हिंदी बीएफ देना

छवि स्रोत,कॉलेज सेक्सी व्हिडिओ मराठी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी विडिओ हँड बीफ: हिंदी बीएफ देना, जब मेरा दोस्त बाहर आने लगा तो इतने में मैं दूर जाकर बैठ गया जैसे मुझे कुछ पता ही ना हो!दरवाजा बंद करके मेरा दोस्त मेरे पास आया और बोला- तू जा अब!मैं बोला- ठीक है भाई!अब बारी मेरी थी तो मैं अंदर गया और दरवाजा बंद कर लिया.

బిఎఫ్ బ్లూ ఫిలిం

हमने शावर लेकर एक दूसरे के बदन को पौंछा और ननगे ही एक दूसरे से चिपक कर बेडरूम में आ गए. भोजपुरी सेक्सी चुदाई वालाममता जी के मुँह से अब कराहों के साथ हल्की हल्की सिसकारियाँ निकलने लगी थी और वो अब अपने हाथों को छुड़ाने का या फिर मुझे हटाने का भी प्रयास नहीं कर रही थी। मैंने भी अब उनके हाथों को छोड़ दिया और यह सही मौका जान कर ममता जी की चूची को चूसते हुए ही अपना हाथ नीचे उनके पेट पर से होते हुए चुत की तरफ बढ़ा दिया.

अगले दिन प्रोपोज़ डे था तो मैं रोज लेकर भी गया और आज वो रास्ते में भी नहीं मिली. राजस्थानी सेक्सी वीडियो चुदाई कीकल्याणी नीचे हाथ करके मेरे लंड को टटोलने लगी, बोली- मैंने सुना है कि तुम लड़कों का हथियार लड़की के छेद में जाते वक्त बहुत दर्द देता है.

मैंने दोनों हाथ ऊपर कर लिए और शॉवर का रॉड पकड़ लिया, वो नीचे से लंड के फटके दे रहा था.हिंदी बीएफ देना: मम्मी ने ब्रायन के लंड को चाट चाट कर साफ़ किया, फिर दोनों वैसी ही हालत में हमारे पास आकर सोफे पर बैठ गए.

कुछ देर बाद मैंने सोचा कि चाची के रूम में झाँक कर देख लेता हूँ कि चाची सो गई होंगी तो अपनी लीड ले आऊंगा.उनका एक पैर ड्रेसिंग टेबल पर रखा और एक नीचे को थोड़ा सा झुकाया और शीशे में देखते हुए उनकी चूत में लंड पेल दिया.

एक्स एक्स एक्स ब्लू सेक्सी हिंदी - हिंदी बीएफ देना

एक दिन जब सारे लोग दोपहर को सो रहे थे, मैं और दीदी छत वाले कमरे में थे.मैंने एक और धक्का मारा, अब मेरा पूरा लंड आंटी की चूत में जड़ तक चला गया.

मैं क्या कर सकती थी, मेरे प्यार ने मुझे उसकी कसम दी थी,मैं दर्द सहती गई, मेरे आंसू बहते रहे पर दो बरसों से चूत का भूखा वो अंकल धक्के मारता, मेरे पैर ऊँचे हो जाते, लंड मेरे पेट में आंतों को छूता. हिंदी बीएफ देना तभी अवी ने पूछा- बेबी अभी तैयार नहीं हुई हो क्या?ये कहते हुए उसकी नजर मेरी सैंडल पर पड़ गई तो उसे पता चल गया कि मैं तैयार हूँ.

उनमें क्या मस्त मादक महक आ रही थी। ख़ासकर उसके अंडरआर्म और मम्मों वाली जगह पर। ज्यादा देर हो गई थी.

हिंदी बीएफ देना?

तलाक का केस सालों चलता रहा, इसी बीच इस गम से माधुरी के पिता बीमार रहने लगे. चूत रस पिघल पिघल कर चूत के चारों तरफ फैल कर चूत को तैयार कर रहा था. मेरी जम कर चुदाई आखरी बार किशोर ने की थी और वर्षा की भी तब हुई थी, उसको पन्द्रह दिन हो चुके थे, अब मेरी चूत फिर से लंड के लिये तड़प रही थी, मैं रोज टॉयलेट में मेरी चूत में मोमबत्ती डालती पर वो ठंडक नहीं मिलती जो लंड से मिलती है.

