बीएफ दिखाइए तो हिंदी में

छवि स्रोत,16 साल की लड़कियों के सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

देवर भाभी सेकस: बीएफ दिखाइए तो हिंदी में, मम्मी उसके पास ही बैठी हुई थीं, पूरी बेशर्मी से हाथ उसकी पैंट के सेन्टर पे रख के बोली- छोड़ो, यहीं घर में मज़े करते हैं.

सेक्सी मलयालम सेक्सी मलयालम

उसका मन कर रहा था जैसे यहीं अंकित उसके सारे कपड़े उतार कर और वो सब कुछ उसके साथ करे जिसकी इतने दिनों से वो कल्पना कर रही है. सेक्सी वीडियो हिंदी में दे दोसीमान्त के लंड का सुपारा एकदम गुलाबी था, मैं जीभ से उसके लंड को चाटने लगी.

उन्होंने मेरी गांड पर हाथ रख कर मुझे अपनी तरफ खींचा और फिर तेजी के साथ धक्के मारने लगे. বাংলা বৌদি সেক্স ভিডিওआलिया- अब मैं तुम्हारी गलफ्रेंड हूँ, इसलिए आप के बदले तुम कहकर बुला सकते हो.

मैंने भाभी की चुत को अपने वीर्य से भर दिया और उसी अवस्था में भाभी पर गिर गया.बीएफ दिखाइए तो हिंदी में: फिर वे मेरे पीछे चिपक गए और मेरे बगल में चेहरा लाकर पूछने लगे- मैं ये पेस्ट ले लूं?वे मेरे ऊपर झुके थे, हल्के हल्के धक्के लगा रहे थे, उनका खड़ा होकर मेरे दोनों चूतड़ के बीच रगड़ रहा था.

फिर कमलेश ने उस लड़की को किस किया और फिर दोनों एक दूसरे की बांहों में खो गए.फिर वो अपनी जीभ से मेरी गर्दन को चाटने लगे, इससे मैं एकदम से गरम हो गयी थी और मादक आवाजें निकालने लगी थी.

ब्लू सेक्सी पिक्चर ओपन वीडियो - बीएफ दिखाइए तो हिंदी में

यह हमारे बीच में पहला मौका था जब चारों औपचारिकता को छोड़कर बातचीत शुरू करने वाले थे।रकुल- सीमा आप अकेले क्यों परेशान हुई? मुझे भी आपकी मदद के लिए आना चाहिये था।सीमा- नहीं, आप आज सफर की थकान मिटा पाओ, वही काफी है।श्लोक- कैसा लगा फ्लैट और आपका कमरा? आर यू कम्फर्टेबल? (तुम्हें कोई परेशानी तो नहीं है?)नील- फ्लैट काफी अच्छा है.धीरज का लंड बहुत मोटा था और शायद राहुल से बड़ा भी था, कुल मिला कर धीरज ने नायरा की चीख निकाल दी.

उसने कहा- भैया, फिर तो आपकी भी कोई लड़की दोस्त होगी?तो मैंने हाँ कहा और उसे बताया- जब तू भी कॉलेज जाएगी तब तुझे भी पता चल जायेगा।फिर बातें करते करते हम मस्ती करने लगे तो अचानक एक छिपकली उसके ऊपर गिर गयी जिससे वह डरकर मुझसे लिपट गयी और कस कर मुझे पकड़ लिया. बीएफ दिखाइए तो हिंदी में शुरू शुरू में मुझे थोड़ा अजीब सा लगता था पर अब मैं उनकी नजर को समझ गई हूँ, तो इस बात को एन्जॉय करने लगी हूँ.

”फिर वह 5 मिनट बाद आई और बोली- चलिए … लेकिन ध्यान रहे किसी से कोई बात नहीं करनी है.

बीएफ दिखाइए तो हिंदी में?

ये दवा इम्पोर्टेड है … इससे 6 से 7 बार कर तक चुदाई सकते हैं … और बहुत देर देर तक … वो दवा जल्द ही आने वाली है. मैं अपने काम में कुछ ज्यादा ही बिजी ही गया था जिससे मुझे उनको फोन करने का वक़्त भी नहीं मिला. कुंवर साहब की 70 की उम्र में भी उनका भारी शरीर और बड़े लंड के धक्के मैं झेल रही थी.

तब से पहले हम दोनों अक्सर मिलते थे, चूमा चाटी करते थे लेकिन पूरा सेक्स कभी नहीं किया था. हम दोनों ने मेरे वाले कमरे के दरवाजे को बंद कर दिया और एक दूसरे को बांहों में लेकर पागलों की तरह चूमने लगे. मेरा लौड़ा जवाब देने वाला था … मेरे लण्ड की नसें फूलने को लगी थी और संजना यह जानती थी कि अब मैं झड़ जाऊँगा.

