सेक्सी फिल्म का बीएफ

छवि स्रोत,कामसूत्र फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

तेल मालिश सेक्स: सेक्सी फिल्म का बीएफ, मैं अवनी आपके सामने एक बार फिर से अपनी नई होटल Xxx स्टोरी लेकर हाजिर हूं.

मधु भोजपुरीxxx

ज्यादा पूछने पर बिल्लो ने बताया कि उसके पति का बहुत ही छोटा और पतला है. रमेश सेक्सीवहां उसने क्या किया मेरे साथ?नमस्कार दोस्तो, फ्री सेक्स कहानी पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी है जो मेरे जीवन की सच्ची घटना है.

कोमल के होंठों को अपने मुँह में लिए हुए मैं उसको ताबड़तोड़ चोद रहा था. बच्चों के दांत निकलने की दवाउसके बाद आकृति आंटी ने उस कोन वाली आइसक्रीम का पैकेट फाड़ कर मेरे लंड में पूरा कोन पहना दिया.

बाद में बताया कि उन्होंने कॉल इसलिए किया है क्योंकि उनकी लड़की पुणे आ रही थी.सेक्सी फिल्म का बीएफ: अगले ही पल वो घुटनों के बल बैठ गई और मेरे खड़े लंड के सुपाड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी.

उसमें से एक सवारी हमारी सीट पर बैठ गई और एक सामने वाली सीट पर बैठ गई.मैंने उसकी गान्ड का छेद ढीला कर दिया और उसके मुंह में लंड डालकर चोदने लगा उसने गीला कर दिया.

गणपति आरती मराठी डाउनलोड - सेक्सी फिल्म का बीएफ

वो 23 साल की मासूम सी दिखने वाली लड़की, तीखे नैन, गुलाबी होंठ, चौतीस की चूचियां.बेसब्री से भूखे भेड़िये की तरह मैं भी रात होने की प्रतीक्षा कर रहा था.

वो बार बार रोहन के हाथों को अपने हाथों से पकड़ कर खींचती और इशारे से कहती कि अपना लंड बाहर निकाल ले. सेक्सी फिल्म का बीएफ मैंने उसे बेड से नीचे बिठाया और वो मेरे लंड की मुठ मारते हुए मेरी बात सुनने लगी.

जब भी मैं कुर्सी पर बैठती तो मुझे उसके लन्ड पर अपनी गांड रगड़ते हुए जाना पड़ता.

सेक्सी फिल्म का बीएफ?

फिर मैंने भाभी का शर्ट उतार दिया और ब्लैक ब्रा के ऊपर से ही उनके दूध मसलने लगा. मैं भी दूसरी लड़कियों के साथ डांस करने लगी और पैग बना कर पिलाने लगी. उसकी अब उम्र हो गई थी इसलिए वो चुदाई का मजा देर तक नहीं ले पाती थी.

जब मैं उसके सामने मुठ मारने लगता था तो ऐसे दिखावा करता था जैसे मैंने उसे देखा ही नहीं है. मैंने उठकर गेट खोला, तो देखा कि बाहर दो महिलाएं थीं, जो कि मेरे केबिन का गेट खटखटा रही थीं. मैं उनका लंड देख चुकी थी और जब से मैंने उनका मोटा लंड देखा था मैं उसको अपनी चूत में लेने का सपना भी देख रही थी.

आंटी को लिटाकर मैंने उनके चूतड़ों के नीचे तकिया लगाया और चूत में लन्ड रगड़ने लगा. जैसे ही मेरा हाथ उसके लंड पर गया, तो मुझे कोई बहुत बड़ा सामान मालूम पड़ा. तो उसने मेरा लंड अपने मुँह से निकाल दिया और कहने लगी- विशु, अब तू जल्दी से मेरी चूत में अपना मूसल डाल दे।मैंने एक हाथ से अपना लंड पकड़ा और लवली की चूत पर घिसने लगा तो मेरा लंड चिकनाई की वजह से फिसल गया.

