सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी

छवि स्रोत,छोटी की चूत

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी भाभी देवर वीडियो: सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी, दरअसल मुझे रूम सिर्फ किसी प्रायवेट हॉस्टल में चाहिए था जहां मुझे लंड की कमी न हो और 24 घंटे रूम देने वाला मकान मालिक भी मौजूद न हो.

ट्रिपल एक्स सेक्सी डॉट कॉम

मेरी चड्डी में मेरे गुर्राते हुए शेर को देख कर उसने झट से मेरे अंडरवियर के अन्दर हाथ डाल दिया. सेक्सी पोर्न वीडियो हिंदी मेंमेरा मन एक राउंड और करने का था लेकिन वो मुझे बोला- चलो टाइम हो रहा है, मेरे घर वाले आ जायेंगे.

दरअसल मुझे रूम सिर्फ किसी प्रायवेट हॉस्टल में चाहिए था जहां मुझे लंड की कमी न हो और 24 घंटे रूम देने वाला मकान मालिक भी मौजूद न हो. নেপালি বিএফ ভিডিওउसके परिवार को भी हमारे बारे में पता चल गया था और मैंने उसकी माँ को भी बोला था कि मैं उससे शादी करने को तैयार हूं.

हमें देख कर उसने शिवानी से कहा- यह कौन है?उसने कहा- यह नई चिड़िया है, इसके अभी पर नहीं कटे हैं, इसे दिखलाना है कि असली चुदाई कैसे होती है.सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी: ”अच्छा? इस लेप से?”हाँ यह लेप तो असर करेगा ही पर … वीर्यपान का असर तो पक्का ही होता है।”हट!” गौरी एक बार फिर शर्मा गई। उसने अपनी मुंडी झुका ली थी।पता है तल मुझे तो उबताई सी आने लगी थी.

मैंने आंटी के मस्त मस्त चूचों पर हमला कर दिया और दबा दबा कर चूसने लगा.इस वजह से मैं भाभी का और अधिक ख्याल रखने लगा था जैसे कि उनके बाजार के छोटे-मोटे काम कर देता था.

बंगाल की चुदाई - सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी

अब उन्होंने मुझसे पूछा- तुमको कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है … तुम ठीक महसूस कर रहे हो न!मैंने हां में सिर हिला दिया, फिर उन्होंने मेरी गांड को उठाया … जो कि पूरी खुली हुई थी.उसके बाद मैंने अपनी लोअर को भी नीचे कर लिया और रजू की पैंटी पर अपनी फ्रेंची में तने हुए लौड़े को घिसने लगा.

अब सारिका की चूत काफी गीली हो चुकी थी तो राहुल को चुदाई की स्पीड बढ़ने में देर ना लगी. सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी मैंने उसके सूट को ऊपर उठाते हुए उसको निकालने की कोशिश की लेकिन सूट टाइट था इसलिए निकल नहीं सका और उसके चूचों के पास आकर फंस गया.

उसने मुझे रोक दिया और साइकिल एक तरफ लगा कर मुझे बांहों में भर लिया और मुझे चूमने लगा.

सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी?

जिम जाते हो क्या?मैंने कहा- हां, क्योंकि आजकल की लड़कियों को बॉडी वाले लड़के पसंद आते हैं. हम दोनों बेस्ट फ्रेंड हैं और अपनी सारी बातें एक दूसरे से शेयर करती हैं. हम दोनों बातें करने लगे और फिर बातों ही बातों में हंसी मजाक भी होने लगा और उसको पता नहीं क्या शरारत सूझी कि उसने मेरे पेट में एकदम से गुदगुदी कर दी.

एक दिन मैंने हिम्मत करके पूछा- अंकल, गे क्या होता है?तो वो हंसने लगे और बोले- तुम्हारी इतनी उम्र हो गई और तुम ये भी नहीं जानते. मैं और भाभी बहुत अच्छे से घुल मिल गए थे, पर उनको लेकर मेरे दिमाग में कभी कोई गलत बात नहीं आई थी. हर किसी का पहली बार में उसके उन्नत उरोजों पर ध्यान चला जाए, ऐसे तने हुए थे … शायद उसके मम्मों का साइज़ 34 इंच का रहा होगा.