जैसे ही मैंने धक्का मारा तो एक ही झटके में मेरा आधा लंड अन्दर चला गया. फिर उनके हाथों ऊपर उठा कर उनकी बगलों को सूंघने लगा, तो मानो वो अपना आपा ही खो बैठीं. अगर मुझे कुछ भी खाने का ऑर्डर करना होता तो मैं उसे बता दिया करती और वह मेरे खाने का पेटीएम कर दिया करता.

राहुल मेरे मम्मों को अपने होंठों में दबाते हुए खूब जोर जोर से चूसने लगा. अपना लन्ड मैंने उसके मुंह की तरफ किया तो पहले उसने मेरे लन्ड को ऊपर से नीचे तक चाटा फिर उसे पूरा मुंह में लेकर चूसने लगी.

मैंने उन्हें और ज़ोर से खींच कर नीचे गिरा लिया और उनका ब्लाउज निकालने लगा.

तभी दादाजी ने उसे 1000 रूपये का नोट दिया जिसे उसने अपनी ब्रा में खोंस लिया.

मेरी हिंदी सेक्सी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि समीर अपनी विधवा बहन की चूत चुदाई कर रहा था जिसके बारे में उसकी पत्नी को शक हो गया. मैंने देखा कि चाची नहा धोकर तैयार खड़ी थीं- जीशान उठो यार … देखो 9 बज गए हैं. ’ बोलने लगी और जैसे ही मैंने अपना मुँह खोला, उसने झट से अपना लंड मेरे मुँह में पेल दिया.

मेरे घर का दरवाजा लॉक था, तो मैंने चाभी लगा कर खोला और बॉस को अन्दर बिठाया. भाभी ने शालू से पूछा- क्या ये सही कह रहा है?उसने अपना सिर हां में हिला दिया. ‘आअहह बबलीइ … आअहह … ऊऊहह हमम्म्म … साली कितना मजा दे रही है …’‘उउफ्फ़ … आआहह आऐईईई जानू.

हमारा मकान दो मंजिल का है, नीचे हम लोग रहते हैं और ऊपर का हिस्सा किराये पर दे रखा है.

फिर उसने मुझे एक जोरदार किस की और अपनी बाइक से एक फूलों का गुलदस्ता लाकर मुझे दिया, फिर उसने मुझे मेरे रास्ते ड्राप किया और वो चला गया।उस रात मुझे नींद नहीं आ रही थी. उसके हाथ मेरे चूतड़ों पर फिरते हुए मेरी मस्त गांड की घाटियों का जायजा ले रहे थे. मैंने भाभी की ब्रा को उतारा और एक एक करके बारी बारी से उनके रसीले दूध चूसने लगा.

पता नहीं उसे क्या हुआ कि उसने मेरी चूची को भींच लिया और बोली- यह औरतों जैसी क्यों है?मैं चुप रहा. अब तू मेरे लंड को अपनी चूत में अन्दर बाहर कर; ध्यान रखना लंड को चूत से बाहर मत निकलने देना!” मैंने उसे सीख दी. मैंने अपनी टांगें हवा में उठा दी थीं और उनके पूरे लंड को अपने अन्दर ले रही थी.

इस वजह से हमारे घर पर अधिकतर समय मैं, मेरी मॉम और मेरी सिस्टर ही रहते हैं.

सोनिया- अच्छा जी … तो आप मुझे टीज़ कर रहे थे … देखते हैं कौन बेहतर टीज़ करता है. अंकित ने अपने जीभ की नोक से उसके निप्पल को जोर जोर से चाटा तो उसे लगा जैसे उसकी चूत के अंदर तूफान आ गया हो.

बीएफ दिखाइए तो हिंदी में इस बीच में मैंने उनके स्तन और पेट पर कई बार चूस चूस कर निशान बना दिए. मैंने उन्हें समझाया कि किसी को कुछ पता नहीं चलेगा … आप बेफिक्र रहिए.

बीएफ दिखाइए तो हिंदी में मैंने आज तक लंड चुसाई का खेल सिर्फ ब्लू फिल्मों में देखा था पर मैं पहली बार लंड चूसने जा रही थी. मेरी वाइफ मेरी टी-शर्ट उठा कर, अन्दर हाथ डाल कर मेरे निप्पलों को सहला रही थी.

