सेक्सी बीएफ गांव वाली

छवि स्रोत,मोटी मोटी औरतों की सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

गेम सेक्सी पिक्चर: सेक्सी बीएफ गांव वाली, जब मैंने खुद को आइने में देखा तो मन किया अपनी ही चूत में उंगली कर लूँ.

एक्स सेक्सी वीडियो फिल्म

फिर दूसरे दिन भी वही … और जब हम शॉप में मिले तो मुझे यकीन हो गया कि तुम मुझे वासना वाली नज़रों से नहीं देखते. देसी किन्नर सेक्सीअब मैं उसे ज्यादा देखने की कोशिश करने लगा और वो भी मुझे भुन्ना कर गुस्से से देखती रहती.

मेरी लाल रंग की ब्रा जैसे ही उसने देखी तो वह उस पर टूट पड़ा और उसके ऊपर से ही मेरे चूचों को चूसने लगा. गर्ल्स हॉस्टल सेक्सीमधु की आवाजें जोर से निकल रही थीं, जिन्हें दूसरे रूम में मेरी बीवी आराम से सुन सकती थी.

मैं अपने आप पर ही भरोसा करने वाला और अपनी दुनिया में ही मस्त रहने वाला लड़का हूँ … तथा मुझे यारी दोस्ती का भी कुछ शौक नहीं है क्योंकि आजकल की दोस्ती सिर्फ सिर्फ पैसों तक ही सीमित हो जाती है.सेक्सी बीएफ गांव वाली: वो काफी फिट थी और नशे में उसको बस यही सूझ रहा था कि उसकी जल्दी से चुदाई हो.

अंकल जी मेरे मम्में पकड़ कर मुझे चुम्बन देने लगे और मैं भी शरमाते हुए उनका साथ देने लगी.मेरी चूत से पहले तो कुछ पानी सा निकला मगर उसके बाद साथ ही यूरीन भी निकल गया क्योंकि मेरा तो यह पहली बार ही था.

देहाती स्कूल गर्ल सेक्सी वीडियो - सेक्सी बीएफ गांव वाली

मैंने आज थोड़ी हिम्मत की और जैसे ही थोड़ा पास जा कर देखने की कोशिश की कि उतने में ही भाबी ने करवट ले ली.पेटीकोट के ढ़ाई-तीन इंच अंदर मेरी उँगलियों के सिरे वसुन्धरा की पैंटी के इलास्टिक को छू रहे थे.

अब मैंने उसे टाँगें खोलने को कहा और उसने खड़े खड़े टांगों के बीच जगह बना दी और मैंने बैठकर उसकी चुत पर से उसकी पैंटी थोड़ी नीचे सरका दी औरअपना मुँह लगा दिया. सेक्सी बीएफ गांव वाली मेरे कूल्हों पर हाथ को रगड़ते हुए उन्हें फैला कर उसने अपनी उंगली मेरी गांड में डाल दी.

मुझे लगता है कि चाची को जो भी देख लेगा तो पक्के में एक बार में ही उसका दीवाना हो जाएगा.

सेक्सी बीएफ गांव वाली?

अजय ने उसकी पैंटी पर अपना मुंह लगा दिया और उसकी पैंटी में अपनी नाक घुसाने लगा. आप जीत गये।मुकुल राय- अरे मेरी जान … तूने इतनी जल्दी कैसे हार मान ली। अभी तो शुरूआत है। देखना आगे आगे मैं क्या करता हूँ।इतना बोलकर मुकुल राय अपने दोनों हाथ परीशा की पीठ पर रखकर उसकी ब्रा का स्ट्रिप्स को खोल देता है और अगले पल परीशा झट से अपने गिरते हुए ब्रा को दोनों हाथों से थाम लेती है।मुकुल राय अगले पल परीशा के ब्रा को पकड़कर उसके बदन से अलग कर देता है और परीशा भी कोई विरोध नहीं कर पाती. कहीं किसी को कुछ पता चल गया तो क्या होगा।तब वह आदमी बोला- अरे मेरी जान, 3 महीने से मेरा चूस रही हो, जब अब तक किसी को पता नहीं चला ना तो फिर अब किसको क्या पता चलने वाला है?यहां रमेश अंकल उनकी बातें सुन रहे थे और सोच रहे थे कि ये औरत तो काफी शरीफ बनती थी और यहां एक पराये मर्द के साथ मजे ले रही है।शाम को रमेश अंकल मां को गार्डन में मिले और उन्हें नमस्ते किया.

मैं पूरी तरह भीग चुकी थी, मैं धीरे धीरे अपने बालों को सुखा रही थी और साड़ी के पल्लू को भी सुखा रही थी. पहले तो मैं ऐसे ही बियर पीता रहा … लेकिन तभी मेरे दिमाग का शैतान जगा. मेरा गांव पानीपत के बहुत पास है, तो मैं कॉलेज में पढ़ने के लिए पानीपत जाती हूँ.

