सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी

छवि स्रोत,म से मुस्लिम बॉय नाम

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगा पिक्चर व्हिडिओ: सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी, अचानक अपने आप मेरी आंखें बंद हो गईं और दीदी ने जब मेरे लंड का टोपा पलटकर लंड चूसना शुरू किया.

क्रिश्चन सेक्स

वो तड़फ उठी और गाली देने लगी- उई मां … मेरे मम्मे उखाड़ने का इरादा है क्या!मैं बोला- घिस अब मेरी पीठ … साबुन लगा और रगड़ दे मेरी जान. दो हजार अट्ठारह की सेक्सी वीडियोप्रिया के मुंह से मस्त सेक्सी आवाजें निकल रही थीं- आह्ह … हंस … आह्ह … उम्म … आह्ह … बहुत मजा आ रहा है … आई लव यू हंस … आह्ह … आई लव यू.

गोरी लड़कियां अपने रूप को लेकर भाव बहुत खाती हैं और उनका एटीट्यूड तो भगवान कसम दिमाग ही पागल कर देता है. आलिया भट्ट की एक्स एक्स वीडियोआप कहां जा रही हैं?वो बोली- मैं भी इमरजेंसी में किसी रिलेटिव के यहां जा रही हूं.

मैंने उससे कहा- जान धीरे बोलो, तेरी दीदी जाग सकती है, ज्यादा चिल्लाओ मत.सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी: अब ये ज़ुल्म और नहीं सहूँगा … बहुत कर ली आपकी गुलामी, अब मैं सबको बता दूंगा कि जंगल में आप क्या गड़बड़ कर रहे हो.

मैंने कहा- ये सिर्फ अपने पति को सब कुछ दे देगी … और किसी को नहीं देगी.हमने सेक्स के खूब मजे लिये लेकिन मैं आशीष सर को नहीं भुला पा रही थी.

सोनाक्षी एक्स एक्स एक्स - सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी

जब तक ये सेक्स कहानी आपके हाथों में होगी, तब तक शायद मेरी शादी की बात आगे बढ़ जाए.आप समझ ही सकते हो कि एक सेक्सी फिगर वाली जवान लड़की जब साथ में सटकर बैठी हो तो क्या हालत होती है.

फिर मैं मामी के सामने ड्राइवर की बगल वाली सीट पर सीधा आ गया और उसकी चूत में जीभ डाल दी. सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी मैं अब ऊपर की ओर गया और उसके ब्लाउज को खोल कर उसकी चूचियों को आजाद कर दिया.

हम दोनों एक दूसरे की बांहों में लिपट गये और लार का आदान प्रदान होने लगा.

सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी?

मैंने अपनी दोनों टांगें उसके सर के दोनों तरफ डालीं और चूत धीरज के मुँह पर रख दी. हम दोनों एक दूसरे से पहले से ही लम्बे समय से परिचित थे, साथ ही कई दिनों से लगातार फोन से बातें कर रहे थे, तो हमें कुछ अलग सा या संकोच सा महसूस भी नहीं हुआ. सुमन ने सुरेश को बिस्तर पर लेटा दिया था और 69 का पोज़ बना कर लंड की चुसाई शुरू कर दी थी.

उसे चैक करने के बाद सुरेश उसको कपड़े पहनने को बोल कर बाहर निकल आया. रुक्मणी- कुणाल, कोई कीड़ा मेरे सूट के अन्दर चला गया है … और मेरी पीठ पर रेंग रहा है. मेरी चूत गर्मी से धधकने लगी, तो रही सही कसर अब गांड ने पूरी कर दी थी, जो एक अलग ही आनन्द में गोते खाए जा रही थी.

दोस्तो, इस तरह से मुझे अपनी बीबी की सुहागरात की चुदाई करने के लिए एक महीने के बाद मौका मिला और अब मैं पूरी तरह से खुश हो गया था. मगर मैं अभी भी उसकी बुर को किस करता रहा और साथ ही बुर में उंगली डाल कर उसको फैलाता रहा ताकि जब मैं उसे चोदूं, तो उसे ज्यादा दर्द न हो. अब नीरज मुझे चोदने के बारे में मेरे पति सोनू से भी खुली बात करने लगा था.