दीदी छत पर आ गई और मुझे सोते हुए देख कर जीजू की बांहों में समा गईं. लेकिन पीयूष कहां मानने वाला था, ऊपर से वायग्रा का असर भी अब उसकी बहन पर चरम पर था.

उस दिन भाभी ने रेड कलर की साड़ी और बहुत ही गहरे गले का ब्लाउज पहना था.

कुछ देर के बाद शायद उसका दर्द कम हो गया था और अब उसे मजा आने लगा था.

मेरी पत्नी बताए जा रही थी:आपने पीछे से अपने हाथों को आगे लाकर मेरी चूचियों को दबाने की कोशिश की, लेकिन मैंने आपका हाथ हटा दिया. इस बीच बहुत सारी बातें हुईं और मैं और मौसी उसी संबंध को महसूस करने लगे जो कुछ वक्त पहले मेरे और मौसी के बीच में था जब हम एक दूसरे के साथ खूब मस्ती मजाक करते थे।उसके बाद मौसी किचन में खाना बनाने के लिए चली गयी. उसने मेरे लंड को चूस चूस कर लाल कर दिया और मुझसे कहने लगी- क्यों मजा आ रहा है या नहीं!मैंने कहा- मेरी जान, इतना मजा आज तक नहीं आया.

इससे मुझे और जोश चढ़ने लगा उसकी टांगों को मैंने और ज्यादा चौड़ा कर दिया और मैं और ज्यादा गहराई तक अपनी जुबान चूत के अन्दर डाल रहा था. उधर बसंत भी पागलों की तरह मेरी चुत के दाने को होंठों से खींच खींच कर चूस रहा था. उसने मेरे आधे लंड को चुत के अन्दर ले लिया और धीरे धीरे उछल उछल कर उसने पूरा लंड चुत के अन्दर ले लिया.

मैंने निशा भाभी को उल्टा किया और उनकी पीठ पर किस करते हुए सहलाने लगा.

कार्तिक ने ये देख कर धीरे से मेरे कान में कहा- डरो मत, शांत हो जाओ … मैं भी आपसे प्यार करता हूं. मेरी हाईट 5 फीट है और फिगर 33-28-34 है। मैं प्रयागराज की रहने वाली हूं. रमेश का लंबा लंड होने के कारण अंजलि सिर्फ़ आधा लौड़ा ही मुँह में ले पा रही थी.

इस बार अंकल ने चोदा मुझे और अपना वीर्य मेरी गांड में छोड़ दिया और बाद में मुझे घर छोड़ गए. मैं भी अपनी मम्मी के साथ लेस्बियन करने लगी और नीचे से सत्यम मेरी बुर चोद रहा था. मैं बस मुस्कुरा कर रह गया और मैंने बताया कि ये मेरी एक परिचित की आंटी की बेटी है.

अभी ये हाल है कि अगर बीवी किसी दिन चुदवाने से मना कर देती है, तो अपने हाथ से ही अपने लंड को शांत करता हूँ.

वो हाथ को रखे रही और मैं भी बैठा रहा लेकिन मेरा लंड खड़ा होने लगा था. फिर प्यार से मेरे लंड के टोपे पर अपने होंठ रख दिए और धीरे धीरे चूसने लगी.

सेक्सी फिल्म का बीएफ मैं चाहता था कि कोमल मुझसे लिपट जाए … लेकिन शायद नारी सुलभ लाज की वजह से वह ऐसा नहीं कर सकती थी. मैं लंड चुत में पेल कर थोड़ा रूक गया और आराम आराम से अन्दर बाहर करने लगा.

सेक्सी फिल्म का बीएफ मैं समझ गई कि जेठजी मुझे घुटनों के बल बैठा कर लंड चूसने को कह रहे हैं. दीदी की चूत को मैंने हाथ से सहला कर देखा तो दीदी की सिसकारी निकल गयी.

चाची बोलीं- क्या रे ऐसा कैसे हुआ? पूरा दिन घूमता रहता है, छुट्टी के दिन भी घर पर नहीं रहता … तो बदन तो दर्द करेगा ही न.

