बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में

छवि स्रोत,सुनने वाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन ब्लू पिक्चर दिखाओ: बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में, वो शायद मनोरमा की बात समझ नहीं सका तो उसने उससे सीधा ही पूछा- मेरा मतलब है जो तुम्हारी टांगों के बीच में लटक रहा है, वो खत्म हो चुका होगा?मैडम जी, मेरी जवानी पर तरस खाइए और ऐसी बात ना करिए.

बीएफ दीजिए हिंदी में बीएफ

परदे हवा से न उड़ें, इस वजह से उसने परदे के निचले सिरे बर्थ की गद्दी के नीचे दबा दिए. सेक्सी वीडियो बीएफ 2019 केदस मिनट बाद पायल भाभी बोलीं- पंकज तुम्हारा रस अभी तक नहीं निकला?मैंने कहा- इतनी हसीन परी को इतनी जल्दी कैसे छोड़ दूँ.

मेरा नाम वन्द्या है, मेरे मम्मी पापा बहुत गरीब हैं, घर कच्चा बना है. गुजराती पिक्चर बीएफसब कुछ छोड़ कर उसने चुत पर ध्यान दिया और जो रस चुत में से निकला वो चाट चाट कर पी गया.

अब बिना टाइम जाया किये नीना ने डॉक्टर के लौड़े पर हाथ रखा और पैंट की जीप नीचे सरका दी.बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में: तभी नाईटी पहन कर नीलम भाभी भी आ गईं, उन्होंने हम दोनों को इस तरह बैठे देखा तो बोलीं- अरे वाह… आप लोग तो शुरू हो गए.

इस चुदाई के बाद दीदी ने फिर से पंजाबी सूट पहन लिया और शरीफ लड़की बन गईं.उसकी गति से लग रहा था कि वो फिर से झड़ने को बेक़रार था!और सचमुच… उसके लंड ने कुछ देर में ही भल भल करके गर्म गाढ़ा वीर्य मेरी भार्या के मुंह, चेहरे पर उगलना शुरू कर दिया जिसे मेरी कर्तव्यनिष्ठ पत्नी ने सधन्यवाद पी लिया.

सेक्सी बीएफ चुदाई वाला सेक्सी बीएफ - बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में

उसने मेरा नंबर लिया और चली गई, जाते टाइम वो एक कातिलाना स्माइल दे कर गई.दोस्तो… प्यारी प्यारी भाभियों और कमसिन कलियों… मैं ब्लैक हर्ट अपने 7 इंच लंबे और 2 इंच मोटे खड़े लंड के साथ आपका आभार व्यक्त करने आपके सामने हाज़िर हुआ हूँ.

उसने अगले ही पल मॉम की पैंटी खींच कर निकाल दी और मॉम को उठा कर किचन के काउंटर पे बिठा कर चुचों को दोबारा चूसने लगा. बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में धीरे धीरे में उसके करीब हो गया और प्यार से उसको बांहों में भरने को हुआ.

वो देख कर तो जैसे मेरे दिमाग़ में एक शरारत सूझी और मैं उनकी पैंटी पर बने हुए हर एक होंठ को अपने होंठों से चूमने लगा.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में?

फिर शाम को मैंने सारी बात अपने रूममेट को बताई, तब उसने मुझे बताया कि अरे उस लड़की की बात कर रहा है, उसका नाम ऋतु है और वो इलेक्ट्रीकल ब्रांच की है और हाँ… उसके पीछे कई लड़के पागल हैं. भाभी फिर से बोलीं- तुम्हारा ध्यान कहां है? मैं कुछ बोल रही हूँ?अब मैं अपने विचारों से बाहर आया और भाभी से बोला- भाभी आई लव यू, मैं आपसे प्यार करने लगा हूँ, आपको जिस हालत में देखा वो अभी तक़ मेरे दिमाग़ में चल रहा है. मेरा पप्पू तो इस ख्याल से ही उछलने लगता था कि उसकी बुर पर उगे बालों पर हाथ फेरने का कैसा मजा होगा.

जैसे ही भाबी गईं, भैया ने मुझे अपने ऊपर लिटा लिया और मेरी कमर और गांड पे हाथ फेरने लगे. इससे मुझे मेरे लंड में सिहरन सी हो जाती और शिखा कनखियों से मेरे लंड को फूलते हुए देख कर होंठ दबा कर हल्के से मुस्कुरा देती. फिर विवेक ने कामिनी को उल्टा करके लिटा दिया और पीछे से लंड घुसाया, वो बोला- अब जरा टाइट जाएगा मेरी जान.

