साडी वरचे बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ फिल्म ओपन

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स मूवीस बीएफ: साडी वरचे बीएफ, ”काफी देर तक सलमा के संतरों का रस पीने से मेरा लण्ड एकदम मूसल जैसा हो गया था.

सेक्सी बीएफ लंड बुर

मेरी जैसी हॉट और सेक्सी औरत के मुँह से लंड चुसवाने से उसका पानी तो निकलना ही था. आज वाली बीएफदस मिनट तक भाभी बाथरूम में गाना गुनगुनाती रहीं और जब वो बाथरूम से बाहर निकलीं तो मेरे होश फाख्ता हो गए थे.

मेरे आते ही राजीव सर ने मेरा गले लगा कर स्वागत किया और मुस्कुराते हुए मुझे अन्दर आने को कहा. फ्री वाली सेक्सी बीएफउसके बाद मैं धीरे धीरे उसकी गर्दन को चाटने लगा और साथ में उसके टॉप में हाथ डाल कर उसके एक चूचे को भी मसल रहा था.

वो भी पूरे जोश में अपनी चूचियां मुझे पिला रही थी और मेरे सिर को सहला रही थी.साडी वरचे बीएफ: अगर किसी लड़की भाभी को लंड देखने का मन हो, तो वो बिंदास मुझे मेरे ईमेल पर मैसेज कर सकती हैं.

ऐसे ही एक दिन सुबह सुबह आंटी का फोन आया- विजय, आज मत आना क्योंकि आज मेरी कजिन सलमा आ रही है, अभी अभी उसका फोन आया था.साली साहिबा का मैसेज आया- कहीं से सिगरेट का अरेंज्मेंट हो सकता है क्या? बहुत तलब लग रही है.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ एचडी - साडी वरचे बीएफ

उसकी चौड़ी गांड जैसे मुझे आमंत्रित कर रही थी कि आओ भाई डालो मेरी गांड में अपना औजार और चोद दो मुझे.मैंने उन्हें बर्थ पर लिटा दिया और धीरे-धीरे उनके मम्मों को चूसता हुआ नाभि तक आ गया.

ये सब मैंने सिर्फ पोर्न वीडियोज में देखा था मगर अब मेरे साथ असल में हो रहा था. साडी वरचे बीएफ अब मैंने लंड निकाल लिया और सरोज को लंड चूसने को बोला, वो भी लंड को लॉलीपॉप समझकर चूसने लगी.

फिर मैंने वासना से बुआ को देखा और उनकी आंखों में चुदास साफ़ दिख रही थी.

साडी वरचे बीएफ?

फिर उसने मुझे उठाया और बेड पर आने का इशारा करते हुए मुझसे कहा- साली रंडी … तू बड़ी मस्त माल है. चूंकि हम दोनों का पानी एक एक बार झड़ चुका था … तो मैं जल्दी निकलने वाला नहीं था. दोस्तो, जैसा कि मैंने आप लोगों को बताया कि मेरी मौसी अकेली ही रहती हैं.

निशा ने अपने दोनों हाथों को मेरी पीठ पर जोर से कस लिया था मानो वह अब जल्दी से जल्दी अपनी चूत में लौड़ा घुसवाना चाहती हो. मुझे ऐसा लगने लगा कि कहीं इस बार भी लंड का लावा उसके मुँह में ही न निकल जाए. उसने मेरी तरफ से कुछ भी आपत्ति नहीं देखी तो वो और जोर जोर से मेरी गांड को दबाने लगा.

वो नीचे बैठ गई और मुझे देखते हुए उसने लंड को मुँह में ले लिया और बार बार अन्दर बाहर करने लगी. टप्प की आवाज हुई और सुपारा उसकी बुर के अन्दर!दूसरे झटके में आधा और उसके बाद पूरा लण्ड सलमा की बुर में चला गया. मैं पलटा, तो आंटी पूरी तरह नंगी थीं और वो मेरे हाथ को पकड़कर मुझे अपनी तरफ खींच रही थीं.

