ऑफिस की बीएफ

छवि स्रोत,किन्नर वाला सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी सेक्सी झवाझवी: ऑफिस की बीएफ, मैंने सुमन के होंठ अपने होंठों से लॉक किये और लंड को उसकी चूत से थोड़ा बाहर निकाला.

कॉलेज नी छोकरी ना सेक्सी वीडियो

मैंने थोड़ा उठकर देखा तो मोनी अपने बॉयफ्रेंड के सामने गांड उठाकर झुकी हुई थी और वो घुटनों के बल होकर उसकी चूत में लंड को पेल रहा था. स्कूल गर्ल वीडियो सेक्सी वीडियोमैंने लंड मुँह से निकाल कर चूत पर रख दिया और पूरे लंड को झटके में चुत के अन्दर पेल दिया.

मुझे ऐसा लग रहा था कि किसी भी क्षण मेरा वीर्य उसके मुँह में जा गिरेगा. राजस्थान की सेक्सी बताइएकुछ देर बाद मैंने चाची को बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा.

इसलिए वो अपने लंड को सही भी नहीं कर सकता था अपनी पैन्ट में!पूनम ने साहिल के पैन्ट का तम्बू भी देख लिया.ऑफिस की बीएफ: भाभी भी मुझे पूरे मज़े से चूस रही थी।काफी देर चूसने के बाद भाभी ने आगे पीछे देखा और मेरा लौड़ा मुंह में लेकर चूसने लगी.

मैंने पूछा- सोहेल का कितना बड़ा है?वो बोली- इससे आधा लम्बा और काफी पतला.थोड़ी देर के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा मुँह उसकी चूत के रस से भर गया।सारा रस मैंने पी लिया और अपनी उंगली उसकी चूत में डालने लगा.

रंगीला का सेक्सी वीडियो - ऑफिस की बीएफ

मुझे कुछ कुछ हो रहा है।फिर मैं बोला- मेरी जान … आज तो कुछ हो ही जाने दो.फिर एकदम से अचानक उन्होंने धक्का मार दिया और अपने होंठों को मेरे होंठों पर कस दिया.

फिर मेरा पानी गांड में ही निकल गया।दीदी ने लंड मुंह में लिया और चूसने लगी. ऑफिस की बीएफ मैं मैडम की जवानी को आंखों से चोदता हुआ उनके पीछे आ गया और उन्हें अपनी बांहों में लेकर उनके नागिन से लहराते हुए बालों को अलग करके गर्दन को चूमने लगा.

ये कामना इतनी बलवती हो उठी कि मन करने लगा था कि आज तो किसी भी तरह उसका लंड पकड़ कर ही रहूंगा.

ऑफिस की बीएफ?

मेरी बात से आंचल जी एक बार को तो शर्मा गईं, मगर अगले ही पल वो मेरे बाजुओं में समा गईं. (मुझे पता नहीं कि उसने ये सब नोटिस किया या नहीं, मेरी आँखें बंद थीं)अब मैं नीचे से नंगी हो चुकी थी और मेरी नाज़ुक हथेली उसकी मर्दानी मज़बूत जांघ पर अभी भी धीरे धीरे घूम रही थी. सुरभि ने मुझे अपने ऊपर खींचा और मैं भी उसकी रसभरी चूचियों का रसपान करने लगा.

मकान का किराया लेने हमेशा उसका बेटा आता था लेकिन वो अपनी बहन के ससुराल गया था तो इस बार सुमन आई. मैं तुरंत खटिया पर सोने का नाटक करने लगा और वो भी तुरंत भाग कर बालकनी में खड़ी हो गयी ताकि किसी को कोई शक़ ना हो. उससे पहले तुम कुछ ड्रिंक लेना पसंद करोगी!अलीमा बोली- हां आप वो सब रेडी करो.

दोस्तो, मैं अन्तर्वासना फ्री सेक्स कहानियों का नियमित पाठक हूँ। मैं करीब 5 साल से अन्तर्वासना की कामुक कहानियाँ पढ़ रहा हूँ।मैं मेरी जिंदगी में घटित एक घटना को आप सबके सामने लाना चाहता हूँ।दोस्तो, यह मेरी पहली बार सेक्स की स्टोरी है तो अगर लिखने में कुछ गलती हो जाये तो मुझे माफ़ करना।मेरा नाम दीपक है, मैं 24 साल का हूँ. ’मेरी चीख सुनकर जय बोला- साली तेरा पति का इतना बड़ा नहीं है क्या!मैं बोली- नहीं है यार … मैं आज पहली बार इतना बड़ा लंड ले रही हूँ. मैंने बुआ से बोला- आज आप बड़ी खुश दिख रही हो … क्या आप फूफा के बिना अकेली रह पाओगी?बुआ ने भी बोल दिया- तेरे फूफा नहीं है तो क्या हुआ … तू तो मेरे साथ है.