भाभी मेरी ओर एक अलग नजरों से देखने लगीं और फिर हंस कर बोलीं- हां ठीक है, कर लो. मैं पानी भरने लगा और भाभी के पेटीकोट में उनकी गीली गांड देखकर लंड सहलाता रहा.

मुझे लग रहा था कि चाचा शायद मेरी चाची की भरपूर जवानी को सही ढंग से शांत नहीं कर पाते हैं.

आपको मेरी भाभी की चुदाई की जंगल सेक्स स्टोरी कैसी लगी? प्लीज़ अपने मेल अवश्य भेजिए.

अब यहां पर अगर मैं सर का लंड ऐसे बिना कहे चूस लेती तो पति कहते कि मेरा तो चूसती नहीं हो और सर का बहुत प्यार से चूस गयी!अब जब सर ने ही मेरा मुंह उनके लंड पर रख दिया था तो मुझसे भी रहा नहीं गया. अंकिता फिर से गर्म होने लगी और उसकी बुर से पानी निकलने लगा, जिसे मैं चाटता गया. आप तो खेतों में अपनी जवानी बिता रहे हो, पत्नी से प्यार करने का आपका दिल नहीं करता क्या!रणजीत- क्यों मैं मर्द नहीं हूँ क्या … लेकिन क्या करूं, खेतों में इतनी मेहनत करके घर आने के बाद थकान से नींद आ जाती है.

कुछ ही सेकंड में भाभी ने मुझे रोक दिया और मेरी ओर देखकर स्माइल करने लगीं. वो लंड निकाल कर हांफता हुआ बोला- आंटी, बहुत मस्त लगा, अगली बार आपकी बेटी को चोदूंगा. पूरी तरह से ठीक-ठाक होकर हम दोनों एक एक करके उस कच्चे घर से बाहर निकले.

वो अब तक तीन बार पानी छोड़ चुकी थी, फिर मैं भी उसकी फुद्दी में झड़ गया.

करीब 40 मिनट बाद जब एक्ट्रेस की थोड़ी सी चुदाई वीडियो, जो मेरे साथ मैंने बनाई थी, उसे देखी … तब मैं झड़ने की कगार पर आ गया. मैं भाभी की चुत चूसता रहा और भाभी गर्म सिसकारियां लेते हुए अपनी टांगों को मेरी गर्दन पर लपेट कर चुत चुसवाती रहीं. धोती में ही मोटा मूसल उछल कूद करके धोती को जैसे उतार फेंकना चाह रहा था.

मैं एक बहुत ही खूबसूरत सेक्सी महिला की बेटी हूँ।हमारे पड़ोसी लड़के आमतौर पर हम दोनों को सेक्स बम बोलते हैं। मेरी खुद की उम्र 20 साल और मेरी माँ की उम्र अभी 40 साल है। मेरी मां देखने में केवल 35 की ही लगती है. दूसरी ओर संगीता अकेले रवि का वज़न संभाल नहीं पायी और एकदम से फिसल कर मुझ पर आ गिरी. 10 मिनट के बाद भाभी बाहर आ गयी और मुझसे बोली- अंदर तुम्हारी दुल्हन तुम्हारा इंतजार कर रही है.

फिर एक दमदार झटका मारते हुए पूरा का पूरा लंड भाबी की चूत में घुसा दिया.

मीता को चैक करने के चक्कर में सुरेश बार बार उसके बूब्स और चुत को छूकर मज़ा ले रहा था. फिर उसने मेरे फनफना रहे लंड को मुंह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी.

सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी कहानी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने सोनिया को कली से फूल बनाया. वो अब मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चूत पर जोर से दबाने लगी और नीचे से अपनी गांड उठाकर मुझे पूरा अपनी चूत में घुसा लेने की कोशिश करने लगी.

सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी सच बताऊं, तो मुझे उसके होंठों का स्पर्श महसूस करने से मजा आने लगा था. उस दिन पहली बार मैं किसी को चोद रहा था और मेरे आनंद का कोई छोर नहीं था.

फिर मैं पोर्न फिल्मों के लंड चुसाई के दृश्य याद करते हुए धीरे धीरे आधा लंड अपने मुंह में घुसा के चाटने चूसने लगी.

सनी लियोन की नंगी सेक्सी

मेरे मुँह से चीख़ निकली, पर किसी तरह मैंने तकिये में मुँह दबा कर कन्ट्रोल किया. रणजीत- वाह रे मुनिया, तू तो बहुत बड़ी हो गई रे, तेरी भाबी बता रही थी तू भी उसका काम में बराबर साथ दे रही है. मैंने उसको गर्म करके छोड़ दिया ताकि उसके अंदर की आग और ज्यादा सुलगती रहे.

जिसका अंजाम आप जानते ही हो, उसका रस भी बांध को तोड़कर बाहर निकल आया था. मैं आंटी की चूत में जीभ देकर उसकी चूत की दीवारों को चाटने लगा और आंटी मेरे लंड को मुंह में भरकर चूसने लगी. मैंने अपना कौमार्य, अपनी योनि की सील अपने पति के लिए ही बड़े जतन से बचा रखी थी और अब उसे उन्हें ही अर्पण करने की घड़ी आन पहुंची थी.

मुझे भी और ज्यादा मजा आने लगा और मैंने उसकी मैक्सी में हाथ देकर उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया.

मुझे उम्मीद है कि आपको अच्छी ही लगी होगी, फिर भी अपनी राय देना न भूलियेगा. मेरा नंगा जिस्म देख कर अब्बू के मुँह में पानी आ गया और अब्बू मेरे करीब आ गए. मैंने बोला- आज तुझे रांड की तरह चोदेंगे, देख लेना साली आज तेरा क्या हाल करता हूं.

मुखिया बस सुमन की तारीफ़ किए जा रहा था और सुमन आसमानों की सैर पर निकल गई. मैं अपने लिए चाय बनाकर भाभी के पास सोफे पर जाकर बैठ गया और उनको ऐसे ही घूरने लगा. गांव में मुझे भांग खाने की आदत पड़ गई थी, तो मैं अपने साथ गांव से भरपूर मात्रा में भांग लाया था.

समीक्षा के मुँह से अब मस्ती से ‘अअअह ऊऊह मम्मीईई … मैं मर गई मम्मीईई … अअअह जीजू मजा रहा है. फिर पांच मिनट के बाद फिर से वो मेरी टांगों के पास गयी और मेरे लंड को चूसने लगी.

एक दिन मैं हिसार बस स्टैंड से बैंक जाने के लिए ऑटो का इंतजार कर रहा था. तू स्कूल की जितनी पगार एक महीने में लाती है … वो तो तू एक दिन में कमा लेगी. दिन भर हम अच्छे से रहे, पर अगले दिन फिर सुबह ग्यारह बजे उनके स्तन मेरे मुँह में थे और उनके पैर मेरे पैरों के बीच में थे.

इतना कहना था सुमन का … कि उस साये का लंड सरकता हुआ चुत की गहराई में उतर गया और सुमन की आह निकल गई.

पांच मिनट तक जोर जोर उनके होंठों को काटती रही और उनकी लार को पीती रही. मेरी चचेरी दीदी की एक बहुत अच्छी आदत थी कि सुबह के काम निपटा कर नहा धोकर ही बाकी सारे काम शुरू करती थीं. बस उसे किस करते हुए चुदाई की पोजीशन में आया और लंड चुत में घुसाने की कोशिश करने लगा.