जवान मोसी की चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी मोसी ने मेरे साथ कामुक हरकतें शुरू की. आंटी को गांड फाड़ चुदाई में काफी देर तक दर्द हुआ मगर बाद में आंटी को अच्छा लगने लगा.

दोस्तो, ड्रिंक करने के बाद मेरा सेक्स टाइम बढ़ जाता है इसलिए मैंने आज जानबूझकर ड्रिंक ली थी.

फिर हम दोनों ने अपने अपने कपड़े पहन लिए … क्योंकि काफी देर हो चुकी थी … अब मम्मी पापा भी आने वाले थे.

चूत चूसने के बाद मैंने सीधे होकर उसे किस किया और कुछ देर दूध चूसने के बाद लता गर्मा गई. मगर वो मेरा लंड बड़ी नफासत से ऐसे चूसने लगी, जैसे जन्मों की प्यासी हो. प्रकाश ने उसे पीछे से जकड़ लिया औऱ रंगोली के भीगते हुए मम्मों को अपने हाथ से मसलने लगा और गले पर किस करने लगा.

मतलब ये था कि उसने शर्माना छोड़ दिया था और वो खुल कर खेलने के मूड में आ गई थी. उस एक्टर को देखते ही पब्लिक मानो पागल हो गई और इसी वजह से उस होटल में काफी भीड़ हो गयी थी. लेकिन मुझे ये डर भी लग रहा था कि मॉम मेरी हरकतों के बारे में डैड को ना बता दें.

मैं भी दीदी की गांड के स्वाद को चखते हुए अपने होंठों पर जीभ फिराई और बेडरूम में जाने लगा.

उस दिन दो घंटे में मैंने मौसी को 3 बार चोदा और हम दोनों थक कर नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर लेट गए. जहां जहां उनके होंठ मुझे छू रहे थे, वहां मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे वहां के मेरे रोंगटें खड़े हो रहे हों. नंगी लड़की होटल Xxx कहानी पर आप अपने सुझाव और विचार के लिए मुझे मेल करें.

वो हमेशा की तरह आज भी पेटीकोट को अपने चूचों के ऊपर बांधकर लोशन लगा रही थीं. आप लोगों को 3सम सेक्स कहानी कैसी लगी, कृपया मेल से प्रतिक्रिया जरूर दें. एक एक करके उन्होंने सारे कपड़े उतार दिये, हालांकि हमें थोड़ा अजीब सा लग रहा था.

फिर मैं धीरे धीरे उसके हाथ पर अपना गाल सहलाता रहा और वो कुछ नहीं बोली.

मैं शुरू से ही लड़कियों के साथ खेला और पढ़ता रहता था, तो मेरा स्वभाव लड़कियों जैसा हो गया था. हम दोनों ने उस दिन आंटी के बेटे के आने तक चार बार चुदाई की और बहुत मज़े किए.

साडी वरचे बीएफ मैंने कपड़े निकालते समय देखा कि उसके ब्रा की साइज बहुत बड़ी थी और चूचे तो मानो ऐसे थिरक रहे थे कि बस चूसने से ही कामुकता शांत हो सकती थी. फिर बात उन दिनों की थी, ज़ब मैंने स्कूल के बाद महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज में दाखिला ले लिया.

साडी वरचे बीएफ उसने वो काम कर दिया और क्लास खत्म होने के बाद हम दोनों ऊपर की तरफ आ गए. शरद के जाने के बाद मेरी ज़िंदगी में बहुत सा बदलाव आ चुका था, जिनमें शुरू के कुछ सप्ताह काफी कठिन रहे थे.