उसके साथ मेरे सेक्स सम्बन्ध कैसे बने और इसमें मेरी सहेली की क्या भूमिका रही, इस सबके बारे में मैं खुल कर अगले भाग में लिखूंगी. उसके कहने के बाद भी मैंने हाथ नहीं निकाला और उसके चूचों को दबाते और भींचते हुए उसकी ब्रा के हुक टूट गये. जब कुछ पल बीत गए तो उसने खुद ही मेरा हाथ पकड़ा और नीचे ले जाकर अपनी पैंट के ऊपर से ही अपने लंड पर रखवा दिया.

लेकिन अभी तक मेरा लंड उसकी चुत के अंदर ही था और मैं झड़ने को आया था तो मैंने कहा- कहाँ निकालूँ?उसने कहा- अंदर ही!मैंने कहा- नहीं, मुझे मुँह में झड़ना है. मैंने भाभी से कहा- यार अनीता, तुम आज बहुत सेक्सी लग रही हो … मन कर रहा है कि बस अभी आ जाऊं तुम्हारे पास.

वो खेलने लगी मेरी चुचियाँ से।एक और बात बोलूँ, तुम गुस्से तो नहीं होंगे?”हाँ बोल न!”तुम घर में ब्रा पहना करो, इनकी शेप अच्छी बनी रहेगी.

मैंने कहा- भाभी आज ही मिली हो, आज ही सुहागरात और आज ही प्रेगनेंट कैसे कर दूँ.

नम्रता इससे पहले मेरे लंड से निकलने वाले रस के फव्वारे से संभल पाती, उसके पूरे चेहरे पर वीर्य रस लग चुका था और बाकी बचा खुचा वीर्य उसके हथेली पर लगा हुआ था, क्योंकि उसने अपने चेहरे को हाथों से छिपाने की कोशिश की. इतनी ही देर में मेरा बस स्टॉप आ गया और मैं उसे लेकर मेरे दोस्त के घर आ पहुंचा. वो कोई न कोई जुगाड़ जरूर कर लेगी राज के लंड को मानसी की चूत तक पहुंचाने के लिए.

संगीता हंस पड़ी और उसने अगले ही पल अपनी ब्रा उतार फेंकी और राहुल के हाथ अपने उरोजों पर रख दिए. फिर ताऊ जी ने अपने दोनों हाथों में तेल लगाया और कोमल के दोनों चुचियों पर तेल लगाकर दोनों को बारी बारी से अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. और फिर मुझे उसने वो बताया जिसका मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि मेरी किस्मत अब इतनी भी मेहरबान भी हो सकती है। उसने बताया कि वो अभी तक वर्जिन है.

सुबह सुबह वैसे ही मेरा लंड खड़ा रहता है … जो कि अंडरवियर के ऊपर से ही साफ साफ दिख रहा था.

अब एक दिन मैं मौसी की चूत चोदता और फिर दूसरे दिन मानसी मेरे कमरे में आकर मुझसे चूत और गांड चुदवाने पहुंच जाती थी. उस दिन मैंने उनसे वादा किया कि वो अपना दोस्त समझ कर कभी भी मुझसे फोन पर बात कर सकती हैं. अब मैंने अपना काम चालू कर दिया, मैं उनके चुचे दबाने लगा और उनका ध्यान दरवाजे पर था.

अब आगे:भोला सिंह ने कहा- मुझे अपने बाप की तरह समझ और खुल कर इंजॉय कर … यह जिंदगी मजा लेने के लिए है. मगर जब मेरे आस-पास इतने सारे लंड मौजूद थे तो मुझे उंगली से मेहनत करने की क्या जरूरत थी भला?मालिश करवाने के बाद मैंने सोचा कि क्यों न कुछ देर पूल में जाकर स्वीमिंग ही कर ली जाए! मैं उसी लाल ब्रा और पैंटी को पहन कर स्वीमिंग पूल में चली गई. आंटी के बारे में आपको क्या बताऊं दोस्तो … जो भी एक बार उसे देख लेता है वह खुद को कंट्रोल नहीं कर पाता है। क्या सेक्सी लेडी है वो! उसके बड़े-बड़े बूब्स तथा मटकती हुई गांड हर किसी को बेताब कर देती है। जब चलती है तो उसकी चूचियां उछलती हैं। मैं अक्सर उनके घर जाया करता था.

उसके बाद मेरी आँख खुली, तो परवीन के बदन की गर्मी से मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था.