एक दिन शाम के समय सब्जी वाला आया, तो हम सब्जी के लिए ठेले पर खड़े थे. वो बोली- तू फिर आज अंदर आ गया? अब कौन सी आफत आ गयी?मैं बोला- भाभी, बाहर कोई भी नहीं है.

मैंने भी उसकी वासना को समझा और अपने कड़क लंड को उसके मम्मों के बीच रखकर दिव्या की स्तन चुदाई करने लगा. ’राहुल चाहता तो मेरे मुँह को ढक कर आवाज को बाहर जाने से रोक सकता था, लेकिन उसने मानो जानबूझकर मेरी चिल्लाहट नहीं रोकी. मई का महीना आ गया था और 12 तारीख को वो मुझे वहां से अपने साथ ले गये.

हिंदी हद बफ

मैं मन ही मन मानो उसे गालियां भी दे रही थी कि बहनचोद अब घुसा भी दे … इसमें कुछ.

अब मैंने मेरे कपड़े पहने और हम दोनों रूम के बाहर निकल आए। जब पूजा भाभी जा रही थी तो मैंने देखा कि अब पूजा भाभी की चाल कुछ अलग ही नज़र आ रही थी. मगर मुझे मजा लेते देख कर वो बोली- आपा, तुझे तो बहुत मजा आ रहा है … और यहां मेरी गांड में बहुत दर्द हो रहा है. उसने रवि को अपने कंधे का सहारा दिया और दूसरे हाथ से दरवाजा बंद कर दिया.

आखिर इतनी आसानी से ऐसे कैसे मैं अपने बदन पर मौसा जी को कब्ज़ा कर लेने देती?उस बात के लिए सॉरी बेटा जी, अब तो तेरे बिना रातों को नींद भी नहीं आती. उसने मेरे गाल पर चूम लिया और बोली- प्लीज … बन जाओ ना … एक रात के लिये. चोदी चोदा हिंदीवो तड़फ उठी और गाली देने लगी- उई मां … मेरे मम्मे उखाड़ने का इरादा है क्या!मैं बोला- घिस अब मेरी पीठ … साबुन लगा और रगड़ दे मेरी जान.

मुझे आपकी राय के अनुसार ही अपनी कहानी को बेहतर बनाने की प्ररेणा मिलेगी. उधर मेरे पति ने अपना लंड मेरे मुंह में दे दिया था और मैं मस्ती में उसके लंड को पिये जा रही थी.

अगले पांच मिनट तक मैंने इसी स्पीड से उसको चोदा और वो एक बार फिर से झड़ गयी. अब इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको सुमन रानी का हाल भी दिखाऊंगी, वो कैसे चुदी. जैसे वो मुझे देख रही थी, उससे लगा कि थोड़ी सी मेहनत की जाए, तो काम बन सकता है.

इधर चचा, जो छुप कर हमारी चुदाई का खेल देख रहा था, वो भी गर्म हो गया. वो आइसक्रीम की तरह मेरे लंड को चूसने में लगी हुई थी और मैं जन्नत की सैर कर रहा था. ससुर बहू सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मैं काफी समय बाद अपने गाँव गया तो वहां का देसी सौन्दर्य देख मेरा लंड चूत मांगने लगा.

उसने मुझे देखकर हल्की सी स्माइल दी और फिर से खाना बनाने में लग गयी.

कालू- जी मालिक, कहिए क्या सेवा करूं!मुखिया- कल तूने मां चुदवा ली … अब और क्या मेरी गांड मारेगा तू!कालू- क्या हो गया मालिक … सुबह सुबह इतने गुस्से में क्यों हो?मुखिया- उस हरामी को तूने सुमन का बोल दिया था. फिर मैंने उसके पुराने स्कूल से पता किया, तो मालूम चला कि वो किसी सर के साथ सैट थी.

अगर तुम इसमें सफल हो गए, तो ही हम तुम्हें अपनी बेटी से विवाह करने देंगे. जीजाजी से फोन पर बात हुई, तो उन्होंने समझाया कि केवल 21 दिन की ही तो बात है, जल्दी मत करो, बाद में आ जाना. मैंने अम्मी के कमरे के अन्दर झांकने की जगह देखना शुरू की, तो पीछे खिड़की का एक कांच जरा सा टूटा हुआ था.

