बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो

छवि स्रोत,निक्की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

भाभी देवर xxx: बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो, संजू थोड़े विरोध के बाद मेरा साथ देने लगी, आखिर वो तो हमेशा इसके लिए तैयार रहती है.

सेटिंग्स वीडियो सेक्सी

नीतू कोई 20-22 साल की लड़की है, जिसका रंग बिल्कुल दूध जैसा गोरा है, आंखों का रंग भूरा व बालों का रंग सुनहरा है, कोई भी उसे देख कर ये नहीं कह सकता कि वो भारतीय है. क्सवीडिओ हिंदीबीच बीच में वो हाथ आगे लाकर मेरी चूचियों को भी पकड़ कर मसल देता था जिससे मुझे बहुत आनंद आ रहा था.

फिर मैं स्नेहा भाभी की कमर में किस करने लगा और हाथ को प्यार से उनकी कमर पर सहलाने लगा, जिससे स्नेहा भाभी को और भी मजा आने लगा था. ढोंगी बाबा सेक्स वीडियोमेरे पापा मम्मी जब रंग लगाने के लिए गए, तो आंटी ने उन्हें यह कह कर रोक दिया कि उन्हें रंग लगाना पसंद नहीं, अबीर लगाइए.

मैं नंगी उठ कर बाथरूम में चली गई, पर जब मैं बाथरूम से लौटी, तो दीदी गहरी नींद में सो चुकी थीं.बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो: पहले गले पर, फिर सीने और फिर पेट पर सब जगह उसने अपने दांतों से निशान बना दिए.

वो भी गांड हिला हिला कर लंड को अंदर लेते हुए चुदाई का मजा ले रही थी.मनु सायकिल से उतर कर पास आई और मेरे हाथों को पकड़ कर मुझे मेरी ही घड़ी दिखाकर बोली- जरा ढंग से देख कुतिया … अभी दस ही बज रहे हैं और मैं समय से पहले ही तेरे पास आ गई हूँ.

सट्टा मटका पीजी - बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो

मनु मुझे संदीप से बातचीत या पास आने के लिए ज्यादा मौका देना चाहती थी.मैंने लंड की गर्मी पाते ही अपनी चुत खोल दी और उसने धीरे से लंड अन्दर डाल दिया.

उसके बाद फिर मेरी क्लास का टाइम हो रहा था, वो मुझे छोड़ने के लिए भी आई. बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो मुझे पता था कि वो मना कर देगी, लेकिन इस बात का विश्वास था कि वो अपने पेरेन्टस को नहीं बताएगी.

मैंने उनको खूब मजा दिया उनके लंड को खा जाने की कोशिश करने लगी जिससे मजा जल्दी आने लगे.

बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो?

हालांकि दोनों एक दूसरे के विपरीत मुँह करके लेटे थे लेकिन कुछ देर बाद दोनों ने करवट ली, अब हम दोनों एक दूसरे के सामने थे। कुछ समय बाद नींद में ही अपना पैर मेरे और हाथ ऊपर रख के सो गई जिसके कारण मेरे नींद खुल गयी. मेरा दुपट्टा तो कब का मेरा साथ छोड़ चुका था। उसने चूमते हुए मेरी चोली की स्ट्रिप कंधों से सरका दी और मेरे नग्न कंधो और गर्दन के भागों को चूमने-चाटने लगा. स्वीटी आंटी की पीठ मेरी तरफ थी, इसलिए मैं उनके लाजबाव मम्मे उछलते हुए नहीं देख पाया.

खेत पर तमाम लड़कियां काम करती थीं इसलिये चोदन की व्यवस्था भी हो जाती थी. उनका गर्म गर्म लंड मेरी चड्डी के ऊपर से ही गांड के दरार को सहला रहा था. क्योंकि यह बात मैं गांव में किसी को नहीं बता सकती।तो अब मैंने पड़ोस से ही दूध लेना शुरू कर दिया.

उनके चूचों का साइज बत्तीस इंच का रहा होगा … पर उनके निप्पल का उभार बहुत कामुक था. ब्रा तो मैंने पहनी ही नहीं थी … तो टॉप निकलते ही जेठजी को मेरे चूचों के दर्शन हो गए. पहले तो आलिया को अजीब लगता रहा, लेकिन फिर नशे की वजह से वो भी दीदी का साथ देने लगी.

