चाइना के बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी दिखाएं हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू बीएफ पिक्चर बीएफ: चाइना के बीएफ वीडियो, वो बार बार छींक रही थी शायद बारिश में भीगने के कारण उसे सर्दी लग गई थी.

सिर्फ एक सेक्सी फिल्म

आखिर मैंने उससे पूछ ही लिया- भाभी अब ताजी सब्जी क्यों नहीं रख रही हो?तो उसने बताया- क्या करूं सब्जी मंडी से ताजी सब्जियां लाने वाला कोई नहीं है. हिंदी में बोलती हुई सेक्सी फिल्मइसी आवेश में मैं रेशमा के ऊपर अपने बदन का पूरा भार देते हुए पूरी ताकत से आखिरी धक्के लगाने लगा.

मैंने बीवी को जमीन पर सीधा लिटाया और उसकी चूत में ड्रिंक डाल कर चूत चूसने लगा. इंग्लिश सेक्सी पिक्चर वीडियो मूवीजैसे ही हम दोनों मुँह ऊपर करते और कुछ कहते, दीदी नीरजा से माफी मांगने लगीं और उसे मनाने लगीं.

मैंने उसे लंड की तरफ इशारा किया तो वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.चाइना के बीएफ वीडियो: अब मुझसे और रहा नहीं जा रहा था, बस ऐसा लग रहा था कि वह मेरी चूत में अपना लंड घुसेड़ दे.

एक दिन मैं अपने रूम में आराम कर रहा था, तभी मेरी मकान मालकिन कमरे में आ गईं.भाभी ने भी चूतड़ उछाल उछाल कर दोनों के बड़े लड़ गड़प लिए!यह कहानी सुनें.

జైపూర్ సెక్స్ వీడియో - चाइना के बीएफ वीडियो

वो भी खाना खाकर अलसाए हुए थे तो एसी की ठंडक में आराम करने के मूड में आ गए थे.लंड चाटते हुए नत्थूलाल के फटे हुए सिर के छेद को जीभ नुकीली करके चाटने लगी.

उसने आते ही मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए और मुझे पूरा नंगा कर दिया. चाइना के बीएफ वीडियो तभी उसने एक पैर मोड़ कर मेरी कमर के पीछे कर दिया, ये तो खुला निमंत्रण था.

विलास बेड के पास आया और नीचे झुककर उसने मेरी लुंगी में हाथ डालकर मेरा लंड बाहर निकाल लिया.

चाइना के बीएफ वीडियो?

मैं उसे कई दिनों से देख रहा था कि वो इंसान ब्रांच के चक्कर काट रहा था. अब मैंने ललिता भाभी की पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- अरे भाभी, यह तो मेरा फ़र्ज़ था. मछलियां देने गया तो बरामदे में सिर्फ शैली मामी भाजी काट रही थीं, चेतना नहीं थी.

सुसर जी को चोदते हुए करीब 2 मिनट ही हुए थे कि उन्होंने अपना सारा माल मेरी चूत में उड़ेल दिया. कहानी के पहले भागरिश्तेदारी में आई कमसिन लड़की से दोस्तीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने रीतिका से गले लगने के लिए कहा, तो वो शर्मा गई. मैं लौड़े को इतना अन्दर तक दबाता कि सुपारा उसकी बच्चेदानी को रगड़ कर बाहर आने लगा.

डरी सहमी चेतना एक शब्द भी नहीं बोली और घर में किसी और को नहीं बताने की मिन्नतें करने लगी. फिर उस लड़के के मस्त चूतड़ों पर हाथ मारते हुए- क्यों भाई, ठीक है न!वो भी दांत निकाल कर हंसा. मैंने उसके होंठों को अपने मुँह में ले लिया और होंठों को चूसते हुए लंड को बुर के मुहाने पर टिका कर ज़ोर का धक्का मार दिया.

