बीएफ सेक्सी देखना वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ हिंदी सनी लियोन

तस्वीर का शीर्षक ,

बीज सेक्सी: बीएफ सेक्सी देखना वीडियो, मैं ही ले जाऊंगी। मैं अपने बच्चे को उसकी उंगली पकड़ कर टेबल तक ले जाऊंगी।तुरंत उसे मैंने अपने राइट हैण्ड दिया.

बुद्धा बीएफ

और फिर हम डिनर करके तकरीबन रात को 11 बजे फिर से बेडरूम में आ गए।हम दोनों ने तकरीबन आधे घंटे तक कुछ प्यार किया. लोकल बीएफ दिखाइए चलाते हुएतो अगले दिन उनका एजेंट कनेक्शन चैक करने आया।मैं तब वासना की अग्नि में बहुत ज्यादा बेचैन हुआ पड़ा था.

कम से कम अच्छे से देखने तो देतीं।आंटी मना करने लगीं।मैं हिम्मत करके उठा और आंटी के पास चला गया और बोला- दिखाओ न. मोनालिसा के बीएफ एचडीवो बोली- चल दिखा।मैं बोला- ठीक है चल मेरे साथ।वो मेरे साथ आ गई और मैं बाथरूम में जाकर ‘सूसू’ करने लगा। वो मेरे लौड़े से मूत की तेज धार निकलती हुई देखती रही।फिर वो बोली- मेरे पास तो ऐसा कोई आइटम नहीं है।मैं बोला- ये लड़कों के पास ही होता है। पर ये भी तेरा ही तो है।उसकी कुछ समझ में नहीं आया कि ये मेरा कैसे हो सकता है।मैं बोला- इसमें से सूसू के अलावा क्रीम भी निकलती है.

’राज ने टीवी का चैनल बदलते हुए ‘एफ टीवी’ लगा दिया और टीवी पर नंगी-पुंगी मॉडल्स को देखने लगा।सविता भाभी ने राज की पैन्ट में उसका लौड़ा फूलता हुआ देखा तो वे समझ गईं कि इन नंगी मॉडल्स की तरफ देखने से इसका खड़ा होने लगा है।उन्होंने उसके लौड़े की तरफ इशारा करते हुए उसको छेड़ा- मुझे लगता है तू इस वक्त किसी लड़की की जरूरत महसूस कर रहा है।‘ओह.बीएफ सेक्सी देखना वीडियो: जिसे वो ईमानदारी से करता था।लेकिन आज उसका ये रूप सामने आने के बाद से रश्मि हैरान थी।और शब्बो?उसे तो वो बच्ची समझ रही थी। लेकिन आज गैराज़ की टेबल पर वो एकदम खेली-खाई औरत जैसा बर्ताव कर रही थी। जिस बेशर्मी से वो चुदाई का मज़ा ले रही थी उससे साफ़ ज़ाहिर था कि वासना का ये खेल उसके लिए नया नहीं था।‘कब से चल रहा हैं ये सब?’रश्मि ने पूछा तो शब्बो की चाय उसके हलक में ही रह गई।‘जी.

तो वो खुद से लेट गई।मैंने भी अचानक से उसके ऊपर लेटकर उसको चूमना जारी रखा.आज तुम्हें इतना चोदूँगा कि तेरी चूत का भोसड़ा बना दूँगा।भाभी के मम्मों को चूसने लगा तो भाभी बहुत गरम हो गई थीं और जल्दी से लण्ड को चूत में डाल देने का बोल रही थीं।लेकिन मैं भाभी को और गरम करना चाहता था। मैंने थोड़ा नीचे आकर भाभी की चूत में उंगली डाल दी। भाभी की चूत में उंगली जाते ही वे एकदम से उछल पड़ीं।वे ‘ओओहह.

फादर बीएफ - बीएफ सेक्सी देखना वीडियो

मेरा नाम राज शर्मा है। दिल्ली में रहता हूँ। मेरी उम्र 28 साल है, लम्बाई 5 फिट 6 इंच है और मैं अर्न्तवासना पर हिन्दी सेक्स कहानी का नियमित पाठक हूँ।आप सब लोगों ने मेरी पिछली कहानियों को बहुत सराहा और बहुत सारे मेल किए इसके लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद।अर्न्तवासना से मेरी सेक्स कहानियों को पढ़कर बहुत से लोग फेसबुक पर मुझसे जुड़कर मेरे बहुत अच्छे दोस्त बने.उसका 36-28-34 का फिगर मस्त दिख रहा था। उसकी गांड बहुत मस्त लग रही थी।मैं तो अब होश खो रहा था.

होंठ जुड़े हुए थे।थोड़ी देर के बाद हम दोनों अलग हुए और उठ कर फिर चिपक गए।‘वाह कमल तेरे लन्ड में तो बहुत दम है. बीएफ सेक्सी देखना वीडियो पर मेरा ही पपलू बन गया।इतने में विभा बोल पड़ी- लेकिन मुझे बहुत मज़ा आया.

उसकी चूत से खून की धार निकल पड़ी। साथ ही उसकी आँखों से आंसू भी निकले। मैंने दूसरा शॉट नहीं लगाया क्यूंकि डंबो दर्द से कराह रही थी। मैं उसे कुछ देर तक चूमता रहा और कुछ देर उसकी कमर मालिश की।फिर उसने कहा- नाउ इट्स ओके शोना.

बीएफ सेक्सी देखना वीडियो?

जब वो यहाँ आते हैं तब यहीं ठहरते हैं।मैं- यह तो बड़ी अच्छी बात है। आप भी मुझे दो दिन में लंदन दिखा दो। वापस कब आऊँगा पता नहीं क्रिस्टिना।क्रिस- हाँ जरूर. तथा निप्पल गुलाबी रंग के थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो इस वक्त इतनी कामुक लग रही थी कि उसके नुकीले और तने हुए निप्पलों को देख कर बुड्डे आदमी का भी लण्ड खड़ा हो जाए।मैंने धीरे से उसके एक स्तन पर चुम्बन किया और उसके अग्र भाग को हल्के से अपने होंठों से दबा कर खींचा. मैं हूँ ना तुम्हारी गर्लफ्रेंड!इतना बोल कर वे खिलखिला कर हँसने लगीं.

