सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,एचडी हिंदी चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ मालिश वाला: सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ, मुझे लगा कि शायद आज ट्रेन में सेक्स की मेरी ख्वाहिश पूरी हो जायेगी और मेरी यह ट्रेन सेक्स स्टोरी बन जायेगी.

सनी लियॉन सेक्सी

प्रिय पाठको, आपको मेरी ये चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताइएगा, ताकि आपकी बातों को ध्यान में रखते हुए मैं अपनी अन्य घटनाओं को कहानियों में ढाल कर आपके सामने पेश कर सकूं. জঙ্গলের সেক্স ভিডিওकोई 5 से 7 मिनट होने को थे कि नेता झटके खाने लगा और जोर जोर से गुर्राते हुए पूरी ताकत से धक्के मारने लगा.

जब दिन में साराह मैम फोन करती थी तो कभी कभी मैं उदास रहता था, तो वो पूछने लगती कि आखिर क्यों दुखी लग रहे हो. राजस्थानी लड़कियों की चुदाईदीदी की चुदाई की इस सेक्सी स्टोरी में पढ़ें कि दीदी के मोबाइल से मुझे पता लगा कि उनकी चूत सेक्स के लिए मचल रही है.

सामान्य डिलीवरी में भी थोड़ी बहुत चीर फाड़ सामान्य बात है, उसमें भी टाँके लगते हैं तो इस केस में भी तीन महीने का समय कम से कम बिना सेक्स के निकालना अनिवार्य है.सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ: दीदी ने मेरी पैंट की चेन खोल दी और फिर मैं समझ गया कि दीदी मेरे लंड का स्पर्श पाना चाहती है.

मैं रोज भगवान से यही दुआ मांगता था कि एक बार बस भाभी को चोदने का मौका मिल जाये.उतने में भाभी सिसकारियां लेते हुए बोलीं- विशाल अब इतना मत तड़पाओ … चूस लो … खा जाओ मेरे चूत को … ये मुझे बहुत परेशान करती है … साली को लंड ही नहीं मिलता.

फुल सेक्सी चुदाई - सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ

वो एक हाथ से मेरी एक स्तन को मसलते हुए मेरे दूसरे स्तन का पान करने लगा.आपको मेरी यह भाई बहन की चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताना.

थोड़ी देर में वो वापस आई और बोली- उठ जाओ, बहुत आराम हो गया अब तो?मैं बोला- मैडम थोड़ी देर रुक जाओ. सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ निर्मला जब उसका लिंग चूसने में व्यस्त हो गई, तो रवि ने मुझे हाथों से पकड़ कर उठने का संकेत दिया और इशारे से मुझे खड़े होकर अपनी योनि उसके मुँह में देने को कहा.

फिर हम दोनों स्कूल में चले गये जहां पर सोनू और मोनू मेरा इंतजार कर रहे थे.

सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ?

मैंने पूछा- तो तुम नहीं गयी?वो बोली- नहीं, मुझे वो कल वाला सेक्स नॉलेज टॉपिक कवर करना था. वो बोली- सर कुछ होगा तो नहीं ना?मैंने कहा- बिल्कुल नहीं, छूने से कुछ नहीं होता है. दीदी की चुदाई की इस सेक्सी स्टोरी में पढ़ें कि दीदी के मोबाइल से मुझे पता लगा कि उनकी चूत सेक्स के लिए मचल रही है.

मैं जितनी जोर से लंड हिलाता, वो उतनी ही तेजो खीरा को अपनी चुत में घुसा रही थीं. कुछ देर मैंने उसको किस करने के बाद अपने से अलग कर दिया क्योंकि कभी कभी मेरे पड़ोस के लोग भी छत पर अपना कपड़े सुखाने के लिए आ जाते हैं. तभी कविता ने कहा- चलो अब सारे मर्द एक तरफ हो जाएं और पार्टी के लिए अपने पसंद के कपड़े बदल लें.

आपको इस बात को पढ़ कर कुछ अंदाजा तो हो ही गया होगा कि मेरी कहानी किस तरफ जाने वाली है. जैसे जैसे धक्के बढ़ते गए, वैसे वैसे मेरी गर्माहट भी बढ़ती गई और मैं उस मस्ती में उसको अपनी बांहों में जकड़ने लगी. मुझे भी भाभी की चूत का पानी पीने की प्यास बहुत दिनों से सता रही थी.