थोड़ी देर बाद वसुंधरा ने मेरी कमर पर से अपनी गिरफ्त ढीली कर के अपना मुंह हल्के से बायीं ओर घुमाया और एक लम्बी सांस ली. यदि प्यार किसी और की अमानत है तो सेक्स की प्यास आप कहीं भी बुझा सकते हैं.

रूम का दरवाजा बंद करते हुए मैंने मनु को बाहर का दरवाजा खोलने का इशारा कर दिया.

पर लाख प्रयत्नों के बाद भी आधे लंड से ज्यादा मेरे मुँह में नहीं समा सका.

तभी मालकिन बोली- अब एक काम कर!मैंने उनकी तरफ देखा तो मालकिन ने बिस्तर पर पड़े पड़े ही अपनी साड़ी एकदम से घुटनों के ऊपर तक कर ली. दीदी- सुनो तुम दोनों घर की साफ सफाई कर लेना और कपड़े वाशिंग मशीन में डाल देना. 5 मिनट की चुदाई के बाद सर का पानी निकल गया।फिर मैंने उन्हें गोद में उठाया और मैम की चूत में लंड डाल कर मैम की चुदाई करने लगा।उसके बाद उनके दोनों पैरों को कंधे पे रख कर चुदाई चालू रखी.

इसके बाद चुचियों को मसलने के साथ ही दीदी की चुत में अपने लंड को अन्दर और अन्दर पेलने के लिए जोर जोर से झटके देने लगे. मम्मी- आआह शिल्पा … क्या कर रही हो?आंटी बोलीं- आज तुम मुझे अपने दूध पिला दो. मैं भी उसे कभी धीरे तो कभी तेज चोदने लगा ताकि हम दोनों चुदाई का पूरा मज़ा ले सकें.

फिर वो मेरी टांगों में फंसी हुई स्कर्ट और पैंटी को खींचने लगा तो मैं बोली- अभी रहने दे बिक्कू, अगर मां और भाई आ गये तो बहुत दिक्कत हो जायेगी.

मेरे हाथों की लगाम को पकड़ो और अपनी चूत की सवारी मेरे लौड़े पर शुरू कर दो. उसकी बुर में वीर्यपात न हो इसलिये मैंने कॉण्डोम चढ़ा लिया और हनी को जमकर चोदा. मगर इस बार बहन की तरह नहीं। उसे मेरी मदमस्त जवानी दिख रही थी। ये सब किसी फिल्म की तरह था लेकिन रोमांचक था।मैं उसकी फौलादी बांहों में कस जाना चाहती थी। हाँ मेरी जवानी खुद ही उससे लुटने को फड़फड़ा रही थी.

दोनों कुछ मिनट इसे ही चिपटे खड़े रहे और एक दूसरे को माथे पर, गालों पर चूमते रहे. तो मैंने उसे खड़ा करते हुए कहा कि बस डार्लिंग तुम शेल्फ को पकड़ कर घोड़ी बन जाओ, थोड़ी देर में मेरा भी छूट जाएगा. एकदम से लंड घुसने से चाची की चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’इधर मैं भी नहीं रुका, मैंने दूसरा धक्का दे दिया.

और मेरे आगे वाला पीछे दबाव डाल डाल कर मेरे बूब्स को अपनी पीठ से रगड़ रहा था.

अगर सेक्स करने का तरीका सही है तो फिर औरत को संतुष्ट करना कोई मुश्किल काम नहीं है. शाम को प्रीति दिखाई नहीं दी तो मैं बेचैन होने लगा कि क्या बात है कि प्रीति आज कल नजर नहीं आती और मुझसे उखड़ी उखड़ी रहती है.

बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो दोस्तो, आपकी कोमल हाज़िर है अपनी कहानी के अगले भाग के साथ!अभी तक आपने पढ़ा कि कैसे मैं अपनी बहन को अपने बॉस के साथ चुदाई के लिए उनके फार्म हाऊस तक ले गई और हम चारों ने क्या क्या किया. मैंने गैस को बंद करके उनको रसोई की स्लैब के ऊपर ही बिठा दिया और उनकी टांगें फैला कर चूत पर अपना लंड रख दिया.

बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो जीजा जी सिगरेट का धुंआ छोड़ते हुए वहां पर पड़ी कुर्सी पर बैठ गए और मैं खड़ा होकर उन दोनों को किस करते देखने लगा. उन पाँचो लड़कियों में चार ने मिनी स्कर्ट और टॉप पहना हुआ था पर पांचवी लड़की ने जीन्स और टॉप पहना था.