खुद भी नहाए, मुझे बांहों में उठा कर बाहर ले आए, भैया ने किस किया और बोले- आई लव यू।फिर वो चले गए और मेरे मॉम-डैड दो दिन यहाँ नहीं थे तो वो रात को भी मेरे पास रुके और रात भर मुझे सोने नहीं दिया। शायद ही किसी ने मुझे इतना प्यार दिया और मेरा इतना खयाल रखा होगा। वो मुझे रात भर अलग-अलग पोजीशन में चोदते रहे. शादी तक कुछ नहीं करना चाहता था। बस कभी-कभी मुठ मार कर खुद को शांत कर लेता था क्योंकि मुझे मालूम था कि एक बार चूत का चस्का लग जाएगा. आ गई तू लाइन पर!कहते हुए उन्होंने बहुत सारा थूक अपने मुंह में इकट्ठा किया और मेरे होठों को अपने पास खींचते हुए अपने होंठ मेरे होठों पर रख दिए और सार थूक मेरे मुंह में दे दिया।अबकी बार मैं खुद ही उनके लंड पर थूक उड़ेलते हुए लंड को मुंह में पूरा अंदर तक ले गया और चूसने लगा।फिर वो उठे और बोले- चारपाई से नीचे उतर.

उन्होंने खुद मेरा लण्ड पकड़ कर अपनी चूत के मुहाने पर लगा लिया और ऊपर को जोर लगाने लगीं।मैंने भी लण्ड को चूत पर दबाना शुरू किया. लाओ मैं ही पहना दूँ।मैंने आज पहल करते हुए उसके होंठों को कस के एक चुम्मी ली और उसके होंठों को जोर से काट लिया, अपनी दोनों हथेलियों से उसकी चूचियां जोर से दबा दीं।वो दबी सी आवाज़ में बोल उठी- उईई. जैसे उसे खा ही जाएंगी।तभी अजानक उनका बदन अकड़ने लगा और वह मेरे मुँह में ही झड़ गईं.

लेकिन घर पर सभी के होने की वजह से मौका नहीं मिल पा रहा था। अब तो मैं उसको चोदने के सपने देखता था. उसने मुझसे कहा- अब मुझे जाना होगा।मैंने उसे कहा- तुम जाओ, पर वादा करो कि वापस ज़रूर आओगी।उसने मुझसे वादा किया और जैसे ही वह उठी.

जो करना है।फिर मैंने सलवार नीचे सरकाई, कुर्ती गले से ऊपर तक कर दी और कहा- आ जाओ।मेरी नंगी चूचियां और चूत देख वह एक बार हैरान रह गया।मैंने आँख मार कर उसे अपने ऊपर आने का इशारा किया।वह लपक कर आ गया।उसने मेरे होंठ चूसे.

अब वो सब करने का टाइम आ गया था। सबसे पहले मैंने मॉम की सीधा लेटाया और जम कर उनके होंठों को चूसा।फिर रोमांटिक मूड में उनके गले को चाटा। मैंने जोश में मॉम का ब्लाउज फाड़ दिया, ब्रा के कप्स को हटा दिया और उनके पिंक-पिंक निपल्स तो खूब चाते चूसे और खींचे। मॉम वहाँ सिसकारियाँ ले रही थीं- आआहह.

मुझे तो याद नहीं?नेहा- अरे जनकपुरी में तुम कविता और विक्रम के घर रुके थे और उनको एक बच्चे की जरूरत थी. पता ही नहीं चला। जोश-जोश में मैंने उसकी ब्रा भी फाड़ दी थी।हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, पहले तो उसने लौड़े को चूसने में खूब नखरे किए. प्लीज़ आज मुझे जन्नत में ले चलो।इतना सुनते ही मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके मम्मों को एक के बाद एक मसलने लगा।‘सैम बेबी.

मैं कोई ‘गे’ टाइप का नहीं हूँ।’सविता भाभी ने जैसे ही गर्लफ्रेंड के बारे में सुना तो वे पूछने लगीं- ओह्ह. दोस्तो सभी को मेरे खड़े लंड का नमस्कार, जैसा कि कहानी के नाम से प्रतीत होता है. मेरे पास आ जाओ।मैं और तन्वी भी सोफे पर बैठ गए। इससे पहले तुषार मेरे साथ कुछ करता, तन्वी ने कहा- रोमा तुम पहले चुदवाने चाहती हो या चुदाई देखना चाहती हो?मैंने तो कहा- मुझे तो पहले चुदाई देखनी है।अब तन्वी ने अपने होंठ तुषार के होंठ पर रख दिए और उसे चुम्बन करने लगी.

लेकिन मेरे एक दोस्त ने मुझे बताया कि मैं बायसेक्सुएल हूँ, ये एक नॉर्मल बात है.

’ करते हुए करीना अपनी दोनों जांघें आगे-पीछे करते हुए मेरे सर को हाथों से सहलाते हुए अपना रस मेरे मुँह में छोड़ बैठीं।मैंने भी उनके रस की एक-एक बूँद को पी लिया।पूरा रस पीने के बाद करीना मुझे कहने लगीं- कैसा लगा मेरा रस।मैंने ध्यान ही नहीं दिया. जितना कहो कम ही होगा।मैंने एक रोज़ उससे उसकी फोटो देखने के लिए कहा. तो दीदी मुझे नीचे फर्श पर सोने को कह देतीं और मेरी योजना फेल हो जाती।कुछ देर बाद मैंने नींद में होने का नाटक करते हुए जानबूझ कर एक हाथ दीदी के एक मम्मे पर रखा और पैर चूत पर लगा दिया।अब शायद दीदी गहरी नींद में सो गई थीं, इसलिए उसे पता नहीं चला। मैं आज दीदी की चूत मारने का पका कर चुका था.

उनकी गोरी-गोरी टांगें और गुलाबी फ्रेंची जो कि दीदी की चूत और गांड को ढके हुई थी. तो मेरे मन में ख्याल आया कि उनको नहाते हुए देखने की कोशिश करता हूँ. जो मुझे माँ कहे। मैं तुम्हारे अंकल से कहती हूँ कि टेस्ट ट्यूब बेबी कर लेते हैं तो वो ये नहीं चाहते कि उनके सेक्स प्राब्लम के बारे में सबके पता चले।यह कहकर वो फूट-फूट कर रोने लगीं।मैंने उन्हें गले से लगा लिया और शांत कराने की कोशिश की।उनका यह दुख मुझसे देखा नहीं गया.

नींद नहीं आ रही क्या?मैंने गर्दन हिलाते हुआ कहा- हाँ यार, नींद नहीं आ रही है।यह सुनकर सीमा मेरे पलंग पर आकर लेट गई।पता नहीं उस समय मुझे क्या हुआ.

तो कृपया आप एडजस्ट कर लीजिए।मैंने उससे निवेदन किया और अपना परिचय पत्र दिखाया. तुम्हें बाबा का लिंग भोग लगाना होगा।मैं थोड़ा डर गई और पूछा- बाबा जी यह क्या होता है?बाबा जी ने कहा- बेटी डरने कोई आवश्यकता नहीं है। बस हमारे लिंग को प्रसाद समझ कर एक बार चूमना है और एक बार अपनी योनि पर स्पर्श करवाना है.

