इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई की

तस्वीर का शीर्षक ,

सीने में दर्द के लिए योग: इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी, मैं और प्राची बाथरूम में नंगे थे, तभी अंकिता ने दरवाजे को खुलवा लिया।अब आगे.

সেক্স চাই

लेकिन ऐसी कौन सी जगह हो सकती थी जहाँ मैं उसे 1-2 घंटे अपनी बांहों में रख पाता? फिर थोड़ा सोचने के बाद मैंने एक रिक्शा किया और उससे कहा- हमें एक लम्बी ड्राइव पर ले चलो।फिर हम दोनों निकल पड़े शहर के बाहर।रिक्शा में बैठते ही मानसी मुझसे चिपक गई और मेरी गर्दन पर अपने होंठ छुआने लगी।मेरा लंड खड़ा होने लगा और मैंने उसे अपनी बाँहों में भर लिया।मानसी मुझे प्यार करने के लिए मचल रही थी. हिंदी में ब्लू सेक्सी दिखाएंमैं तो पूरी मस्ती में डूबता जा रहा था।शायद दीदी को इस बात का कोई ख्याल नहीं था।दीदी को पता था कि मैं बहुत शर्माता हूँ इसलिए वो मजाक-मजाक में मेरे और करीब आ कर बैठ गईं।दीदी- कहीं भाग मत जाना.

पर मैं इतना थक गया था कि उठ ही नहीं पाया।वो चली गई।मैं करीब 9 बजे जागा. एक्स वीडियो साउथ इंडियनवो तो सुहागरात को भी नहीं आया।सीमा भाभी ने बताया कि मैं किसी भी औरत को खुश कर सकता हूँ।आपको मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल जरूर कीजियेगा।आपका हरियाणवी विजय[emailprotected].

मैं पापा से बोलूँगी।तभी बहुत तेज हवा चलने लगी, पानी की बौछार में हम लोग भीगने लगे।विकास ने उस कमरे के दरवाजे को धक्का दिया.इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी: मैं उसे देख रहा था और इधर विभा मेरे लौड़े को अन्दर-बाहर करने में मशगूल थी। मैंने देखा कि राखी की बुर बहुत सुन्दर थी और एकदम गुलाबी सी.

रात में हॉस्टल की गैलरी में कुछ आवाजें आती सुनाई दीं। बाहर जा कर देखा तो मोनिका अपने बॉयफ्रेंड के साथ थी।उसका नाम करन है, वो दिखने में काफी हैंडसम है।लेकिन वो दोनों इतनी रात में क्या कर रहे थे और मोनिका ने सिर्फ अपनी पैन्टी और एक टॉप डाला हुआ था, जिसमें से उसकी काली ब्रा की स्ट्रिप साफ-साफ दिख रही थीं।वो दोनों मोनिका के कमरे के बाहर कुछ बात कर रहे थे, शायद मोनिका उससे कह रही थी कि ‘शोर न मचाओ.कर रहा है। वो अभी पहले साल में है और मेरी उससे दोस्ती सी है क्योंकि वो मुझसे कुछ ही साल छोटा था। भाई साब की लड़कियां भी पढ़ती हैं।भाभी जी की उम्र 45 साल है और लड़कियाँ जवान हो चुकी हैं।बड़ी लड़की का नाम मीनाक्षी और छोटी का नाम प्रियंका है।भाई साहिब एक्स.

जीजा साली का बीएफ - इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी

जिससे मुझे उल्टी सी आने लगी, पर उसने नहीं निकाला। काफी देर तक वो मेरे मुँह को चोदता रहा और जोर-जोर से ‘आहें.रुको न उफ्फ्फ तुम भी न सब्र नहीं करते हो।मैं- जब तेरे जैसी गर्लफ्रेंड हो.

जब वो पापा के साथ सोई हुई थीं तो पापा मम्मी की चूत में उंगली कर रहे थे ओर मम्मी पापा का लंड चूस रही थीं।दोनों ‘आह. इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी वो पल मेरे लिए हमेशा यादगार रहेगा। तभी मैंने उसे हग कर लिया और मैं उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा।फिर कुछ देर बाद मैंने उसे एक किस किया.

मगर मैं इतनी जल्दी कहाँ जाने वाला था। अब मैंने उसे घोड़ी बनाया और घुड़सवारी चालू कर दी।कई मिनट तक कई तरह से उसकी चूत को चोदने के बाद आख़िर चूत की जीत हुई.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी?

आपकी चूत तो सचमुच में गुलाबी है। इसे देखकर तो मजा आ गया।सुनीता- राज क्या करूँ. ये जवानी अब तेरी जवानी से मिक्स होने को तड़प रही है।मैंने तुरंत उसकी पैंटी को थोड़ा और नीचे किया तो वो सिसकते हुए बोली- साले मुझे अल्फ नंगी किए जा रहा है और खुद एक कपड़ा भी नहीं हटाया अभी तक. और मुझे तेरे सिवाए कोई नहीं दिखाई देती है।मुझे यह सुन कर हैरानी तो हुई.

मेरा नाम लक्की है। मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। आप सबकी कहानियों से प्रेरित होकर मैंने हाल ही में की एक शरारत की कहानी लिख रहा हूँ।यह मेरी और ममेरी बहन की बात है, लिखने में कोई चूक हो तो माफ कीजिएगा।बात कुछ महीने पहले की है, मैं नाना जी के गाँव गया हुआ था, मेरी नजर मेरी बहन पर शुरू से नहीं थी, लेकिन जैसे-जैसे जवानी का भूत मेरे सर चढ़ने लगा था. उस पल इतनी देर बाद मैं उसके चेहरे पर हल्की सी मुस्कान देख पाया।फिर मैं धीरे से बोला- चलो तुम्हें आज फिर से नहलाते हैं. पर वो मुझसे खुल नहीं रही थी।इस मामले में मैं थोड़ा नया खिलाड़ी था।वो फिर से हँसने लगी और खुद ही ब्रा उतार दी।मेरी आँखों में रोशनी सी आ गई.

इतना सुनते ही मैं अपनी ओरिजिनल स्पीड से उसकी चूत फाड़ने लगा और वो आवाज़ निकालने लगी ‘आह्ह. पर उसने मेरा मुँह अपने हाथों से बंद कर दिया।अब उसने एक और धक्का मारा और इस झटके से उसका पूरा लंड मेरी गाण्ड में अन्दर तक चला गया।अब मुझे दर्द भी हो रहा था और बेहद मज़ा भी आ रहा था. मेरे पति 4-5 दिन के लिए बाहर गए हुए हैं।मैं वहीं रुक गया और रात भर खूब मस्ती की।इसके आगे क्या हुआ.