मैंने गुर्रा कर कहा- अच्छा… तो बिल्कुल भी सबर नहीं हो रहा हराम की चुदक्कड़ पैदाइश… चल तू भी क्या याद करेगी अब ठोक ही देता हूँ तेरी मलाई वाली चूत को… भोसड़ी वाली रांड, अब हो जा तैयार इस लौड़े को झेलने!जीजा साली सेक्स की कहानी जारी रहेगी. उसकी बेचैनी से लग रहा था मानो वो अपनी बरसों की प्यास आज बुझाने का प्रयास कर रही हो. मैंने भी झटके के साथ नीलम की ब्रा फाड़ दी, अब नीलम भाभी बिल्कुल नंगी हो गई थीं.

उसने कहा कि वो दस दिन के लिए अपने मायके आई हुई है और मुझसे मिलने की इच्छुक है, अगर मिल सकें तो!मैंने उसने मिलने के लिए हां कर दी, मैं 2 दिन बाद आगरा आ गया और उसके फ़ोन का इंतज़ार करने लगा. सुनमादरचोदरंडीकीऔलाद… येप्यारकीभाषाहै… सचबोलतुझेअच्छीलगीनमेरीगालियां?आजसेमैंतुझेरेखारानीकहाकरूँगा… ठीकहैन?औरतूमुझेराजेकहाकरेगी.

साली रात में पूरे भरे ट्रक भर में लोगों के बीच में मेरा लंड चूसते हुए तुझे डर नहीं लगा.

वो आज ऑफिस में भी मुझसे चुदवाना चाहती थी मगर मैंने उस को कोई लिफ्ट नहीं दी.

इस बार मुझे पहले से भी ज्यादा दर्द हुआ और दर्द के साथ ज्यादा मजा भी आया. उसने मेरा एक जोरदार चुम्बन लिया और एकदम से मेरे होंठ चूसने लगा… और जोश में आ गया. अब तक मेरी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि ड्राईवर से मन भर गया तो मैंने एक और नए लंड की तलाश की जो मुझे मेरे कॉलेज में मिला.

कामिनी ने जोर से आवाज लगाई- राहुल विवेक और मेरे लिए दो गिलास लेते आओ, साथ में कुछ नमकीन वेफर्स और नमकीन लेते आना. मैंने अपनी उंगली को पहले सूंघा फिर भाभी की आँखों में देखते हुए उंगली को मुंह में लेकर चूस लिया. बार बार मेरी आँखों के सामने तेरा नंगा बदन आ रहा हैसोनिया- भैया ये नहीं हो सकता प्लीज सो जाओ.

दो झटकों में ही अब पूनम अपने चूतड़ों को ऊपर उठा उठा कर मेरे लंड पर मारने लगी.

भाबी को मैंने हल्का सा धक्का दिया तो वे समझ गईं और खुद ही बिस्तर पर चित लेट गईं. दोस्तो जैसा कि मैंने पिछली चोदन कहानी में आप से वादा किया था कि मैं अगली कहानी में बताऊंगा कि मैं कॉल बॉय कैसे बना।अब ज्यादा देर ना करते हुए सीधा कहानी पर आता हूँ. उसका लाल होता चेहरा गवाही दे रहा था कि मेरी ही तरह वो भी अब काम वासना में जल उठी है.

अब तक मेरी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि ड्राईवर से मन भर गया तो मैंने एक और नए लंड की तलाश की जो मुझे मेरे कॉलेज में मिला. तुझे सब सिखाने ही तो यहां लाई हूं, अगर तुम्हें पहले आता होता तो यहां क्यों आते, घर में कभी भी चुपके से कर लेते. मगर यहां मुझे अपने सारे राज नहीं खोलने थे, मुझे अपनी इज्जत बरकरार रखनी थी तो मैं ऊपर की तरफ वापस आ गया.

कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी… मुझे इसके बारे में जरूर लिखें, मेरे मेल पर अपने कमेंट्स भेजें.

नताशा की बगल में बैठे हुए एरिक ने उसकी चिकनी, महकती हुई चूत को अपने हाथों से सहलाना शुरू कर दिया. भाबी मेरे लिए कोल्डड्रिंक बिस्किट नमकीन और ना जाने बहुत सी चीजें लेकर आ गईं.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में फिर उसने व्हाट्सएप पर एक फोटो भेजा जिसमें उसने ब्लेड से अपना हाथ काट रखा था. कुछ देर बाद आशीष वहाँ से चला गया और अभी मुझको पूरी रात भर चंदर के साथ ही रहना था.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में उसको अपनी गोद में बैठा कर उस पर धक्के लगा रहा था और वो भी गांड उठा कर चुदाई के मज़े ले रही थी. थोड़ी देर होने के बाद मैंने ज़ोर से एक झटका दिया और पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

जब उसका बेटा आया तो उसे दूसरे कमरे में नंगा करके नकाब डाल कर ले आई और दोनों को बेड पर कर दिया.