मेरा लन्ड मेरी पैंट से बाहर निकलने के लिए बेकाबू हो रहा था।धूप बहुत तेज थी और मैं तो पसीने से तर हो रहा था. मगर मां ने मुझे टोकते हुए रोक दिया था कि अब उनकी नजर मेरे ही जिस्म पर है. इन बातों को चार-पांच महीने बीत गये थे लेकिन कोई चूत हाथ नहीं आ रही थी और न ही लंड ही मिल रहा था.

सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी अम्मी मेरे दरवाज़े के पास आईं, उन्होंने दरवाजा खोला और अन्दर झांक कर देखा. समीक्षा के मुँह से अब मस्ती से ‘अअअह ऊऊह मम्मीईई … मैं मर गई मम्मीईई … अअअह जीजू मजा रहा है.

भाई बहन का सेक्सी वीडियो पिक्चर

उसके गीले बाल और पतली सी गोरी कमर देखकर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. सुमन भी कामुक सिसकारियां लेने लगी- आ इ उउउ एम्म सुरेश आह तुम्हारे लंड का जवाब नहीं … ऐइ आराम से आह … चुत में जाता है तो सारी गर्मी निकाल देता है … आह. मैंने खुश होते हुए कहा- ठीक है!सोनू से बात होने के बाद मैंने सर का नम्बर मिलाया.

मुनिया- आपने तो कहा था आज मुखिया को खुश करना है, मगर उसने तो हमें पास भी नहीं बुलाया. उसने लाकर वो बैग एक तरफ रख दिया और हाथ मुंह धोने अंदर वॉशरूम में चला गया. गाँव की लड़कीवो मुझे इतना महान आदमी मान रहे थे मगर ये नहीं सोच रहे थे कि मैं कर क्या रहा हूँ.

यंग हॉट लेस्बियन फ्रेंड स्टोरी में पढ़ें कि मेरे मनपसंद लड़के से मेरा रिश्ता तय होने से मैं बहुत उत्तेजित थी.

मैंने उसको सीधी खड़ी किया और उसके गले के पसीने को चाटकर साफ कर दिया. रणजीत- ठीक से लेट जा, ऐसे चिपक क्यों गई!सन्नो- क्यों जी आपकी पत्नी हूँ, इतना भी हक़ नहीं क्या मेरा … और वैसे भी कितने दिन हो गए हैं.

धीरज बोला- साली क्या मज़ाक कर रही है … जरा ठीक से चूस … पूरा लंड मुँह में ले. मैंने उंगली को अपनी नाक के पास लाकर सूंघा, तो एक अलग ही महक आ रही थी. उसकी चूत पानी छोड़ चुकी थी और चूत का रस चाटने में मुझे गजब का स्वाद मिल रहा था.

मैंने अपनी तरफ उनके परिवार को समय दिया था कि मुझे ये रिश्ता पसंद है, मगर आप भी सोच समझकर जवाब दे देना.

घर के बाहर वाले बरामदे में मेहमानों के लिये दरी, गद्दों, तकियों का ढेर सा लगा था कि जिसे जो चाहिए ले लो. मैंने अपने लौड़े का सुपारा नीला की चमकती गांड के छेद पर सैट किया, उसे वहां थोड़ा रगड़ा. करीब 10 मिनट तक लंड चूसने के बाद मैंने लंड निकाल कर उसके मम्मों के बीच में रख दिया.

सेक्सी वीडियो बीपी इंग्लिश मेंमैं भी खुश हो गया क्योंकि बिना कॉन्डम के चूत में डाल कर चोदने और वीर्य छोड़ने का मजा ही कुछ और है. हमारी शादी हुए एक महीना हो गया था लेकिन पति पत्नी वाली सुहागरात की चुदाई की रात इतने दिन के बाद आज आई थी.

