हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर बताने वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी ओपन सेक्सी वीडियो: हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर, मेरा लंड उनकी चूत की फांकों को चीरता हुआ आधा अन्दर घुस गया।लंड का उनकी चूत में घुसना था कि आंटी बहुत ज़ोर से चिल्लाईं- मार डाला हरामी भोसड़ी वाले.

हिन्दी सेक्सी बिपी

’उसकी आँखों में पानी आ गया क्योंकि उसका छेद शायद बहुत छोटा था।मैं भी समझ गया कि ये पहली बार लंड ले रही है।फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए। अब धीरे से एक धक्का और मारा जिससे मेरा आधा लंड उसकी कमसिन बुर के अन्दर चला गया और वो दर्द के मारे तड़फे जा रही थी।मैं रुक कर उसकी एक चूची को ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा और दूसरी चूची को हाथ से दबाने लगा। कुछ पल में उसका थोड़ा दर्द कम हुआ. देवर भाभी की चुदाई की सेक्सी कहानीक्योंकि अब वो भी सेक्स करने के लिए तन-मन से तैयार हो चुकी थी।फिर क्या था.

जाके फ्रिज से पीने का पानी ले आ।दोनों एक-दूसरे से नंगे हो कर चिपक गए।मैं पानी ले कर आया, कबीर ने मेरे हाथ से ले कर कहा- जान. खलीफा सेक्सी वीडियो एचडीजहाँ वो सो रही थी।मैं उसकी गांड के पास जाकर बैठ गया और सोचने लगा कि इसे कैसे तैयार करूँ।मैंने देखा कि वो बड़े ही आराम से सोई हुई है।मैं उसके पूरे बदन को देख रहा था और देखते हुए ही मेरा एक हाथ उसकी गाण्ड को सहलाने लगा।जब मैंने देखा कि इस पर उसने कोई आपत्ति नहीं की.

तो जल्दी सो जाते हैं। उनकी इसी आदत की वजह से मैं उनसे खुश नहीं रहती हूँ।मैंने कहा- किस आदत से.हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर: बस मुझे उस पर थोड़ा एक्टिंग करना था।कार के ड्राईवर को वहीं गाड़ी में रहने दिया और मैं उन्हें लेकर घर आ गई। बच्चे तो अब तक स्कूल चले गए थे और देवर बस निकलने ही वाले थे।देवर के जाते-जाते मैंने उन्हें मिलवा दिया और कहा- ये लोग मुझे साथ शहर चलने को कह रही हैं।मेरे कहने के साथ ही वो दोनों मेरे देवर से विनती करने लगीं कि मुझे जाने दें.

लेकिन नहीं हो पा रही थी।मैंने उससे कहा- अपना हाथ मेरे कंधे पर डालो.कुछ नहीं होगा। अब मैंने उसके सूट को ऊपर सरका दिया और सीमा की गोल-गोल चूचियां उसकी ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा।सीमा को ये सब बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने अब सीमा की पीठ पर चुम्बन शुरू कर दिया.

सेक्सी कृष्णा - हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर

मेरे पूरे बदन में आग लगा दी उसने।कुछ मिनट बाद हम दोनों एक-दूसरे से अलग हुए.उम्म्ह… अहह… हय… याह… मन तो किया कि अभी पीछे से ही उसको चोद दूँ।सुमन ने बैगनी रंग का एकदम टाइट सूट पहना हुआ था, टाइट होने से सुमन का फिगर साफ़ दिख रहा था। सुमन ने बालों को भी खुला रखा था।दरवाजा लॉक करके वो पीछे मुड़ी तो मुझे देखने लगी और बोली- आपका देखना हो गया हो.

मैंने तुरंत उसे जाने से रोका और कहा- यहाँ हम सामूहिक चुदाई करने ही तो आए हैं. हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर ’ के साथ मेरी बेटी ने उससे हाथ मिलाया। उसने उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया और दूसरे हाथ से उसको मसलने लगा। मेघा फिर असहज हो रही थी.

मैं बिस्तर पर लेट गया और वो मेरा सर दबाने लगी।कुछ देर के बाद मैंने उसको बोला- मैं तुमसे एक बात कहना चाहता हूँ।उसने कहा- ठीक है बताईए.

हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर?

आज पहली बार इतने प्यारे मम्मे देख रहा हूँ।फिर भाभी मुस्करा दीं और कहने लगीं- अब मेरी ‘अच्छे से. ’ भरने लगी।वो मुझे लगातार किस किए जा रही थी, वो बहुत तेज़-तेज़ ‘आहें. ’ कहा और अपने काम में लग गया।मेरे दिमाग़ में चल रहा था कि क्या बात हो सकती है?जब मैं शाम को उनके घर गया.

मैंने नाइटी कमर तक कर दी और उनके दोनों पैरों के बीच में बैठ गया। फिर धीरे-धीरे उनकी जांघों पर हाथ फेरते-फेरते मैं उनकी को चूत को टच कर देता. कि मैं ठीक से झटके भी नहीं दे पा रहा था। गांड के छेद की कसावट से मेरे लंड में भी जलन सी हो रही थी।फिर मैंने सोचा कि अगर मैंने लंड बाहर निकाल लिया. ’ये कहते हुए सविता भाभी ने जीत का लौड़ा सहला दिया साथ ही जीत से कहा- और मुझे लगता है कि मैं जीत भी जाऊँगी।सविता भाभी के द्वारा लौड़ा सहलाए जाने से जीत कुमार एक बार फिर से गनगना गया।अभी खेल कुछ और करवट लेता कि तभी प्रतियोगिता की प्रबंधक आ गई।‘लड़कियों.

क्या आप अपना लंड मेरी चूचियों पर रगड़ेंगे?’ यह कहते हुए सविता ने सर की पैन्ट को खोल दिया और उनके लंड को चड्डी में बाहर खींच लिया।‘सर. वो शर्मा के चली गई।फिर हमारे आँखों ही आँखों में इशारे होते रहे।शाम को हलवाई ने कहा- भाईसाब एक बोरी मटर छीलनी है. तुम भी उसके सामने दूसरे से चुदवा कर उसे जला सकती हो।उसने कहा- तुम ठीक कहते हो।जब मैंने निशा को रोकने के लिए पकड़ा तो मुझे अहसास हुआ कि निशा ब्रा नहीं पहने है।निशा यहाँ जीन्स टी-शर्ट में आई थी। निशा दोनों लड़कियों से कम गोरी थी.

मैं मान गया।फिर हम डिस्को से बाहर आए तो शालिनी कहने लगी- आज मैं बहुत खुश हूँ. मैं अपनी पीठ के बल लेट गया। रोहित ने मेरी गांड के छेद में तेल लगाया और थोड़ा तेल खुद के लंड पर लगाया। फिर उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर रखा.