मैं- क्या बोलती हो दीदी? इसको चूसना है या फिर मैं जाऊँ यहाँ से?दीदी ने एक बार मुझे देखा और फिर एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया और फिर मेरी तरफ देखने लगी. मैं भी देख लूंगा, आपको ये लौंडा मैंने दिलाया है, जिसकी गांड का आपने मजा लिया. हमारे सोसाइटी में सुनयना भाभी रहती हैं, उन्हें मैंने वह सीडी को पकड़ाते हुए कहा कि भाभी एक बार आप इन सभी सीडी को देख लेतीं.

भाभी भी मेरा सर पकड़ कर अपने चूचे पर दबा रही थीं, लग रहा था कि जैसे वो मुझे इनको आज़ाद करने को बोल रही हों. आज मैं उसके रहते ही अपने बेडरूम में लंड निकाल कर उसका नाम लेकर धीरे धीरे से हिलाने लगा और उसका इंतजार करने लगा क्योंकि मुझे पता था कि जाने के पहले वो मेरे कमरे में जरूर आएगी. मेरे चेहरे की राहत देख कर संजय भी समझ गया कि कोई दिक्कत नहीं है और खुश होते हुए उसने मेरी चुत को जोरों से चोदना शुरू कर दिया.

स्लेटी रंग के फूलों वाले प्रिंट की लॉन्ग फ्रॉक पहने मंजरी बहुत खूबसूरत और सेक्सी लग रही थी. दोस्तो, मैं ये चुदाई की सेक्स स्टोरी आप लोगों के साथ इसलिए शेयर कर रहा हूँ क्योंकि मैं आज तक इससे बाहर नहीं आ पाया हूँ, मैं अभी भी इस खेल में लिप्त हूँ.

मैंने भी हाथ को वापिस दीदी की पीठ पर घुमाना शुरू कर दिया; क्या मक्खन जैसी चिकनी और गोरी पीठ थी; साला हाथ खुद ब खुद फिसलता जा रहा था.

अब मुझे समझ पड़ता है, उसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं, दीदी तुम मेरी मदद करो मैं कभी तुम्हारा उपकार नहीं भूलूंगी.

वैसे मैं उसकी चुचियां पहले भी दबा चुका हूँ पर आज जो मजा उसकी चुचियां दे रही थीं, वो मजा इससे पहले कभी नहीं मिला था. मैं बहुत उत्तेजित होने लगी और मैं उसका सर अपने हाथों से पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी. तभी अचानक बिना बताए भाभी के पापा उठे, अपना तौलिया उठाया और ड्राइवर सीट वाले गेट से बाहर निकल गये।मैं बोली- क्या हुआ?तो राजेंद्र अंकल बोले- पता नहीं यार, चलो मैं तो हूँ मेरी आरती डार्लिंग!और वो बूब्स को चूसने लगे.

लड़की के बारे में बता दूँ… वो दिखने में तो कुछ खास नहीं थी, बस ठीक ठाक थी. अब तो मुझे मजा आने लगा था, मैंने उन्हें नीचे लेटने को बोला, वो झट से लेट गईं. वो अपनी दोस्तों के साथ अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बातें कर रहा था.

हम दोनों ने अपने कपड़े पहने, मैंने उसके माथे पर किस किया, उसको जोर से गले लगाया, एक चॉकलेट दी और उसको थैंक्स कहकर चुपचाप से निकल गया.

वो दोनों बीच पर घूमने गए, मैंने पीछे लगा था, बाद में वे दोनों पब में गए और काफी पी. मैं अब क्या करती एक तरफ अवी चलने कि जिद कर रहा था और दूसरी तरफ ऐसी ड्रेस थी. मेरी माताजी शादी से पहले दूसरे धर्म से थी, परदे बुर्के वाली थी, वो बहुत पुरानी सोच वाली महिला थीं मगर मेरे पापा बिल्कुल विपरीत थे.