सेक्सी हिंदी बीपी व्हिडिओ

गीता आगे कुछ और बोलती, मुखिया ने उसका हाथ पकड़ा और अपने पास खींच कर गोदी में बैठा लिया. यह सेक्स कहानी हमारे बीच पिछले तीन महीनों से फोन पर चल रही थी और आज चार महीने के बाद जब मैं घर आया, तो मुझसे रहा नहीं गया. ये एक दोस्त का कॉल था, तो मैं उससे बात करने लगा और कुछ देर बाद फ़ोन काट कर मैं अपना फोन लेकर भाभी के कमरे में आ गया.

वो मेरे लंड से मिला आनंद बर्दाश्त नहीं कर पाई और एक बार फिर से झड़ गयी. तभी अचानक पिताजी मां को उत्तेजना में गालियां देने लगे और कहने लगे कि तेरी चुत में लंड फंसा दूंगा भैन की लौड़ी … और आज तो तुझे रात भर चोदूंगा. हम दोनों का आपसी व्यवहार रिश्तेदारी से अलग अन्तरंग सहेलियों जैसा ही था.

इससे आपके और मेरे लंड को जितनी दिक्कत हो रही है, मुझे उम्मीद है कि अन्तर्वासना की प्यारी पाठिकाओं को भी मायूस होना पड़ रहा होगा. इस बात पर जोर से हंसने लगी- मेरे साथ फ्लर्ट कर रहे हो, मैं सबको बता दूंगी. वो मेरे सामने नहाकर ऐसे ही पेटीकोट पहनकर आ गईं, मैं सकते में आ गया.

अब मैंने उससे थोड़ी नॉटी बातें करनी शुरू कर दीं … मगर ये सब अभी सिर्फ व्हाट्सप्प पर चल रहा था. मैंने चाची की आँखों में देखा और चाची ने मेरी!उनकी आंखों में मर्द की प्यास थी.

उसने आवाज देते हुए मुझे बुलाया और कहा- प्लीज, तुम मुझे अपनी स्टूडेंट बनाकर चोद दो.

फिर मैं आपको गाल पर किस करूंगा, आपके गले पर, फिर गले के नीचे आपकी चूची के ऊपर वाले हिस्से पर किस करूंगा. मोटर कार कैसे बनाते हैंसुरेश ने अपने लंड को पैंट में एड्जस्ट किया और मीता के मम्मों को टच करके गौर से देखने लगा. भारत के सेक्सअब तक आपने देहात सेक्स कहानी के दूसरे भागछोटी मामी की चुदाई बाड़े में- 2में जाना कि कैसे मैंने देहात सेक्स मामी के साथ किया था. उसकी आंखें नम हो गई थीं और आंसुओं की बूंदें टपकने ही वाली थीं कि डोरबेल बज उठी.

जब उन्होंने पूरी नाइटी उतारी, तो मैंने देखा कि उन्होंने ब्रा नहीं पहनी थी.

जब हम वहां से निकल रहे थे, तो दीदी की ननद और अंकिता दोनों बाहर आईं और बाय बोलीं. फिर मैंने उसको अलग किया और पूछा- कल रात को बहुत आवाजें आ रही थीं तुम्हारे रूम से. अब अपने काम से शहर जाता हूँ, फिर वापस यहीं आ जाता हूँ और मौका देख कर उस लड़की के ऊपर ऊपर से मज़े ले लेता हूँ.

दूसरे दिन मैं 8 बजे उठा और अपना नित्यकर्म पूरा करके उसके घर के पास वाले स्टैंड के सामने दुकान पर सिगरेट पीने लगा. मैं आज आपको अपनी मामी की चुत कहानी बताने जा रहा हूं जो मेरे और मेरी मामी के बीच के सेक्स संबंधों की कहानी है. मेरा ब्लाउज का गला भी काफी बड़ा था जिसमें से मेरी छातियों का उभार और क्लीवेज स्पष्ट रूप से दिखती है.