बीएफ सेक्सी देखना वीडियो तेरा मुँह भी चोद देता हूँ।मैंने कुछ धक्के शालू की गांड में लगाए और तभी शालू ने जोर से एक दहाड़ लगाई ‘ऊह्ह आईई… मज़ा… आआ. तो मेरे आने का किसी को पता नहीं चला।उसने मुझे अपने कमरे में बिठाया और वो मेरे लिए पानी भर कर लाई।मैंने पानी पिया.

बीएफ सेक्सी देखना वीडियो चड्डी उतारते ही सीधे उसके मुँह को जा लगा।विभा ने अपने मुँह पर हाथ रख लिया और बोली- बाप रे इतना बड़ा. विकास ने अपनी पैंट की ज़िप खोली और अपना लंड मुझे हाथ में पकड़ा दिया।उसका लौड़ा पहले ढीला था.

मुझे नौकरी मिलते ही हम दोनों शादी कर लेंगे।इसके बाद उसने सविता भाभी को होंठों पर चूमते हुए प्यार करना शुरू कर दिया था।सविता भाभी ने उससे पूछा- तुम मुझे प्यार करते हो न कामेश मेरी जान?कामेश ने उनके अनावृत उरोजों के चूचुकों को चुभलाते हुए प्यार की पींगें बढ़ाना शुरू कर दी थीं।अभी सविता भाभी अपनी उस रंगीन जिन्दगी के बारे में सोच ही रही थीं कि तभी कामेश ने उनको पुकारते हुए कहा- सविता.

बीएफ अंग्रेजी सेक्सी फिल्म

तो मैंने उन्हें हटाया और बिस्तर पर इस तरह से बैठाया कि दोनों एक-दूसरे के ऊपर लेट जाएं। दोनों के पेट आपस में चिपक गए थे और एक-दूसरे के बोबे और मुँह भी सामने थे।अन्नू जो पीठ के बल लेटी थी. ट्राई कर ले।मैंने छुन्नू से कहा- यार अगर मैं उसको पटा लूँ और वो खुद अपनी मर्ज़ी से चुदवाने को तैयार हो जाए. मेरे पति 4-5 दिन के लिए बाहर गए हुए हैं।मैं वहीं रुक गया और रात भर खूब मस्ती की।इसके आगे क्या हुआ.

चूत का नजारा और ही होता है।मैंने लंड खड़ा करके चांदनी को मुँह और छाती के बल लिटा कर उसके ऊपर आ गया। वो कुछ भी प्रतिवाद नहीं कर रही थी।मैंने चांदनी की दोनों बाजू से पकड़ कर उसकी लातें थोड़ी फैला दीं और उसे पीछे को खींच लिया। अब मैंने लंड का निशाना साध कर चूत में डाल कर उसे घोड़ी सा बना लिया. तो मैं धीरे से अपनी जिप खोली और अपना लौड़ा बाहर निकाला।सर ने भी अपनी जीन्स उतार दी और मेरे लौड़े को हाथ में लेकर बोले- मोटा है तुम्हारा भी. वहाँ पर राजेश के कपड़े रखे हुए थे जिन्हें पहनकर वो आया था। मैं उन कपड़ों से लिपट गया और उनकी मर्दाना खुशबू को अपने जिस्म में उतारने लगा, जिससे मुझे राजेश के जिस्म का अनुभव हो रहा था। ऐसे ही करते हुए मेरा लौड़ा खाली हुआ और मुझे थोड़ी शांति हुई और मैं स्टेज की तरफ कार्यक्रम देखने पहुँच गया।उस दिन के बाद मेरे दिमाग में राजेश का जिस्म ही चल रहा था.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !लेकिन मैं नहीं माना, मैंने आंटी को बिस्तर पर लेटा दिया और उनका गाउन पूरा ऊपर कर दिया।आंटी मना करती रहीं और मैं आंटी का गाउन ऊपर करता रहा।धीरे-धीरे मैंने आंटी का गाउन पूरा ऊपर कर दिया। अब आंटी मेरे सामने उसी वाइट ब्रा में थीं.

देखने में बहुत सुंदर है। उसका रंग गेहुआं है और नाम चांदनी है।चांदनी 5. अपने-अपने हाथ से मसल रही थीं।मेरे लंड में अब थोड़ा-थोड़ा दर्द होने लगा. ’उसके मुँह से ‘हो गया’ सुनकर मेरी हँसी निकल पड़ी।कुछ देर बाद वो भी बाहर आ गई।अब मैं रात को उसके साथ सोने का इंतज़ार करने लगा। रात हुई, जैसा मैंने सोचा था बिल्कुल वैसा नहीं हुआ.

और आप अवश्य ही उन सबसे ज्यादा देर तक ‘टिक’ सकते हैं।’जीत कुमार ने टोका- किस तरह से देर तक ‘टिकने’ के लिए कह रही हो?सविता भाभी ने देखा कि उनके हाथ फेरने के कारण जीत कुमार का लौड़ा खड़ा होने लगा था जो कि उनकी पैन्ट में बनते उभार से साफ़ जाहिर हो रहा था।बस सविता भाभी ने अपना कामास्त्र चला दिया- ओह्ह. मैं तो जैसे मोहित होने लगी। इतने पास से उस महकते लिंग को देखना मुझे सम्मोहित कर रहा था।बाबा जी ने कहा- अरे प्रसाद ऐसे ग्रहण किया जाता है. आज तो में तेरा कुछ भी पी लूँगा।मैंने औंधे लेटते हुए अपने दोनों पैर फैलाकर अपना मुँह अपनी बहन की चूत पर लगा लिया और वर्षा रांड ज़ोर से पेशाब करने लगी।‘सुर्र.

तो समझो उसका पानी निकाल कर ही दम लेती है। फिर लड़की का ससुर आता है और अपना लंड निकाल कर उसकी चूत पर घिसना शुरू करता है और वो तब तक घिसता रहता. लेकिन दोस्तो वो अभी भी जवान लग रही थीं। उनकी फिगर 32-28-34 की लग रही थी।फिर आंटी मुझसे बोलीं- तुमने शादी की?मैंने हँसते हुए आंटी से बोला- नहीं की है.

तथा निप्पल गुलाबी रंग के थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो इस वक्त इतनी कामुक लग रही थी कि उसके नुकीले और तने हुए निप्पलों को देख कर बुड्डे आदमी का भी लण्ड खड़ा हो जाए।मैंने धीरे से उसके एक स्तन पर चुम्बन किया और उसके अग्र भाग को हल्के से अपने होंठों से दबा कर खींचा. प्लीज तुम माँ को कुछ मत कहना।यह बोल कर मैं उठ कर बैठ गया।अब दीदी मेरे सामने बैठी थी और मैं उसके सामने।दीदी बस मुझे ही घूर रही थी, उसने कहा- चल अपने कपड़े निकाल. जयपुर पहुँचने के बाद कर लेना।मैंने कहा- ओके।तभी हम एक बजे पानीपत पहुँचे, वहाँ से एक मस्त माल हमारे साथ बैठ गई, वो भी पूनम से कम नहीं थी, सच में क्या लग रही थी।तभी पूनम ने उसे मुझसे इंट्रोड्यूस करवाया- ये मेरा फ्रेंड दिल्ली से सैम.