तुम मुझे अच्छी लगती हो, मैं चाहता कि तुम और अच्छी लगो, तुम हँसो तो तुम्हारे दाँत मोतियों जैसे दिखें. उसने मुझे रोकते हुए कहा- सब कुछ यहीं करोगे क्या? चलो कमरे में चलते हैं.

आखिरकार मेरे लंड ने दम छोड़ दिया और मैंने पूरा का पूरा वीर्य उसकी चुत में छोड़ दिया.

अंदर देखा तो उसकी जांघों के बीच में सफेद पैंटी के पीछे काली सी चूत बाहर आने के लिए जैसे तड़प रही हो.

फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी चूत पर अपने तने हुए लौड़े को रगड़ते हुए बोला- जब दोनों तरफ से तैयारी पूरी होती है तब चुदाई की जाती है. फिर उसने अपना हाथ धीरे से मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड पर रख दिया. मैंने भाभी को चोदा … भाभी की चुदाई की कहानी को विस्तार से अगले भाग में लिखूँगा.

मेरे वस्त्र निकाल कर उसने मेरी टांगें पकड़ उन्हें फैला दिया और बहुत चाव से मेरी योनि देखते हुए एक हाथ फेरने लगा. हर सेक्स कहानी बहुत बार तो सोचा भी कि मैं भी क्यों न अपनी कोई असली सेक्स कहानी लिख कर अन्तर्वासना पढ़ने वाले पाठकों के साथ सांझा करूं, पर फिर हर बार मन बदल जाता और रहने देता था. आफिस से छुट्टी के बाद साराह मैम जब घर जाती थी, तो लोकल बस पर बैठ जाने के बाद मुझे काल करती थी और 40-45 मिनट मेरे से जब तक बात करती रहती थी.

मैंने उसका मन बहलाया, मैंने कहा- यार, तेरा भी मस्त है।मैं उसका मरोड़ दिया, बोला- अभी वह लौंडिया चुद कर मस्त हो गई.

उसके इस बार के धक्के इतनी ताकत और तेज़ी से थे कि मेरी सिसकारियां कराहों में बदल गईं. सुरेश ने मुझे किस करने के बाद मेरी मैक्सी को निकाल दिया और मैं ब्रा और पेंटी में हो गयी. कॉलेज को खत्म हुए काफी वक्त हो चला है और अब मुझे ऐसी ही किसी गर्म बुर की तलाश है.

कुछ देर एक दूसरे के होंठों को चूसने के बाद मैंने उसकी टी-शर्ट निकलवा दी. वो जोर जोर से चिल्ला रहे थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह्ह ऊऊह्ह हाहा हा!उसने अब मेरा सिर में अपनी उंगली फेरनी शुरु कर दी।5 मिनट तक चूत चाटने के बाद वो अब मेरा सिर अपनी चूत पर दबा रही थी। मैं समझ गया था कि ये झड़ने वाली है तो मैंने उसे और जोर चूसना शुरू कर दिया। वो इतनी जोर से झड़ी कि मेरा मुंह उसके कामरस से पूरी तरह भीग गया था।वो अब शांत हो गई थी. मेरी खुद की योनि और जांघों पर वीर्य सूख कर पपड़ी बन चुकी थी, क्योंकि अन्तिम औरत मैं ही थी, जिसने वीर्य ग्रहण किया था.

मैंने उससे किसी होटल में रुकने के लिए कहा तो उसने कहा कि नहीं उधर मेरा दोस्त रहता है.

मैंने उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया तो वो मेरे बालों को सहलाने लगी. प्रिया चाचा के लड़के बगल में आकर सो गयी। मेरे सोने के कुछ समय बाद मुझे अहसास हुआ कि मेरा हाथ कहीं जा रहा है.

सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ इस सोच से ऊपर उठ कर सोचिये, आपको स्त्री में कई सारे गुण मिल जायेंगे. तभी मैं अचानक से चीख पड़ी- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … माँ मर गई!मैं झटके मारते हुए झड़ने लगी.

सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ उसने सख्ती से मुझसे बोला- साली, अब तू मुझे बताएगी कि मुझे कैसे चोदना है … ऐसे ही पड़ी रह. कमलनाथ- तुम्हें कैसे पता कि मैं क्या पूछ रहा हूँ? इसका मतलब तुम्हें पता है कि रात को उनके बीच क्या होता है.

अम्मा पहले तो चिल्लाईं और बोलने लगीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मर गई रे … आ … और जोर से … मजा आ रहा है … और जोर से घुसा अपना लंड मेरी गांड में … मार बेटा आज अपनी अम्मा की गांड मार … मजा आ रहा है मुझे … आह और जोर घुसा दे बेटा … और जोर से मार दे मेरी गांड … पूरी कर दे मेरी गांड ढीली बेटा … और जोर से चोद.

बीएफ साउथ की बीएफ

डॉली की चूचियों को पीने के बाद मैंने उसको चुदने के लिए पूरा गर्म कर दिया था. फिर जब मुझसे न रहा गया तो मैंने मां की चूत में उंगली करना शुरू कर दिया. उसके बाद मैंने दूसरे निप्पल को मुंह में लिया और पहले वाले को चुटकी में लेकर भींचने लगा.

सब क्रोधित भी होने लगे, पर कमलनाथ ने सब से माफी मांगते हुए इसे एक तरह का केवल खेल बता कर स्थिति नियंत्रित कर ली. कुछ दूरी पर झाड़ी में से ‘उह … अहह आराम से करो … दर्द हो रहा है!’ आवाज़ आ रही थी।काजल वहां से जाने को बोलने लगी।तो हमें जाना पड़ा।फिर हम 1 ऐसी जगह गए जहां कोई नहीं था. मैं दो बजे रात को उठा, तो मेरा लौड़ा टाइट था और बिल्कुल लोहे के रॉड की तरह कड़क था.

उस ब्लाउज को पहनते वक्त उन्होंने नीचे से बटन लगाए और ऊपर का बटन नहीं लगाया.

जिस फ्लैट में मेरा रूम था उसमें उस फ्लैट के मालिक ने सारे ही कमरे किराये पर दिये हुए थे. वो अपनी आंखें झुका कर बोली- कहां चले गए थे आप?मैं एकदम सन्न रह गया. फिर मैंने अपनी पैंट निकाल दी और उसने मेरे कच्छे के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ लिया और सहलाने लगी.

हम आपस में एक दूसरे के साथ फोटो, बियर और बाकी बातें शेयर कर रहे थे. इसके बात शुरुआत में हमने फोन पर बात करनी शुरू की, फिर न जाने कब हमारी वीडियो कॉल पर भी बातें होने लगीं, इसका अहसास ही नहीं हुआ. उस टाइम तो बस खड़े खड़े मन कर रहा था कि जल्दी से गांड में लंड घुसा दूँ.

जबकि कुछ देर पहले उसने मुझे न सिर्फ नंगी देखा था, बल्कि अपने मित्रों के साथ कामक्रीड़ा में संलग्न भी देखा था. मुझे तो पहले से पता था कि आज की रात क्या होने वाला है, सो मैं बस इन्तजार में थी.

फिर भाबी ने नीचे बैठकर मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया और उसको जोर जोर से चूसने लगी. भाभी ने एक रेशमी सा गाउन पहना हुआ था और उनके गीले बाल उनके कंधे पर बिखरे हुए थे. भाभी ने अपने मस्त चूचों को मेरी कुहनी के आगे वाले भाग की तरफ अपने चूचों को मेरे हाथ से सटा दिया और मेरे हाथ पर अपने चूचों को स्पर्श देने लगी.

रमा उस सुकून भरे पल को मजे से झेलती हुई अपनी आंखें बंद कर चुपचाप आने वाले सुखमयी पलों की कल्पना में खो गई.

अभी एक साथ सलमा की गांड में पेन्सिल और चुत में उंगली चल रही थी … जिससे सलमा को मजा आ रहा था. अब मैंने नमिता से कहा- मुझे तुम्हारे दोनों छेदों में लण्ड डालना है, पहले किसमें डालूँ?लोअर के ऊपर से ही मेरा लण्ड पकड़ कर नमिता ने अपनी बूर पर रख दिया. आपको मेरी बहन की चुदाई और चूत की सील टूटने वाली सेक्स कहानी कैसी लगी, जरूर बताना.