चुदाई चुदाई वाली

एक तरफ में केवल गेहूं के खेत लहलहा रहे थे तो दूसरी तरफ नदी में औरतों की जवानी. मेरी उंगलियां उनकी गीली मखमली चूत से टच हो गयीं और मेरे अंदर चुदाई की आग भड़क उठी. ये मेरा पहली बार था, जिस वजह से मेरे दांत उसके लंड को हल्के से लग जाते तो वो सिसक सा जाता.

इसी कॉलेज में एक लड़की एक तरफ अकेले में बैठकर अपने ही ख्यालों में खोई हुई थी.

उसको देखकर मन करने लगा कि उसके पास जाऊं और उसके कोमल बदन से अपने बदन को रगड़ कर सुख की गंगा में गोते लगाऊं.

इस वजह से अम्मी मुझसे बोलती थीं कि बेटा तू अभी अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे. तब मैंने भाभी से बात की तो पता चला कि भाईसाहब ने उसको खूब धमकाया है और मुझसे बात ना करने की हिदायत दी है. फैंसी पेंटीइससे पहले कि मैं पलटता, वो बोली- ऐसे कैसे जा रहे हैं आप! आपने मेरी इतनी मदद की है, कम से कम एक कप चाय तो पीकर ही जाइये.

उस दिन भी बड़ी भाभी ने गहरे लाल रंग का ब्लाउज पहना था, जो आगे से बांधा जाता है. मैंने कितना कहा कि डॉक्टर बाबू को दिखा आओ, तो बोला कि नहीं आराम करूंगा तो ठीक हो जाऊंगा. उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे जो कि गीली होने के बाद उसकी चूत को बहुत ही रसीली बना रहे थे.

सुमन- मेरे प्यारे पातिदेव मुझे देखो, मैंने क्या पहना हुआ है … उनके सामने ऐसे रहूंगी तो अच्छा लगेगा क्या?सुरेश- अरे पगली वो बड़े हैं, उनसे कैसी शर्म … वो तो तुमको बेटी कह कर बुलाते हैं. गीता- यहीं बैठे करूं, कोई आ गया तो?मुखिया- बड़ी जल्दी है तुझे लंड चूसने की.

अपनी टांगों को मैंने उनकी टांगों में फंसा लिया था और अब वो पूरी तरह से मेरी कैद में थी.

फिर मैंने आगे बढ़ते हुए उसकी मैक्सी को उसके घुटनों पर से ऊपर सरकाना शुरू किया और उसकी चूत तक लाकर छोड़ दिया. राहुल उठा और केक से सने हुए अपने होंठों को मेरे होंठों और जीभ से मिला दिया. उससे पहले मेरी सबसे पहली कहानी प्रकाशित हुई थी जिसका शीर्षकमेरी बहनों की चूत चुदासथा.

नशा छुड़ाने की अंग्रेजी दवा आप समझ रहे हो ना मेरी बात को … बीमारी इंसान से क्या क्या नहीं करवा देती. दूसरे राउंड के बाद हम दोनों थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहे। अब मैंने उनको उठाया और अच्छी तरह से साफ किया। उनकी गांड और पीठ पर बहुत ज्यादा भूसा चिपका हुआ था। पूरे जिस्म में चिपके हुए भूसे को मैंने झटकारा और बालों में फंसे हुए भूसे को भी साफ किया।फिर मैंने एक एक करके उनके सारे कपड़े वापस से पहनाये.

मैंने उनसे कुछ देर बात की और कहा कि शाम की मेरी स्पेन की वापिस की फ्लाइट है. अब सोनू जी मुझ पर एक अहसान करोगे?मैंने कहा- मैंने सब सुन लिया है, चिंता न करो. तभी आदिल बोला- यार, ऊपर तो अच्छी तरह से लगा दिया लेकिन नीचे तो पूरा सूखा ही रह गया.