हॉट वर्जिन Xxx चुदाई का मजा मुझे अपनी पड़ोसन लड़की की सीधी सादी सहेली से मिला. कुछ मिनट उसके मुँह को चोदने के बाद मेरे लंड ने श्रेया के मुँह में ही वीर्य छोड़ दिया और श्रेया भी उसे गयी.

मैंने सॉरी कहा, तो उसने मेरे होंठों पर अपनी एक उंगली रख कर मुझे चुप करा दिया.

मैं- हां साली, तू कितनी भी कोशिश कर ले छिनाल, पर तेरे से अच्छा तो मेरा लौड़ा मेरी नौकरानी चूसती है.

मेरे अंडर नए आये कर्मचारी को, जब तक कोई इंतजाम ना हो, मैंने अपने घर में ठहरा लिया. कमरे में चेतना की मादक सिसकारियां गूंजने लगीं और पांच मिनट में ऐंठती चेतना की देसी बुर से गर्म लावा बाहर निकल आया. मैं- अरे वाह … तुम्हारी इस भरी जवानी में तुम्हारी पसंद तो बड़े बुज़ुर्गों वाली हैं.

फिर मैंने ड्रॉवर से क्रीम निकाली और मेरे लंड और उसकी चूत के छेद में लगा दी. मॉम- क्या बोलोगे अपने दोस्तों को … कि मैं कौन हूं?मैं- क्या बनना चाहती हो तुम मेरी?मॉम- बीवी. लंड का ये रूप देखकर वो सोचने लगी कि इस अशोक लीलेंड टाइप के ट्रक की पार्किंग मेरी छोटी सी चूत में कैसे हो पाएगी?मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?तो उसने बोला- कुछ नहीं.

पर्वी ने आनन्द और दर्द के मिले जुले भाव से ‘ऊंह मर गई …’ की आवाज निकाली.

अब सुनीता की नींद उड़ चुकी थी, वह पूरी तरीके से गर्म हो गई थी लेकिन घरवालों के कारण कुछ नहीं कर सकती थी. वहां पर ज्यादा लोग नहीं थे तो हम दोनों एक कोने की टेबल पर बैठ गए और प्रियांशु मेरे साथ चिपक कर बैठ गया. मैंने अपने दोस्त राकेश के चूतड़ पर हाथ फेर कर कहा- इसकी तो अभी झांटें भी नहीं आई हैं, अभी एकदम चिकनी रखी है.

मैंने कहा- अरे लड़की थोड़े ही हूं, कोई क्या करेगा?मुच्छड़ दादा बोले- यहां लड़कों पर भी नियत बिगड़ जाती है. यह मैं अपनी बड़ाई के लिए नहीं लिख रहा हूँ दोस्तो, केवल सत्य बता रहा हूं. मैं उसके बारे में आपको हर एक बात बताऊंगा मगर उसका असली नाम और वो कहां रहती हैं, इसकी जानकारी मैं नहीं दे सकता.

इस बार मैंने बहुत ज्यादा ताकत लगाई थी जिस वजह से मेरा पूरा लंड एक बार में ही घुस गया.

अब आगे रियल फॅमिली Xxx कहानी:दीदी- ये क्या कर रहे हो अजय, तुम मेरे साथ ऐसा कैसे कर सकते हो?उनकी बात सुनकर मेरा लंड एक बार में ही नुन्नू बन गया. फिर नेहा भाभी बोलीं- मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा तोहफा तुमने मुझे आज दे दिया है, मुझे यह जन्मदिन याद रहेगा.

चाइना के बीएफ वीडियो वो भी उनकी पत्नी बन कर मतलब जैसे एक पति पत्नी का रिश्ता होता है, वैसे ही तुम्हें अगले तीन दिनों तक अपने दो पतियों से साथ वो सारा पत्नी धर्म निभाना होगा. तभी भाभी मेरे सर के बाल पकड़ कर जोर से चिल्लाई और उसकी चूत ने गर्म गर्म पानी छोड़ना चालू कर दिया.