पर उस ही समय उसने मुझे गाल पर चूम लिया ओर बोली- मैं पहला सेक्स तुमसे चाहती हूँ।मैं तो यह सुनते ही खुश हो गया और उसे देखता रहा।मैं होश में तब आया.

क्योंकि वो पूरी गरम हो चुकी थीं और देर तक चुदवाना चाहती थीं।मैंने भी हार नहीं मानी. मेरा तो बुरा हाल होने लगा। अचानक कुछ गीला सा महसूस होने लगा और उसकी जोर से सिसकारी निकल गई ‘आह…’मुझे सब पता चल गया कि वो अपनी चूत रगड़ रही है।मैंने देर न करते हुए अपनी गांड उठा कर धक्का मारा. ’ करते हुए करीना अपनी दोनों जांघें आगे-पीछे करते हुए मेरे सर को हाथों से सहलाते हुए अपना रस मेरे मुँह में छोड़ बैठीं।मैंने भी उनके रस की एक-एक बूँद को पी लिया।पूरा रस पीने के बाद करीना मुझे कहने लगीं- कैसा लगा मेरा रस।मैंने ध्यान ही नहीं दिया.

’मैं उसका पेशाब पीकर खुश हो गया और साथ में वो भी खुश हो गई।वो बोली- आज तुमने मुझे खुश कर दिया. करने के बाद ही एड एजेंसी में मेरी नौकरी लग गई थी।यह कोई 4 साल पहले की बात है।एक एड हमें यूरोप में फिल्माना था.

अब मुठ मारना और चूत में उंगली करना बंद करो, जल्दी से मुझे लिखो कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी।मुझ ईमेल ज़रूर कीजिएगा, मुझे आपके जवाब का इंतजार रहेगा।[emailprotected]. तो वो सोने के लिए अपने कमरे में चली गई।फिर कुछ देर बाद लगभग 1:35 तक मैं भी चला गया. मैं उनके मम्मों को चाट रहा था और उनकी चूत में उंगली कर रहा था।थोड़ी देर बाद सविता आंटी कोल्डड्रिंक की ट्रे लेकर आईं।उसमें कुछ कैंडल्स भी पड़ी हुई थीं।मैंने कोल्डड्रिंक उठाई और पीने लगा.

सेक्सी मूवी बीएफ हिंदी बीएफ

मैंने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और बस उसकी गांड मारता रहा।मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरा लंड आग की भट्टी में घुस गया हो।उसकी गांड में मैं लगभग 10 मिनट तक लौड़ा पेलता रहा।पूरा कमरा ‘फच.

अब तो मैं रोज़ ही रात को उसे चोदने लगा, जैसे उसकी गांड मेरे लिए ही बनी हो!उसका लंड खड़ा होने पर भी 4 इंच का हो पाता था लेकिन उसका कोमल लड़कियों जैसा जिस्म और मखमली गांड. तो थोड़ी देर बाद दीदी भी उधर ही आ गई और मेरे पास बैठ गई।अब वो मुझसे बातें करने लगी।दीदी- और युग क्या हाल हैं तुम्हारी गर्लफ्रेण्ड के?मैं- दीदी मेरी कोई गर्लफ्रेण्ड नहीं है. मेरी गांड बहुत टाइट थी और कभी चुदा भी नहीं था।लेकिन दूसरी बार जैसे ही उन्होंने थूक से सना लंड धकेला.

आज की रात यहीं रुकते हैं।मैंने कहा- ओके।तभी सोनिया बोली- ड्रिंक तो करते हो न?मैंने कहा- नहीं।पूनम- क्या थोड़ी भी नहीं करोगे हमारे साथ?सोनिया कार से उतरी और बैगपाइपर की बॉटल ले कर आई। वहाँ से हम डाइरेक्ट एक फ्लैट में गए। वो फ्लैट भी काफ़ी अच्छा था।मैंने कहा- किसका फ्लैट है?पूनम ने कहा- सोनिया का है. उसका बदन अकड़ने लगा। फिर उसने गरम-गरम सा रज मेरे मुँह में छोड़ दिया।अब हम दोनों थोड़ा रिलेक्स फील कर रहे थे।हम दोनों बिस्तर पर एक-दूसरे के बगल में लेट गए. सेक्सी हॉट बीएफ सेक्समैं अपनी बीवी को किसी दूसरे के लंड से चुदवाना चाह रहा था और मेरी निगाह में मेरा दोस्त राज ही इसके लिए ठीक था।अब आगे.

तो मेरी मलाई को वो पी गई।मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?वो कहने लगी- बहुत मस्त था. ’इतना कहने के साथ ही आपी ने अपना पानी छोड़ना शुरू कर दिया और मैंने वो सारा पानी अपनी ज़ुबान से चाट लिया और एक साइड में होकर लेट गया।आपी ने मुझे उठाया और कहा- ऐसे मेरी आग नहीं बुझने वाली.

तो वो दोनों मुझे देख कर सर्प्राइज़ हुए और बहुत खुश हुए।अंकल ने मुझे शाम को चाय पर बुलाया और मैंने हामी भर दी।शाम को मैं तैयार होकर उनके घर चला गया। अंकल और आंटी ने मुझे वेलकम किया. मैंने देखा कि उसने अन्दर से बाहर तक सिर्फ लाल रंग के ही कपड़े पहने हुए थे।हम दोनों एक-दूसरे को पूरा ऊपर से नीचे तक किस रहे थे और बीच-बीच में एक-दूसरे को काट भी रहे थे।जब हम दोनों बहुत उत्तेजित हो गए. ’ का संगीत गूँज रहा था। लिरिक नव्या के थे और संगीत की थाप मेरी थी।कुछ मिनट बाद हम दोनों फिर से झड़ गए। चुदाई के बाद मैंने उसको मेरी जुराबें दीं.

मुझे तो हरी झंडी मिल गई थी।अब मैंने धीरे-धीरे उसकी जांघों को सहलाना शुरू कर दिया।वो कुछ नहीं बोली।फिर मैंने उससे उसका नाम पूछा. साथ में उसकी चूत को भी सहलाने लगा।फिर धीरे से मैंने उसका नाड़ा खोल दिया, अब वो मेरे सामने बिना सलवार के थी, उसकी टाँगें बहुत पतली थीं।मैंने उससे अपने कपड़े उतारने को कहा. और अब तो मेरा दिमाग राजेश के लण्ड की कल्पना भी करने लगा कि उसका लण्ड कैसा और कितना बड़ा होगा। लेकिन अभी भी उसका लण्ड चूसने.

