बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो

छवि स्रोत,बड़ी चूची वाला सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

कार्टून वीडियो सेक्सी: बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो, देखा तो पीटर अपने लंड से रिया की गांड का तबला बजा रहा था और वो जोरों से चीखे जा रही थी.

रियल सेक्सी ब्लू पिक्चर

2 मिनट बाद वो अपनी चड्डी मुँह में फंसा कर पूरी नंगी होकर बेड पर आई और बोली- आज रात की हर हुई और होने वाली गलती के लिए पहले से माफ़ी मांगती हूँ, और तुम मुझे माफ़ करोगे यही मेरी दोस्ती का गिफ्ट होगा. पूनम पांडे का सेक्सीऔर मेरी तरफ देखा और मुझे आँख मार कर बोला- जा गाड़ी निकाल कर ला जल्दी!मैं झट से भाग कर गया और सुमित वाली कार लेकर आया.

तुम्हें भी मैं वक़्त पर पैसे भेज दूँगा, मगर मेरी जरूरत को पूरा करने के लिए मुझे तो कोई जुगाड़ करना ही होगा. बिहार सेक्सी देसीफिर उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर कहा- अशोक, अब मत तड़पा, जल्दी से घुसा दे, अपने मोटा लंड मेरी चूत में.

जब शाम को मुझे ड्यूटी पर जाना था तब मैं उसको उठाने गया तो ऐसा लग रहा था कि बेड पर सोनाक्षी सिन्हा लेटी हुई है.बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो: चलो आगे बढ़ते हैं।उधर दोपहर तक गोपाल सुकून की नींद सोता रहा, तब तक मोना ने भी अपने आपको संभाल लिया था और खाना बना कर फ्री हो गई थी।मोना ने गोपाल को उठाया और खुद टीवी देखने बैठ गई।तकरीबन आधा घंटा बाद गोपाल फ्रेश होकर आया और मोना को पीछे से बांहों में जकड़ लिया।मोना- ये क्या है गोपाल.

उन्होंने एक बार कहा था कि तुम हमारी बहू नहीं बेटी हो।राजू- अरे तू काका के कारनामे नहीं जानती। वो ना जाने गाँव की कितनी बहू बेटियों को चोद चुके हैं। तुझे छूने के लिए उस दिन उन्होंने ऐसा कहा था और ये सामने देख ना.कभी लंड की स्पीड को कम कर देता तो कभी एकदम तेज़ जिससे उसके और मेरे चुदाई की एक्साईटमेन्ट ख़त्म न हो और बढ़ जाये.

सेक्स वीडियो सेक्सी वीडियो सेक्स - बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो

तुम्हारा पढ़ाई में मन नहीं लगता है और तुम इधर-उधर की बातों में ही दिमाग लगाए रहते हो.शादी वाले दिन सुबह ज़ब सब तैयार हो रहे थे, मैं और मेरी दीदी भी तैयार होने बाथरूम गई.

नर्म और गोल, जिस पर बड़ा सारा निप्पल खड़ा था, मैंने उसका निपल छुआ तो उसने अपने हाथ से अपना बोबा पकड़ कर मेरे मुँह से लगा दिया, मैं किसी छोटे बच्चे की तरह उसका बोबापीने लगा. बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो मामा जी को भी लगा कि मेरी चूत पूरी गीली हो गई है, उन्होंने मुझे किचन की स्लैब पर बैठा कर मेरी दोनों जाँघों को फैला कर अपनेहोंठ मेरी चूत के होंठों से लगा दिए।मेरी चूत से एक भीनी भीनी सी खुशबू आ रही थी जो मामा को पागल बना रही थी.

मैं धीरे धीरे अपने हाथ का दबाव बढ़ा रहा था तो अब भाभी को सब समझ में आ गया था, वो बोली- मुझे छोड़ और यहाँ से जा!पर मेरे ऊपर वासना चढ़ चुकी थी तो मैंने उन्हें बेड पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उनके होंठों को चूमने लगा.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो?

फिर कभी… आज नहीं…’ कहने लगी लेकिन मैंने उसको छोड़ा नहीं और हल्के से उसके गाल पे फिर से चूम लिया।‘हो गया अब… प्लीज… अब बस्स. क्योंकि अब चाची को आनन्द आने लगा था इसलिए उत्तेजना वश वह भी तेज़ी से उचकने लगी थी और उनकी योनि में रुक रुक कर संकुचन होने लगा था. गौरव का लंड विकास से भले ही छोटा हो पर रोहन से काफी बड़ा था, मैं तड़प उठी… दर्द के मारे छटपटाना चाहती थी पर तीन कसरती बदन वालों की जकड़ में छटपटा पाना भी मुश्किल था और मुंह में बड़ा सा लंड था तो चीख भी ना पाई, बस आंसू बहे जो गालों पर ढलक गये, और उस कमीने ने तो चुदाई दो मिनट रोकी भी नहीं, बस पेलता ही चला गया.

तभी जमीला का फोन बजा, उसने फोन उठाया और बोली- हेलो, हाँ आ रहे है वापिस, बस 5 मिनट में घर पहुंच जाएंगे. उसने कीकू की स्कर्ट में हाथ डाल कर उसकी चड्डी उतार दी और मेरी तरफ फेंकी, मैंने वो चड्डी कैच की और अपने मुँह के पास ले जा कर सूंघी. दो घंटे में संजय ने पूजा को 3 बार चोदा उसको एकदम थका दिया और फिर दोनों चिपक कर सो गए.