मुझे देख कर एक बार भाभी ने मुस्कान दी और अपने होंठों पर लाल रंग की लिपस्टिक लगाने लगीं.

तेरी मां की बोसी

मैंने मन ही मन प्लानिंग कर रखी थी कि लंड घुसते वक्त मैं जोरों से चिल्लाऊंगी … ताकि उसे मेरी चुत चुदाई का पूरा मजा आए. अब तक की सेक्स कहानीभाभी को प्यार से चोदा-1में आपने पढ़ा कि एक नवविवाहित भाभी मुझे एक पार्टी में मिली. जब वो बाथरूम की तरफ जा रही थी, तब मैंने नोटिस किया कि उसकी चाल थोड़ी लड़खड़ा रही थी.

हुआ यूं कि चाची के पति फौज में हैं और वो उनको शांत नहीं कर पाते हैं. सिल्क- कहाँ खो गए?मैं- कुछ नहीं … बस आपकी खूबसूरती में खो सा गया था. अब की बार उसने मुझे दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से मेरी चूत में लंड डाल दिया.

फिर 5 मिनट बाद वो मेरे कमरे में आईं और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे नीचे ले गईं.

मैंने धीरे से उसको संभालने के बहाने के उसकी चूचियों के नीचे अपने हाथ रख लिये. स्नेहा भाभी पूरे जोश में चीखते चिल्लाते हुए लंड पर ऊपर नीचे हो रही थीं. आपको मेरी सेक्स कहानी अच्छी लगी या नहीं? ईमेल करके अपने विचार जरूर बताना.

आलिया- आहहह याह ओह उम्मह आहहह ओह …नताशा- आहहह ओह गॉड याहह ओह अविनाश यू आर सो हार्ड … फक मी …चित्रा- आहहह ओह या याह उम्मह यस आकाश याह आह या आहहह. जैसे ही मेरे दिमाग में यह ख्याल आया, मैं उठा और सायरा के बेड रूम से उसके लिये उसकी साड़ी-ब्लाउज के साथ मैचिंग ब्रा-पैन्टी लाकर अपने बेड पर रख दिये और वही आराम कुर्सी पर आंख मूंद कर बैठ गया।थोड़ी देर के बाद सायरा की पायल की झंकार मेरे कानों में पड़ने से मेरी आँखें खुल गयी. मैंने उसकी पैंटी को रगड़ा और फिर उसकी टांगों में से उसकी पैंटी को खींच लिया.

ऐसा होने देना तो सरासर मेरे पौरुष पर सवालिया निशान लगाने के बराबर था. विवेक का लौड़ा सामने से मेरी नाइटी के ऊपर से इतना चुभने लगा जैसे लोहे का रॉड हो.

एक रात खाना खाते समय पूजा ने न जाने क्यों पूछा- मुझसे शादी करके आप खुश तो हैं ना?हाँ … लेकिन तुम ऐसा क्यों पूछ रही हो?”बस ऐसे ही बहुत दिन से सोच रही थी कि आपको एक से बढ़कर एक लड़कियां मिल सकती थीं लेकिन आपने मुझे अपना लिया. लेकिन मैं तुम्हें अपने जिस्म से एक बार प्यार करने का मौका जरूर दूँगी. इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता उसने मेरे मुंह पर जोर का तमाचा जड़ दिया.

और उसने मुझे एक मेट्रो की जगह बताई कि वहाँ उतर जाना, मेरे शौहर लेने आएंगे तुमको।मैं बोला- ठीक है।वहाँ पहुँचने के बाद मैंने उसको कॉल किया कि जहाँ तुमने बताया वहाँ पहुँच गया हूँ।वो बोली- ठीक है, ये आ रहे हैं.

जीजा जी सिगरेट का धुंआ छोड़ते हुए वहां पर पड़ी कुर्सी पर बैठ गए और मैं खड़ा होकर उन दोनों को किस करते देखने लगा. मैं बार बार भाभी के चूचों के निप्पल दबा कर चूसता और हर बार भाभी का दूध मेरी पकड़ से छूट जाता. शान को छोड़ कर ज़ेबा से जन्मे बच्चे मेरे बेटे भी थे और भांजे भी थे.