देखती हूँ कि कितना दम है इसमें।उन्होंने एक ही झटके में मेरी पैन्ट की ज़िप खोल दी।मैंने भी सेक्सी स्माइल दी और आगे बढ़ते हुए उनके बाल पकड़ कर उनके होंठों का चुम्बन लेने लगा।वो एक पागल कुतिया की तरह मुझे किस किए जा रही थीं ‘उउम्म्म्मा. कितना चूस रही हूँ, फिर भी ये साला खड़ा ही नहीं हो रहा है?रमेश ने सिस्कारते हुए- आह उइ.

कब से तुम्हारा लंड खाने को तड़प रही है।ऐसा लग रहा था चूत चोदने का जितना मुझ पर नशा था.

यह सब तो लड़कियां करती ही हैं ना?माँ के सिर के बालों में हाथ फेरते हुए रेवा ने झुक कर माँ के होंठों को चूमा और उसकी निचले होंठ को अपने दाँतों की गिरफ्त में लेते हुए आहिस्ता आहिस्ता काटने लगी.

पर मैं ज्यादा ध्यान न देते हुए बाथरूम में चला गया और नहाने लग गया।बाथरूम में किसी की पैंटी टंगी हुई थी और उसे देखने पर लग रहा था कि वो अभी आज ही निकाली हुई है और उसका पानी ताज़ा लग रहा था।थोड़ी देर सोचने के बाद मैं नहा लिया और कमरे में वापस आ गया।मैंने देखा तो वहाँ पर मेरे कपड़ों के साथ एक पर्स भी पड़ा हुआ है और उसमें कुछ क्रेडिट कार्ड थे. वो बेडरूम में ले आया।मानसी के बाजू में लेट कर मैं स्तनपान करने लगा. फिर धीरे-धीरे लण्ड आगे-पीछे करने लगा।अब उसे भी मज़ा आने लगा, वो भी अपने चूतड़ ऊपर-नीचे करने लगी।मैं 10 मिनट में स्खलित हो गया।मैंने उससे पूछा.

जरा अपने पप्पू के दर्शन भी करवा दो।मुझे मजा आ रहा था, मैंने अपनी पैन्ट की चैन खोलकर अपने पप्पू को बाहर निकला।उसका साइज उस टाइम पूरे आकार का हो गया था।उन्होंने मेरा पप्पू देखा और अपने हाथों में पकड़ लिया और कहने लगीं- तुम्हारा पप्पू तो बहुत बड़ा और मोटा है। तुम्हारे सर का तो 5 इंच का ही है. तो वो मुझसे कहती- सोचो तुम मुझे चोद रहे हो।इस प्रकार वो मुझसे मुठ मरवाती।अब तो क्लास में मैं कभी-कभी उसकी जींस के ऊपर से उसकी चूत के पास हाथ रखता. ! मुझे उम्मीद है कि तुमको मजहबी गर्लफ्रेंड मिल जाएगी। वैसे शाम को क्या कर रहे हो?भाभी की चुदास मुझे समझ में आने लगी थी।‘भाभी आज मेरे घर के सभी लोग 2-3 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं.

और समोसे लेने चला गया।रास्ते में मैंने सोचा अब कुछ और लेकर जाऊँगा अमृता के लिए।मैंने बरफी ली और आ गया।सब पूछने लगे कि बरफी क्यों लाया।मैंने कहा- समोसे खत्म हो गए थे।मैंने बरफी रख दी.

मैं वो करूँगा।मैं उसके आगे हाथ जोड़ने लगा।वो फिर मुझे घूरते हुए बोली- साले गांडू. तो भैया खड़े थे।मेरी धड़कन तेज हो गई थीं, मुझे लगा कि शायद उन्होंने सब सुन लिया होगा।मैं सामान्य बर्ताव करने लगा।तभी वो बोले- तुम दोनों क्या कर रहे थे?मैं- भैया हम दोनों तो ताश खेल रहे थे।राहुल- मैं ये बताने आया था कि मेनगेट बन्द कर लो. उसे गुस्सा आता।मुझे उससे पंगे लेने में मजा आता, वो मुझसे तंग सी आ गई थी।मैं उसके सामने बैठने लगता.

वैसे ही खुशबूदार था।मैंने माया को देखा तो मेरे लंड में करंट दौड़ गया। क्या क़यामत लग रही थी वो. मेरी मदद कर दो।मैंने कहा- चलो मैं मदद कर देता हूँ।मैंने उसके झोपड़े की नई छत लगवाने का वादा भी किया।उसने मुझे मुस्कुराते हुए मुझे ‘थैंक्यू’ कहा।मैं उसकी मदद करने के लिए चला गया। वहाँ पहुँच कर मैं नीचे से भारी सामान उठाकर कोठी के बाहर वाले कमरे में ले गया। चांदनी भी हल्का सामान लेकर आ गई. इतना कहते-कहते वह रोने लगी और आगे बोली- मैं किसके साथ सेक्स करूँ? समाज में मेरी भी इज्जत है,प्रतिष्ठा है.

मेरा आधा लण्ड मुश्किल से अन्दर गया होगा।प्रीति की आँखों से आंसुओं की गंगा बहने लगी, वो बुरी तरह से सिर पटकने लगी.

कभी उनकी गर्दन पर भी चूम लेता था।धीरे-धीरे में नीचे की ओर बढ़ा और मैंने उनके हाथों को फैला दिया. मैं तो भाभी की पारदर्शी नाईटी से दिखाई देते उनके अंगों को देखने आया था।कुछ देर में ही भाभी ने वो सवाल फिर से हल कर दिया, मुझे फिर से उनके कमरे से आना पड़ा।कुछ देर बाद मैंने एक नया सवाल लेकर फिर से भाभी का दरवाजा बजा दिया।इस बार भाभी दरवाजा खोलकर हँसने लगी और हँसते हुए कहा- फिर से.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी तो मैं समझ गया कि आज ऊपर वाला मुझ पर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान है।फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी कमर में डाला. तो वो पूरी तरह गीली हो गई थी।मैंने धीरे से एक उंगली चूत में डाल दी।वो सिसकारी भरने लगी।चूत बहुत टाइट थी, वो अभी तक शायद किसी से चुदी नहीं थी।मैं उसके ऊपर 69 पोजीशन में आ गया और चूत में जीभ डालकर चाटने लगा।जैसे ही मैंने उसकी चूत को मस्त करके चूसा.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी मुझसे रहा नहीं गया और मैं भी उसके पीछे चला गया।उसे लगा कि मैं उसका पीछा कर रहा हूँ. मैं तो जैसे उसे देखकर पागल सा ही हो गया था।मैंने अपनी शर्ट और जीन्स भी उतार दी।मेरे फनफनाते लौड़े को देखकर वो बोली- हाय ये एकदम कितना बड़ा हो गया।मैंने कहा- देखती जाओ मेरी जान.

पर दिख गया।भाई का लण्ड देख कर मैंने उसी वक़्त सोच लिया कि यही लण्ड मैं अपनी चूत में लेकर रहूंगी।भाई का लण्ड काफी लंबा और मोटा था। मैं उसके लौड़े को देख कर तो एक बारी डर गई थी कि इतना बड़ा और मोटा लण्ड मेरी चूत में अन्दर कैसे जाएगा।उस दिन मैंने भाई को मुठ मारते भी देखा.