कुछ पल बाद वो नीचे बैठ गए और मेरी चुत पर किस किया, वे बोले- इसको तो मैं बहुत आराम से चोदूँगा.

’ हुई और फिर उसें एक पर्ची मुझे पकड़ाई।मैंने पूछा- क्या है ये?तो कहने लगी- खोल कर देख ले ना!मैंने खोल कर देखा तो उसमें उसका नंबर था। मैंने मार्केट से सामान लिया और अपने फ्लैट पर आ गया। फिर शाम को मैंने शालिनी को कॉल की।मैं- हैलो.

जो कि मेरे टाइप की लड़की पर बहुत फिट बैठता था। मैं एक सरकारी स्कूल में पढ़ती थी। मेरा स्कूल सरकारी होने की वजह से मेरी अच्छी पढ़ाई नहीं हो पाती थी. पर मैं हमेशा बस कुछ बहाना बना कर टाल देती या उनको दिलासा देती ‘मौका निकाल कर मिलूंगी।’फिर एक दिन उन्होंने मुझे एक उपाय बताया। शुरू में तो मुझे बड़ा अटपटा सा लगा. उनकी नजर मेरे खड़े लंड पर पड़ी। मेरा खड़ा लंड देख कर उनके होश उड़ गए। वैसे तो मेरा लंड ज्यादा मोटा नहीं है.

पर एक दिन उन्होंने मुझसे पूछा- देवर जी रोज आपके सपने में कौन आता है?मैंने पूछा- क्यों. पर उस दर्द में भी एक अलग आनन्द की अनुभूति हो रही थी।मेरी बुर में से पता नहीं. मैं उसकी राह देखने लगा कि वो किधर से आ रही है।हमारी नज़रें मिलीं और क्या बताऊँ क्या हसीन लग रही थी वो.

नेहा ने तौलिया ले लिया और अपना पेट पोंछने लगी।कबीर ने पूछा- क्या टाइम हुआ है?मैंने कहा- सर पौने ग्यारह हुआ है।उसने नेहा से पूछा- तुम्हें देर तो नहीं हो रही?नेहा बोली- नहीं साढ़े ग्यारह बजे तक घर पहुँचना है।उसने नेहा को अपने पास खींच लिया और चिपका लिया।नेहा ने धीरे से कबीर से पानी के लिए कहा।कबीर मुझसे बोला- जा बे.

क्योंकि हम सभी नए बॉस के बारे में सुन कर काफ़ी उदास से थे।शीला वहाँ से जाने लगी तो मैं उसके पीछे चला गया। जैसे ही वो ऑफिस के पीछे क्वॉर्टर्स की तरफ को जाने लगी। उधर सामने क्वॉर्टर्स के बाहर लेडीज बैठी थीं. उस कॉलेज में वो पढ़ाते थे।मैं उनसे हॉस्टल में रहने के लिए बोलने लगा. ये तेरी माँ की ड्रेस नहीं है जो तेरे लौड़े की रबड़ी अपने पहने हुए कपड़ों पर गिरवाएगी.

मैं मुस्कुरा दिया।मैडम मेरे पास आईं और बोलीं- क्या कभी किसी लड़की को किस किया है?मैंने कहा- हाँ किया है।बोलीं- किसे?मैंने कहा- जब मैं कॉलेज में था तब एक क्लासमेट को किस किया था।यह कहते वक्त मेरी नज़र मैडम के मम्मों पर थी, मेरा मन कर रहा था कि अभी इनके मम्मों को पकड़ कर सारा का सारा दूध पी लूँ।फिर मैडम ने पूछा- तुम ड्रिंक करते हो?मैंने कह दिया- हाँ करता हूँ।मैडम ने एक पैग बना कर दिया. हालांकि अगली चुदाईयों में उसने खूब मेरा लंड चूसा।अब हमारा चुदाई का समय आ गया था, रिया डर रही थी। मैं उसकी टांगें खोल कर बीच में आ गया और लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा।अब वो कहने लगी- जल्दी करो. तो मुझे देखने और मेरा हाल-चाल पूछने गाँव के काफी लोग आए।एक दिन दोपहर में माँ और भाई काम पर गए थे, दोनों बच्चे भी स्कूल गए थे, घर पर केवल भाभी थीं.

मैं भी झड़ने वाली हूँ।मैंने फुल स्पीड से उसकी चूत में उंगली डाल कर हिलाने लगा.

’मैंने भी कहा- ओके।कुछ देर बात कर करके उसने कॉल काट दी। अब अगले दिन मैं उसके बताए हुए पते पर गया और उसको देखा तो मेरा लंड खड़ा हो गया।इस लड़की ने मेरे लौड़े को परेशान कर दिया था. मेरा नाम लोकेश है, नोएडा में रहता हूँ। मैं अपनी सच्ची चुदाई की कहानी लिख रहा हूँ। ये आज से 6 महीने पुरानी बात है। जब मैं बी.

हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर पर माल जबरदस्त थी। वो बिल्कुल स्ट्राबेरी जैसी लाल थी।मैंने तभी ठान लिया कि मैं इसकी भी चुदाई करूँगा. मेरे बैग में क्रीम है उसको लगा लो।मैंने उसके बैग में से क्रीम की डिब्बी निकाल ली। उसकी चूत और अपने लंड पर थोड़ी सी क्रीम लगाई और फिर लौड़े को चूत में डाला तो लंड एकदम ‘सटाक’ से अन्दर चला गया।लंड के चूत में घुसते ही उसके मुँह से हल्की सी चीख निकली ‘आअहह.

हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर इस तरह मेरे दो सपने एक साथ सच हुए। एक किसी अजनबी को चोदने का सपना और दूसरा जिगोलो बनने का सपना पूरा हुआ।इसके बाद क्या हुआ. अब ठंडक भी हो गई थी और एसी की ठंडक भरपूर लग रही थी।अब मैं उसे चोदने के मूड में था.

आपको और भी मजा दिलाने का मेरा वादा पक्का है।मुझे ईमेल जरूर भेजिएगा और बस मेरे साथ सुहाना मैम की चुदाई का मजा लूटते रहिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।.

बंगाल बीएफ

जिससे कोई आ न पाए। फिर मैंने अपने कपड़े बदले और नाईट ड्रेस में बिस्तर पर बैठ कर शुभम का गिफ्ट खोलने लगी।तभी मेरे दरवाजे को किसी ने खटखटाया. तो चलें।मैंने मुस्कुराते हुए कहा- कुछ देखा ही कहाँ हैं अभी जी।तो सुमन बोली- अच्छा. क्योंकि वो शादीशुदा नहीं थी।शालू ही अकेली हम में सबसे कम उम्र की थी.

