देहाती सुहागरात बीएफ

छवि स्रोत,पिक्चर बीएफ बीएफ बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहार सेक्सी विडिओ: देहाती सुहागरात बीएफ, उन्होंने हंसते हुए पूछा कि तू तो देरी से सो कर उठता था, फिर आज कैसे जल्दी उठ गया?मैंने अंकल को पापा का गुस्सा होना बता दिया.

आदमी और जानवर के बीएफ

कुछ देर बाद मैंने बुआ से हंस कर बात कर ली और उनके साथ मजाक करने लगा. बीएफ पिक्चर मोटी औरत कीफिर शाम को जब अलीमा के मम्मी पापा का दोस्त बलविंदर घर आया, तो अलीमा के पापा ने बलविंदर से इस बात को डिस्कस किया.

उसने मुझसे पूछा- कभी तुमने उसके साथ सेक्स किया था?मुझे इतना मालूम नहीं था कि वो ये सब पूछना पसंद भी कर सकती है … लेकिन दिल खुश हुआ कि आज इसके साथ कुछ हो सकता है. हिंदी सेक्सी फुल एचडी वीडियो बीएफलंड चूसने के साथ ही भाभी मेरे लंड के गोटों को अपने हाथों से मसल रही थीं; वो पूरे लंड को अपने मुँह में गले तक ले रही थीं और इतने मजे से चूस रही थीं कि मेरी आंखें मुंद गईं और तेज स्वर में आह निकलने लगी.

उसके बाद मैं उनके घर गया जहां आसिफा दीदी भी थी और उनकी बेटी भी बैठी हुई थी.देहाती सुहागरात बीएफ: लंड के चुत पर स्पर्श होते ही वो मचलने लगी और उसकी गांड ऊपर उठ कर लंड लेने को बेताबी दिखाने लगी.

पर ससुर भी बेचारा क्या करता, अपनी इज्जत बचाने के लिए और अपने बच्ची के कारण वो चुपचाप लेटा रहा.चुत से खून भी निकल आया था, पर अब सास पर वासना फिर से हावी हो गई थी.

सेक्सी बीएफ बुर की चुदाई हिंदी - देहाती सुहागरात बीएफ

धीरे धीरे मैं अपनी एक उंगली को चाची की गांड में अन्दर बाहर करने लगा.फिर मैंने मंजुला को वहीं प्लेटफोर्म पर झुका दिया और उसे समझाया कि वो अपने दोनों हाथ अपने हिप्स पर रख कर अपने गांड की दरार को खूब अच्छे से खोल दे.

फिर भी धीरे धीरे मैंने उससे किसी न किसी बहाने से बात करने की कोशिश की. देहाती सुहागरात बीएफ उसका कोमल हाथ छूते ही मेरी वासना की ज्वाला जोर से भड़की और मैंने अपनी जांघों की ओर लाकर उसके हाथ पर अपना तना करारा लंड टच करवा दिया.

धीरे धीरे करके मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में आहिस्ता आहिस्ता से अंदर उतार दिया.

देहाती सुहागरात बीएफ?

पहले चाचा, फिर चाची, फिर श्वेता और फिर आखिर में मैं।श्वेता और मेरे बीच में सगे भाई बहन जैसा रिश्ता था. मैंने कहा- क्या आपके यहां बर्फ मिल सकती है?वो बोली- बर्फ लेने आये हो या दूध की आइसक्रीम खाने?मैं उसकी बात का मतलब उस वक्त समझ नहीं पाया था लेकिन वो जान गयी थी कि मेरे मन में क्या है. फिर मैंने पूछा- बताओ कैसे मनाएं आज तुम्हारा जन्मदिन?उसने कहा- यह तो तुम ही देखो … मुझे क्या पता!मैंने कहा- फिर जो भी मैं कहूंगा, वैसे ही तुझे करना पड़ेगा.

मैंने पूछा- तुमने पहले किससे चुदाई करवाई हुई है क्या, सच बताना?वो हंसते हुए बोली- क्या करोगे जानकर?मैंने कहा- बताओ, नहीं तो मैं फिर तुमसे कभी बात नहीं करूंगा. अब आहिस्ते आहिस्ते घर में सभी लोगों के मन में डर होने लगा कि कहीं हम दोनों भाई बहन के ऊपर कुछ ऐसा है कि हम बेऔलाद ही रहेंगे. वहां सब जरूरी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद मैंने सम्मान से मंजुला को उसकी ऑफीशियल चेयर पर बैठा कर भविष्य की शुभकामनाएं दीं.

