.

उसका मनोरंजन करने के लिए मैंने उससे पूछा- ड्रिंक लोगी?चैट के दौरान मुझे मालूम था कि वो ड्रिंक करती है. टप्प की आवाज हुई और सुपारा उसकी बुर के अन्दर!दूसरे झटके में आधा और उसके बाद पूरा लण्ड सलमा की बुर में चला गया. उसके हाथ की हर उंगली को मैंने अपने मोटे पर थोड़े ढीले स्तनों पर पूरा महसूस किया.