इतना सुनते ही मेरे बांछें खिल गयी।फिर मैं अपनी खुशी छुपाते हुए मम्मी से बोला- क्यों जाना है लखनऊ?मम्मी बोली- तुम्हारे पापा के दोस्त की शादी की सालगिरह है। पापा को छुट्टी नहीं मिली इसलिए तुमको जाने को बोला।मैं मुँह लटका कर बोला- ठीक है, चला जाऊँगा।मैंने रात को रवि को कॉल किया कि मैं दो दिन बाद तुम्हारे पास पहुँच रही हूँ. थोड़ी देर आईने में ऐसे ही देख कर मैं अपने मम्मे दबा कर मज़े ले रही थी.

फिर मैंने चाची को अपने ऊपर लिया और मेरा लंड उनकी चूत में डाला और चोदता रहा। फिर मैं उनके पीछे से गया और एक पैर ऊपर किया और चुदाई करता रहा।इस तरह हमने बहुत सारी स्टाइल और पोजीशन में चुदाई की और करीब 20 मिनट तक हम चुदाई करते रहे।चाची को बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी चाची की चूत चुदाई करने में बहुत मजा आ रहा था. मैं भगवान से यही प्रार्थना कर रही थी कि इसका मन फिर से ना करें नहीं तो यह मेरी बैंड बजा देगा. मैंने उनकी पैंटी उतार दी और अपनी 2 उंगलियां उनकी चुत के अन्दर डाल दीं.

सेक्सी कुत्ता वाली

सपना अचानक अकड़ने लगी, मेरी छाती नौंचने लगी और हांफते हुए मेरे ऊपर लेट गई.

मुझे पता था कि अभी एक आधे घंटे तक वो बातें करते रहेंगे और फिर सो जाएँगे. असल में प्रकाश की बीवी भी इन्शयोरेन्स कम्पनी में थी और वो नहीं जाना चाहती थी प्रकाश के साथ. मैंने उनको हौसला देते हुए कहा- मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है … और वैसे भी हम कौन सी शादी कर रहे हैं.

वो मेरा हाथ पकड़ कर बोला- मैंने तो आशा ही छोड़ दी थी कि तू मुझे वापस कभी मिलेगी. मुझे देखते ही उन्होंने मुझे साड़ी पहना दी और मुझे बिस्तर पर घूंघट निकाल कर दुल्हन के जैसे बैठा दिया. सेक्सी भाभी की कहानीवो बोली- हाँ जी, आपको किस से बात करनी है?तो मैं बोला- जी नमस्कार, मुझे वन्दना से बात करनी है, मैं उनका जानकार बोल रहा हूँ.

तो सायरा भी पीछे नहीं रहने वाली थी, वो भी मेरे निप्पल को मसल रही थी और इसी मदहोशी में सायरा मेरे निप्पल को दांतों से काटती तो कभी उसको पीने की कोशिश करती. दीदी- अर्णव, अब काफी दोपहर हो गई है … तुम अपने कमरे में जाकर सो जाओ … बाकी का होमवर्क रात में बना लेंगे.

बहुत पहले से ही तुझे लाइक करता था लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई कभी कहने की. और मैं चाटने लगा उसकी चूत! वो ‘और चाट अभिराज आहाहा हाहा हाहा … मजा आ रहा है … ज़ोर से … ज़ोर से! और ज़ोर से … खा जा!इतने में वो झड़ गई, मैंने उसकी चूत चाट कर साफ कर दी. मैं और जोर से चिल्ला कर उससे बोली- अच्छा … तो तुम मेरे कपड़े चुराते हो.

दीदी- आहह राज फक मी हार्ड, कब से तुम्हारा लंड लेने के लिए तड़प रही थी. इसको चोदने में जो मजा है वो किसी और में कहाँ!और मेरे होंठों को चूमने लगा. इस कहानी को पढ़ने वाली सभी लड़कियों से मैं अपील करती हूँ कि इस चकाचौंध में कुछ नहीं रखा है.

मैं अपनी जीभ से उसकी चुत के होंठों को चूसने लगा, बीच बीच में उसकी भग को भी चाट रहा था.

कुलदीप के ऑफिस में ही रेखा को नौकरी मिल गई थी जिसके सहारे उसने दोनों बच्चों को पाला था. वो बोली- थोड़ा क्या सर … बहुत चूसूंगी!ये बोल कर वो फिर से नीचे बैठ गई और मेरा लंड मुँह में लेकर चुप्पे मारने लगी.