बीएफ सेक्सी पिक्चर नंगी

पर मेरी पकड़ उस पर अच्छी थी। क्यूंकि मैंने उसे अपने छाती के दबाव से पकड़ कर रखा था और उसके हाथों को मैंने अपने हाथों से जकड़ रखा था।क्या मज़ा आ रहा था दोस्तो. चुपचाप आकर यहाँ लेट जाओ।उनके इस तरह बोलने की वजह से मैं डर गया और वहीं बिस्तर पर दूसरी साइड में होकर लेट गया।फिर कुछ देर बाद चाची बोलीं- इतनी दूर क्यों लेटे हो. आरोग्य प्राप्त होता है और आप तनाव मुक्त होते हैं।4- सेक्स में जबरदस्ती औरत कभी पसंद नहीं करती, सेक्स जितना लम्बा चला सको.

कहने को तो यह एक फिल्म का नाम है, लेकिन जो कहानी मैं आपको सुनाने जा रहा हूँ. कुछ नहीं होगा।उसने मुस्कुरा कर मुझे चोदने की परमीशन दे दी।मैं उसकी झांटों और चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा, उसने गरम होते हुए कहा- अब डाल भी दो प्लीज।मैंने लंड को उसकी चूत में हल्का सा झटका दिया. उन्हें मैं बता देता हूँ कि डॉली मेरी गर्लफ्रेण्ड थी जो मेरे साथ 4 साल तक साथ रही और 4 साल तक हम दोनों ने खूब चुदाई की।हम दोनों के लिए चुदाई कुछ ऐसी हो गई थी कि जब तक हम दोनों रोज़ दिन में 2 बार चुदाई ना कर लें.

तो दोपहर में सो गया।शाम होने को होगी और मुझे नींद में कुछ छूने का एहसास हुआ।मैंने आंख खोली.

पर मैंने उधर कुछ नहीं बोला और वापस चला आया।शाम हो गई और मैं घर के बाहर फोल्डिंग चारपाई डाल कर लेट गया। सब लोग भी वहीं पर लेट गए. वो मुझे बक्श देने के लिए कह रही थी।वो शायद उसकी माँ ने इसलिए कहा था. इसलिए ये सब नाटक किया।यह सुन कर तो मैं एकदम भौंचक्का रह गया और सोचने लगा कि जिसे मैं मासूम समझ रहा था.

तुम मेरा लंड चूसो।वो मना करने लगी तो मैंने उससे कहा- देखो मूवी में कैसे लॉलीपॉप की तरह चूस रही है वो लड़की. पूरा माल पी गई।कुछ ही देर में हम दोनों के चेहरे पर मुस्कान थी।तभी घण्टी बजी, सोनिया ने कपड़े पहने और दरवाजा खोला।पूनम खाना लेकर आ गई थी, उसने अन्दर आते ही कमरे में देखा और बोली- सोनिया कैसा लगा सैम से मिल कर?सोनिया हँसने लगी।उसके बाद हम तीनों ने साथ में डिनर किया।डिनर करने के बाद सोनिया सोने की कहने लगी. जबकि रोज़ाना मेरे दरवाज़ा खोलने पर वह मेरी ‘गुड मार्निंग’ विश का जवाब देकर चली जाती थी।मैंने उसे गौर से देखा और पूछा- क्या हुआ?वह झेंप कर चली गई।मुझे उसका व्यवहार अजीब सा लगा और फिर मेरा ध्यान मेरे लण्ड की तरफ गया.

वो शायद पूरी दुनिया में किसी भी मर्द को पागल कर सकता था।उसके दोनों मम्मे मेरे दोनों हाथों में जैसे-तैसे बस आ ही पा रहे थे।मैं उन दोनों मम्मों को एक छोटे बच्चे की तरह चूसने लगा। डंबो मेरे सर को अपने दोनों हाथों से अपने छाती की ओर खींच रही थी और हल्की-हल्की सी सिसकियाँ ले रही थी।मेरे सिर से उसका हाथ कब मेरी कमर पर पहुँचा और कैसे उसने मेरी बनियान मुझसे अलग की. आज अपने मुझे सच में शादी के बाद पहली बार औरत का सुख दिया। आप स्पेशल हो मेरे लिए। अब आपका जब भी मन करेगा, मैं आपको ना नहीं कहूँगी। आप बिंदास अपनी भाभी की चुदाई कीजिएगा। मैं पूरी आपकी हो चुकी हूँ।मैं- थैंक यू भाभी मुझे खास बनाने के लिए। शायद हमें दूसरा मौका न मिले.

जो शायद उसके मन को भा गया था।बस अब वो रोज मुझे वहशीपन से देखने लगी और मैं उसके गुलाबी होंठों को चूस कर निचोड़ लेना चाहता था।पर क्या करता छोटा सा गाँव था. मजा आ गया। आज तक ऐसा लण्ड नहीं खाया।’‘तू क्या पहले चुदवा चुकी है?’‘और नहीं तो. मजा आ गया।’कुछ मिनट चोदने के बाद हम दोनों साथ में ही झड़ गए, उसकी चूत मेरे पानी से भर गई।थोड़ी देर हम ऐसे ही एक-दूसरे को बांहों में लेकर पड़े रहे।वो मुझसे कहने लगी- लव सब कुछ कितना जल्दी हो गया ना.

मैंने चाची को इशारा करके रसोई में आने को कहा।चाची- अरे क्या विकी… क्यों बुलाया? थोड़ी बात तो करने देता… बोल क्या है?माया- भाभी लड़का कैसा है?बीच में मैं टपक पड़ा और बोला- बिल्कुल तेरी पसंद का है.

वो देखकर मैं हैरान रह गया।कोमल बिल्कुल नंगी शीशे के सामने खड़ी थी, वो अपने एक हाथ से अपने मम्मे को मसल रही थी और दूसरे हाथ से अपनी चूत को सहला रही थी।उसके मुँह से कुछ अजीब सी आवाजें निकल रही थीं।यह सब देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया तभी कोमल ने शीशे से ध्यान से देखा तो उसे पता चल गया कि मैंने उसे देख लिया है।मेरी उससे नजरें मिल गईं. जिसमें मैंने एक नोट छिपा रखा था, जिसमें ‘आई लव यू’ लिख कर उसे दे दिया।मैंने उससे कहा- यह गिफ्ट तुम घर जाकर अकेले में खोलना।मैंने ध्यान दिया कि उसके बाद उसके चेहरे पर एक मुस्कान सी आ गई थी।उसके बाद हमने जितना भी टाईम साथ बिताया. ’ की आवाज़ भी माहौल को गर्म कर रही थी।पता नहीं वो कब से प्यासी थीं। थोड़ी देर वैसे ही चोदने के बाद वो बोलीं- जरा रूको.