मैंने तुरंत उठ कर माला का ब्लाउज एवम् पेटीकोट उतार कर उसे नग्न किया और फिर अपनी टी-शर्ट एवम् लोअर उतार दिया. उसके ठोस संतरों को दबाते हुए मैं अब तेज़ी से धक्का लगाने लगा था और मेरी रांड बहनिया के मुँह से सिसकारियाँ फूटने लगी थीं. मैं तुम्हें कपड़े ही पहनने न दूं और दिन रात तुम्हारी देसी चुत मारता रहूं.

और स्पीड बढ़ने के साथ-साथ उसकी जांघें मेरे गालों से आकर टकराने लगीं और फट-फट की आवाज़ होने लगी. मैंने वो पहले से ही खुला छोड़ दिया था तो ऋतु दरवाजा खोलकर अन्दर आ गई उसने गाउन पहन रखा था.

मैं तो सीधा स्वर्ग में ही पहुँच गया… मैंने कहा- ये तो और भी अच्छा है.

‘गुड़िया बेटा, अब तुम चूत को खोल दो अच्छी तरह से!’मेरी सुनकर उसके चेहरे पर लाज की लाली दौड़ गई लेकिन उसने अपनी चूत के दोनों होंठ पूरी तरह से खोल दिए मेरे लिए और अपना मुंह दीवार की तरफ करके परे देखने लगी.

वो मैंने बताया था ना सूरत में एक नई कपड़ा मिल खुली है। बस कई दिनों से उससे बात चल रही थी। अब दुकान में वहाँ से कपड़ा मँगवाएगे तो ज़्यादा फायदा होगा। शाम को उनसे बात हुई. मैंने अपनी जीभ निकाली और सबीना की चूत के होंठों को चाटने लगा, फिर जीभ को होंठों के भीतर घुस कर चाटने लगा फिर चूत के दाने को चाटने लगा और चूसने लगा. तेरे लिए ही अकड़ के फौलाद के रॉड जैसा हो गया है ये सण्ड मुसण्ड… आजा फटाफट.

इतने में वह अनोखे लाल सक्सेना हाज़िर हो पड़ता है- क्या हाल है भाबी माँ के?सक्सेना अपनी पागलों वाली मुस्कान देते हुए बोला. मेरी एक कजिन सिस्टर थी, आज से दो साल पहले उसकी शादी थी, तो हम शादी में गए थे. फिर मैं मैडम की चूत से लंड निकाल कर कपड़े पहन कर बाहर आ गया, मैडम बेड पर लेटी रही.

गुलशन- क्या कभी पहले भी तूने अपना पानी निकाला है? सही बताना या किसी के साथ ये सब किया हुआ है?अनिता- ये कैसी बातें कर रहे हो आप… मैं एकदम कुँवारी हूँ, मैंने कभी ऐसा कुछ किसी के साथ नहीं किया… हाँ बस कभी कभी नहाते वक़्त मन में कुछ उत्तेजना आ जाती तो चुत को ऊपर से रगड़ कर पानी निकाल लेती थी.

अब मैंने अपने आप को पीटर के हवाले कर दिया और आँखें बंद करके गांड मरवाने का मजा लेने लगी. अब जब भी मेरा मन गुलामी करने का या मार खाने का होता है तो उसके यहाँ चला जाता हूँ. मैंने पूछा तो वो बोली- तेरे सर में इतनी ताकत नहीं है कि वो रास्ता बना सकें!मुझे थोड़ी हंसी आई तो उन्हें थोड़ा दर्द हुआ और पूरा लंड उनकी चूत में…मुझे थोड़ा सुकून मिला दर्द से और उनके थोड़े आंसू…थोड़ी देर बाद सब सामान्य हुआ तो फिर चलाई मैंने असली चुदाई, दे दनादन दे दनादन… लगभग 20 मिनट के बाद वो और फिर मैं एक के बाद एक अंदर ही झड़ गए.

मेरी टाँगें राजे की कमर से अभी भी लिपटी हुई थीं, मगर मेरा बाकी का बदन बिस्तर पे था. हम दोनों ने 15 मिनट तक चुदाई का मजा लिया और शालू झड़ कर मेरे ऊपर ही ढेर हो गई. तो चल तू जल्दी शहर आ जा, मैं किसी अच्छे डॉक्टर से तेरा इलाज करवाऊंगी.

जो मैं आपको बताने जा रहा हूँ।मेरा नाम सौरभ है, मेरी उम्र 27 साल की है, मैं यूपी का रहने वाला हूँ लेकिन अभी मैं दिल्ली में रहता हूँ। मेरे घर में पापा-मम्मी भाई-भाभी और एक भतीजी है। मेरी एक छोटी सिस्टर सोनी भी है.