কলকাতা বাংলা সেক্স ভিডিও

फिर नखरे क्यों कर रही थीं?रुक्मणी- कुणाल, जब से तुम मुझ पर डोरे डाल रहे थे. बोलो किस तरह की गर्मी चाहिए … आपकी खिदमत में आज रात को ही हाजिर कर दूंगा. फिर मैंने भाभी की गर्दन पर किस कर दिया, लेकिन भाभी ने कुछ नहीं बोला.

रुक्मणी- ओह्ह … कुणाल, यह क्या कर रहे हो तुम?मैं- भाभी, आपने ही तो बोला था कि पैन्टी मत खोलना. मैंने सोचा कि अब चूत के छेद के लिए कहीं दूसरी जगह ही नज़र मारनी पड़ेगी। जैसा कि आपने मेरी पिछली कहानी में पढ़ा था कि मेरे चार मामा हैं। चार में से तीन तो एक साथ रहते हैं जबकि एक मामा अलग रहते हैं.

उसके कड़क चूचों को मसलते हुए मैं भी बहुत उत्तेजित होने लगा और अब हम दोनों के ही मुंह से कामुक सिसकारियां निकल रही थीं.

मुखिया- आह असली बात तो तुझे अब समझ आई आह … चल इसको ऊपर से नीचे अच्छी तरह रगड़ ताकि मुझे सुकून मिले. उसकी लम्बाई, मोटाई और तनाव भांपकर मैं जान गयी कि आज मेरे मन की सारी मुराद पूरी होने वाली है. लौड़े को चूस चूसकर उसने पूरा टाइट कर दिया और फिर खुद मेरी जांघों पर अपनी गांड को टिकाते हुए मेरे लंड को गांड में लेने लगी.

सेक्स कहानी में आपको विभिन्न किस्म की चुदाईयों का रस मिल रहा है, जिसको लेकर आपके मेल भी काफी संख्या में मिल रहे हैं. मैंने उनकी ब्रा खोल दी … जिसे उन्होंने आगे से हाथ लगाकर संभाल लिया. मैंने रास्ते में ही उनका हाथ पकड़कर कहा- कहां जा रही हो जान?सास- तुमने इतनी बेरहमी से चोदा है … तो मैं पानी पीने जा रही थी.

मैं- हम पहले भी तो ये सब कर ही चुके है ना! तो आज क्यों नहीं अच्छा लग रहा है?भाभी बोलीं- नहीं कुणाल, अभी ये सब मैं नहीं करना चाहती.

सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी सेक्सी: हम उस दिन हम दोनों ने कुछ और रिश्तेदारों के यहां कार्ड दिए फिर घर आ गए. मैंने पैंटी निकाल कर पैंटी में लगे रस को भी चाट लिया और पैंटी को दूर फैंक दिया.

मैंने उनके फन उठाते हुए लौड़े को देखते हुए कहा- हां उन्होंने तो बुझा ली, पर मेरे अन्दर आग लगा दी है. जब तक वो पूरी तरह से झड़ नहीं गई, तब तक मैंने अपना मुँह उसकी बुर से नहीं हटाया. अब तक मेरा लन्ड उस लाल साड़ी वाली जवान लड़की को देखकर पानी छोड़ने लगा था.

उसकी क्लिट को दांतों में लेकर खींच देता, तो कभी उसकी चूत के अन्दर अपनी जीभ डालकर अन्दर बाहर करने लगता.

अब मैंने उसके गोरे गोरे बूब्स को अपने हाथों में लेकर दबाया और मुंह लगाकर किसी बच्चे की तरह उसकी चूचियों को बारी बारी से पीने लगा. मेरा मन करने लगा था कि मैं हॉट सेक्सी मॉम को नंगी होते हुए देखूं लेकिन मेरी ऐसा करने की हिम्मत नहीं हो रही थी. हा … अहा!शबाना दर्द से तड़फने लगी- आह … खुदा के वास्ते निकाल लो … नहीं तो मैं मर जाऊँगी.