राजधानी का चार्ट बताओ

आप इसी सीट में अड्जैस्ट करके सफर कर लीजिए।अब मेरी नींद खुल चुकी थी।टीटी चला गया था।मैं अपनी सीट में बैठ गया और उससे बोला- आप ठीक से बैठ जाओ।फिर हमने थोड़ी देर बात की. वो हंसती थी, तो उसके गालों पर ऐसा लगता था कि एक अजीब सी कशिश छा गयी हो. उसके झड़ने के बाद मैंने उसका लन्ड एकदम चूस चूस कर साफ कर दिया।इस दिन बाद से हमारा रोज का ही काम हो गया था.

वो मुझे अपने पास में लेटा कर बोली- भैया क्या तुम नहीं थके हो?मैंने कहा- हां थक तो गया हूँ. उन्होंने कहा- कैसे?मैंने कहा- मैं आपको रुलाऊंगा क्योंकि अब मैं आपके साथ सेक्स करना चाहता हूँ … और आप मुझे मना नहीं कर सकती हैं. तभी कमरे में इकबाल अन्दर आया और मुझे गाली देते हुए बोला- मादरचोद अंजलि तुझे मैंने शॉर्ट कपड़े पहन कर आने के लिए बोला था और तू यह क्या साड़ी पहन कर आयी है.

उसने जैसे ही मेरे पैंट को निकाला, मेरा खड़ा लंड अंडरवियर में से बाहर आने को तड़पता हुआ दिखा.

फिर मैं उसे उठा कर बेड पर ले गया, उसको बेड पर लिटा कर उसके दोनों कबूतरों को चूसने लगा, उसके निप्पलों को मरोड़ कर काटने लगा. इस गजब की वनीला आइस-क्रीम चुदाई के बाद हम दोनों ने अपने अपने कपड़े पहने और जाने को रेडी हो गए. उसने भी सेक्स में इंटरेस्ट दिखाया और वो दोनों मेरे लंड को लेकर खुल्लम खुल्ला बात करने लगीं.

कुछ पल के बाद मैं अपने दोनों हाथों से उसकी दोनों चूचियों को दबाने लगा. कुछ देर ऐसे करने के बाद जेठजी ने एक एक करके अपनी उंगलियां मेरी चूत से बाहर निकाल दीं और मेरे चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से जकड़ कर ऊपर की ओर उठा दी. भाभी ने एक स्माइली भेजते हुए कहा- कोई बात नहीं, कभी कभी हो जाता है.

कार्तिक ने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया और मेरे गालों पर चुम्मा दे दिया. उस दूध वाले ने सरिता भाबी की चुचियां दबानी शुरू कर दीं और खूब जोर जोर से दबाते हुए चुचों को चूसने लगा.

लड़की या महिला के होंठ, गला, कान की लौ, उसके निपल्स और उसकी चूत का भगनासा बहुत ही सेन्सिटिव पार्ट होते हैं. दीदी की चूचियों का ऊपरी उभार मैंने बहुत बार देखा था लेकिन आज दीदी के निप्पल भी दिख गये थे. मैंने उनसे पूछा- आप लोग कहां जा रही हैं?एक भाभी बोली- हम दोनों दिल्ली जा रही हैं.

वो मेरे लंड को सहला रही थी तो मैंने पूछा- कैसा लगा मेरा लंड?उसने जबाब दिया कि बहुत बड़ा और मोटा है.

मैंने अपने लंड को उसकी चूत में घुसाया और बड़े आराम से ताक़त लगा कर अन्दर बाहर करने लगा. मैं उसे अपना लंड भी नहीं दिखा पा रहा था क्योंकि भाई अपने कमरे में रहता था. सत्यम ने मुझे बेड पर सीधा लिटाया और मेरी दोनों टांगों को फैला दिया.