मैं रोज यही सोचता रहता था कि बस एक बार मेम चोदने को मिल जाएं, तो मजा आ जाए. राजशेखर ने वो बोतल पकड़ ली और जब केवल 10 सेकण्ड्स बचे हुए थे, तभी उल्टी गिनती शुरू हो गई.

फिर मैंने जबरदस्ती उसके हाथ को अपने लंड पर रखवा लिया और उसके हाथ को अपने लंड पर रगड़ने लगा. मैंने कहा- थोड़ी देर तो रूको?वो बोली- नहीं, ऐसे नहीं, बहुत रिस्क है, जब अकेले होगे तब मिलेंगे. फिर उन्होंने कहा- कुछ दवाइयां आपको आज ही मिल जाएंगी और बाक़ी दवाइयां आपको दो दिन बाद उपलब्ध हो पायेंगी।मैंने उनसे कहा- लेकिन आप जरूर यह दवाई मंगवा दीजिए।मैं अपने घर आ गया और घर पर मैंने वह दवाई अपनी मम्मी को दे दी। मैंने अपनी मम्मी को सारा कुछ समझा दिया था.

सुहागरात की चुदाई वीडियो बीएफ

आज तू इसे मेरी चुत में डाल दे, जिससे मेरी चुत की प्यास शांत हो जाए.

श्रुति ने सुरेश के लंड को पूरा चाट कर साफ कर दिया और उसको अपने थूक से गीला कर दिया. उनके जाने के बाद मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अम्मा के नाम से मुठ मारी. निर्मला चादर को दोनों मुट्ठियों से पकड़ कराहते हुए और चीखते हुए राजशेखर के धक्के झेलती रही.

हुआ यूं कि मेरा ब्वॉयफ्रेंड मेरे साथ सुहागरात मनाना चाहता था, मैं भी उसके साथ फर्स्ट टाइम सेक्स करने के लिए तैयार थी. फिर धीरे धीरे उसकी चूत पर पहुंच कर अपने होंठों से उसकी चूत को छू लिया. नंगी औरत सेक्सी वीडियोमैंने धीरे से मामी के तन से चादर को हटाया और उनके बदन पर हाथ फिराने लगा.

इधर लंड महाराज चूत में गचके लगाते हुए पच-पच का संगीत कानों तक पहुंचा रहे थे. दोस्तो, मैं आपकी पीहू एक बार फिर अपने जीवन की एक सच्ची घटना, गोवा सेक्स की कहानी लेकर आई हूं.

इतना कह कर मैंने उसके निप्पल को अपने मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया तो उसकी मुंह से आह्ह … स्स्स … करके एक सिसकारी निकल गई. उसने मुझसे पूछा- क्या पहली बार कर रहे हो?मैंने कहा- हां … मैंने कभी सेक्स नहीं किया है. उनके घर में मेरी काफी खातिरदारी हुई और फिर आखिरकार सोने का समय भी आ ही गया.

मैं फिर भी नहीं मान रही थी … मगर उसने जबरदस्ती मुझे अपने ऊपर चढ़ा लिया और मेरी टांगें दोनों तरफ फैला कर अपना लिंग मेरी योनि में प्रवेश कराते हुए मुझे सीधा होने को बोला. हम सभी महिलाओं ने पुरुषों की ताकत को जांचने का एक तरीका अपनाया था, जिसमें कमलनाथ फिसड्डी साबित हो गया था. मेरी चूची भी बड़ी बड़ी है और मैं खाते पीते घर की हूँ तो मेरा फिगर बहुत अच्छा है.

उसके बाद हम दोनों न जाने कितनी और बार मिले … हमारे बीच मस्त रिश्ता बन गया था.

मैंने नीचे अंडरवियर नहीं पहना था जिसकी वजह से पैंट निकलते ही मैं पूरा नंगा हो गया।उसने मेरे लंड को सीधा अपने मुँह में ले लिया उसके गुलाबी होठों ने मुझे मदहोश ही कर दिया। मैंने उसकी ब्रा व पैंटी निकालकर फेंक दी और उसे कहा- मेरे ऊपर आओ. मेरा मन कर रहा था कि मैं ऐसे ही उसके लंड को अपनी गांड में लेती रहूं.