मैं बोला- आपका बेटा कहां है?‌वो बोली कि वो आज सुबह दादा दादी के पास जाने के लिए अपने पापा के साथ मुम्बई गया है. चिकनी चूत होने के कारण मेरा पूरा लंड एक बार में ही भाभी की चूत की जड़ तक घुस गया. चूंकि वो मेरा ख्याल रखती थी इसलिए मैं भी उसकी बेटी के लिए कई बार चॉकलेट या आइसक्रीम ले जाता था, जिससे वो बहुत खुश होती थी.

रूम में ले जाकर मैंने उसको बेड पे लुढ़का दिया और खुद भी मैं उसके ऊपर चढ़ गया. तो शिवानी ने कहा- देखो सागर एक बार चोदो या कई बार … बात तो एक ही है.

फिर मैंने सोच लिया कि क्या वही एक मर्द रह गया है क्या इस दुनिया में, अभी तो मेरी जवानी चढ़ी है, अभी तो इसने और उफान पकड़ना है.

आह्ह … मैं समझ सकता हूं कि उसकी उठी हुई गांड को देख कर तुम्हारा लंड भी तुम्हारे काबू में नहीं रहा होगा.

अंकल बोला- ये बात तो मैं शुरू से ही जानता था कि आज तुम जरूर कुछ करोगी क्योंकि तुम्हारे पति ने मुझे पहले ही कॉल करके बता दिया था. फिर उन्होंने मुझे अपने बेड पे बिठाया और अपनी बांहों में भर कर मेरे होंठों को चूमने लगे. अनिल पहले तो ये सुनकर बहुत शॉक हो गया लेकिन फिर बाद में वो बोला कि कोई बात नहीं। किसी पराये मर्द के साथ सेक्स करना इतनी बुरी बात भी नहीं है.

मैंने अखबार सामने से हटा कर पहले उसकी दूधिया घाटी को देखा, फिर उसकी तरफ देखा, तो उसने मेरी तरफ देख कर हल्के से मुस्कुरा दिया. फिर जब चुदास बढ़ी और खुल कर खेल होने लगा, तो हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. मेरी सास मदमस्त सिसकारियां लेते हुए लगभग चिल्ला सी रही थीं- हाय दैया … आह … फाड़ के रख दी … आह … चोद दिया … हाय दैया चोद दिया.

अगले दिन मैं फिर से उसे साइट दिखाने के बहाने सैंपल फ्लैट के बेडरूम में लेकर गया और झट से मैंने अपना पैंट और निक्कर नीचे कर ली.

मैं उधर की ताज़ी हवा में खूब खाना और सोना करता था और स्विमिंग करता था. जैसे ही मैंने चुम्मा तोड़ा, उसकी आँखें खुल गयी और उनमें लाल डोरे खिंच से गए थे. वो लंड चूसने में इतनी माहिर थीं कि उनका एक भी दांत मेरे लंड को नहीं चुभा.

आर यू मेंटली प्रिपेयर्ड?( क्या सब मानसिक रूप से तैयार हो?)सब बोली- हाँ!पर पिंकी बोली- यार सेक्स नहीं, बाकी कुछ भी!इस पर सब बोलीं- हाँ यार सेक्स न हो तो अच्छा. मैंने चाची को पिछले 10 दिनों से चोदा नहीं था, तो मैं पहले चाची को अपने पास खींच लिया. अपने पूरे दिल से वह चाहती थी कि वह उसे रोके लेकिन वह अपनी भावनाओं को छुपा रही थी.

क्या संयोग था किस्मत का कि वो वहाँ भी मेरे बगल में ही बैठी थी और उसके शरीर की मादकता मुझे मदहोश कर रही थी, मैं चाह कर भी कुछ नहीं बोल पा रहा था क्योंकि कैब में और भी लोग थे और दूसरा कहीं वो बुरा न मान जाए।मैं यह नहीं समझ पा रहा था कि ये मेरा प्रेम है उसके लिए या काम वासना। वैसे भी काम और प्रेम दोनों तो एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।उस दिन मेरा सफर इतनी जल्दी कैसे खत्म हो गया मैं समझ नहीं पाया.

उस पल का आनंद यहां शब्दों में लिखना तो मुमकिन नहीं लग रहा है लेकिन वो अहसास इतना आनंदमयी था कि ऐसा लग रहा था कि इससे ज्यादा मजा किसी और चीज में हो ही नहीं सकता है. पंकज बहुत रिफाइंड टेस्ट वाला व्यक्ति था और सारिका ने भी अपना फ्लैट बहुत खूबसूरती से सजा रखा था.

सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी कॉलेज की पढ़ाई के साथ साथ मैंनेकॉलेज के दोस्तों के साथ चूत चुदाई का खेलखूब खेला. मैंने पूछा- अंकल रस्सी से क्या करोगे?वो बोले- बस देखते जाओ … बहुत मज़ा आएगा.

सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी हम फार्म हाउस के रूम में आ गए और ऊपर छत पर चुदाई के दूसरे राउंड के लिए इंतज़ाम करने लगे. इससे पहले भी लड़के मुझ पर लाइन मारते थे लेकिन मैं उन पर इतना ध्यान नहीं देती थी.

ट्रेन बहुत धीरे धीरे चल रही थी, बार बार रुक रही थी, इस वजह से ट्रेन काफी लेट हो गई.

अरे बढ़िया सेक्सी

परवीन- क्या देख रहा है?मैं- आपका जिस्म … आप बहुत ही सेक्सी हो आंटी. पंकज ने सारिका की गांड के नीचे तकिया लगा दिया जिससे सारिका कि चूत ऊपर उठ जाये. आप मुझे अपने घर नहीं बुलाओगे?मैंने कहा- इसमें पूछने की क्या बात है, आप जब चाहें आ सकती हैं.

”वह इस लड़के की मासूमियत पर मरी जा रही थी। इतने सालों बाद वह अपने पेट में तितलियों को महसूस कर रही थी. अगले दिन इनके पतियों को आना था, तो सुबह से ही सभी तमीज में आ गयीं … रानी और उसके आदमी को काम भी काफी हो गया, क्योंकि रात को शाही डिनर बनना था, घर की सफाई भी तीन दिनों से अच्छी नहीं हुई थी. मेरी पिछली कहानी थीडॉक्टर साहब की गांड मराने की तमन्नाअब मेरी नयी गे कहानी का मजा लें.

उसने मुझे किसी प्लास्टिक की गुड़िया की तरह उठाया और अपने लंड पर सैट कर दिया.

सिम्पल सा पीले रंग का प्रिंट वाला सूट और उस के नीचे सफेद पजामी पहने हुए बैठी थी. चुदाई के बाद टेबल के मेजपोश से लंड पौंछ कर बोला- तुम निबटोगे?मैंने मना कर दिया।वह बड़ा थैंकफुल था- अरे यार मजा आ गया! तुमने बड़ी मदद की. सीमा तो बौरा गयी थी … कह रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आज मजा आ गया मेरे राजा … आज फाड़ दो मेरी चूत को!दस मिनट कि धक्का मुक्की के बाद मुश्ताक ने अपना माल सीमा की चूत में भर दिया.

मुझे कोई काम होता, तो मैं सेंटर पर उसके भाई के भरोसे ही छोड़ कर चला जाता था. मैं- ओके, हम दोनों लव फ्रेंड बन सकते हैं यानि प्यार की बातें कर सकते हैं बस. मैं प्रीति को लगातार किस कर रहा था, जिससे उसकी गर्दन पर लव बाइट आ गए थे.

मेरी मकान मालिक की बीवी, जिनको मैं भाभी बुलाता था, दूध की तरह गोरे बदन एक नंबर की परी सी हैं. वह मुझसे जाते हुए बोला- सुबह तैयार रहना अगर आपको एक्टिवा सीखनी हो तो!मैंने कहा- ठीक है, सुबह आ जाना पाँच बजे.

मैंने उसकी चूत को देखा, जो साफ़ साफ़ समझ आ रही थी कि लौंडिया अनटच माल है. अब सागर ने उसको उठाया और उसी वक्त सागर का लंड शिवानी की चूत से सीधा जा टकराया. उन्हें देख कर मुझे लग रहा था कि खाना पीना बाद में देखा जाएगा … इस साली को पहले यहीं पर पटक कर चोद दूं.

अब प्रशांत दीदी के कपड़े उतारने लगा और उसने अपनी दीदी को नंगी कर दिया.

मुझे मजा आ रहा था; मैं चाह रहा था कि वह मेरा अंडरवीयर नीचे कर मेरी गांड में पेल दे. राजीव जब भी इधर उधर हाथ लगाने की कोशिश करता, वो हँसते हुए ‘ना बाबा ना’ कह देती. इस पर वो गम्भीर स्वर में बोलीं- हम दोस्त बाद में हैं, पहले तुम मेरे दामाद हो.