डॉक्टर डाउनलोड

दीदी ने कहा- आह… मेरी चुत में ही धार मार दे… मैं तेरे माल को चुत में लेना चाहती हूं. करीब 10 बजे रहे होंगे, चाचा जी चले गए, अब घर पर मैं और चाची जी ही थे। चाची जी को बाहर छोड़ने के बाद मेरे कमरे में आई, मैं सोने ही जा रहा था कि चाची जी ने कहा- रवि, आज तुम मेरे कमरे में मेरे साथ सो जाओ।पहले तो मैंने थोड़े नखरे किये पर मैं मान गया।चाची जी की यह बात सुन कर मेरे मन में तो लड्डू फूट रहे थे।कहानी जारी रहेगी. इसी बीच हम दोनों ने थोड़ी दारु भी पी ली जो पूल के किनारे पर ही रखी थीहम दोनों के कपड़े धीरे धीरे हमारा साथ छोड़ रहे थे, मैं उसके और वो मेरे कपड़े उतार रही थी, ठन्डे पानी में भी हम एक दूसरे के जिस्म की गर्मी महसूस कर रहे थे.

ना जाने क्या हुआ था कि मुझे गोरे और बॉडी वाले लड़कों की बजाए सांवले और सामान्य कद काठी वाले लड़के ज्यादा पसन्द आते हैं. मैं उससे फिर बात करने लगा- सोनिया जग रही है या सो गई?सोनिया- जग रही हूँ भैया बोलिए?मैं- सोनिया मुझे कुछ चाहिए है. पहले तो उसने हाथ हटा लिया, पर जब मैंने उसकी चूत सहलाई तो उसने भी थोड़ी देर बाद उसे पकड़ लिया और लंड सहलाने लगी.

अब तक भाभी की कुछ हरकत नहीं हुई थी, तो मुझमें भी थोड़ी हिम्मत और बढ़ गई थी.

आंटी बोली- चलो मेरे साथ मेरे घर पर!मैं बोला- नहीं आंटी, मैंने बस की टिकट नेट से बुक कर रखी है तो मैं नहीं जा सकता. लेकिन नंबर देने से पहले उसकी एक शर्त ये थी कि मैं कभी भी अपनी तरफ से पहले फोन कॉल या मेसेज नहीं करूँगा और ना ही कभी उससे उसकी फोटो देने को लेकर ज़िद करूँगा, हालाँकि इस से पहले मेरी फोटो मुझसे ले ली थी उसने. भाबी मुझसे काफ़ी मज़ाक करने लगीं और फिर हम दोनों एक दूसरे के क्लोज फ्रेंड हो गए.

प्रिया ने हौले-हौले अपनी आँखें खोली तो मुझे सीधे अपनी काली कज़रारी आँखों में झांकते पाया।झट से प्रिया ने मेरी ही आँखों पर अपना हाथ रख दिया- आप मुझे ऐसे ना देखो प्लीज़… मैं तो शर्म से ही पिघल जाऊँगी. जिम बिल्कुल पैक और लॉक करके रखा था क्योंकि मूड हुआ तो यहीं चालू हो गए, हल्का हल्का म्यूजिक चल रहा था. मैं फ्रिज से आइस क्यूब ले आया और वो महक की चूत के छेद में घुसा दिया.

’ कहते समय मैंने महसूस किया कि भाभी की आँखों में वासना के डोरे तैर रहे थे. फिर उसने अपनी बायीं बांह मेरी कमर पर लपेट ली और मुझे अपनी तरफ करवट दिला दी.

कुछ दिन पहले ही शायद उसने चूत के बाल बनाए थे इसलिए उसकी सांवली चूत भी चिकनी लग रही थी. उसका 7″ लंबा और 3″ मोटा (डायामीटर) मेरी अनचुदी चुत में 15 से 20 मिनट तक अपना काम करता रहा था, इस वजह से उसके मूसल लंड को झेल कर मेरे शरीर में दम ही नहीं बचा था. दो-तीन दिन बाद भाभी की मिस कॉल आई, मैंने उसको कॉल बैक किया तो वह बोली- अगर कॉल नहीं करनी थी तो नंबर क्यों लिया था?मैं हंस दिया और हम दोनों बातें करने लगे.

बस मुझे मैथ में थोड़ी प्राब्लम होती थी, जिसमें मैं रिमझिम की मदद लिया करता था और बदले में उसे कैमेस्ट्री पढ़ाया करता था, जिससे हम दोनों की आपसी कैमेस्ट्री काफी अच्छी हो गई थी.