जिस किसी का भी लिंग मूत्र निकलते हुए ढीला पड़ने लगेगा, वो हार जाएगा. आप हमसे प्यार करती हैं तो आ जाना।वो कुछ नहीं बोली।मैं ऊपर इंतजार करने लगा. इसके तुरंत बाद मैंने उनकी नाइटी को निकाल कर फेंक दिया और खुद भी नंगा हो गया.

इसमें रिश्तों में चुदाई की कुछ हिंदी सेक्स स्टोरी का लिंक पर क्लिक किया, तो सामने भाई बहन, बाप बेटी की सेक्स स्टोरी आ गईं. राज- वैसे रुचि ने मुझे बताया था कि तुम्हारा बॉयफ्रेंड भी आने वाला था!मैं- हां यार, लेकिन वो आ नहीं पाया … मेरी किस्मत खराब थी. मैं उसके आगे खड़ा था तो उसने पीछे से कहा- आपको उतरना है क्या?मुझे वहीं आवाज़ दोबारा सुनने को मिली तो मैं भी तुरंत पीछे पलट गया और देखा तो वहीं लड़की मेरे पीछे खड़ी थी।मैंने उससे कहा- नहीं मुझे नहीं उतरना.

सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ इस पर राजेश्वरी ने रुखे शब्दों में कहा- इसका मतलब तुम्हें मेरे साथ मजा नहीं आता?राजशेखर फ़ौरन उठा और राजेश्वरी के हाथ पांव जोड़ने लगा और माफ़ी मांगने लगा. एक बात मुझे अचंभित करने वाली ये लग रही थी कि इतनी देर के बाद भी हम 5 औरतों को नंगा देखने, छूने और छेड़ने के बाद भी किसी के लिंग में कोई तनाव नहीं दिख रहा था.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ दिखाएं

इसी तरह राजशेखर भी मेरे पास आ गया और मुझसे बातें करते हुए मेरी तारीफ करने लगा. उसने मुझे एक तरफ साइड में लेटाया और मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. लेकिन निधि का मन नहीं भरा था, निधि ने मुझे फिर से उसकी चूत चूसने को कहा.

उसके बाद मैं बाथरूम में चला गया और काव्या भी अपने कपड़े ठीक करके बैठ गयी. साफ होने के बाद मैंने ध्यान से देखा तो वो अंदर से लाल थी लेकिन बाहर से उसकी चूत के होंठ काले थे. रसीली चूतफिर थोड़ी देर मैं आंटी के ऊपर ही लेटा रहा।मैं आंटी को किस करते हुए साइड में लेट गया और आंटी से बात करने लगा.

बल्लू ने जो काम था, वो बाजू मे रख कर तुरंत जाकर फोन लिया- हैलो भाभी, बोलो?वंदना भाभी- बल्लू कहां पर हो तुम, मेरी याद आती है या नहीं?बल्लू- ओह जानेमन, तुम्हें कैसे भूल सकता हूँ मैं.

मैं बोला- कोई बात नहीं तुम अपना काम खत्म कर लो, मैं बैठा हूं, इन्तजार कर लेता हूं. कपड़ों के ऊपर से ही जब बल्लू का लंड भाभी की गांड पर लगा तो भाभी मचल सी गई.

आंटी बोली- मैं तो तुमको बहुत शरीफ समझती थी और तुम ऐसे वीडियो देखते हो. तो मैं उनकी पीठ पर साबुन लगाने लगा।शायद बुआ को मेरा मोटा लंड याद आ रहा था और शायद उनका मुझसे चुदाई का मन बन रहा था जिसके लिए वो मुझे उत्तेजित कर रही थी।क्या मुलायम बदन था बुआ का … जी कर रहा था कि उसी वक़्त उनको चोद दूँ. कमलनाथ- आ जाओ अब तुम्हें बताता हूं कि शादी के बाद लड़का लड़की क्या करते हैं.

उसने मुझे सिखा दिया कि कैसे किसी मर्द के साथ अधिकांश उच्च वेश्याएं मोल भाव करती हैं.

