औरत की चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

जानवर वाली सेक्स बीएफ: औरत की चुदाई बीएफ, मैं अपनी किस्मत को सराहते हुए ईश्वर को बार-बार इस पल के लिए धन्यवाद दे रहा था.

हिंदी में सेक्सी फिल्म चालू

मैं तेजी से दोनों उंगलियां जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा, मेरे द्वारा ओरल सेक्स से वो तड़पने लगी. सेक्सी वीडियो फुल एचडी ओपनमगर वो मुझे समझाते हुए कह रहा था- उसने ज्यादा जोर से तो नहीं मारी? लगी तो नहीं … दो चार धक्के ही लगाए होंगे … माल तो साले ने सारा बाहर निकाल दिया.

जीजू और तेज तेज चोदो प्लीज … आह मेरे राजा … कितना सुख दे रहे हो मुझे … आह. ఆదివాసి సెక్స్ వీడియోमेरी वाली तो बेहद सीत्कार करते हुए कह रही थी- तेरा बहुत बड़ा है … मजा आ गया.

नेहा ने कहा- कोई बात नहीं सर … हमें तो ऐसी डांट सहन की आदत होती है.औरत की चुदाई बीएफ: तुम बहुत अच्छे हो।उसकी बातों से मैं बहुत ज्यादा खुश हुआ पर मैंने खुद को संभालते हुए कहा- ओ खुशी मैडम, जरा ख्वाबों की दुनिया से बाहर निकलो.

टट्टों पर उगे बालों को दाँत में भींच कर उसने टट्टों में गुदगुदी पैदा की और बारी बारी दोनों बॉल्स को मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया.मेरे लंड को मीता ने अपने मुँह में भर कर अन्दर से ही अपनी जीभ को मेरे लंड पर फिराया.

भोजपुरी शायरी डाउनलोड - औरत की चुदाई बीएफ

मेरे गाल चिकने थे दाढ़ी मूंछ का कोई निशान नहीं था … न ही कहीं शरीर पर सिर के अलावा कहीं बाल थे.मैंने पूरी भड़ास के साथ पकड़ा था और टट्टे ही हाथ लगे थे, तो मैंने दबा दिए.

फिर एक दिन मैं कॉलेज मैं अकेला बैठा था, अचानक ना जाने कहां से मुझे मामी का ख्याल आ गया. औरत की चुदाई बीएफ मैं बेसुध सी होने लगी कि तभी मेरे कानों में आवाज आई- अरे प्रिंसीपल साहब, ये तो बहुत ही मस्त माल है.

मैं- वो कुछ बोली नहीं?वो- उसको ये थोड़े ही पता था कि हम क्या कर रहे थे.

औरत की चुदाई बीएफ?

मैं उसके लंड से उतरना चाहती थी, पर उसने मुझे उतरने नहीं दिया और मेरी चुत में ही अपना रस छोड़ दिया. हालांकि किसी वजह से वो ख़ुशी से डांट खा चुकी थी और अब वो फिर से मुझसे अपने प्रेम का इजहार कर रही थी. मैं तो यह सोच के डर रही थी कि ऐसी चुदाई मेरी गांड की होती तो शायद मैं मर ही जाती!हा हा हा!तो मेरे दोस्तो, कैसी लगी आपको अपनी प्यारी चाहत की चुदाई की दास्तान? आप सब अपने जज्बात मुझे मेल कर सकते हैं.

यहां पर मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूँ कि खुशी के साथ किसी प्रकार के शारीरिक संबंध के बारे में मेरे मन में विचार तक नहीं आया। और ना ही मैंने कभी खुशी के सामने अपने प्रेम का ही इजहार किया था. पूरे जोश में था अंकुश … वो शेफाली को गंदी गंदी ग़ालियां भी दे रहा था- ले साली रंडी … मेरा पूरा लंड अपनी चूत में ले … चुद मेरे लंड से साली … बहन की लौड़ी मादरचोद आओहह आअहह …अंकुश की गर्म आवाजें सुन कर तो मैं शॉक्ड हो गई. और जब हटा तो बोला- क्या बात है सुहानी, तुम तो बहुत अच्छा किस करती हो।मैंने कहा- तो तुमने क्या समझा है मुझे कि मुझे कुछ नहीं आता? इस सब में मुझे तुमसे ज्यादा अनुभव है.