मैं खाना बनाने की तैयारी कर रहा था।तभी प्रिया आई और बोली- रंजन आज तू मेरे यहाँ नहीं आया?मैं बोला- बस ऐसे ही नहीं आया. जो सिर्फ उसके चूतड़ों तक ही आ पाती और उसका गोरा बदन और उसकी ब्रा पैंटी सब कुछ दिखता। वहीं से उस ड्रेस को गिफ्ट पैक करवा लिया।कुल मिला कर अपनी रात को रंगीन बनने का पूरा इंतज़ाम कर लिया था।फिर जब उसका एग्जाम खत्म हुआ.

कितना मज़ा आता है।उसके थोड़ा ज़ोर देने पर मैंने उसका लण्ड मुँह में ले लिया और चूसने लगी। पहले तो थोड़ा गंदा लगा. प्राची पूरी नंगी फर्श पर पैर फैलाए बैठी थी। उसने अपने एक हाथ को चूत पर रखा हुआ था और एक ज़मीन पर अपने पीछे रख कर अपने को रोके हुए थी।सब कुछ गड़बड़ होने से बच तो गया था, पर स्थिति ऐसी थी कि कुछ भी कहा नहीं जा सकता था कि अंकिता को क्या लगेगा।आपके ईमेल के इन्तजार में हूँ।[emailprotected]कहानी जारी है।. पर वो मेरे पीछे आ गई।मैं डरा हुआ था।वो अन्दर आकर बोली- मुझे पता है कि तुम क्या कर रहे थे.

आंटियों की बीएफ

क्योंकि दोनों फैमिली के बीच फिर से झगड़ा हो जाएगा।मैं- चाची मुझे माफ़ कर दीजिए.

तो मैंने ‘हाँ’ समझ कर उसे चूमना शुरू कर दिया।वो भी मेरा साथ देने लगी।कुछ ही पलों में सारे कपड़े कहाँ थे. वो मेरी गर्लफ्रेंड की कमी को कभी महसूस नहीं होने देता था।फिर हम दोनों में कुछ भी छुपा न रहता था, हम सब कुछ शेयर करने लगे।मैंने एक दिन उससे पूछा- तू चुदक्कड़ गांडू कैसे बन गया?तो उसने अपनी कहानी बताई…वो बोला कि वो बचपन से ही ऐसा था. अन्तर्वासना की गर्म चूत वालियों को और खड़े लंड वालों को उदय का नमस्कार!मैं उदयपुर में रहता हूँ.

पर मेरे समझाने पर मान गई।मैंने लण्ड उसकी चूत पर लगाया और अन्दर को सरकाया. ले अब बड़े प्यार से खा साली।यह सुनकर कविता और मस्त हो गई और उसका शरीर अकड़ने लगा, मैंने उसे कस कर पकड़ लिया और अपना लंड थोड़ा बाहर करके अन्दर को एक जोरदार झटका लगाया।मेरे झटका लगाते ही कविता के मुँह से बस कामुक सिसकारियाँ और अस्पष्ट शब्द निकलने लगे ‘उई अंह. एक सेक्सी वीडियो सनी लियोनतो वो शर्मा गई।अब हम दोनों पर वोड्का का थोड़ा-थोड़ा नशा हावी हो रहा था।तभी वो बोली- मैं आज घूमते-घूमते बहुत थक गई हूँ.

तो मैंने कहा- नोट्स तो निशा के पास हैं।तो वह मुझसे बात करने लगी- मुझे तो नोट्स की सख्त जरूरत है।हम दोनों बातें करने लगे।मैंने उसके पति के बारे में पूछा. फिर आंटी ने अपना गाउन पहना और किचन में चाय बनाने के लिए चली गईं।मैं कपड़े पहन का वहीं बैठ गया और टीवी देखता रहा।थोड़ी देर बाद मैं फिर से चुदाई के तैयार हो गया तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं भी किचन में चला गया। मैंने आंटी का गाउन ऊपर करके फिर अपना लंड आंटी की गाण्ड में रगड़ने लगा।आंटी बोलीं- अब नहीं रवि.

फिर मैंने भी साथ देते हुए अपनी जीन्स निकाल दी और अंडरवियर में हो गया।मैं उसकी चूत को उसकी पैन्टी के ऊपर से रगड़ने लगा।वो ‘आअह. सो चूसती रही।कुछ देर में वह झड़ गया, कम से कम दो चम्मच के बराबर पतला वीर्य निकला जो मैंने अपने होंठों पर निकाला था।उसे फिर मुँह खोलकर अन्दर लिया।जो होंठों पर बिखरा था, उसे जीभ से चाटा फिर लंड मुँह में ले खूब चूसा ताकि लंड में बची आखिरी बूंद तक निकल आए।अब मैंने लंड छोड़ दिया, वह लटक गया।मैं खड़ी हो गई. पर वो किसी से भी कहने से डरते हैं जैसे मैं पहले किसी से सेक्स करने के लिए कहने से डरता था।आज कहने को तो मैं 3 लड़कियों के साथ हूँ.

और अब तो मेरा दिमाग राजेश के लण्ड की कल्पना भी करने लगा कि उसका लण्ड कैसा और कितना बड़ा होगा। लेकिन अभी भी उसका लण्ड चूसने. पर मुझे अच्छा लग रहा था।फिर मैंने उठ कर अपना पजामा नीचे किया।मेरा लण्ड बुरी तरह से अकड़ा हुआ खड़ा हुआ था, मेरा लण्ड ख़ासा लंबा और मोटा है।वो मेरे मोटे और लम्बे लौड़े को देख खुश हो गई, कहने लगी- डाल दो इसे मेरी चूत में. ’ करता रहा और मेरे ऊपर बैठा दिया।राकेश ने तेल मांगा तो राजा बोला- ला लंड पर भी मैं ही लगा दूँ। फिर उसने मेरी गुलाबी चिकनी गांड को देख कर कहा- भैया इनकी तो अभी गुलाबी रखी है.

रात में आऊँगी।मैं बहुत खुश हो उठी।मैंने बोला- ठीक है मॉम।थोड़ी देर के बाद मॉम चली गईं।मैं नहाने चली गई, मैंने अपनी चूत के बाल साफ़ किए और एक तौलिया में बाहर आ गई।भाई वहीं बैठा था.

इसे चोदने में ज़्यादा मज़ा आएगा।यह सुन कर सारी आंटियां ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगीं।हँसते हुए नफ़ीसा आंटी सबसे प्यारी लग रही थीं।रचना आंटी की गाण्ड मारने पर जो ‘फॅक. मैं उठी और उसके टोपे को मुँह में ले लिया, उसे चूसा और ढेर सा थूक पूरे लंड पर लगा दिया।लेटी तो उसने थूक से गीली उंगलियों से चूत को फैलाया और बीच में बिना हाथ लगाए टोपा सटाने लगा.