जैसे ही दीदी ने मूतना चालू किया, मैंने मुँह खोल कर पूरा मूत पी लिया. मैं वहीं पर खड़ी होकर अपने कपड़े बदलने लगी, सबसे पहले साड़ी उतारी फिर अपने शरीर को पौंछने लगी.

सेक्सी बीएफ गांव वाली इस पर उसने कहा- चलो झूठे कहीं के … अगर इतना ही प्यार था, तो आज तक बोला क्यों नहीं … कभी बात करने की कोशिश भी नहीं की. मैंने उसके होंठों को चूसा और उसके चूचों को दबाया और उसके ऊपर लेट कर पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया.

सेक्सी बीएफ गांव वाली मेरी रीजनिंग और मैथ्स बहुत अच्छा था, तो धीरे धीरे मैंने क्लास टीचर का और सभी लोगों का दिल जीत लिया. उसका लंड मेरी चूत में पूरा फंस गया था और चूत को पूरी फैलाता हुआ अंदर और बाहर हो रहा था.

हो सकता है कि भैया ने शायद भाभी की गांड भी मारी हो। मुझे ऐसी औरत की गांड मिल जाये तो मैं स्वर्ग जाने से भी मना कर दूँ.

सेक्सी वीडियो अमेरिका का सेक्सी वीडियो

वो आंखों में आंसू लाकर बोलीं- मुझे तुम पर पहले से ज़्यादा भरोसा हो गया है. थोड़ी देर में वह झड़ गई, वह बोली- बस, अब बाहर निकालो बहुत दर्द हो रहा है. वह एक हाथ से मेरे मम्मे दबा रहा था तथा गंदी गंदी गालियां दे रहा था, मुझे बोल रहा था- मेरी रंडी चुद रही है … आह ले मेरी रंडी.

मैंने चुपके से अपने बाएं हाथ की चारों उंगलियाँ वसुन्धरा के ढीले इज़ारबंद में से पेटीकोट के अंदर सरका दी और धीरे-धीरे वसुन्धरा के पेट के परले सिरे की ओर खिसकानी शुरू कर दी. पर अब मुझे भी अच्छा लग रहा था और मैं भी गांड फैला कर लंड के मज़े ले रहा था. मैं एक हाथ से उसके स्तन को मसल रहा था और एक हाथ से उसकी चूत को सहला रहा था.

आप एक काम कीजिये! मैं बाहर जाता हूँ … आप कैसे भी कर के अपना लहंगा उतार कर मुझे बाहर दे दीजिये, मैं सीऊंग मशीन पर इसको दो सिलाइयाँ मार देता हूँ , आप पहनिए और फिर हम चलें.

बारह बजते ही मैं अपने कमरे से बाहर निकल कर पीछे की दीवार से कूद कर ऋतु के घर के पीछे जाने लगा, तो उसी समय अनुषी ने भी मुझे देख लिया. हम दोनों ने एक दूसरे के नंबर ले लिए और अब हम कॉल पर भी बात करने लगे. ड्राइवर गाड़ी चला रहा था, हम दोनों पीछे की सीट पर थे, डॉली मेरी गोद में सिर रखकर सो गई.

मैं उससे अक्सर यह कहता था कि अब तो मेरी जवानी उफान पर है, पर ऊपर वाला मेरे लिए कुछ सोच ही नहीं रहा है. वो कहते हैं न एक से दो भले!”मैं समझी नहीं?”मेरी रानी… बीवी के साथ उसकी मां फ़्री”मतलब?”मेरी जान जो कुछ कामिनी करती है वही उसकी माँ भी करेगी. भाभी की नंगी जांघें देख कर मन कर रहा था कि उसकी चूत को अभी फाड़ कर रख दूं लेकिन अभी उसके मजे ले रहा था.

उसका कहना था- तुम नहीं थके तो आ जाओ, मैं भी तैयार हूं जंग के लिये।फिर मैंने अपना लिंग एक ही झटके में अंदर डाल दिया और अक्षिता के मुँह से फिर एक सिसकारी निकली. मैडम, आप गाड़ी किसी स्पीड में दौड़ाना पसंद करती हैं?”मैंने अपने टी-शर्ट को पीछे से हल्का सा थोड़ा ऊपर किया अब मेरे हिप्स पीछे से पूरे नंगे हो गए थे और उसके लंड को अपनी गांड की दरार में एडजेस्ट करते हुई बोली- जितनी तुम रेस कर दो कि मैं उतना दौड़ा दूंगी.