पर पता नहीं क्यों मुझे अच्छा लगा था।इतना ही बोलते ही वो मेरे गले से लग गई और मुझे किस करने लगी।मुझे भी कुछ समझ नहीं आ रहा था, पर फिर मैंने मन में कहा कि छोड़ो यार. तो कैसे मज़ा आएगा।फिर उसने हँसते हुए अपनी टाँगों को फैला दिया और कहा- आजा. जो फ्री में अपना कौमार्य मुझे सौंप कर चली गई।मुझे आपके मेल का इन्तजार रहेगा। मेरी मेल आईडी है।[emailprotected].

अब कुछ नहीं होगा।वो चुपचाप आँखें मूंद कर पड़ी थी।एक कहावत है चमड़ी से चमड़ी को घिसने में कोई दोष नहीं होता है।मैं भी तो वही कर रहा था। कुछ देर रुकने के बाद मैं धीरे से लंड को अन्दर-बाहर करने लगा और फिर धीरे-धीरे रफ़्तार बढ़ने लगी।‘उउम्म्म्मह.

’मेरी आवाज से उसे और जोश आया और उसने मेरी स्कर्ट को खोला और मुझे हल्का सा उठा कर मुझे उससे अलग कर दिया।अब मैं सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी।उसने भी अपने कपड़े उतारे और अगले ही पल वो सिर्फ नेकर में मेरे सामने खड़ा था. रात को भी खूब मजे लेंगे।मैं बोला- हाँ मेरी जान मगर रात को मैं तेरी गांड भी मारूँगा।‘हाँ. तुम जागे नहीं तो मैंने सोचा जगा दूँ।मैंने बोला- वो कल रात को अच्छी नींद आई.

तो कुछ शुरू नहीं होगा।मैंने अपने एक फ्रेंड को मिस कॉल मारी, उसका कॉल आया तो मैं फ़ोन उठा कर बात करते-करते बोला- अरे यार, मैं अभी आता हूँ।मैं डॉक्टर साहब और नेहा को बोला- मुझे थोड़ी देर का काम है. ’ कहते हुए मैंने भावना की चूत की ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी।वो ‘गूं गूं गूं. पर मैं उसकी मूक सहमति को समझ गया।मैंने धीरे से उसके होंठ पर उंगली घुमाई और फ़िर उसके एक मम्मे को दबाने लगा।मैंने उसके होंठों को अपने होंठ से मिला दिया उसे किस करने लगा। धीरे-धीरे मैंने उसका नाइट सूट उतार दिया, अब वो मेरे सामने सफ़ेद रंग की ब्रा और लोअर में थी।मैंने वो भी उतार दिया.

तो कुछ शुरू नहीं होगा।मैंने अपने एक फ्रेंड को मिस कॉल मारी, उसका कॉल आया तो मैं फ़ोन उठा कर बात करते-करते बोला- अरे यार, मैं अभी आता हूँ।मैं डॉक्टर साहब और नेहा को बोला- मुझे थोड़ी देर का काम है. एक घुसने का और एक बाल्कनी में जाने का। मैंने बाल्कनी वाला बंद कर दिया था.

आपने मेरी बात का जवाब नहीं दिया।पूजा बोली- अरे अन्दर तो आओ।मैं चुपचाप अन्दर आ गया।उसने दरवाजा बंद किया और बोली- लो तुम्हारी बात का जबाब देती हूँ. अगर ऐसे सेवा करोगे तो हम रोज-रोज आने लग जाएंगे।तो उसने कहा- अभी तो आपने हमारी सेवा देखी ही कहाँ है।इतना कह कर वो हँसने लगी।बस ऐसे ही हँसी-मज़ाक चल रहा था। सभी ने खाना खाया और मैं खाना खाने के बाद छत पर टहलने चला गया। कुछ देर बाद छत पर पूजा भी आ गई और उसके साथ भैया के साले और पड़ोस की सहेलियां आई थीं। हम सब मिलकर बातें करने लगे।रात को 9 बजने वाले थे. पर मेरा पूरा लंड उनकी चूत में चला गया।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं धीरे-धीरे लंड अन्दर-बाहर करने लगा, मेम मुझे कुछ ज्यादा ही खुश दिख रही थीं, वो मजे के साथ ही मुझसे कह रही थीं- ओहह.

तो कभी जोरों से झटके देता। इस तरह ऊपर से उनके झटके और नीचे से मेरे झटकों से हम दोनों को बड़ा मज़ा आ रहा था।इस दौरान मेरे हाथ भी खाली नहीं पड़े थे, वो कभी उनके कूल्हों पर फिरते.

तो कभी दीवार के सहारे टिक कर पेलम-पाली होने लगती। कभी खड़े-खड़े चूत को रगड़ देता. पर कोई नहीं।इतने में सुमन आई और चाय जैसे ही मुझे देने लगी।मैंने उसके हाथ को पकड़ कर सहला दिया. मैं इधर इस सीट पर ठीक हूँ।यह कहते हुए आंटी ने मेरी तरफ मुस्कुराते हुए देखा और मुझसे पूछा- अनमोल.

मैं अभी आया।मैं मेडिकल स्टोर पर गया और कुछ टेबलेट ले आया, दो टेबलेट बच्चा ना होने की थीं। दो गोलियां दर्द की थीं और एक रात के लिए कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए थी। मैंने रात को उसकी गांड भी मारी और बुर भी ठोकी, उसने भी पूरा मजा लिया।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी सेक्सी बहन की कहानी. कुछ माल रिया के मम्मों पर भी गिर गया। अमन का लंड लगातार वीर्य की बारिश उसके नाक, मुँह और मम्मों पर कर रहा था और रिया उसपर तेज-तेज हाथ चला रहा थी। जब हम दोनों के लौड़े खाली हो गए तो रिया उठी और हम दोनों के लंडों को चाट कर साफ़ करने लगी।वो लंड चूसते हुए मस्त होकर बोल रही थी- वाओ.

मेरा नाम ऋषि है, मैं छत्तीसगढ़ के एक छोटे से गाँव से हूँ।आप सोच रहे होंगे कि यह कैसा शीर्षक है कहानी का‘लण्ड कट जाएगा. पर कबीर रुकने का नाम नहीं ले रहा था।उसने थोड़ी देर बाद अपना लण्ड उसकी चूत से खींचा और लंड की पूरी पिचकारी नेहा के पेट पर छोड़ दी।दोनों बुरी तरह से चुदाई का समापन करते हुए झड़ गए थे। अब वे दोनों नंगे एक-दूसरे से चिपटे हुए लेटे हुए थे।नेहा कबीर के सीने के बाल सहला रही थी. बस पनीर टिक्का खाया और आ गई।फिर दीदी ने दुपट्टा उतार दिया। मेरी नज़र उनके तने हुए मम्मों पर चली गई। उस टाइम दीदी क्या हॉट लग रही थीं क्या बताऊँ।दीदी ने मेरी नजरों को इग्नोर करते हुए कहा- इमरान बाहर चला जा.