कोई दिक्कत?वो हँस दी और पूछने लगी- अन्दर दिक्कत नहीं होगी तुम लोगों को? अगर शर्म न आए. उसका धंधा थोड़ा ढीला चल रहा है।दस मिनट के बाद राकेश आया।एक हल्का सांवला सा 22-24 साल का, राजा से थोड़ा ज्यादा तगड़ा ऊंचा था।उसे देखते ही राजा खड़ा हो गया, उससे बोला- मैं इस कमरे में हूँ। तू निपट कर आजा. रात में आऊँगी।मैं बहुत खुश हो उठी।मैंने बोला- ठीक है मॉम।थोड़ी देर के बाद मॉम चली गईं।मैं नहाने चली गई, मैंने अपनी चूत के बाल साफ़ किए और एक तौलिया में बाहर आ गई।भाई वहीं बैठा था.

कोई तकलीफ हो तो बताना।वह पहला गांड मारने वाला था, जो इतना ध्यान रख रहा था. वो तीनों भी एकदम नंगे हो गए और बारी-बारी से लण्ड चुसवाने लगे।वाओ… कितना बड़ा लण्ड था उसका और उस पर झांटों की महक मुझे पागल बना रही थी।तभी किसी ने मुझे घोड़ी बना दिया और एक ने पीछे से मेरी गांड चाटनी शुरू कर दी, एक ने आगे से लण्ड मेरे मुँह में दे दिया।मैं मजे लेने लगी. तो मैंने देखा कि तुषार सोफे पर सिर्फ अंडरवियर पहने बैठा था और उसके कपड़े टेबल पर पड़े थे।तुषार ने वाइट कलर की जॉकी की अंडरवियर पहनी थी। हमें देख कर उसने अपने लौड़े पर हाथ फेरते हुए कहा- आओ रानियो.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी हाय क्या मस्त अनुभव था। फिर मैंने उसके होंठों को चूमा और चूमता ही रहा। बहुत देर तक चूमता रहा। हम दोनों के चेहरे गीले हो चुके थे. हाथ हटा ले फिर धक्का दे।अब मैं लंड के धक्के दे रहा था, मेरे साथ वह भी नीचे से धक्के लगा रहा था।बदन सनसना रहा था।हम 15-20 मिनट तक लगे रहे।निपट कर बैठे ही थे कि चाचा आ गए, बोले- चलो।राजा बोला- चाचा.

बीएफ हिंदी में वीडियो में दिखाएं

अमृता की सहेली ने बरफी अमृता को दी, उसने खाने से मना कर दिया।मेरा दिल फिर उदास रहने लगा।दिन गुजरते गए. बस में मिली वो अप्सरा मुझसे अपनी चूचियों को स्पर्श करवा रही थी।अब आगे. तो सविता भाभी फिर सोचने लगीं कि इतना तो मेरी डॉक्टर श्वेता ने भी कभी नहीं दबा कर जांचा था.

बस उसके मुँह से गहरी-गहरी साँसें फूट रही थीं।आहिस्ता आहिस्ता मैंने अपनी ज़ुबान को उसके होंठों के दरम्यान में धकेल दिया।अब मेरी ज़ुबान उसके होंठों को अन्दर से चाटने लगी और उसकी दाँतों से टकरा रही थी।आहिस्ता आहिस्ता उसके दाँतों ने मेरी ज़ुबान को अन्दर आने की इजाज़त दी और अगले ही पल मेरी ज़ुबान उसकी ज़ुबान से टकराने लगी. अभी मैं दरवाज़ा बंद ही कर रहा था कि मानसी ने मुझे पीछे से जकड़ लिया और मेरी गर्दन और पीठ पे चुम्बनों की बौछार कर दी।अचानक हुए इस हमले से मैं थोड़ा उचक गया. बीएफ सेक्स बीएफ वीडियो’मैंने मेम की साड़ी पूरी खोल दी और उनकी पैन्टी के ऊपर से ही उनकी चूत को सहलाने लगा।वो मस्त होकर सीत्कार करने लगीं ‘यगयाहह.

जिससे आपी ने अपना हाथ मेरे सर पर रखा और मेरे सर को अपनी चूत पर दबाने लगीं और साथ ही वे तेज़ी से सिसकारी भरने लगीं।‘ऊऊहह सगीर.

कभी अपने ऊपर लेकर।मामी और हमको बहुत मज़ा आया। एक दिन मैंने उनकी गांड भी मारी।तो साथियो कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी. और पता नहीं क्यों वो भी इस बात का बुरा नहीं मानता था।फिर धीरे-धीरे तो मैं उसे गांडू कहकर ही बुलाने लगा।महीना भर बीत गया और हम एक-दूसरे के साथ घुल मिलने लगे.

तो मैं कुछ नहीं कहना चाहता हूँ।मेरी इस बात पर वो मुझ पर फिदा हो गई और उसने अपने कपड़े खुद उतार दिए, फिर मेरे कपड़े भी निकाल दिए।अब उसने मेरे लण्ड को हाथ में लेते हुए कहा- सम हम दोनों फ्रेंड को सिर्फ़ सेक्स चाहिए. प्लीज़ रिप्लाई मी मुझे आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]. ’ की आवाज़ करते हुए बाबा जी मेरी टांगों के बीचों-बीच खड़े हो गए।अपनी बीवी की दास्तान सुनते-सुनते मेरे मुँह से लार टपकने लगी थी और मेरे लण्ड की तो पूछो मत.

उन्होंने अपनी चूत को मेरे सामने फैला दिया।मैं उन पर कुत्ते की तरह टूट पड़ा।वो बोलीं- ये तो मेरा फैन हो गया.

मैंने अपने आपको कैसे सम्भाला है। क्या हम जब तक मेरी शादी नहीं होता तब तक पति-पत्नी की तरह रह नहीं सकते? भरोसा रख. पर ये बताओ मेरी पैन्टी क्यूँ पहने हुए हो।उसने हँसते हुए पूछा तो मैंने बोला- मेरी अंडरवियर नहाते वक्त भीग गई थी और मेरे पास कुछ था ही नहीं जो पहनता. वो ठंड से काँप रही थी। मैंने बिस्तर ज़मीन पर लगा दिया और उससे रज़ाई ले लेने को कहा। दो मिनट के बाद मैं भी उसी रज़ाई में आ गया। वो अभी भी ठंड से काँप रही थी।उसने मुझसे कहा- सर.

मराठी सेक्सी बीएफ हिंदीजो उसकी सुंदरता को चार चाँद लगा रही थी।उसके रसीले मम्मे देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैं उस पर टूट पड़ा।वो अपने हाथों से मेरा लण्ड सहलाने लगी और बोलने लगी- राजा आज तू मेरा जादू देख. जिसका नाम सीमा है। उसकी उम्र तब लगभग 18 साल रही होगी जब हमारे बीच में रोमान्स शुरू हुआ था, उस समय मेरी उम्र भी 18 साल थी।मैं कॉलेज की छुट्टियों को घर पर ही रह कर एंजाय कर रहा था।एक दिन अचानक मेरी मम्मी मुझसे बोलीं- बेटा कुछ दिन के लिए अपनी को फुप्पो के घर चला जा.