कमरे में जाने के बाद जैसे ही उन्होंने दरवाजा बन्द किया, मैं दरवाजे की आवाज को सुन कर समझ गया कि आज कुछ गड़बड़ होने वाली है. जिसकी इतनी सुन्दर भाभी हो वो भला किसी और लड़की की तरफ कैसे देख सकता है!”ओह हो! अब तुझे कैसे समझाऊं? देख रामू जिन बातों के बारे में तुझे अपनी बीवी से पता लग सकता है और जो चीज तुझे तेरी बीवी ही दे सकती है वो मैं नहीं दे सकती, इसलिए कह रही हूं कि तू शादी कर ले।”भाभी ऐेसी भी क्या चीज है जो सिर्फ मेरी बीवी मुझे दे सकती है और आप नहीं दे सकती?” मैंने अनजान बनते हुए पूछा. फिर उन्होंने कहा- तुम मुझे बहुत ख़ुश रखते हो, अब मैं भी तुम्हें खुश करूंगी.

मेरी कहानी में आपको रोमांच भरा सेक्स देखने को मिलेगा। मैं अपनी कार में जंगल से गुजर रहा था, बारिश हो रही थी और रात भी घिरने लगी थी.

‘ऊई मां …’ कहकर चिल्लाई तो मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिये और कंधों से पकड़ कर नीचे दबाया तो पूरा लण्ड गुफा के अन्दर हो गया. मैंने एक झटके में ही मामी की नाइटी को उतार दिया और उनके एक मम्मे पर किस करने लगा. मैं तो न जाने कब से इसी पल का इंतजार कर रहा था कि कब भाभी को अपने नीचे लेकर मन भर के जोर जोर से चोदूं.

कुछ देर के बाद उसने मेरे मुंह को चोदते हुए अपने लंड का पानी मेरे मुंह में ही निकाल दिया. मैं भी पूरे जोश में आंटी की चुत को पैंटी के ऊपर से ही चूमता और काटता गया.

वो बोले जा रही थी- आई लव यू … मस्त है तुम्हारा लंड जान … बहुत मस्त है, आज मैं जन्नत में हूँ … बस मुझे चोदते रहो. मैंने उनकी मंशा समझ ली- अगर मैं आपको छोटा दिख रहा हूं तो एक बार आज़मा लीजिये न. मैंने अपना बायां हाथ थोड़ा सा और पेटीकोट के अंदर घुसाया, तत्काल मेरी उंगलियां जाली जैसी संरचना से टकराई.

मुन्नीबाई सेक्सी

उसकी चुत गीली होने की वजह से पूरी कमर फच फच और आआहह की आवाज से गूंज रहा था.

मैंने जब उनसे पूछा, तो वो बोले- आज मैं सामान खरीदने शहर जा रहा हूँ. मेरे लौड़े ने उछल-उछल कर पानी छोड़ दिया था जो कच्छे पर भी लगा हुआ दिखाई दे रहा था. बेबी ने मेरी टी शर्ट उतारी, फिर लोअर उतार कर मुझे नंगा कर दिया और पास रखी कुर्सी पर बैठकर मेरा लण्ड चूसने लगी.

फिर एक दिन शाम के समय आंटी बोली कि मेरे साथ बाजार चलना, मुझे कुछ सामान खरीदना है. मैं पिछले कमरे में आ गया और दरवाजा खोल कर कमरे के कोने में ऐसे खड़ा हो गया कि अनुषी कमरे से बाहर आए, तो उसकी नजर सीधा मुझ पर पड़े. सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो जोधपुरलेकिन उस लड़के के प्यार में पड़के अब उनके पति भी उस औरत को छोड़ चुके थे, जिसके पास वो रात भर रहते थे और शराब पीना भी छोड़ दिया था.

मैं यह सुन कर मुस्करा रहा था क्योंकि जिस तरह अब तक मुझे भाभी की चूत के सपने आते थे अब भाभी को मेरे लंड के सपने आयेंगे. फिर उसके बाद जब भी मैं मामा के घर जाता और हमें मौका मिलता तो हम दोनों एक-दूसरे को खुश कर दिया करते थे.

मैंने सोचा कि मौका अच्छा है, मैं एक शॉप पर गया एक ब्रांडेड पैंटी और ब्रा खरीद लाया और अपने पास रख ली. आंटी बोलीं- वाओ … क्या मस्त चुदाई करता है … मेरा राजा … कहां से सीखा ऐसा तरीका. अनीता भाभी बोली- तो जल्दी से दो न यार … क्यों तड़पा रहे हो … जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर उसको निहाल कर दो.

सुमन मेरी तरफ देख के बोली- तुम्हें नंगी लड़कियाँ पसंद हैं क्या?मैंने भी बोल दिया- मुझे सिर्फ तुम को नंगी देखना है. अब हम घर में नहीं मिल सकते थे इसलिए स्कूल के बाद स्टडी के नाम पर हम मेरे दोस्त के होस्टल के कमरे में मिलते रहे. मैंने नीचे आते हुए गर्दन पर किस करते हुए उसके ब्लाउज़ के ऊपर से उसके स्तनों पर किस करने लगा.