चाइना के बीएफ वीडियो मैंने उसके सभी कपड़े धीरे-धीरे ऐसे उतारने लगा जैसे सुहागरात में एक दूल्हा अपनी दुल्हन के साथ करता है. शायद उसने पहले भी कभी शराब पी थी इसलिए बिना किसी दिक्कत के वो पी गई.

मोनिका बोली- भाभी, इसका केला बहुत छोटा है, पर जैसा भी है, खाना तो पड़ेगा ही.

बीएफ बीएफ इंग्लिश पिक्चर

उसने भी घूम कर अपनी बिल्ली को छुपाया और हाथों थामा हुआ बाथ-गाउन पहन लिया. मौसी ने कहा- देखा, चल अब मेरी गांड मार ले, पता नहीं अब दोबारा कब मौका आएगा. ये सब देखकर ससुर जी क्या सोचते होंगे?मैं उनके सामने ब्रा चड्डी में कैसे चली गई और मेरी ऐसी गंदी हरकत देख वो क्या सोच रहे होंगे.

मैंने अदिति से कहा- ये बात सच है अदिति कि तुम बार बार झड़ जाती हो क्योंकि मेरे लंड के हिसाब से तुम्हारी चूत छोटी है. फिर उसने थोड़ा सा थूक मेरी गांड पर लगाया और अपने लौड़े पर भी लगा लिया. वो ऐसी गजब की सुंदरता की मूर्ति थी कि सच में उसे देखते ही किसी को भी उससे स्नेह हो जाए.

मैंने अपना लंड धीरे से भाभी की चूत में डाल दिया और उन्हें चोदने लगा.

एक दिन मेरा ऑफ़िस भी बंद था, मैं अपने घर में अकेला था तो उस दिन मैं बहुत बोर हो रहा था. दस मिनट बाद वो भाभी के दोनों पैर एक तरफ करके उन्हें साइड से चोदने लगा. अमरचंद ने बताया कि घर में अम्मा बाबूजी को छोड़कर सभी खाते तो हैं लेकिन घर में नॉनवेज नहीं पकाते हैं.

देखते ही देखते लाल ब्रा और पैंटी में एक हसीन खूबसूरत औरत उन देहातियों के सामने आ गई थी. फिर मैंने देखा कि उसकी पैंटी ज्यादा गीली हो गयी है तो मैंने उसकी पैंटी निकाल दी. मौसी ने हंसते हुए कहा- अच्छा अब तेरा लंड तेरे बस में नहीं है, ये क्यों नहीं कहता कि मौसी की गांड फाड़ना चाहता है.

दुबई सेक्स का मजा मुझे दिलवाया मेरे एक फोटोग्राफर दोस्त ने अपनी एक सेक्सी मॉडल के साथ. तब मैंने अपना विज़िटिंग कार्ड निकाला और उसे देते हुए कहा- लो तुम इसे रख लो … और कल संडे है, कल मेरे घर सुबह 11 बजे आ जाना.

उसने ये कह कर मेरे गले तक लंड घुसा दिया और बोला- साली रांड, आज तेरी गांड और चूत के छेद चोद चोद कर एक कर देंगे. मेरी नज़र उसके टॉप पर पड़ी जो कि उसके मोटे मोटे चूचों की वजह से उभरा हुआ था. मैं लंड अन्दर बाहर करने लगा और मैंने अपने जीवन की पहली चुदाई का कार्यक्रम शुरू कर दिया.

यह सेक्सी फॅमिली की चुदाई कहानी परिवार के सस्दयों के बीच में सेक्स की है.

मैं भी 20 दिन का भूखा था, तो सुनीता के ऊपर टूट पड़ा और उसके दोनों मम्मों को बारी-बारी से पिया. इस बात पर मैं खुशी खुशी कमरे से बाहर आई और कुछ देर रुक कर उनकी बातों को सुनने के लिए अपने कान लगा दिए. मैंने वापिस उसे कॉल किया और पूछा कि मैंने तो यहां अपना इंटरेस्ट शो नहीं किया था, तो आपके पास मेरा नंबर कहां से आया!उसने कहा कि मैं पहले वहां जॉब करती थी.