अनिल ने उसके मुंह से लंड खींच लिया और मैंने अपनी पत्नी की चूत से लंड को बाहर निकाल लिया. गौरी असमंजस की स्थिति में थी।ओहो … बैठ जाओ ना सर्व करने और नाश्ता करने में आसानी रहेगी.

अगर मम्मी को पता चल जाता तो मेरा क्या होता, अब जो करना है … जल्दी कर लो. उन्हें देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया और लगा कि अभी पकड़ कर भाभी को चोद दूँ. मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि अपनी सलहज अनीता की मटकती गांड को देख कर रात में ही मेरे मन में उसकी चूत चुदाई के ख्याल आने लगे थे.

सेक्सी ब्लू वीडियो प्ले

थोड़ी देर बाद उसके दोस्त ने अपने पूरे खड़े हुए लंड को, जो मुझे लगता था कि सात इंच से छोटा नहीं होगा, को अपनी लार से पूरी तरह से गीला किया और शिवानी की चुत के मुँह पर रख कर एक ही धक्के में सारा का सारा अन्दर कर दिया.

मैंने आंटी के मस्त मस्त चूचों पर हमला कर दिया और दबा दबा कर चूसने लगा. वैसे मैं बहुत ही ज्यादा कामुक हो गया था और मेरा पानी कभी भी निकलने वाला था. चयन- मोंटू सुन … यह तो अभी स्टार्ट हुआ है … आगे आगे देखना क्या क्या होता है.

इसलिए मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से अपना ध्यान हटा लिया और मैं चुपचाप आकर लेट गया. मेरी मां विनय पर बहुत भरोसा करती थी इसलिए उनको भी उसके होने से किसी तरह का डर नहीं था. सेक्सीबीडियोअगले दिन शिवानी ने मुझसे पूछा- पूनम बता सच बताना कि कल जब मैंने सागर को उंगली की थी, उसके बाद की चुदाई कैसी लगी?मैंने कहा- यार, सही में चुदाई का असली मज़ा तो कल ही आया था.

कभी वो मेरे लंड को सहलाते, कभी मुट्ठी में दबा कर आगे पीछे करते और कभी नीचे आंड को सहलाते. लेकिन पति को मेरी चूत चोदने की ललक थी इसलिए उन्होंने बाथरूम खुलने की आवाज नहीं सुनी.

उसके बाद कमरे का मुआयना किया कि भैया भाभी की सुहागरात कैसे देखी जाए. सीमा के मन में हुआ कि वो राजीव को ढूंढे और उससे कहे कि ग्रुप सेक्स करना है! पर …पिंकी और राजीव सबसे अलग पूरी मस्ती में थे. ” नीलम को उस वक्त अपने ससुर का लंड जन्नत का मजा दे रहा था। जिस वजह से वह अपने ससुर के लंड के हटते ही अपने चूतड़ों को ऊपर की तरफ उछालते हुए सिसकारते हुए कहने लगी।बेटी सोच लो, फिर मत कहना कि मैंने कोई ज़बरदस्ती की तुम्हारे साथ?” महेश अपनी बहू को अपने लंड के सामने तड़पती हुई देख कर खुश हो रहा था। वो अपनी बहू की चुदाई करने के लिए आतुर था.

आज मैं आपको अपनी जिन्दगी की एक सच्ची और मेरे पहले सेक्स की कहानी सुनाने वाला हूँ. तभी उस लेडी ने खुद का परिचय दिया- मेरा नाम मोनाली है और मेरे पति यूएस में काम के लिए 6 महीने पहले ही गए हैं. चाची- उसकी माँ को भी?मैं- वो विदेशी थी … उनके यहां ये सब कॉमन होता है.

एक हाथ से मैं बहन की चूत को सहला रहा था।थोड़ी देर मम्मे सहलाने के बाद मैंने खड़ा होकर अपनी पैंट निकाल ली.

पूरे जिस्म में गर्मी सी महसूस होने लगी थी, उसके लंड का तनाव पल पल बढ़ता ही जा रहा था।जैसे जैसे लंड का आकार बढ़ता जा रहा था, वैसे वैसे परीशा की जीभ की स्पीड बढ़ती जा रही थी. ये मेरे बेटे की बहू है … मुझे शक है, इसलिए तू उसे कुछ मत बताना ओके.