मुझे मालूम था कि इन जवान लड़कों को सिर्फ देखके तो कुछ होने वाला नहीं था.

थोड़ी देर मैंने बिना कुछ करे दीदी पर लेटा रहा और फिर धीरे धीरे अपने झटके शुरू किए. मैंने थोड़ा सा और धक्का दिया तो मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में चला गया। वह चिल्लाने लगी तो मैं थोड़ा रुक गया.

मैं किसी भी औरत को इज्जत की नजर से कम और हवस की नजर से ज्यादा देखता हूँ. मैंने उसको जोर से अपनी बांहों में भींच लिया और उसको गर्दन पर काटने लगी. मुझे अपनी बीवी की गांड चुदते हुए देखने में पहली बार बहुत मजा आ रहा था.

कुछ ही देर में दिन का उजाला हो गया, तो हम स्टेशन से बाहर आकर टैक्सी वाले से अपना अपना पता दिखा के पूछने लगे. मुझे मोबाइल चलाते हुए देखकर वो बोलने लगी- आजकल के लड़के भी जब देखो तब मोबाइल में पता नहीं क्या देखते रहते हैं. फिर मैंने गहरी सांस ली और फिर से सोने की कोशिश करने लगा।भाभी के मायके पहुंचने के बाद भाभी ने मेरी बहुत खातिरदारी की। दस दिन वहाँ पर रुकने के बाद हम वापस लौट आये.

सेक्सी बीएफ गांव वाली फिर मैंने सोनू की पैंट का हुक भी खोल दिया और उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया. ”वो मेरी गांड में चमाट के साथ मेरी कमर में, पीठ में भी अपने चांटे मारे जा रहा था.

सेक्सी डब्लू डब्लू डॉट कॉम

उसी वक्त मैंने उसके निप्पल को पकड़ के रगड़ा जोर से तो एकदम से वो चिल्लाई. फिर चाय के कप मेज पर रखने की आवाज आई पर मुझे आँखें खोल कर देखने की हिम्मत नहीं हुई।फिर अचानक …दोस्तो, आपको मेरी सेक्सी शरारती कहानी कैसी लग रही है? मुझे मेल करके बतायें, मेरा मेल आई डी है[emailprotected]कहानी का अगला भाग:वासना के वशीभूत पति से बेवफाई-2. मेरा एक हाथ उसकी कमर पर था।मैं धीरे-धीरे उसकी कमर सहलाने लग गया और वो भी मेरे आगोश में आ रही थी। मेरी बढ़ी हुई धड़कन की आवाज बिल्कुल साफ़ सुनाई दे रही थी।बड़े ही प्यार से मैंने उसे उठाया और उसके साथ खड़ा हो गया.

शरीर बिल्कुल गठीला है और लंड भी काफी दमदार है जो किसी की भी प्यास बुझा सकता है. मुझे लगा शायद आज कुछ बन जाये! लड़कों का दिमाग हमेशा वहीं लगा रहता है. झटपट सेक्सी वीडियोमैं बोला- अरे यार इतनी शर्मा क्यों रही हो … तुम्हें चोदने के लिए उतारा है.

आह्ह … काजल की चूत … आह्ह … उसकी चूत में लंड को पेल दूं … स्स्सस … काजल के चूचे … उसके नंगे चूचे … हाय … काट लूं उसके चूचों को … पी जाऊं उनको दबा कर … आह्ह स्स्स … मन में ऐसे उमड़ते भावों के साथ मैं अपने ही हाथ से अपने लंड को बुरे तरीके से रगड़ने लगा.

अब आगे:उस शाम के डिनर के बाद मेरी और अदिति की दोस्ती की शुरुआत हो चुकी थी. मुझे कभी भी कुंवारी लड़कियां पसंद नहीं आईं, क्योंकि वे नखरे बहुत करती हैं.

मैं लगातार आंटी की चुत से लेकर गांड के गोल गोल गुलाबी छेद तक चटाई कर रहा था और बीच बीच में कभी टीना आंटी की बुर में और कभी गांड के छेद में जीभ भी अन्दर कर देता. बीच बीच में वो अपने पे माथे पे आ रहे बालों को पीछे करती तो और भी सुन्दर लगती. जिंदगी में पहली बार मुट्ठ मारने में इतना मजा आया मुझे क्योंकि रात को तो मैं थका हुआ था लेकिन रात भर नींद लेने के बाद लंड में एक अलग ही जोश भर गया था और सुबह-सुबह की एनर्जी थी लौड़े में।तभी मेरी नज़र वहां पड़ी हुई ब्रा और पैंटी पर पड़ी.