संजय मेरी नंगी चुचियों पर हाथ घुमाने लगा और मेरे निप्पलों को अपनी उंगलियों के बीच में मसलने लगा. उसने अपनी ड्रेस की डोरी खोली और अपनी नाइटी को अपने बदन से उतार कर अलग कर दिया. फिर मैंने उसे वहीं गोद में उठाया और सोफे पर पटक दिया जिससे उसकी नाइटी जो पहले से ही घुटनों तक थी और भी ऊपर हो गई.

इस तरह जवान किरायेदारनी लड़की की चूत चुदाई करके मैंने अपनी पहली चुदाई की शुरूआत की. उधर बलविंदर ने दरवाजे की चिटकनी को लगा दिया, फिर उसने सारा सामान टेबल पर रख दिया और अलीमा की ओर बढ़ने लगा.

ऐसी ही एक शादी हुई, जहां मैं और मेरी मम्मी सम्मलित होने के लिए गई हुई थीं.

अमन ने बोतल खोल कर उसमें उसने अपनी दो उंगलियां डुबोईं और शहद को मेरे पूरे जिस्म पर फेरने लगा.

जिसमें एक कमरा मेरा था और दूसरा उस लड़की का … जिसका नाम मुझे अभी तक पता नहीं था. चूत चुदाई के बाद मैंने चाची को गांड मरवाने को कहा तो वे गांड मराई के दर्द से डर रही थी. हालांकि मेरी मां ने डायरी में बताया था कि उस वक्त उनको उस आदमी से अपने दूध मसलवाने में अन्दर से मजा आ रहा था, लेकिन ऐसे अचानक से किसी राह चलते आदमी के साथ सेक्स नहीं किया जा सकता था.

उनकी बातों से मुझे मालूम चल गया था कि पहली बार की चुदाई में काफी दर्द होता है मगर पहली बार चुदाई करने वाला कोई अनुभवी चुदाई करने वाला हो तो चुत काफी आसानी से खुल जाती है. या सर आप कहो तो एकदम यंग स्कूल गोइंग फ्रेश गर्ल बुला देती हूं … यू विल रेमेम्बेर हर आल योर लाइफ. इसकी एक वजह ये भी थी कि उन्होंने अपनी पत्नी को ब्लू फ़िल्म देखना सिखा दिया था.

वो फुर्ती से उठ कर बैठ गयी और मेरा लंड पकड़ कर उसने तीन चार बार ऊपर नीचे किया और फिर सुपारा मुंह में घुसा लिया और चूसने लगी.

उसने पहले से ही नाश्ता बनाया हुआ था। वो बोली- पहले नाश्ता कर लेते हैं और उसके बाद तुम नहा लेना. अब वह मेरी चूचियों से खेलता, दोनों चूचियों को बारी-बारी मुंह में देकर चूसता, हाथों से दबाता. वो कॉलेज से आ कर अपने कपड़े बदल ही रही थी कि उसी समय बलविंदर ने उसे पकड़ लिया था.

दोस्तो, मैं अन्तर्वासना पर प्रकाशित सेक्स कहानियों को बहुत पसंद करती आयी हूँ. संयुक्त परिवार होने के कारण सारा परिवार एक साथ एक बहुत बड़ी हवेली नुमा घर में रहता है. फिर थोड़ी देर मैंने उसके दोनों निप्पलों को बारी बारी से चूसा और किस किया.

चुत में उंगली घुसी तो मां फिर से थोड़ा सा छूटने का प्रयास करने लगी थीं.

आगे मंजुला ने बताया कि उसके पति की मृत्यु के बाद ससुराल वालों ने उससे लड़ झगड़ कर उसे घर से निकाल दिया था ताकि जायदाद में उसे हिस्सा न देना पड़े. सेठानी अब विरोध नहीं कर रही थी।सेठ ने बीवी का पेटीकोट खोल कर अपना लंड बाहर निकाला और सेठानी की चूत पर रगड़ने लगा.