कुछ मिनट मेरी चूचियों को पेलने के बाद उसने एक बार फिर से मेरे मुँह में लन्ड दे दिया. अपनी झांटें साफ करके लंड चिकना किया और नहा धो कर तैयार होकर पहले से ही तय जगह चला गया.

दोस्त की बीवी की चुदाई की इस कहानी को लड़की की वासना भरी आवाज में सुनें.

आपको मेरी ये कामुक Xxx लड़की की चुदाई स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मेल करना न भूलें.

अब हम दोनों फिर से गर्म हो गये और मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और रगड़ने लगा. तो राजसी अपने घुटनों पे बैठ गयी और साहिल का लौड़ा उसकी शार्ट में ही मसलने लगी. दरअसल मंडी के बाहर रोड पर जो गंदा पानी पड़ा था, उसमें कुछ खराब सब्जियां पड़ी हुई थीं.

उसने अपने दोनों हाथों से जकड़ लिया और मुझे अपनी चूत पर दबाते हुए चिल्लाने लगी- अहह हहहह अहह स्शीअअ!बस देखते ही देखते वो झड़ गयी. लेकिन आज तुझे मेरी कसम है कि तू मुझे इससे चुदने से नहीं रोकेगी।अब मैं कुछ नहीं बोल सकती थी उसकी कसम के आगे!तो उसने एक प्लान बनाया कि मैं 6 बजे तक मार्किट चली जाऊँ … जिससे अगर कोई दिक्कत होगी तो सिर्फ राजसी का नाम आयेगा. वीर्य उसकी चूत में कॉन्डोम में भरने लगा और मैं उसके ऊपर निढ़ाल हो कर गिर गया.

फिर मेरा पानी गांड में ही निकल गया।दीदी ने लंड मुंह में लिया और चूसने लगी.

वो अपने हाथों से अपने दूध पकड़ पकड़ कर मुझे चुसाने लगी और मस्ताने लगी. वो उसे उठाए हुए झोपड़ी के अन्दर वाले हिस्से में चला गया, जहा एक चारपाई रखी थी. चुत चाटना पसंद करने वाले लोग समझ सकते हैं कि उस समय मुझे कैसा लग रहा होगा, खास कर महिलाएं और लड़कियों को अपनी चुत चटवाने की सोचकर ही चुत में पानी आ जाएगा.

उसको देख कर मैं छुप गयी।वो सीधे मेरी क्लास में गया।मुझे कुछ शक हुआ कि ये इस टाइम मेरे क्लास क्यों गया है. कभी वह मुझे रात में साड़ी पहना कर मेरे साथ साड़ी में सेक्स करते हैं, तो कभी जींस और टॉप पहना कर मुझे चोदने को आतुर हो जाते हैं. कुछ ही देर के बाद सीन ये था कि सुरभि मेरे लंड को अपनी गांड को खुद से धक्का देने लगी.

वो भी टांगें हवा में उठा कर लंड का पूरा मजा लेते हुए मेरा साथ देने लगी थीं.

बच्चा थोड़ी है अब तू! तेरे लैपटॉप में हैं मूवी?मैं बोला- हां देखता तो हूं लेकिन मैं ऑनलाइन पोर्न मूवी देखा करता हूं. पति के जाने के बाद दो साल से ऊपर हो गए, मैं इन सब बातों को भूल चुकी हूं.

ऑफिस की बीएफ भाभी ने मुझे आकर जगाया और कहा- क्या बात है देवर जी? रात भर प्रोग्राम चला है क्या?मैं बोला- नहीं भाभी, हम जल्दी ही सो गये थे. उसके बाल भीगे हुए थे जिनको उसने बिना दुपट्टे के ही गमछे में सूखने के लिए बाँध रखा था.

ऑफिस की बीएफ देसी नंगी भाभी की कहानी में पढ़ें कि मैं अपने ममेरे भाई की पत्नी को चोद चुका था. लेकिन जैसे ही मैं गेट पर पहुंची तो देखा मेरे क्लास की एक लड़की रानी अंदर थी.

अपने पैर चौड़े करने के बाद मैंने उनसे बोला- अब बात को घुमाओ मत … आप सबको जो करना है, कर लो.