जैसे ही रीना ने फ्लैट का दरवाजा खोला वह बोली- वाह राज, क्या बात है! इस चुदाई मंच को तो तुमने बड़ा ही मनमोहक बना रखा है, शानदार खुशबू और क्या सफाई है, रंग बिरंगी रोशनी। बिल्कुल वैसा ही जैसा कि हमने सीमा और श्लोक के साथ सामूहिक अदला-बदली करते वक़्त सजाया था।मैं- जी रीना जी, बातों को एक तरफ रखिए.

”थोड़ी देर में मम्मी आ गयी।मालिनी आज दिन में आराम कर लो, शाम को तुम दोनों को एक पार्टी में जाना है. शिशिर मेरी चूत में कभी अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोद रहे थे, तो कभी वो अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाल कर मेरी चूत में उंगली कर रहे थे. मैं लम्बे समय से अन्तर्वासना का पाठक हूँ और मैंने इस साइट पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ी हैं.

मां और बेटे का सेक्सी चुदाई वीडियोइधर खेत में आराम से चोदने की जगह नहीं थी, तो मैंने उसे खड़ा होने को कहा. थोड़ी देर तक उसके लंड से चुदने के बाद मैंने उसके लंड को चूसना शुरू कर दिया.

सेक्सी सेक्सी site:www.amazon.in

ऊपर उठती तो आधा लण्ड चूत से बाहर निकल आता, नीचे जाती तो लण्ड का सुपारा उसकी नाभि से टकराता. बीवी- आप बहुत गन्दे हो गए हो, स्कूल नहीं जाना है क्या? जाईये तैयार हो जाईये. मैंने एक बार फिर अपनी आंखें बन्द कर लीं और जो भी कुछ रेखा मेरे साथ कर रही थी, उसी आनन्द में मैं सरोबार होने लगा.

मैंने चार उंगलिया पेल दीं, उसने लौड़ा मुँह से निकाला और चीख उठी- आह आहह आहह …उसका एक हाथ मेरे लौड़े पे अभी भी चल रहा था. नम्रता के निप्पल टाईट होने लगे थे, जो अभी तक सूखे हुए अंगूर की तरह लग रहे थे. बात करते हुए बीच-बीच में अजय ऋतु की जांघ पर हाथ फेर देता था जिसको लेकर ऋतु बिल्कुल भी परेशान नहीं दिखाई दे रही थी.

उनकी मैक्सी का गला इतना बड़ा होता था कि अगर भाबी कभी झुकी हुई दिख जाती थीं, तो मुझे उनकी दोनों चुचियां बाहर आती हुई दिखने लगती थीं. मैं आपको तहे दिल से और सभी कन्याओं और भाभियों को लंड खड़ा करके नमस्कार करता हूँ. उसे देखकर लग रहा था कि साथ लेकर घूमने लायक तो नहीं, मगर ये बंद कमरे में चोदने लायक जरूर हो सकती है.

एक काम करो ना, तुम मेरे घर पे आओ न … वहीं साथ में बात करते करते टीवी देखेंगे. इन दोनों पर तुम्हारा सबसे पहले हक बनता है, बल्कि तुम्हें तो खुश होना चाहिए कि तुम्हें और दो चुत की सील तोड़ने मिलेगी.

मैं पैर को झुक कर सहला रही थी, तो मेरी नजर बेड के नीचे पड़े कंडोम पे पड़ी.

जब भी वो पानी लेने या नहाने जाती थीं, मैं छुप कर देखने की कोशिश करता रहता था. पंजाबी सेक्सी ब्लू फिल्म पंजाबी सेक्सीकुछ देर चुदाई के बाद निहारिका को दर्द होने लगा क्योंकि अब तक वो 2 बार झड़ चुकी थी. मस्तराम की हिंदी सेक्सी कहानीक्योंकि वो जितना मुझसे चिपकती, मैं भी उसे और कसकर अपने से जकड़ लेता. मन तो कर रहा था कि भाभी को काफी देर तक जम कर चोदूँ मगर चूत इतने दिन बाद मिली थी तो ज्यादा देर मैं रुक नहीं पाया.

उस रात का इंतज़ार मैं जानता हूँ या मेरा लंड! दो बार मैंने मुठ मारी पर लंड शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा था.

मेरा प्यार का नाम प्रिंस है। मैं दिल्ली के पास फरीदाबाद (हरियाणा) में रहता हूं। यह मेरी पहली कहानी है अगर इसमें कोई गलती होती है तो माफ कर दें। वैसे तो मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूं लेकिन पहली कहानी लिखने की हिम्मत आज हुई है।कहानी को शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में कुछ और भी बताना चाहूंगा. चाची मुझ पर गुस्सा करने लगीं- अरे ये क्या कर रहे हो जीशान? छोड़ो मुझे. मेरी सहेली डॉली ने बतलाया था कि जब सील टूटेगी तो थोड़ासा दर्द होता है पर ऐसा दर्द होगा इसकी तो मैंने कल्पना भी नहीं की थी.