एक्स एक्स हिंदी बीएफ देहाती

तो उसके पानी पर नजर पड़ी, फिर रेवा ने अपना मुँह लगा कर खूब जोर जोर से माँ का सारा पानी पी लिया. आगे से देखो तो लौड़ा खड़ा हो जाए। पीछे से उसकी उठी हुई गांड लौंडों के हथियारों में आग लगा दे।मतलब वो एक माल थी जिसे देख कर हर किसी का उस पर दिल आ जाए।मैं उससे पहले से प्यार करता हूँ. वहाँ पर जाकर मेरी कामुकता और बढ़ गई थी क्योंकि वह सुरक्षित जगह थी। ऐसे ही करते हुए मैं उसे बरामदे के छोर पर ले गया.

तो मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में घुस गया। मैंने उसकी चूत की तरफ देखा तो उसमें से खून भी निकल रहा था. लेकिन आंटी अभी भी नंगी ही थीं। उन्होंने कुछ नहीं पहन रखा था। उन्होंने ब्रेड और चाय को टेबल पर रखा और लॉन में टाँगें फैला कर लेट गईं।अब उन्होंने कहा- अरे यार उतार दो अपने कपड़े. कि मौका लगा तो चोद ही लूँगा।उनमें से एक श्वेता की मस्त चूचियां और बड़ी सी गांड मेरे दिल में बस गई थी।उन लोगों ने ड्रेस भी कुछ सेक्सी टाइप की पहनी हुई थी। जिसमें उनकी चूचियों की दरार साफ़ दिख रही थी। दोनों मस्त माल थीं।मैंने उनका इंटरव्यू लिया और अपना कमीशन उनको बता दिया। पहली सेलरी का हाफ मुझको देना होगा।उनकी सेलरी पंद्रह हजार की थी.

क्योंकि उसने कुर्ते के नीचे ब्रा नहीं पहनी हुई थी।मेरा लण्ड उसकी चूचियां देखकर पानी में तन गया था।मैं पानी में तैरता हुआ उसके पास पहुँच गया।तभी नीलू ने कहा- तुमको तैरना आता है. ’ करते हुए अपने कूल्हों को हाथ से सहलाते हुए बोली- ले ये पानी की ट्रे ले जा और सबको पानी पिला और भाभी को अन्दर भेज दे।मैं ट्रे लेकर बैठक में गया और सबको पानी पिलाया। वो लोग अपनी बातों में मस्त थे. क्या टाइट चूत थी उनकी।मैंने पूछा- भाभी तुम्हारी चूत तो बहुत टाइट है।वो बोलीं- जब सालों तक चुदेगी ही नहीं.

तो एक सेफ कमरे की चाभी मिल गई।हम लोग कमरे में आ गए।प्रभा फ्रेश होने बाथरूम में गई, वो हाथ-मुँह धोकर आई. तो अभी जोश में नहीं आएगा तो और कब आएगा साली।मैंने उसे एक बार फिर खड़ा कर लिया अब मैंने उसका टॉप पूरी तरह से उतार दिया था।वो बोली- साले न चाय न पानी.

लेकिन कहने में डर लगता है कि कहीं नाराज़ न हो जाए।उन्होंने कहा- तुम तो बहुत फट्टू हो.

फिर धीरे से उनकी चूत को किस किया और अपनी जीभ सटा दी। जैसे ही मैंने मेरी जीभ उस पर रखी. भोजपुरी बीएफ दिखाओ’वो बोल पड़ी और अपनी जीभ उसने होंठों से थोड़ी बाहर कर दी।मैं उसकी जीभ पर अपनी जीभ फेरने लगा।उसने सलवार-कमीज़ पहन रखा था, मैं कमीज़ के ऊपर से उसके मम्मे दबाने लगा।वो ‘उम्म्म ओम्म. सेक्सी इंडियन बफसुबह 9 बजे जब मेरी आँख खुली, साक्षी अभी भी सो रही थी। मैंने उसे जगाया और उसने मुझे एक चुम्मा दिया।अब मेरे दिमाग में एक विचार आया कि क्यों ना बाथरूम में सेक्स किया जाए क्योंकि आप लोग जानते हैं बाथरूम में नहाते हुए सेक्स में बहुत मज़ा आता है।चाय पीकर हम दोनों बाथरूम में आ गए. जिससे मेरा उत्साह बढ़ने लगा। अब मैंने झटके मारने शुरू कर दिए और धीरे-धीरे झटके तेज कर दिए।भाभी जोर-जोर से सीत्कार करने लगी ‘अह्ह्ह.

और एकदम खड़े हुए दिख रहे थे। पीले ब्लाउज में से उनका ऊपरी हिस्सा थोड़ा डार्क दिख रहा था।मैंने मजाक में पूछा- भाभी ये ब्लाउज इधर काला क्यों है?वो शरमा गईं और बोलीं- खुद ही देख लो। मेरी नजर वहाँ तक नहीं जा रही है।मैं- उसके लिए मुझे इसे खोलना पड़ेगा।वो बोलीं- तो खोल लो ना.

इधर जैक ने भी मेरे मुँह में से लंड निकाल कर प्रिया की चूचियों पर सारा माल गिरा दिया।अब उसने अपना माल मुझसे चाटने के लिए बोला।फिर हम सब कुछ देर तक ऐसे ही लेटे रहे।मेरी भरपूर चुदाई हुई. लाओ मैं ही पहना दूँ।मैंने आज पहल करते हुए उसके होंठों को कस के एक चुम्मी ली और उसके होंठों को जोर से काट लिया, अपनी दोनों हथेलियों से उसकी चूचियां जोर से दबा दीं।वो दबी सी आवाज़ में बोल उठी- उईई. वह मारता रहा, तब तक गांड चलाता रहा।अगर आपने किसी मस्त लंड से गांड मराई हो.

उनका फोन आया था।मैंने सिर्फ हम दोनों के लिए खाना बनाया और फिर खाना खाने के बाद वो अपने कमरे में सोने के लिए जाने लगा।थोड़ी देर बाद उसने मेरे पास आकर कहा- भाभी मेरे कमरे का पंखा बिगड़ गया है।मैंने उसके कमरे में जा कर देखा।गर्मी का मौसम होने के कारण पंखे के बिना सोना वास्तव में मुश्किल था। इसलिए थोड़ी देर सोचने के बाद मैंने रवि से कहा- तुम मेरे कमरे में आकर सो जाओ. जो सिमरन के नाम से जानी जाती थी। उसके बारे में लोग बुरा-भला कहते थे. कैसा नाराज़ हो कर बैठ गया है।मैंने भी बोला- इसकी नाराज़गी तो पल भर की है। आपके छूते ही दूर हो जाएगी,भाभी बोलीं- ठीक है.