मेरे मुँह से सिसकारियों का निकलना स्वाभाविक था और अब मैंने अपना एक हाथ नीचे लाकर संदीप के लंड को कपड़े के ऊपर से ही पकड़ना और दबाना चाहा. क्या आप मुझसे मिलना चाहेंगे?”मुंबई में हूँ से क्या मतलब?” आप तो शायद मुंबई में ही रहती थी. राजन ने ममता से पूछकर सिगरेट जलाई और हँसते हुए उसकी ओर भी डिब्बी बढा दी तो ममता ने एक सिगरेट निकाल ली.

यद्यपि सेवक राम मुझसे साल भर बड़ा ही है फिर भी पहले नमस्कार करता है. मेरे मामा एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते हैं, इसलिये वो उस समय दिल्ली में थे. अभी तक मैंने किसी भी मर्द को अपनी आंखों के सामने इस तरह से बिना कपड़ों के नहीं देखा था.

बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो मैंने उनको समझाया- चाची अगर आप मुझसे सेक्स करोगी, तो घर की बात घर में ही रहेगी. मैं खुश हो गया कि मेरी बहन की कुंवारी चूत को पहली बार मुझे ही चोदने का मौका मिल रहा है.

सेक्सी व्हिडिओ सेक्सी सेक्सी सेक्सी

हुआ भी वही … इस दूसरी चुदाई में पता नहीं, मैं कितनी बार झड़ चुकी थी … और बीच बीच में मेरा मन कर रहा था कि जेठजी हट जाएं, तो मैं लेट कर चैन की सांस लूं, पर जेठजी कहां रुकने वाले थे. कुछ देर तक जेठजी के लंड को पकड़ कर मैं ऊपर नीचे करती रही, पर मैं ज्यादा देर खुद को रोक नहीं पायी और गप्प से उनके लंड को अपने मुँह में भर लिया. फिर सुमित बोला- तू ही बता दे ना यार?उसने कहा- भाई मैं तो कभी कभार वैसे ही चला जाता हूं, मैं फीस-वीस नहीं देता.

इसी दौरान मैंने अपना एक हाथ उसकी चुत पर रख दिया, जिससे उसके मुँह से एक लम्बी आह्ह निकल गयी और उसने मुझे कसके पकड़ लिया. जब उससे रुका न गया तो वो मेरे लंड पर झुक गयी और मेरे लंड को उसने मुंह में भर लिया. देवर भाभी रोमासतभी अचानक से प्रीत ने मुझे अपनी तरफ खींचा और आदी के सामने मुझे किस करके मेरे मम्मों को दबाने लगा.

मैंने पूछा- तूने आशू के कानों में उस दिन ऐसा क्या कहा था जो वो अगले ही दिन मेरे पैरों में गिर गया था?वो बात पलटने की कोशिश करते हुए बोला- छोड़ो न दीदी.

”वो थोड़ा झिझकी लेकिन मेरे दोबारा कहने पर उसने अपनी पैन्टी करीब चार इंच नीचे खिसका दी जिससे उसकी बुर के बाल दिखने लगे. प्रिय पाठको, आपको यह बहन के साथ सुहागरात की चुदाई की कहानी कैसी लगी … अपने कमेंट्स जरूर भेजें.

तभी दीदी के कमरे का दरवाजा बंद करने की आवाज आई … मैं समझ गया कि कुछ तो है … मैं जल्दी से पलंग पर कुर्सी रखकर होल से अन्दर झांकने लगा … दीदी कुछ लिख रही थी … कुछ देर लिखने के बाद उस पन्ने को कॉपी से फाड़ लिया और उसे मोड़ कर एक किताब में डाल दिया … कुछ देर बाद वो सो गई और मैं भी अपने कमरे में सो गया. वह गुजरात के एक व्यक्ति का था जो मुझसे किसी भी हालत में मिलना चाहता था, मुझे प्यार करना चाहता था, मुझे चोदना चाहता था. उसके बाद भाभी ने मुझे कसके हग किया और बोली- देवर जी मुझे बस हमेशा ऐसे ही प्यार करते रहना.

अब मैं चाची की चूत पर अपना लंड फेरने लगा तो उन्हें बहुत मजा आने लगा.