तो उसने मेरे बालों को पकड़ कर मेरा सिर घुमाया और मुझे होंठों पर एक गहरा चुम्मा लिया और फिर मेरे होंठों को काट लिया।वो बोला- जान, यह तेरे चिल्लाने की सजा है।मेरे होंठों से खून निकल रहा था.

नमस्ते दोस्तो, मैं गुड्डू इलाहाबाद का रहने वाला हूँ। आज पहली बार आप सब को अपने साथ घटी घटना को शेयर करने जा रहा हूँ, उम्मीद है आप सबको पसंद आएगी।बात उन दिनों की है. एक बिल्कुल छोटा सा छेद है।मैंने कहा- इसी में तेरा लंड जाएगा।मोनू बोल पड़ा- लेकिन यह तो बहुत छोटा है।मैंने कहा- कई महीनों से मैंने सेक्स नहीं किया है न.

उसका जिस्म भी आपके जैसा है।आपी बोलीं- हाँ ये तो है।फिर हम दोनों खामोश हो गए और फरहान और हनी को देखने लगे।फरहान ने हनी की सलवार भी उतार दी हनी का जिस्म अभी बिल्कुल नाज़ुक था। फरहान ने हनी को लेटाया और उसकी टाँगें खोलीं तो हनी की चूत नज़र आई. प्रीति की चूत लगातार थोड़ा-थोड़ा पानी छोड़ रही थी, बहुत मजा आ रहा था।फिर मैंने देखा कि प्रीति को भी मजा आने लगा. पर मैं इतना घुस चुका था कि पूरा अन्दर ही चूत गया और मैं उसके ऊपर ही गिर गया। ऐसे हमारा पहला सेक्स हुआ।आगे और क्या हुआ.

लेकिन टेस्टी भी, मैं तो बस चाटता ही रहा और वो मजे से अपनी चूत चटवाती रहीं।तभी वो बोलीं- मुझे मूत लगी है. क्या हुआ टूट गए तो टूट गए।उस पूरे दिन मैंने उसकी मस्त छाती को देखकर अपनी आँखें सेंकी।अब बस मैं उसके मदमस्त बदन का दीवाना हो चुका था और दिल में बस यही ख्वाहिश थी कि कभी राजेश के मर्दाना बदन को पूरा नंगा देखने का और छूने का मौका मिले. मेरा नाम विक्की है, मेरी उम्र 23 साल है और मैं छत्तीसगढ़ का रहने वाला हूँ। मैं दिखने में गोरा हूँ मेरी हाइट 5 फुट 7 इंच है। मेरा जिस्म गठीला है और मेरा लंड भी लम्बा है।मैं अपने घर का एकलौता बेटा हूँ और मेरी एक बहन भी है। घर में ज्यादातर में अकेला ही रहता हूँ.

बीएफ सेक्सी देखना वीडियो तो मैंने अपना हाथ हटा लिया और बाहर देखने लगा।मुझे लगा अब मेरी पिटाई होने वाली है. क्योंकि वो झाड़ू बुहारते वक्त झुक कर अपनी चूचियां मेरे को दिखा देती थी।इस बात को समझने के बाद अब मैं भी कह दिया करता कि चाय तो पिला दे.

चूत लंड की बीएफ दिखाओ

चाची आगे को हो जातीं।ऐसा 2-3 बार हुआ तो चाची बोलीं- वहाँ मत डाल।मैं- तो फिर कहाँ डालूँ?तब चाची सीधा होकर लेट गईं और बोलीं- इधर मेरे ऊपर आ जा।मैं चाची के ऊपर लेट गया।तब चाची बोलीं- अब डाल।मैंने पूछा- अब कहाँ डालूँ?तब चाची ने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चूत के छेद पर सैट करके बोलीं- अब धक्का लगाओ।जैसे ही मैंने जोश में आकर धक्का लगाया. तो मुझे बड़ा अजीब लग रहा था और अच्छा भी।मेरी पैंट में कुछ हलचल सी होने लगी।मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया. जो कि सीधा चाची की चूत में गिरने लगी।इसके बाद मैं थक कर चाची के ऊपर ही लेट गया।कुछ देर बाद मैं चाची से अलग हुआ और उनके पास में लेट कर उनकी चूचियों को सहलाने लगा, उन्हें किस करने लगा।ऐसा करते-करते मुझे कब नींद आ गई.

ये तो बस मुझे चुदाई का ऐसा शौक है कि लण्ड बदल कर मजे करती हूँ।उसने कहा- ये तो और भी अच्छा है. पर अब मैं करता भी क्या।इसलिए घर आ कर गेट के सामने बैठ गया।थोड़ी-थोड़ी बारिश शुरू होने लगी थी।शायद 3 बज चुके थे और मैं पागल सा बैठा, अपनी बुक्स की फ़िक्र कर रहा था कि कहीं ये ना भीग जाएं।इतने में मुझे किसी ने आवाज़ दी- आप यहाँ बाहर क्या कर रहे हैं. बीएफ फिल्म देखना चाहता हूंकभी अपने ऊपर लेकर।मामी और हमको बहुत मज़ा आया। एक दिन मैंने उनकी गांड भी मारी।तो साथियो कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी.

साथ में एक दर्द ना होने की दवाई भी ले गया था।मैंने जाते ही उसे दवाई खिलाई.

तो मैं भी तुम्हारा पियूँगी।ऐसा बोल कर फिर से मेरा लण्ड मुँह में ले लिया।मैंने भी तुरंत मूतना चालू कर दिया, वो धार सीधे उसके हलक में जा रही थी।मेरा मूत पीते वक्त उन्होंने मेरा लण्ड गले तक जो डाल रखा था।उनकी साँसें रुक गई थीं। मेरा मूत सीधा ही उनके गले में जा रहा था। मूतना खत्म होते ही वो हाँफने लगीं. तो मैंने सोचा कि पता नहीं अब उसका जवाब क्या होगा।जब छुट्टी हो रही थी तो उसने अपनी एक सहेली.

मैंने अपने होंठों से उसकी आवाज बन्द कर दी और एक झटका और लगा दिया। वो तड़पने लगी. वो आपको बुला रहा था।वो अरुण का नाम सुनते ही खुश हो गईं। कुछ देर में तैयार होकर उन्होंने मुझसे कहा- मैं अपनी सहेली के यहाँ जा रही हूँ. मैं रुक जाऊँगा।उसकी चूत पर खून लगा हुआ था, जब मैंने अपने हाथ को लगाया.

मैं झड़ने वाली हूँ।राज पूरी स्पीड में चोदने लगा।मेरा पलंग पूरी तरह से ‘हॅच.

’मेरी जांघ पर चपत लगाते हुए जगजीत ने कहा और आगे सुनाने लगी।बाबा जी ने कहा- अपनी कमीज ऊपर करो बेटी. तो जैसे ही मैं उसकी चूत के पास गया मुझे अजीब सी गंध आई। उसने मुझे झटके से अपनी चूत की तरफ खींच लिया और मैं उसे चाटने लगा।अब वो मादक स्वर में सीत्कार करने लगी थी ‘आआहह. वो भी सिसकारियां लेता हुआ लंड को अंदर बाहर पिलवा रहा था।मैंने उसके कंधों को कसकर पकड़ लिया और जोर जोर से धचके मारने लगा.

हिंदी बीएफ पिक्चर बताओआँखें अभी भी बंद थीं।ऐसा लग रहा था जैसे उसके पूरे शरीर में सुनामी आ गया हो. अब तो जन्नत की सैर करा ही दो।भाभी ने कहा- इंतजार तो मुझसे भी नहीं हो रहा है.

बीएफ इंग्लिश शायरी

’ कर रही थीं। मुझे उस वक़्त कुछ मालूम नहीं था कि अपने लण्ड का इस्तेमाल कैसे करते हैं।वे दोनों इतनी जोर से हिल रहे थे कि पूरा बिस्तर हिलने लगा।नानी के स्तन जोर से आगे-पीछे होने लगे।थोड़ी देर के बाद नाना-नानी पर लेटे रहे. मैं जोर से ‘आईईईई मार डाला साली कुतिया…’ चिल्ला पड़ी।वो पागल हो गई थी. मेरे प्यार करने में? जिससे मैं आप सबको आगे की कहानियों में और रोमांच दे सकूं।धन्यवाद।[emailprotected].

सोने देना।मैं अपने कमरे में आ गई।मैंने ध्यान से सुना कि मेरे जाने के कुछ पल बाद भाभी किसी से मोबाइल पर बातें कर रही थीं- वो हफ्ते भर के लिए गए हैं. मेरा भी पानी आ गया था।फिर मैं उसके बोबे चादर के अन्दर से मसलने लगा. अभी मैं दरवाज़ा बंद ही कर रहा था कि मानसी ने मुझे पीछे से जकड़ लिया और मेरी गर्दन और पीठ पे चुम्बनों की बौछार कर दी।अचानक हुए इस हमले से मैं थोड़ा उचक गया.

फिर लाइन पर आ गई।उससे फोन पर बातों के दौरान ही उसने मुझे फ़ोन पर ‘आई लव यू’ बोल दिया।इस केस में मुझे समझ में आ गया था कि लड़की का इरादा सिर्फ चुदना ही था। मुझे पता था कि वो मुझसे मुहब्बत होने की बात झूट ही कह रही है।मुझे भी कोई मतलब नहीं था।इधर तो मैं खुद ही चूत की तलाश में था।खैर. उसे जितना जोश में डाल सकती हो डालो। मैं उससे खुद को चोदने का मौका दूंगी। उसने मेरे साथ सेक्स कर लिया. पर वो साली बहुत ज्यादा बड़ी वाली थी।मैंने कुछ दिनों बाद फिर उसको डेरी मिल्क दी, उसने वो रख ली।बस उस दिन से मेरी उसके साथ सैटिंग हो गई, अब वो भरी दोपहरी में छत पर मुझे देख-देख कर इठलाने लगी थी।इतनी दूर से मैं सिवाए देखने अभी कर भी क्या सकता था। मैं तो उसके कमसिन जिस्म को देखकर मुठ मार लिया करता था।कुछ दिनों बाद मैंने उसे कोचिंग के बाद रास्ते में पकड़ लिया.

मेरे से लिखने में कुछ भूल हुई हो तो माफ करना और मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे जरूर मेल करना।[emailprotected]. मॉम का पूरा बदन सिहर उठा।कुछ देर चूत चटवाने के बाद मॉम बोलीं- अब और मत तड़पा अपनी मॉम को.

आपने अब तक अन्तर्वासना पर मेरी हिन्दी सेक्स कहानी के पहले भाग में पढ़ा.

तो उसने मेरा हाथ हटा दिया।मैंने फिर कुछ इधर-उधर की बातें की और फिर से उसके चूचों को दबाने के कोशिश की. इंग्लिश टीचर बीएफकितना तड़पाओगे?मैंने अपना लंड उनकी चूत के पास लगाया और चूत पर घिसने लगा।भाभी बोलीं- अब मत तड़पाओ. बीएफ x.comऔर मेरी प्यास बुझा दो।’मेरे लंड का साइज भी कम नहीं था।मेरा हथियार घुसवा कर भी किधर सहन करने वाली थी।बस फिर क्या था. पर इससे ज्यादा कुछ नहीं किया।डेढ़ दो घंटे की मस्ती के बाद हम वाटर पार्क से बाहर आए और हमने एक होटल में खाना खाया।फिर हम थोड़ा मार्केट में घूमे।इसके बाद चल दिए कोटा के चम्बल गार्डन में.

ताकि फैमिली वाले स्कूल जाने पर ज़ोर न दें।कुछ दिनों बाद मेरे फर्स्ट सेम के एग्जाम आ गए।मैं एग्जाम देने जाने लगा.

तो आंटी ने अपना गाउन ऊपर कर दिया और जल्दी से नीचे गिरा दिया। मैं एक मिनट के लिए देखता रह गया। क्या सेक्सी लग रही थीं आंटी।मैं बोला- आंटी आपने तो जल्दी से गिरा दिया. पर ये दर्द मीठा वाला है।मैंने भी लण्ड को चूत के अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया, पायल की सिसकारियों से कमरा फिर से संगीतमय हो गया ‘आह्ह्ह. कि मौका लगा तो चोद ही लूँगा।उनमें से एक श्वेता की मस्त चूचियां और बड़ी सी गांड मेरे दिल में बस गई थी।उन लोगों ने ड्रेस भी कुछ सेक्सी टाइप की पहनी हुई थी। जिसमें उनकी चूचियों की दरार साफ़ दिख रही थी। दोनों मस्त माल थीं।मैंने उनका इंटरव्यू लिया और अपना कमीशन उनको बता दिया। पहली सेलरी का हाफ मुझको देना होगा।उनकी सेलरी पंद्रह हजार की थी.

मैं वो करूँगा, प्लीज मुझे छोड़ दो और मम्मी को कुछ मत बताना।तो दीदी बोली- एक शर्त पर तुझे छोड़ दूँगी. , डिलडो ले आई और टॉवल से ढक कर, नंगी होकर सिगरेट सुलगा कर लेट गई।शालू रेवा को नंगी सिगरेट पीते देख कर मुस्कुराने लगी।रेवा ने माँ से कहा- प्लीज ये सी. तुम्हारे घर वाले कहीं जा रहे हैं ना 2-3 दिन के लिए? तो शाम का खाना यहाँ क्यूँ नहीं खा लेते?मैं- ओके भाभी.