तभी राजशेखर ने कहा- यार कांतिलाल, तुम तो रोज भाभीजी के साथ मजे करते हो … अगर बुरा न मानो तो आज भाभी जी को मैं अपने बिस्तर पर न्यौता देना चाहता हूँ. मुझे खुद पर बहुत शर्म आयी और जब वो मेरी तरफ आईं, तो मैं उनसे नज़र नहीं मिला पा रहा था. एकाएक राजशेखर ने अब मेरी एक टांग जो जमीन पर थी, उसे उठाने की प्रयास शुरू कर दिया.

एक्स एक्स एक्स बीपी ब्लू फिल्ममुझे कांतिलाल के ऊपर चढ़ कर उसका लिंग अपनी योनि में लेने में ज्यादा देर नहीं लगी थी. फिर मुझे महसूस हुआ कि काफ़ी देर हो चुकी है, कोई इसे खोजता हुआ आ ना टपके, तो मैंने सोचा कि क्यों ना बाकी का भी काम निपटा लिया जाए.

बीएफ चुदाई वाली भोजपुरी

उसके अन्दर आते ही मैंने टॉयलेट का दरवाजा बंद किया और उस पर टूट पड़ा. जब भी मैं इमरान के घर जाता था तो मेरी नजर उसकी मां के बदन को ऊपर से नीचे तक पूरा नाप लेती थी. अब मैं काव्या की चूत और जांघों को चाट रहा था और काव्या मेरे लंड और अंडों से खेल रही थी.

वो कॉलेज गर्ल हरिद्वार से थी और वो रुड़की के किसी इंजिनियरिंग कॉलेज से अपनी पढ़ाई कर रही थी. मगर मां किसी को इस बारे में नहीं बताती थी क्योंकि वो घर की बात को घर में रखना चाह रही थी. कुछ पल यूं ही रुके रहने के बाद मैंने आराम आराम से लंड को अन्दर बाहर करना चालू कर दिया.

तभी दोस्त लोग आ गए और बोले- क्या भाई … इतने दिनों बाद मिले हो और सूखे सूखे?मैं बोला- देखो भाइयो, अपुन है एक शरीफ बंदा … लेकिन सिर्फ़ बड़ों की नज़रों में … ये लो पैसे और एक बीयर का कार्टून उठा लाओ. जैसे ही मैंने उसके होंठों पर किस किया, तो उसने मुझको कसकर अपने उभरी हुई चुचियों से चिपका लिया. अंतरा के मुँह से ज़ोर से मतवाली सिसकारी छूटी उम्म्ह … अहह … हय … ओह … और उसने अपने चूतड़ों को आगे पीछे करना शुरू कर दिया.

वो बीच बीच में बड़बड़ा रही थी और रुक रुक कर मेरे लंड को चूस रही थी. पहला आदमी रवि था, जो दिल्ली से था, दूसरा राजशेखर, जो गुजरात से और तीसरा कमलनाथ, जो मुम्बई से आया था.

तो मैंने उसे कैसे अपने जाल में फंसाया?नमस्कार दोस्तो, आपने मेरी पिछली अन्तर्वासना डॉट कॉम स्टोरीपड़ोस की एक जवान लड़की ख़ुशी से चुद गयीमें पढ़ा था कि कैसे मैंने जुबैदा और उसकी बेटी सलमा को चोद कर अपनी रखैल बना लिया था.

मैं कुछ देर ऐसे ही मदहोशी की हालत में लेटा रहा और भाबी के कोमल हाथों के स्पर्श के बारे में सोचता रहा. सेक्सी ब्लू पिक्चर इंग्लिश वीडियोदोनों तरफ से ही बराबर चिकनाई हो गई थी और चुदाई मक्खन के माफिक चल रही थी. सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो सॉन्गउसकी केले के तने जैसी जांघों के बारे में सोच कर लंड का बुरा हाल हो रहा था. रिश्तों में चुदाई की गर्म कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी अम्मा ने मुझसे ओरल सेक्स का मांग की तो मैंने किया.

मगर यहां पर किसी प्रकार का कोई डर नहीं है और आसानी से अपने मन की बात शेयर की जा सकती है.

मैं लगातार उसके मम्मों को चूसता मसलता जा रहा था और दबाता जा रहा था. राकेश ने बोला कि मैं बाथरूम से आता हूँ, फिर उसके बाद तुम दोनों भी फ्रेश हो लेना. वो लड़की बहुत ही प्यारी थी इसलिए उसको रोते हुए देख कर मेरा मन भी दुखी हो गया था.