अगले दिन मैं संजना के घर आ गयी, मैं बहुत खुश थी लेकिन मन में थोड़ी शंका थी, डर भी मन के किसी कोने में अपना घर बनाए बैठा था. थोड़ी सी हिचकिचाहट के बाद निर्मला ने अपने होंठ थोड़े से खोले और ज़रा सा सुपारा होंठों में दबा कर उसे प्यार करने लगी. मयूरी धीरे से गम्भीरतापूर्वक ऐसे सामान्य लहजे में बोली, जैसे कुछ हुआ ही नहीं हो- पापा.

जय लक्ष्मी ने उन्हें बताया डिफरेंट स्टाइल के बारे में, ज्यादा मजा आता है, मेरा मतलब आजकल सेक्स के बारे में.

ऐसा बोल कर मैं कंडोम लेता हुए सैंडी के यहां गया, तो वो बोला- मेरा कूलर उनके घर ले जाओ, या नहीं तो हमारे यहां ही चुदाई कर लो, मुझे कोई तकलीफ नहीं है. दीदी अपने हाथ से मेरा लंड सहलाने लगीं तो मानो जन्नत का मज़ा मिल गया था.

हिंदी बीएफ देना उसी बीच भाभी का हाथ मेरे लंड से टकराया तो लंड ने एक तुनकी सी मार दी, जिससे भाभी हंसने लगीं. इसके भाभी चली गईं… और जब भी मौका मिलता है, हम दोनों चुदाई कर लेते हैं.

हिंदी बीएफ देना चूत में स्पर्म होने की वजह से उसका लंड आसानी से फच की आवाज से चूत में घुस गया. आओ ना समा जाओ मुझमे और कुचल डालो मुझे अच्छे से” बहूरानी ने फिर से मेरा लंड अपनी मुट्ठी में जकड़ लिया.

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार! मैंने यहाँ पर बहुत सारी हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ी हैं और बहुत बार मुठ भी मारी है.

स्थानी वीडियो सेक्सी

तभी भाभी पीठ के बल लेट गई और गर्दन पर भी विक्स लगाने को बोल कर अपना पल्लू हटा दिया. मैंने भी अपनी टाँगें उसकी कमर पे लपेटी और चूतड़ उठा उठा कर उसके हर धक्के का जवाब देने लगी. यह मेरी सच्ची कहानी है तो हो सकता है सेक्स कम और अन्य बातें थोड़ी सी ज्यादा मिले जिसके लिए माफ़ी चाहूँगा आपसे पहले ही!वैसे यह अपने आप में ही काफी रोचक घटना है, उम्मीद है कि आपको पसंद आएगी। यह घटना जोधपुर की ही है.

ट्रेन लगातार फुल स्पीड से सीटी बजाती हुई दिल्ली की ओर दौड़ी चली जा रही थी. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना सेक्स कहानी के आप सभी पाठकों को मेरा प्यार, नमस्कार!जैसा कि मैंने आपको पहले की कहानीरात को आ जाना. मैंने उसकी आँखों में वासना से देखा और लंड पकड़ने का इशारा किया तो उसने अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया और लंड को पैन्ट के ऊपर से ही सहलाने लगी.

मैंने आँख खोल कर देखा तो पहले दोनों मुझे ही देखते हुए अपना लंड हिला रहे थे.

मैंने कहा- क्या आप जानती हैं कि हम क्यों मिले हैं?तो उसने कहा- जी हां. मैंने देर न करते हुए सीधा उसकी जीन्स उतार फैंकी और उसकी पैंटी भी जो कि उसके चुत के पानी से पूरी गीली हो चुकी थी. पीछे से मेरा छोटा भाई भी आया और बोला- चलो भैया, उस दूसरे वाले झूले पर चलते हैं.

दोस्तो, उम्मीद है आप अपनी कल्पना के सहारे वो फील कर रहे होंगे, जैसा मैं उस वक़्त महसूस कर रहा था. मगर मुझमें अब और सब्र नहीं बचा था, मैंने उनके हाथों को पकड़ लिया और थोड़ा जबरदस्ती से उनके हाथों को हटा कर उनकी नंगी चूचियों पर टूट पड़ा… जो एक बड़े से आम की जितनी तो रही होगी. ठीक है अदिति बेटा… एज यू लाइक!” मैंने कहा और अपना जिस्म ढीला छोड़ दिया.