देहाती सुहागरात बीएफ उसकी ब्रा के अंदर कैद उसके उभारों की मस्त सी शेप देख कर कोई भी पागल हो सकता था. बेडरूम में जाकर मैंने उसको बेड पर गिरा दिया और ऊपर से मैं भी उसके ऊपर ही चढ़ गया.

देहाती सुहागरात बीएफ उसकी मोटी और गदराई हुई जांघों को मसलते हुए उसकी पैंटी को उतारा और सीधे उसकी चूत पर टूट पड़ा और बेतहाशा पागलों की तरह उसकी चूत को चूमने चाटने मसलने लगा. उसके बाद उन दोनों ने मुझे अपने घर पर पार्टी और मस्ती करने के लिए आमंत्रित किया.

जब मैं उसे रीयल में चुदाई करने के कहता था वो इस बात पर चुप हो जाती थी.

देहाती लड़की का सेक्स

मैंने उससे पूछा- तेरे हस्बैंड का कितना है?सुमन बोली कि आपके लंड के आधे से थोड़ा ज्यादा होगा. मैंने उसे कहा- ठीक है, करो!फिर से वह मेरे बदन को चूमने और चाटने लगा और मेरी चूत में धक्के मारने लगा. जहां पर हम कंस्ट्रक्शन का काम कर रहे थे उस तरफ दिन में वो तीन चार चक्कर लगा देती थी.

मेरी शादी के बाद से ही मेरे शौहर ज्यादातर काम की वजह से बाहर ही रहते थे।यह कहानी सुनकर मजा लें. हम दोनों की अम्मियों को जब हम दोनों की मुहब्बत की जानकारी हुई तो वे दोनों बहनें गुस्सा होने के बदले बहुत खुश हुई और हम दोनों का निकाह करवा दिया. अभी नाश्ता करते वक़्त मैंने देखा तो सागर के फ़ोन पर सुधा यानि मेरी मम्मी का फ़ोन आ रहा था.

उसका कोमल हाथ छूते ही मेरी वासना की ज्वाला जोर से भड़की और मैंने अपनी जांघों की ओर लाकर उसके हाथ पर अपना तना करारा लंड टच करवा दिया.

जब मेरा होने वाला था, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसकी गांड में ही मैंने अपना सारा वीर्य डाल दिया. हम दोनों ने एक दूसरे को प्यार से देखा और मैंने उसे प्यार से देखा और कहा- कॉफ़ी पीने चलें. मां अब सिसकारियां लेने लगी थी- आह्ह … आह्ह … करके वो मस्त होकर अपनी चूचियां दबवाने का मजा ले रही थी.

बड़े पापा से बात करते करते मुझे नींद आ गई और मैं वहीं गहरी नींद में सो गया. बाहर निकल कर हमने अपना लगेज बेल्ट पर से कलेक्ट किया और एक टैक्सी लेकर हम मंजुला के होटल को चल पड़े. यह कह कर उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया।मैं किस करने लगा और अंजलि भी पूरी तरह साथ देने लगी.

कारण कि धार्मिक विचारों वाली मेरी पत्नी तो लंड चूसती ही नहीं और मेरी जिंदगी में कोई बाहर वाली कभी आई ही नहीं. वो अमित का लंड जोर जोर से चूसने लगी और उसके लंड के चारों तरफ जीभ से चाट रही थी.

वो गुस्से में बोलीं- तुम ऐसा …मामी इतना ही बोल पाई थीं कि मैंने आगे बढ़ कर उनको जोर से पकड़ लिया और उनके होंठों पर होंठ रख दिए. फिर वहां से आकर मैंने दोनों को उनके घर छोड़ा और मैं भी अपने घर आ गया।गरिमा के कारण सोनाली की चूत और चूची भी मिल गयी थी. वे मेरी तारीफ़ भी करते हुए कहते कि काश उन्हें अपने बेटे के लिए मेरे जैसी ही बहू मिल जाती.

वह मुझसे बहुत चिपक कर डांस कर रहा था और मैं भी दारू के नशे में टल्ली होकर मस्ती से उसके साथ डांस कर रही थी.