मेरी उम्र के हिसाब से जो भी काम हो सकता है, मैं कर लूँगी, कुछ भी काम हो. उसे किसी ने बताया था कि पीरियड के बारह दिन के बाद चुदाई करने से बच्चा ठहरने सबसे ज्यादा चांस होते हैं!बात भी सही थी तो मैंने भी उसकी हां में हां मिला दी और उसे अपने फ्लैट पे ले गया. मुझे देखते ही नीना ने डॉक्टर साहब से बड़ी गर्मजोशी के साथ मेरा परिचय कराया। डॉ.

उसी समय उसने जल्दी से नीचे बैठ कर मेरा पैंट खोला और देखा कि 7″ का लंड एकदम कड़क और झटके मार रहा है. मैंने अपने कपड़े पहन लिए और भाभी को देखा, उनके चेहरे पे एक अजीब सी खुशी की झलक दिखाई दे रही थी.

अब वो उछल उछल कर मेरे मुँह में लंड डालने लगे, मेरा मुँह छिल रहा था, पर मैं कुछ कर भी तो नहीं सकती थी. इसके बाद मुझे पता ही नहीं चला कि कब उन्होंने मेरी शर्ट के सारे बटनों को खोल दिया. कुछ देर बाद की लंड चुसाई के उपरान्त मैडम मेरे ऊपर चढ़ गईं और मेरे मुँह के पास आकर बोलीं- मुँह खोलो.

ॲनिमल सेक्सी व्हिडिओ

उस दिन मेरी सहेली का मकान मालिक ने भी बोला कि उसको भी शॉपिंग करनी है, तो वो भी अपनी वाइफ के साथ हम दोनों लोगों को भी अपने साथ लेकर शॉपिंग करने के लिए ले गया.

मैंने उसकी ब्रा भी निकाल दी और उसकी चूचियां देख कर मैं हेरान रह गया कि मेरे लड़के को इतनी मस्त लड़की मिली फिर भी चूतिया साला लोंडेबाज़ है. अब नीलम भाभी उठीं और भाभी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चुत के मुँह पर टिका लिया, फिर भाभी एक झटके के साथ लंड के ऊपर बैठ गईं. यह सुनते ही वो चारों लड़के मुझ पर टूट पड़े और मुझे पूरी नंगी करके मेरी चुत, मेरे मम्मों को, मेरे होंठों को चाटने में लग गए.

जैसे ही उस लड़के ने मुझे उस बुड्डे के पास धकेला तो बूढ़ा मेरी चुत पर मुँह मारने लगा. मैं नाइट शिफ्ट होने के कारण अक्सर अपने स्टाफ को आनंद विहार छोड़कर आता था और वहां से वापस आने में मेरे को दो तीन जो गुड़गांव सवारी मिल जाती हैं, मैं उनको लेकर आता था. बीएफ बीएफ भेजनावो तो बस नाम के लिए ही थी उसने एक स्प्रिंग लगी हुई यू शेप की चड्डी दी, जो बस चुत के छेद को ही कवर करती थी.

मैंने कहा- मेरी जान अब शरमाओ मत… ये तुम्हारा ही तो है, चलो अब इसे थोड़ा प्यार करो, जैसे मैंने तुम्हारी चूत को प्यार किया था. उसने अपने ब्लाउज का ऊपर का एक बटन भी खुला रखा था, जिससे उसके स्तन काफी बाहर को झांकते हुए दिख रहे थे.

दूसरे दिन वो ऑनलाइन थी तो मैंने पूछा- आपने कॉल तो किया ही नहीं?उसने कहा- मैंने कॉल इसलिए नहीं किया कि अगर मैं कॉल करती तो आप ये सोचते कि कैसी चिपकू लड़की है, नंबर दिया नहीं और कॉल कर दिया. बहनचोद मर्दों पर बिजलियाँ गिराने के लिए उसने साड़ी नाभि के नीचे बांध रखी थी. इतने में तुम लोगों की हिम्मत कैसे हुई कुत्तो…” कहते हुए सेजल भाभी रूम में आ गईं.

चूत, झांटों वाला स्थान और काफी गहराई तक जांघें उसके चूत रस व मेरी मलाई के मिले जुले माल से सनी हुई थीं. तब से लेकर हम दोनों आज भी कामुकता से भरपूर लेस्बियन सेक्स करती हैं। और हम दोनों कई तरह से सेक्स कर चुकी हैं. मैंने देखा कि पिंकी की पहली वाली रसभरी पर रोशनी की गांड का पसीना लगा हुआ था और उसका शेप एक स्ट्रॉबेरी के जैसा थोड़ा सा बड़ा और नुकीला हो गया था.

कुछ देर के बाद मेरे जोश ने जवाब दे दिया और मैं दीदी के मुँह में ही झड़ गया.

आंटी ने कहा- मैंने अपना रस बहुत बार पिया है, पर आज जिस तरह से तुमने पिलाया है, उससे बहुत मज़ा आया है. उसके बाद उसने फिर से मेरे मुँह से अपने लंड की चुसाई करवाई और बोला कि जब मेरा लौड़ा ढीला होगा तब तक चूस रानी.