आह्ह्ह अर्जुन … उम्म्म ओह्ह याह्ह्ह!” ऐसी मेरी आवाजें निकल रही थी।फ़क चाहत! हम्म … क्या मखमली गर्म चूत है तेरी अआहह … मैं आने वाला हूँ मेरी रानी!”मैं भी आने वाली हूँ मेरे लंड के राजा … जोर से चोदो … आह्ह उम्म्म फ़क अह्ह्ह माआआअ …”और हम दोनों एकसाथ एक दूसरे के अन्दर झड़ गए और शांत वैसे ही कुर्सी पे एक दूसरे से चिपक के बात करने लगे।ओह अर्जुन, तुम्हारा लंड मैं तो जीवन भर लेना चाहूंगी. उसने मेरा सर पकड़ लिया और अकड़ कर अपनी चूची को और उठा दिया … मानो इशारा कर रही हो कि चोदो भी … और चूची भी चूसते रहो. मैंने नेहा से कहा- नेहा वैसे तो मुझे तुम्हारी हर ड्रेस अच्छी लगती है, क्योंकि इस पैंट में तुम्हारी चूत हर वक्त मुझे दिखाई देती रहती थी, लेकिन मुझे तुम्हारा स्लीवलैस टॉप और छोटी स्कर्ट भी अच्छी लगती है क्योंकि उसमें तुम्हारे पट भी दिखाई देते रहते हैं.

वैसे थी तो वो भी चालू लेकिन रमेश की बातों में खो कर उसे बचपना सूझ रहा था।कुछ देर टोपे पर अपनी जीभ का खुरदरा अहसास दे कर वो लंड की टिप से चाटती हुई टट्टों की तरफ बढ़ने लगी. वह तो अपने पति विक्रम का इंतजार कर रही थी।श्लोक- हैल्लो।वीना- श्लोक जी आप!(वीना जानती थी कि मैं उनके जेठ का साला हूं। वीना को यह भी पता था कि उनका जेठ यानि राजवीर अपने साले यानि श्लोक यानि मेरे साथ चुदाई के लिए जयपुर में साथ रहते हुए बीवियां बदलते थे.

मैंने बिन्दू से कहा- देखो बिन्दू! हम एक ही घर में रहते हैं, इसका यह फायदा है कि हम जब चाहें सेक्स कर सकते हैं, किसी को पता भी नहीं लगता और बदनामी का भी डर नहीं है.

भाईसाब ने मुझे सम्भालते हुए कुछ ऐसा किया कि मैं उनकी गोद में बैठ गया.

इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मेरी गांड चुदाई की कहानी भी आपके लंड खड़ा कर देगी और उसके बाद डील का क्या हुआ, इसे भी आपको लिखूंगी. पति ने मुझे शराब का चस्का लगा दिया था तो बस मैं अपनी एक कामवाली से शराब मंगा कर रात को नशा करके और अपनी चुत में उंगली करके सो जाती थी. साली जी, अब अपनी चूत के होंठ अपने हाथों से खोल दो खूब अच्छी तरह से और फिर मेरी तरफ देखो.

मेरा लंड बिन्दू की फटी हुई बुर के खून और मेरे वीर्य से पूरी तरह से लिबड़ा हुआ था. अब पूरी रात फिर चुदाई होनी थी।हालांकि भाभी जी मना कर रहीं थीं, कह रही थी कि आज काफी थकान हो गयी है. क्योंकि मैं बात को आगे नहीं बढ़ाना चाहता था इसलिए मैंने एसएचओ को कहा- एक बार हम बाहर जाकर बात कर लेते हैं.

रात में रतनलाल रश्मि को कुछ समझा कर अपनी कार से उसे होटल में ले गया.

उसके बाद वो फिर से नीला के होंठों को चूसने लगा और वो दोनों किसिंग में खो गये. ऐसी कामुक घोड़ी को काबू करना बहुत जरूरी था, तो मैंने गांड पर अपने हाथ से जोर की तीन चपत लगा दीं … वो भी चूत और गांड के बीच में, जिससे वो सिहर गयी और सीधा मुँह करके उसने अपने होंठ मेरे होंठों से लगा दिए. मैं किसी मेरा दुःख कैसे बताऊं … अगर मेरी मां या बहन होती, तो उन्हें बता सकती थी.

शादी से पहले ही मेरी मां ने मुझे समझा दिया था कि अपने ससुराल में अपने पति, ससुर और ननद की इज्जत करना. दोस्तो, इस चुदाई की कहानी में अभी प्रतिभा दास की गांड मारने की सेक्स कहानी भी आना बाकी है. मैं कुछ बोलती इससे पहले वो फिर मुझसे गले लगकर किस करने लगा और बोला कि मैं आपको चोदना चाहता हूं.

आज गर्मी ज्यादा होने और बिजली न आने की वजह से आंटी भी छत पर ही सो रही थीं.