स्कूल के बाद हम दोनों साथ साथ ही पढ़ा करते थे चाहे वो अजय का घर हो या मेरा।मैं और अजय बेशक गहरे दोस्त थे लेकिन हम दोनों मन ही मन एक दूसरे को प्रतिद्वन्द्वी मानते थे क्योंकि वो किसी विषय में अव्वल था तो मैं किसी विषय में!पढ़ाई के अलावा हमारा किसी व्यसन की तरफ कोई मन नहीं था इसलिए हम दोनों सिर्फ अपनी अपनी पढ़ाई पर ही ध्यान देते थे. मैंने उससे कहा- तू कम्बल में घुस जा … ताकि वो आई तो उसे लगेगा मैं मुठ मार रहा हूँ और तू सो रही है.

उसके मांसल उरोज ऐसे उठे रहते थे जैसे कोई मगरूर राजा अपने सिंहासन पर बैठा हो. मैंने अपना चेहरा उठा कर जेठजी की आंखों में देखा तो जेठजी ने मुझे बैठने का इशारा किया. जब से वो इस फ्लैट में आये हैं, आज पहली बार कोई दारु पार्टनर मिला है.

हिना खान सेक्सी फोटो

कुछ देर बाद आंटी खड़ी हुईं और एक बार फिर से मेरे होंठों को चूमते चाटने लगीं.

कमल ने कहा कि जॉब करने की कोई जरूरत नहीं है तो सारा के पास दिन में सिवाय मटरगश्ती करने के अलावा काम भी कुछ नहीं होता था. मेरी बहन दर्द के मारे छटपटा रही थी लेकिन पंकज नहीं रुका और वो मेरी बहन को धकापेल चोदने लगा. भोपाल से वापस आने के बाद कुछ ऐसा हुआ कि मेरी बीवी रोज रात को मूड बना कर मेरे साथ छेड़खानी करने लगती थी और मैं भी गर्म होकर उसे चुदाई के लिए हर तरह से चूम-चाट कर गर्म कर देता था.

क्या मैं उसे देख आऊं?मम्मी बोलीं- हां हां क्यों नहीं, वह रूम में ही है. आंटी की सेक्स स्टोरी के अगले भाग में बताऊँगा आपको कि आंटी की चुदाई कैसे हुई. भाभी को बाथरूम में चोदाई’ कहते हुए अपना एक पैर उठाकर मेरे पैर पर दे मारा।इस चीज के लिए मैं तैयार नहीं था.

मेरी नजरों में वो सब चेहरे आने लगे, जो मेरी चुत के लिए आराम से सैट किए जा सकते थे. चूत की मालकिनें और लंड के मालिकों आप सब अपना सामान पकड़ कर ध्यान से सेक्स कहानी को पढ़ें और मजा आए तो मुठ मारने से पहले मेल जरूर कर दें.

वो मेरे लंड की मुठ मारने लगी और मैं उसकी चूचियों के निप्पलों को पीने लगा. अब मैंने कहा- घोड़े की सवारी करोगी?वो बोलीं- क्यों घोड़ी की सवारी से मन भर गया क्या?मैंने कहा- मेरी चांद तू तो रस का सागर है, तुझसे कैसे मन भर सकता है. अब कुसुम ने बोलना शुरू किया- देखो रोहन … जो हम लोग आज करने वाले थे, वो एक तरह का पाप है.

बस थोड़ी देर और चूत में उंगलिया कीं तो उसका शरीर अकड़ने लगा और वो पागल सी होने लगी।उसकी चूत गीली हो चुकी थी. भाभी महीने में दो तीन बार मुझे अपने पास एक दो रात के लिए बुला लेती थीं. मगर मेरी बहन को मेरे लंड का स्वाद मिल गया था, तो वो मुझसे चुदवाने के लिए मचलने लगी थी.

शादी के बाद मेरी लाइफ कई और लड़कियां और भाभियां आईं, जिनको मैंने बहुतमस्त चुदाई करके मज़ेदिए थे.

लेकिन वो हमेशा बोलता है कि सच में ऐसा नहीं होता है, इतने बड़े बड़े लंड केवल वीडियो में दिखाए जाते हैं. हालांकि मुझे रेहाना के ढीले मम्मों साथ इतना ज्यादा मजा नहीं आ रहा था, साली कपड़ों में तो बड़ी मस्त माल लग ही थी.