मैंने कहा- थोड़ी देर तो रूको?वो बोली- नहीं, ऐसे नहीं, बहुत रिस्क है, जब अकेले होगे तब मिलेंगे. उस दिन वर्मा जी भी आ गए और उन्होंने मुझे उसके साथ संभोग करते हुए देख लिया था।मुझे मेरी पहली सच्ची कामुकता भरी सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे बताने के लिए ईमेल करें. आखिरकार मेरे लंड ने दम छोड़ दिया और मैंने पूरा का पूरा वीर्य उसकी चुत में छोड़ दिया.

ब्लू बीएफ पिक्चर हिंदी

मैं अपनी गर्लफ्रेड को भुला नहीं पा रहा था, इसलिए कभी कभी रो लेता था. उसने कहा- क्या हुआ? अब तक तुम्हारा हुआ नहीं था क्या?मैंने कहा- देखो ना कितना खड़ा है. अभी भी हमारी इच्छा होती है, पर हर किसी जोड़े या गैर मर्द पर से यकीन कर पाना मुश्किल है.

मैं उसके मम्मों को अपनी जीभ से चाटने लगा ‘सर्र सरर … सपप्प पप्प …’ मैं उसके एक दोनों मम्मों को अपने मुँह में लेकर बारी बारी से एक एक करके चूसने लगा.

अपनी दीदी की प्यासी जवानी की कहानी सुन कर मैंने अपनी बहन के साथ सेक्स करने की ठान ली और उन्हें मना भी लिया.

लेकिन मेरे मम्मी की तबीयत ठीक नहीं रहती इसलिए उनके लिए मुझे हमेशा दवाई लेकर आनी पड़ जाती है। उनकी दवाइयां मैं हमेशा अपने घर के पास ही एक मेडिकल स्टोर से लेकर आता हूं।एक दिन मैं दवाई लेने के लिए मेडिकल स्टोर में चला गया. कविता ने कांतिलाल की कमर को पकड़ रखा था, तभी कांतिलाल ने अपना बांया हाथ नीचे किया और अपने लिंग को पकड़ कर कविता की योनि में प्रवेश कराने लगा. भाई बहन की चुदाई व्हिडिओमैं बिना कोई परवाह किये पूरा का पूरा लंड भाभी की रसीली चुत में डालने लगा.

मैं उम्मीद करती हूं कि आपको मेरी जिन्दगी की पहली चुदाई की ये देसी फुद्दी की चुदाई कहानी पसंद आई होगी. उन्होंने मेरी तरफ होंठ बढ़ाए तो मुझे ऐसा लगा कि आज शायद आंटी पहल कर रही हैं, मेरी चुदाई स्टोरी अब बन जायेगी. अब आगे:कमलनाथ ने एक एक करके राजेश्वरी के कपड़े उतार दिए और खुद के भी कपड़े उतार दिए.

इस तरह से वीर्य निकलने का मजा मैंने जिन्दगी में पहली बार ही चखा था. मेरी चुदास बहुत ज्यादा बढ़ चुकी थी और मेरी आहों ने कमरे के माहौल को एकदम वासना से रंग दिया था.

मैं हैरान था इस लड़की की कामुकता को देख कर … मैंने सिर्फ एक झटका आगे की तरह मारा और उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाल दिया.

कपड़ों के ऊपर से ही जब बल्लू का लंड भाभी की गांड पर लगा तो भाभी मचल सी गई. जब मेरा वीर्य निकलने वाला था, तो मैंने पूछा कि माल कहां निकालूं?वो बोली- मेरी बुर में ही गिरा दीजिए. उसने गुर्राते हुए कुछ जोर जोर के धक्के मारे और फिर अपना पूरा लिंग कविता की योनि में जड़ तक घुसा पूरा बदन अकड़ा लिया.

हिंदी xxxxx वो दिखने में सांवली थी लेकिन उनकी सबसे बड़ी बात ये थी कि उनके बोबे ब्लाउज फाड़ कर बाहर आने को बेताब लग रहे थे. पहली बार दीदी के उभारों को अपने होंठों से छुआ था इसलिए आनंद की कोई सीमा न थी.