अगले दिन दोपहर का समय था … मम्मी अपने कमरे में सोई थीं, मैं दीदी के साथ उनके कमरे में पढ़ाई कर रहा था. इस सेक्स से परिपूर्ण कहानी पर अपनी राय देने के लिए नीचे दिये गये मेल आईडी पर मेल करें. वहां मामा हॉल में सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहे थे और मामी किचन में खाना आदि का देख रही थीं.

सेक्स वीडियो सपना चौधरीवो मुझे देख हड़बड़ा गयी और शर्म से हथेलियों से अपने मुँह छुपा लिया. पहली बार किसी मर्द का हाथ उसके मम्मों पर पड़ रहा था, तो वो सिसकारियां लेने लगी.

सेक्सी फिल्म कुत्ता

मूवी में कब राजन के हाथ में ममता का हाथ आ गया … कब ममता के हाथों पर पसीना आ गया. फिर मैंने उसको अपने साथ लिया और एक रेस्टोरेंट में खाना खिलाया, वापी स्टेशन तक ले गया, जहाँ मैंने उसको टिकट दिलवाया और उसको कुछ पैसे भी दिए. मुझे लगा कि उसकी आखरी मंजिल मेरी चूत होगी, पर मैं गलत थी उसने चूत को छोड़ कर कमर से होते हुए ऊपर का रास्ता बना लिया और मेरे एवरेस्ट पर्वत पर आकर रूक गया.

मेरी हाइट 5 फीट 7 इंच है और जबकि मेरी दीदी आरती की हाइट 5 फीट 6 इंच है. इस बार मैंने उसके पांव को अपने हाथों में लेकर धीरे धीरे चूमना शुरू कर दिया. इसी बीच मेरे पति ने हाथ से अब तक अपना माल निकाल दिया था और वो वहीं सोफे पर ही लेट गये थे.

मैं बोली- वो सब छोड़ो … पहले मेरी बेटी को देखो … इसकी तबियत बहुत खराब है. उसने कहा- आज तुमने हमारे घर की स्थिति परिस्थिति का आकलन तो कर ही लिया होगा, मैंने जानबूझ कर ही तुम्हें यहां बुलाया था. अभी मैं पहले झटके से संभली भी नहीं थी कि ड्राइवर ने फिर से गियर बदला और उसका हाथ फिर से मेरी फुदी के ऊपर टकरा गया.

मैंने एक टुकड़ा रमेश बाबू की छाती पे रख दिया और विभा मैम को सर की छाती पर से आइसक्रीम खाने को कहा. उस पर परमीत और मनु ने मुझे बार-बार संदीप के नाम से छेड़ कर और बेचैन कर दिया.

मैंने अपने लण्ड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरू किया तो संगीता को अच्छा लगने लगा.

साथ ही इस बात की खुशी भी थी कि उसकी तरफ से कोई विरोध नहीं हो रहा था. यह वीडियो सेक्समीना नहाकर आई, उसने गुलाबी रंग का झीना सा गाउन पहना था जिसमें से उसके निप्पल्स झलक रहे थे. ब्लू नंगीदस मिनट तक इस पोजीशन में मेरी चूत को चोदने के बाद उसने मुझे घोड़ी बना लिया. जिया आकाश की बहन निकली और भाग्य से दूसरे दिन जिया और उसका पति नीरज, जो कि नताशा का भाई था.

रेखा ने मेरा लण्ड मुंह में लेकर चूसा और बोली- चाचा जी, कोशिश करती हूँ कि आपकी इच्छा पूरी हो जाये.

उस रात और उसके बाद जब तक मेरे पति ऑस्ट्रेलिया से वापस नहीं आ गए तब तक हम दोनों एक ही कमरे में सोते और हर रात जेठजी मेरी चूत का जम कर बाजा बजाते. मैंने अब तक लेस्बियन सेक्स को ही चखा था, किसी पुरुष के संपर्क का प्रथम अहसास मुझे रोमांचित कर रहा था. वो अपनी जीभ को नोकदार बना कर चूत के अन्दर घुसाने का प्रयत्न करने लगा.

बीस मिनट से ज्यादा समय हो गया था उसकी चूत चोदते हुए मुझे।फिर मैं पिंकी के बदन से ऊपर उठकर मैं अब अपने हाथों बल‌ हो गया और अपनी‌ पूरी तेजी व ताकत से धक्के लगाने शुरु कर दिये। पिंकी ने भी अपनी गांड को ऊँचा कर लिया जिससे लंड की ठोकर एकदम बच्चेदानी पर लग रही थी. इससे पहले कि मैं अपनी इस सेक्स कहानी को शुरू करूं, सबसे पहले मैं आपका परिचय अपनी दीदी और उस आदमी से करा देता हूँ, जिसके बारे में मैं आपको अपनी इस सेक्स कहानी में बताने जा रहा हूँ. वो बोलीं- यह क्या कर रहे हो?मैं कुछ नहीं बोल पाया और चुपचाप अपनी जगह पर लेट गया.