मैं बोला- तुम्हारी चूत चोदने के बाद पूरा रस पिलाऊँगा।फिर क्या था… वो एकदम से बिस्तर पर बिछ गई और बांहों को फैला कर बोली- आ जाओ!मैंने अपने लिंग को उनकी चूत की दोनों फांकों के बीच रख कर एक जोरदार धक्का दिया कि उनकी आँखों से आँसू निकल आये, बोली- जान निकाल लोगे क्या? क्या हो गया है आज तुझे? बड़ी बेरहमी से मेरी चुदाई कर रहे हो?तकरीबन दस आसन बदलकर मैंने उनकी मैराथन चुदाई की. ऊपर से पानी में तैर कर ऊपर उठती हुई उसकी स्कर्ट, और गीले होने के कारण कपड़ों से झांकती हुई ब्रा, और उस पर तीखी तनी हुई निप्पल!सच बताऊँ दोस्तो, उस दिन पहली बार हुआ जब मैं खड़े खड़े ही झड़ गया, शायद अधिक उत्तेजना के कारण पर पानी के अन्दर होने क कारण इज्ज़त बच गयी. मैंने उसकी चूत में से अपना लंड निकाल कर एक झटके में ही उसकी चौड़ी गांड में पेल दिया.

इधर प्रिया मारे उत्तेजना के बिस्तर पर जल बिन मछली की तरह तड़फ रही थी. मैंने घर पर फोन किया और कहा कि मैं कल सुबह आऊँगी, अभी कोई गाड़ी नहीं मिल रही है. एकदम से मैंने सविता भाबी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें किस करने लगा.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में मैं अपनी वाइफ को छोड़ कर जब अपनी जॉब वाली जगह पर आया और मैंने गेट खोला तो पाया कि रूम ऑनर के गेट पर ताला लगा हुआ है. कामिनी ‘ऊहह हह आअहह…’ कर रही थी और बोल रही थी- क्या उछाल उछाल कर चूत लेते हो सैयां जी… तुम्हारा लंड मेरी बच्चेदानी तक जा रहा है.

अनुष्का सेनxxx

मैंने कहा- इसके पहले क्या तूने अपनी चुत में उंगली भी नहीं की?उसने कहा- उंगली से क्या होता है. मैंने किसी और लड़की से उसका इंटरव्यू दिलवाया और उसे पूरी तरह से समझा दिया कि इसको नौकरी देनी है और नौकरी से पहले ही चुदवाना भी है. जब उसने मुझसे मेरे बारे में पूछा तो मैंने भी उसको अपने बारे में सब कुछ सच सच बता दिया.

पर मुझे कहां पता था कि मुझे मेरी ज़िंदगी की भयानक सजा मिलने वाली है. आंटी ने पूछा- हो गया शांत?मैंने कहा- क्या मतलब?उन्होंने कहा- मतलब फ्रेश हो गया. बॉडी का बीएफएक झटके से मैंने अपने लंड को उसकी चूत में पिरो दिया मगर उसकी चूत इतनी टाइट थी कि जैसे ही उसने ‘सीईईईईई…’ करके अपनी कमर को हिलाया, लंड बाहर आ गया.

यह मौका पाकर मैंने जो अलका से संवाद का सिलसिला शुरू किया था उसको सिरा फिर से पकड़ लिया.

एक तकिया मैंने उसकी गांड के नीचे टिका दिया और पहले उसकी प्रदेश पे हाथ फेरा. और आप तो पायल भाभी हो ना?वो जल्दबाजी में बोली- ओह लगता है ग़लती से आपके पास लग गया, मैं कहीं और लगा रही थी.

थोड़ी देर चूसने के बाद मैं उठकर बैठ गई और उसकी टांगों को चौड़ा करके उसकी बुर को एक पल के लिए निहारा और फिर अपना मुँह उसकी बुर पे लगा दिया. चलो खेतों के अन्दर चलते हैं… भरी दोपहरी में खेतों के अन्दर कौन झाँकेगा. मैंने उससे कहा- आज तुम लोगों से मेरा बदला पूरा हो गया… तुमने तो मुझे अपने सामने अपने दोस्तों से चुदवाया था मगर मैंने तुम्हें तुम्हारी माँ से ही अपने सामने चुदवा दिया और इसकी फिल्म भी बना ली है.

मैंने उनके पीछे से मेरा लंड दोबारा उनकी चुत में पेल दिया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा.