पर नंगे जिस्म डांस कैसे कर सकते हैं, धीरज का लंड बार बार नायरा की चूत के मुहाने पर टकराता और अंदर घुसने की खुशामद सी करता.

हिमाचल प्रदेश की सेक्सी

कोई 15 मिनट की चुदाई में ना ही वो झड़ी … और ना ही मैं … क्योंकि हमने दारू पी थी. जीजू- ले साली ले …इतने में मैं झड़ने लगी थी, पर जीजा जी तो उफान पर थे. उस रात के बाद तुम मुझसे मिली क्यों नहीं?” मैंने अब उसके पास ही बिस्तर पर बैठते हुए कहा.

यह अचानक से हुआ अटैक था और चिकनी चूत के कारण एक बार में ही मेरा लंड आंटी की चूत में लगभग आधा उतर गया. अब आगे की कहानी:जब अगली सुबह दरवाजे की घंटी बजी, तो मैंने नंगी ही रह कर दरवाजा खोला. परीशा पूरी तरह मस्त हो चुकी थी, उसकी चूत उसके काम रस से भीग चुकी थी जिससे बाप मुकुल का लंड चिकना होकर बेटी की चूत के अंदर बाहर होने लगा था.

कुछ देर बाद वो बोली- जीजू अब देर मत करो, बस अब अपना लन्ड मेरी चूत में डाल दो.

एक हल्की हंसी के साथ शबनम ने अंकित से कहा- मैं बहुत दिनों से ये कल्पना कर रही थी कि तुम मेरे साथ ये सब कर रहे हो. इतने में मोहिनी उठ कर बोलीं- डरो शरमाओ मत बेटा … मेरे सामने भी तुम जो करना चाहती हो, अब सब कर सकती हो … अच्छा ही है, मैं भी एंजाय करूँगी. और फिर फिर धीरे धीरे अपनी कमर को हिलाने लगा।कुछ देर बाद मुझे इतना मजा आने लगा कि मैं ख़ुद ही अपनी गांड को पीछे की तरफ हिलाने लगा.

बातों ही बातों में पता चला कि श्वेता मैडम कल्याण में रहती हैं और मैं रोज उनके घर के रास्ते से होकर गुजरता हूं. आप लोगों को भी पता होगा कि मसाज की आड़ में कई जगह लोगों ने धंधा करने वाली लड़कियों को रखा होता है. चूत को चाटने के साथ में मैं एक उंगली भी उनकी चूत में अन्दर बाहर कर रहा था.

मैंने पूजा से पूछा- अब क्या प्रोग्राम है?तब पूजा बोली- अरे अभी तो रात बहुत बाकी है और इसका पूरा का पूरा फ़ायदा मुझे उठाना ही है. मैंने भी उसका दिल रखने के लिए उसके मैसेज का रिप्लाई करना शुरू कर दिया.

ईईई …श्श्श्श्श्श … अआआआह … उहा … उइइ … ईईई … इश्श्श्श्श … अआह … ह्ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हहा …’मैंने भी अब थोड़ा और तेजी से धक्के लगाने शुरू कर दिए … जिससे प्रिया की सिसकारियां और भी तेज हो गईं. उसकी बात सुनकर मैं एन्ट्री गेट पर चला गया और पास चैक करके स्टाफ को अन्दर भेजने लगा. मैंने उसकी फोटो देख कर रात भर उसकी गांड को देख देख कर तीन बार मुठ मारी.

भाभी जी हंस कर बोलीं- अच्छा मैं नमकीन हूँ … फालतू की तारीफ मत करो … ऐसा क्या है मुझमें.

इसके बाद हम दोनों में वासना की लहरें उठना शुरू हुईं, तो उसने मेरे मम्मों को मसलना शुरू कर दिया मैंने भी उससे लिपटी जा रही थी. इसलिए बोल रही हूं कि अगर तुझे उसका लंड पसंद आ गया है तो जाकर चुदवा ले. वो अपनी गर्दन पीछे डाल कर अपनी चूत को मेरे लंड पर रगड़ने में लगी थीं.

उनकी चुत पर पानी आ जाने के कारण चूत नमकीन थी, उसके ऊपर मीठा शहद का मजा था. वो बोली- मैंने तो देखा है कि किसी किसी का औजार तो बहुत बड़ा होता है.

मैंने अमायरा को पलंग पर लिटाया और उसकी चूत को चाटने की तैयारी करने लगा. सासू माँ तीन महीने मेरे साथ … और तीन महीने देवर जी के साथ रहती हैं. फिर मेरे बॉस ने मेरे चूचों को इतना ज़ोर से दबाया कि मेरी तो चीख ही निकल गयी.

सबसे जोरदार सेक्सी वीडियो

पर अब दीपा को कोई संकोच या डर तो था नहीं तो कभी कभी मनोज की गैरमौजूदगी में भी वो जला लेती.

अब वो कमरा गुलाब के फूलों से सज़ा था और सेज़ पर प्रीति मेम दुल्हन के लिबास में बैठी थीं. ” ज्योति ने पिता के सामने शरमाते हुए जवाब दिया।कोई बात नहीं, मुझे तो तुम ऐसे ही कपड़ों में अच्छी लगती हो. अगर आप सहमति दें, तो मैं आज से ही ऑफिस में काम करना चाहूँगी … और सर आपने जो तनख्वाह बताई है, यदि ये उससे आधी भी होती, तो मैं बहुत ही खुशी खुशी करने के लिए राज़ी हो जाती.

” महेश ने अपनी बहू से छोटे बच्चे की तरह ज़िद करते हुए पूछा।पिता जी आप ऐसे मानेंगे नहीं, मुझे यहाँ पर दर्द है … रात आपने इतनी बुरी तरह से किया था कि अभी तक मुझे दर्द महसूस हो रहा है. मैंने पूछा- क्या हुआ … तुम्हारे पति ने तुम्हें अब तक चोदा ही नहीं है क्या?तो वो बोली- अभी तक सिर्फ तीन बार ही हमारे बीच सेक्स हुआ है. रेफ कैसे होता हैवो सब शादी से पहले मैं रखता था, और उनको पहन कर लड़की की फीलिंग लेता था.

”मैं मन ही मन हंसने लगा। लिंग देव कुछ नहीं करेंगे ये लंड देव जरूर कुछ कर सकता है।पर मैंने उसे समझाते हुए कहा- मधुर, हम कोई बच्चा गोद भी तो ले सकते हैं?नहीं प्रेम, मैं तुम्हारे अंश से ही अपनी कोख भरना चाहती हूँ. ऐसा नजारा राहुल ने पहली बार देखा था, वर्ना नायरा तो तुरंत ही अपनी चूत को साफ़ करती थी.

मनोज ने एक दो बार कहा भी कि जब सुनील तेरी चूत चाटेगा तो उसे देखने में बहुत मजा आएगा. कुछ देर तक मेरी गांड लाल करने के बाद उसने मेरी चूचियों को दबोच लिया. मेरी पिछली कहानी थीभाई से चूत चुदवाई बहाना बनाकरइस सेक्स कहानी की शुरुआत करने से पहले मेरा आपसे कहना है कि यदि आपको मेरी सेक्स कहानी अच्छी लगे, तो मुझे ईमेल जरूर करना, ताकि मैं इस कहानी का अगला भाग लिख सकूं.

मैं तुम्हारे करीब आना चाह रहा था कई दिन से; मैं तुम्हें बहुत पसंद करने लगा हूँ. आप कुर्सी पर खड़ी हो कर दिखा सकती हैं?सोनिया फिर से पीछे हट गयी और एक छोटा सा स्टूल लाकर उस पर खड़ी हो गयी. उसने मेरी तरफ आंख दबाते हुए कहा- कैसे लग रही हूँ?मैंने कहा- बहुत ज़बरदस्त … एकदम कबड्डी खेलने लायक माल लग रही हो.

क्या आप मुझे अपनी नई स्कर्ट नहीं दिखाना चाहती हैं?सोनिया- ऐसा नहीं है.

उसके मम्मों को मैं अपने हाथों में लेकर ऐसे मसलने लगा … जैसे वो किचन में आटा गूँथ रही थी. फिर हम दोनों किस करने लगे, जैसे हॉलीवुड की फिल्मों में हीरो-हिरोइन करते हैं.

वो अभी सम्भलती कि मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया. मैंने रचना और रोनित को झूठ ही बोल दिया कि मुझे कुछ काम है, सो मैं रात को देर से आऊंगा. मेरा बांध भी अब टूटने की कगार पर था तभी वो अपनी टांगें मेरी गांड के ऊपर रख कर दोनों टांगों को लपेट मेरी गांड पर रखते हुए मुझसे चिपकने लगी.

जिससे मेरी चूत का पानी उनके लंड पर लग रहा था और मेरी चूत के पानी से उनका लंड भीग गया था. वे कहने लगे कि तुम काम अच्छे से करो, मैं तुम्हारी सैलरी बढ़वा दूंगा … तुम्हारी फैमिली में कौन कौन है, तुमको किसी चीज़ की जरूरत हो, तो मुझे बताना. सलमा भी उठी और उसने जैसे ही अपनी सलवार को उठाया, मैं तुरंत ही अपनी चारपाई पर लेट गयी.

बीएफ दिखाइए तो हिंदी में उसने शुरू की आधी लाइन जब बोली थी, तब मेरा लंड चूत की फांकों में घस्सा मार रहा था और बाद में ‘आह मर गई. ’करीब दस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद फचाफच की भयंकर आवाज के साथ मेरे लौड़े का पानी उसकी चूत को भर रहा था.

जानवर लेडीस सेक्सी पिक्चर

आंटी ने भी मेरी पैंट और शर्ट उतार दी और कच्छे के अन्दर से लंड पकड़ लिया. फिल्म शुरू हो गई थी, लेकिन चित्रा और पब्लिक होने से मैं आलिया के साथ कुछ भी नहीं कर पा रहा था. इधर कबीर मेरे करीब आकर बैठ गया था और उसने मेरे टॉप में हाथ डाल दिया था.

संयोग ऐसा हुआ कि कुछ दिनों के लिए मुझे उनके साथ ही रुकना पड़ा तो कई बार हाल-चाल पूछने के लिए दीदी का कॉल मेरे पास भी आ जाता था. दिव्या मेरी चूचियों को दबा कर मुझे मजा दे रही थी और मैं दिव्या की चूचियों को दबा कर उसको गर्म किये जा रही थी. सेक्सी चुदाई मूवी हिंदी मेंइसलिए मैंने सोचा कि ऐसा काम किया जाए, जिससे उसका ध्यान मेरी तरफ आ जाए.

जिस तरह से मैंने पल्लवी के साथ किया, ठीक उसी तरह पल्लवी मेरे साथ कर रही थी। वो मजे से मेरे दानों काट रही थी और जीभ से खेल रही थी। मेरे निप्पल कड़े हो चले थे और तो और झुरझुरी तो ऐसी हो रही थी कि सुपारे में एक मीठा सा मादक अहसास हो रहा था।मैं अपनी भावनाओं पर काबू रखना चाहता था लेकिन हो काबू हो नहीं पा रहा था, मैंने कस कर उसके चूचुक को दबाना शुरू कर दिया और निप्पल को जोर-जोर से मलने लगा.

वो जोर से अपने हाथों की पूरी ताकत लगाते हुए मेरे दूधों को दबाने लग गया. अब भाई भी उसका साथ देने लगे और साथ में अपने टी शर्ट और फिर लोअर निकालते हुए मेरे कपड़े के ऊपर से बूब्स दबाने लगे और मेरे कपड़े उतारने लगे.

” मैंने बेड के ड्रावर से निरोध निकाला और अपने लंड पर लगाने लगा।गौरी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- मेरे साजन इसे लहने दो … मैं अपने इस प्रथम मिलन के अहसास और आनन्द को बिना तिसी अड़चन और अवरोध के महसूस तरना चाहती हूँ।कह कर गौरी ने शर्मा कर अपने हाथ अपनी आँखों पर रख लिए।मैंने हाथ में पकड़ा निरोध फेंक दिया और गौरी के ऊपर आ गया- गौरी, अगर कुछ गड़बड़ हो गई तो?तोई बात नहीं … मैं पिल्स ले लूंगी. मैंने अपनी आंखें बंद करके खुद को सोफे के सिरहाने पर टिका दिया और एक लंबी सी आह भर दी. गाल फूले फूले से … बड़े बड़े चूतड़, मोटी मोटी जांघें, हल्के सांवले/गेंहुए रंग के!अपने शहर होशंगाबाद से बिजनस का सामान लेने आए थे।चूँकि हमारे पास एक ही बिस्तर व पलंग था, अतः गद्दा आड़ा करके बिछाया पैरों के नीचे दरी बिछाई.

संभोग से ज्यादा फोरप्ले पर ध्यान दें- जब भी आप अपनी साथी के साथ रति क्रिया करते हैं तो जल्दबाजी कतई न करें.

चाचा डिनर कर रहे थे और मैं जब उनको परांठा देने के लिए झुक रही थी तो वो मेरी चूची देख जाते थे. मैं समझ गई कि वो अपना लंड ज्यादा से ज्यादा मेरे मुँह में अन्दर देना चाहता है. वो ऐसे ही उल्टी होकर बिस्तर के दूसरे किनारे से अपने बालों को नीचे लटका कर लेट गईं.

बॉय एंड बॉय सेक्सी वीडियोपात्र बदल जाते हैं, काल बदल जाते हैं, परिदृश्य बदल जाता है, लेकिन सार वही रहता है. ऐसा कहकर मैंने जोर का दम लगाया … अबकी बार मेरा लंड काफी अंदर जा चुका था। वह दर्द से कराहने लगी और बोली- आपने तो आज मेरी फाड़ दी.

जापानी सेक्सी सीन

मैं कपड़े पहनने लगा तो वन्दना ने मुझे रोका और झुक के मेरे लन्ड को चूसा फिर चूम कर अपने कपड़े पहनते हुए बोली- कसम से जीजू, आपके लन्ड से तो जी ही नहीं भरता. फिर बॉस ने चूत चाट कर मुझे घुमा दिया और मैं टेबल पर हाथ रख कर झुक गयी. वो सिर्फ स्माइल करती और इससे आगे बढ़ने की मेरी हिम्मत नहीं थी। आंखें तो शायद उसकी भी कुछ कहना चाहती थीं आज।सिम्मी, शोना चाय पी लो.

मैं- क्यों? क्या तुम ऑफ़िस मुझे देखने आते हो?विनय- अरे नहीं … बस तुमको देख कर अच्छा लगता है. वो मुझको देख कर मुस्कुराई, मैं भी मुस्कुराया और उसके पीछे पड़े बेड पर बैठ गया. तभी उसने पीछे पलट कर देखा, तो मेरा हाथ लोवर के अन्दर था और लोवर में मेरा लंड तना हुआ अलग ही दिख रहा था.

करीब एक घंटे बाद फिर हम दोनों एक दूसरे को चोदने की तैयारी करने लगे. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि विक्रम और वीना के साथ हम पति पत्नी का याराना शुरू हो गया था, हमने बीवियों की अदला-बदली के खूब मजे लिये. नायरा ने धीरज की सुविधा के लिए अपने हाथों से अपने मम्मे ड्रेस से बाहर निकाल दिए और अपने हाथों से उन्हें नीचे से सपोर्ट देकर धीरज के मुँह के पास कर दिया.

मैंने मन में सोचा कि कोई बात नहीं जानेमन … मैंने तुम्हारी चुदाई का लाइव टेलीकास्ट देखने का अरेंजमेंट कर लिया है. मैं- इतनी फिक्र करती हो मेरी खुशी की?परवीन- तू बाकी के सब मर्दों जैसा नहीं है … मैंने तुझे गांड मारने बुलाया, लेकिन तूने मुझे पहले खुशी देकर खुश किया, फिर मेरी गांड मारी.

तुम तो बहुत अच्छे घर की हो; तुम में इतनी भी तमीज नहीं कि किसी के कमरे में जाते वक्त दरवाजा खटखटाना चाहिए?मैंने यह सब थोड़ा गुस्से में ही बोला क्योंकि शीना ने अंदर आकर बिचारी संजना की हालत पतली कर दी थी और उसके साथ साथ मेरी भी.

अब उन्होंने नीचे से अपनी गांड उठाते हुए धक्के लगाने शुरू कर दिए थे. बांग्ला भाषा में सेक्सीफिर वो बोले- साली, यहां पर धंधा करती है और खुद को शादीशुदा बता रही है. ಅಮೆರಿಕನ್ ಸೆಕ್ಸ್लेकिन आजकल के लड़कों का कोई भरोसा नहीं होता कि वो क्या से क्या कर दें।एक दिन मेरी सहेली ने बताया कि उसके बॉयफ्रेंड ने दारू के नशे में कुछ अपने दो दोस्तों से उसके साथ सेक्स करवाया। अब उसके बॉयफ्रेंड के दोस्त इस लड़की के साथ जब मर्जी जब सेक्स करते हैं।लड़कों के साथ तो मैं भी सेक्स करना चाहती थी लेकिन सब लड़के एक जैसे नहीं होते. मैंने उनकी डिसकस प्रोफाइल में से कुछ लोगों के नम्बर निकाल लिये और फिर उनसे बात करनी शुरू कर दी.

मेरी मूत्र नलिका का दाना जिसे क्लिट कहते हैं, वो बाहर निकला हुआ है.

हम दोनों साथ में एक ही बाइक पर काम भी करते थे, इससे हम दोनों को ही कम ख़र्च में काम चल जाता था. बेशक उसे वेबकैम पर उस स्कर्ट में देखने के बाद मैं एक्साइटेड था … क्या वह मुझे हस्तमैथुन करके रिलैक्स होने के लिए कह गयी थी?निश्चित तौर पर उसका यही मतलब था. मैंने कई बार उनसे बोल दिया था कि भाभी काश आपकी शादी मुझसे हुई होती, तो मैं आपको कभी कोई तकलीफ नहीं होने देता.

लेकिन बहुत ही मुश्किल से मैंने पहला पैग खत्म किया और पहले ही पैग में मेरा सिर घूमना शुरू हो गया था. फिर धीरे-धीरे चुटकले और फिर ऐसे ही धीरे-धीरे उसने डबल मीनिंग मैसेज करने भी शुरू कर दिये. लेकिन वो मेरे सामने अपनी हैसियत समझता था, इसलिए मेरी बड़ी इज्जत भी करता था.

सेक्सी व्हिडिओ साडीवाली बाई

उस पर वो कहती कि मुझे झांटों पर लिखना नहीं बन रहा है, मैंने पेन से लिख लिया है. उन्होंने पूछा- आप बात क्यों नहीं कर रहे हो?मैंने बताया- उस दिन मुझसे गलती हो गयी थी. मैंने अपनी सांस रोक ली, धक्के रोक दिए, लंड पेले चुपचाप उसके ऊपर लेटा रहा.

कुछ नहीं हमारे प्यार की निशानी है ये!” मैंने शरारत से उसकी जांघों पर हल्की थपकी मारते हुए कहा जिससे प्रिया हल्का सा शर्मा गयी और उसने मेरे सीने में दो तीन घूंसे लगा दिए.

मैंने अपने दोस्तों को बाय बोला और पार्किंग से अपनी गाड़ी लेने चला गया.

उस दिन से मैं आपको अपनी गलफ्रेंड बनाने का सोच रहा था, लेकिन कभी मौका मिला नहीं, वैसे भी आप इतनी हॉट और सुंदर हो कि किसी का दिल भी तुम पर आ जाएगा. उसके मोटे मोटे चुचे देखते ही मेरा मन करने लगता था कि इन्हें दबा दबा कर चूसने में लग जाऊं. आदिवासी सेक्सी वीडियो जंगल काचाचा रात को ऑफिस से आये तो मैं उनके लिए परांठा बनाने लगी और चाचा डिनर करने लगे.

मेरा लंड जैसे मचल उठा उसके मुंह में जाने के लिए लेकिन वो मुझे और ज्यादा तड़पाना चाहती थी. मगर हैरानी तो तब होती थी … जब वो लड़कियां भी, जिनकी अभी शादी नहीं हुई थी, अपनी चुदाई भी बातें बहुत मजे लेकर सुनाती थी. मैंने कहा- हां माँ जी … उन्हें कोई शिकायत का मौका नहीं मिलेगा, आप बिल्कुल चिंता ना करें.

मेरी पहली चुदाई की कहानी आप लोगों को इतनी पसंद आयेगी मुझे इसका अनुमान नहीं था. लगभग 15 मिनट डॉगी स्टाइल में चोदने के बाद उसे नीचे लिटा कर उसके पैर अपने कंधे पर रखकर मैं घचाघच पेलने लगा उसको और वो चुदाई का मजा लेने लगी.

उस दिन तू फार्म हाउस के लिए जो बुला रहा था, उसी दिन मुझे सब पता चल गया था.

मैं पीछे से उनकी चुत में लंड फंसा कर ही उनके ऊपर आँख मूंद कर लेट गया. मैडम मजे लेते हुई आवाज़ निकाल रही थीं- आह … और ज़ोर से संतोष … इस चुत का भोसड़ा बना दे. फिर मैंने उसको हग किया, गोदी में उठाया और उसके होंठों को चूसने लगा.

సమంత స్క్స్ नेहा ने मेरे होंठों को को छोड़ते हुए ‘नहींईई …’ कहा और वापस अपने कुर्ते को नीचे करने लगी. बीच बीच में हम एक दूसरे को किस कर रहे थे और मैं उसके चूचे भी चूस रहा था.

कुछ देर बाद मेरे भोसड़ी वाले का शरीर एकदम कड़क सा हो गया और उसी समय उसके लंड में से चिकना सफेद सा पानी से निकलने लगा, जिससे मेरा मुँह भर गया. और सच बात तो यह थी कि मुझे वाकयी में इस वक़्त अपने खड़े लंड को बिठाने के लिए हस्त-मैथुन करने की सख्त ज़रूरत महसूस हो रही थी. मुझे तो शिवानी पर भी कोई विश्वास नहीं था … क्योंकि अगर किसी दिन उसका दिल किया, तो सबके सामने सब कुछ उगल देगी.

डबल बेड फर्नीचर फोटो

उसने अपने दोनों हाथों को अपने पेंटी के इलास्टिक में फंसाया और एक झटके में अपनी पेंटी उतार कर मेरे मुँह पे फेंक दी. मैंने भी अपने ऑफिस से 3 दिन की छुट्टी ले ली और उसके साथ देहरादून जाने की तैयारी कर ली. चाची भी भूखे की तरह मेरा लंड पूरा का पूरा मुंह में लेके चूस रही थी।और मैं अपनी जीभ पूरी चाची की चूत में घुसाने की कोशिश कर रहा था, चाट रहा था.

वह सीधे उसकी आँखों में देख रहा था जब वह अपनी लंबी पतली उंगलियों से उसके बालों को सहला रही थी. एक हल्की हंसी के साथ शबनम ने अंकित से कहा- मैं बहुत दिनों से ये कल्पना कर रही थी कि तुम मेरे साथ ये सब कर रहे हो.

या फिर ऐसा कहें कि जब तक किसी लड़की के नर्म कोमल हाथ मेरे बदन को ऊपर से लेकर नीचे तक न सहलायें तो मुझे कुछ अधूरापन सा लगता है.

मैंने ओके कहा और भाभी जी के दोनों पैर पकड़ कर उनको बिस्तर पर चित लिटा दिया. लेकिन बस मैं देख तो सकता हूं न एक बार?ये कह कर मैंने उसकी शर्ट के सारे बटन खोल दिये और शर्ट खोल कर निकाल दी तो अंदर उसने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी. वो एक बहुत बड़ी चुदक्कड़ थी और उसने मुझे भी अपनी जैसी रंडी बना दिया था।पूरी रात वासना का यह खेल चला.

मैंने पूछा- तुमने इतनी अच्छी चुदाई कहां से सीखी?वो बोला- मैंने मोबाइल में बहुत सारे पोर्न वीडियो देखे हैं. मैंने एक दो जगह काम भी किया … पर सभी जगह मुझे जिस्म काटने वाले भेड़िये ही दिखे. ” उसने अपनी कमर को दोनों हाथों से घेरा बनाकर पकड़ते हुए मेरी ओर देखा।वाह … ! क्या कातिलाना अंदाज़ था।अब तो मेरा उठना और उसे बांहों में भर लेना लाज़मी बन गया था। मैं पलंग से उछला और जाकर पीछे से उसे बांहों में भर लिया। मेरा खड़ा लंड उसके नितंबों से जा लगा और एक हाथ से मैंने उसका एक उरोज और दूसरे हाथ से उसकी मुनिया को पकड़कर धीरे धीरे दबाना चालू कर दिया।ओहो … रुको तो सही … लाइट तो बंद करने दो.

जब वो अंडरवियर में होते थे तो उनके लंड की तरफ भी मेरी नजर चली जाती थी।जब घर के लोग मुझसे लड़ते थे किसी बात को लेकर तो चाचा मेरी साइड से लड़ते थे, चाचा हमेशा मेरी सहायता करते थे.

बीएफ दिखाइए तो हिंदी में: मैंने कहा- रानी! यह काम बहुत पहले ही होना चाहिए था … उफ … आह … ह … चूसो … मेरे लंड को चूस के और काला कर दो।फिर उसे बिस्तर पर लेटाकर मैं जल्दी से उसके साया को खोलने लगा. कमलेश बोला- साली के चूचे तो देख … कितने टाइट हैं … शायद अभी तक किसी ने दबाए ही नहीं हैं.

वो जब बाथरूम से बाहर निकली, तो उसने ऊपर नीचे तक लाल रंग की एक ही ड्रेस पहन हुई थी. उनके हाथ एक दूसरे के शरीर में इस तरह से खोये हुए थे जैसे किसी खजाने की खोज कर रहे हों. लेकिन शुरूआत में, किसी भी लड़की के साथ बातचीत कुछ मिनटों से आगे नहीं बढ़ पायी थी.

बस फिर क्या था … वो कुछ देर मुझे घूरती रही और बिना लिफ्ट के सीढ़ियों से ही जाने लगी.

अब तक मेरे लंड में तनाव तो आ ही चुका था कि बीच में ही ज़रीना का फोन आ गया. वो बोली- तुम तो अभी तैयार ही नहीं हुए?मैंने- बस कॉफी खत्म करके अभी हो जाता हूँ. मैंने कुसुम को 1500 रुपए दिए और कहा- हालांकि मेरा मन अभी भरा नहीं है.