बीएफ सेक्सी हिंदी में ब्लू पिक्चर

वो दिखने में बहुत मस्त माल थी।उसके मम्मे 32 साइज़ के थे और पूरा फिगर बड़ा ही मस्त था। मेरे मन में तो वो मानो बस सी गई थी।मैं उससे मिल कर अपनी दोस्ती बढ़ाने लगा और उस पर लाइन मारने लगा।मैं उसके पीछे ही लगा रहा।मैंने उससे दोस्ती के लिए बोला। वो थोड़ी देर तक तो मना करती रही. जो उसने मुझे विस्तार से बताई थी।हम दोनों होटल के कमरे में करीब 12 घंटे जागे और तीन-चार घंटे सोए थे।उससे उसके जीवन, आर्थिक, पारिवारिक और चुदाई से जुड़ी तमाम बातें हुईं।हेमा काफी हिम्मती, गंभीर, तहजीब और काम में क्वालिटी पसंद थी। वह जो कर रही थी. जिस पर उसका ध्यान नहीं था। वो वहाँ से जा रही थी तो मैंने उसके नजदीक जाते हुए कहा- एक मिनट रुको।वो नहीं रुकी.

मैंने कहा था न कि तुझे बहुत मज़ा आएगा।इस तरह कुछ देर और शालू और मैं इसी अवस्था में रहे और कुछ देर बाद मैंने शालू को छोड़ दिया। अब शालू मेरे से अलग हुई तो नीलू ने उसे एक तौलिया दिया.

तभी वो लड़की थोड़ा पानी माँगने लगी।अरुण उसको देने के लिए पानी लेने जाने लगा.

अब तक आपने पढ़ा कि रश्मि ने देखा कि उसकी नौकरानी शब्बो ड्राईवर के साथ गैराज में चुदाई करवा रही थी और रश्मि के देखने के बाद भी राजू ड्राईवर ने चुदाई जारी रखी तथा बाद में रश्मि को भी अपना लौड़ा दिखा दिया।अब आगे. जैसे आप कहो।आपी ने हनी को इशारा किया कि बिस्तर पर आ जाओ और फरहान को कहा- जैसे सगीर मुझे शुरू से लेकर एंड तक चोदता है. सेक्स करने का नंबरमैं एक बार तुझे गले लगाना चाहता हूँ और किस करना चाहता हूँ।वो भी मेरी बातों से थोड़ा भावुक हो गया था तो उसने कहा- ठीक है.

चुदाई का दर्द बर्दाश्त नहीं कर पाएगी।मैंने कहा- ठीक है।अब उसने ऋतु से कहा- तुम्हारे जीजू बुला रहे हैं।वो समझी नहीं कि जीजू कौन है।वो बोली- कहाँ हैं जीजू?उसने मेरी तरफ इशारा किया. मैं भाभी जी का ख्याल रखता हूँ।तभी भाभी जी ने उस सेल्समैन को देखा तो वे उससे मुस्कुरा कर मिलीं।सविता भाभी बोलीं- अरे वाह तुम इधर काम करते हो।सेल्समैन- हाँ भाभी जी मैं ही हूँ. आह मेरे टॉमी गन मुझे चोदो ना।मैं पूरी ताकत से उसको बेतहाशा चोदने लगा।वो मस्ती में आ गई और बोली- हाँ माय टॉमी गन.

फिर प्यासी रण्डी की तरह उसने अपनी मुट्ठी में मेरे लंड को दबोच लिया और फिर मुझे लंड से ही पकड़ कर अपने कमरे में ले गई।मैं उसकी गुलामी करने लगा।अन्दर जाकर उसने एक सिगरेट जलाई और कश लेते हुए वह नीचे बैठ गई और लंड चूसने लगी।क्या कहूँ कितना मज़ा था उसके लंड चूसने में… बार-बार लौड़ा चूसना और फिर सिगरेट के कश से मेरे लौड़े के रस का मजे से स्वाद लेना. आपी की चूत से एक धार की तरह पानी निकला और बेड पर गिरने लगा। मैंने देखा तो उठ कर आपी की चूत के सामने आ गया और अपना मुँह खोल लिया।तभी आपी ने एक और धार छोड़ी जो सीधे मेरे मुँह में गई और मैं आपी के नमकीन पानी को पीता चला गया।कुछ पल बाद मैं आपी के ऊपर लेट गया.

साली रंडी।’हम दोनों हँसते हुए मजे से एक-दूसरे से चिपक गए।इसके बाद मैंने अपनी बहन को कुतिया बना कर उसकी 36 साइज़ की गांड मारी.

ताकि मैं उनको पढ़कर अपनी अगली चूत चुदाई की और ज्यादा गर्म स्टोरी लिख सकूं। आप अपने कमेंट्स लेखक की मेल आईडी पर भेज सकते हैं।इतनी देर तक अपनी चूत में उंगली रखने के लिए लड़कियों का और अपना लंड पकड़े रखने के लिए लड़कों का बहुत धन्यवाद।[emailprotected]. इस उम्र में ये सब आम बात है।वो आकर मेरे बगल में बैठ गए और मेरे उभरे हुए लौड़े को देखते हुए बोले- बड़ा तगड़ा है तुम्हारा. साथ ही मैं वो मेरी चूत को चूमने भी लगा।मैं अपनी चूत को साफ रखती हूँ.

राजस्थान बीएफ और अगर खुश किया तूने तो तुझे पर्सनल रखैल बना लूंगा।मैंने कहा- ऐसा क्या. मेरा नाम सत्यम है, 20 साल का एक नौजवान हूँ।मैं औरंगाबाद महाराष्ट्र में रहता हूँ, देखने में काफी सुंदर हूँ.

एक बिल्कुल छोटा सा छेद है।मैंने कहा- इसी में तेरा लंड जाएगा।मोनू बोल पड़ा- लेकिन यह तो बहुत छोटा है।मैंने कहा- कई महीनों से मैंने सेक्स नहीं किया है न. तो उसने ये कह कर जाने से इंकार कर दिया- कहीं तुम जोश में आकर विभा को जोर से ना चोद दो और उसे कोई दिक्कत न हो जाए. बस बेबी।मैंने समझ लिया कि ये गीलापन शालू के कुंवारापन फूटने की निशानी है, मैंने हल्के-हल्के झटके लगाने जारी रखे और अब मुझे लगा कि उसका दर्द थोड़ा कम हो गया.

राजस्थानी चोदने वाली बीएफ

लेकिन उसकी कराहट मुझे और ज़्यादा कामुक बनाने लगी।उसने अपने टांगें चौड़ी कर दीं और मेरा लंड अब उसकी चूत पर टकरा रहा था, उसकी चूत कामरस से लबालब हो रही थी।मैंने अपना टोपा चूत के द्वार पर रखा और धीरे से दबाया. जो किसी और से बिल्कुल अलग थी। मैं मौका पकर उसके बगल में खड़ा हो जाता और उस मदमस्त महक का आनन्द लेने की कोशिश करता रहता।जैसा कि मैंने बताया कि राजेश की छाती काफी कठोर थी और उसमें अच्छा खासा उभार हो चुका था। लेकिन अब वह अपने शर्ट के सभी बटन लगा कर रखने लगा था. अब आप अपना गाउन थोड़ा नीचे कीजिए ताकि जांच ठीक से कर सकूँ।भाभी ने सोचा अब इस डॉक्टर से मजा ले ही लेना चाहिए.