दीदी की सास ने आंख दबा दी और बोलीं- पक्का चोदू है तू … अपनी मां को भी चोद चुका है या वो रांड अभी तेरे लंड के लिए बाकी है?दीदी की सास के मुँह से इतनी खुली रंडी जैसी भाषा सुनकर मेरा लंड फनफना उठा और मैंने सास को अपनी बांहों में खींच लिया.

టబు సెక్స్

उसकी इस बात से मैं भी खुश हो गई और मैंने उसके पास से किताब को थोड़ा अपनी तरफ सरका लिया. वो मेरे होंठ को चूसने लगे जिससे मैं शांत हो गयी और वो मेरी चूत को चोदने लगे. तब मैं उसके कान में बोला- अब हम क्या करें, आप तो पहुंचने वाले हो?शिखा- जितना बन सके, कर लेते हैं, वैसे भी ये हमारी आखिरी मुलाक़ात ही तो होने वाली है.

बातों बातों में उन्होंने मुझसे पूछा कि शरद के तबादले के बाद तुम अपने आपको कैसे संभाल रही हो?मैंने उन्हें अपनी सारी बातें बेझिझक बता दीं. फिर धीरे धीरे बर्फ उसकी जांघों की तरफ औऱ अचानक सीधे गर्म चूत में रख दिया. मैंने ध्यान दिया तो देखा कि नीचे उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी.

वो अपनी टांगें सामने टेबल पर पसारती हुई बोलीं- अंश एक सिगरेट सुलगाओ.

दो दिन से गोगी के कारण रोशन ने उसे चुत चोदने नहीं दी थी इसलिए सोढ़ी का दिमाग भन्नाया हुआ था. मेरे लंड की खासियत ये है कि जब ये किसी की चुत में जाता है तो उसकी पूरी तरह से संतुष्टि के बाद ही बाहर आता है. मैंने अपनी उंगली उनकी ठोड़ी पर लगा कर उनका चेहरा ऊपर किया तो उनकी आंखें बंद थीं पर मुझसे और इन्तजार नहीं हो रहा था.

मेरी इस सेक्स कहानी के लिए आपके कोई सुझाव हों, तो मेरी मेल आईडी पर मेल कर सकते हैं. मैंने बोला- हम्म … तो आपको इंडियन ही चाहिए!वो बोली- बिल्कुल लेकिन इंडियन लड़कों को समझने के लिए ब्वॉयफ्रेंड बनाना भी ज़रूरी है. कुछ देर तक लंड चूसने के बाद मैंने उनको रोका- दीदी ऐसा मत करो, मैं झड़ जाऊंगा.

उस दिन के बाद जब भी हम दोनों अकेले में मिलते हैं, तो मिनटों तक किस करते हैं और कभी कभी मैं उसके मम्मों को भी चूस लेता हूँ. भाई ने मेरे घर पर बोल दिया कि मैं नाली में फिसल गया था, तो मेरे पांव में लग गई है.

यह मेरी बेटी है निशा … इसकी इंग्लिश बहुत वीक है, तो मैं चाहती हूँ कि आप थोड़ा बहुत इसको पढ़ा दिया करें. मैम आइसक्रीम की भांति मेरी बांहों में पिघलने लगीं और उनके मुंह से मीठी सिसकारी आने लगी. ये सब निशा ने मुझे सरल शब्दों में ही बताया था लेकिन कहानी को रोचक बनाने के उद्देश्य से मैं अपने शब्दों का प्रयोग कर रहा हूँ.

फिर वो बोलीं- अच्छा हाथ चला रहे हो … कभी हमें भी तो उसके दर्शन कराओ.

अशफाक़ की अम्मी ने दरवाजा खोला, वो हाथ में टॉवल लिये हुए थीं, शायद नहाने जा रही थीं. मेरे भी होंठ सूख रहे थे क्योंकि लाइफ में पहली बार इतनी कमसिन जवानी से वास्ता पड़ा था. मैंने भी उनके लंड से मूत की धार देखी और खुद भी मूत कर खुद को साफ़ किया.