स्कूल के बीएफ हिंदी

और दुबारा झड़ने वाली थी।मैंने धक्कों की रफ्तार तेज़ कर दी और अगले दस मिनट तक चोदता रहा और फिर हम दोनों साथ में झड़ कर लिपट गए और एक दूसरे के होंटों का रसपान करते रहे।भाभी बहुत सन्तुष्ट थी उनकी आँखें चमक रही थी, होटों पर प्यारी सी मुस्कान थी- सच राजा, आज तो तूने बहुत खुश कर दिया. जिसमें मैं यानि कि राज भी शामिल था।यह कहानी बिल्कुल सच्ची है। हाँ इसमें प्राइवेसी के तौर पर अपना, दोस्त का और उसकी बीवी का नाम बदल दिया गया है।[emailprotected]पतिव्रता बीवी की चुदाई गैर मर्द से करवाने की तमन्ना-3. मेरे तो होश उड़ गए।वो एक साथ कसमसा गई और थोड़ा पीछे को खिसक आई और मेरा लंड उसकी गांड से टकराने लगा।हम बात करने लगे.

फिर वो थोड़ी रिलैक्स हुई।अब मैंने उसके गाल पर किस किया और वो मुझे भावुकता से देखने लगी।खाना खाने के बाद मैं उसके घर छोड़ने गया तो घर पर ताला लगा था। उसने अपने पापा को कॉल किया, तो उन्होंने बोला कि वो उसको बताना भूल गए और वो अपने दोस्त की शादी में गए हैं।फिर मैंने नैंसी से कहा- तुम मेरे घर पर चलो.

’मैंने कहा- क्या डाल दूँ बेबी?वो मेरे लंड को हाथ में लेकर बोली- ये डाल दो यार.

मैं कितने दिनों से प्यासी हूँ।मैंने वैसा ही किया। झटके मारते-मारते मैंने उसकी कमर को अपनी ओर खींचा और उसको कसके पकड़ लिया। मैंने अपना सारा पानी उसकी चूत में छोड़ दिया। उसने भी लंड को अन्दर से अपनी चूत में दबा कर पूरा निचोड़ लिया।मैंने उसकी चूत में पाँच-बार पिचकारी मारी. जैसे मैं जन्न्नत में होऊँ। फिर वो मेरा पूरा लंड मुँह में लेकर अन्दर बाहर करने लगी।मैं तो जैसे सातवें आसमान पर था।कुछ देर लण्ड चूसने के बाद मैंने उसको सीधा लिटाया और उसकी टाँगें फैला कर घुटनों के बल होकर उसकी जाँघों के बीच बैठ गया।फिर मैंने अपने लण्ड का टोपा उसकी चूत के छेद पर रखा. बीएफ सेक्सी चोदा चोदी काइतना मजा आ रहा था कि उसे बयान करने के लिए शब्दकोष में कोई शब्द नहीं हैं।जिन्हें अच्छी चुदाई कराने का शौक है और जिनकी अच्छी चुदाइयों हुई हैं.

अन्दर ब्रा थी, उसके बाद जींस उतारी, उसके बाद मैं उसे दबाने लगा।वो सिसकारियाँ ले रही थी ‘अह. तो होने दो।उसके सवाल का जवाब मैंने अपनी गांड से नीचे से जोरदार धक्का देकर दिया। वह मुस्कुराया और बोला- मजा आ रहा है. जिससे मैं उसकी योनि को सही से सहला सकूं।मैं उसकी योनि सहला रहा था और ख़ुशी बहुत धीमी आवाज में मादक सिसकारियां ले रही थी। मैं इसके आगे मैं बढ़ नहीं पा रहा था.

अभी क्या सिर्फ़ दूर ही खड़ी रहेगी?उन्होंने कोमल को जबरन नीचे बैठा कर मेरा लौड़ा उसके मुँह में घुसेड़ दिया।मैंने मेम को ऊपर से पूरी तरह से नंगी कर दिया था और उनके मम्मों को चूस रह था।वो कोमल के बाल पकड़कर मेरे लंड को उसके मुँह में घुसाए जा रही थीं ‘इय्याअ. तू कह रही थी कि राजेश के साथ चुदने का प्रोग्राम नहीं बन सका। मैं तो कहती हूँ.

पर मेरा देवर बेचारा अकेला हो गया है।मेरी कहानी पर अपने कमेंट्स करने के लिए मुझे मेल करें।[emailprotected].

अभी तो मेरी उंगली ही पायल की चूत में गई थी। बहुत जल्द पायल मेरी उंगली के बाद मेरा लौड़ा भी मुझसे अन्दर डालने के लिए कहेगी।आपके ईमेल मुझे मिल भी रहे हैं और मैं भरसक प्रयास कर रहा हूँ कि सभी को उत्तर लिखूं।आपका प्यार इसी तरह पाने की अभिलाषा में आपका राहुल!कहानी जारी है।[emailprotected]. ’ और चुदाई की आवाजों से गूँज रहा था। मुझे तो जन्नत का मज़ा आ रहा था।अब मैंने उसे डॉगी बनाया और पीछे से उसकी चूत को चोदने लगा। कई मिनट तक बिना रुके तेज़-तेज़ धक्के मारने के बाद मैं उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया। उसकी चूत को अपने कामरस से भर दिया। उसकी चूत ने भी अपना पानी छोड़ दिया।हम दोनों हाँफ़ रहे थे. लेकिन मैं उसको अपने नीचे लेकर झड़ना चाहता था। मैंने उसको नीचे लिया और उसकी गाण्ड के नीचे एक तकिया लगा दिया और झटके से लंड चूत में पेल दिया।‘फच.

बीएफ सेक्स वीडियो 2020 का तब तक के लिए लव शर्मा का धन्यवाद।अपनी प्रतिक्रियाएँ मुझे मेल करें।[emailprotected]. एक-दो घन्टे में आ जाऊँगी।मैं मन ही मन बहुत खुश हुई, मैं बोली- ठीक है मॉम!अब घर पर बस हम और भाई ही थे। मॉम के जाने के बाद मैं भाई के बगल में ही जाकर लेट गई और बोली- क्या कर रहे हो भाई?वो एक चादर में घुसा हुआ लेटा था, वो कुछ नहीं बोला.

दोनों पक्की सहेलियां हैं, दोनों साथ-साथ में ही कॉलेज जाया करती हैं।मैं रोज़ सुबह कॉलेज जाया करता और करीब 12 बजे तक कॉलेज से वापस आ जाता था।रिहाना भी सुबह ही कॉलेज जाया करती है। चूंकि हम दोनों एक ही चाल में रहते हैं तो चाल के मलिक ने सबके लिए कॉंमन बाथरूम और शौचालय बनवाया है। सुबह का कॉलेज होने की वजह से रिहाना कभी नहा कर नहीं जाती थी।एक दिन की बात है. मैं जब मोबाइल लेकर वहाँ पहुँचा तो एक शॉप पर अपना मोबाइल दिया। उसने कहा- अभी बहुत काम है. तो उनकी लड़की और मेरी पुरानी जुगाड़ अंजू मेरी राह देख रही थी।मैं उसकी तरफ देख तो रहा था.