तो मेरी रंडी बहन ने कहा- मुझे पिलाओगे नहीं क्या पापा?पापा मुस्कुरा दिये और कहा- ठीक है. मैंने बरबस ही उसका एक स्तन अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगा और दूसरे हाथ से बगल वाला स्तन दबोच कर हौले हौले मसलने लगा और उसके कांख में मुंह लगा कर वहां के मुलायम केशों को चूमने चाटने लगा. अंकल- बस टीना, थोड़ा दर्द सह लो … फिर बहुत मजा आएगा मेरी जान … तुम्हारी चुत बहुत टाइट है.

शनाज़ मेरे पास ही खड़ी थी, उसमे मेरे सामने अपनी गलती कबूल की और मजार में माफी मांगी कि जवानी के मजे लूटने के लिए मैं गोली खा रही थी. अब शनाज़ के पास गोली नहीं थी और वो अभी औलाद के चक्कर में नहीं पड़ना चाहती थी तो इसलिये शनाज़ मुझसे चुदाई नहीं करवा रही थी.

वो इतने में खुद ही अपनी चूत को मेरे लंड पर धकेलने लगी और लंड का मजा लेने लगी. बड़ी मशक्कत के बाद मेरे मोटे लंड का सिर्फ सुपारा ही फक्क करते हुए अन्दर घुस सका था. मैं अपनी दीदी को चोद कर काफ़ी खुश था और उनसे सलाह करते हुए अपनी मॉम को चोदने का प्लान बना रहा था.

लाइव वीडियो कॉल

मैंने अक्षय को देखा, तो उसकी आंखों में मुझे चुदाई की हवस दिखायी दी.

उसने लंड को मेरी चूत में घुसाये रखा और फिर धीरे धीरे लंड को चूत के अंदर हिलाने लगा. कुछ देर तक भाभी के दोनों होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने के बाद मैंने भाभी को बिस्तर पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया. पहले उसने मेरी कुर्ती को उतारा और फिर मेरी चूचियों को ब्रा के ऊपर से चाटने और पीने लगा.

मैंने उससे कहा- हां पहले थी … लेकिन अब नहीं है … क्योंकि अब मैं स्टडी पर ध्यान दे रहा हूं. फिर चाची ने प्रियंका भाभी को हां बोलते हुए कहा- ठीक है प्रियंका भाभी, हमें शर्त मंजूर है. सेक्स बीएफ तेलुगूइससे मैं दो मिनट भी नहीं टिकी और मैंने अरमान का सर अपनी बुर पर दबा लिया.

एक दिन जब मैं संजय के पास से पीकर वापस आ रही थी तो मुझे बीच में विजय मिल गया. जितनी जोर से ठाकुर लंड अन्दर ठोकता, वो अपने कूल्हे उठा कर अपनी चुत में लंड को समा लेती.

अब तो अलीमा मदमस्त हो चली थी और उसने अपने होंठों से बलविंदर के होंठों को भी चूमना और चूसना शुरू कर दिया था. मंजू मेरे गाँव में शादी करके आई थी और मैंने उसको पटा लिया था।मैं उम्र में उसके पति से बड़ा था इसलिए वो मेरा घूंघट करती थी. अमन अपना हाथ नीचे ले जाकर मेरी चूत मसल रहा था और मैं अमन का लंड हिला रही थी.

दो बजे जैसे ही कम्पाउंडर ने मेन गेट बंद किया, मैं पीछे वाले कमरे में पहुंच गया. मैंने एक हल्के ब्लू कलर की साड़ी पहन ली और जैसे हमेशा रेडी होती हूँ, वैसे तैयार हो गई. मैंने मामी को बोला- मामी आपका काम तो हो गया, पर मेरा क्या होगा?मामी बोलीं- रात का इंतजार करो.

मैंने अब गरिमा की चूत से दूसरा हाथ निकाला और सोनाली के टॉप में घुसा दिया.

उसकी मर्दानी छाती बालों से भरी हुई थी, जो रोहन को उत्तेज़ित कर रही थी. उसकी चुत से पानी टपकने से उसकी पैंटी चुत के सामने से गीली हो गई थी.

मॉम जोर जोर से सिसकारने लगी- आह्ह … आह्ह … ऊईई … ओह्ह … और … और करो … अंदर तक … आह्ह … आईई … ऊह्ह … करते रहो … आह्ह।इस तरह से काफी देर तक उसने मॉम की चूत चाटी. पर मैंने कह दिया- माँ, वो कल रात लाल रंग गिर गया ड्राइंग करते समय।तो माँ तो मान गयी. अंजलि ने आंखें बंद करके आह्ह … की आवाज के साथ मेरे लंड का अपनी चूत में स्वागत किया.