ઞુજરાતી સેકસ

उस जिगोलो वाले दौर की मेरे पास बहुत यादें हैं जो अंदर ही अंदर मेरे मन में घूमती रहती हैं. फिर अचानक से वो मेरे मुँह के पास आया और अपना लंड मुँह में डाल कर चोदने लगा. चाची को पानी की छाप छप के साथ अपनी चुत में लंड लेना बड़ा सुखदायी लग रहा था.

बिना उसको छुए या उसके शरीर पर हाथ ने रखे, मुझे चैन ही नहीं मिलता था. मैं मन ही मन खुश हो गया और मैंने बिना देरी किये खुद नीचे लेटकर उसको ऊपर आने दिया।वो टांगें फैलाकर लन्ड पर चूत सेट करके बैठ गई और बिना वक्त गंवाये फुल स्पीड में ऊपर नीचे होने लगी।उसके मुंह से आह … आह … की आवाज़ें आने लगी।पांच मिनट में ही उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. मैंने देखा कि शबाना ने भी अपने कपड़े बदल लिए थे और वो एक बेहद दिलकश नाइटी में मेरे सामने खड़ी थी.

वो मना करने का नाटक करने लगी और थोड़ी देर बाद मेरा साथ देने लगी।चाची बोली- राज तू तो खिलाड़ी लगता है। अब तेरा चाचा तो लंड का मज़ा नहीं दे पाता! शराब ने उनकी मर्दानगी को खत्म कर दिया है.

वो लड़का मेरी बहन को एक क्वार्टर में ले गया और अंदर आते ही उसने रानी को किस करना शुरू कर दिया और शर्ट के ऊपर से ही बूब्स दबाने लगा. शालू के माता पिता ने उसकी शादी प्रमोद के साथ इसलिए कर दी कि वो देखने में भी ठीक था और घर में पैसे या सुख सुविधा की कोई कमी नहीं थी. देसी चूत की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि कैसे गाँव के परचून के दुकानदार ने अपने गोदाम में अपनी जवान ग्राहक लड़की की चूत उसकी उधारी के बदले मारी.

और दीदी ने मेरी तरफ देख कर आंख मार दी।फिर दीदी बाहर चली गई।अब घर में हम दोनों थे।मैं अंदर गया तो ज्योति ने गाऊन पहना हुआ था।ज्योति बोली- तुम बैठो में चाय बनती हूं।मैंने कहा- अभी तो …उसने कहा कि उसका चाय पीने का मन कर रहा है।थोड़ी देर बाद वो चाय बना कर मेरे पास आकर बैठ गई. वो नारीसुलभ लाजवश बार बार अपने नंगे जिस्म को छुपाने का प्रयास करती कभी दोनों हाथों से अपने मम्मों को ढक लेती कभी दोनों हाथों से अपनी पैंटी को ढक लेती. मैं बोला- हिमानी … तुम सही तो हो?वो कराहते हुए बोली- आईई … बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने साक्षी को वहीं लेटी रहने को कहा ताकि स्पर्म बच्चेदानी तक पहुंच जाये. वो बोला- सिर्फ देखना है कि चूसना भी है!मैंने अपनी बात दोहराई कि नहीं मुझे तुम्हारा लंड देखना भर है.

बलविंदर भी झड़ कर अलीमा के ऊपर ही लेट गया … हालांकि अलीमा भी इस पूरे खेल के दरमियान इतना थक गई थी कि पूर्णरूपेण ऐसे बदहवास हो गई थी जैसे मानो बेहोश हो गई हो. मैं ये सब देख रहा था और बस सोच रहा था कि साला मेरा दोस्त मेरी बहन की चूची मेरे सामने ही दबा रहा है, और वो दबवा भी रही है!पूरी की पूरी खेली खाई रंडी बन गयी है मेरी बहन!क्या दिन आ गया है जिन्दगी में, ऐसा तो सोचा भी नहीं था कभी!फिर हम सबने राहुल को केक खिलाया. बदनामी और बेइज्जती के डर से मैं कभी अपनी फीलिंग किसी को नहीं बता पाता हूं.

फिर आंटी ने कहा- अब चोद दे मेरी चूत अपने लन्ड से … बहुत गर्म हो चुकी है ये.