तो मैंने थोड़ी देर में हाथ भी रख दिया और दबा भी दिया।इस बार उन्होंने थोड़ा सा आह किया और मुझे किस करके खुद से और ज्यादा जोर से चिपका लिया।मैं ऐसे ही पूरी रात उनके चूचों पे हाथ रखके सोता रहा. अब चलो मैं राधा को नीचे ले जाता हूँ तुम दोनों ये खराब चादर वो सामने जो अनाज का कमरा है.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो इस अचानक हुए एक्शन से उसका निप्पल मेरे मुख से निकल गया और वो उठ कर साइड मेरे अंडरवियर की ओर आई और बोली- मुझे माफ करना, पर आज मैं अपनी सभी फंतासी तुमसे पूरी करुँगी. नहीं तो झड़ जाएगा।मैं- आगे से ध्यान रखूँगा।कुछ देर भाभी मुझे सहलाती रहीं।इतने में मेरा लंड फिर से टाइट हो गया और मैं धीरे-धीरे अपना लंड उनकी गीली एकदम टाइट चुत में आगे-पीछे करने लगा।‘आह्ह.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो मैं उनके घर सुबह 9 बजे पहुँच गया। आंटी ने दरवाजा खोला और मुझे अन्दर बुलाया। मैंने उन्हें अपना नाम विशाल बता दिया। मैं सोफे पर बैठ गया और वो अन्दर चली गईं।मैं बस उनकी चिकनी पीठ और ठुमकती गांड को घूर रहा था। वो चाय लेकर आईं और मेरे साथ चाय पीने बैठ गईं।आंटी ने अपना नाम पल्लवी बताया। उनके पति का दिल्ली में एक्सपोर्ट का बिजनेस था, वो 15 दिन में एक बार ही घर आ पाते थे।चाय पीते हुए मैं उनको घूर रहा था. मैं- आहाह… तुम्हारी चूत भी मजेदार है, उईई लो न… चोद तो रहा हूँ… पूरा लंड पेल रखा है, अब कितना चाहिए इईई ले मेरी रानी उईई.

मोटे कठोर लंड का प्रहार चूत की नसों को अधिकतम सीमा तक पसार देता है जिससे खिंचाव और दर्द होता है चूत को.

इंग्लिश हिंदी बीएफ पिक्चर

मगर जब मैंने दोबारा उसके चूचों पर अपना पाँव लगाया तो मौसी ने मेरा लुल्ला पकड़ कर फिर से अपने मुँह में ले लिया और लगी चूसने. सुमन- दीदी प्लीज़ बताओ ना आप पहली बार संजय सर से कैसे चुदी थीं?टीना- ये क्या सर सर लगा रखा है, अब संजय बोला कर. पलंग पर लेटा दिया और मुझे हर जग़ह चूमने लगा। अब पैग का नशा मुझ पर भी चढ़ने लगा। मुझे अजीब सी सिहरन होने लगी और मजा आने लगा।फिर उसने मेरी ब्रा खोल दी और मेरे मम्मों को चूसने लगा। मैं पागल सी हो गई.

मेरे हाथ पीछे उसकी गांड पर चले गए और वो मेरी कमर को पकड़ के खड़ी हुई थी. उसे चूचे एकदम से उछल कर बाहर आ गए और मेरी तरफ प्यार से अपना सर उठाने लगे मैंने उन को अपने होंठों से दुलारा और फिर एक चूचे को अपने मुँह में भर कर उनका मधुर रस पान करने लगा. बस तू मन से सब करना और एक बात का ध्यान रखना कि जीजू को हमारी बातें बिल्कुल मत बताना.

मैंने दोनों से कहा- यार, इतनी भी क्या ठरक है जो फिर से शुरू हो गए?इस पर रिया बोली- तुझे नहीं चुदना तो मत चुद… मैं तो आज सारी रात चुदूँगी.

मैंने देखा तो पाया कि मेरी बहन ने अपनी चुत के बालों को साफ़ कर लिया था. फिर मैं अन्दर गया, उन्होंने मुझे सोफे पर बिठाया और बोला- क्या लोगे चाय या कॉफ़ी?मैंने उनके तने हुए मम्मों की तरफ देख कर कहा- आप जो पिला दो वो पी लूंगा. हमें लगा कि शायद महक और राजेश आ रहे हैं, सो हम अलग होके अपने कपड़े ठीक कर हॉल का दरवाजा खोल कर वापस सोफे पे बैठ गए।प्रिया पूरी लाल हो गई थी, उसके गोरे निखार के वजह से पहचान में आ रहा थी कि ये बहुत रोई है।पर सोफे पर बैठने के बाद उसने मुझे किस कर थैंक्स कहा और बोलीं- रोहन आज मुझे बहुत अच्छा लगा.

मुझे भी लंड चूसने में मज़ा आ रहा था और मैं मस्ती में लंड चूस रही थी. जब मेरी चूत ढीली हो जाएगी।मामा भी समझ गए कि मेरी चूत का छेद बहुत छोटा है. उसकी ओर देखते हुए मैंने मुड़ कर अपने शरीर की दिशा को उसकी तरफ कर दिया ताकि वह मेरे तने हुए लिंग को भी अच्छी तरह से देख ले.

फटी हुई एड़ियाँ, बदशक्ल नाख़ून, ये सब फूहड़पन से मुझे बहुत अधिक चिढ है. इस सब का किसी को भी पता नहीं था कि हम ये सब बहुत कुछ सच में करते थे.

अब ऐसा नहीं करूँगी प्लीज़ छोड़ दो।दोस्तों संजय का लंड एकदम लोहे जैसा सख़्त हो गया था. धक्के के साथ ही मैडम की ज़ोर की चीख निकली और मेरा पूरा लंड अब चूत के अंदर था. मैं और सासू माँ अपने अपने कमरे में सोने चली गई मगर फूफा जी इतने टाइट हो गये कि उनसे चल पाना भी मुश्किल था.

बहुत बढ़िया दुकान है। उसमें एसी भी लगा है और हाँ पता है चाय कितनी महंगी है.