அனுஷ்கா செக்ஸ் வீடியோ

मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकि हम दोनों दोस्त थे तो मुझे कोई परेशानी नहीं थी उसके साथ सेक्स करने में!वह मेरे बूब्स को अपने दोनों हाथों से बहुत तेज तेज दबा रहा था चूस रहा था। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था, नीचे मेरी चूत में आग लगी हुई थी, वह पानी छोड़ छोड़ कर गीली हो गई थी. अगर गुस्सा कर जातीं और किसी से बात शेयर कर देतीं, तो मेरी बड़ी बदनामी हो जाती. मैंने कहा- क्या हुआ दीदी?वो बोली- कमीने, ये सब तू उस रात को नहीं बोल सकता था.

मैंने ललिता को उसके घर के थोड़ी पहले तक छोड़ कर फिर मैं भी अपने घर के लिए निकल गया.

उस दिन जब दिन भैया काम पर गये थे तो वो भाभी के साथ मेरा पहला दिन था.

तो मैं बोला- तुम्हारी भी चूत कम मस्त नहीं है मेरी जान … अभी भी इसे चोद कर मेरा मन नहीं भरा है. मैं मन में सोचने लगा माय गॉड … कोई टाइम का इतना पक्का कैसे हो सकता है. बुड्ढे आदमी का सेक्सी वीडियोचलते समय मैंने हनी की मां से कहा- हम लोग एक हफ्ते का प्रोग्राम बनाकर आये हैं.

मैंने कहा- क्या हुआ जीजू? आपको कुछ काम था क्या?वो बोले- नहीं, मैं तो अपने रूम में बोर हो रहा था इसलिए सोचा कि अपनी साली से जाकर बात कर लूं ताकि थोड़ा मन बहल जाये. मनोज के श्वेता की चूत में धक्के मारते हुए कहा- आह्ह … आह्ह … स्स्स … याह … ओह्ह … उफ्फ … हाय री श्वेता, मुझे नहीं पता था कि मेरी साली की चूत इतनी गर्म और चुदासी है. मोटी मोटी उंगलियों को आपस में मिलाकर उसने हाथों के बीच में फोन पकड़ा हुआ था.

फिर परमीत ने बिस्तर से ही बहुत खुशी से हमारा स्वागत किया और परमीत को खुश देख कर हमारे दिल को भी सुकून मिला. और वो मेरे लन्ड पर बैठ के मुझे चोदने लगी और आह आह आह आह की आवाज निकाल रही थी.

दूसरी तरफ संगीता भी चुदवाने के लिए तैयार हो चुकी थी, कई बार उसकी चूत में उंगली चला चुका था.

फिर उसने जोर से आवाज लगाकर कहा- कल मैं तुम्हारा इंतज़ार करूंगा, तुम्हें आना ही होगा. मजबूरन अकेले सफर करना पड़ रहा है।मैं बोला- कोई बात नहीं! अकेले नहीं आज हम दोनों सफर करेंगे!बोल कर मैंने बरमूडा से अपना लन्ड निकाल कर पूर्णिमा के हाथ में दे दिया और बोला- हिला और चूस!इतना बोल कर मैंने उसकी कुर्ती को उतार दिया. मेरी मॉम सुबह जब योग करने के लिए अपनी टाइट फिटिंग वाली पैन्ट्स में बाहर निकलती है तो आस-पड़ोस के अंकल मेरी मां की मटकती हुई गांड को देखने के लिए उनके पीछे पीछे चल पड़ते हैं.

सेक्सी गीत मैं ज़ेबा के जिस्म के हर हिस्से को सहलाते व रगड़ते हुए अपने मंज़िल की तरफ बढ़ रहा था, तभी ज़ेबा का हाथ मेरे लंड पर चला गया. मेरा रंग काफी गोरा है और मेरे दूध मेरे ब्लाउज से बाहर निकलने के लिए बेताब रहते हैं.