मैंने अब अपने लंड में वैसलीन लगा ली और थोड़ी वैसलीन उसकी चुत पे लगाकर उसके ऊपर लंड सैट कर दिया. एक घंटे सोने के बाद मैंने उसको अपनी बांहों में ले लिया और चूमने लगा. फिर वो बोला कि कल वो मेरे घर आयेगा और वहां पर आकर बाकी की सारी डिटेल बतायेगा.

१६ सल की सेक्सी फिल्म

एक दिन मेरी गर्लफ्रेंड मिलने आई, तो मैंने फ्लैट पर ले जाकर उसके साथ सेक्स किया. फिर ताऊ जी ने चाची को चोदते हुए बोला- आज रात को मैं उसका चोदन करूंगा, तुम उसे मेरे पास भेज देना. जब हम दोनों चाय पी रहे थे, तो उसने पूछा- बाबू आपको कैसी औरत पसंद है?मैंने कहा- जैसी भी हो … मगर जिस्म तुम्हारे जैसा हो, तो मजा आ जाए.

उसने हीना के ब्लाउज तक हाथ भी बढ़ाए मगर हीना ने उसके हाथों को रोकते हुए समीरा के आने के डर का इशारा कर दिया.

तू कली से फूल बन चुकी है लड़की से औरत बनाया है मैंने तुझे और तेरे स्वर्ग का द्वार हमेशा के लिए खुल गया है.

बस उस दिन के बाद अपने घर पर मेरा ये लगभग रोज का ही नियम बन गया कि मैं रात में बिस्तर में नंगी हो जाती और अपनी टांगें ऊपर उठा कर घुटने मोड़ लेती और एक उंगली से अपनी चूत का दाना या मोती सहलाती और चरम आनन्द पा कर सो जाती. काफी देर बाद जब मेरी नींद खुली … तो सब लोग खाना खाने के लिए मुझे बुलाने लगे. मैडम की सेक्सी कहानीमैं उसके होंठ छोड़कर उसकी शर्ट ऊपर करके उसकी चूची चूसने लगा, वो अब वासना में जलने लगी थी और मेरा लंड पकड़कर मसलने लगी थी.

अब वो मुझे मेरे सीने और गले पर पागलों की तरह किस करने लगी और काटने लगी. मैंने उसकी जांघों को दोनों हाथों से पकड़ कर दोनों तरफ फैला दिया और उसकी चूत पर लंड को लगाकर पहले हल्का धक्का दिया तो टोपा घुस गया. अंकल थोड़ी देर रुके और फिर उन्होंने पूरे जोर से एक और शॉट लगाया जिस वजह से उनका मोटा और लंबा लंड मेरी मां की चूत में पूरा उतर गया.

वहां एक भैया-भाभी अपने बच्चों के साथ रहते थे।आंगन में पहुंचने के बाद मैंने भाई को आवाज लगाई तो भाभी ने जवाब दिया- देवर जी अभी घर में कोई नहीं है इस वक्त. उसके बाद से जब भी उसके पति अजय का बाहर जाना होता, भाभी के बिस्तर में मेरी बर्थ पक्की रिजर्व रहती.

वैसे मैं बहुत व्यस्त रहता हूँ, मुझे सिर्फ अपने सेक्स के अनुभव शेयर करना पसंद हैं, इसलिए कहानी लिखता हूँ.

अब मैं भी कंट्रोल नहीं कर पा रहा था और मैंने उसके लंड को अपने हाथ में पकड़ कर हिलाना और सहलाना शुरू कर दिया. मैं- तो क्या हुआ, उम्र तो केवल उम्र होती है … एक दो साल के फर्क से क्या दिक्कत है?इस पर भाभी एकदम से बोलीं- अच्छा उम्र की कोई दिक्कत नहीं है तो ये बताओ कि मैं तुम्हें कैसी लगती हूँ. हमारी दोस्ती काफी अच्छी है और अक्सर हम दोनों एक दूसरे से हंसी मजाक करते रहते हैं.

सेक्सी बफ वीडियो में हिंदी अब मैं 19 साल की हो चुकी हूँ और उसके पति के साथ अभी भी मजा लेती रहती हूँ. जब मुझसे रुका न गया तो मैंने उसका मुंह अपनी तरफ घुमा लिया और उसके होंठों को चूसने लगा.

उस दिन मुझे बहुत गर्व हो रहा था अपने भाई के लंड पर। मगर मैंने अपने भाई के मोटे लंड से चूत को चुदवा कर मजा लेना जारी रखा. हाँ मेरे दोस्तों की बात अलग थी लेकिन यहां पर तो मैं अपनी रिश्तेदारी में आया हुआ था और वो मेरी भाभी लगती थी. साहिल ने उसको पहली बार देखा था तो साहिल की नजर उस पर से हट नहीं रही थी.