मैं- मेरी गुड़िया … अब दर्द कैसा है?मीता- कुछ मत पूछो अंकल … बस ऐसे ही करते रहो … अच्छा लग रहा है … दर्द भी है मगर बदन में चींटी सी दौड़ रही हैं … बस करते रहो … लगता है मेरी चूत … फट गई है … आह आहह …मेरा जो लंड थोड़ा थोड़ा निकल रहा था … उसने मैं पूरा निकाल कर एक साथ चूत में डालने लगा. इतने में मां बोलीं- हर्षद कहां खोया है … और ऐसे क्या देख रहा है मुझे!ये बोलते समय उनकी नजरें मेरी तौलिया पर टिकी थीं.

औरत की चुदाई बीएफ बिन्दू को मैंने बांहों में भर कर किस किया और उसे उसके कमरे तक छोड़ कर नीचे की सीढ़ियों के दरवाजा खोल दिया. 29 जुलाई को उसका फोन आया, बोली- क्या कर रहे हो? खाना खाया या नहीं?मैंने कहा- कुछ नहीं.

औरत की चुदाई बीएफ फिर उसने पेटीकोट खोल दिया और नेहा के बदन पर अब केवल एक पैंटी रह गयी थी. उसकी टांगों ने मेरे चूतड़ों इतनी तेज़ी से जकड़ा कि मेरा भी सब कुछ रुक गया.

फिर मैंने अपने काम रस से सने जिस्म को साफ़ किया और एग्जाम के लिए तैयार हो गयी।तब तक अर्जुन भी तैयार होकर आ चुका था.

लड़कियों की वीडियो बीएफ

दोस्तो, मैं टेलीविजन चैनल्स की टीआरपी को मॉनिटर करने वाली एक कंपनी में काम करता हूं. मुझे मजा आने लगा था मगर मैं अपनी योजना के अनुसार उसके सामने चीखे जा रही थी ‘आह आह फ़क मी सर … आहह आह आह सर. मां लंड हाथ से सहलाते हुए बोलीं- हर्षद तेरा लंड कितना लंबा और मोटा है.

मैं जानता था कि लंड का ये तनाव, दवा की वजह से है, जो कुछ देर में शांत हो जाएगा. आपसे विनती है कि आप इस लेस्बियन मजा हिंदी कहानी को अपने साथियों से शेयर जरूर करें. जीजा साली सेक्सी कहानी में पढ़ें कि लड़की जब पहली बार चुद जाती है तो उसकी चाल हमेशा के लिए बदल जाती है.

मुआह्ह!हम दोनों एक दूसरे को फिर से चूमने लगे।रात के करीब दो बज चुके थे.

थॉमस अपने लंड को हिलाने लगा और कुछ ही देर बाद थॉमस का लंड रस बाहर आने वाला था. मैंने उसका लंड अपनी चूत में लिया और गांड उछाल उछाल कर चुदाई के मजे लेने लगी. मैं भी बिना कोई उज्र किये उनका साथ दे रही थी, मानो उनसे मुझे प्यार हो गया हो.

मीता मेरी जांघों को चाटने लगी, साथ में वो चड्डी के ऊपर से ही लंड भी सहला रही थी. पर उसने मुँह से लंड नहीं निकाला … बराबरी से उसने मेरा लंड चूस चूस कर फौलाद सा कर दिया. मामी ने मुझसे इशारे में एक तरफ आने के लिए भी कहा, मगर न जाने मेरी सारी चंचलता किधर घुस गई थी.

उसका हाथ मेरे मम्मों पर पड़ते ही मैं धीमे से चीखी- आऊच!उसने कहा- सॉरी गलती से टच हो गया. फिर उन्हें पता नहीं क्या सूझा, मेरी छाती के नीचे अपनी बांह का घेरा बनाया और एक हाथ पेट नीचे लगा कर मुझे ऊपर उठा लिया.

मैंने एक बार फिर से जोर लगा कर झटका मारा और पूरा लौड़ा उसकी कोमल सी चूत में उतार दिया. हमारी पीठ पर साबुन लगाने को कह कर पूरी पीठ में साबुन लगाते लगाते चूतड़ों में लंड लगा देते. दो के लंड मेरी गांड और चुत में चल रहे थे और बाकी दो के लंड को मैंने हाथ से पकड़ कर बारी बारी से चूसना चालू कर दिया था.

आज मेरी इस सेक्स कहानी का दूसरा पार्ट आपकी सेवा में हाजिर कर रहा हूँ.