BF GF सेक्स कहानी में मेरी चुदाई को पढ़कर आपके लंड चुत गर्म हो गए होंगे. कुछ ही देर में सरोज थक चुकी थी, तो मैंने भी उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और ऊपर आकर चोदने लगा.

[emailprotected]कुंवारी लड़की Xxx कहानी का अगला भाग:जुम्मन की बीवी और बेटियाँ- 2. मुझे भी लगा कि दरवाज़ा बन्द करके खेल करना चाहिए ताकि सब कुछ पूरी मस्ती से हो सके. कुछ देर बाद शिवानी मेरे लिए पानी का गिलास लाई, तो आंटी ने उससे मेरे लिए चाय बना लाने को कहा.

मधु तृषा का सेक्सी वीडियो

मैं उनका लम्बा और मोटा खड़ा लंड देख कर सहम गई लेकिन चूत में चुनचुनी हो रही थी कि बस किसी तरह से इस लम्बे लौड़े से चुद लूं.

उन्होंने तीन दिनों तक, न ही अपने लंड को मेरे मुँह में दिया … ना गांड में. उसने भी मेरे पीछे आकर मेरी गांड फैलाई और झटके से चुत में लंड घुसा कर मुझे चोदने लगा. मैं बहुत ही धीरे धीरे से आगे पीछे होने लगा और चूसना और चूमना जारी रखा.

मुझे चलने में बहुत प्राब्लम हो रही थी तो चाय पीने के बाद वो मेरे बगल में लेटकर मुझे किस करने लगे. मैं ऊपर रूम में जाकर कंडोम लेकर आया और लंड पर कंडोम चढ़ा कर उसको वहीं चोदने लगा. गुदामैथुन बीएफउसके बाद मैंने रूबी आंटी के पेटीकोट और चड्डी को हटा दिया और उनकी चूत चाटने लगा.

पार्टी अब खत्म होने ही वाली थी कि तभी संजना मेरे पास आयी और मुस्कुरा कर बोली- मैं भी जानती हूँ कि तुम वो राउंड क्यों हारे थे. वैसे तो उसने अपने मोबाइल से सारे मैसेज डिलीट कर दिए थे, पर मैंने उससे पहले ही उस चैट का स्क्रीन शॉट ले लिया था.

फिर वो पलट गई और उसने इस बार मेरे लंड को अपनी गांड के छेद पर लगा दिया. मेरी बुर की ऊँगलियों से चुदाई करके अब्बू मेरी टाँगों के बीच आ गये और अपना लण्ड हिला हिलाकर टाइट करने लगे. कॉलेज के वक़्त से ही मैं अपने बॉयफ्रेंड के खूब मज़े लेकर लंड चूसती थी.

मैं एकदम से गर्म होने लगी थी क्योंकि मुझे उसका तना हुआ लंड इस समय बड़ी लज्जत दे रहा था. वो अपने छेद को हिलाती मेरी जीभ से चुदवा रही थीं और मेरा लंड चूस रही थीं. मेरी बस ये ख्वाहिश है कि एक बार तुम्हें जी भर के प्यार करना चाहता हूँ.

मेरे पेटीकोट का कपड़ा किसी मोटे कपड़े के बने कंडोम की भांति लग रहा था, जिसका सूखापन योनि के टपकते रस से गीला होता हुआ मुझे महसूस हो रहा था.

उसे देखते हुए मैंने अपनी पतलून की चैन नीचे सरका दी और अपना लंड निकाल कर पीहू के सामने कर दिया. बहुत देर तक तो वो आंखों में से कचरा निकालने का ड्रामा करती रहीं जबकि वो तो पहले ही निकल चुका था.

मेरा घर भरा पूरा था लेकिन अशफाक़ के घर में दो ही लोग थे, अशफाक़ और उसकी अम्मी जेबा. मुझे मालूम है, सबसे पहले मैं, फिर अम्मी और लास्ट में मुमताज को आपका प्यार मिला. उसके बाद क्या हुआ?नमस्कार दोस्तो, मैं राज शर्मा हिन्दी सेक्स कहानी की इस मस्त साईट पर आपका स्वागत करता हूं.

भाभी बोलीं- क्या हुआ देवर जी … आपकी पैंट इतनी ऊपर कैसे उठ गई? क्या छिपा रखा है आपने अन्दर!मैंने बोला- आप ही पता लगा लो कि पैंट कैसे उठ गई. मैंने कहा- ओके अब आप लंड मत चूसो, मैं आपके मुँह की थोड़ी सी चुदाई कर देता हूँ. मेरा मुँह उसकी चूत पर लगा था लेकिन हाथों से मैंने उसके मम्मों की मां चोद रहा था.

साडी वरचे बीएफ उनके होंठों से मेरे मम्मों की घाटी को छूने से मेरे बदन में एकदम से वासना भर गयी. [emailprotected]गाँव की लड़की की चुदाई की कहानी का अगला भाग:सेक्स की चाहत में पैसे का तड़का- 3.

सेक्सी जुदाई हिंदी

मैंने अपनी चड्डी और कैपरी भी खोल दी और अर्शिया के पैरों के बीच बैठ कर अर्शिया की चुत पर लंड को रगड़ने लगा. मैं अपने दोनों हाथों से उनकी गांड पर तबले की थाप देते हुए स्लैप पर स्लैप मारे जा रहा था. मैंने उससे लंड चूसने का इशारा किया तो वो तो जैसे लंड चूसने के लिए मरी जा रही थी.

वो मुझसे बोले- मेरी जान तू मुझसे डर क्यों रहा है … अगर तूने मेरे आदेश का पालन नहीं किया तो ये तेरे लिए अच्छा नहीं रहेगा. मैं फिर से उसके तकिये पर अपने सिर को लेकर गया और इस बार मैंने उसके होंठों को जीभ से चाटा. कैटरीना कैफ का बीएफ फोटोयही हरकत अगर बन्द कमरे में होती … तो शायद मैं इतनी जोर से चीखती कि बगल मकान वाले सुन लेते.

मैंने एक बार फिर से भाभी के मुँह में लंड को डाल कर चिकना किया और उन्होंने भी मेरे कहने पर लंड पर बहुत सारा थूक लगा दिया था.

बुआ के मुँह से धीरे धीरे सिसकारी निकलने लगी- उम्म्म्म हाआआ उच्च … आज मेरा सपना पूरा हो गया. अब उसकी आवाज लड़खड़ाने लगीं और मेरा लौड़ा उसकी चूत के मैदान में सरपट दौड़ने लगा.

अभी मुश्किल से 30 सेकंड ही उसकी रसभरी चूत को चूसा था कि एक गर्म धार उसकी चूत से निकल कर मेरे मुँह में गिरने लगी और मैं जितना हो सकता था, उसके मूत को पीने लगा. मैंने सरोज से बोला कि अपना वादा याद है ना!वो बोली- जाटनी की जुबाण है … आज की रात तू मेरी अम्मा की तीसरी बेटी को भी चोदेगा. इन सब हरकतों को भीड़ की नजर से देखें, तो ये स्थिति बहुत आम और विवशतापूर्ण थी.

मम्मी ने पूछा कि वो शादी में क्यों नहीं जाना चाहती है?मामा ने जवाब दिया कि रितिका को शादी में जाने का मन नहीं है.

बार बार ऊपर नीचे करके लंड को मुँह में लेना … कभी जीभ से लंड के गुलाबी सुपारे को चाटना. बीच बीच में हम दोनों होंठों को चूस रहे थे और मैं उसकी रस से भरी चूत को भी सहलाया करता था. पिज़्ज़ा वाला आए या कोई सामान डिलीवर करने आए, वो नंगी सोफे पर बैठी रहती थी.

हिंदी चुदाई बीएफ दिखाओपतली रूबिया के कपड़े के ब्लाउज से कसा हुआ मेरा कंधा और उसका कंधा एक दूसरे से कुश्ती कर रहे थे. उसने उसी समय मेरे होंठों अपने होंठ बड़ी सख्ती से जमा दिए और लंड को दाब दे दी.

सौथ सेक्सी विडिओ

दीदी की चूत जैसे ही लंड पर पड़ी, हम दोनों आंख बंद करके परम आनन्द की प्राप्ति में खो गए थे. फिर उसने तुरंत अपने होंठ खोले और लौड़े को अपने मुँह में भरकर चूसना शुरू कर दिया. सरोज हंसने लगी और बोली- अम्मा को चोदने की सोचेगा … तो जान से जाएगा.

मैंने उनसे कहा- अभी आपका दोस्त अशोक भी बाहर क्यों है!उन्होंने कहा- कोई बात नहीं बेबी वह उधर ही रहेगा … हमारे पास रूम में नहीं आएगा. उन्हें चोदने का मेरा मन जब हुआ जब मैंने उन्हें रात को डैड के साथ सेक्स करते देखा है. बचपन से ही पढ़ाकू रही हूँ और साथ ही साथ अपनी निजी जिंदगी में भी मैंने अब तक भरपूर मज़े लिए हैं.

अमित में मेरी मांग में सिंदूर भर दिया और मैंने अमित को एक गिलास में दूध पिला कर सुहागरात का कार्यक्रम शुरू कर दिया. ”तो इसका मतलब आपके साथ जिस्मानी रिश्ता?”कतई नहीं है, कई साल हो गये. कोमल ‘आ … आह … आह … करती हुई उचकी और मेरा टोपा उसकी चुत में प्रवेश कर गया.

मैंने वहीं पर अपना लंड निकाल लिया और उसकी जांघों और बूब्स के उभार को देखते हुए मुठ मारने लगा. भाभी मेरी ओर देख कर गुस्से में बोली- तुम्हें शर्म नहीं आई क्या किसी गैर औरत को देखते हुए? मैं अभी अपने पति से बात करती हूं.

मेरे दोस्त को अब तक ये नहीं पता चला है कि उसकी जुगाड़ की चुदाई मैं कर रहा हूँ, इसलिए उसके लंड की नौकरी चली गई है.

आखिरकार वो समय आ ही गया था जब दीदी की गर्मागर्म चुत ने रस छोड़ दिया. सेक्सी बीएफ सनी लियोन का सेक्सीउसने मेरे लंड को चुत में लेकर खूब उछल उछल कर चूचियां हिलाईं और मैंने दबा दबा कर चूचियां चूसीं. सेक्सी बीएफ बुर चोदनेलेकिन अंकल ने मम्मी को इस तरह पकड़ कर रखा था जैसे कोई शेर अपने शिकार को जकड़ लेता है. अलीज़ा की चूत ने इतना पानी छोड़ा कि उसकी पूरी टांगें चूत के पानी से भीग गईं.

उसका एक हाथ मेरे हाथ पर आया और उसने मेरे उस हाथ को अपनी चूचियों पर रखवा दिया.

लेकिन अभी तक निशा ने अपने हाथ को मेरे हाथ से छुड़ाने की कोशिश नहीं की थी. मेरा उससे कोई खास परिचय नहीं था क्योंकि वो बहुत दूर की रिश्तेदार थी. मैंने एक दिन हिम्मत करके अशी से उसके और गमन के बारे में पूछ ही लिया.

फिर बीस मिनट तक रमामैडम की चुतका बाजा बजाने के बाद जैसे ही मुझे लगा कि मेरा होने वाला है, मैं अपनी पूरी ताक़त से उन्हें चोदने लगा. मैंने जैसे ही उसे पहली बार देखा … मेरी नज़रें उस पर ही टिक ऐसे गईं मानो समय रुक सा गया हो और आस पास का शोर गायब हो गया हो. निशा ने वापस मेरा सर दबाना शुरू कर दिया और मैंने उसके एक हाथ को सहलाना शुरू कर दिया.