भाभी ने मुझे अपने मम्मों में दबा लिया और हम दोनों एक बार फिर से चुदाई का मजा लेने के लिए एक दूसरे से गुत्थम गुत्था होने लगे. तुम जैसी स्वीट लड़की मेरे साथ कमरे में अकेली होगी तो मुझे तो अच्छा ही लगेगा.

मैंने अपना एक हाथ आगे बढ़ाया और पेट की और से नीचे ले जाते हुए उसके एक दूध को जोर जोर से दबाने लगा. शहनाज़ और गुलनाज दोनों जुड़वां बहनें कल रात से कई राउंड चुदाई करवा चुकी थीं. अब तुम मुझे बताओ कि तुम मुझसे क्या चाहते हो?मैं उसे अपनी इच्छा बताने से डर रहा था.

कॉलेज की लड़की के बीएफ

लेकिन मैं फिर भी ऊपर से आनाकानी करने लगी क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि मनीष बाद में मुझे गलत समझे.

हां हर्षद … लेकिन तुम्हारा लंड इतना बड़ा है कि एक झटके में मेरी चूत फाड़ दी. शायद उसका लंड मोटा था या फिर काफी दिनों से मेरी चुदाई नहीं हुई थी या मेरी चूत गीली नहीं थी. मैं एक स्टूल लेकर उस पर चढ़ गया और सोनाली मुझे एक एक गुब्बारा देने लगी.

बहुत दिन से संभोग सुख से वंचित रेशमा की चूत मेरे लौड़े पर अपना पानी बहा कर मुझे धन्यवाद दे रही थी. चूत लंड ले चुकी थी तो मैंने अपनी तीन उंगलियों से चूत को चोदना चालू कर दिया. गन्दी बात वेब सीरीजहम गांव के ग्राउंड के पास मिले, उसने नीले रंग की टीशर्ट पहनी था और नीचे काले रंग का ढीला लोअर था.

मैं उसकी खूबसूरती पर फिदा था लेकिन यहां भी मैं मुठ ही मार कर काम चला रहा था. इतना कहकर मैंने खड़े होकर उसकी दोनों टांगें अपने दोनों हाथों में पकड़ लीं और दोनों तरफ फैलाकर अपने लंड को सुपारे तक बाहर निकालने लगा.

कुछ देर बाद मैं अपनी चुत में उंगली करते हुए बड़बड़ाने लगी- आह पापा … आप मुझे कितना सताते हो … मेरी चुत में अपना लंड क्यों नहीं पेल देते हो. भाभी- चोट तो मेरे अन्दर लगी थी जब मुझे तुमने अपनी बांहों में उठाया था. तो मैंने कहा कि मेरी तो शादी हो गई है, अब मुझमें तुम्हें कुछ नहीं मिलेगा.

चुत को छूने की बजाए मैंने हाथ से अपने खूंखार हो चुके नत्थूलाल को पकड़ कर, साड़ी के ऊपर से ही बिल्कुल ठीक उसकी चूत के ऊपर टिका दिया. उसने उसके बाद मुझसे सीमा को हमेशा सुख देने के लिए कहा और अपने सामने ही फिर से हमारी चुदवाई शुरू करवायी. पोर्न देखते हुए ही जोश में आकर मम्मी अपनी साड़ी ऊपर करके खुद ही बुर में उंगली करने लगीं.

वो बोली- तुम कितने दिन में मेरी ब्रा की साइज़ बढ़ा दोगे?मैंने उससे कहा- अगर अगले एक महीने में मैंने तुम्हारी चूचियां नहीं लटका दीं, तो मैं तुम्हें अपनी शक्ल नहीं दिखाऊंगा.

मेरी आंख शाम को 7 बजे खुली, तो देखा कि दोनों बाबा मेरे दोनों चूचे पकड़े सो रहे थे. प्रिय पाठको, इस साइट से सिर्फ सेक्स कहानी पढ़ कर मज़ा लेना ही नहीं अपितु यहां आप सभी अपने विचार, मन की सोच, सेक्स से मज़े लेने के तरीके आदि भी साझा कर सकते हैं.