मैंने सोच लिया था कि अमेरिका में तो सेक्स मामूली बात है।मन ही मन मैं इस बात को लेकर बहुत एक्साइटेड हो रही थी कि अमेरिका जाकर खूब खुलकर चुदूंगी. मामी ने भी अपनी दांतों को भींचते हुए अपनी चुत में मेरे लंड को लेना शुरू कर दिया था. मैं तो सोच में पड़ गयी कि इतने भारी भरकम शरीर वाले मर्द का लिंग इतना छोटा कैसे हो सकता है?फिर भी मैंने भगवान की बनावट को मान दिया क्योंकि अब तो वही मेरे पति थे और जीवनसाथी भी.

हमारा घर एल L शेप में बना हुआ है और हमारी करीब 30 बीघा खेती की जमीन हैं. अब मैंने बिन्दू को दोबारा बांहों में लिया, उसकी चुचियों को मसला और उसके होंठों पर किस करने लगा.

अब उन चारों ने मिल कर मुझे हर तरफ से नौंचन और भंभोड़ना शुरू कर दिया. कुछ देर बाद वो मेरे से बोला- मेरी मारोगे?मैंने कुछ नहीं कहा तो उसने अपनी गांड खोलते हुए अपना पंचा ऊपर कर लिया. तुम, तुम्हारी बेटी और तुम्हारा बिजनेस!रमेश ने रति को अपनी बांहों में कस लिया और बोला- अरे जानू … ग़ुस्सा क्यों होती हो.

इंग्लिश सेक्स सेक्स बीएफ

यह कहते हुए आरूषि अपने दाहिने हाथ को अपनी जांघ पर नीचे से ऊपर की ओर सहलाते हुए अपनी चूत पर ले गयी और चूत पर रगड़ कर मुझे उकसाने लगी.

तो उसके चूचों में कुछ आनंद नहीं था।ख़ैर, बात एक कदम आगे तो बढ़ी ही थी।कुछ समय बाद मुझे उसके घर जाने का मौक़ा मिला।उसका घर बहुत बड़ा महल सा है और दो मंज़िल बना है. वो झुक कर लंड सीधा मुँह में ऐसे भरने लगी, जैसे कि पूरा लंड खाना चाहती हो. कुछ देर बाद फिर से चुदाई का दौर चला, और भाभी जी ने मस्ती से चूत लंड का खेल खेला, मैंने भाभी की चूत की चुदाई की.

मैंने भी उसकी सारी आप बीती को सच मान कर उसका प्रपोजल स्वीकार कर लिया था. बेडशीट पर मेरी फुद्दी से उनका वीर्य निकल कर फ़ैल गया था जो कि चिपचिपा सा था. कामुक कहानियाँमैं विनीता को नीचे लेटा कर चोदना चाहता था लेकिन विनीता चाहती थी कि वो मेरे ऊपर ऐसे बैठ कर ही सेक्स करे.

ये करते करते हम दोनों को लगभग बीस मिनट हो चुके थे और अब मैं झड़ने वाला भी था. उसने कहा- प्लीज़ पहले ये करो … कल से ही मेरी बुर गीली है … पहले इसको शांत करो.

[emailprotected]insta id- funclub_badदोस्त की वाइफ की चुदाई कहानी का अगला भाग:वाइफ शेयरिंग क्लब में मिली हॉट माल की चुदायी- 3. हाँ स्कर्ट के नीचे तुमने पैंटी नहीं पहननी है क्योंकि मैं तुम्हें कभी भी जल्दी में स्कर्ट उठा कर चोद सकता हूँ, पैंट को निकालने और पहनने में टाइम लगता है, तुम जब भी मेरे कमरे में ऊपर आओ तो स्कर्ट पहन कर ही आना, मैं तुम्हारी वहीं ले लूंगा. उसकी स्पीड बहुत तेज हो गयी थी और वो मुझे गालियां देते हुए चोद रहा था- साली … कुतिया … तेरी चूत-गांड को फाड़ कर रख दूंगा मैं.

तभी अंकुश भी चेंजिंग रूम से निकल कर आया और उसने मुझे देख कर इशारे में ही कहा कि सेक्सी लग रही हो. मगर बाहर के आवारा लड़कों पर हम अपनी जवानी बर्बाद नहीं करना चाहती थी. उन्होंने ट्रांस्फर का इंतजाम करने की कही लेकिन बदले में वो मुझसे मेरी चूत भी मांगने लगे.

हमने डिनर भी बाहर ही किया और लौट कर मेरा मूड तो बना हुआ ही था कि निष्ठा के साथ एक राउंड और हो जाये पर फिर सोचा कि चलो आज रात और इसे फुल रेस्ट करने दो कल से करेंगे.