शिर्डी सेक्सी पिक्चर

मैंने उसकी पोजीशन बदली और उसकी टांगें हवा में उठा करचुत में लंड पेल कर चुदाईकी ट्रेन चला दी. तभी सलमा बोली- अच्छा… मतलब अलीज़ा इतनी अच्छी लगती है कि तुमने शताब्दी एक्सप्रेस दौड़ा दी. मैं बुझे मन से घर वापस आ चुका था और इसके बाद वापस वही रोज का पढ़ाने वाला काम शुरू हो चुका था.

अब वो अपनी गांड आगे पीछे करके मज़े से चुदवाने लगी।उसे भी मज़ा आने लगा था, उसकी चूत ने मेरे लंड से दोस्ती कर ली थी।वो बोली- राज, तुम मुझे हमेशा ऐसे ही चोदना।मैंने कहा- हां समारा, मैं तुम्हें लंड के लिए नहीं तड़पने दूंगा।अब दोनों एक-दूसरे की रफ्तार को तेज करने लगे.

मैंने उसके गले को पकड़ कर नीचे खींच लिया और जोर जोर से किस करने लगा.

पर मेरा मन उन चाची को छोड़ने का नहीं कर रहा था मैं उनके साथ सेक्स करना ही जा रहा था. डायरेक्टर बोला- अब ये स्क्रीन टेस्ट सभी प्रोड्यूसर्स को दिखा कर मैं तुम्हें स्टार बना दूंगा. ज्योति सेक्सी बीएफमुझे दिल्ली में 10 दिन रुकना पड़ा, तो मैंने सोचा कि मैं थोड़ा घूम भी लेता हूं.

थोड़ा बहुत मूत अभी भी मुँह में था, तो मैंने उसे रानी के गर्म होंठों से अपने होंठ चिपका कर उसे भी पिला दिया. साहिल अपने 6 इंच के लंड को मेरी बहन की चूत की फांकों में रगड़ने लगा. उसे देखते हुए मैंने अपनी पतलून की चैन नीचे सरका दी और अपना लंड निकाल कर पीहू के सामने कर दिया.

मैंने शबाना की चोली की डोरी खींच कर उसकी चूचियां खोल दीं, उसे बेड पर लिटा दिया. ” इतना कहकर मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला, नाज की टाँगें सहलाईं और उसको पलटाकर बकरी बना दिया.

मैंने झटके से अपनी उंगलियां पैंटी की इलास्टिक में फंसाईं और उसे नीचे कर दिया.

मैंने उनकी लैगिंग्स को उनके घुटनों तक नीचे कर दिया और पैंटी को नीचे करके उनकी चुत में उंगली करने लगा. मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि निशा एक मंजी हुई खिलाड़िन की तरह चुदाई के इस खेल को इतनी अच्छी तरह खेल सकती है. फिर काफी देर की लगातार चुदाई के बाद मैंने और उसने एक साथ पानी छोड़ दिया.

बलात्कारी बीएफ फिर चुदाई के बाद श्रेया ने उस लड़के से कहा कि आज के बाद हम कभी नहीं मिलेंगे … और वो सच में आज तक उससे नहीं मिली. अब आगे पोर्न फॅमिली सेक्स कहानी:अब वो खुल कर बोलीं- तुम्हारी मां सच ही बोली थी.

उसे देखते हुए मैंने अपनी पतलून की चैन नीचे सरका दी और अपना लंड निकाल कर पीहू के सामने कर दिया. उसने एक स्माइली भेज कर लिखा- क्या अलग सा लग रहा है?मैंने लिखा- शायद जो बेचैनी तुम्हें हो रही है … उसी तरह से मुझे भी कुछ हो रही है. दर्द के मारे उसका चेहरा लाल हो गया मगर मैं तो जैसे स्वर्ग में पहुंच गया था।उसकी चूत में लंड डालकर जो मजा आ रहा था वो दुनिया का सबसे खूबसूरत अहसास था.