उसकी बात सुन कर मैंने कहा- अम्मा, तुम जैसा ठीक समझो वैसा ही प्रबंध कर दो. रयान को तो डबल बेडरूम फ्लैट चाहिए था जिससे आज नहीं तो कल निष्ठा आ ही जाएगी वो आराम से रह सकें. बस ऐसे ही लेटी रहने दो मुझे!’ वो बोली और अपनी चूत एक दो बार रगड़ी मेरे लंड पे और फिर शान्त होकर लेटी रही.

सुमन अब किसी रंडी की तरह बर्ताव कर रही थी, उसने पूरे पैरों को फैला दिया और चूत को मॉंटी के सामने कर दिया ताकि वो उसको आराम से चूस सके. शनिवार की सुबह मैं घर से निकला और रास्ते से नेहा को पिक किया और एक लिप किस के साथ हम दोनों मिले उसके बाद मैंने अपनी कार को सीधा कर दिया मनोज के घर की तरफ, मनोज का घर करीब हमारे घर से से 1 घंटे की दूरी पर है.

मैं सुमन (बदला हुआ नाम) मेरे घर के पास ही मेरी फ्रेंड दीपा रहती है उसके घर में मम्मी ऊषा आंटी और उसके शराबी पापा हैं और वो मेरी अच्छी दोस्त है. उस टाइम मैंने टाल दिया कि अभी वो लोग भी होली में व्यस्त होंगे इसलिए मैं शाम को उसके साथ यह बात छेड़ूँगी. कुछ भी बोल देती हो आप, मुझे नहीं देखना उनका सेक्स और अब ट्राई की क्या ज़रूरत, पापा ने तो ड्रेस दिला दिए ना!टीना- नहीं तुम ट्राई ज़रूर करना, तेरे पापा ने ड्रेस क्यों दिलाए.

मुस्लिम के सेक्सी बीएफ

मेरे मुख से भी झड़ते समय की सिसकारियाँ निकल रही थी- ओह मेरी रांड… लंडखोर… कुतिया… साली मेरे लिए रूक… मेरा भी अब निकलने ही वाला है… ओह… रानी मेरे लंड के पानी भी अपने बुर में ले… ओह ले… ओह सीईईई…‘आआईयई ईई मेरे अंदर पानी मत निकालना छोटू आऐईयई ईईई…’ दीदी ने मुझे रोकने की कोशिश की पर मैं उस समय दूसरी दुनिया में था ‘आआहह… आआअहह’ करके मैंने झरना शुरू किया और अपना वीर्य उसकी बुर में निकालना शुरू कर दिया.

अब उसने मेरी बहन की चूचियों को अपनी हथेलियों में भरकर मसलना शुरू किया तो मेरी बहन अपने बदन को उत्तेजना के साथ ऐंठने लगीं. उसने अपनी उंगलियों से मेरे गालों को दोनों तरफ से भींच दिया और मेरे होंठ खुल गए और अपना लौड़ा वहीं पर मेरे मुंह में दे दिया और बालों को कसकर पकड़ते हुए तेजी से लंड को मेरे मुंह के अंदर बाहर करने लगा. शायद उसके मन में यही चल रहा होगा कि भभूति जी भी उनके सुडौल एवं मुलायम स्तनों को दबायेंगे, चूसेंगे, उसकी निप्पल को काटेंगे, जैसे हर बार लड्डू के भैया करते हैं.

फिर मैंने (शालु) उससे बोला- तुम अपने भाई से क्यों नहीं चुदवाती हो?वो बोली- पागल हो क्या?शालु ने बोला- मैं तो अपने भाई से खूब चुदवाती हूँ।मतलब कुल मिला कर मैंने सोनी का मन अपने भाई से चुदवाने की तरफ कर दिया।सोनी ने शालु से पूछा कि यदि मेरा भाई गुस्सा हो जाए तो?शालु बोली- कुछ नहीं होगा. मैं समझ रहा था कि वो क्या कर रही है पर अपने जज्बात दिखाकर मैं बात को खराब नहीं करना चाहता था. सेक्सी साली कीजमीला- बहन के लौड़े राजेश, ऐसे मेरी चूत फाड़ ही डालोगे, कितनी बेरहमी से पेला मस्ताना को… रहम नहीं आया तुझे मेरी चूत बेचारी पर?मैं- आहह चूत बेचारी… साली दिन से कितनी बार ले चुकी और चुद चुकी है और बेचारी चूत जब तो कहती हो.

अब तो आलम यह है कि लड़कियाँ आँखों को देखकर ही अंदाज़ा लगा लेती हैं कि मेरी नज़र कहाँ पर है और तब तक नहीं हटती जब तक लड़की का पूरा फिगर नाप ना लूँ. राजे से सम्बन्ध बनने के बाद मुझे गन्दी गालियाँ देकर बात करने और खुले शब्दों का प्रयोग करने की मज़ेदार, मस्त आदत पड़ गई थी.

क्लिटोरिस जिसे हिंदी में भगनासा कहते हैं एक लड़की की सबसे अधिक सेंसिटिव जगह होती है. लिप्स को लिप्स से लगाने में हमारी जीभ एक दूसरे से मिल गई और साँसों के साथ साँसें टकरा गई. मैंने जब आँख खोली तो देखा कि मामा आज मुझसे पहले ही जाग गये थे और मेरी चुची सहला रहे थे.