और उस रात हमने तीन बार कमरे को ‘फ़च… फ़च…’ की आवाज़ से भर दिया था।और तब से हमेशा हम माँ बेटा इसी तरह एक दूसरे के साथ चुत चुदाई का मजा लेने लगे जब तक मेरे पापा घर नहीं आ गए।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी माँ की चुदाई की यह कहानी?आप ज़रूर बताइएगा।जल्द ही मैं अपनी दूसरी कहानी लेकर आपके पास आऊँगा. थोड़ी देर बाद मैं जाने लगा तो आंटी ने कोमल को अपने रूम में जाने के लिए बोल दिया तो कोमल अपने रूम में चली गई और आंटी मुझे बाहर तक छोड़ने के लिए आईं.

क्या तुम इसे भी रोशनी जैसा कॉन्फिडेंट बना दोगे?”इतने में रोशनी चाय लेकर आई. फिर शाम को राजीव घर आ गए, हमने डिनर किया, मैंने राजीव से चुदाई की कहा तो उन्होंने आज फिर से मना कर दिया और मैं रोज़ की तरह अपनी चुत की खीरा चुदाई कर के सो गई. वो चेयर को छोड़ कर सीधा जमीन पर आ गिरी और एक कुतिया के जैसे पड़ी रही.

बांहों और पैरों पर मेहंदी और चूड़ियाँ क्यों पहनी हैं?मैं- अरे शादी के बाद दुल्हन यह सब पहनती है।मेरे हाथों से लेकर पूरी बांहों पर लाल गहरी मेहंदी लगी हुई थी। नीचे पैरों से लेकर.

तकरीबन जब दस बार मेरी उंगलियाँ उनके मम्मों को छुईं, तब मीना जी ने खामोशी को तोड़ते हुए कहा- बंटी, डरो नहीं और मुझसे शरमाओ भी मत, मालिश ठीक से करो और फिर तुम किसी को बताने वाले तो हो नहीं. मुझे लगा जैसे मेरी वीडियो बना रहे हैं या फोटो खींच रहे हैं।तभी भाभी के पापा ने अपने दोस्त को बोला- राजेंद्र देख, आरती की हेल्प कर, क्या चाहिए उसे।वो दौड़ कर आये और बोले- आरती, मैं राजेंद्र मिश्रा, मैं तुम्हारी भाभी के पापा का भाई भी हूँ दोस्त भी तुम बुरा मत मानना, एक बात बोलूं तुम बहुत खूबसूरत हो! मैंने आज तक इतनी सुन्दर लड़की नहीं देखी है।मैंने कहा- थैंक्स अंकल!और थोड़ा मुस्कुरा दी. मैंने उन्हें सीधा किया और उनकी ब्रा और पेंटी को पूरी तरह से हटाते हुए फेंक दिया, मैं बोला- डार्लिंग असली सरप्राइज़ तो तुम्हें मैं अब दूँगा.

इस वक्त मैंने जोया को छोड़ दिया था और मोना की चूचियों को दोनों हाथों से दबा रहा था. अब मै ज़ोर ज़ोर से चाची को चोद रहा था और चाची के चूचे किसी बॉल की तरह ऊपर नीचे होते जाते थे.

आपने मेरी हिंदी सेक्स कहानी को इतना पसंद किया कि मैं अपनी अगली स्टोरी लिखने से खुद को रोक नहीं सकी. कि तभी एकदम कविता मेरे पास आई और मुझे चुपके से एक लैटर मेरे हाथ में दिया और फिर हँसती हुई चली गयी. शुरू में कोचिंग क्लास जाते या आते समय उन लोगों से सामना होने पर बातचीत सिर्फ़ नमस्ते तक सीमित थी.

सेक्सी वीडियो इंग्लिश 2018

ओके पूजा तुम कल 11 बजे मेरी छत वाले रूम में आ जाना, हम सब वहीं पढ़ते हैं.

छोटे टमाटर के आकार जैसा मेरा टोपा बहूरानी की चूत में जा के फंस गया. ”हम बातें कर ही रहे थे कि तभी हीरो झड़ गया और उसका वीर्य हिरोईन ने अपने मुँह में भर लिया. मैंने धीरे-धीरे अपनी दोनों उंगलियां उनकी चुत में डाल दीं, चुत गीली होने के कारण मेरी उंगलियां बिना किसी रूकावट के अन्दर चली गईं.