उसके छोटे छोटे चूचे मेरे पेट पर छू रहे थे और उसकी चूत की खुशबू पूरे कमरे को महका रही थी. उस समय जो मैं नहीं समझ पाई थी, वो आज समझ गई कि वो क्या कहना चाह रही थी. मैंने माहौल को और गर्म करने के लिए आंटी से कहा कि यहीं पर कर दो आंटी.

स्टोरी पढ़ने के बाद संजना ने उसी वक्त मुझे अपने घर पर बुलाया और अपनी चूत की धुआंधार चुदाई करवाई. मेरी नॉनवेज स्टोरी पर अपने विचार आप नीचे दी गई मेल आईडी पर मैसेज करें. मैं खुश हो गया कि भाभी पक्की चुदक्कड़ निकलीं … ये तो लगातार चोदने को मिलेंगी.

सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी उन्होंने मुझसे पूछ ही लिया- तुम्हारी कोई गर्लफ्रैंड नहीं है क्या?मैंने बोल दिया- नहीं है. चाची- ये सब मुझसे नहीं होगा … तुम्हारे चाचा भी एक बार कहा था, मैंने मना कर दिया था.

एक्स एक्स लड़की सेक्सी वीडियो

जब कुछ देर उसके ऊपर ही पड़े हुए मुझे हो गई तो उसने धक्का देकर मुझे अपने ऊपर से हटाया और एक किनारे कर दिया. उन्होंने अपनी बुलेट निकाली, मैं साड़ी में थी, स्लीवलैस ब्लाउस पहना हुआ था. मैंने कहा- आप फोन पर कुछ मत बोलना, आशीष को सब सुनाई दे रहा है दूसरी तरफ.

उनका इशारा समझ कर मैं रुक गया, पर वो अपने होंठों को भींचती ‘ओह इंद्र …’ बोल कर अपनी गांड हिलाने लगीं, तो मैंने उनकी कमर पकड़के लंड और अन्दर ठूँस दिया. मैंने उसका लोअर नीचे कर कर दिया और उसका मोटा लंड मेरे आंखों से सामने आ गया था. முஸ்லீம் ஆன்ட்டி செக்ஸ் வீடியோवो किसी आटे की बड़ी लोई की तरह मेरे चूचों का भुर्ता बनाने में लगा था.

उन्होंने अपनी बुलेट निकाली, मैं साड़ी में थी, स्लीवलैस ब्लाउस पहना हुआ था.

अब तो हस्तमैथुन ही एक मात्र जरिया था इस वासना के ज्वालामुखी का मुंह बंद करने के लिए. आंटी की मस्त सिसकारियां निकल रही थीं- आहह … अहहा … अहह … अहह … उम्म्म्म … उफफ्फ़ … और चूस और चूस उम्म्म्म … आह आह.

जीजा ने मेरी गांड पर जीभ लगाई तो मैं मजे से नौकर के लंड को काटने लगी. फिर वो धीरे धीरे मेरी नर्म गुदाज गांड पर हाथ फेरने लगा। मैंने उसका हाथ हटा दिया और उठ बैठा।उसने लाइट ऑन की और मुझे बुरी तरीके से घूरा। उसने लाइट ऑन ही रहने दी और मेरे सामने ही अपनी अंडरवियर नीचे खिसका दी।मैंने आंखें बंद कर ली। तब तो मुझे साइज का कुछ पता नहीं था पर अब लगता है उसकी बीवी उसको देती नहीं रही होगी तभी उसने ऐसी हरकत की. मैं मेरी उत्तेजना छुपाने की कितनी भी कोशिश करूँ पर मेरी बहती चूत सब दास्तां बयाँ कर रही थी।अमित ने अपना पूरा लंड मेरे मुँह में ठूँस दिया था और मेरे स्तन मसलकर लाल कर दिए थे.

क्या हुआ भाई जान?” समीर ने आवाज़ सुनते ही सामने देखा तो उसकी 36 साल की छोटी बहन ज्योति दूसरे सोफ़े पर बैठी थी।तुम्हें पता है फिर क्यों पूछ रही हो?” समीर ने गुस्से से अपनी बहन को जवाब दिया।यार.

फिर रात को बिटिया के सोने के बाद हम दूसरे रूम में चले गये और जाते ही नंगे होकर एक दूसरे को चूसने लगे. तब भी मुझे इस बात का इन्तजार था, जब भाभी मुझे खुद से अपने ऊपर आने का कहेंगी. भैया मुझसे बातों बातों में किस मांगते थे पर मैं उनको किस नहीं देती थी.