इसके बाद भाभी मुझे बैठा कर चाय बनाने चली गईं।थोड़ी देर में ही वो वापस चाय ले कर आई, हम दोनों पास में ही बैठ कर चाय पीने लगे और टीवी देखने लगे।थोड़ी देर सन्नाटा रहने के बाद वो बोली- आज तुम इतने शांत-शांत क्यों हो?तो मैं बोला- कुछ नहीं. वो तो जैसे बिल्कुल पागल ही हो गई थी।उसने एक ‘आह’ की आवाज़ निकाली और मैंने तुरंत उसके मुँह पर हाथ रख दिया और उसकी चूत चाटने लगा।थोड़ी देर बाद उसने मुझसे कहा- अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

इसलिए घर पर कम ही रहते हैं।दूसरी तरफ भाभी जी ने घर में दो भैंसे रखी हुई हैं.

केले को लंड की तरह चाटने लगे।थोड़ी देर चाटने के बाद मैंने वो केला उसकी चूत में डाल दिया और चूत को केले से चोदने लगी।उसे बड़ा मजा आने लगा और वो मस्त आवाजें निकालने लगी- आआहह… आअहह. पर कोई अच्छा इंसान नहीं मिला। दो-तीन लोगों ने कहा कि मुझे मुस्कान को छोड़कर शादी करनी पड़ेगी। मैंने इनकार किया तो उन्होंने ‘ना’ कर दी।मैं- लेकिन भाभी आप तो अभी भी जवान हो. मगर कुछ देर बाद भाभी ने पता नहीं क्या सोचकर दरवाजा खोल दिया और कमरे से ही आवाज देकर मुझे बुला लिया।मैं कमरे में गया तो देखा कि भाभी ने काले रंग की पतली सी एक नाईटी पहनी हुई थी.

तुम बहुत प्यारे हो।मैं ठीक से बैठ गया और वो अपनी साड़ी ऊपर करके अपनी चूत को मेरे लण्ड पर सैट करके मेरा लण्ड अपनी चूत में लेने लगीं। आधा लौड़ा लेने के बाद उनको तकलीफ होने लग़ी और वो खड़ी हो गईं।उन्होंने मेरे लण्ड पर ढेर सारा थूक लगाया और फिर से बैठ गईं।इस बार उन्होंने करीब दो-तिहाई लण्ड लील लिया।मैं भी उनको तकलीफ ना हो. ’ करती रही।उसके मम्मे मानो हवा में हिल रहे थे, मैंने एक हाथ से उसके मम्मों को पकड़ लिया और दबाता रहा, मैं दूसरे हाथ से उसके बालों को पकड़े हुए था।वो चिल्ला रही थी- फक मी हार्ड. वो मेरी फैन्टेसी को पूरा नहीं करेगी।मैं दिमाग़ लगाने लगा कि किस तरह अपनी बीवी को दूसरे से चुदवाऊँ।तभी मुझे मेरा एक दोस्त राज याद आया जिसका लंड मुझसे काफ़ी लम्बा और मोटा है। हम दोनों काफ़ी खुले हैं.

वो भी जोश में था उसने भी अपनी मज़बूत भुजाओं में मुझे जकड़ लिया।मैं उसकी पीठ पर बने कट्स पर अपनी उंगलियाँ चला रहा था.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ चोदा चोदी: इसलिए आपको यहीं रहना पड़ेगा।तनु की डिलीवरी का पूरा टाइम हो गया था उसका ध्यान रखने के लिए मैंने हालात को समझते हुए ‘हाँ’ कर दी।ससुर जी ने अंजलि को आवाज लगा कर चाय के लिए बोला।कुछ देर बाद सासू जी चाय लेकर आईं, तो उन्होंने बताया कि अंजलि को रसोई के काम में हाथ नहीं लगाना है।मैं समझ गया कि ये यह कहना चाह रही हैं कि उसके पीरियड स्टार्ट हो गए हैं।मैंने सोचा कि लो गई भैंस पानी में. वो भी मजे से चुसवाने लगे और कामुक सिसकारियां लेने लगे।फिर उन्होंने मुझे उठाया और खुद भी उठकर मेरे मुंह के पास अपना मुंह ले आए और बोले- मुंह खोल!मैंने मुंह खोला तो उन्होंने मेरे मुंह में थूक दिया और दूसरे ही पल मेरे मुंह को लंड में घुसा दिया.

पर अब उसे मज़े आ रहे थे।मैं लगातार चुदाई कर रहा था।वो बोली- अंकल जी अब पता नहीं मुझे क्या हो रहा. मुझे पास की दीवार की तरफ धकेल दिया, मैं दीवार से जा लगा।मेरा मुंह दीवार की तरफ घुमाते हुए वो मेरी कमर पर किस करने लगे।उनकी मूछों का स्पर्श मुझे अजीब सी वासना की तरफ धकेल रहा था।वो मुझे चूमे जा रहे थे और मेरी गांड में उंगली भी डाले जा रहे थे. क्योंकि वो सरकारी कॉलोनी में रहते थे, तो कोई डर वाली बात नहीं थी। वहाँ गार्ड भी रहते हैं।मैंने पूछा- इनके पेरेंट्स कब आएँगे?वो बोला- वो 4-5 दिन बाद आएंगे और में 4-5 दिन तक दिन भर यहीं रहूँगा.

जिससे वो थोड़ी इमोशनल हो गई।मैंने भी मौका देखकर उसका हाथ पकड़ लिया.

तभी छोटी भाभी बोलीं- सीमा दीदी तुम दूसरे पलंग पर सो जाओ और नवीन अलग अपनी मच्छरदानी लगाकर सो जाएगा।यह बात सुनकर सीमा धीरे-धीरे पता नहीं क्या बड़बड़ाने लगी, उसने मेरा पलंग अलग कर दिया और अपना अलग करके छोटी भाभी को लेकर सोने चली गई।हम थोड़ी देर बाद सब सो गए।करीब रात में एक बजे मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि सीमा मेरी मच्छरदानी ठीक कर रही है और कह रही थी- ठीक से सो जा. उसका लौड़ा कड़क हो गया था।मैंने कहा- अब मैंने नहीं दी तो तुम्हारा लौड़ा तुम्हें परेशान करेगा, तुम फटाफट एक बार और मेरी चूत मार ही लो।वह बोला- यार, तुम्हारा अंदाज. तो उसने मुझे अन्दर आने के लिए बोला।मैंने अन्दर जाकर देखा तो अन्दर कोई नहीं था। वो अकेली ही रहती थी।उसने मुझसे कहा- मैं तुम्हें तौलिया देती हूँ.