बीएफ चुदाई वाला सेक्सी

पर अब तो मैं पागल हो रहा था।मैंने कहा- मौसी बस एक बार पानी निकाल लेने दो।वो बोलीं- तुम पागल हो गए हो।मैंने उनकी एक नहीं सुनी और अपना पानी मौसी के सामने निकाल दिया।मेरा लंड अब भी एकदम कड़क था, मौसी की नज़र मेरे लंड से हट भी नहीं रही थी।मैंने कहा- मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ.

’ करने लगी।मैंने उसको उठाया और खड़ा करके उसके एक पैर को उस चारपाई पर रखकर चोदने लगा। वो मुझे अपनी बांहों में लेकर खुद भी झटके मारने लगी। कुछ समय खड़े-खड़े चुदाई करने के बाद में लेट गया और उसको अपने ऊपर आने को कहा।वो अब मेरे लंड पर बैठकर ऊपर-नीचे होने लगी, ‘आईईईई. मुझे अभी वापस ऑफिस में रिपोर्ट भी करना है।भाभी बोली- रिपोर्ट तो होती ही रहेगी. मुझसे कोई ग़लती हो जाए तो प्लीज़ माफ़ कर देना।आज से करीब 2 साल पहले की बात है। मेरा एक दोस्त था संजू.

’ भरने लगी।वो मुझे लगातार किस किए जा रही थी, वो बहुत तेज़-तेज़ ‘आहें. गुलाबी पेंटी के अन्दर गीली हो चली चूत उसकी चुदास को बयान कर रही थी।ओह माय गॉड. सेक्सी वाली वीडियो चुदाईये कहते हुए कबीर ने नेहा की ब्रा खोल दी और उसकी चूचियां मसलने लगा। कबीरे उत्तेजना में नेहा के निप्पल चूसने लगा और उसने एक निप्पल को धीरे से काट लिया।नेहा दर्द से चीखी- दर्द होता है कबीर.

उसमें ग़लती से हॉलीवुड मूवी वाला चैनल लग गया और उस पिक्चर में वही सीन चल रहा था. तो कुछ देर बाद मैंने अपना वही हाथ उठाकर उसके कंधे में ऐसे रखा कि मेरी हथेली उसके बड़े स्तन के पास लटकने लगे।बस उसकी थोड़ी सी हरकत होने से अब मेरी पूरी हथेली उसके चूचे को पूरी तरह से ढके हुई थी। मेरा हाथ उसके स्तन में होने के बाद भी वो कुछ नहीं कह रही थी.

तो हम दोनों का एक दूसरे के घर आना जाना लगा रहता था।एक बार मैं उसके घर दो दिन रुकने के लिए गया हुआ था। शाम को वो और मैं बैडमिन्टन खेल रहे थे. इन्हें चूसने में बहुत मजा आएगा।फिर ये मेरे मम्मों को चूसेगा और मुझे गर्म होकर इसके लंड को भी सहलाना पड़ेगा।‘आह्ह. मुझे जाना होगा।भाभी अपनी गांड हिलाती हुई चली गईं और फिर मैं बाथरूम में जाकर मुठ मारने लगा। मैंने मुठ मारते समय बाथरूम में देखा किभाभी की ब्रा-पेंटी पड़े थे। मैंने भाभी की ब्रा को हाथ में लेकर तबियत से मुठ मारी और अपना सारा माल ब्रा में गिरा दिया।कुछ देर भाभी को याद करता हुआ मैं अपने लंड को सहलाता रहा.

मैं चूसता भी बहुत अच्छा हूँ।दीदी ने अपनी टी-शर्ट निकाल दी।हाय क्या मस्त चूचे थे. लेकिन बस वाले ने मना कर दिया। तब वो रोते हुए अपना बैग लेकर जाने लगी। इधर बस स्टार्ट होकर जाने के लिए हॉर्न मार रही थी।तभी मैंने हिम्मत करके उससे बोला- मेरे पास एक बर्थ फालतू है. उसके सर पर हाथ फेरा तो वह मान गया, उसने टांगें चौड़ा लीं, वो मुस्कुराया.

’ मेरा लंड चूसने लगी।मैं बाथरूम में लेट गया और एक उंगली उसकी चूत में डालने लगा.

’ सुहाना दर्द सहते हुए मेरा लंड अपनी गांड में ले रही थी।कुछ ही देर में मेरा पूरा लंड सुहाना की गांड के अन्दर था।दोस्तो। गांड मारने का पहला नियम ही है कि गांड को पहले आराम दो और जब लंड अपनी जगह बना ले. कि तुझे अपनी दुल्हन बना लूँ।उसने शर्म से आँखें झुका लीं और बोली- चलें।मैंने कहा- बैठ जाओ।आज वो अपने पैर दोनों तरफ करके बैठी थी और उसके चूचे मेरे पीछे चिपके हुए थे। मैं पागल हो रहा था.

जो उनकी गर्म बुर से आ रही थी। सिल्क की चड्डी की दीवार भी सुहाना मैम की बुर की भीनी खुशबू को रोक नहीं पाई।मैंने कहा- मैम आप तो बहुत ही सेक्सी हो।वो हँस कर बोलीं- मैं इस वक्त मैम नहीं हूँ सिर्फ सुहाना बोलो. वो चिहुंक उठी, पर रहेजा पूरा ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा।पूरा एरिया सन्नाटे में ‘फ़च. इसीलिए तो उस रोज के बाद मैं आपको बाल्कनी से देखता था।उन्होंने कहा- कल मेरे घरवाले शादी के लिए ग्वालियर जा रहे हैं.

कॉम के फर्स्ट इयर में था। उस टाइम मैंने अपने दोस्तों के साथ हमारे कॉलेज के पास ही एक रूम ले लिया था। इस कमरे में हम 2 दोस्त रहते थे, हमारे बगल वाला रूम खाली था।एक दिन उसमें एक परिवार रहने आया। उस परिवार में एक अंकल थे और उनकी वाइफ थीं. फिर बताती हूँ।मेरी बीवी मेरी पूरी तरह लेने पर आ गई थी, वो बोली- चल अब मुझको थोड़ी देर आराम करने दे. एंड माइक्रो मिनी स्कर्ट। इन दो चीज़ के अलावा और कुछ नहीं पहनोगी।प्रिया- लेकिन सर मैं इन कपड़ों में ऑफिस में कैसे काम करूँगी?राहुल- मेरी ऑफिस में 5 लड़कियां और यह जॉब इसी कपड़ों में कर रही हैं। लेकिन उन लोगों के लिए अलग ऑफिस है.

हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर तो उसे भी मजा आने लगा था। ऐसे ही हम पांच मिनट तक किस करते रहे।फिर उसने मुझे रोका और बोला- कोई आ जाएगा।मैंने उसे समझाया- कोई नहीं आएगा. जब अकेली रहूंगी तो तुम्हारी बैटिंग देख लिया करूँगी।अब वे दोनों लिपटने-चिपटने लगे, डॉक्टर सचिन ने नेहा की बेबी डॉल में हाथ डाल दिया और उसकी चूचियाँ मसलने लगे।नेहा बोली- ऊईई… हौले से दबाओ न जान!मगर डॉक्टर साहब अन्दर हाथ डाल के उसकी चूचियां जोरों से मसले जा रहे थे और उसे किस किए जा रहे थे।तभी शायद उन्होंने शायद निप्पल मसले तो नेहा सिसिया कर बोली- उउई.

एक्स एक्स एक्स देशी

जो मैंने उसे गिफ्ट की थी।मैंने पैन्टी देखते ही कहा- वाह, मेरी डार्लिंग. मैं भी तुमसे मिलने को बहुत तड़प रही हूँ।मैं- तड़प तो मैं भी रहा हूँ।रिया- तो आ जाओ मेरे पास. तब मैं होश में आया, मैंने देखा कि मेरे पीछे एक गोरा खड़ा था, वो अंग्रेजी में बोला- हैलो भाई, क्या मेरी मदद करोगे?वैसे मुझे ज्यादा अंग्रेजी नहीं आती है.

’ सुहाना दर्द सहते हुए मेरा लंड अपनी गांड में ले रही थी।कुछ ही देर में मेरा पूरा लंड सुहाना की गांड के अन्दर था।दोस्तो। गांड मारने का पहला नियम ही है कि गांड को पहले आराम दो और जब लंड अपनी जगह बना ले. पर बाद में ख़याल आया कि इतनी जल्दी किसी पर भरोसा नहीं करना चाहिए।वो करीब 50-60 कदम ही चली होगी कि शायद उसका मोबाइल मिल गया मुझे ऐसा लग रहा था. इंग्लिश ब्लू फिल्म सेक्सी पिक्चरपर वो नहीं मानी। तब मैंने तुरंत जा कर अपनी देवरानी को बताया- मुझसे मिलने मेरी दो सहेलियां आ रही हैं। हो सकता है कि मैं उनके साथ थोड़ा घूमने और बाज़ार करने शहर जाऊं.

तो मैं धीरे से मेरे कमरे से निकल कर चुपचाप शीला के क्वॉर्टर के पास पहुँच बाहर का कुंडी वाला गेट धीरे से खोलकर चोरों की तरह अन्दर दाखिल हुआ और अन्दर उसके कमरे के दरवाजे को धक्का दिया तो वो बंद था।मुझको झटका लगा.

पर अपने सामने झूल रहे गधे छाप लंड को चाटने चूसने का लालच न छोड़ पाई और बस काली चरण का लंड भावना के मुँह से चुसाई का आनन्द प्राप्त करने लगा।उधर निशा टेबल पर चढ़ कर अपने भारी चिकने उरोजों को सहला रही थी। फिर उसने दोनों हाथों के दो-दो उंगलियों से अपने दोनों उरोजों के निप्पल को रगड़ना चालू किया और साथ ही ‘हिस्स्स. पता ही नहीं चला।इस बीच प्रिया से पूछने पर पता चला कि प्रिया इतनी देर में 4 बार झड़ चुकी थी। प्रिया के चेहरे से ख़ुशी साफ़ दिख रही थी, वो बोली- थैंक यू आर्यन.

मैं अब पीछे से अपना लोहे जैसा कड़क लंबा लंड तेरी चूत में पेलूँगा।’सोनल रानी का ज़वाब तो बिल्कुल निराशाजनक था ‘मैं दो बार झड़ चुकी हूँ. पर रूखे थे।अब हम तीनों नंगे थे।आंटी बिस्तर पर लेट गईं और मैं उनके ऊपर आ गया। मेरा लंड आंटी के बदन से रगड़ रहा था. ’कोई 7-8 मिनट की चुदाई के बाद मैं बोला- मैं झड़ने वाली हूँ।तब राहुल ने कहा- एक मिनट रुको.

तो शुभम ने मुझे छेड़ते हुए कहा- आरू कल रात में तुम कहाँ खो गई थीं?उसने मेरा हाथ दबाया.

मैं और बर्दाश्त नहीं कर सकती हूँ।यह सुन कर मैंने भाभी की चूत को चाटना बंद किया और अपने लंड को एक हाथ से पकड़ कर मैंने भाभी की चूत के ऊपर रख दिया।भाभी की चूत में एक झटका देते ही लंड अन्दर घुस गया ‘आह ह्ह्ह्हह. एकदम चिकनी और फूली हुई थी।मैं उसके दोनों पैर फैला कर उसकी चूत को चाटने लगा ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ सच में यार क्या मस्त चूत थी उसकी!वो अपनी गांड उठा-उठा कर अपनी चूत को मेरे मुँह पर दबाने लगी, जल्दी ही उसका पानी गिर गया। मैंने उसकी बुर को चाट चाट कर पूरा पानी पी गया।फिर उसने मेरे लंड को पकड़ा तो चौंक गई और बोली- ओह्ह. पर जो भी कह रही थीं बड़ा मादक था।करीब 5 मिनट की चुसाई में आंटी अकड़ने लगीं, वो बोलीं- समर जल्दी जल्दी चूस.

सेक्सी विडीयो नंगीलेकिन वो तो बहुत जल्द ही लौट आई और उसने मुझे खुशखबरी दी कि उसके स्कूल के पास ही उसकी एक सहेली जो फ़िलहाल अकेली ही है घर पे. पर वे लोग मुझे रोज जोर देने लगे। कभी कभी उनकी मादक इच्छाओं को देख मेरा भी मन होने लगता.

बीपी ब्लू पिक्चर भेजो

तो उसके बड़े-बड़े मम्मों को उछलते देख कर मेरा लंड तो एकदम से टन टन करने लगा। उसके मम्मों की उछल-कूद देख कर पता नहीं. मुझे पता ही नहीं चला।करीब 8 बजे बेल बजी, मेरी तो आँखें ही नहीं खुल रही थीं, मैंने दरवाजा खोला तो प्रीत भाभी खड़ी थीं. उम्म्ह… अहह… हय… याह…’अब मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए और उसको नीचे बैठा कर अपना लंबा और मोटा लंड उसके मुँह में दे दिया।वो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे लॉलीपॉप हो।कुछ देर की चुसाई के बाद मैंने उसे एक बैंच पर लिटा कर अपना लंड उसकी चूत पर रखा और हल्के से अन्दर डाला तो उसके मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज़ निकली।वो दर्द से तड़फ कर बोली- थोड़ा धीरे.