ओके डार्लिंग चलो खा लेते हैं, पहले ये बताओ कि तुमने ये अपनी पिंकी चिकनी तो कर ली न?” मैंने उसकी चूत की तरफ इशारा करते हुए पूछा. फिर लगा कि अब मैं आ सकता हूँ, तो मैंने अधमरी हो चुकी प्राची भाभी को उठाकर सामने कुतिया बनाया.

मीनू बोली- मॉम आज जल्दी ही सो रही हो … तबियत तो ठीक है न आपकी?आंटी बोलीं- हां बेटा. साली जी, ये वो क्या साफ साफ गंदी भाषा में बताओ क्या करना है? कहां करना है? तभी करूंगा मैं!” मैंने उसे सताया. चूत में लंड लेने की प्यास तो पहले से ही लगी थी इसलिए मुझे ज्यादा कुछ सोचने का मौका नहीं मिला.

तभी मां मेरे कमरे में आ गईं और मैं उन्हें देख कर अपनी लुंगी को सम्भालने लगा था. तो उसने मेरी गर्लफ्रेंड के होंठों को अपने होंठों में ले लिया और पूरी ताकत से एक जोरदार धक्का दे मारा. मीता की सुराही जैसी गर्दन और उसके कुर्ते के अन्दर उसकी उभरी हुई चूचियां कहर बरपा रही थीं.

औरत की चुदाई बीएफ आंटी बोलीं- राज क्या हुआ?मैं बोला- आंटी, मैंने पहले कभी नहीं किया है. तुमने क्लेरिसा के बारे में मुझे जो भी बताया है मैं वैसे ही तैयार होने जा रही हूं.

सौतेली मां और बेटे की बीएफ

उसके बाद इसका रात को 8 बजे मेरे पास फोन आया, उसने मुझसे 1 घण्टे तक बात की. अर्जुन सर इज टू लकी!”मैंने उसका इशारा अच्छे समझा, मैंने थैंक्स कहा और जिम वाले फ्लोर पे निकल गयी।मेरे जिम में घुसते ही जैसे, मानो जिम का माहौल थोड़ा अलग हो गया हो. मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी चुत को फैलाया और अपनी जीभ अन्दर तक डाल दी.

मैंने बहुत गालियाँ दी उसे। तब से अभी तक मैं चूत में लंड लेने को तरस रही थी। लेकिन किसी को इतनी जल्दी चूत देना समझ में नहीं आया। आपको सच बताऊँ तो उस दिन पैर में मोच आना बहाना था. ’ की मस्त और मदहोश कर देने वाली आवाजें मुझे कामातुर किए जा रही थीं. हीरोइन का फोटोसरोज का शरीर थोड़ा भरा हुआ और चब्बी था जिससे वह इतनी सेक्सी लगती थी कि दिल करता था उसको पकड़ कर कभी भी चोद दो.

वो हम लोगों के साथ करो, तब जाने देंगे … नहीं तो हम अभी गांव से और लोगों को बुला लाएंगे.

अरे तू करवा के तो देख … फिर तुझे उचित भी लगेगा और मजेदार भी!” मैंने उसे चूमते हुए कहा. मम्मी मुस्कुराती हुई बोली- आप यह क्या कर रहे हैं?तो वो अंकल हंसते हुए बोले- वही जो एक आदमी को एक औरत के साथ करना चाहिए! और क्या?मम्मी बोली- मैं तो आपके दोस्त की बहन हूँ ना … तो आपकी भी तो बहन ही हुई ना? हम दोनों के बीच ये गलत है।तो वो बोला- साली कुतिया … ये क्या नाटक कर रही है?मम्मी हंसने लगी.

फिर दोनों मम्में पकड़ कर पूरी ताकत से उसे चोदने लगा जैसे मैं चूत से कोई बदला ले रहा होऊं. सुबह में मैंने इंग्लिश स्पीकिंग क्लास ज्वाइन करने का बहाना बना लिया था, इससे मुझे घर से निकलने का ज़्यादा मौका मिलने की उम्मीद हो गई थी. नीरा मस्ती में डूब रही थी और मेरे पैर उसकी साड़ी को उसकी जाँघों तक ला चुके थे.

नीचे बैठ कर जल्दी अपना मुंह खोल साली कुतिया।अब रश्मि अपने घुटनों पर बैठ गयी और मुंह खोल कर रश्मि ने अपने होंठों को उन दोनों के लौड़ों के सामने कर दिया.