मैंने उससे गोद में उठाया किस करते हुए और पूल (ट्यूब वेल) की तरफ ले गया. एक रात को मैं फ़ोन पे मेरी गर्लफ्रैंड से बात कर रहा था तो एक अनजान नंबर से बार बार कॉल आ रही थी, और मेरा फ़ोन वेटिंग में आ रहा था, अनजान नंबर था तो मैंने भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया. मगर तब तक चंदर का लंड फिर से खड़ा हो चुका था और उसने भी बिना टाइम गंवाए मेरी चुत पर हमला कर दिया.

एक्स एक्स एक्स डॉग बीएफमजा आ रहा है जिन्दगी का…आपको मेरी यह गन्दी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं. जाते हुए अलका रानी मुझे चेतावनी दे गई कि अगली चुदाई तो उसकी कहानी लिखने के बाद ही होगी.

शुभ प्रभात hd

बिंदु ने मेरे कमरे में आते ही डेविड के लंड को हाथ में लिया और चूसने में लग गई. अब वो ऊपर से और उसकी माँ नीचे से गांड उछाल उछाल कर धक्के मार रही थी. बातों ही बातों में उसने कहा- मैं भी आपके घर के थोड़ी दूर में रहता हूं.

मैंने उसकी पेंट की चैन खोली और चड्डी नीचे सरका कर उसके लंड को अपने गाल से रगड़ने लगा. आंटी कामवासना से आआस्सस्स…” कर रही थीं और कह रही थीं- आह… और जोर से राज… आज इनका सारा दूध पी जाओ… खा जाओ इनको… ये आज से तेरे लिए ही हैं… जब तेरी इच्छा हो, मुझे चोदने आ जाना. फिर मैंने आँख खोलीं तो नज़र सीधे उसकी चूत पर गई, ज़ो बिल्कुल पिंक थी.

उसने अपने खड़े लंड पर तेल की तरह कोई जैली को लगाया और ऐसे बोला जैसे कि वो मेरी चुत से बात कर रहा हो- मेरी मलिका तुम्हें तुम्हारा किंग याद कर रहा है. दस मिनट तक उसी स्पीड में दौड़ने के बाद वो मेरे करीब आईं, मशीन को बंद किया और मुझको सहारा देकर चेयर पे बिठाकर बोलीं- बैठो यहां पे… मैं तुम्हारे लिए प्रोटीन शेक लाती हूँ. पापा ऑफिस के लिए तैयार हो रहे थे और मॉम कॉलेज के लिए तैयार हो रही थीं.

बहनचोद ऐसा जूस, जिसके सेवन से आदमी की रूह फड़क उठे! माँ की लौड़ी इसको रस कहना तो सरासर ग़लत होगा… ये तो मधु कहलाना चाहिए. उसने पता नहीं किस तरह से मेरी चुत को चूसा था कि मुझसे दोनों टांगें मिला कर रखना भी मुश्किल हो गया था.

जब फार्म हाउस में कार पहुँची तो वो आदमी जो मेरे साथ बैठा था, निकल कर अन्दर भाग गया और फिर बाहर आकर बोला- चलो अन्दर.

धीरे धीरे प्यार परवान चढ़ रहा था हमारा, हम अक्सर ही बाहर घूमने जाया करते थे. सेक्सी बीएफ चुदाई केमुझे बाद में पता चला कि उससे दो तीन औरतों ने उससे पैसे ले कर अपनी चूत चुदवा थी और उसको अच्छी तरह से चुदाई सिखा दी. बीएफ सेक्सी पिक्चर फिल्म बीएफउसने मेरे मम्मों को जोर जोर से दबाना शुरू कर दिया और उनकी घुंडियों को काटना शुरू कर दिया. मैं- धन्यवाद अलका जी… अब तो आप जान गयीं ना थोड़ी थोड़ी नॉन वेज कहानी कैसी होती है ? अब सोयेंगी या तीसरी कहानी भी पढेंगी?अलका- तीसरी भी पढूंगी… उसके बाद ही सोऊंगी… बिना पढ़े तो रहा न जायगा… आपकी कहानियां काफी रोमांचित कर देती हैं… वैसे कहानी थोड़ी थोड़ी नॉन वेज नहीं बल्कि पूरी ही नॉन वेज है.

मैंने जगह देखकर गाड़ी साइड में लगा ली, वहां रोड की लाइट नहीं चल रही थी.

फिर एक दिन एजेंसी से एक कॉल आता है कि बधाई हो, आपका पहला ग्राहक तैयार है. मेरे कमीने दोस्त सच ही कहते थे कि मुठ मारने में कोई मजा नहीं है, जो मजा किसी लड़की की चूत मारने में आता है. इसके साथ ही उसका माल मेरे गले और मुंह में भर गया और होंठों से टपकने लगा.