वो बार-बार घड़ी की सुई की तरह तन रहा था और योनि में घुसने को ललचा रहा था। रमा के मोटे चूतड़ योनि चटवाते समय जिस तरह घूम रहे थे उससे मुझे भी इस बात की लालसा हो रही थी कि जब वो मेरे मित्र के लिंग के ऊपर चढ़ाई करेंगी. वो रुआंसी हो गई।मैं उसकी गांड को सहलाने लगा और उन पर थप्पड़ मारने लगा। उसे इतना दर्द हो रहा था कि थप्पड़ पर उसे कोई असर नहीं हो रहा था, उसकी गांड मेरे थप्पड़ों से लाल हो गई थी।थोड़ी देर बाद जब कोई हरकत नहीं हुई तो मेरे तीसरे और जोरदार झटके के साथ मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत को फाड़ता हुआ घुस गया।वो दर्द से रो रही थी. मुझे तुम्हारी चूत और गांड मार कर बहुत मज़ा आया।उसने भी मुझसे कहा- मुझे भी आपसे चूत और गांड मरवा कर बहुत अच्छा लगा।हम सभी सामान्य हुए और घड़ी पर टाइम देखा तो रात का एक बजने वाला था। हमने सोने की तैयारी की.

लहू से माथे की नसें फटने को हो आईं।वो लंड को कसकर चेपकर खड़ा रहा।कुछ देर झटके लगते रहे. आंटी के घर पर एक नौकरानी सुषमा एक ग़दर माल थी उसको मैंने पटा लिया था।अब आगे. नहीं तो मैं झड़ जाऊँगा।तो उन्होंने और जोरों से मेरे लंड को मुँह में ले लिया। अब वो आँख बन्द किये हुए मेरे लंड को चूमने-चुभालने और चचोरने लगीं।कुछ ही देर में मेरा काम-तमाम हो गया और मैंने उनके मुँह में एक धार छोड़ दी। उन्होंने भी उसे बड़े चाव के साथ पूरा अपने मुँह में ले लिया। जब तक मेरे लंड से आखिरी बूँद न निकल गई.

क्योंकि मुझे लगा वो मुझे देखेगी तो भाग जाएगी। इसीलिए मैं छुप रहा था. मैंने अपने दोस्त के नंबर पर फोन किया है, ये आपको कैसे लग गया?उसने मुझे पहचान लिया.

मुझे अपना बना लो डियर जीजा जी!यह कहकर उसने अपने होंठ मेरे होंठों के सामने कर दिए। अब हम दोनों की गरम साँसें एक-दूसरे की सांसों में मिल रही थीं। उसकी आँखें बंद थीं.

जिससे उसे पता लग गया कि मेरा दर्द कम हो गया है और मैं आगे के लिए तैयार हूँ।इसके बाद उसने लंड को अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया और कभी मेरे दूध को दबाता. भोजपुरी में हिंदी सेक्सी वीडियोइस सालों की मरवा दो आज।ये कह कर हम दोनों अमन और नीलू के पास चले गए। मैंने प्रिया को इशारा किया तो प्रिया ने पीछे से नीलू की गांड को हाथ से ऊपर उठा दिया और नीलू पीछे मुड़ कर देखने लगी।तो मैंने कहा- अरे कुछ नहीं. सेक्सी वीडियो साड़ी वाला देसीलाल चटख होंठ थे। वो भी क़यामत से कम नहीं थी।उसके ऐसे चाल-चलन से उसका पति नाराज था. इतनी जल्दी भी क्या है?मैंने कहा- मेरे लंड को कौन शांत करेगा।स्वीटी मैडम मेरे लंड महाराज को पैंट ऊपर से ही सहलाने लगी.

भाभी मज़ा आ गया।’ मैंने उनके पेट और कमर पर चूम लिया।सरला भाभी मस्ती में सिसिया गईं- ‘हाय राजा.

तो वो और ज्यादा एग्ज़ाइटेड हो गईं और उन्होंने अपना एक हाथ मेरे लंड पर रख दिया।उनके हाथ का स्पर्श पाते ही मेरी पूरी बॉडी में एक सिहरन सी होने लगी। मैंने मैडम को अपनी तरफ़ खींच लिया और उनके चूतड़ों को पकड़ कर दबाने लगा।धीरे-धीरे मैडम बहुत हॉट हो गईं, फिर मैंने मैडम की नाइटी उतार दी और उनको बिस्तर पर लिटा दिया, मैडम अब सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में थीं. मैंने अपने लंड को कपड़ों के ऊपर से से ही उसकी गांड में सटा दिया और अब मेरे लंड का एहसास सीमा को अपनी गांड पर हो रहा था।उसने धीरे से कहा- विवेक ये तो बहुत बड़ा है और मोटा भी है।मैंने कहा- घबराओ मत. ’एक के बाद एक प्रतियोगियों ने अपनी जवानी के जलवे बिखेरे और पुनः सविता भाभी के आने की घोषणा हुई।‘और एक बार फिर सौन्दर्य मूर्ति सविता.

वह काम जल्दी होने वाला है। मेरे मन गुदगुदी हो रही थी कि कब मैं उससे अकेले में कुछ कहूँ।एक दिन मैं उससे उसी जगह पर शाम को अकेले में मिल ही गया और मैंने मौका पाकर उससे कहा- क्या तुम रात को नौ बजे इसी जगह पर आओगी?लेकिन वह कुछ बोली नहीं और मेरे हाथ को हल्के से छूकर चली गई। मुझे समझ में नहीं आया कि यह क्या था. ’ कर रहे थे।डॉक्टर सचिन बोले- बेगम आओ।अब उन्होंने बिस्तर से नेहा को उतार दिया और उसको बिस्तर पर घोड़ी बना कर झुका दिया। इसके बाद पीछे से डॉक्टर साहब ने नेहा की चूत में लंड डाल कर धक्के मारने शुरू कर दिए।उसकी नीचे चूचियां लटक रही थीं। डॉक्टर साहब नेहा की मस्त चूचियों को हाथ से मसलने लगे और निप्पलों को निचोड़ने लगे।नेहा बोली- आह्ह. और क्या मस्त माल लग रही थीं।दोस्तो, मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी क्योंकि मैं हमेशा स्टडी को लेकर व्यस्त रहा। ग्रेजुएशन करने के बाद मैं कनाडा चला गया था.

बिहार का ब्लू पिक्चर सेक्सी

अब आप बताना आप सभी को मेरी कहानी कैसी लगी।आप सभी दोस्तों की ईमेल का इंतज़ार रहेगा। आप बताते रहना कि मेरी कहानियाँ आपको कैसी लग रही हैं। ख़ास करके मेरी ये कहानियाँ फीमेल्स को कैसी लगती हैं. क्योंकि कोई भी ऊपर आ सकता था।फिर भी मैंने पूजा के होंठों पर होंठ रख कर किस कर लिया। पूजा ने मुझे कस कर पकड़ लिया और लंबी सिसकारी लेकर मुझे धकेल कर भाग गई।मेरा लंड पैन्ट फाड़ने जैसा हो गया।इससे पहले मेरा कोई चुदाई का अनुभव नहीं था. तो वो मुझसे कहने लगीं- तुम ये क्या देख रहे हो?मैंने कहा- मूवी है।वो बोलीं- यही सब देखते हो?मैंने भी ढीठता से कहा- हाँ।भाभी हँसते हुए यह कहकर चली गईं- मतलब बड़े हो गए हो।मैं सोचने लगा कि भाभी ने कुछ कहा ही नहीं.

पर जैसे बाइक की स्पीड ज़्यादा होती गई, मुझे उनके पास कंधा पकड़ने आना पड़ा।अब मेरी चूचियां उनको टच हो रही थीं.

अन्दर तुम मेरी मदद कर देना।वो मेरा हाथ पकड़ कर अन्दर ले गईं। अन्दर सेल्स गर्ल थी.

!मेरा हाथ पकड़ अपनी ओर खींच कर मुझे अपनी बांहों में भींचकर सरोज बोल उठी- ना. पर रुक नहीं रहे थे, वे पूरी जोरदारी से लंड की चोट पर चोटें दिए जा रहे, उन्हें बहुत जोश आ गया था।शशि ने कहा- सर बहुत देर हो गई. खेसारी लाल का सेक्सी वीडियो गानामैं उन्हें लगातार चूस रहा था, वो मेरी बाहों में मचल रही थी।अब मैं उसके होंठों से होकर उसको गालों को चूमने लगा, उसके कानों की लौ को चूसने लगा।वो पूरी तरह मस्त हो चुकी थी।इसी दौरान मैंने उसका टॉप उतार दिया। आह.

पैसे जो दिए थे।उस रात मैंने उसे चार बार चोदा और सुबह उसे कोठे पर छोड़ कर घर आ गया।तो दोस्तो. और मुझे लंड बाहर निकालने को बोलने लगा, मैंने उससे कहा- बस शुरू में दर्द होगा।पर वो नहीं माना और मुझे लंड निकालना पड़ा।उसने बोला- हम अब ये कभी नहीं करेंगे।मैंने कहा- नहीं. मुझे समझ में ही नहीं आता था। भाभी को देख कर मेरा तो मन खराब हो गया। जब मैंने भाभी को देखा तो उनकी बड़ी-बड़ी चूचियों को देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।भईया ने मुझे नजदीक बुलाया और बोला- ये तेरी भाभी है।मैं उन्हें देख कर हाथ जोड़े।फिर पापा ने कहा- जाओ तुम दोनों फ्रेश हो जाओ.

तुम जागे नहीं तो मैंने सोचा जगा दूँ।मैंने बोला- वो कल रात को अच्छी नींद आई. आपको मेरा नम्बर कहाँ से मिला?वो- आपके भैया से लिया था।तो मैंने भी मज़ाक से कहा- कैसी हो भाभी जी।वो ‘भाभी जी.

’मैंने उसके होंठों पर चूम लिया। रिया ने कोई एतराज़ नहीं किया, वो भी साथ दे रही थी।मैं उसके दिल की बात समझ गया कि वो भी प्यार का मज़ा लेना चाहती है।‘बस सर अभी रुक जाएं.

पर हम लोग आपस में गलत तरीके का मजाक नहीं करते थे। हम लोग इतना तो जानते ही थे कि यह स्कूल है घर या पार्क नहीं है इसलिए मर्यादा को बना कर ही बातचीत करनी है।बस धीरे-धीरे वक़्त बीतता गया और हम लोगों में मोबाइल और इन्टनेट पर हँसी-मजाक और सेक्सी बातें होना भी शुरू हो गई थीं। वो मेरे साथ खुल कर सेक्सी बातें करने लगी थी।इस तरह दस महीने बीत गए। कुछ समय बाद जो मैडम विवाहित थीं. उन दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहने। नेहा ने अपने बाल वगैरह सही किए और बिल्कुल ऐसे बन गई. नहीं तो तू सोचेगी कि कैसा हरामी मालिक मिला है।अपने ऑफिस में एक दूसरी लड़की को राहुल ने बुलाया।थोड़ी देर में एक सेक्सी लड़की ब्रा और स्कर्ट में अन्दर आई। उसका नाम रीना है।राहुल- रीना.

बंगाली सेक्सी व्हिडिओज तो नेहा ही उनके पास होती थी।एक दिन रात में वो डॉक्टर सचिन की तारीफ करने लगी कि वो बहुत ही सिंपल हैं और सीधे हैं. लेकिन मैंने उसको इग्नोर किया और लगातार धक्के देता रहा।कुछ धक्कों के बाद वो फिर से जोश में आ गई और मेरा साथ देने लगी। पूरे कमरे में चूत रस में लंड की ठोकरें लगने के कारण ‘फच्च.

इसलिए मैंने एक बिना गले का टाइट टॉप पहना और स्कर्ट जो कि मेरा घुटनों तक का ही था. कर रहा था।कबीर ने अन्दर से दरवाजा बंद कर दिया मैं दरवाजे के पास जाकर खड़ा हो गया और उनकी बातें सुनने लगा।नेहा कबीर से बोली- ये क्या है यार?कबीर बोला- क्या. मैं करीब 9 बजे उसके घर पर पहुँचा, हमने खाना खाया और हम थोड़ी देर पिक्चर देखी।रात के करीब 12 बज गए थे।सुनीता- संदीप तुम मेरे कुछ अच्छे से फोटो निकाल दो।मैंने अपना DSLR कैमरा निकला और उनकी फोटो निकालने की तैयारी करने लगा।सुनीता- तुम रुको.

नंगी पिसातुरे

फिर फुसफुस से तुम्हारी मालिश करवाया करूँगी।नेहा हँसने लग गई।अब वो दोनों बाहर डाइनिंग टेबल पर नाश्ता करने आ गए।नाश्ता करने के बाद मैंने नेहा से कहा- मुझको कुछ काम है, मैं थोड़ी देर में आता हूँ।नेहा बोली- तुमको कहाँ जाना है. मैं बोला- कहाँ चलेंगे?वो बोला- मेरे दोस्त के फ्लैट पर चलते हैं।मैं बोला- और वो दोस्त?वो बोला- मेरा दोस्त बाहर गया है, एक महीने बाद आएगा।हम दोनों उस फ्लैट पर गए. वो इतना संतुष्ट था कि जैसे जन्नत को आंखों के सामने देख रहा था।कहानी पसंद आई? तो जल्दी रिप्लाई करो न.