गुलशन जी अब हावड़ा मेल की स्पीड से चुदाई करने लगे थे और अनिता इस हमले को सह नहीं पाई, उसकी चुत का झरना बहने लगा. साथ ही साथ रुस्लान भी पीछे खड़ा हुआ अपने भारी लंड को भरी हुई गांड में ठूंसने की कोशिश करने लगा!दोनों मर्दों ने अपने आधे-आधे लंड मेरी धर्मपत्नि की गांड में ठूंस कर चुदाई शुरू कर दी. एक बार तुम्हारी चुत में मेरा लंड चला गया तो तुम इसकी ऐसी दीवानी हो जाओगी कि हर समय बस इसको ही माँगा करोगी मेरी जान!मानसी- छी छी छी… ये क्या गंदे तरीके से बात कर रहे हो? और किसने कहा कि मैं वो सब करना चाहती हूँ? थोड़ी तेहज़ीब से बात करो, एक लड़की से बात कर रहे हो तुम मिस्टर जस्सी!उसका इतना कहना था और मेरे खड़े लंड पे जैसे धोखा हो गया.

लेकिन मुझे अक्सर लड़के और मेरे रूममेट के हंसने की और खुसर-पुसर आवाजें आती थी.

कुछ देर मेरी चुत सहलाने के बाद आकाश ने मेरी ब्रा और पेंटी उतार कर मुझे नंगी कर दिया और खुद भी सारे कपड़े उतार कर नंगा हो गया!जब आकाश ने अपने कपड़े उतारे तो उसका लंड देख कर हैरान हो गई उसका लंड भी दीपक के लंड की तरह खूब बड़ा और मोटा था. फ्लॉरा गहरी नींद में थी या ऐसा कहो नींद की दवा के असर से बेसुध पड़ी थी मगर उसके नाज़ुक जिस्म के साथ जॉन जो वासना का गंदा खेल शुरू कर चुका था, उससे वो तड़पने लगी थी.

चुची के क्या कहने! बहनचोद बड़े बड़े मर्दों को बहका देने वाली चुची… मादरचोद कम से कम 42 की ब्रा डालती होगी और वो भी डी कप वाली. दोस्तो दोपहर को कॉलेज के बाद फ्लॉरा भी तो घर ही जाती है, चलो आज हम उसके घर का हाल भी देख लेते हैं. बिल्कुल संतुष्ट!आज मैंने चार लड़कियों की चूत चाटी थी और पूजा ने मेरा लंड भी चूसा था और साथ ही साथ आठ हजार रूपए भी कमाए थे।अगले दिन जैसा मैंने सोचा था, उन सभी लड़कियों ने आकर मेरा लंड एक-एक करके चूसा और मेरा वीर्य भी पिया.

संजय ने अपने हाथ छुड़ाए और पूजा को नीचे पटक कर उसके ऊपर आ गया और उसको गुदगुदी करने लगा।गुदगुदी करते हुए संजय के हाथ उसके संतरों से भी टकरा गए. एक अच्छा ख़ासा बड़ा कमरा था साथ में अटैच्ड वाशरूम था, आगे खुली छत थी जिसके नीचे झाँकने पर बाजार की चहल पहल दिखती थी. तेरा तो काफ़ी बड़ा है।फिर मैंने उनकी टांगें फैला दीं। दीदी की चुत पर हल्के से बाल थे.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो उनकी चूत इतनी गर्म थी कि मुझे लग रहा था कि मेरा लंड किसी ज्वालामुखी में घुस गया हो. मैं कोल्ड ड्रिंक पीने लगी और राहुल सी डी लेकर प्लेयर में लगाने लगा.

पंजाबी की बीएफ

यह सोच कर मैं भी मुस्कुरा दी और उस दूसरे ने भी अपने कपड़े उतार दिए और वो भी मेरे जिस्म से चिपक गया. मोना ने डबल मीनिंग बात कह दी और हंसने लगी, साथ में सुधीर भी हंसने लगा। फिर थोड़ी देर और दोनों इधर-उधर की बातें करने लगे। जब मोना को लगा कि सुधीर उसके रूप के जाल में फँस गया है, तब उसने पासा फेंका।मोना- सुधीर जी अब आप मुझे बताओ कौन लड़की थी जिसके कारण आप दोनों अलग हुए?सुधीर- भाभी मैंने बताया ना. मेरा दिल तो कर रहा था कि उठ कर मैं भी मौसी के चूचे दबा दूँ, मगर दूसरे बिस्तर पे माँ सो रही थी, और पिताजी भी, तो मैं हिम्मत नहीं कर पाया.

मुझे बड़ी अजीब सा अहसास हुआ।भैया समझ गए, उन्होंने कहा- प्रमिला किसी भी लड़की की सबसे नाजुक जगह उसकी नाभि और गर्दन की जगह होती है. खाना लगा दूँ बेटा?संजय- हाँ जोरों की भूख लगी है और बाकी सब कहाँ गए. एक्स एक्स हिंदी सेक्सी हिंदीगरम गरम वीर्य चूत में गिरते ही मेरा भी स्खलित होने का एक और दौर शुरू हो गया.

कि किसी लड़की ने मुझको को 9″ के नकली लंड के साथ चोदा था।ये बात तब की है जब मैं 12वीं में पढ़ता था। मैं एक चूतिया सा ही लौंडा था.

इस सब का किसी को भी पता नहीं था कि हम ये सब बहुत कुछ सच में करते थे. मैंने बैठते हुए पूछा- आंटी जी, आपने जवाब नहीं दिया?उसने मुझे पूछा- क्यों मजाक करते हो बाबू, क्या आपको सच में नहीं पता है?हाँ, मुझे सच में नहीं पता है.