बात तो उसने बहुत ही सही बोली थी मगर ज़िन्दगी में पहली बार इतना मोटा और बड़ा लंड मेरी चूत में जा रहा था. मैंने अपना एक पैर बाजू में फैलाया और अंडगोटियां सहलाने को जगह बना दी. ”यह कह कर नीता ने अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया और बोली- मैं शादीशुदा होकर भी कुंवारी हूँ हर्षद.

ये तो भैंसों का कमरा घर से अलग था, जिस वजह से भाभी को निकलने दिया जाने लगा था. चुदाई का खेल अपने चरम रोमांच पर था और घचाघच घचाघच चुदाई करते हुए महंत चुत की बखिया उधेड़ रहा था. मैंने भी उनके मम्मे देख कर कहा- हां चाची, मुझे भी इसी तरह के खेल खेलना पसंद हैं.

चाइना के बीएफ वीडियो अपनी टी-शर्ट के अन्दर वो ब्रा नहीं पहनती थी जिससे उसके मम्मे बड़े मस्त उछलते थे. फ्रेंड्स, मैं आपकी रंगीली पूनम पांडेय एक बार फिर से चुदाई कहानी का मजा देने के लिए हाजिर हूँ.

एचडी बीएफ हॉट सेक्सी

उसके सर को मैं अपनी दोनों टांगों के बीच जोर जोर से दबाने लगी और वह मेरी चूत और गांड का रसपान करने लगा. मैं नीचे झुककर अपने मुँह से उसके दोनों चूचुकों को बारी बारी से चूसने लगा. मुझे भाभी की चुत चोदने में ऐसा लग रहा था जैसे मैं किसी कुंवारी लौंडिया को चोद रहा हूँ.

अगले दिन हम लोग बीच पर गए, जहां वो दोनों समुद्र में मस्ती करने लगे. मुझे अच्छे से समझ में आ गया था कि मुझसे ही इस टीचर से काम हो जाएगा. सेक्सी हॉट वीमैंने पूछा- दी आपको और क्या क्या मालूम था?वो लंड का मजा लेती हुई बोली- तू रात को भी मेरे मम्मे दबाया करता था.

सोफे पर नंगे बैठे बैठे मैंने वो बेल्ट रेशमा के गले में डाल दी और बेल्ट खींच कर उसका मुँह फिर से मेरे लौड़े के पास कर दिया.

अचानक से वो मेरे पास आई और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे डांस फ्लोर पर ले गयी. भाभी ने कुछ दवा का इंतजाम किया और मुझे दवा लाकर देते हुए कहा- तुम्हें किसी भी चीज की जरूरत हो तो मुझसे कह देना.

डॉक्टर माँ को नंगी देख अपना लन्ड मसलने लगा और बोला- जब से चन्दा मैंने तेरी गांड को देखा है, तब से मुझे तेरी गांड मारनी थी. सात साल से लंड नहीं लेने से ललिता भाभी की चूत नई लड़की की जैसी टाइट हो चुकी थी. मेरे घर में मेरे अलावा मेरी विधवा माँ चंदा रहती है जो 47 साल की है.

मैं पानी पीकर रसोई में गया और रेखा से कहा- चाय मत बनाओ मुझे देर हो जाएगी.

मैं दिखावे के लिए मना करती रही पर मैं खुद चाहती थी कि उसके आगे नंगी हो जाऊं. उसने मुझे बेटा होने के बाद अपनी खुशी से सोने की चैन और कुछ पैसे भी दिए. हम दोनों ने मिलकर एक दूसरे से हाय हैलो की और वो मुझको अपने पीछे वाली सीट पर बिठाकर चल दिया.