पुलिस वालियों की सेक्सी

क्योंकि मैंने नशे में उन्हें गले तो लगा लिया था, पर अब मुझे उनकी सांसें मेरी छाती पर महसूस होने लगी थीं. चूत के लबों को फैलाकर लण्ड का सुपारा रखा और डॉली को कमर से पकड़कर नीचे दबाया, सुपारा अन्दर चला गया तो मैंने उससे कहा- और नीचे दबो. मैंने रश्मि की चूचियों को कपड़ों के ऊपर से ही दबा दिया और उसकी चूचियों को अच्छे से रगड़ने लगा.

एक रात को मैं घर पर अकेला था और उस रात मेरी बीवी भी मायके गयी हुई थी. मधु ने भी मुझे अपनी बांहों में कस कर भींच लिया और अपना चेहरा मेरी छाती में छिपा लिया.

फिर ऋतु ने खुद ही अजय से पूछा- सर, आपको मेरे अंदर कौन सी चीज़ सबसे ज्यादा पसंद आई जो आप मेरे दीवाने हो गये हो?अजय बोला- वैसे तो तुम पूरी की पूरी ही मस्त हो लेकिन तुम्हारी गांड इतनी जबरदस्त लगी मुझे कि मैं इस पर लट्टू हो गया हूँ, मैंने आज तक किसी महिला की ऐसी गांड नहीं देखी है जैसी तुम्हारी है.

एक दिन सुमन कॉलेज से आ रही थी और मैं पैदल-पैदल जा रहा था तो सुमन मेरे से बोली- राकेश कहाँ जा रहा है?मैंने उससे नजर नहीं मिलाई और उस दिन के लिए माफ़ी मांगी. इतना कहकर अंकल ने मुझे बांहों में लेकर पीछे से ब्रा का हुक खोल दिया. मैंने उसके चुचे जो कि बाहर ही थे, उन्हें दोबारा दबाना चालू किया और करीब 4 या 5 मिनट बाद मैंने कहा- मैं झड़ने वाला हूँ.

बाहर बारिश हो रही थी और हम खिड़की के पास खड़े थे तो एक दो बूंदें नेहा के शरीर पर भी पड़ रही थी जिससे नेहा की उत्तेजना और बढ़ जाती थी. तुरंत मैंने उसका घूँघट उठाया, पर अगले ही क्षण में उसने अपना चेहरा हाथों से ढक लिया. सीमा- ये क्यो जानू … क्या जान लेने का इरादा है?मैं- ऐसा ही समझो मेरी जान.

आपकी तरह गोरा है ये!चाची- बेशर्म, अपनी चाची के सामने ऐसे ‘लंड’ बोलते हुए शर्म नहीं आती तुम्हें?मैं- चाची, अगर लंड को लंड नहीं कहूँगा तो फिर और क्या कहूँगा?चाची- तू तो बहुत ही बेशर्म और कमीना है.

सेक्सी बीएफ गांव वाली: उसकी बड़ी बड़ी सुरमयी आंखें, खुले बाल, चाँद की रोशनी में चमकते उसके रसीले होंठ. उसने सफेद रंग का गाउन पहन रखा था जिसके अंदर से उसकी लाल ब्रा और काली पेंटी दिखाई दे रही थी.

कमसिन कॉलेज गर्ल के साथ मेरी सेक्स कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि डॉली को चोदने के बाद हम दोनों नंगे ही लिपटकर सो गये. उधर वो भी लंड का अहसास पाकर बोल रही थी- जल्दी से अन्दर डाल दे … मुझे कुछ खुजली जैसी हो रही है … जल्दी से अन्दर डाल दे. हम दोनों ने चाय पी और चाय पीने के कुछ देर बाद मेरा प्रेशर बनने लगा.

फिर उसने नारियल के तेल की शीशी से तेल निकाल कर अपने लंड पर लगाया और थोड़ा सा तेल मेरी चूत के मुंह पर भी लगा दिया.

पुष्पिका की चूत चोदने की प्लानिंग दिमाग में चल रही थी मगर समझ नहीं आ रहा था कि यह सब होगा कैसे? यही सोचते-सोचते मैं कब सो गया, पता ही नहीं चला।सुबह मेरी बहन पुष्पिका की आवाज से ही मेरी आँखें खुलीं. जब वह अपनी पैंटी निचोड़ कर तार पर डालने लगी तो मैंने झट से आंखें खोल दी. मैंने आंटी को घोड़ी बनाया और पीछे से मैंने लण्ड उसकी चूत में डाल दिया.