कुछ ही देर के बाद सीन ये था कि सुरभि मेरे लंड को अपनी गांड को खुद से धक्का देने लगी. मैंने आँखे खोलीं, उसकी तरफ देखा और उसे धीरे से अंग्रेजी में कहा- बहुत ठण्ड है … क्यों ना हम अपने कम्बल जोड़ लें?ये मेरे सफर का सबसे बेबाक कदम साबित होने वाला था. फिर सोचा कि रियल कष्ट और रियल मज़ा तो मैं तुम्हारी चूत को अपने लंड से दूंगा अगर मौका मिला तो.

मेरे पूरे बदन पर किस करते हुए ही वह सारी ज्वेलरी एक एक करके उतारने लगा. मैंने उसकी दोनों गालों को पकड़ा और उसकी आंखों में देखते हुए उसके होंठों से अपने होंठ सटा दिए.

मैंने राहुल का पूरा लंड अपने मुंह में ले लिया और उसको जीभ से सहलाने लगी. मतलब ऐसा एकदम साफ़ लग रहा था कि उसने लोअर के नीचे चड्डी नहीं पहनी हुई थी. दरअसल तीन मंजिला बिल्डिंग थी तो सीढ़ियां काफी थीं और चढ़ाव बिल्कुल खड़ा था.

बहु ससुर की चुदाई

वो सलमान के लंड को चूसती हुई बोलीं- अब तू बकचोदी बंद कर और मेरी चुत का भोसड़ा बना दे जल्दी से.

मेरे साथ छोटी मोटी घटनाएं होती थीं जैसे किसी का लंड हाथ में ले लिया या फिर भीड़ में गांड किसी के लंड पर रगड़ दी. मैंने उसके मोबाइल में अपना नम्बर फीड करने के लिए उसके नम्बर से अपने मोबाइल पर अपना नम्बर डायल कर लिया और अपना नम्बर फीड कर दिया. फिर मंजुला को याद करते हुए मैंने अपना लंड सहलाना शुरू किया; और अपने मोबाइल में उसका फोटो देख कर मुठ मारने लगा.

उसने अलीमा को अपनी मजबूत बांहों में जकड़ रखा था और उसके बालों सहलाते हुए शांत करने की कोशिश कर रहा था. बुआ बोलीं- हां हां भोसड़ी के … चैक कर ले मादरचोद … अभी भी कुंवारी चुत सी कसी हुई है. एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म ओपनहालांकि उनके पति के लंड की परफॉर्मेंस काफी चूतिया किस्म की थी, इसलिए भाभी को मेरे मोटे लंड से चुदने में मजा आता था.

भाभी जी ने भैया को हिलाकर कहा- क्या हुआ और करो न!मगर भैया सो चुके थे. वो मीठी सी आवाज में बोली- छोड़ो न … आपको यूं अकेली लड़की को पकड़ने में शर्म नहीं आती!मैं- कैसी शर्म … यहां कौन ऐसा है जिससे शर्म करूं?ये कहते हुए मैं नन्दा की गर्दन पर अपने होंठ रख कर उसको चूमने लगा.

फिर जैसे ही मैंने अगला फाइनल शॉट मारा तो अंकिता की काफी तेज आवाज निकल पड़ी. मेरी पिछली कहानी थी:मैं तेरा तू मेरीये गरम सेक्स भाई बहन कहानी मेरी और मेरी एक कजिन सिस्टर की है. ये सुनकर हेमा चाची हंस पड़ीं और बोलीं- भास्कर तुम भी न!मैंने हेमा चाची से कहा- चलो चाची, मैं आपकी टीवी की सैटिंग ठीक कर देता हूँ.

मैंने कहा- नहीं चाचा, वो मुझे पढ़ाई करनी है … और घर पर सब आने वाले होंगे, मैं घर खुला छोड़ कर आ गया था. उस दिन जब तू अपने घर में मुझे घूर रहा था मैं तो तभी समझ गयी थी कि तेरा लंड मेरी मुनिया की फिराक में है. लंड पर बैठकर वो बोली- चल मेरे घोड़े … टिक-टिक-टिक।अब नीचे से धक्के लगाते हुए अभय उसकी चुदाई करने लगा.

थोंग वाली पैंटी पहनने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह हमेशा गांड में ही घुसी रहती है … और जब चलते हैं तो इसकी रगड़न से बहुत मजा आता है.

देसी चाची Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मैं चाची को उनके मायके छोड़ने गया तो मैंने लगातार दो रात चाची को कई कई बार चोदा. हाथ धुलते हुए वो मेरी तरफ देख रहा था और मुझे बहुत ज्यादा शर्म आ रही थी.