वो कहने लगीं- बाबू तुम तो बहुत मजा देते हो … तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिले. अब मैंने पायल के होंठों को छोड़ कर उसके कबूतरों को भींचते हुए उसकी चूचियों को मुंह में भर लिया. सेक्स के बीच ऐसी रूकावट मन को बेचैन कर देती है, मैं भी दीदी को जल्दी आने के लिए कह रही थी.

सेक्सी फिल्म वीडियो में हिंदी में

मनु की बातों से स्पष्ट था कि वो परमीत के नंगे बदन को देखने के लिए कितनी उतावली थी. साली तू सबसे इध-उधर चूत को चुदवाती रहती है लेकिन मुझसे भाव खाती है. मैं भी उनके घर जाकर उनके मम्मों के और चुत चुदाई के मज़े ले लेता हूँ.

तब मैं जाग गया तो चाची मेरे लंड को सहला रही थी और उनके बूब्स को अपने हाथों से रगड़ रही थी।तब मैं सीधा लेटा ही पड़ा रहा. रात को जब हम घर आ रहे थे, तो मैंने कहा- तुम आज ड्रिंक करोगी?वो बोली- ओके तुम्हारे साथ ड्रिंक भी कर लूँगी.

आशना- बात करनी है क्या उनसे आपको?‌मैं- अरे पागल हो क्या? नहीं नहीं … मुझे बात नहीं करनी!‌‌तभी आशना का शौहर आ गया उसके पास बेड पे और उसकी चुचियाँ दबाने लगा जोर जोर से!अजहर- और कैसे हो अमन? मैं अजहर हूँ आशना का शौहर!मैं- मैं ठीक हूँ, आप कैसे हो?अजहर- अच्छा हूँ.

श्योर मैं हेल्प कर दूंगा।”इसे आपके ऑफिस में भेजूं या आप यहीं इसे गाइड कर देंगे?” संजया ने पूछा. अब मेरा भी मन करने लगा था कि मैं भी किसी के साथ लेस्बियन सेक्स करने के लिए ट्राई करूं. आलिया ने दोनों हाथों से बेडशीट पकड़ ली थी … मैं पूरी ताकत से आलिया को चोदने में लगा हुआ था.

मेरी मां को इस बात के बारे में पहले से पता था लेकिन चूंकि वो बड़े लोग इसलिए मेरी मां उन लोगों में अपना फायदा देख रही थी. हो सकता है ये मेरा भ्रम ही हो, पर लोगों का मुझे घूर कर देखना … मेरी खूबसूरती के लिए इनाम जैसा था. मैं सोच ही रहा था कि इतने में जिम वाले ने पूछा- कब से शुरू करना है भाई?सुमित बोला- कल से ही.

क्योंकि पाँच बज़े तक मेरी सासू माँ जाग जाएँगी और मैं चार बजे तक अपने कमरे में जाकर सो जाऊँगी.

बीएफ ब्लू पिक्चर दिखा दो: उनके दोस्त मेरी चूत चाट रहे थे और बॉस ने अपना मोटा लंड मेरे मुँह में डाल दिया! मैं भी मजे से उनके लंड को चूस रही थी. किताब के बीच में ऊंगली फंसाकर ऐसे आई थी कि जैसे कुछ पढ़ रही थी और समझ न आने पर पूछने आई थी.

दोस्तो, अब तब ही मिलूंगा, जब आपको बताने लायक कुछ हुआ, तो जरूर लिखूंगा. मैंने नहा कर एक टीशर्ट और कैपरी पहनी और अपने कैमरे का किट बैग ले कर स्टूडियो में चला गया. मैं भी तपाक से बोली- मुझे याद कर रहा था या मेरी चूत को?इस पर वो हंसने लगा और मेरे होंठों पर किस करने लगा.

मुँह में संदीप के पेशाब का थोड़ा नमकीन सा स्वाद आया पर अभी तो मेरे लिए सब कुछ अमृत ही था.

अब उसके हर धक्के के साथ मेरा बार-बार मुंह खुल जाता था क्योंकि मुझे दर्द हो रहा था. मैंने उसके बटन बन्द करते हुए कहा- अब टाइम ओवर हो गया है, तुम कल आना! फिर देखता हूं कि तुम अपने जिस्म की कितनी नुमाइश करती हो. सागर- अच्छा तो शाम का क्या प्लान है?मैं- कुछ नहीं … बस ये लैपटॉप बनने देने जा रही हूँ, वहीं थोड़ा शॉपिंग का प्लान है.