बुर का चुदाईमैं- तो फिर आप ही सोच लो कि क्या हुआ होगा … इस रंडी ने भी तो मुझे चाबुक से मारा था, मेरा बदन पूरा काट दिया था. मैंने स्पीड बढ़ाते हुए 4-5 धक्कों में अपना सारा माल भाभी के मुँह में डाल दिया और वो बड़े प्यार से उसे पी गईं.

बीपी पिक्चर सेक्सी चोदने वाली

भाभी ने गेट खोला, तो मैंने देखा कि उस दिन भाभी ने काली नाईटी पहनी हुई थी. सीमा ने बताया कि कल उसने और अंकित ने एक पोर्न मूवी देखू जिसमें इसे ही 4-5 जोड़े मिलकर बोतल गेम खेलते हैं जिसमें एक बोतल नीचे रख कर घुमाई जाती है. मैंने बारी बारी से प्रीति के मम्मों को क़रीब आधे घंटे तक चूसा, उसकी बग़लों को भी चाटा.

लेकिन कुछ देर बाद उसने मुझसे कहा- अब सब ठीक है, अब जैसे चाहते हो, चोदो मुझे।मैंने पूछा- क्यों दर्द नहीं रहा क्या?जो होना था … हो गया. जवानी भी पूरे जोश में थी तो दिन में तीन बार तो लंड की मुठ हो ही जाती थी. पति की जीभ मेरी चूत में घुस गई और मैंने उनका सिर पकड़ कर अपनी चूत में दबा दिया.

”वो त्या चीज होती है?” गौरी ने अधीरता से पूछा।ओह… कैसे समझाऊं?”त्या हुआ बताओ ना?”ओह… यार मुझे शर्म भी आ रही है और झिझक सी भी हो रही है. मैंने चारू को बताया- आज हम सुहागदिन मनाने जा रहे हैं, जिसको तुम जिंदगी भर याद रखोगी. थोड़ी देर इधर उधर की बात हुई और फिर अचानक भाभी ने मुझसे पूछा- अगर बीवी की बहन यानि साली को आधी घरवाली कहते हैं, तो उसी तरह पति के भाई को क्या कह सकते हैं?मैं भाभी का इशारा नहीं समझ पाया और ठीक जवाब नहीं दे पाया.

अगर कहानी में मुझसे कोई गलती हो गई हो तो भी नजर अंदाज कर देना क्योंकि यह मेरी पहली कहानी है. नौकरी लगने के बाद कोई आप जैसी खूबसूरत सी लड़की पसंद आई तो कर लूंगा.

उसमें से भाभी की चुत, कामरस से भीगी हुई पिंक होंठ चिपकाए हुए बाहर निकल आयी.

लेकिन उसकी बातों को अनसुना करते हुए मैं एक ज़ोर का धक्का और मारा और अपना लंड उसके चूत में अंदर तक घुसा दिया और शांत हो गया. দেশের সেক্স ভিডিওवो मुझे मारने लगा और बोला- क्राई … डोंट लाफ … (चिल्लाओ … हंसो मत!)मैंने उससे अंग्रेजी में बोला- साले उसके लिए दम लगाओ भोसड़ी के …अब वो ये सुनते ही मानो जल्लाद बन गया और जानवर जैसे ज़ोर से मेरी गांड मारने लगा. भोजपुरी में चुड़ैअब वह मेरे लंड पर काबिज थी और मैंने अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया. हम घर पहुँच गए, हर्ष अपने घर चला गया और मैं जल्दी से बाथरूम में घुस गई.

उसके चूतड़ों पर थप्पड़ मारता हुआ मैं उसकी चूत में नीचे से ठोकर देने लगा.

अब तक मैं समझ चुका था कि घर में कोई नहीं है, तो मैंने उनके ब्लाउज के हुक खोल दिए. मैं- अगर चाची आ जाएंगी, तो पहले दरवाजे की घंटी बजेगी … उन्हें देख लेंगे. आज मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी चाची सास को पटाया और उसके साथ ख़ूब मज़े किए और आज भी करता हूँ.

आंटी की फूली हुई चूत को देख कर मन कर रहा था कि बस आंटी की चूत को नंगी करके अपने दांतों से काट ही लूं. फिर मैंने कुछ देर बाद कपड़े पहने और बाहर आ गया।दूसरा दोस्त दोस्त, जो कि बहुत ज्यादा उत्तेजित हो रहा था, उसने जल्दी-जल्दी किया और पाँच मिनट में वह बाहर आ गया।तीसरा दोस्त ने बहुत ज्यादा टाइम लगाया. लेकिन मैंने उसकी बात नहीं सुनी और उसकी गांड को अपने हाथों से पकड़ कर उसको थोड़ी अपनी तरफ खींचा और तेजी के साथ उसकी चूत में फिर से लंड को घुसाने लगा.