नेहा मेरे लंड पर थूक कर चाट रही थी और लंड को अपने गले तक ले रही थी, जिससे उसके मुँह की लार लंड पर चिपक कर नीचे बह रही थी. कुछ देर के बाद शालू ने अपने ससुर के गले में बांहें डाल लीं और अच्छी तरह टांगें खोलकर चुदवाने लगी. जिसके बाद वो थोड़ा आगे होकर खड़ी हो गयी जिससे साहिल का लौड़ा उनके मुँह पे छुए।अब बार बार हो भी यही रहा था।कुछ देर बाद जब साहिल अपने दोनों हाथों से कुछ करने लगा.

फिर मैंने हेमा चाची से कहा कि चाची देखो मुझे लगता है कि टीवी के पीछे के तारों में कुछ दिक्कत है. ठीक काम पर लगा देना!वो बोला- तू टेंशन ना ले।बुआ खुश हो गई और मुझे चूमने लगी. ये बात मैं कई दिनों से बोलना चाहता था लेकिन मौका नहीं मिला।मैं उसे अपने ऊपर से हटाने की नाकामयाब कोशिश करने लगी लेकिन मज़ा तो मुझे भी आ रहा था क्यूंकि मुझे जो चाहिए था मुझे आज मिलने वाला था।मगर मैं नाटक करने लगी और बोली- मैं वर्जिन हूं.

ऑफिस की बीएफ वो आदमी रानी के पास आया और अपना लंड निकालकर रानी के मुंह में डाल दिया और चुदाई की वीडियो बनाने लगा. जल्दी ही मामला चुदाई तक आ गया और मैंने उसे मिशनरी पोज में ही सैट करके लंड पेल दिया.

दूध पीने वाली सेक्सी वीडियो

फिर सर अपने लंड को मुठ मारने लगे और अपना सारा पानी मेरे लंड पर निकाल दिया. साहिल ने रागिनी की कमर के नीचे तकिया लगा कर उसके गांड के छेद को थोड़ा ऊपर किया. कुछ देर के बाद जब उसको राहत महसूस हुई तो मैंने दूसरा झटका दिया अब मेरा लंड पूरा अंदर चला गया।उसकी आंखों से आंसू आ गए।मैं थोड़ा रुका और फिर लंड अंदर बाहर करने लगा.

पांच मिनट के बाद मैं भी उसकी चूत में झड़ गया।फिर हम दोनों ने कपड़े पहने और वो मेरे गले से लिपट गयी. मैंने सुमन के होंठ अपने होंठों से लॉक किये और लंड को उसकी चूत से थोड़ा बाहर निकाला. हिंदी सेक्सी मूवी मां बेटे कीउनका दोस्त मेरी चूत को चाटने लगा और मेरे हस्बैंड अपनी इंडियन देसी सेक्सी वाइफ के मम्मों को चूस रहे थे.

कुछ देर उसी स्थिति में रहने के बाद फिर से जब अलीमा ने अपने चूतड़ हिला कर इशारा किया, तो बलविंदर समझ गया कि अब लंड चुत में अन्दर बाहर किया जा सकता है.

नेहा- ह्म्‍म … जीजा जी को कुछ काम था तो वो बाद में आएँगे, अभी सिर्फ़ दीदी आई है. अपनी झांटें साफ करके लंड चिकना किया और नहा धो कर तैयार होकर पहले से ही तय जगह चला गया.

वो बोली- राज चोद मुझे … और चोद … आज मेरी प्यास मिटा दे।मैंने लंड को उसके मुंह में डाल दिया और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा।फिर मैंने उसे बिस्तर पर घोड़ी बनाया और फिर पीछे से उसकी चूत में लन्ड घुसा दिया. मेरे पास आकर वो मेरे चेहरे को अपनी तरफ करके मेरे होंठों को चूसने लगे. उसके मुंह से लगातार आनंद भरी सिसकारियां निकल रही थीं- आह्ह … हितेश … ओह्ह … चोदो … आह्ह … मेरी चुदाई करो … मेरी चूत में लंड देते रहो … आह्ह … लंड देते रहो … ओह्ह … ओह्ह … आह्ह … हितेश।उसके शब्दों से साफ पता लग रहा था कि वो कामसुख के लिए कितना तड़प रही थी.

मैं अपनी कुंवारी पड़ोसन की गांड मार चुका था लेकिन चूत चुदाई का इंतजार था.

ऐसा होते ही मैं तो मानो स्वर्ग में पहुंच गई और तभी मैंने उसका सिर पकड़ कर अपनी बुर पर दबा लिया. कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद वो उठी और मुझे पीछे वाली बेंच पर ले गयी. बाबा सेक्स पोर्न स्टोरी में पढ़ें कि एक गाँव में एक बाबा अपने तरीके से इलाज करता था.