अब मैं उसके ब्लाउज को खोलने ही वाला था कि तभी मुझे लगा कि कोई हमें देख रहा है. उस जवान लड़की की नर्म जांघों पर हाथ रख कर मैं तो बिल्कुल लार टपकाने लगा था और मेरे लंड से भी लार निकलने लगी थी. आधे घंटे के बाद मैंने देखा कि उसके सास-ससुर अपना सामान ऑटो में रख कर निकल गये.

बीएफ फिल्म नंगी पिक्चर

तो मैं सुबह करीब आठ बजे तैयार होकर जाने के लिये सीढ़ियों से नीचे आ रहा था कि एकदम से मेरे पैर थम गये. मैं समझ गई कि अब निर्मला झड़ने वाली है और कुछ ही पलों मैं वो ‘ह्म्म्म … आह्ह्ह … ओह्ह्ह … सीस्स्स्स …’ करती हुई झड़ गई. कुछ देर बाद जब उसका आधा लंड मेरी चुत में घुस गया, तो मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी चूत नीचे से फट गई हो.

मजा लें!इस हॉट सेक्स स्टोरी के पहले भागफैमिली सेक्स की हॉट स्टोरी-1में आपने पढ़ा:अम्मा की चुदाई के बादफिर मैं अम्मा पर चढ़ गया. कुछ देर के बाद मेरे दूधों में अब जलन होने लगी थी और मैं अब झटपटाने लगी थी- आह्ह … अंकल … बस … अब दुख रहा है … रुको न अंकल … आह्ह … आईई … उफ्फ … करते हुए मैं कराहने लगी थी.

मैं 24 साल का एक हैंडसम बंदा हूं, जिसे देख कर हर किसी की चूत में खुजली मच सकती है.

रवि ने उसकी टांगें पकड़ कर अपने कंधों पर रख लीं और घुटनों पर आकर अपना मुँह रमा की योनि से लगा दिया. मैंने उसकी गांड में से लंड निकाला और फिर से उसकी चूत में देकर चोदने लगा. समयानुसार भाभी के घर एक सुन्दर बच्चा पैदा हुआ।लेकिन बाद में पता चला कि भाभी ने यह बात अपनी बहन ज्योति को बता दी.

फिर हम दोनों खड़े हो गए, शॉवर लिया और बेड पर आकर नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर सो गए. दूसरी बात ये कि उसकी चूचियों से दूध निकलता था, जो मुझे पीने में बड़ा मजा आता था. पहले तो उसने मेरे लंड के सुपारे ऊपर अपनी जीभ फिराई और मेरे लंड को टट्टों से लेकर ऊपर तक चाटा और इसके बाद तो मानो उसने तूफ़ान खड़ा कर दिया.

फैमिली सेक्स की हॉट स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे परिवार में मैं और मेरी अम्मा ही थे.

सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ: हम सभी लड़कियां चुदाई के प्रति काफी उत्सुक रहती थीं। हम सभी चुदाई की कहानियां पढ़ने की बहुत ही शौकीन थीं। इसलिए हमारे पास बहुत सी सेक्स कहानियों की किताबें थीं. उस समय मेरा कॉलेज शुरू होने वाला था और मैं घर पर उन दिनों फ्री ही रहता था.

मैंने भी उसको प्यार से उसके गालों पर एक किस कर लिया, ये मेरे जीवन का पहला किस था. इसको तो अगर बाज़ार में बेचने जाएंगे, तो लोग कितने भी रुपये देने के लिए तैयार हो जाएंगे. अब आगे:उनके सामने अपने लंड को हिलाते हुए मैं बोला- मुझे तो सिर्फ एक चूत चाहिए थी मारने को, यहां तो दो दो हैं.

फिर मैं रुक गया और उसे खोल कर उसके बालों को पकड़ कर उसको सीधा खड़ा किया.

मैं दीदी पैंटी की इलास्टिक में हाथ को फंसाया और नीचे करते हुए उसे उतार दिया. अपनी मर्दानी ताकत का प्रयोग करते हुए उसने मुझे भी मेरी टांगें पकड़ खींचा और बिस्तर से नीचे उतार दिया. सब क्रोधित भी होने लगे, पर कमलनाथ ने सब से माफी मांगते हुए इसे एक तरह का केवल खेल बता कर स्थिति नियंत्रित कर ली.