मैडम सर टीवी सीरियलमेरा मन भी उसकी सारी लिपस्टिक खाने का था, पर मैं उसे खुद चुदवाने की कहने पर लाना चाहता था. मैंने फिर से कहा- दादा, मेरे से तो ज्यादा माशूक ये मेरे दोस्त हैं, सब चिकने हैं.

ब्लू फिल्म के वीडियो हिंदी में

उसको चोदने में मजा आएगा और मेरी सोनाली की चुदाई का बदला भी पूरा हो जाएगा. लेकिन मैं अब कुछ नहीं सुनना चाहता था और लैंड लेडी सेक्स करने में लगा रहा. करीब 15 मिनट की चूत की शहनाई बजाने के बाद मेरा लंड अपनी औकात भूल गया और रोने लगा.

अब मैंने ललिता भाभी की पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- अरे भाभी, यह तो मेरा फ़र्ज़ था. सामान्यतया कोई बीवी अपने पति का लंड किसी और को देती नहीं है, पर मेघा का स्वार्थ था … क्योंकि वह खुद पराये मर्दों से चुदवाना चाहती थी. छोटी से छोटी जानकारी भी उसने मुझे दी, जिसके आधार पर मैंने आप लोगो के लिए ये कहानी लिखी है.

मैं उनकी यह बात सुनकर बोल पड़ा- मौसी, हो सकता है मौसा अपने काम में ज्यादा बिज़ी हों. मैंने अपने तौलिये में से अपना लंड बाहर निकाला और दीदी का स्कर्ट थोड़ा ऊपर करके अपना लंड उनकी पेंटी पर लगा दिया. लन्ड इतना लम्बा ओर मोटा था कि माँ को उसे मुँह में लेना मुश्किल हो रहा था.

मगर दोस्तो, अगले दिन दोपहर में मेरे फोन पर उसने मैसेज किया और दिल्ली से अपने शहर तक आने जाने की टिकट भेज दी. मैंने सॉरी कहा, तो उसने मेरे होंठों पर अपनी एक उंगली रख कर मुझे चुप करा दिया.

अब वो अपनी मीडियम साइज की चूचियों के साथ पहले से ज्यादा सेक्सी लगने लगी थी और अब उसकी सारी की सारी ब्रा उसे छोटी होने लगी थीं.

मैंने नींद खुलने का नाटक किया और अपने पैर पूरे लंबे करके और हाथ फैलाकर पीठ के बल होकर लेट गया. மலையாளம் செஸ்दोस्तो, अभी Xxx मामी चुदाई कहानी में इतना ही … अगली कहानी में मैं आपको बताऊंगी कि मोनिका और मैंने राज के सामने अपनी गांड दो हट्टे कट्टे मर्दों को घर बुला कर किस तरह से मरवाई और चूत में भी लंड का मजा लिया. आंटी सेक्सी पोर्नमैंने चूत के आस पास उगे हुए बड़े बालों को कैंची से छोटे किए, फिर उनको साफ़ करके वहां एक हार्ड वैक्स लगाना शुरू कर दिया. तभी उसने मेरे कान में फुसफुसा कर कहा- सुनो, मुझे एक बार और करना है.

मेरा कहने का मतलब है कि हर तरह की लड़कियां और आंटियां मिलती रहती हैं, सबको अपने हिसाब से एडजस्ट करना पड़ता है.

फ़लक ने मेरे लंड को मुँह से बाहर निकाल दिया और वो उत्तेजना अमे बड़बड़ाती हुई बोलने लगी थी ‘आह अगम मैं आ रही हूँ … आंह मर गई … आह …’फिर जैसे ही उसने झड़ना शुरू किया तो उसने तेजी से पूरे लंड को मुँह में भर लिया और इतनी तेजी से चूसने लगी कि मुझको लगा, जैसे ये मेरे लंड को ही उखाड़ कर अलग कर देगी. फिर दूसरे दिन मेरी बीवी पुनः फकीर के रूम में गई और उसने फकीर के पैर दबाना शुरू कर दिया. इस बार उसने मुझे एक कुर्सी पर उल्टा बिठाया दिया और मेरे खांचे में थूक लगा दियाफिर अपने लौड़े पर थूक लगाया और पूरी ताक़त से झटका मार कर अपना आधा लौड़ा मेरी गांड में दे दिया.