राजस्थानी सेक्सी फिल्म देखने वालीएक लंड गांड में, एक मुँह में और एक एक दोनों हाथों में … मुझे जैसी चुदक्कड़ के लिए ये सब एक हसीन सपना ही तो था. लेकिन आपने मुझे जितने प्यार से चोदा, शायद पहली बार में वह कोई नहीं कर सकता था.

ब्लू फिल्म सुहागरात

बहन की गांड पर थप्पड़ मार मार कर उन्होंने उसकी गांड को एकदम लाल कर दिया था. तो एकदम से वो उठी और साहिल को एक झटके में उसने नीचे लिटा दिया और खुद उसके ऊपर सवार होकर उसको पहले तो खूब जोश में साहिल को होंठों से अपनी चूत का पानी साफ किया. मगर अब उसे सुगर की बीमारी हो गई है, तो उसका लंड खड़ा ही नहीं होता है.

हेमा चाची जैसी सुन्दर हुस्न और सेक्सी जिस्म वाली औरत के साथ मैं बिस्तर में लेट कर सेक्स कर रहा था. मैंने अपने हाथ से उसकी ब्रा के हुक को खोला और उसको उतार कर अलग कर दिया, उसकी चूचियां एकदम से बाहर फुदकने लगीं. उन्होंने रागिनी की ओर देखते हुए बोला- तुमको भी घूमना हो तो चली जाओ साहिल के साथ! मैं उसको बोल दूँ?रागिनी ने बिना मन के हां में सर हिलाया तो यह बात मेरी दादी समझ गयी.

मैं- तो फिर ऐसी बात थी तो आपने मुझसे पहले क्यों नहीं कहा?दीदी- मुझे भरोसा नहीं था. जब मेरी बारी आयी किराया देने की तो …नमस्कार दोस्तो, मैं आपका राज शर्मा स्वागत करता हूं फ्री हिन्दी सेक्स कहानी साइट अन्तर्वासना पर।फ्रेंड्स, मैं गुड़गांव में रहता हूं और मेरे लंड का साइज 7 इंच से कुछ ऊपर है. इधर बलविंदर सोच रहा था कि जिस लड़की ने आज तक अपनी बुर में उंगली भी नहीं की थी, आज वह किसी एक ऐसे आदमी के सामने नंगी पड़ी है, जो उसकी उम्र से दुगना था और उसके पापा का दोस्त भी था.

उसके बाद मैंने भी अपने कपड़े उतार फेंके और पूरा नंगा होकर उसके ऊपर लेटा और होंठों को बेतहाशा चूमने लगा. अब मुझे और ज्यादा मजा आने लगा था तो मैं अपनी गांड को उठा उठा कर चुदवा रहा था.

फिर मैंने साक्षी से कहा- अब आज का ये लास्ट राउंड करके हम निकलते हैं.

मैं बस में आकर बैठा ही था कि एक 23-24 साल की लड़की मेरे बाजू वाली सीट पर आकर बैठ गयी. सेक्सी वीडियो जानवरों के साथ मेंमैंने अपने लंड को जोर जोर से तेजी के साथ हेमा चाची की चूत के अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया था. ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो देहाती मेंबाद में चोदने के लिए बुला लूंगी, या खुद आ जाऊंगी मैं।वो उठी और अपनी चूत और गांड को गमछी से साफ किया. मगर जब धीरे धीरे उसके गहरे गले से झांकती चूचियों ने मेरे सामने अपना जलवा दिखाना शुरू किया तो दिल बेईमान होता चला गया.

रात में 3 बजे भैया जब खेत पर गए, तो मैं एकदम से भाभी के ऊपर टूट पड़ा.

अब प्रीति फिर से गर्म हो गयी थी- राहुल प्लीज अब अन्दर डाल दो … मुझसे अब सहन नहीं हो रहा. दोस्तो, आपको गैंगबैंग चुदाई की मेरी सिस्टर सेक्स स्टोरी कैसी लगी? मुझे जरूर बताना. उसकी चोली डीप कट थी जिसमें से उसकी पिंक ब्रा की थोड़ी सी डिज़ाइन दिख रही थी और चूचों के ऊपर का हल्का सा हिस्सा भी दिख रहा था.