बढ़िया वाला सेक्सी वीडियो एचडी

फिर मैं उन्हें विंडो के पास ले गया और उन्हें वहां खड़ा करके खिड़की से लॉक कर दिया. मैं बहुत ही शर्मीला किस्म का लड़का था इसलिए अगर वो मुझे भाई कहती थी तो मैं भी उसको बहन ही कहने लगा. रेखा को भी बदमाशी सूझी तो उसने नीता को लिटा कर खीरे की एक ओर उसकी चूत में और दूसरी ओर से खीर अपनी चूत में करके उसकी चुदाई करने लगी.

दोस्तो, एक बात मैं आपको बता दूं कि मुझे बातें करने की आदत बहुत ज्यादा है.

मुझे अपने यहां के सब लंड एकदम मरियल से लगने लगे थे, जो मेरी चूत की खुजली को मिटा ही नहीं पाते थे.

लेकिन मैंने कभी उसको मौका नहीं दिया था कि वो मेरे साथ कुछ आगे बढ़ सके. वो मेरे करीब आई और मेरे हाथ से बाम की शीशी लेकर अपनी उठी हुई गांड को मटकाती हुई वापस जाने लगी तो मेरे मन में उसकी गोल-गोल गांड की ठुमकती शेप को देख कर एक हवस भरी टीस सी कचोट गई. करवा चौथ की चुदाईथोड़ी ही देर में पंकज भी खलास हो गया और इस बीच में राहुल वाशरूम से अपने को फ्रेश करके कपड़े पहन चुका था.

मैं जोरदार धक्के मारने लगा, आंटी मेरे सब धक्कों का जवाब अपनी गांड उछाल कर दे रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और ज़ोर से चोद … कितना मज़ा देने लगा. क्योंकि वो तो आपको उसके फिगर में बारे में जानने के बाद अपने आप ही पता लग जाएगा. मुझे कुछ पता नहीं था, वो मेरा मुँह खोलकर उसमें लन्ड अंदर बाहर करता रहा, मेरे मुंह के किनारों से थूक रिसता रहा.

अगले दिन सुबह 10 बजे जब मेरी आंख खुली, तो मैंने देखा कि बॉस पहले ही उठ गया था. मैं कह रही थी- आई लव यू विनय… आह्ह …अचानक से फिर मेरे बदन में सरसराहट दौड़ गई और मेरी चूत से पानी निकल गया.

मैंने उसकी तरफ कातर भाव से देखा, तो उसने कहा- घबराओ मत, पहली बार में ऐसा होता ही है.

उसने उठते समय जब चादर पर पड़ा खून देखा, तो वो डर गयी और बोली कि इतना खून कहां से आया. पर इस चक्कर में उसके जोर लगाने से उसका खड़ा मस्त लंड मेरी गांड के छेद पर बार बार हल्के हल्के धक्के भी दे जाता था तो मुझे मजा आ जाता था. तो वो बोले- कोई बात नहीं बेटा, मैं हूँ ना, तुमको कोई परेशानी नहीं होगी.

कॉलेज गर्ल्स ओपन सेक्स बात करने से पता चल रहा था कि वह भी मुझे पसंद करती है … पर पूछने की हिम्मत कभी नहीं हुई. मैंने अपने घर पर बोल दिया था कि मैं अपने भाई के दोस्त की शादी में जा रहा हूँ.

” ज्योति ने दरवाज़ा बंद करने के बाद अपने भाई से कहा।अब तुम अपने भैया के लिए अपनी चूत को साफ़ करना!” समीर ने बेड की तरफ आते हुए कहा।आप ही मेरी झाँटों को साफ़ कर दो ना …” ज्योति ने अपने भाई से कहा।नहीं यार अभी छोड़, फिर कभी कर लेना. पर शायद किस्मत को कुछ और ही मंजूर था … एक दिन अचानक ऐसा हुआ जिसकी मैंने कल्पना भी नहीं की थी. हर्ष ने आधे डले लंड से ही चुदाई शुरू कर दी थी और चोदते चोदते मुझे ऊपर उठा लिया.