मैं उसके तराशे हुए जिस्म पर अपनी उंगलियां चलाने लगा था। मेरे हल्के से प्रयास से ही लंड अन्दर जाने लगा था। वो अधमरी सी हो गई थी।तभी मैंने एक और धक्का मार के पूरा लंड घुसेड़ दिया, उसकी आँखों से आंसू बहने लगे।मैं वाइल्ड सेक्स चाहता था, मैंने उसकी चूचियां मसलनी शुरू कर दीं और झटके से लंड खींच कर निकाल लिया।वो चीखने लगी. तब मेरी नजर वहाँ से हटी।मैंने उनकी चूचियों पर से नजर हटाए बिना ही पूरा पानी का गिलास खाली कर दिया।मैं इतना उत्तेजित था कि मैंने उनको बोला- प्यास नहीं बुझी.

तो वे हँस देते, कोई मेरे गाल चूम लेता, मैं किसी के चूतड़ मसक देता तो वे इसे लाइटली लेते।उनमें से एक लड़का था, शशि वह भी माशूक था.

अब मैं उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को जोर-जोर से सहला रहा था, प्रीत पूरे मजे में ‘आह्ह. मैंने मालिश करते हुए उससे पूछा- कल रात की चुदाई कैसी रही?नेहा बोली- तुम चादर के अन्दर से देख तो रहे थे।मैंने कहा- मुझको क्या मालूम?वो बोली- तुम्हें सब मालूम है, तुम्हारी जो चादर है न. !वो बोला- हाँ।बस मैंने खाना खाया और मॉम की शादी का लहंगा-चुनरी पहन लिया।मेरे भाई ने शेरवानी पहनी और हम दोनों बेडरूम में आ गए।रचित ने मुझे बिस्तर पर लिटाया और मेरे ऊपर लेट कर किस करने लगा।मुझे मज़ा आ रहा था, मैं बोली- तुमने किसी और के साथ भी किया है?रचित बोला- हाँ, गर्लफ्रेंड के साथ बहुत बार किया है।मैं उसकी तरफ हैरानी से देखने लगी।वो बोला- और तूने?मैं बोली- नहीं।वो बोला- अच्छा.

जैसे ये चूत सिर्फ मेरे लिए ही बनाई गई हो।वो एहसास मैं कभी नहीं भूल सकता।मेरा लंड पूरी मस्ती में था और मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे कोई मेरे लंड पर गुदगुदी कर रहा हो।मुझे बहुत मजा आ रहा था।मैं दीदी के दोनों मम्मों को हाथों में पकड़ रखे थे और ज़ोर-ज़ोर से दबा रहा था।साथ ही मैं दीदी को ज़ोर से किस किए जा रहा था।दीदी भी मेरा साथ ऐसे दे रही थीं. मेरी कहानी कैसे लगी मुझे मेल से अपने कमेंट ज़रूर करें।कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कमेंट्स में भी ज़रूर लिखें, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सकें।[emailprotected]. वो एकदम से बेबाक और बेशर्म हो गई थी। उसने अपनी टी-शर्ट उतार कर सनत के मुँह पर दे मारी।अरे तेरी.

उसने इंकार भी नहीं किया।फिर हम अपने घर आ गए, पूरे रास्ते मैं ब्रेक लगाता रहा और इससे मुझे उसकी चूत का स्पर्श मिल जाता क्योंकि वो दोनों तरफ टांगें डाल कर बैठी थी।मैं इस बात ही संतुष्ट था कि आखिर एक बार बात तो हुई और अब तो उसका मोबाइल नंबर भी मेरे पास था।फिर मैंने उसी रात को पूजा को मैसेज किया.

हिंदी बीएफ वीडियो सेक्सी पिक्चर: ?दरअसल वो कपड़े सिर्फ शॉर्ट्स पैंटी और ब्रा जैसी टी-शर्ट नुमा थे। फिर वो मुस्कुरा दी और चेंज करने अन्दर चली गई। कुछ पलों बाद जब वो बाहर आई तो कमाल की आइटम दिख रह थी. पर मैंने बटन खोल कर ज़ोर से पैंट नीचे खींच दी।अब वो थोड़ा शर्मा रही थी।मैंने ज़िंदगी में पहली बार किसी लड़की की बुर को देखा था और वो भी कुँवारी लड़की की.

वो मुस्कुराईं और चली गईं।थोड़ी देर बाद बाथरूम का दरवाजा खुला और मेरे सामने भाभी नंगी खड़ी थीं, वो धीरे-धीरे मेरे कमरे की ओर आ रही थीं।वो मेरे एकदम करीब आईं. तो कभी वो अपनी जीभ मेरे मुँह में घुसेड़ देती।मैंने उसको घुमा दिया और किस करते हुए उसके मम्मों को पीछे से दबाने लगा, वो एकदम मदहोश होने लगी।हम लोग ऐसे ही कई मिनट तक किस करते रहे, फिर मैंने स्वीटी के टॉप को निकाल दिया।वाह. करीने से कटी हुए झांटें लौड़े की सुन्दरता को बढ़ा रही थीं।अब तक उसके लंड का सुपारा मेरे हाथ की रगड़ से कुछ लाल भी हो गया था।वो तुरंत मेरे ऊपर चढ़ गया और उसने मेरी स्कर्ट के ऊपर से ही अपना लंड रगड़ना शुरू कर दिया। उसने मेरे शर्ट थोड़ी ऊपर कर दी और फिर लंड को मेरी नाभि के ऊपर रगड़ने लगा। मुझे उसके लंड की रगड़ से पूरे शरीर में करेंट सा दौड़ रहा था।वो बेतहाशा मेरे मुँह कानों.

जैसे कि एक घोड़ा घोड़ी को चोद रहा हो।तब मैं नई नई चुदक्कड़ लौंडिया थी.

मेरी और नीलू की धुआंधार चुदाई चल रही थी कि तभी मैंने उसकी गांड में उंगली डाल दी।अब आगे. साथ ही अपने लंड से उसकी चूत में एक ज़ोर का धक्का लगा दिया।मेरा सुपारा चूत में घुस गया और अन्दर किसी जगह अटक गया।वो दर्द से रोने लगी. पर बेहद सेक्सी दिखने वाली मस्त कमनीय काया है। इस पर भी मुझे उनकी साइज का कोई सही सही अंदाजा नहीं है।कुछ दिनों बाद मेरा नजरिया उनके लिए चेंज होता चला गया और मैं उनको चोदने के सपने देखने लगा। मैं अब अक्सर उनके पेट के नीचे गहरी नाभि और कमर पर गौर करने लगा।भाभी की चूचियां बहुत ही सुडौल थीं.