दोस्तो, आप सभी को नमस्कार और सभी का बहुत बहुत धन्यवाद, जो आप लोगों ने मेरी सेक्स कहानीमामी की सहेली की चुदाईको इतना पसंद किया. कुछ मिनट बाद वो मेरे ऊपर आ गयी और फिर से मेरे लंड को अन्दर बाहर करने लगी. मैंने पूरा माल फर्श पर निकाल दिया।मुठ मारने के बाद जब मैं रिलैक्स हुआ और आंखें खोलीं तो अचानक मेरी नज़र चाची पर पड़ी जो मुझे देख रही थी।डर और शर्म से मेरी हालत पूरी तरह से ख़राब हो गयी थी।उस दिन के बाद फिर मैं जब भी चाची को देखता तो अपनी नजरें चुरा कर भाग जाता था।जब भी वो सामने होती थी तो मैं कट लेता था.

देसी हिंदी बीपी

और वो मेरी ज़िप खोल कर लंड हाथ से पकड़ कर सहलाने लगी।अब मैंने भाभी की गर्दन पकड़ी और उनके होंठ चूसने लगा. कहानी के पिछले भागमेरी जवानी और सेक्स की प्यास- 1में आपने पढ़ा कि अपने रिश्तेदार लड़के का लंड देखने के बाद मैं उससे चुदाई करवाने के सपने देखने लगी. जिससे मुझे उनकी चूचियों की गर्मी उत्तेजित करने लगी और मेरा लंड खड़ा होने लगा.

मैंने पूरा माल फर्श पर निकाल दिया।मुठ मारने के बाद जब मैं रिलैक्स हुआ और आंखें खोलीं तो अचानक मेरी नज़र चाची पर पड़ी जो मुझे देख रही थी।डर और शर्म से मेरी हालत पूरी तरह से ख़राब हो गयी थी।उस दिन के बाद फिर मैं जब भी चाची को देखता तो अपनी नजरें चुरा कर भाग जाता था।जब भी वो सामने होती थी तो मैं कट लेता था.

उनका चेहरा मेरे चेहरे के काफी नजदीक था और वो अब भी मेरी बांहों में थीं.

बलविंदर उसे हवस भरी नजर से देखते हुए अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए बोला- बेबी, इसे किस करना नहीं चाहोगी!अलीमा लंड सहलाते हुए बोली- पता नहीं इसका स्वाद कैसा होगा … लेकिन फ्रेंड्स से मैंने सुना है कि इसको चूसने में बहुत आनन्द आता है. मैं उनकी चुत के पानी को चूत से बाहर आने से पहले ही चाटता जा रहा था. रमेश का सेक्सी वीडियोबलविंदर ने पूछा- कितना सारा!तो अलीमा बोली- जब मेरी सहेली चुदाई की बातें करती थीं … तो मुझे अच्छा तो लगता था.

हॉट क्लासमेट सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मेरी क्लास के सारे स्टूडेंट्स स्कूल में मिले तो एक बहुत सुंदर लड़की दिखाई दी. पानी की बूंदों ने जैसे ही अलीमा के बदन को छुआ, मानो ऐसे लगा कि जैसे किसी गर्म लोहे पर पानी पड़ गया हो. उनकी चुदास देख कर मुझे लग रहा था कि आंटी कई वर्षों से मेरा ही इंतजार कर रही थीं.

उसकी भीगी हुई गीली चूत पर जो बाल थे वो साबुन की खुशबू में महक रहे थे और मैं उसकी भीगी सी चूत को मस्ती में चाटने और चूसने लगा. मैंने उसे इशारा किया तो उसने हां में गर्दन हिला दी।फिर वो भाभी से कुछ बात करके बाहर आ गई और बोली- चलो घर चलते हैं।मैं उसके साथ चल दिया- बोलो, क्या बात करनी है?प्रिया- कुछ खास नहीं.

ये कहते हुए मैं उसके ऊपर आ गया और उसके होंठों को चूसने की कोशिश करने लगा.

अब मुझे दर्द हुआ और मैं चिल्लाने को हुई तो उसने मेरे मुंह पर हाथ रख लिया. मैंने भी हां कर दी क्योंकि मैं उसके सामने ज्यादा कुछ बोल नहीं पा रहा था. वो बोली- बता, नहीं तो मैं शोर मचा दूंगी चोर कहकर!मैं डर गया और बोला- मुझसे गलती हो गयी आंटी.

सेक्सी वीडियो देसी चोदी चोदा तब राहुल ने अपने बैग से एक शराब की बोतल निकाली और कुछ खाने का सामान भी निकाला. मुझे दर्द हो रहा था लेकिन तब वो धीरे धीरे ही धक्के मार रहा था और मेरे ऊपर लेट कर मेरी चूचियों से खेलने लगा.