नेहा कक्कड़ सेक्सी फोटो

मैं- लव यू सेक्सी डॉल!निशा- आआहह … मसल दे साले …मैं- गंडमरी आज मैं तेरी छोटी सी इस चूत को फाड़ दूंगा. अब मेरे झटकों की स्पीड तेज होने लगी थी और मैं जोर-जोर से उसकी चूत में झटके मारे जा रहा था. जुनैद भाई की इस हरकत से मैं घबरा गया था लेकिन अब भी मेरे मन में कहीं न कहीं उनका साथ पसंद आ रहा था.

लाल नाख़ूनी और लिपिस्टिक और काजल आदि लगा कर बालों की पोनीटेल बांध ली. स्टेशन पहुंचकर हमने जल्दी एक दूसरे से मिलने का वादा किया और अपने अपने स्थान को रवाना हो गए.

मैंने भी सोचा कि आज चुम्मी दी है, तो ये कल चुत भी दे ही देगी … जल्दीबाजी ठीक नहीं है.

कुछ ही देर में ही मैं उनके सामने पूरी तरह से नंगी खड़ी थी और उन्हें अपने नंगे जिस्म को निहारने का पूरा अवसर दे रही थी. अब मेरे झटकों की स्पीड तेज होने लगी थी और मैं जोर-जोर से उसकी चूत में झटके मारे जा रहा था. मेरे पति जेठजी से बोले- मुझे आज दोपहर में ही किसी जरूरी काम से इन्दौर जाना है.

उसकी ब्रा निकालने के बाद उसके दोनों खरबूजे मेरी आंख में रतौंधी पैदा करने लगे थे. एक बार उसने मुझे पकड़ लिया और …मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हो सब? मुझे पता है कि आप सभी को अन्तर्वासना पर ऐसी बहुत सी कहानियां पढ़ने को मिलती हैं और आप सभी रोज ही पढ़ते हैं. मैंने सोचा कि दोस्त है … ये अपनी शादी में थोड़े ही कुछ ऐसा वैसा सोचगा.

मैंने फिर से उसको दबा कर नीचे कर लिया और उसके मुँह को ही छेद समझ लिया.

साडी वरचे बीएफ: दीदी भी मेरे लंड में क्रीम लगा दी और मुझे बेड पर लेटने को इशारा किया. नन्दिनी मेरा लंड काफ़ी अच्छे से चूस रही थी, मेरे टट्टों को और टोपे को बड़ी मस्ती से चूस रही थी.

आपको मेरी ये चुदाई गर्ल सेक्स स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल जरूर करें. फिर चार दिन बाद मेरा जन्मदिन था, तो अब्बू ने मेरे घर में एक पार्टी रखी थी. मुझे लगा कि समीर के छटपटाने की वजह से मेरा लंड उसकी गांड से बाहर ना आ जाए … तो मैंने उसको हर तरफ से कवर करते हुए उसके अपने नीचे ठीक से दबा लिया था.

फिर साली साहिबा ने उधर रखे टिश्यू पेपर से मेरा लंड साफ किया और उसे फिर से चूसने लगी.

उसका नाम था अश्मि। वो लोग हमारे ही पडो़सी थे।देखने में गोरी और सुडौल बदन की थी. मैंने उन्हें बिना कुछ कहे उनके सीने पर अपना हाथ रखा और दूसरे हाथ से उनका चेहरा अपनी ओर लेकर उन्हें वैसे ही चूमने लगी. मैंने उसकी टांगों को अपने कंधे पर लिया और उसकी गांड पकड़ कर जोर जोर से झटके मारने लगा.