सुबह जो हम होटल में गए थे एक साथ खाने, वो सोच सोच कर तो मैं और भी ज़्यादा खुश हो रहा था. भाभी अपनी गांड मटका कर जब चलती थीं तो लगता था जैसे कोई अप्सरा चल रही हो. अल्लो सेक्सी दिखाओयहाँ तक कि उसकी जवानी देख कर उसके ससुर और पति के बड़े भाई यानि जेठजी भी मन ही मन उसे चोदने की सोचते होंगे.

इससे पहले के मंजरी इसके लिए तैयार हो पाती, पुलकित ने ज़ोर लगा कर अपना लंड मंजरी की चूत में ठेल दिया. कब तक और कुछ गलत सलत तो नहीं करना होगा?अमित- नहीं मिनी असल में उसके पापा ने जिद की है कि तू शादी कर ले तो उसने कहा है कि उसकी एक गर्लफ्रेंड है, जिसे वह प्यार करता है और उसी से शादी करेगा और उसकी अभी पढ़ाई पूरी नहीं हुई है.

लगभग बाहरवीं कक्षा तक तो उसकी कोई गर्लफ्रैंड तक नहीं थी।बाहरवीं क्लास में उसकी चचेरी भाभी अंजना उनके घर कुछ दिनों के लिये आई उसे फुद्दू से चोदू बना गयी।अंजना की उम्र 38 साल के आसपास थी. बहूरानी के मुंह से घुटी घुटी सी चीख और दर्द की कराहें निकलने लगीं- मर गयी रे, फट गयी मेरी तो… मार डाला आपने आज तो” बहूरानी ने आर्तनाद किया और मुझे परे धकेलने का प्रयास किया. मैं तो चाहती हूँ कि तुम मेरी गांड का फीता काट दो… लेकिन फिर डर के मारे रह जाती हूँ.

मैंने देखा कि वो अपने पैरों को चौड़ा करके चल रही थी, उसके हिप्स भी दाएं बायें उछल रहे थे. वैसे वो चरित्रहीन नहीं थी, क्योंकि अपने पिता के एक दुर्घटना में गुजर जाने के बाद उसने किसी और मर्द की तरफ नज़र भी नहीं उठाया. मैंने उनके चूतड़ के ऊपर के हिस्से से लेकर कमर तक अपनी उंगलियाँ धीरे धीरे फेरीं.

जैसा कि मेरी पिछली सेक्स स्टोरीसेक्सी भाभी को चोदा तड़पा तड़पा करके अनुसार मुझे पायल भाभी कोई सरप्राइज़ देना चाहती थीं और मैं भी उन्हें एक सेक्सी सरप्राइज़ देने की सोच रहा था.

इस वक्त रात के 10 बज चुके थे तो हमने खाना खाया और फिर रात को 2 और बार बुर की चुदाई की. ’वो तो बाद में पता चला कि बिना कंडोम ही असली मजा आता है लेकिन उस टाइम मैं उसकी बात मान गया और मैंने बोला- मेरा पानी निकाल दे अभी… सेक्स जब तेरा दिल होगा कर लेंगे।वो मेरे लंड की मुठ मारने लगी और मैं उसके होंठों को चूमने में लगा रहा और साथ साथ उसके बूब्स को चूसे जा रहा था.

उनका हंसना मुझे समझ नहीं आया, मैंने कहा- अगर ऐसी कोई बात है तो मुझे भी बताओ, मैं भी हंसूँ?तब उन्होंने हिचकते हुए कहा कि वो हमेशा मेरे सर की बाम से मालिश कर देते हैं. मैंने नेपकिन से अपने लंड को पौंछा, फिर उसकी चूत और जांघें पौंछ डाली और लंड को चूत के छेद पर टिका के सुपारा भीतर धकेल दिया. उन्होंने खुद अपने हाथों से मेरा बॉक्सर निकाला नहीं, बल्कि मेरे लंड को ऊपर से ही पकड़ कर हिलाने लगीं.