सेक्सी वीडियो एचडी औरत

खैर इस दौर का भी अपना ही एक मज़ा है, रोमांच है।अब आते हैं असल देवर भाभी कहानी पे:मैंने भाई भाभी के घर आना जाना, बाहर साथ में घूमना फिरना शुरू कर दिया था. फिर लंड निकाल कर मेरी एक टांग ऊपर करके मेरी चुत में फिर से लंड घुसा दिया और धक्के देने लगा. तभी महेश ने नीलम को छोड़ा और उसके बाल पकड़ कर नीलम को अपने सामने बैठा लिया। नीचे बैठाने के बाद महेश ने अपनी पैंट की ज़िप खोल ली और एक झटके में अपना मूसल लंड निकाल कर नीलम के चेहरे के सामने कर दिया- चल साली, चूस इसे!हवस में डूबा हुआ ससुर अब अपनी बहू को गाली देने पर उतर आया था.

वैसे भी ठण्ड के कारण रात को कोई अपनी छत पर नहीं होता और मेरी छत की दीवार काफी ऊँची भी है लेकिन संतोष जी की छत मेरी छत के बराबर ही लगती है. ये कहते हुए आंटी ने लंड को अंडरवियर के ऊपर से पकड़ लिया और फट से अंडरवियर को नीचे खींच दिया.

भाभी की फिगर देख कर मुझे लगा कि भाभी ने अपने मम्मों को खूब दबाया है या शायद उन्होंने शादी से पहले किसी से इसका मजा लिया है.

मैंने डॉली को कॉल करके आने को कहा तो बोली- आज मैं नहीं आऊंगी, आप आयेंगे, वो भी अभी नहीं, रात को आठ बजे. लंड मुंह से बाहर आते ही मैंने कहा- बहुत दर्द हो रहा है … आह्ह … बचाओ मुझे कोई. हम लोग एक रेस्टोरेंट में गए, वहां लंच किया और शाम को 4 बजे तक वापस आ गए.

चूंकि मैं कुछ देर पहले ही करण के लंड से चुद कर आई थी तो राहुल का लंड आराम से मेरी चूत में चला गया. तभी उसकी कमर में हरकत हुई और मैं समझ गया कि मेरी माल अब चुदने के लिए तैयार है। अब देरी ना करते हुए मैंने धीरे धीरे अपने लंड को गति दी, मैं उसे पहले बहुत धीरे धीरे चोद रहा था. दोस्तो, एक बात मैं आपको बता दूं कि मुझे बातें करने की आदत बहुत ज्यादा है.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्रिय दोस्तो, मैं आपकी सखी सविता सिंह फिर से हाजिर हूँ.

सेक्सी बीएफ पंजाबी हिंदी: चाची ने मेरे हाथ को मुँह से हटा दिया- आह साले … तेरा लंड कितना बड़ा है … और इतना मोटा … मैं तो मर गई … तेरे चाचा का तो इसके सामने बेकार है … उई … फट गई रे मेरी चुत … चुद गयी रे मैं … आआह ऊऊह … कमीने धीरे धीरे चोद. उसने मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा और बोली- प्रकाश, क्या देख रहे हो?मैंने उसे सॉरी बोला और नीचे देख कर पेपर पढ़ने लगा.

मैं अत्यंत आनन्द में आ चुका था, उनका गरम लंड मेरी गांड की गर्मी और बढ़ा रहा था. बीस मिनट तक चोदने के बाद मैं झरने वाला था तो पूछा- पिचकारी कहाँ मारूं जानू?बुर में ही डालो राजा … मेरी बुर भी तो मज़ा ले।”लो रानी!”मैंने आखिरी धक्का मारा और झड़ने लगा. एक बार मैंने उसके फोन में पोर्न क्लिप देख लिया तो …मेरा नाम तान्या है और मैं पुणे से हूं.

मेरे पस्त होते ही चारू भी एकदम पस्त होकर बेड पर पड़ गयी थी और अपनी सांसों को कंट्रोल कर रही थी.

मैंने भी उसका कुरता उतार दिया और सलवार का नाड़ा खोल कर उसे भी अलग कर दिया. बात करूं पिछली कहानीमैं प्यासी भाभी से सेट हो गयाकी तो उसमें मैंने संजना (बदला हुआ नाम) की चुदाई की थी. मैंने पति का सोया हुआ लंड देखा और उसको बेड पर आकर अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी.