हिंदी बीएफ 2010 के

छवि स्रोत,देसी चुदाई का

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ वीडियो भेजें: हिंदी बीएफ 2010 के, वसुंधरा के गर्म जनाना जिस्म से उठती गर्मी को मैं अपने पूरे शरीर में महसूस कर रहा था.

सेक्सी पिक्चर चोदी चोदा वाली

उसने इधर-उधर देखा, फिर मेरी तरफ देखकर बोली- बस इसी तरह का मजा, जहां पर उत्तेजना भी हो और डर भी हो, ऐसा ही मजा चाहती हूं. भाभी देवर की चुदाई वीडियो बीएफथोड़ा प्रयास करने के बाद आखिरकार उसके लिंग के सुपारे ने मेरी योनि का द्वार भेद ही दिया.

उन दस दिनों में ऐसी कोई रात नहीं थी, जब मैंने और माया ने चुदाई ना की हो. नंगी सेक्सी वीडियो भेजोवो मेरी गांड मारते हुए बोला- बहुत मस्त आइटम है तू … तेरे से बड़ी माल मैं सोच भी नहीं सकता कि कोई होगी.

com/teen-girls/hot-ladki-sex-kahani/सऊदी में रहने वाली एक लड़की को पढ़ने मिल गयी थी.हिंदी बीएफ 2010 के: परिणाम स्वरूप योनि की दीवारों से मेरे लिंग-मुण्ड का घर्षण हर गुज़रते पल के साथ-साथ बढ़ता जा रहा था.

वसुन्धरा का शरीर पलंग से करीब फुटभर उछला- हे राम! रा … आ … अ … ज़! मर गयी … मैं! उफ़.हमारे कॉलेज में यह कोर्स तो काफी सालों से चल रहा था, मगर मेरे बैच के शुरू होने के साल से ही अकेले हमारे कोर्स के लिए नई बिल्डिंग का इन्तजाम किया था.

बीएफ सेक्स चोदा चोदी वीडियो - हिंदी बीएफ 2010 के

डायरेक्टर उससे बोल कर चला गया … लेकिन उसने बेचारी आन्या को ऐसे गर्म करके छोड़ दिया.जिस वजह से चूत के सिर्फ फांकें और फांकों के बीच का गुलाबी एरिया ही दिखा मुझे, बाकी सब झांटों ने ढक रखा था.

उन्होंने कहा- देवर जी, अभी इतना मज़ा आया है, तो आगे चुदाई में कितना मजा आएगा. हिंदी बीएफ 2010 के सेकंड क्लास में टीसी भी जल्दी से किसी को भी जल्दी से बिना रिजर्वेशन के सीट नहीं दिलवा सकता था तो हमारा केबिन हम दोनों के लिए पूरी तरह से खाली था.

उसकी चुत से कुछ अलग सी खुशबू आ रही थी, जो मुझे और भी ज्यादा पागल कर रही थी.

हिंदी बीएफ 2010 के?

मेरे तीव्र आवेश के कारण वसुन्धरा के मुंह से निकलने वाली ऊँची-ऊँची काम-कराहों से सारा कमरा गुंजायमान था. देसी मॉम की चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैं अपनी मम्मी की जवानी की ओर आकर्षित हुआ. वो … मैंने आज अंजलि को दे दी सर …” पिंकी ने हड़बड़ा कर कहा।ओह … हां … इसकी तो और भी बड़ी-बड़ी और मस्त हैं.

उसने पूछा कि क्या मेरी कोई गर्ल फ्रेंड है?मैंने सुषी को बता दिया कि पहले मेरी गर्लफ्रेंड थी लेकिन काफी समय पहले हमारा ब्रेक अप हो गया था. मैंने उसकी चुत पर अपने होंठ रख दिए और उसके चुत के छेद में जीभ घुसा घुसा कर चूसने लगा. वो पूछने लगी- आंटी कब आएंगी वापस?मेरा जवाब सुनकर उसने एक-दो बात इधर-उधर की ही की और फिर वो अपने घर चली गई.

मैं- अभी तो ये शुरुआत है मेरी जान … अब आ जा, तेरी चूत को लंड से मजा देता हूँ. मेरा लंड उसके गले तक फंसाने के लिए मैं उसके बालों को पकड़ कर पूरा जोर लगा देता था. इससे पहले मैं कुछ कह पाता वह बोली- मैं तुम्हारे दोस्त से प्यार करती हूँ.

तभी चाची पलटी और उसने धीरे से लंड बाहर निकाल कर पकड़ लिया और खड़ी हो गई और फिर हाथ से सहलाने लगी. उसी समय ताऊ ने लंड को चूत में पेल दिया और ताई की ‘आं … धीरे …’ की आवाज निकल गई.

बाप तेरा मुंबई में काम करने जाता है और तेरी मम्मी, जो भी पैसे वाला दिखा, उसे फंसा लेती हैं.

रंग को लेकर काफी दुखी सी महसूस हुई।वह बोली- शायद मैं सबसे काली लड़की थी अपने स्कूल कॉलेज की और हर लड़का गोरी, खूबसूरत लड़की को अपना साथी बनाना चाहता है.

वसुंधरा का छोटी सी पेंटी के इलास्टिक तक सपाट और साफ़-सुथरा गोरा पेट और पेंटी के इलास्टिक के बाद जाली में से झलक दिखाती कुंदन सी साफ़-सुथरी गोरी त्वचा इस बात की चीख-चीख कर गवाही दे रही थी कि वसुंधरा ने आज प्युबिक एरिया की भी वैक्सिंग करवाई है. प्रिया- चुदाई कीजिए मेरी!मैंने प्रिया की कमर पकड़ कर उसकी चूत में लंड अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. वसुन्धरा की योनि से निकलते काम-ऱज़ और मेरे लिंग से निकले प्री-कम के कारण मेरे लिंग का उसकी योनि में आवागमन थोड़ा आसान हो गया था.

चाचा जी ने बोला कि कल उनको कहीं जाना है तो मुझे उनके घर पर रहने को बोला. मुझे देखते ही वो फिर से हड़बड़ा गयी थीं और पास में रखा टॉवल उठा कर खुद को ढक लिया था और गुस्से में बोलने लगी- यहां क्या करने आया? और आने से पहले दरवाजा नॉक करके अन्दर आना चाहिए था ना!मैं उनकी पैंटी की तरफ इशारा करते हुए बोला- सॉरी मौसी, पर मुझे नहीं मालूम था कि आप रूम में ये करने आई थीं. गुलाबो की चूत बहुत टाइट थी, मुझे लगा मेरा लंड उसमें जैसे फंस गया और छिल गया है.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… ये देख कर दीपक अंकल ने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी.

अगले दिन जब उसका फोन आया तो उसने मुझे अपने घर का पता बता दिया और मैं उससे मिलने के लिए निकल पड़ा. क्या पता कितनों से चुद कर आई हो। मैंने उसके बालों को पकड़ कर अपना लंड उसके मुंह में ठूंस दिया और उसके मुंह को जोर जोर से चोदने लगा. दूध लेने जाने पर कभी कभी ऐसा होता था कि हम दोनों एक साथ वापस आते थे.

अगर तुम्हारा दिल कर रहा है देखने को तो तुम मुझे यह देख कर कल वापिस कर देना, मैं इसे वहीं पर रख दूंगी जिससे उसे कुछ नहीं पता लगेगा. मैं भी उसे गटक गयी और लण्ड का टोपा चाटने लगी।तब वहां से चली।बस इसी में थोड़ा देर हो गयी।अम्मी बोली- ठीक है रेहाना … पर ये तो बता कि उसका लण्ड कितना बड़ा है?मैंने कहा- लण्ड तो बड़ा मोटा तगड़ा है. जिस प्रकार मैं झुकी हुई थी और वो मुझ पर दोनों टांगें फैला कर चढ़ा हुआ था, उससे धक्के बहुत मजेदार लग रहे थे.

जरूरत से ज्यादा चुदाई करने के कारण मेरा लंड और भी ज्यादा मोटा और लंबा हो गया था.

फिर मेरे किसी दोस्त ने मुझे एक रूम के बारे में बताया, जिसका चार्ज 500 रूपए था. अब निशा ने मेरे लोअर को नीचे कर दिया और मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगी.

हिंदी बीएफ 2010 के जब मैं उसके ऊपरी ओंठ चूसता था तो चूत लण्ड को जकड़ने लगती थी और जब निचले ओंठ को चूसता था तो चूत लण्ड को ढीला छोड़ देती थी. मैंने उससे कहा कि मैं सीरियस बात कर रहा हूँ यार … और तुम हो कि मजाक कर मूड में बैठी हो.

हिंदी बीएफ 2010 के इसके बाद उन्होंने मुझे घुटनों के बल बिठा कर मेरा सिर पकड़ कर जबरदस्ती अपना काला लंड मेरे मुँह में डाल दिया. प्रोग्राम खत्म होने के बाद मैंने उससे बोला- चलो थोड़ा नाश्ता कर लेते हैं.

और सोनम बेटा कौन सी क्लास में हो अभी?”अंकल जी, इंटरमीडिएट फाइनल में हूं” मैंने कहा.

नया सेक्सी गाने

मगर यह तो संभव सी बात नहीं लग रही थी कि बगल में चुदाई चल रही हो आपको नींद आ रही हो. पूजा ने पोज बदल लिया, अब वो बेड पर घुटनों पर हो कर कुतिया बन कर खड़ी हो गई. फिर अपने दोनों हाथों से चूतड़ फैलाकर थोड़ा जोर लगाकर धक्का मारा, तो मेरा पूरा लंड पूजा की गांड में चला गया.

आरती के पापा से जॉब का आश्वासन पाकर मैं उनका थॅंक्स करते हुए आरती के साथ बाहर आ गई और वो मुझे अपने साथ पास ही किसी रेस्टोरेंट में ले गई. पेट पर रखने के बाद भी उसने कोई हलचल नहीं की तो मैंने अपना हाथ धीरे-धीरे उसके फिगर पर ले जाकर हल्के-हल्के से उसके बदन को दबाने लगा. मैंने सोनू से कहा- अगर तुम चाहो तो अपनी मम्मी को यह लौड़ा दिलवा सकती हो.

भाभी बार बार बोल रही थीं- आंह अब तो छोड़ दे अपना पानी!मगर मेरा लंड झड़ ही नहीं रहा था.

अंकल का स्वभाव अच्छा था, तो मैंने उनको सब कुछ बता दिया और अंकल मेरे पास आकर बैठ गए. जब भी लंड बाहर निकालता, उनके मुँह से सिसकारी निकलती और जब झटके से अन्दर डालता, तब उनकी आह बाहर आ जाती. मम्मी की टांगें हवा में उठ गई थीं- आआह उईईई … चोदो आआह मजा आ रहा है … आआह बढ़ा दो मेरी चूत का नाप … मेरे राजा … आआह.

उसकी चीख निकल पड़ी- आईई … ई ईई … उफ्फ ओ … उम्म्ह… अहह… हय… याह…शिखा के चेहरे को देख कर मैं उसका दर्द समझ गया और मैंने अपना धक्का वहीं पर रोक दिया. मुझे तो वो शुरू से ही अय्याश लगता था एक तो वो हमेशा बियर पीने के लिए बार में जाता था. एक तो मिसेज शर्मा नहीं थीं … और शर्मा सर लगातार मुझे देखे जा रहे थे.

मैंने उसके बूब्स को दबाये और उसके निपल्स को अपनी जीभ से हिलाने लगा. पर्दे के बीच की दरार से मैंने देखने का प्रयास किया मतलब दो पर्दो के बीच इतना गैप था कि मैं आराम से सब देख सकता था.

मेरा एक हाथ उसके स्तनों को दबा रहा था, दूसरा हाथ उसके पेट पर और उसके गालों को सहला रहा था. वो खुद ही अपने सारे कपड़े उतार कर नंगी ही मेरे बिस्तर पर बैठ जाती थी और मेरे लंड को मजे ले ले कर चूसती थी. सुखबीर बड़ी आलस के भाव से मेरे ऊपर से उठा और पास में रखे एक तौलिए से मेरी योनि से वीर्य साफ करते हुए बोला- काश कि मेरी प्रीति आपकी जैसी होती!मैंने तब उससे पूछा- क्यों क्या प्रीति आपको करने नहीं देती?उसने जवाब दिया- देती है … मगर उसके साथ इस तरह का मजा नहीं आता.

सोनल बोली- भाई मैं चाहती हूँ कि आप भाभी को अपनी जांघ पर बैठाकर उसके मम्मे दबाओ.

अमर कभी पिंकी के गालों पर, कभी नाक, कभी माथे पर तो कभी गर्दन पर किस करने लगा था. मुझे भूख लगी थी, लेकिन जैसे ही मैंने खाने को हाथ लगाया, मेरा मन खाने से हट गया. इसलिए इस वक्त मेरे पास संगीता की बात मानने के अलावा कोई और रास्ता नहीं था.

मगर जिस छोटे से गांव से मैं ताल्लुक रखता हूँ, उधर ये सब इतना खुला नहीं था. मैंने सोनू के ऊपर लेट कर, उसी मिशनरी पोजीशन में लंड को चूत के छेद पर सेट किया.

तभी मैंने पूछा- शुभी बोर हो रही हो क्या?उसने कहा- जीजू आप तो लगे हुए थे. शारदा चाची अपनी पिछाड़ी (गांड) को मटकाते हुए सिसकारियाँ ले रही थी- ओह भाई, तुम बहुत सता रहे हो. मैंने उसकी शर्ट निकाल दी और ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को चूसने और दबाने लगा.

इंग्लिश ब्लू फिल्म सेक्सी दिखाएं

उसकी चुत गीली थी, मेरी एक उंगली उसकी चुत में घुसती चली गई और आन्या की एक मादक आह निकल गई.

हम दोनों के बीच में यह सब बातें हो ही रही थीं कि तभी सुषी कि माँ वहां पर आ गई और उन्होंने हमारे बीच में होने वाली बात सुन ली. उन वीडियोज को देख कर मुझे अपनी मम्मा सौम्या को चोदने का मन होने लगा. लंड घुसने के कारण ढेर सारे पिच्च करके छलके रस ने हम दोनों की झांटें भिगो डालीं.

मम्मी ने घर में पूछा कि बेटी तुम्हारा काम हो गया?मैं बहुत खुश थी, मैं बोली- हां मम्मी अच्छे से हो गया … फॉर्म भी भर दिया है और एक यह फ्रॉक भी लाई हूं. और ये क्या … 2-3 मिनट की चुदाई के बाद फिर से रोहित का वीर्य सन्जू की चूत में निकला। ये मैंने सिर्फ बी. इंडियन सेक्स बीएफ वीडियोमैं- रूपा यह ग़लत है, मम्मी पापा को पता चलेगा तो क्या होगा?रूपा बोली- मगर भैया, ये बात तो सिर्फ हम दोनों के बीच में रहेगी.

हमारा अगले दिन दोपहर की आधी छुट्टी में रूम पर मिलना तय हुआ और सिर्फ किस ही करना है … और कुछ नहीं, ये तय हुआ था. दारू की मधुर मदहोशी मुझ पर चढ़ रही थी और मैं उसके हुस्न को आंखों से चोद रहा था.

कुछ मिनट तक मैंने जागृति मेम की चुत को रगड़ा और साथ में उन्हें किस भी करता रहा. मगर मुझे अब होश ही कहां था, मैं तो अपने पूरे जोश से मोनी की उस नन्ही सी मुनिया को उजाड़ने पर उतारू हो चला था … जो कि मेरे लंड को अब पूरा घर्षण प्रदान कर रही थी।मोनी शायद अब अपने चरम के करीब ही थी. उनके बड़े बड़े छत्तीस इंच के मम्मे देख कर मेरा दिमाग खराब हो गया … लंड एकदम टाइट होकर अकड़ गया.

मगर शरीर की चाहत के लिए कभी कभी मम्मा अपनी चूत में उंगली या मूली या गाजर डाल कर खुद को संतुष्ट कर लेती थीं. वसुन्धरा ने तत्काल रजाई परे फेंक मारी और हाँफते हुए अपना बायां हाथ अपनी पैंटी के अंदर लेजा कर मेरे बाएं हाथ पर रखकर उसे अपने योनि से जबरन उठाने की कोशिश करने लगी. कह कर मैं एक पल रुक गया उसकी मनोदशा समझने के लिए, सलोनी के काले गाल पर भी शर्म की लाली नज़र आई, आंखों में एक अपनापन दिखा, लोहा गरम था, मैंने उसको अपनी तरफ खींचा तो वो कटी पतंग की तरह मेरी तरफ खिंची चली आई, मेरे पहलू में बैठ गई.

भैया ने पूरी स्पीड के साथ भाभी की चूत की खुदाई चालू रखी और अचानक से उन्होंने भाभी के चूचों को अपने हाथों में भर लिया और उनकी कमर पर लेटते चले गए.

उसकी यह लंड चुसाई देखकर मैं ज्यादा देर टिक नहीं पाया और अगले ही मिनट उसके मुँह में ही झड़ गया. थोड़ी देर तक उंगली से करने के बाद मैं उसी पोजीशन में उनकी चूत को चाटने लगा.

रोहन ने फिर सफाई देते हुए कहा- वैसे मुझे तो कोई परेशानी नहीं है लेकिन तुम्हारी परमिशन भी तो जरूरी है. मैं- चलिये तो फिर आप मुझे अपनी इच्छा बता दो, हो सकता है कि आपकी इच्छा पूरी करने में मैं आपका साथ दे दूँ. उस दिन उसके पापा दिन में सो गए और मैं उसको अपने साथ मेरे ऑफिस में ले गया.

जो भैया थे वो पुलिस में एएसआई थे, उनकी उम्र लगभग 40 साल और भाभी की उम्र 35 साल थी. बाद में दोस्तों से जानकारी हुई कि गांव में भी सेक्स का खेल चलता है और वो शौच के बहाने खुले में जाकर लड़कियां अपने जानम से मिलती हैं और उनके बीच खेतों में सेक्स हो जाता है. तीनों बार के झटकों में मेरे पति का लंड सीधे मेरी बच्चेदानी से जा टकराता था.

हिंदी बीएफ 2010 के मैं भी खिलाड़ी था, मैंने उसकी जांघें मोड़ कर वी बना रखी थीं और मेरे हाथ उसके कंधों पर थे, जो उसको ना आगे जाने दे रहे थे, ना मेरे पैर उसको पीछे होने दे रहे थे. क्या चिकने चूतड़ थे उनके … चूतड़ों के बीच छोटा सा गुलाबी रंग का छेद था.

सेक्सी किन्नर डांस

जैसे जैसे टाइम बीतने लगा, वैसे वैसे मौसी के उंगली की स्पीड और सिसकारियां बढ़ने लगीं. दोस्तो, बस क्या बताऊँ! 21 साल की बला की खूबसूरत जूली को देख कर मेरा लंड बेकाबू होने लगा था. मैं फिर से जोर जोर से चिल्लाने लगी और उसने पूरी ताकत लगा के चुदाई चालू कर दी.

मैंने राधिका से कहा- राधिका मैं चाहता हूँ कि तुम अपनी और सोनल की पेन्टी निकाल दो. हम दोनों ने चुदाई के अपने अपने कपड़े पहने और पढ़ने का नाटक करने लगे. पाकिस्तानी बीएफ मूवीमैं उसके निप्पलों को चूसने लगा और मेरा लंड मानो मेरी पैंट को फाड़ कर बाहर निकल जाएगा.

मैंने आगे बढ़ कर नैना को अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों पे अपने होंठ रख दिए.

इस बार जब निशा ने अपनी गांड पीछे की, तब तक मेरा लंड खड़ा हो चुका था और टाइट भी हो चुका था. उसकी पर्सनेलिटी में ना जाने क्या था जो मुझे उसकी ओर आकर्षित कर रहा था.

मैंने कहा- तुमने पहले कभी सेक्स किया है?वह बोली- यह कैसा सवाल है?मैंने कहा- मैं तो बस ऐसे ही पूछ रहा था. आशीष ने अपना हाथ मेरे सीने में रख दिया और अपनी टांगें मेरी टांगों से मिलाकर अपनी तरफ घुमा कर मुझसे लिपट गया. वो तो मानो मेरे हाथों को अपने मम्मों से हटाने ही नहीं देना चाहती थी.

मुझे पता था कि एक बार अगर किसी औरत के बदन में आग लग जाए, तो लंड लिए बिना नहीं बुझती.

सयुंक्त परिवार में पति पत्नी के बीच सेक्स होना भी कोई सामान्य घटना नहीं होती थी. इतने में मैंने उसकी छोटी सी गांड पर जोर से एक चमाट मारा और बोला- देख क्या रही है रंडी … अब चूस ना लंड. आज की चुदाई केवल अपने बदले हुए साथी के साथ अर्थात एक रात के लिए बदले हुए पति के साथ कीजिए। हम भी एक रात के लिए बदली हुई बीवी को चोद लेते हैं। सामूहिक याराना अगली बार करेंगे।अतः सबकी सहमति के अनुसार आज हमने अलग-अलग ही चुदाई करने का फैसला किया इस तरह मैं वीणा को अपनी गोद में उठाकर दूसरे कमरे अर्थात विक्रम और वीणा के कमरे में ले गया.

मराठी सेक्सी व्हिडिओ ऑंटीअब तो मुझे यह डर सताये जा रहा था कि कहीं मैं खुद ही भूखे भेड़िये की तरह वसुंधरा पर टूट ना पडूँ. मैंने उसे बिस्तर पर धकेला और फटाफट उसके ऊपर जाकर चढ़ गया मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

देहाती खेत की सेक्सी वीडियो

हमारे लण्ड और चूत में जो आग लगी हुई थी, वह एक दूसरे की आंखों से पता चल रही थी. तो मैंने अपने बायें हाथ से वसुन्धरा का दायां हाथ अपने सर पर से उठाया और पकड़ कर नीचे ले जा कर अपने लिंग पर धर दिया. मैंने फिर पूछा- रात को ऐसा क्या देखकर आई हो?सोनू कहने लगी- पापा ने मम्मी की बहुत जबरदस्त चुदाई की.

उसको चूतरस बोलते हैं, आज तुम्हें पहला मजा आया है, इसलिए तुम्हें मुबारक. खैर मेरी हालत खराब हो चली थी, लेकिन तब भी मैं उनका पूरा साथ दे रही थी. चुदाई के समय तो श्वेता ने शुभी का नाम लेने के बारे में कुछ नहीं कहा मगर जब चुदाई हो गई तो वह गुस्सा करके चली गई.

उसका यह मादक अंदाज देखकर मुझे तो विश्वास नहीं हो रहा था और मैं मन ही मन ऊपर वाले का शुक्रिया अदा कर रहा था कि ऐ मालिक आज आपने इस दिन को रंगीन बना ही दिया. मैंने पति का लंड चूसकर एकदम गीला कर दिया ताकि मेरे पति का लंड मेरी चुत में आसानी से घुस जाए. कुछ देर में ही हम दोनों का एक साथ हो गया औऱ मैंने सारा माल उसकी चूत में भर दिया.

साथ ही मैं रोज रात में रूपा के बूब्स को टच करता, उसकी गांड में उंगली डाल देता, कभी लंड को गांड में टच कर देता. में भुवनेश्वर तक 2 पैसेंजर वाला कूपा खाली है, आप बोलो तो आप दोनों को देता हूँ? वो हम दोनों को एक समझ रहा था.

फिर जब उन्हें ये लगा कि उन्हें कोई नहीं देख रहा तो वो फिर से चुदाई में लग गए.

मैंने भी थोड़ा अच्छे तरीके से धक्का लगाया और अबकी बार मेरा लंड उसकी चूत में आधा घुस गया. मराठी सेक्सी खपाखपउसने चूची को ब्रा के ऊपर से मेरी ओर कर दी, तो मैं उसकी कड़क चूचियों को मसलने लगा. बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2मैंने अस्पताल पहुंच कर रिया को सहारा देकर नीचे उतारा और कहा- तुम यहीं रुको … मैं कार पार्क करके आता हूं. उसने मेरी तरफ देखा और बोली- मुझे पीरिएड्स हो रहे है और यह कमर का दर्द इसलिये हो रहा है.

प्रिया- अब खूब कस कसके पेलिए … आंह बड़ी खुजली हो रही है मेरी चूत में!मैंने प्रिया की चूत में लंड अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

अच्छा हुआ कि सुबह ही मैंने नहाते समय बाल साफ किए थे, तो लंड चिकना था. आन्या वासना से तड़प रही थी और मैं उसकी गांड में उंगली डाल कर उसकी चुत को चाट रहा था. अंजलि ने मुझसे कहा- अब क्यों देर कर रहे हो … जल्दी से मेरे अन्दर डाल दो प्लीज़.

गांड के छेद पर उंगली का स्पर्श पाते ही नीरजा इस डर से घोड़ी बनी हुई ही आगे को भाग गई कि मैं उसकी गांड में लंड डालूँगा. मैं और विलियम बहुत ज्यादा डर गए कि अचानक बस क्यों रुक गई और लाइट ऑन क्यों हुई. प्रिय दोस्तो, मैं यश अग्रवाल हूँ, अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है.

ओपन सेक्सी फोटो सेक्सी

मुझे देख कर उन्हें थोड़ा शॉक लगा और हड़बड़ाते हुए उन्होंने मुझसे कहा- अरे सोनू, तुम कब आए?मैं- अभी 5 मिनट पहले ही आया, कोई दिखा नहीं, तो यही रुक कर इंतजार करने लगा. मैंने उसे बताया कि मुझे जाति या रंग से ज्यादा आदमी की अच्छाई और अपनापन पसंद है. तो उसने कहा कि तुम तो बहुत अच्छे लगते हो यार … तुम्हें देख कर तो कोई भी लड़की मना नहीं करेगी.

उसके एप्रेन के बटन खुले ही थे, जिस वजह से मुझे उसके ब्लाउज के स्लीबलैस होने का अंदाजा हो गया था.

उसकी चूत एकदम चिकनी हो गई थी और लंड आराम से उसकी चूत में अन्दर बाहर हो रहा था.

वो बीच-बीच में मुझे घुमा कर कभी मेरे चूतड़ चाटती, कभी लंड चूसती और कभी टट्टे. थोड़ी देर बाद उसको गहरी नींद आने लगी तो उसने सोने के लिये मेरी गोदी में सर रख दिया और सो गई. काजल रघवानी के बीएफजल्दबाजी मुझे ही महंगी पड़ सकती थी, जो मैं बिल्कुल भी नहीं चाहता था.

रोहित ने एकदम मुझे गले से लगा लिया और मेरी नाइटी के ऊपर से मेरे चूचों को दबाने लगा. एकाएक संजना ने लंड पर बैठे बैठे रोहित के मुख में अपनी जीभ घुसा दी और उसके होंठों को जैसे खाने लगी और बेतहाशा उसकी गर्दन, छाती, यहाँ तक कि उसकी बगल (कांख) को भी चूसने लगी।दृश्य ऐसा लग रहा था जैसे किसी मेमने के ऊपर कोई शेरनी बैठी हो।आखिर बेचारा रोहित कब तक बरदाश्त करता, वो इस पोज में लगभग 5 मिनट के बाद झड़ने लगा. मैंने उसे बताया कि भाभी के आने पर बता देना आज बाथरूम में फिसल गई थी, वरना तेरी चाल देखकर कोई भी समझ जाएगा कि तेरी चूत में आज किसी ने लंड पेला है.

फिर हम दोनों अपने कपड़े ठीक करके वहां से निकल आए और अपने-अपने घर आ गए. जब मेरा लंड उसकी चुत में घुस गया, तो मेरी बीवी के मुँह से आह निकली.

मैंने अपना हाथ उसकी सलवार के अन्दर डाला, उसकी सलवार पूरी गीली हो चुकी थी और उसकी पैंटी से रस टपकने लगा था.

मैंने जैसे ही धक्का लगाया लंड बिना किसी रुकावट के सीधा माया भाभी की चूत में ऐसे घुस गया, जैसे मक्खन में छुरी घुस गई हो. सात से आठ मिनट के जबरदस्त धक्कों के बाद मैं भाभी की चूत में ही झड़ गया और मेरे लंड ने सारा वीर्य भाभी की चूत में उगल दिया. पाँचेक मिनट बाद अचानक वसुन्धरा ने अपने दोनों घुटने मोड़ कर अपनी दोनों टाँगें दाएं-बाएं फैला ली और अपने दोनों हाथों से मुझे आलिंगन में ले कर मेरी पीठ पर अपने दोनों हाथ कस दिए और मेरी ताल से ताल मिलाने लगी.

आगरा की बीएफ फिल्म तब भी अभी तक मुझे ऐसा कहीं से नहीं लगा कि कभी मुझे उसके साथ अंतरंगता का मौका मिल जाएगा. उन्होंने हल्के से मेरे वक्ष को छुआ, मेरे पूरे शरीर में सनसनी दौड़ गई.

मम्मा को कभी कभी मेरा स्पर्म भी दिख जाता था लेकिन मम्मा ने मुझसे कभी कुछ पूछा नहीं तो मैं भी बिंदास होता चला गया. दोस्तो, मैं आपका अपना दोस्त अरुण एक बार फिर से आप सभी के सामने हाजिर हूँ. अब उसने मेरे एक पैर को उठा के अपनी कमर में टिका लिया और अपने हाथ से मेरी जांघों को सहलाते हुए मेरी गांड तक ले गया और थोड़ा गांड सहला कर उस पर एक तमाचा लगा दिया.

सविता भाभी की सेक्सी हिंदी

चाची का लड़का एकदम रंडीबाज है और मैं जानता था कि अगर उसे मौका मिलेगा तो वो खड़े-खड़े तीनों ही मां- बेटियों को चोद डालेगा. तभी मेरे कानों में मेरी रानी की आवाज पड़ी- कहाँ गायब हो गए आते ही? तुम्हारा भी पता नहीं चलता, क्या कर रहे हो?राशि ने जोर से आवाज़ दी. कुहनियों पर उचके हुए मैंने लंड के बुर में घुसने का मदमस्त कर देने वाला दृश्य भी देखा.

दोनों के जिस्मों के नाभि के नीचे के भाग इक-दूसरे से ऐसे सटे हुए थे कि लोहे के दो टुकड़े वैल्ड हो गए हों. सन्जू बोली- थोड़ा देर रुको, मैं भी झड़ने वाली हूँ।पर अब वो रुकने वाला कहाँ था, सन्जू की पूरी चूत वीर्य से भर गयी।परंतु सन्जू को कुछ एहसास हुआ, वो बोली- अरे वाह … तुम्हारा लंड तो वीर्य निकलने के बाद भी नहीं सिकुड़ा है.

मैं- वैसे तो मैं तैयार हूं … लेकिन आज फिर तुम अपने पति से बात करो, शायद कोई बात बन जाए.

अन्दर देखा तो भईया पूरे ऊपर से नीचे रंग में नहाए हुए भांग और दारू के नशे में धुत्त पड़े सो रहे थे. इसी वजह से शायद मर्द बार बार उत्तेजना में लिंग बाहर निकाल कर अन्दर घुसाते हैं. एक दिन वो मेरे घर आयी और मुझसे कहने लगी कि तुम कॉलेज क्यों नहीं आते हो?मैंने कहा- किस लिए आऊं?वो बोली- मेरे लिये.

अपना सर मुझसे दूर ले गई और उसने अपनी चुत को मेरे लंड के सामने कर दिया. एक दिन स्कूल में मैं इसी तरह उसके विषय में सोचते हुए कि अगर मुझे उसका साथ मिले, तो मैं उसके साथ क्या-क्या करूँगा, मैं दिन के सपने में खो गया. मैंने उसके जी-पॉइंट यानि चुत के दाने को हल्के से काटा, तो वो उछल पड़ी.

मुझे लगने लगा कि शायद मौसी को किसी की जरूरत नहीं है और मेरा सपना, सपना ही रह जाएगा.

हिंदी बीएफ 2010 के: ताऊ ने ताई को अपनी गोद में खींचा और उनके एक दूध के निप्पल को अपने होंठों में दबाकर चूसने लगे. जैसा तय किया था, उस तरह से किस करने के बजाए अपने आप पर से आपा खोने लगे थे.

मैंने इधर उधर देखा, सब लोग गहरी नींद में सो रहे थे और हम दोनों भाई बहन एक दूसरे को चूसने में मस्त थे. मैं पहले तो चित लेटा था, फिर मैंने भी करवट बदल कर चेहरा उनकी तरफ कर लिया. एक-दो बार ही लंड के टोपे को खोला और बंद किया था कि लंड फिर से अपने पूरे आकार में आ गया और मेरे हाथ में भर गया.

मैंने रोहित को कुछ नहीं कहा और न ही उसे यह पता लगने दिया कि मैं जाग रही हूँ.

मेरी समझ में आ गया कि इसे पहली चुदाई में बहुत दर्द होना है और ये समय अभी ठीक नहीं था. वो झट से मेरी कमर के दोनों तरफ टांगें डाल कर ऐसे बैठ गई, जिससे मेरा लंड उसकी चूत से रगड़ने लगा. अच्छा, गुड़िया तेरा नाम तो बता क्या है?” अंकल जी ने मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए पूछा.