मैंने देखा कि उनके रूम का टीवी चालू था और वो पलंग पर लेटी हुई अपने पैरों के बीच में अपने हाथ से कुछ कर रही थी. मैं कुतिया बन गई तो उसने मेरी चुत में पीछे से लौड़ा पेला और मेरी चूचियों को पकड़ कर धकापेल चुदाई शुरू कर दी. इधर भले ही कुसुम ने अपने बेटे को समझा दिया था लेकिन उसके दिमाग में अभी भी हमेशा अपने बेटे का मोटा और सख्त लंड घूम रहा था.

उसी सेक्स कहानी को मेरी बीवी मेरे पूछने पर मुझे बता रही थी कि उसने अपने जेठ से अपनी चुत किस तरह से चुदवा ली थी. मेरी कामुकता सेक्स स्टोरी मेरे कॉलेज के स्टाफ के एक लड़के के साथ चुदाई की शुरुआत की है. इस जनता कर्फ्यू से दो ही दिन पहले 20 मार्च को मेरी और मेरी बड़ी बहन सलमा का निकाह हुआ था.

सेक्सी फिल्म का बीएफ किसी सेक्स कहानी में मैं खुद ही एक पात्र बन जाती हूँ, ताकि जिसकी वो कहानी हो … उसकी जानकारी गोपनीय बनी रहे. मैंने उसे कैसे पटाया और फिर उसकी प्यासी चूत को चोदा?हाय दोस्तो, मेरा नाम रवि है.

कुवैत में भारतीय

मम्मी आगे की ओर आकर अपने घुटनों पर बैठ गईं और उन्होंने मेरा लंड पकड़ कर मुँह में ले लिया. फिर मैंने उसके गालों को सहलाना शुरू किया तो उसने भी मेरा हाथ चूम लिया. कमल बोला- मैं कहाँ से लाऊं?सारा बोली- फिर मैं कहाँ से लाऊंगी? मैं तो कहीं जाती भी नहीं.

मैंने भी टांगें फैला दीं और चाची ने मेरी कच्छे की इलास्टिक हटाकर लंड को बाहर निकाल लिया. एक दिन की बात है, जब दूध वाला आया तो सरिता भाबी ने उसको अन्दर बुला लिया. टेडी टेडीइसके बाद मैंने बेहन से कहा- ये ग्रुप सेक्स का प्रोग्राम खेत में न करके घर में ही करें तो अच्छा रहेगा.

एकदम से मेरी आंखें बंद होने लगी और लंड से निकलकर आग अंजुमन की चूत में भर गई.

आज मेरे पास कंडोम था क्योंकि भाभी ने पहले ही बोल दिया था कि आज कुछ करेंगे, तुम सेफ्टी लेते आना. मैंने कहा- मुझे भी ऐसे ही मजा दो तब तो मुझे मालूम चले कि ठंडी आइसक्रीम से कैसा लगता है.

फिर उनके पैरों के बीच में जगह बनाकर मैं अपने लंड को उनकी चूत पर रगड़ने लगा और उनके नर्म नर्म होंठ चूमता रहा. उसके कुछ देर बाद मैंने उसकी गांड में उंगली डाली तो वो मना करने लगी. मैं- आपकी जान तो बच जाएगी, अगर लंड मिल गया तो … मगर मुझे क्या मिलेगा?निशा भाभी- जो चाहिए ले लेना.

अनुराधा की गोरी कमर का साइज़ अट्ठाईस इंच और उभरे हुए मुलायम चूतड़ों का साइज़ चौंतीस इंच था.

बस दोस्तो यह थी मेरी सच्ची सेक्स कहानी, जब मैं अपने एक प्रशंसक दोस्त से मिली और मैंने उसको सेक्स का मजा दिया. वो बोले- हां, साली रंडी, मैं जानता था कि तू ये सब नाटक चुदने के लिए ही कर रही है. उसके गहरे गले के ब्लाउज में से उसकी मदमस्त चूचियां आधे से ज्यादा दिख रही थीं.