कहीं वो डर के भाग ना जाए। उसके सामने तोआप चुत ही चोद लोताकि उसको लगे चुदाई में कितना मज़ा आता है. वो उठने वाला नहीं है। फिर तो उसको तो हिला-हिला कर उठाना पड़ता है।अरे क्या यार. दोनों ने अपने लंड बाहर निकाले तो नताशा की गांड का खुला छेद किसी भट्टी के मुंह जैसा लग रहा था! चेहरे पर वही एवर ग्रीन मुस्कान! खुले मुंह में शानदार गुलाबी जीभ सभी को दीवाना बना दे रखी थी.

उनका लंड पहले से भी ज़्यादा बड़ा हो चुका था करीब 10-11 इंच का… मेरी चूत लगातार पानी छोड़ रही थी… फूफा जी सीधे लेटे थे और उनका लंड भी ऊपर की तरफ तना हुआ था.

‘साले कुत्ते ये क्या कर रहा है, रुक क्यों गया ययय?’ चाची चिल्लाई मुझ पर. मैंने माला की बात सुन कर जब अपने लिंग को उसकी योनि में से थोड़ा निकाल कर देखा तो वह सचमुच में बहुत फूला हुआ दिखाई दिया. अब मैंने उन से पूछा कि अंदर के वो बाल साफ करने के लिए क्या भाई साहब आपकी मदद करते हैं?तब वो हंसते हुए बोली- हाँ लेकिन वो ऐसा कभी कभी करते हैं। हमेशा तो मुझे पूरी मेहनत करनी पड़ती है.

काली लड़की की सेक्सी चुदाईमैं एकदम भौंचक्का रह गया था और शीघ्रता से अपने लंड को अपनी https://www. 5 इंच का है, और थोड़ा कर्वी कैले जैसा है, को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

पंजाबी वाला बीएफ वीडियो

लड़कियों की तो आदत ही होती है ऐसे अपनेपन से शिकायत और प्यार जताने की!मित्रो, उसी साल नवम्बर के दूसरे हफ्ते में दीवाली थी; मुझे याद है कि फर्स्ट वीक में उसका फोन आया था. आप अपने विचार मुझे मेल कर सकते हैं, साथ ही इंस्टाग्राम पर भी जोड़ सकते हैं. रुस्लान धक्के लगाने में इतना मस्त हो चुका था कि उसे खुद भी अहसास नहीं हुआ कि कब उसका दायाँ हाथ जाकर मेरी पत्नि के उरोजों पर जा टिका, और नताशा के लिए स्थिति को असुविधाजनक बना दिया!लेकिन क्रू मेम्बेर्स ने डायरेक्टर के कहने पर इशारों में रुस्लान को हाथ हटाने का इशारा कर दिया.

रफीक बोला- राजेश भाई, जमीला को अनकटे लंड बहुत पसन्द हैं, तुम कल आओगे या परसों?मैं बोला- भाई, अब तो मसीन मोहन और कोमल का मेहमान हूँ ये जब जाने देंगे तब ही आ पाऊँगा।फिर उधर स्काइप पर रफीक जमीला के साथ 69 में आ गया और हम ऐसे ही चुदाई की बातें करते हुए एक दूसरे को दिखाते हुए लंड और चूतों की चुसाई करते रहे. पता तो मुझे था कि ये लड़कियों के सुसू करने की जगह है, पर मैं वैसे ही सो गया. रोहित इस बात को समझ गया फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया औरअपने लंड को मेरी चूत पर रगड़ने लगा.

जब मॉंटी का दम घुटने लगा तो उसने जोर से सुमन के हाथ को हटाया और अलग हुआ. अबकी बार वो भी पूरे जोश में आ गई थीं तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी. शुक्रवार शाम को हमने घर में कह दिया कि हम लेट नाईट शो देखने जा रहे हैं.

फिर मैंने उसकी चूत में एक उंगली डाल दी, ‘उईई ईई…’ कर वो मुझसे लिपट गई और वो मुझसे लिपटी रही, मैं खड़े खड़े ही उनकी चूत में उंगली करता रहा. फिर इस कच्ची कली को मसलेगा। यही सोच कर वो नीचे गया और उसकी उम्मीद के मुताबिक खर्राटे जोरों पर चल रहे थे यानि सब सो गए। वो धीरे से वापस ऊपर आ गया।संजय ने जब दरवाजा लॉक किया तो पूजा पलट गई और एक क़ातिल मुस्कान देने लगी।संजय- क्या बात है.

लंड हाथ में सटते ही चाची ने आँखें खोल दी और बोली- क्या कर रहा है… इसे क्यों बाहर किया?मैं सकपका गया, मैं लंड को पैन्ट के अंदर डाल लिया.

खैर 10-12 दिन ऐसे ही बीत गए और एक दिन भगवान ने मेरी सुन ली, हमारे रिलेशन में एक शादी पड़ी जिसमें मम्मी को जाना था, चूंकि जिस लड़की की शादी थी वो मेरी बहन की सहेली भीथी तो वो भी जा रही थी. देसी माल की सेक्सी वीडियोक्या मैं तुम्हारे पास बैठ जाऊं?’मैं भी बैठ गया और वो मेरे नजदीक आ आकर बैठ गई. हिंदी सेक्सी एडल्ट फिल्मकामुकता से वो पूरी बेकाबू होती जा रही थी।एकाएक मैंने उसे चूसना छोड़ दिया. और लंड की तरफ इशारा करके कहा- इनको भी ऐसे ही चूसो।बिमलेश बोली- दो दिन से जूनागढ़ वाली से चुसवा के दिल नहीं भरा?‘भाभी कोमल में और आप में बहुत अंतर है, आप मेरी सेक्सी भाभी हैं.