ये सुन कर मम्मी ने कहा- अरे यार आकाश … विक्की मेरा बेटा है, मैं उससे कैसे चुद सकती हूँ?चाची ने भी कहा- हां यार, वो अभी 23 साल का ही तो हुआ है. इसी बीच मैंने उससे पूछ लिया- तुम मुझसे किस प्रकार से सेक्स करना पसंद करोगी. कुछ ही देर में उत्तेजना चरम पर पहुंच गई थी और मुझसे रुका ही नहीं जा रहा था.

बीएफ सेक्सी नंगी नंगी

कुछ ही देर में उसके घुटने दुखने लगे थे, तो मैंने उसे घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में लंड पेलने लगा था. मेरा उतावलापन देख कर मनीष ने अपना लंडमेरी चूत के छेदपर लगा कर एक ही झटके में पूरा जड़ तक घुसेड़ दिया. मैंने अपनी दोनों उंगलियां उसकी चूत में डाल दीं और साथ में मैं अपने अंगूठे से उसकी चूत के ऊपर वाला दाना सहलाने लगा.

गीता मादक सिसकारियां लेती हुई बोली- ओह हर्षद शादी होने के बाद भी मैं प्यासी हूँ.

सविता जॉब पाकर मुझसे काफी खुश थी और इसके लिए कई बार मुझे धन्यवाद बोलती थी.

खासकर औरतों की चूत चाट कर निकली हुई मलाई खाने में मुझे बड़ा मजा आता है. फिर मैंने उससे लंड को मुँह में लेने को इशारा किया तो वो मना करने लगी. हिंदी में जंगल की सेक्सी वीडियोआराम से नितिन … मैं तो तुम्हारे पास ही हूँ ना! इतनी भी क्या जल्दी है?” मैंने कहा.

इस पर नीता ने मुझे घूर कर देखा तो मैं चुप हो गया और उससे पूछने लगा कि हां बताओ फिर क्या हुआ?नीता- उसने मेरी साड़ी कमर के ऊपर तक सरकायी और पैंटी झटके से निकाल दी. बस वो आनन्द के बारे में बता रही थीं कि आनन्द रोज ऐसे ही ड्रिंक करके बिना खाए सो जाता है. उसने कहा- मेरे पति का तो तुम्हारे लंड से आधा ही लंबा और आधा ही मोटा है.

चार दिन बाद उनके पति 15 दिन के लिए बाहर गए और मैंने 15 दिन की छुट्टी ले ली. कुछ देर बाद जब मैं थोड़ा शान्त हुई तो साले हरामी ने फिर से एक जोरदार झटका मार दिया और अपना पूरा गधे जैसा 8 इंच का लंड मेरी चूत के अन्दर उतार दिया.

ललिता भाभी मेरी बात सुनकर एकदम से उदास हो गईं और बोलीं- मेरी जिंदगी तो बेकार हो गई है.

अब मैंने भी नीचे से अपनी गति बढ़ा दी, तो रेखा की मुँह से गर्म सिसकारियां निकलने लगीं जो मुझे मदहोश करने लगी थीं. जैसे ही भाभी ने मेरा कच्छा उतारा, मेरा लंड भाभी के सामने खड़ा होकर सलामी देने लगा. मैंने सामने अलमारी की दराज में रखी दवाएं देखीं और उनमें से दर्द निवारक दवा और बाम की शीशी लाकर आयशा को दे दी.

मोबाइल दाखवा शबाना जान बूझकर अब वीरू को गर्म करने लगी।घर में उसके और वीरू के अलावा कोई नहीं था।वीरू के जवान बदन से अपने जिस्म की भूख मिटाने को वो मरी जा रही थी. फिर मैंने रोहण से फोन से पूछा, तो उसने आधी बात बताई कि मेरे भाई को स्कूल से निकाल दिया गया है.

फिर अपने दोनों हाथों से उसकी गांड की दरार चौड़ी की, उसकी कमर से गिरते हुए पानी उसकी दरार को हाथ से मसलते हुए सारा झाग साफ कर दिया. मामाजी के दोनों लड़के महंत (20) और सुमंत (19) तंदरुस्त शरीर के मालिक थे. एक रात जब सोनम पापा को उल्टा लिटा कर सलवार और शार्ट कुर्ती में उनके दोनों तरफ एक एक पैर डाल कर उनकी कमर की मालिश कर रही थी.

हिंदी में इंग्लिश ब्लू फिल्म

तुम्हारे लंड के आगे का सुपारा कितना कितना गोरा, मुलायम और गुलाबी है. भाभी ने मास्टर का लंड पकड़ा और बोलीं- ये तो लोहे जैसा सख्त हो गया है … मेरी फट न जाए. कुछ देर बाद मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसके 32 नाप के मम्मों को आजाद कर दिया.

थोड़ी देर में वह हांफने लगा और उसका एक एक धक्का मेरे पूरे बदन को तोड़ रहा था. मैं अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे अंजलि ने मेरे चोदने पर अपनी चूत से मूत छोड़ दिया था.

मैंने एक बूब को हाथ से दबाना शुरू किया और दूसरे की घुंडी को चूसना चालू कर दिया.

मेरी दोनों चूचियां एकदम लाल पड़ गयी थीं और उन दोनों ने मेरे मम्मों को खूब मसला. मैंने सिगरेट उसके मुँह में लगायी और वो एक कश मार कर धुआं बाहर छोड़ने लगी. मैंने इशारा किया तो उसने टांगें चौड़ी कर लीं और अपने आप आगे की ओर झुक गया.

अपनी जीभ से बदन पर शॉवर के पानी में छाती चाटती हुई नीचे होती गई और घुटनों के बल बैठने के बाद लंड को अपने गाल पर रगड़ती हुई भीगने लगी. भूरे गुलाबी रंग के चूचुक मुँह में लेकर मैं उसको हल्के हल्के से काटने लगा और रेशमा अब फिर से तपने लगी. मैं बोला- फिर अंधेरे में क्या दिखाई देगा नीता … मैं तुम्हारा कुंवारा बदन अपनी आंखों से उजाले में देखना चाहता हूँ.

वो बोली- उनको ये सब करते शर्म नहीं आई होगी?मैं बोला- इसमें शर्म की क्या बात है?ये सुन कर वो कुछ बोली नहीं.

चाइना के बीएफ वीडियो: भाभी बोलीं- हां, पहले तो मेरा भी ऐसा ही मन था मगर मैं कर ही नहीं सकी थी. चूंकि यह एक छोटा सा स्टेशन था और हम सभी के ड्यूटी आवर्स अलग अलग रहते थे … कभी कभी ही साथ साथ रहते थे.

चाय देती हुई मुस्कुराकर बोली- कोई तकलीफ तो नहीं हुई ना देवर जी?मैंने उसको आंख मारते हुए कहा- कुछ भी तकलीफ नहीं हुई भाभी जी. वो झड़ चुकी थी और मेरे झड़ने की बारी थी तो मैंने ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए. उसने अपना मुँह दुपट्टे से बांधा हुआ था इसलिए वो मुझे नजर नहीं आई थी.

कई महीनों तक मेरे द्वारा ये खेल चलता रहा लेकिन कोई परिणाम नहीं निकलता देख मैंने अब आर या पार करने की सोच ली.

उसकी साफ़गोई से मैं भी जोश में आ गया और उसके एक निप्पल को दांत से हल्के हल्के से काटने लगा. मैंने अपने हाथ से उसकी जांघ को पीछे ही थामते हुए, दूसरे हाथ से अपने लंड को चूत की दरार पर लगा दिया. लगभग 5 दिन बाद जब मैं वापस आया, तब पता चला कि हमारी कॉलोनी में पटाखा माल आयी है.