12 साल की लड़की की ब्लू फिल्मउसकी गोलियों से मेरा थूक नीचे टपकता, उससे पहले मैंने उसकी दोनों गोलियों को एक साथ अपने मुँह में भर लिया. फिर वो बोला- मैं प्रोड्यूसर से बात करता हूँ और डेट फ़िक्स करता हूँ.

जंगल सेक्सी

चुदाई से पहले भोसड़े को चूसना, गांड को चाटना मेरा सबसे प्रिय शगल है. रमेश मुझसे बोला- आह साली रांड अच्छे से लंड चूस मां की लवड़ी … आह बड़ा मजा दे रही है. इनके अलावा और क्या क्या अच्छा लगता है?मैंने आंखों के इशारे से उनके मम्मों की तरफ इशारा कर दिया.

उनमें एक दोस्त राहुल भी था, जो साला शुरू से ही बहुत बड़ा लौंडियाबाज था. फिर उसने मुझे अपने लंड पर बिठा लिया और मेरी फुद्दी में अपना लंड घुसा दिया. मीनू नींद में थी और मामा का हाथ उसकी चूची पर चल रहा था।उधर मामा का दूसरा हाथ उनके पजामे में तेजी से उनके लंड पर चल रहा था.

एक दिन उसका छोटा भाई अपने स्कूल की गर्मियों की छुट्टी में उसके मामा के घर अपने मम्मी पापा के साथ गांव गया था. मेरी इस हरकत से मायरा ने आंखें बंद कर लीं और अपनी पीठ मेरी बांहों में टिका दीं. अब मेरी चरम सीमा आ गयी और मैंने बिना बताये दीदी के मुंह में अपना वीर्य छोड़ दिया.

कोमल के हाथ अब मेरे सर के बालों पर आ गए थे और वो अपने हाथों को मेरे बालों में घुमा रही थी. मैं ये देख कर हैरान हो गया कि मेरी बहन ने उसी समय अपना स्कर्ट को ऊपर कर दिया और बिना पैंटी की चुत दिखाते हुए कहा- ले चूस ले अपनी बहन की चूत.

[emailprotected]बार डांसर की कहानी का अगला भाग:जुआ के अड्डे से पोर्न ऐक्ट्रेस बन गई- 2.

फिर एक दिन मैंने ज़रीना से कहा कि वो मुझे आसिफा से एक बार अकेले में मिलवा दे. प्रियंका चोपड़ा की नंगी तस्वीरउस दिन शाम को जब मैं उनके साथ बैठा था, तो वो बोलीं कि कल मुझे कचहरी जाना है … अगर तुम मेरे साथ चल सको, तो बहुत अच्छा रहेगा क्योंकि वहां सब अकेली औरत को बड़ी अजीब नज़रों से देखते हैं. भोजपुरी नंगा डांस वीडियोउधर मामा के यहां बाथरूम के गेट के ऊपर एक जंगला था, तो मैंने आइडिया लगाया कि उस जंगले से उसको नहाते हुए देखा जा सकता है. इसी तरह अगले दिन दूसरे हाईवे पर जाकर काफी अधिक लोगों से गूंगी पगलिया बन कर चुदी और मजा लिया.

हम दोनों में सेक्स की आग लग चुकी थी जिसको जल्दी ही शांत करना जरूरी था.

जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी बुर को खोलकर बुर की फांकों में रखा और धक्का मारा, तो लंड फिसल गया. मैंने देखा कि उनके रूम का टीवी चालू था और वो पलंग पर लेटी हुई अपने पैरों के बीच में अपने हाथ से कुछ कर रही थी. मेरी हाइट 5 फुट 7 इंच है और मैंने अपने वजन को काफी सलीके से मेंटेन किया हुआ है.