उसने चुदाई के 4 राउंड लिये और मेरी बीवी को चोद चोद कर बेहोशी के कगार पर ला दिया. पति के साथ तो उसका झगड़ा होता ही रहता था और इसके अलावा उसने किसी से अपनी चूत चुदवाई नहीं. जब तक औरत के शरीर पर दो उंगल मांस न हो, औरत के नंगे शरीर पर हाथ फिराने में उतना मज़ा नहीं आता, अतः इस परिवार की सारी औरतें मेरी पसंद पर खरी उतर रहीं थीं.

सेकसी zindagiआपका लंड बहुत लम्बा और मोटा है … और मेरी चूत अभी एकदम नई है … ये आपके लंड को झेल नहीं सकेगी. इसी तरह मैं उसके दोनों मम्में दबोच कर उसे स्पीड से और बेरहमी से चोदने लगा.

घोड़ा हाथी की बीएफ

मैं इत्मीनान से उसकी बेसब्री, दीवानगी देख रहा था, जो उसकी मेरे लंड के प्रति थी. नेहा ने कहा- कोई बात नहीं सर … हमें तो ऐसी डांट सहन की आदत होती है. डेजी काफी तेजी से तड़फ रही थी, लेकिन कुछ देर बाद डेज़ी को भी मजा आने लगा था.

मामी ने मुझे अपने कमरे में ले जाकर बेड पर बिठाया और मेरे सामने कोल्ड ड्रिंक और नमकीन की प्लेट रखते हुए कहा- अतुल तू ये खा … जब तक मैं नहा कर आती हूँ. मुझे अब किसी भी तरह अंकुश का लंड अपनी चुत में लेने का दिल करने लगा था. बीच बीच में मैंने उसके कान की लौ भी चूसा, जिसका असर ये हुआ कि वो फिर से कामातुर हो गई.

रश्मि ने अपने हाथ से उसके कंधों पर वजन डाला और बारी बारी से टाँग उठा कर जीन्स अपने पैरों से अलग कर दी।रमेश- मैं तुम्हारी चूत देखना चाहता हूँ. ऐसा लगता था कि पूरा बदन किसी अच्छे कारीगर के द्वारा बड़ी तल्लीनता से तराशा गया हो. ये करते करते हम दोनों को लगभग बीस मिनट हो चुके थे और अब मैं झड़ने वाला भी था.

और इतना कह के फुच्च्ह फुच्च्ह … करके चूत से पानी निकलते हुए झड़ने लगी और काफी सारा झड़ने के बाद हाँफते हुए आगे गिर गयी।सुनील भी मेरी बगल में आ के गिर गया।मैं बहुत खुश थी चुदवा के! लेटे लेटे ही मैंने उसे लगे लगा लिया और उसकी छाती पे सिर रख लिया. उसका गोल गोल चेहरा और गोरा रंग, छोटी छोटी पहाड़ियों जैसी आँखें थीं.

अपना लंड बाहर निकालने के लिए मैं अपनी जीन्स का बटन खोल ही रहा था कि भाभी ने मेरा हाथ रोक कर कहा- यहीं करोगे क्या?मैं- क्या भाभी … आपने ही तो कहा कि ये बस खड़ा ही होता है या कुछ करता भी है.

नेहा कहने लगी- राज, इनके ऊपर निशान मत डालना, नहीं तो मम्मी को शक हो जाएगा?मैंने मन में सोचा मम्मी तो इन निशानों को देखकर खुश होगी. आसिन सेक्सीफिर में महरूम वाली ब्रा-पैंटी पहनने लगी, तो थॉमस ने मुझे रोक दिया और कहा- रुको अंजलि … पहले तुम मुझे ऐसे ही कैटवॉक करके दिखाओ न. न्यू सेक्सी वीडियो चाहिएमैंने अपने जूते उतारे और पैर लम्बा करके पूजा की चुत पर पैर का अंगूठा रख दिया. मैंने झट से दांव बदला और लण्ड को गांड से अलग करके झट से अपने मुख में भर लिया।अगले ही पल 5 से 7 झटकों के बाद उसके लण्ड ने गर्म पिचकारी छोड़ दी और उसका सारा गर्म लावा मेरे मुंह के अलावा मेरे होंठों पर आ गिरा। मैंने उसके वीर्य की एक एक बूंद को चाट कर साफ कर दिया।चूंकि अब रात हो गयी थी तो अब खाना बनाने का वक्त आ गया था.

फिर कुछ देर बाद रॉबर्ट ने मुझसे कहा कि अब तुम दुबारा घोड़ी बन जाओ … मैं तुम्हारी गांड मारूंगा.