वो अब जोर जोर से सिसकारियां लेने लगीं- उम्म्म… नहीं जान… आह… रुक जाओ प्लीज़… आह… मैं मर जाऊंगी… उम्म्म्म… आह…उनका पेट बहुत तेज़ी से अन्दर बाहर होने लगा… लेकिन मैं नहीं रुका और जीभ फिराता ही रहा. मैं तेल की शीशी निकाल लाया और चाची से पूछा कि कहां पर दर्द हो रहा है. वो मुझे लेकर उनके पास गया और बोला- क्या बात है कोई प्राब्लम है क्या… आप काफ़ी परेशान लग रही हो?उन्होंने बोला- अरे नहीं वो बस मेरे हज़्बेंड नहीं दिख रहे, मैं उनको ही देख रही हूँ, वो कहीं बाहर ना हों.

हिंदी बीएफ देना फिर आनन्द ने दोनों हाथों का इस्तेमाल करके मोना की योनि को थोड़ा सा खोल दिया. सैम- तो शालू तुम्हें अगले 20 दिन तक मेरी गर्लफ्रेंड बनके रहना है बस और ऐसे करते मुझे अच्छा तो नहीं लग रहा है.

बंजारा सेक्सी ओपन

शुरू में कोचिंग क्लास जाते या आते समय उन लोगों से सामना होने पर बातचीत सिर्फ़ नमस्ते तक सीमित थी. ” की आवाजें निकलने लगी थी। अब मैं ऊपर से चूमते चूमते श्रुति के शरीर के नीचे की ओर आने लगा और जैसे ही मैं कमर के नीचे आया तो उसकी साँसें तेज होने लगी।मैंने उसकी पैंटी निकाल दी और पैरों को फैला दिया। एडल्ट फिल्मों में तो बहुत देखा था लेकिन आज हकीकत में भीचूत के दर्शनहो ही गए।मैं उसके चूत को चूमने लगा. ”जैसा कल्याणी ने बोला, मैंने कल्याणी का मुँह में मुँह चिपका कर एक धक्का पेला.

मेरी छोटी बहन वर्षा की चुदाई करवाने के बाद मुझे उस पे बहुत तरस आया, मैंने सोचा अब से मैं उसको कभी नहीं तड़पाउंगी, मुझे उस बेचारी पर बहुत तरस आता और वो भी अब मुझसे प्यार करती थी. बताइये बाबूजी, आप पहले मेरी चूचियों का मजा लेना चाहते हैं कि मैं आपके इस खड़े लंड को चूस चूस कर इसको सम्मान दूँ?मोहन लाल- पहले मैं तुम्हारे इन रसीले होंठों का रस पियूँगा बहू. सेक्सी सपना चौधरी सेक्सीपर किशोर बोला- पर एक शर्त पर?मैं आँखें फाड़ किशोर को देखने लगी, किशोर बोला- वो कहता है कि तुम उसे भी चोदने दोगी तो वो किसी को नहीं बोलेगा.

मैं कभी कभी उनके घर जाता और सोनू के साथ खेलता और भाभी से भी बातचीत और हँसी मज़ाक करता रहता.

अब मोना का वजन 50 के करीब आ गया था और मेरी बीवी का फिगर भी पहले जैसा दिखने लगा था जो कि जो सबके लंड खड़े कर दे. फिर जाते समय मैंने आज छाया को अपना कार्ड दिया औऱ कहा- कुछ भी काम हो तो फोन करना.

दोस्तो कैसी लगी मेरी हिंदी पोर्न स्टोरी? अगर आपका भी किसी के साथ कोई नाजायज़ रिश्ता बन गया है, तो मुझे जरूर मेल करें. मैंने कहा- सोनी, तुम इस तरह से खुल के बातें करती हो, तो कितनी प्यारी लगती हो. मैं कई बार मोना को फैंटसी की बारे में बात करना चाहता, पर वो हर बार मना कर देती ओर कहती कि तुम पागल हो गए हो.

मैंने कहा- चचीजान, इसमें शुक्रिया वाली क्या बात ये तो मेरा फर्ज़ था.