थोड़ी देर बाद मैं उनके ऊपर आ गया और पूरा लंड एक ही बार गच्च से हॉट मामी की चूत में घुसेड़ दिया. फिर मुझे ध्यान आया कि कहीं नहाने तो नहीं गयी है?दरअसल हम लोगों का बाथरूम कॉमन ही था जो ऊपर वाली मंजिल पर बना था. इसके बाद मैंने निधि को अपनी गोद में कुछ इस तरह से उठाया कि उसकी चूत मेरे लंड पर आकर टिक गई.

देहाती सुहागरात बीएफ मेरी स्पीड हर एक झटके के साथ तेज हो रही थी और उसकी सिसकारियां भी- ओह बेबी प्लीज़ … प्लीज़ बेबी … फक … आह्ह … जोर से … ओह्ह … आह्ह … ओओई मां … आह्ह … चोदते रहो. उस दवा का असर मुझ पर अब भी इतना था कि मेरे शरीर में एक बूंद जान ना बची होने की बावजूद भी मेरी चूत में कुलबुलाहट होने लगी.

जाटों का सेक्सी वीडियो

मैंने एक गिलास दारू से भरा और जिया को पिला दिया कि ले स्वाद ठीक हो जाएगा. मंजुला के मुंह से कामुक आहें कराहें निकलने लगीं और वो मुझे और तेज और तेज कह कह कर उकसाने लगी. मैंने फुसफुसाते हुए कहा- मगर मेरे शौहर?उसने फिर कहा- टायलेट का गेट बाहर से बंद करके आये हैं.

जब कभी भी मैं बिल्डिंग में आता हूँ … मैंने देखा है कि तुम मुझे देखते रहते हो. मैंने उसे कहा- ठीक है, करो!फिर से वह मेरे बदन को चूमने और चाटने लगा और मेरी चूत में धक्के मारने लगा. एक्स सेक्स बीएफसेठ जी गुस्से से बोले- अरे पुरानी बोरी में से ही खा लेता, नई बोरी क्यों फाड़ दी?ये सुनकर कल्लू की गांड फट गयी.

अपनी सौतेली मां शालिनी की चुदाई करते हुए मुझे स्वर्ग सा मजा मिल रहा था.

उसकी भावनाओं का ध्यान रखते हुए मैं भी सावधानी पूर्वक चुदाई कर रहा था. हॉट लेस्बो सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं और मेरी सहेली अस्पताल में काम करती हैं.

हम दोनों के बीच होने वाली बातचीत से मुझे यह पता चला कि प्रीति की बीस साला बड़ी बेटी मनमीत के लिए रिश्ते की तलाश हो रही है लेकिन काफी दुबली पतली होने के कारण दो बार रिजेक्ट हो चुकी है. अब भी वो चोली पहन कर झाड़ू लगा रही थी। उनका बाकी जिस्म अब भी नंगा था. वैसे हम दोनों के बीच में मस्ती और मजाक खूब होता था लेकिन आज तक मैंने उसको इस तरह की अश्लील हरकत करते हुए नहीं देखा था.

राजेश को सहानुभूति जताते हुए मैंने कहा- तो आपको अपनी पहली बीवी की बहुत याद आती है.

धर्मपाल के लिए यह अनुभव बिल्कुल नया था। उसको इतना ज्यादा आनंद कभी नहीं आया था।हरदीप ने लन्ड के सुपारे से मांस पीछे किया और सुपारे को अच्छी तरह जीभ से चाट लिया।उसने अपना मुंह खोला और सुपारे को मुंह में भर लिया।थोड़ी देर तक उसने सुपारे को ही मुंह में रखा. तब वॉक के कारण माया को थोड़ा पसीना आया हुआ था और वो स्लीवलैस टॉप में इस समय काफी सेक्सी लग रही थी. एक दिन मैं छत से नीचे आ रही थी और वो नीचे से ऊपर अपने कमरे में जा रहा था.

बीएफ वीडियो देसी बीएफ वीडियोवो मुझसे बोली- टंकी में पानी खत्म हो गया है … मोटर का तार लगा दो, मुझे डर लगता है. मैंने उसको बोला- मनजीत तुमने मेरे साथ तब दिया था … जब मुझे एक चूत की बहुत ज्यादा जरूरत थी.

जानवर और लेडीस की सेक्सी फिल्म

मैंने फुसफुसाते हुए कहा- मगर मेरे शौहर?उसने फिर कहा- टायलेट का गेट बाहर से बंद करके आये हैं. घर में मेरे मम्मी पापा, मेरी पत्नी, भाई और भाभी हैं और एक तीन साल की बिटिया है, लोरी नाम है उसका!”क्या मुनीम? बट मुनीम लोग तो ऐसे सूट टाई पहिन कर एयर ट्रेवल नहीं करते और ना ही ऐसा लाख रुपये वाला आई फोन हाथ में लिए रहते हैं, रहने दो आप बना रहे हो मुझे!” वो बोली और परे देखने लगी. तुम मुझे चोद भी चुके हो तो अब ये आदर सत्कार वाली भाषा सबके सामने बोलना … अकेले में तुम मुझे सिर्फ माधवी बुलाओ.

मेरी मेल पर बतायें ताकि मैं अपनी और कहानियाँ लिख सकूं।[emailprotected]. रमेश उसको फिर से एक नोट निकाल कर दिया और मेरी गांड पर हाथ फिराते हुए फिर से गाड़ी आगे ले आया. क्योंकि बलदेव ने सास की चुत चूसते समय अंदाजा लगा लिया था कि चुत द्वार उसके लंड के हिसाब से बहुत छोटा है.

जैसे ही उसने लंड को अंदर से बाहर निकाला वो देखते ही बोली- हाय रे … इसके लिए ही तो मैं मरी जा रही थी. कई बार तो मैं जानबूझकर श्वेता को चाची की ओर सरकने पर मजबूर किया करता था. पर वो चीख नहीं सकती थी क्योंकि मैंने अपना मुँह से उसके मुँह को बंद कर रखा था.

इधर मैंने जैसे ही थोड़ा दबाव डाला, तो मेरा लंड बड़ी मुश्किल से अन्दर गया. हेमा चाची जोर जोर से चीख रही थीं, तो मैंने उनके मुँह पर अपना एक हाथ रख कर मुँह को बंद कर दिया और पीछे से दबादब लंड आगे पीछे करने लगा.

जैसे ही पूरा लण्ड किरण की चूत में गया, वो उम्म्ह… अहह… हय… याह… विजय … याय ययह यय कहकर सिसकारने लगी.

पूरा लंड उसकी गांड में घुसा घुसा कर वो उसकी गांड चुदाई का मजा ले रहा था. बीएफ फिल्म हिंदी में तुरंतवो सिसकारियां भरती रही-आह! आह! उह! उह… हा…हं!फिर मैंने उसके होंठों पर किस किया और कहा- जान अब वक्त आ गया है जन्न्त की सैर करने का. बीएफ सेक्स बांग्लाअब ये किस्से कहानियों की बातें कितनी सच होती हैं ये तो सिर्फ कहानी लिखने वाले ही जानते होंगे पर मेरी तरफ से या उसकी तरफ से ऐसा कोई रिएक्शन नहीं हुआ. इतने में ही उसके लंड से भी वीर्य निकल गया और वो झटके दर झटके मेरी चूत में स्खलित हो गया.

देसी चूत सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक जमीदार अपनी ससुराल गया तो वहां मौक़ा पाकर उनकी जवान नौकरानी की चूत चाट कर मजा दिया और चोदा.

मैं अपनी गर्भवती बेटी की देखभाल के लिए गयी तो वहां क्या हुआ?मेरी पिछली कहानी थी:जिस्म दिखाकर लिया सेक्स का मजाआप सबका मेरी इस फैमिली Xxx कहानी में स्वागत है. वीर्य की गर्मी से, अशोक का लंड और तन गया ये और बड़ा और मोटा दिखने लगा था. अलीमा एकदम से सिहर गई लेकिन बलविंदर ने अपने मुँह से अलीमा की चुत का रस लेना शुरू कर दिया था.

केक के बाद जब वो वाशरूम में साफ होने गयी, तब तक मैंने टेबल पर वोदका और बाकी सब सामान सैट कर दिया. चूंकि मैं सोकर उठा था और सामने भी बहुत सारी पटाखा माल बैठी थीं तो मेरा लंड पूरा तना हुआ था. मैं भी इसमें उसका साथ देने लगी और उस समय एक बार फिर से मेरे दामाद ने मुझे बड़ी बुरी तरह चोदा.

माँ दुर्गा के नौ रूप फोटो 2021

चुदाई के बाद बड़ी मम्मी ने मेरे ऊपर से उठ कर अपने कपड़े पहने और आंख मारती हुई चली गईं. उसके मुंह से जोर जोर की सिसकारियां निकल कर पूरे घर में गूंज रही थीं. मुझे हॉस्टल में काफी कुछ सीखने को मिला और मैंने बहुत सारा मजा किया.

वो भी लंड के धक्के चूत में लगाते हुए बोला- हां साली चुदक्कड़… तेरी चूत को मैं पहले दिन से चोदने का मन बना चुका था.

मैं काफी डर गया, मैंने भाभी को सॉरी बोला और कहा कि आज के बाद ऐसी गलती नहीं होगी.

अगली सेक्स कहानी में मैं बताऊंगा कि रात को कैसे मैंने अपनी बड़ी मम्मी की गांड मारी. क्या डिम्पी को उसके पति और उसके बच्चों के उसके पापा के पास ही रहने देना ठीक था?मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]. सेक्स बीएफ पिक्चर वीडियो मेंमैं आपका दोस्त विक्की फिर से जवान लड़की की Xxx स्टोरी के पिछले भागकमसिन जवानी और सीलपैक बुरमें बता रहा था कि अलीमा घर में अकेली रह जाने वाली थी और बलविंदर इस बात का फायदा उठाने की सोच रहा था.

मैंने एक भी पल का समय ना गंवाते हुए अपने होंठों को उनके होंठों पर रख दिया और चूसने लगी. कई बार जब उसको गांव से बाहर शहर जाना होता था तो वो मुझे ही लेकर जाती थी. शायद सोनाली ने हमारी हरकतों को भांप लिया था और उसने मजाक के अंदाज में कहा- डरो नहीं, आराम से कर लो.

मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और सिर्फ चड्डी में ही बाहर जाकर बारिश में नहाने लगा. दो मिनट तक वो मेरे हाथ को सहलाती रही और मुझे कुछ खाने पीने के लिये पूछती रही.

अब हमारे घर का खर्चा गांव में खेती-बाड़ी से ही चलता है, जिसको मेरे बड़े जेठ देखते हैं.

फिर जब मैंने उसे माया से इंट्रोड्यूस कराया तो उसने माया से हैंडशेक करके हैलो बोला. आयज़ा पर मैंने फिर से दबाव देते हुए पूछा तो वो बताने लगी कि वो अपने पड़ोस के एक लड़के से बात करती है लेकिन सेक्स सिर्फ बातों में ही हुआ है, रियल में नहीं. फिर मेरी बीवी के भोसड़े में एक उंगली को अन्दर घुसा दिया और जोर जोर से उंगली से चोदने लगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ चलने वाली मैं पौंछने को हुई तो उसने मना कर दिया और अपनी पैन्ट चढ़ा कर मुझे मेरे कम्पार्टमेन्ट तक छोड़ने आये. हम छत पर पहुंचे और थोड़ी देर में कुछ करने ही वाले थे कि मेघा भी आ गयी।मेघा ने भी छोटा कॉटन का शॉर्ट्स पहन रखा था और टीशर्ट डाली हुई थी.

वेटर- आप भी करोगे क्या किसी के साथ?मैंने कहा- हां, बहुत मुश्किल से पटाई है, आज नहीं हुआ तो फिर कभी नहीं होगा. उसके बाद मैं बाजी की बात मान गया और हम लोग वहां से ऊपर चुपचाप छत पर आ गये. हेमा चाची चीख पड़ीं, तो मैंने चूचियों को छोडकर गांड पर हाथ मलना शुरू कर दिया.

मैगी कैसे बनाते हैं बताइए

उसने कहा- जय जी, मुझे रेंट पर एक अच्छा सा फ्लैट या घर चाहिए है चूंकि मैं यहां नई हूँ और मैं किसी को जानती भी नहीं हूँ … तो आप मेरा ये छोटा सा काम करेंगे न!तो मैंने खुशी से बोला- बिल्कुल मैडम हो जाएगा. अब सारी शर्म उतर चुकी थी और हम दोनों एक दूसरे में खो जाने के लिए बेताब थे. वो मुझसे छूटकर गुस्से में बोलीं- ये तुम क्या कर रहे हो तुम्हारे मामा से बोलूंगी … रुको!मैं बोला- वो मैं ही हूँ डार्लिंग … जिसका तुम अभी वेट कर रही थीं.

वो एक चुदक्कड़ औरत थी।धर्मपाल ने अपने खाली पड़े प्लाट पर मकान बनाने के लिए एक ठेकेदार को काम दे दिया, जिसका नाम जसवंत सिंह था. मैंने पैन्टी और ब्रा पहनना छोड़ दिया और ससुर जी के करीब आते जाते किसी न किसी बहाने से उन्हें अपनी चूचियां और मटकते चूतड़ दिखाने लगी.

बाजी ने मुझे रुकने को बोला और कमर सीधे करते हुआ बोली- इमरान कमर टूट गई.

मैं उसकी चूत को उंगली से सहलाने लगा और उसकी जांघों में हरकत होने लगी. पहले तो वो विरोध करने लगी फिर शायद हम दोनों का नंगा बदन एक दूसरे को अच्छा लगने लगा तो उसने विरोध त्याग दिया. तो वो बोली- अरे पेपर तो हो ही जाएगा और वैसे भी साल भर से पेपर के लिए ही तो पढ़ रहे हैं.

कहानी के पात्रों की गोपनीयता बनाये रखने हेतु पात्रों के नाम मैंने बदल कर कुछ और ही लिखे हैं. मैं मेघा की गांड देख और तेजी से जीभ चलाने लगा और उंगली भी डाल दी।इधर अंजलि हल्की हल्की सिसकारियां ले रही थी और कह रही थी- आह्ह चोदो … यार … चोद लो अब … ओह्ह … मेरे राजा।मैं उठ कर अपने लौडे़ से अंजलि की नाभी को सहलाते हुए चूत के होंठों पर रगड़ने लगा. पर कुछ ही दिनों में शनाज़ कीजवान चूतको रात में दो दो बार चोद चोद कर मैंने उसे मेरा लंड सहने काबिल बना दिया था.

आप सोच रहे होंगे कि मैं अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में लिखने जा रहा हूं.

देहाती सुहागरात बीएफ: बड़े पापा से बात करते करते मुझे नींद आ गई और मैं वहीं गहरी नींद में सो गया. मामी- अम्मम हहहहह आआआ और तेज चोदो मुझे … आह और जोर से आह फाड़ ही दो आज मेरी चुत को.

मगर फिर मुझे भी आइडिया अच्छा लगा और उसने मेरे से मेरी कुर्ती और ब्रा उतारने के लिए कहा. अब मेरे मुंह से गाली निकलने लगी- आह्ह मादरचोद … मिटा दे मेरी चूत की गर्मी … बहुत घूर रहा था मुझे… चोद दे मेरी चूत को अब … मैं भी तेरे लंड से चुदना चाह रही थी. मैंने सोच लिया था कि अबकी बार जब घर जाऊंगी उसका लंड चूत में लेकर ही रहूंगी.

अब उसको मजा आने लगा था, वो भी मुझसे चिपक गई और मेरा साथ देने लग गई। अब मैंने भी अपनी स्पीड तेज कर दी जिससे उसको भी मजा आने लगा था और नीचे से अपनी गांड उठा उठा के अपनी चुत में मेरा लंड लेने लगी।उसमें अलग ही जोश नजर आ रहा था जैसे बहुत दिनों से चुदाई की प्यासी हो।वह मेरी पीठ पर अपने नाखून चुभाने लगी और बोल रही थी- आह … ह ह … उह.

मैंने कहा- मगर रूबी भाभी … आपकी बेटी?उसने मेरे पास आकर मेरे होंठों पर उंगली रख दी. एक घंटे बाद मैंने किसी की आहट सुनी, तो मैंने धीरे से अपनी आंखें खोल कर देखा. बुआ की मादक आवाजों ने मेरी कमर की गति को खुद ही रफ्तार दे दी थी और मैं ज़ोर ज़ोर से बुआ की चूत चोदने में लगा था.