वो दोनों मेरे लंड को बाँसुरी की तरह बजा रही थी और मेरे लंड को अपने मुंह में रखकर दोनों ने फ्रेंच किस करना शुरू कर दिया.

! फिर तू तो हम सबसे ज्यादा हॉट और सुंदर निकलेगी। मैंने भी तुझपे गौर किया है तेरे तो लक्षण ही कमाल के हैं, जब तू जवान होगी तो तेरे ये बोबे. इस पर मैंने गुस्से का नाटक करते हुए चिड़चिड़ाती आवाज़ में कहा- मुझे कोई शौक नहीं है किसी पराये आदमी से चुदने का… तेरी ही गांड फ़टे जा रही थी कि मोना तुझे किसी और से चुदते देखना चाहता हूँ… मेरे को नहीं चुदाई करनी, ना राज से ना किसी और से!इतना बोल के मैं भुनभुनाती हुई दूसरे कमरे में भाग आई. और अपने भाग्य को कोसने लगी।अगर ये बात जीजाजी को बताते तो वो मानते नहीं और दीदी के ऊपर ही सारा इल्ज़ाम डाल देते।मैंने कहा- डॉक्टर ने एक हल बताया है.

‘हां अशोक ब ब्बब्ब बहुत!’‘जोर से लंड चाहिए अपनी गांड में?’‘हां… अशोक हाँ ये ये जोर अब मजा आ आ स आ रहा है. मैं किस जन्नत में घूम रही थी।काफी देर ये सब होने के बाद मैं एक बार अपना पानी छोड़ चुकी थी। फिर वो उठा और मेरे ऊपर सीधा बैठ गया और बोला- कैसा लगा?मेरी साँसें बहुत तेज़ थीं. जलपान के बाद स्नेहा मुझे अपने रूम में ले गई, उसका रूम तीसरी मंजिल पर था.

सेक्सी बीएफ वीडियो चलाओ

सब लोग सेक्स करना चाहते हैं, मैं भी सेक्स का बहुत बड़ा एडिक्ट हूँ, पर मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो मैं अक्सर हाथ से ही लंड हिलाकर शांत हो जाता हूँ. फूफा जी पम्मी को याद करते हुए कभी मेरे होंठ चूसते तो कभी मेरे मम्मों को चूसते. और फाड़ दो मेरी बुर को…मैंने उसकी दोनों टाँगें फैलाईं और अपने लौड़े को उसकी बुर के छेद पर सैट किया.

वो मेरा लंड चूसे जा रही थी और आख़िर में मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

मैं थोड़ी देर बैठा रहा और फिर मैंने अन्दर जाकर देखा तो वहां कोई नहीं था.

अगर मेरी बहन किरण तैयार हो जाए तो छुपने की ज़रूरत नहीं न पड़ेगी और फिर दोनों बहनें आमने सामने चुदा करेंगी. मैं रोज उसमें मुट्ठ मार कर उसे धोकर टांग देता था ताकि उसको पता न चले. सेक्सी स्कर्टयह मेरी पहली कहानी है अगर कोई गलती हो तो माफ़ करना!मैं पिछली छुट्टियों में अपने मामा के घर गया था.

चल तेरा मन है तो आ जा लग जा मेरे गले से!सुमन के मन में क्या था ये तो भगवान ही जाने या फिर सुमन जाने, चलो आगे देखो अब ये क्या गुल खिलाती है. उन दोनो ने पहली बात तो झट से मान ली पर पाँच हजार का नाम सुनकर बोले कि ये तो बहुत ज्यादा है, वो फिर कभी कर लेंगे. उसके बाद हम दोनो नंगे एक दूसरे की बाँहों में पड़े रहे और आगे की योजना बनाने लगे.

वो बेचारी इतना सब कैसे सहन कर पाती, बदले में वो अपनी चूत उठा उठा कर मेरे मुंह पे मारने लगी. क्या तुम मेरी इच्छा पूरी कर सकते हो?मैंने पूछा- वो कैसे?आंटी ने एकदम से चुदक्कड़ों टाइप भाषा इस्तेमाल करते हुए कहा- मेरी गांड चूस कर.

मुझे लगा कि जैसे उसकी चूत से रस की बरसात हुई हो, मेरी झांटें तक नहा गईं.

अजय के लंड को भी ये मात दे दे ऐसी है!मॉंटी- मैंने कहा था ना ये बड़ी होगी और ये अजय कौन है दीदी?टीना एकदम से सकपका गई और बोली- कोई नहीं. उनकी बात सुन कर पापा ने कहा- ठीक है, अगर ऐसी बात है तो तुम लोग चले जाओ लेकिन पिता जी और माता जी को कुछ दिनों के लिए यहीं छोड़ जाओ. अगले दिन सुबह ही हमारे घर की घंटी बजी तो मैं उठ कर गेट खोलने चली गई क्योंकि उस वक़्त हम दोनों ही सो रही थी.

देवर और भाभी का सेक्सी हिंदी इस पर ललचाए रुस्लान ने अपने भसंड लंड से चंगेज़ के लंड से ठसाठस भारी नताशा की गांड को कुरेदना चालू कर दिया!सारे क्रू मेम्बर्स सांसें रोक कर फिर से डबल एनल एक्शन का इंतजार करने लगे. मैं अपनी चुत का ढक्कन निकालूं क्या?संजय- अब निकाल भी दे क्या पूछ रही है.

‘पैंटी ब्रा वगैरह नहीं पहनती घर में?’ मैंने उसकी झांटो में उंगलियाँ पिरोते हुए पूछा. बड़ी प्यास लगी है।सुमन- पापा पानी तो शायद नीचे मिलेगा, यहाँ तो सिर्फ़ गारमेंट्स और शूज ही हैं।अनीता- अरे तो नीचे से ले आओ, जाओ मुझे भी बहुत प्यास लगी है।सुमन अब आगे क्या बोलती, वो पानी लाने नीचे चली गई।गुलशन- ये क्या है अनीता. क्या पता, तेरे साथ कुछ ऐसा वैसा कर दूँ तो??मानसी- अब बस भी कर!इसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़ के चलना चाहा पर मैंने उसका हाथ झटक दिया और हम दोनों मेरी बाइक पे मोहाली घूमने निकल गए.

बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी में दिखाओ

फिर उसने अचानक मेरी गर्दन पर से अपनी पकड़ ढीली कर दी और बोला- साले तू लड़की होता तुझे इतना चोदता… इतना चोदता कि हर महीने तेरे पेट से बच्चा बाहर निकलता!कह कर उसने मुझे पीछे कर दिया और फिर से बाइक आगे कच्चे रास्ते पर दौड़ा दी. और थोड़ी देर बाद ही फिर से फूफा जी के कमरे में आ गई और दरवाजा लॉक कर दिया. मुरुगन ने मुझे भी नंगी किया और मुझे लिटा कर मेरी चुत के मुँह पर अपना लंड टिका दिया.

‘भाबी माँ वो सब छोड़िये, आप उपाय कैसे करेंगी यह बताइए?’ सक्सेना ने बात को बदलते हुए कहा. पर फिर मैंने उसे समझाया कि इससे काफ़ी पैसे बच जाएँगे और हम जो ये करेंगे वो बिल्कुल ठीक है।तभी मेरे फोन की घंटी बजने लगी, मैं उठ कर बेडरूम में फोन उठाने चला गया। दीदी मेरे पीछे कब आई मुझे इसका अंदाज़ा नहीं हुआ। जैसे ही मैंने फोन काटा.

तू हर बार उल्टी बात करता है।सुमन- अरे आप अब झगड़ो मत, और चलो टाइम हो गया है।यहाँ भी ऐसा कुछ नहीं हुआ जो बताऊं तो जाने दो। गोपाल घर आ गया होगा उसी के पास देख आते हैं शायद कोई काम की बात मिले।मोना तो पूरी रात की चुदाई से थकी हुई थी तो मस्त सो रही थी। जब गोपाल आया तो उसे जगाया और पूछा कि क्या हुआ।मोना- कुछ नहीं.

चाची बोली- अरे अशोक, तुम कितना चोदते हो, मेरी चुत की हालत खराब हो जाती है… आह!मैं हल्का सा मुस्कुरा कर बोला- चाची, अब मुझे आपकी गांड मारनी है. मैं पहली बार ब्लू फ़िल्म देख रही थी और मैं अभी तक गर्म ही थी, इसलिए वो फ़िल्म मेरे बदन में सनसनी पैदा करने लगी. नंगी भाभी को देख उनकी चूत की चुदाईअब तक की देसी भाभी सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि निशा भाभी मेरे सामने चुदने के लिए नंगी पड़ी थीं।अब आगे.

आज की रात हमारी कॉमन वाइफ ने स्वान के दैत्याकार लंड को अपनी जीभ से चाटते हुए, होठों के बीच चूसना शुरू कर दिया. फिर वो मेरे ऊपर आ गई और अपनी चूत में मेरा लंड लेकर जोर-जोर से झटके मारने लगीं. अम्मा उन दो सप्ताह में माला को घर का काम सिखाती रही और जब माला सारा काम संतोषजनक तरीके से करने लगी तब वह माह के अंतिम दिन अपनी छोटी बहू के पास चली गई.

जो सच है वो बता?फिर वो चुप हो गया, तो मैंने उससे कहा- एक बात बताऊं.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो: मैंने उसका टन्नाया हुआ लंड हाथ में पकड़ा और सीधा किया… और उस पर बैठ गई. जैसे ही मैंने चूत से लंड बाहर निकाला मेरा वीर्य उसकी चूत से निकलता हुआ उसके पटों पर बहने लगा.

मैंने भी आकाश को नहीं रोका, मैं तो कब किसी बाहर वाले से चुदने को तैयार थी. वो बोला- लंड को बाहर निकाल ले!मैंने चलती बाइक पर उसके लंड को अंडरवियर के कट से बड़ी मुश्किल से निकालते हुए उसकी चेन के बाहर लाकर आजा़द कर दिया. मैंने पीछे सेभाभी की मटकती हुई गांडदेखी और मन ही मन दुआ की काश ये माल आज चोदने को मिल जाए।खैर.

मैंने पीटर को रिया से अलग किया, उसे खींचकर बेड तक ले गयी और खुद बेड पे कुतिया की तरफ हाथ पैरों पे हो गयी.

मैंने सोचा यही मौका है, मैंने उनके ब्लाउज से साड़ी हटाई और ब्लाउज के बटन खोलने लगा. गुलशन- हा हा हा ऐसा कुछ नहीं होगा… तू कोशिश तो कर… फिर मज़ा आएगा तुझे. अब सौतेली बेटी और असली बेटी में इतना फ़र्क तो होता ही है।गुलशन- अनीता, तुम हद पर कर रही हो, अब वो आ गई, उसके साथ अगर कोई भी ऐसी-वैसी बात की ना.