हम दोनों वासना से भर चुके थे और बेतहाशा एक दूसरे को किस किए जा रहे थे. मुझे एक पोर्न मूवी की याद आ गई और मैं ठीक उसी प्रकार से लंड पर उछल उछल कर गांड चुदवाने लगी. मैंने मैक्सी को ऊपर उठाया तो देखा कि मेरी पसंदीदा ब्रा पैंटी पहन कर लेटी थी वो!वो मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगी.

नंगा पिक्चर नंगा

फिर जब थोड़ी सांस आई तो मैंने उससे पूछा- मजा आया?वह बोली- बहुत!अब हमने कपड़े पहने. थोड़ी देर के बाद बुआ ने चाय बना दी और मुझे चाय को ऊपर वाले रूम में देने के लिए कहा. मैं रोज सुबह 8 बजे की बस से निकलता था और शाम को 7 बजे की बस से लौट आता था.

शायद ये हेमा चाची की वही चड्डी थी, जो अभी अभी हेमा चाची उतार कर टांग गई थीं. वो लगभग पागलों की तरह सीत्कार करने लगी- आह्ह … अनुराग … क्या कर रहे हो … बस … आह्ह … रुक जाओ … बस … रुक जाओ.

भाभी मेरा साथ इतना एंजॉय कर रही थीं मानो न जाने कब से ही प्यासी हों.

मेरी बात से आंचल जी एक बार को तो शर्मा गईं, मगर अगले ही पल वो मेरे बाजुओं में समा गईं. उसके बाद हमने बातें की और फिर हमने चुपके से उन दोनों के ड्रिंक्स में सेक्स की गोली मिला दी. मैंने लंड को चुत पर घिसते हुए उससे पूछा- क्या तुम तैयार हो?उसने सर हिला कर हां कहा.

तू मुझे बता कि तू क्लाइंट कैसे बनाती है!खुशबू बोली- तुझे चाहिए तो मैं तेरे लिए भी क्लाइंट दे सकती हूँ. बलविंदर ने उसे देखा तो अलीमा ने कहा- अब बस हो गया मेरे बच्चे … तुमने पूरा दूध पी लिया है अब तुम्हारा पेट भर गया है. कुछ देर बाद वो चीज मिल गयी तो साहिल ने रानी की पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- कैसे देखती हो जो नहीं मिल रहा था?अब साहिल ने बोला- मैंने तुम्हारी मदद की है.

फिर मैंने उन्हें पीठ के बल सोने के लिये कहा ताकि मैं उनके पेट में मालिश कर पाऊं.

ऑफिस की बीएफ: मेरे लंड के बाहर निकलते ही मेरा लंड बहुत ही चिपचिपा और लिसलिसा सा हो गया था. मेरे लंड का पानी मेरे लंड से बाहर आने ही वाला था कि तभी मैंने वहां बगल में पड़ा हुआ हेमा चाची के सिर का दुपट्टा उठाया और अपने लंड को बाहर निकाल कर उस दुपट्टे से लपेट लिया.

वो लड़का ब्रा पैंटी का पैकेट देने दरवाजे के करीब आया और मुझे देख कर मुस्कुराने लगा. काफ़ी देर तक एक उंगली से करने के बाद जब उसने दो उंगली साथ डालीं तो मैं बिल्कुल तड़प गई. नूपुर के सुनहरे काले बाल गोरा बदन बड़ी आंखें, उभरे हुए चूचे … अहह ऊपर से गांड तो ऐसी उठी हुई कि बस मन कर रहा था कि इसे यूं ही देखता ही रहूँ … बस देखता ही रहूँ.

साहिल ने रागिनी की कमर के नीचे तकिया लगा कर उसके गांड के छेद को थोड़ा ऊपर किया.

तभी अलीमा ने लंड को मुँह से निकाला और बलविंदर की ओर बड़ी नशीली आंखों से देखते हुए बोली- कैसा लग रहा है अंकल … आप खुश तो है ना?बलविंदर ने उसे उठाया और उसके होंठों पर चुंबन कर दिया. पता नहीं दिमाग में क्या आया कि मैंने उसकी चूचियों को वहीं पर दबाना शुरू कर दिया. मैंने उस दिन खाना आने से पहले दो पैग लिए और खाना आया तो खाकर एक सिगरेट फूंकते हुए भाभी की ब्रा पैंटी वाली छवि को अपने दिमाग में उकेरने लगा.