गेम खेलते वक्त भाभी का बेटा, जोकि 5 साल का था, वो बार बार बीच में आ रहा था. उहह… स्सस्स…”फिर मैं नीचे लेट गई और मेरी टांगें पीछे करके उसने मेरी फिर से चुदाई शुरू कर दी. पहले ही झटके में कामिनी जोर से बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… माँआ…विवेक ने जोरदार झटके देने शुरू कर दिए.

पुलिस क्सक्सक्स

उसने भी हंस कर मुझे धकेला और कहा- चल चल बहुत देखे मैंने तेरे जैसे… कल आना फिर बताती हूँ. मैं ऐसे ही सो जाती हूँ, कोई आएगा तो नहीं?भाईजान मेरी बात सुन खुश होते बोले- नहीं जूही कोई नहीं आएगा तू ठीक कह रही है, तुम ऐसे ही सो जाओ. रानी की चूत और गांड की सुगंधों से नाक और मलाई के ज़ायके से मुंह के मज़े लग गए.

वो मुझसे पूछने लगी- क्या ये आपकी बर्थ है?मैंने बोला- हां मैडम, इसमें एक बर्थ मेरे लिए है.

मैंने खुलते हुए कहा- ठीक है अगर तुम अनचुदी हो तो मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगा.

भैया जी ने नए घर में शिफ्ट होते समय पूरा एक माह घर में बिताया था और आज काम पर निकल पड़े. मैंने उसकी ठोड़ी के नीचे हल्के से हाथ लगाया और उसके चेहरे को अपने होंठों के पास ले आया. 16 साल की लड़की के बीएफ हिंदी मेंयार मैं क्या बताऊं… जब उसने अपने दोनों होंठों से मेरे लंड को दबाया तो जैसे मुझे लगा कि मैं जन्नत की सैर कर रहा हूँ.

जैसे आप सब जानते हैं कि लड़की के बदन के सबसे कामुक हिस्से कान और गर्दन होती हैं तो मैं उसकी गर्दन और कान को चूमने लगा और हल्का हल्का काटने लगा. अन्नू बोली- हमारे सेवक की सेवा से मजा आ रहा है या नहीं?एकता बोली- यार, मेरे पास ऐसा सेवक हो तो मैं दिन रात बेडरूम में ही रहूँ. उसने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और उसके सुपारे पर जीभ फेरने लगी.

मैं पूरी कॉल गर्ल बन गई और खुद ही उन लोगों के रिफरेन्स से कस्टमर ढूँढने लगी… जिन्होंने मेरी चुत में अपना लंड डाल कर हिलाया था. मैं उनके घर गया, डोर बेल बजाई तो उनका बेटा आया, लेकिन मेरी आँखें तो मस्त चब्बी आंटी को ढूँढ रही थीं.

दीदी ने पूछा- इसका क्या मतलब?मैंने बताया कि अभी मेरे पास कुछ क्लाइंट्स के कॉल्स आये हैं और यह तो वहीं जाकर पता चलेगा कि कितनी क्लाइंट्स मेरी सर्विस लेंगी?दीदी ने मुझसे कहा- मैं समझी नहीं कि तुम क्लाइंट्स को किस तरह की अपनी सर्विस देते हो?दीदी मेरे लंड को देख रही थीं और अपने चूचों को अपने हाथ से बार बार खुजाते हुए कुछ चुदास भरा इशारा कर रही थीं.

थोड़ी देर पहले ही तो बेचारे डॉक्टर साहब मेरी नीना को कंडोम लगाकर चुदाई करने का उपदेश दे रहे थे, मगर नीना की चूत की गर्मी में ऐसे बेहाल हुए कि स्ट्रेचर पर मेरी प्यासी बीवी को अपने अलग अंदाज़ में बिना कंडोम के ही चोदने के लिए बेक़रार हो गए. यह कहकर उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए, हम दोनों की जिह्वा आपस में मिली और दोनों को ही मज़ा आने लगा, उनके हाथ मेरी चुचियों पर दबाव डालने लगे. मैंने तुरंत उसकी मेल आई डी ली और बोला कि घर जाकर दो तीन कहानियां मेल कर दूंगा.

नई हीरोइन की बीएफ मेरा दिमाग़ काम नहीं कर रहा था और लंड पेंट में फुंफकार रहा था, लंड खड़ा होकर फुल गया था जिससे पेंट में तंबू बन गया था. बस उसने बिना एक पल गंवाए अपनी माँ की चुत में एक ही झटके में अपना लंड अन्दर कर दिया.