देहाती औरतों की चुदाई बीएफ

बहुत मस्त लग रहे थे। मैं उन्हें सक करने लगा और वो मेरे सर पर हाथ फेरने लगी।वो मुझे अपने मम्मों में खींचती जा रही थी। मैं वैसा ही कर रहा था. क्या मुझे अपनी कहानी की नायिका बना सकते हो?’‘ऐसी क्या खूबी है तुम में. पर तुम ये सब क्यों पूछ रहे हो?मैंने कहा- बस ऐसे ही।उस टाइम तक उसका छोटा भाई सो चुका था और हम दोनों एक ही बिस्तर के ऊपर बैठे हुए थे।मैंने पूछा- आपने ब्वॉयफ्रेंड क्यों नहीं बनाया?उसने हँसते हुए कहा- कोई तेरे जैसा मिला ही नहीं।तब मैं समझ गया कि उसका दिल भी सेक्स करने का है। मैं उसके बिल्कुल पास चिपक गया।वो बोली- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- दीदी से प्यार.

क्या पर्फेक्ट साइज़ है।मैंने कहा- आपको पसंद आया?उन्होंने कहा- हाँ बहुत. पर जल्दी में आपी ने बटन खोलने की बजाए ज़ोर लगा के खींचा तो सारे बटन टूट गए। उन्होंने इससे बेपरवाह होते हुए मेरी शर्ट उतार कर दूर फेंक दी और जल्दी से मेरी बेल्ट खोल कर मेरी पैन्ट भी उतार दी। अब मैं सिर्फ़ अंडरवियर में था और आपी ब्रा और पैन्टी में थीं।मैंने जल्दी से आपी की ब्रा का हुक खोला तो आपी के वो मम्मे.

तुम मेरे साथ आकर सोओ न?मैं जाकर उसके बगल में लेट गया।वो फिर से मुझसे लिपट गई।मैं भी अपना हाथ उसके ऊपर से सहलाने लगा।मैंने उसी समय प्रिया को ‘आई लव यू’ कह दिया, तो उसने भी बिना सोचे ‘लव यू टू’ बोल दिया।वो बोली- मैं तुम्हें बहुत पहले से पसन्द करती हूँ।बस फिर क्या था.

तो मैंने एक जोरदार धक्का मारा।उसकी चूत की झिल्ली फट गई और मेरे लंड का भी उद्घाटन हो गया।हम दोनों को दर्द हो रहा था।वो बहुत ज़ोर से चिल्लाई और उसकी आँखों से आंसू निकलने लगे, उसने अपने नाख़ून मेरी कमर में गाड़ दिए।कुछ देर मैं ऐसे ही उसके ऊपर पड़ा रहा और उसके होंठों को चूसता रहा।कुछ ही देर में उसका दर्द कम होने लगा. प्रिय अन्तर्वासना पाठकोअक्तूबर महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…. इसलिए वो जान-बूझकर मेरी खिंचाई कर रही थीं।भाभी हँसने लगीं और कहा- अभी सो जाओ.

इससे मेरे लंड का स्वाद मैं भी चख लेता था।अब मुझसे और नहीं रहा जा रहा था. मज़दूरों का खाना लेकर जाना है।वो बाइक पर बैठाकर मुझे खेत पर ले गये।मज़दूरों को खाना देने के बाद हम खेत में बनी कोठरी में चले गए, भैया ने कहा- धूप बहुत तेज़ है. जो मैं उसे बताना चाहता हूँ।फिर एक दिन मुझे लगा कि मुझे हिम्मत करके राजेश से बात करना ही होगी.

अभी तो मेरी उंगली ही पायल की चूत में गई थी। बहुत जल्द पायल मेरी उंगली के बाद मेरा लौड़ा भी मुझसे अन्दर डालने के लिए कहेगी।आपके ईमेल मुझे मिल भी रहे हैं और मैं भरसक प्रयास कर रहा हूँ कि सभी को उत्तर लिखूं।आपका प्यार इसी तरह पाने की अभिलाषा में आपका राहुल!कहानी जारी है।[emailprotected].

बीएफ सेक्सी देखना वीडियो: वहाँ पर राजेश के कपड़े रखे हुए थे जिन्हें पहनकर वो आया था। मैं उन कपड़ों से लिपट गया और उनकी मर्दाना खुशबू को अपने जिस्म में उतारने लगा, जिससे मुझे राजेश के जिस्म का अनुभव हो रहा था। ऐसे ही करते हुए मेरा लौड़ा खाली हुआ और मुझे थोड़ी शांति हुई और मैं स्टेज की तरफ कार्यक्रम देखने पहुँच गया।उस दिन के बाद मेरे दिमाग में राजेश का जिस्म ही चल रहा था. पूरा लवड़ा अन्दर पेल दिया और मेरे चौके-छक्के लगने लगे।वो नींद से उठ गई थी और मुझे गाली दे रही थी ‘हरामी अब तो तू पक्का चोदू हो गया.

क्योंकि उसके पति का लंड बहुत छोटा है और ज़्यादा खड़ा भी नहीं होता।शायद नेहा इसीलिए मुझसे चुदवाने मेरे घर बार-बार आती है।आपका ईमेल मेरा उत्साह बढ़ाएगा।[emailprotected]. अब तो यह सब माल तेरा है, जैसे चाहे, जब चाहे मसल दे, चूस ले।‘हाय भाभी, ऐसा क्यों कहती हैं? गुलाम तो मैं हो गया हूँ आपका. जिससे वो उठ गई थी। वो बड़े मज़े से मेरे प्यार का सम्मान कर रही थी।अब फिर से मैंने उसके होंठों को जकड़ा और फिर एक लंबा चुंबन का दौर शुरू किया।मेरा लंड फिर प्यार माँग रहा था.

लेकिन मैंने अन्दर ही रहने दिया। वो अपना सर को इधर-उधर मार रही थी।हल्के-हल्के झटकों से साथ मैंने अपनी चुदासी बहन को चोदने लगा।नेहा ‘आअहह उउउइइ भैया.

तो मेरा मुँह उनके बोबों तक आसानी से पहुँच रहा था।उनके हाथ मेरे लंड पर थे और वे दोनों मेरे लंड को. समय का पता ही नहीं चला।फिर थोड़ी देर में भोपाल आ गया। हम एक-दूसरे का हाथ पकड़कर स्टेशन से बाहर आए और ऑटो में बैठे और ऑटो वाले से जहाँ हमारा परीक्षा केंद्र था. एकदम पोर्न स्टार के जैसे।फिर वर्षा ने मेरे लंड को अपने मुँह में पूरा अन्दर तक गले तक ले लिया।क्या बताऊँ यारों.