यही सब सोचते और देखते हुए मैं उनके साथ गुब्बारे लगवाने में उनकी मदद कर रहा था. उसकी चूत को देखकर यही लग रहा था कि अभी इसकी ज्यादा चुदाई नहीं हुई है और ना ही इसकी चूत के अन्दर कोई ढंग का लंड गया है. कुछ देर बाद मुझे मनीष ने फिर से वही तरल पदार्थ पिलाया और इस बार रॉय और जॉन ने भी पिया.

మలయాళం సెక్స్ వీడియోస్

क्या तुम नहीं करते हो?उसकी इस बात से मैं एकदम से हड़बड़ा गया और बोला- मैं नहीं करता ये सब!इस पर रिट्ज बोली- अच्छा तो मेरे कॉलेज जाने के बाद तुम और मम्मी क्या डांस करते हो. मैं लंड रस चूसने के बाद उसके होंठों को चूमने लगी और उसको गर्म करते हुए उसके पूरे शरीर को चूमने लगी. जैसे ही उसने स्माइल दी मैंने अपने पास बैठी भाभी की कमर से हाथ को हटाया और उसके चेहरे पर रखकर जोर से उसके होंठों को चूसने लगा.

उसका लंड अभी भी चड्डी के अन्दर ही था मगर मुझे उसका अहसास हो रहा था.

मेरे होंठ जैसे जैसे उसकी चूत को चूसे जा रहे थे, वैसे ही वो पागल हो रही थी.

मैंने पूछा- भाभी, आप तो पहले टेस्ट करने वाली आइटम हो, तो ये गलती कैसे हो गई?उन्होंने आंख दबाते हुए कहा- उसके पास माल बहुत है. ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, कुछ गलती हो जाए, तो प्लीज़ माफ कर देना. सेक्स कर्नाटकअच्छा ये बताओ मेरी गांड में ऐसा तुम्हें क्या अच्छा लगा?मैंने कहा- जब तुम अपनी गांड मटका कर चलती हो, तो मैं तेरी गांड देख कर खुश हो जाता हूं.

उन्होंने इतने मन से बोला था कि मैं मना नहीं कर सका और जाकर सोफे पर बैठ गया. अब विदाई हो रही थी, पर मुझे दुख हुआ कि जीजू का लंड ठीक से नहीं चूस पाया. लगातार 8 महीने मेहनत करने के बाद सुरीली को सुनील ने पटा ही लिया और अपनी बहन की सील तोड़ दी.

वो भी गांड मराने के दौरान ही मस्त हो गई थी और गांड हिलाते हुए लंड गांड में लेने लगी थी. मैंने महसूस किया कि नैना की कातिल अदाएं अभी भी मुझे ही निहार रही थीं.

उसका पति श्याम एक कंपनी में काम करता था, घर पर उसकी माँ और बीवी ही रहती थीं.

अब मैं अपनी बीवी से मुखातिब हुआ- तो क्या करना चाहिये मुझे?मेरी बीवी ने कहा- अच्छा रहेगा, आप रानी को पढ़ा दोगे तो क्या दिक्कत है!मैं- ठीक है, तुम रानी से बात करके बता देना कि उसको पढ़ने के लिए कौन सा टाइम सही रहेगा. मुझे मालूम है कि तुझे भी मर्द की जरूरत होती है, तुझे भी मैं कुछ पैसे दे दिया करूंगा. बाजू वाली भाभी ने मेरे हाथ पर अपना दूसरा हाथ रख दिया और अपनी कमर को मेरे हाथ से रगड़वाने का सुख लेने लगी.

पोर्न गेम मंजू ने अंजलि से पूछा- रमेश ने कुछ ज़्यादा तंग किया क्या?वो मुस्कुरा कर बोली कि नहीं. मैंने भाभी के मम्मों को चूसते हुए ही उनके पेटीकोट का नाड़ा खोल कर गिरा दिया, जिससे भाभी अब सिर्फ ब्रा और पैंटी में आ गई थीं.