तो पूनम बोली- मुझे तो आता भी नहीं है, तो कैसे करूँगी?मैंने कहा- तुम बस साथ देती रहना… कर मैं लूँगी और तुम्हें सिखा भी दूँगी. मैं तो मानो उस पहलवानी महाराजा के जिस्म मैं कहीं डूब सा गया था इसलिए मुझे कुछ सुध ही नहीं थी… मुझे कुछ नहीं पता कि दुकान मैं क्या हो रहा है लेकिन थोड़ी देर बाद रत्नेश भैया मेरे साईड में खड़ी अपनी बाइक पर बिल्कुल हीरो की स्टाइल में बैठे और मुझसे कुछ बोला लेकिन मुझे सुध कहाँ थी. मैं- मैं अभी अभी आयी… और क्या भाभी गंदी मूवी देखती हो?भाभी- नहीं रे… आज मन कर रहा था तेरे भैया तो है नहीं… इसीलिए मूवी देख रही थी.

लड़की की गांड मारी

मैं उनकी चूत चाटने लगा था, मुझे उनकी चूत की महक बड़ा कामुक कर देने वाली लगी. क्लास से निकल ही रहा था कि तभी पीछे से एक मधुर से आवाज मेरे कानों में पड़ी- कल्पेश. उसके चुत चाटने से मुझे अजीब सी सिहरन हो रही थी, मैं भी उसकी जीभ से अपने आपको पूरा चुसवा देना चाहती थी.

भाभी भी मुझे मम्मे मसलवाते हुए देख रही थीं और मुस्कुरा रही थीं मेरा डर भी खत्म हो गया था. नताशा संग हमने भी पैदल मार्च में शामिल हो शहर में घूमते हुए रेड स्क्वायर तक जाकर परेड देखने जाने का प्लान बनाया.

इस बात को अपनी महिला पाठकों से समझना चाहता हूँ कि ज़रा आप खुद ही सोचिये कि अगर आपकामवासना से पीड़ितएक धनी महिला होतीं तो क्या आप एक एजेंसी के माध्यम से जिगोलो खोजतीं? यदि आपका उत्तर हां में है, तो मेरा अगला सवाल है कि क्यों आप ऐसा करतीं? क्या सुविधाएँ देते हैं एजेंसी वाले आपको?क्या आपने कभी सोचा है कि इस तरह की एजेंसी वाले कभी अपने किसी पुरुष सदस्य की कोई जाँच करते हैं कि उनका चरित्र कैसा है.

तभी मैं बोलीं- बड़ी खुश हो भाभी क्या हुआ… कहीं वो…?क्या वो… कौन?”मैं- रिक्शा वाला?वो घबरा गईं- कौन कौन छोड़ो ना. उस दिन मुझे गालियां क्यों बक रहा था?नवीन- हम आपको गालियां नहीं देना चाहते थे. मेरी सेक्सी स्टोरी के पहले भागवो कौन थी-1में अपने पढ़ा कि मैं अपने चाचा की बेटी की शादी में गाँव गया हुआ था.

मैंने भी कहा- हाँ मैं ठीक हूँ और पढ़ाई की अभी कोई बात मत करो प्लीज़; अभी मुझे छुट्टियां एन्जॉय करने दो. मेरी चुत तो चुद कर ढीली हो गई थी मगर आशीष का लंड मेरी चुत में घुसने के लिए पूरे जोर पर था. मैंने उसकी गांड को खोला और उसकी गांड में लंड लगाने के लिए उसे कुतिया स्टाइल में आने को बोला.

किसी को भी फिल्म में हिरोईन बनना होता है तो वो कई लंडों के सामने चुत खोल कर ही चुदवाती हैं,बॉलीवुड सेक्सके बिना चलता ही नहीं है.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी हिंदी में: आउटडोर लाइट्स जल रही थीं, जिससे किचन के अन्दर का सारा नज़ारा साफ साफ दिखाई दे रहा था. मैं- सिर्फ एक बार भाभी, प्लीज!भाभी काफी सोचने के बाद बोली- चल ठीक है, परन्तु एक प्रामिस करना होगा कि यह बात हम दोनों के बीच रहनी चाहिए.

दो पल की शिथिलता के बाद अब वो भी नीचे से धक्के लगाने लगी और बोलने लगी- आह. मैंने उससे पूछा- ये क्या कर रहे हो?उसने फुसफुसा कर कहा- तुम्हें प्यार कर रहा हूँ. मेरे मुस्कुराने से उसे थोड़ी राहत हुई और उसने अपनी टांगें थोड़ी और चौड़ी कर दीं.

मेरे घर वालों से भाभी ने मुझ रात में सोने के लिए भेजने को बोला और खाना खाने के बाद मैंने और भाभी ने काफ़ी सेक्स किया.

इस वक्त बड़ा ही गरम माहौल बन गया था, जिससे भाभी फिर से चुदासी हो गईं. अभी भाभी की गांड में मेरे लंड का टोपा ही घुसा था कि पायल भाभी चिल्लाने लगीं- पंकज मेरी गांड फट जाएगी. धीरे से मेरे लंड को किस करते हुए कहा- आज रात मैं जैसे कहूँगी, वैसे ही करना, ओके.