मैं जानता था कि लंड का ये तनाव, दवा की वजह से है, जो कुछ देर में शांत हो जाएगा. वो भी आहह … आहह … सुहानी आहह … आ … आ … आहह … सुहानी!पूरा लंड अंदर डाल के पूरी ताकत से अपनी जांघें मेरी गांड पे दबा के चूत के अंदर ही पिचकारी मार मार के अंदर झड़ने लगा. मैंने अपनी पिछली रचनामेरे जीवन का पहला सेक्समें आप सबको बताया था कि किस तरह से मैंने अपनी जिंदगी का पहला सेक्स नीलम नाम की एक टीचर के साथ किया.

मैंने पूजा से पूछा- खाना बाहर चल कर खाना है … या बाहर से मंगवाना है?पूजा ने रूम पर ही मंगाने का कह दिया. उन्होंने लंड निकाला और मेरी गांड में अपनी उंगलियों को बड़ी देर घुमाया. वे कहने लगे- ये सब जिम में मत करो … शर्म नहीं आती गे बनने में!उनकी बात सुनकर हम दोनों की तो हंसी ही नहीं रुक रही थी … क्योंकि वो शरद और मुझे गे समझ रहे थे.

सेक्सी बीएफ भेजो सेक्सी बीएफ भेजो

… मम्मा … आअ … मरर गई … मार डाला कुत्ते ने … निकाल साले लंड को … बचाओओऊ … मां मेरी ईईईई ईईईई!”उसकी चीख इतनी तेज थी कि आस पास कोई होता, तो पक्का सुन लेता. आप इस लम्बी बेकार की बकवास सुन कर शायद बोर हो गए होंगे, पर क्या करूं … आपसे अपनी बात शेयर किए मैं रह ही नहीं पाता हूँ … मुझे माफ करें. [emailprotected]इंडियन सेक्स कहानी हिंदी में का अगला भाग:भाभी की चूत चाटने का मजा-2.

कंडोम चढ़ जाने पर मुझे अन्दर लंड पर और बाहर दोनों तरफ डॉट का अहसास हुआ, शायद वो बहुत मंहगा कंडोम रहा होगा.

मां बोलीं- क्या हुआ हर्षद!मैं बोला- मां हम दोनों ये सब गलत कर रहे हैं.

जीजू और तेज तेज चोदो प्लीज … आह मेरे राजा … कितना सुख दे रहे हो मुझे … आह. अब तो विलेज गर्ल की कामुक बातें सुनकर मेरा भी लंड खड़ा हो गया था … तो मैंने कहा- मेरा लंड भी खड़ा हो गया है … तुम्हारी बुर में घुसने के लिए. 11 क्लास टाइम टेबल 2020सही कहा ना मैंने?फिर रमेश ने उसका हाथ पकड़ कर उसे अपने पास खींचा और अगले ही पल किसी फूल की तरह अपनी गोद में उठा लिया। उमर ज़्यादा होने पर भी रमेश की मर्दाना ताकत से इंप्रेस होकर रश्मि ने अपना झूठ स्वीकार करने का फ़ैसला कर लिया।वो बोली- जी अंकल, आपने सही पहचाना है, मैं वर्जिन नहीं हूं.

भाभी जब मेरे लिफाफे से पॉपकॉर्न ले रही थी तो उनमें से कुछ पॉपकॉर्न बिखर कर मेरी जांघों में गिर गए. वैसे भाभी सुकोमल तो इतनी थीं कि गुलाब की पंखुड़ियों से भी खरोंच आ जाए, पर बदन की सुडौलता और अंगों के कटाव की वजह से मैं उसे बलिष्ठ कहने पर विवश था. फिर उसने मुझे नंगी किया और लिटा कर मेरी चुत पर लंड रख कर एक तेज धक्का दे दिया.

मामी ने भी अपनी दांतों को भींचते हुए अपनी चुत में मेरे लंड को लेना शुरू कर दिया था. ”वो कैसे?” उसने चहकते हुए पूछा।अब थोड़ी देर के लिए तुम्हारे इन खूबसूरत पैरों को छूने का और मौक़ा मिल जाता पर तुम हो कि उसके लिए भी मना कर रही हो.

जब मैंने स्तनों की चुदाई कर ली तो मैंने खुद ही प्राची भाभी के मुँह में लंड दे दिया.

उनकी चुत से चॉकलेट जैसे ही खत्म होती, मैं फिर से उनकी चूत पर चॉकलेट लगा देता और चूसने लगता. हम दोनों एक सीमा तक ये सब कर रहे थे क्योंकि पार्टनर को तड़पाने का अलग मजा होता है. पिताजी के जाते ही मां आ गईं और पिताजी को न पाकर मुझसे पूछने लगीं- क्या हुआ? तेरे पिताजी किधर चले गए?मैंने मां को आते देख आकर उठ कर दरवाजे की कुंडी लगा दी और सब बताते हुए उनको अपनी गोद में खींच लिया.