मैंने उनके माथे पर किस किया और उनकी ठोड़ी उठा कर उनकी आंखें में देखने लगा. मेरे पूरे घर में मेरी ‘उफ़ उहह … यस आई लाइक इट … ओह्ह जान फ़क मी आह आह आह. तभी मैंने देखा कि सामने वाली भाभी ने भी मेरे पैरों को अपने पैरों से रगड़ना शुरू कर दिया.

बॉस मटका मोबी

उसके गहरे गले के ब्लाउज में से उसकी मदमस्त चूचियां आधे से ज्यादा दिख रही थीं. ‘आआआह …’लंड घुसेड़ते ही उसने टांग छोड़ कर मेरी पिछाड़ी को पकड़ लिया और मैंने टांगों को फैलाते हुए अपने दोनों हाथ उसके गले में डाल दिए. कुछ देर में मेरे भी सब्र का बांध टूट गया और मैंने आकृति आंटी के बालों को पकड़ कर उसके होंठों से अपने होंठों को लगा दिए और खूब चूसा, आकृति आंटी के दोनों दूध निचोड़ कर चूसे.

मैंने पाया कि मामी का हाथ मेरे लोअर पर ठीक मेरे झांटों के पास रखा हुआ था. अब मैं ज़रीना के मुँह से लंड हटाकर एकदम से खड़ा हो गया और सीधे होकर मैंने आसिफा की चूत में लंड लगा दिया.

उसकी ब्रा को उतारा और उसके मोटे मोटे मम्मों को अपने हाथों से मसलने लगा.

गरम गीली चुत स्टोरी मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड की चूत और गांड चुदाई की है. लेखिका की पिछली कहानी:लॉकडाउन में बुआ की बेटी की चुत का मजादोस्तो, मेरा नाम समीर है. मेरी और लिली की सील पैक चूत की कहानी आपको कैसी लगी, मेल करके जरूर बताएं.

इससे सुरीली को बहुत दर्द हो रहा था और वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी. आपको ये इंडियन सेक्सी चुदाई कहानी कैसी लगी इसके बारे में आप अपनी राय जरूर दें. मैंने जेठजी के कच्छे का नाड़ा खोल दिया और अब जेठजी पूरी तरह नंगे मेरे सामने खड़े थे.

अचानक से कुसुम के हाथ से एक चम्मच छूट कर नीचे गिर गई, जिसे उठाने के लिए वो नीचे झुकी.

सेक्सी फिल्म का बीएफ: भाभी मेरी बात से शर्मा गईं और बोलीं- अच्छा … इतनी अच्छी हूं मैं!तो मैंने बोला- हां आप बहुत सुंदर हो. दोस्तो, ये मेरी बीवी और साली की चुदाई की कहानी आप मुझे मेल करके बताएं की आपको मेरी जीजा साली की चुदाई कैसी लगी.

रानी आंखें बंद करके मालिश करवाने का मजा ले रही थी और मैं मौके का फायदा उठाकर उसके तने हुए और ऊपर सर उठाए बोबों को निहार रहा था. फिर उस कोन को उल्टी तरफ से, जो अब सीधी तरफ हो गया था, उस तरफ से आंटी पहले कोन काट काट कर आइसक्रीम खाने लगीं. आपको मेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई की ये कहानी कैसी लगी मुझे मैसेज करके जरूर बताना.

मैंने जाने लगा तो भाभी बोलीं- अमन जी अब आए हो, तो चाय पीकर ही जाइएगा.

भाभी कहने लगी थीं- आह अम्मू और जोर से चोदो … आह मेरी चूत फाड़ दो … तुम्हारा लंड बहुत मस्त है … मैं इसकी दीवानी हो गई हूँ. वो बोली- बहुत दर्द हो रहा है विहान, मेरी कमर का पहले ही इलाज चल रहा था और आज ये झटका और लग गया ऊपर से।मैं बोला- मैं डॉक्टर के पास ले चलूँ आपको मौसी?वो बोली- नहीं, डॉक्टर के पास तो तेरे मौसा ले जायेंगे. उसने धीरे-धीरे मेरे कान के नीचे एक चुम्मा ले लिया और मेरे बालों को सहलाने लगा.