सेक्सी वीडीओ आप बनावटी रोना रोते हुए बोलीं कि मैं इसे अपने होंठों और मुँह की गरमी से ठंडा करने की कोशिश करती हूँ. क्योंकि थॉमस का लंड बहुत मोटा और लम्बा था, जिससे चुदने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

वैसे भी काम होने के बाद आप टीवी देखती रहा करो … फिर दो घंटे सो जाया करो. मैं घूम गई, तो एक पल के उसकी गांड फटी … लेकिन मैंने जब उससे कुछ नहीं कहा, तो उसकी समझ में आ गया कि उसकी बहन चुदने के लिए मरी जा रही है. मैं अपने प्रेम को अपने अंदर समेटे खुशी के बहाने अपनी प्रेमिका को महसूस कर लेता था.

भोजपुरी भाभी सेक्सी बीएफ

चूंकि मैं भी उससे खुलने लगी थी, तो मैंने बोल दिया- जी बिल्कुल … अगर केला ताज़ा और बड़ा हो, तो मुझे पसन्द है. तो सामान्य बातों से शुरू हुआ और उसने पूछा- नानी जी कैसी हैं? मैंने कहा थोड़ी तबियत ठीक नहीं है। ऊपर लेटी हैं. आप सबकी वजह से में आप लोगों को अपनी सेक्स कहानी बताने का अवसर मिला.

स्कूल की प्रार्थना का समय हो गया था और मैं लाइन में लग कर खड़ी हो गई. शेफाली- रोमा आज फिर से तुम, मैं और अंकुश स्विमिंग के लिए चल रहे हैं.

थोड़ी देर और लेटने के बाद मैंने थॉमस के लंड को अपने हाथ से अपनी चुत से बाहर निकाला और अलग हो गई.

रॉबर्ट अपनी गांड उठा-उठा कर जोर-जोर से मेरे मुँह में लंड के धक्के लगा रहा था. इसी वजह से मुझे लगता है कि इन देखने वालों में से किसी न किसी का लंड मेरी चुत में घुस कर मुझे मजा दे. अब उसने मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत में लगाना चाहा लेकिन मैंने भी पहले से ही इरादा बना रखा था कि मुझे क्या करना है.

कुच्ची- अरे लंड पर बुर का पानी लग गया … जो साले नहाने जा रहा है?मैं- अब लड़की को चोदूंगा तो बुर का पानी तो लगना ही है. फिर मैडम बोलीं- कितने बजे तक के लिए आए हो?मैं बोला- मुझे 6 बजे तक घर के लिए निकलना है. मैंने उसे कमर से कस कर पकड़ लिया और कमरे में लाकर उसके बिस्तर में गिरा दिया.

मैंने भी उनकी चौड़ी छाती पर तीन चार बार किस किया और उनका साढ़े सात इंची लम्बा लंड पकड़ लिया.

औरत की चुदाई बीएफ: मैंने उसके छोटे छोटे निप्पलों को अपनी उंगली और अंगूठे से धीरे धीरे प्यार से मसलना शुरू किया. उसने मेरा सर पकड़ लिया और अकड़ कर अपनी चूची को और उठा दिया … मानो इशारा कर रही हो कि चोदो भी … और चूची भी चूसते रहो.

तब उन्होंने हल्का सा गांड में से लंड निकाल लंड पर थूक गिराया और इससे पहले में कुछ समझ पाती, वो सटा सट गांड में लंड पेलने लगे. बिन्दू मेरे सामने केवल नायलॉन की एक टाइट निकर में खड़ी थी जिसमें से उसकी पाव रोटी सी फूली बुर साफ दिखाई दे रही थी. तो उसने हाथ से रुक कर इशारा किया और और मुझे एक साइड में चलने का इशारा किया.

करीब 3 – 4 मिनट इसी पोजीशन में रहने के बाद लण्ड बैठकर चूत से बाहर आ गया.

मैंने उसकी चूत के ऊपर हाथ रखा और बड़ी उंगली को चूत के छेद में डाल दिया. मैं- जब मैंने तुम्हारी बुर में हाथ लगाया था, तो देखा वो कितनी गीली थी. नसीम बार बार उसे मनाते हुए पूछ रहा था कि यार मजा आया कि नहीं … अगली बार और बढ़िया क्रीम लाउंगा.