तो मैं डरते हुए बोला- ठीक है!माँ ने दरवाज़ा लॉक किया और मेरे बग़ल में सो गयी. उसके जाने के बाद मैंने वर्षा के खून वाली चादर ठीक की, वर्षा से पूछा- मजा तो आया ना?वर्षा बोली- माया दीदी, सच में मुझे पता नहीं था कि लंड ऐसा प्यारा होता है. मैं अब अपने मोबाइल में हिन्दी पोर्न मूवीज देखती थी और अपनी चूत को अपने हाथ से सहला कर शांत करती थी.

सेक्सी वीडियो कॉल डाउनलोडमेरे ऐसा करते ही ममता जोरों से चिहुंक उठी और जोर जोर से आहें भरने लगी. किड अपना पूरा लंड बाहर निकाल कर मेरी जीवनसंगिनी की गांड में धकेलना शुरू हो गया.

अनुष्का शेट्टी एक्स एक्स एक्स

उन्होंने कहा- अच्छा तभी… जब से मैंने एंट्री की है, आप तब से ही मुझे देखे जा रहे हो. मैं सोचने लगी- हे भगवान ये क्या… अब मुंह बोले अंकल से भी इस माया को चुदवाओगे?तभी किचन में अंकल आया, मजदूरों में सबसे बड़े वो थे जिसे मैं चाय देने घर पर आती तो अंकल बोलती थी,मुझे डर लग रहा था, मैं थोड़ी काम्प रही थी. उसके पैर मोड़े और अपने लंड को उसकी बुर पर रख कर थोड़ा सा अन्दर किया ही था कि वो मना करने लगी.

लड़के का नाम सुनील था, वो दिखने में बहुत कमज़ोर और काले रंग का था, उसका कद होगा कोई पांच फीट चार इंच… और लड़की का नाम मानवी था, वो दिखने में एकदम पटाखा माल थी. मैंने अपना सारा पानी दीदी की चूत में ही छोड़ दिया और ऐसे ही दीदी के ऊपर लेटा रहा. लाइन में सबसे आगे मेरा छोटा भाई खड़ा था, उसके पीछे सोनी और सोनी के पीछे में था.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग :पड़ोसन का चोदन देख कामुकता जागी-2. तुझे बेड पर कुतिया बना कर चोदने में जो मजा है, वह कहीं नहीं!उफ़ कुतिया क्यों ब्रायन? चुदवा तो रही हूँ चुपचाप. भैया ने ताकत से अपना लंड बाहर निकालने की बहुत कोशिश की, पर अब उन्हें भी बहुत दर्द हो रहा था.

अचानक उसके दोनों स्ट्राबेरी जैसे निप्पल पॉप करके मेरी मुठ्ठी की एक दरार, जो कि अंगूठे और उंगली के बीच होती है, वहां से निकल कर लाल लाल चमकने लगे. मैंने देर न करते हुए सीधा उसकी जीन्स उतार फैंकी और उसकी पैंटी भी जो कि उसके चुत के पानी से पूरी गीली हो चुकी थी.

आज वो किसी परी से कम नहीं दिख रही थी, मैंने तरीफ की औऱ बात ही बात में मैंने उससे पूछा- आपकी शादी को कितना समय हुआ?छाया ने उत्तर दिया- सात साल हुए.

मैंने अपनी आँखें मूंद ली और खुद को पूरा का पूरा उसके हवाले कर दिया। सिराज नाप तोल कर धक्के लगा रहा था. सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो गाना वालीखुद को बचाने के लिए मैं जैसे ही बोनेट पे लेट सी गयी तो मेरी टाँगें पकड़ कर उसने वो जबरदस्त स्प्रे मेरी चुत की ओर कर दिया।ठंडी बियर जैसे ही मेरी चुत से टकराई तो मैं तड़प उठी, मचलने लगी. साउथ की काजल की सेक्सी वीडियोअब जैसा कि मैंने आपको बताया कि वहां भीड़ ज़्यादा थी, इसलिए झूले पर बैठने के लिए हमें लाइन में खड़े होना पड़ा. फूफा ने मम्मी की नाइटी की डोर खोल कर उतार दिया और उनको जमीन पर लिटा दिया.

इसके बाद जहां सैम की मम्मी रुकी थीं, हम लोग उस होटल में गए और मैं उनसे मिली.

मेरे फ्रेंड्स इतने ज्यादा हैं कि कोई ना कोई फोन या मैसेज करता ही रहता है. मैंने दीदी को फोन पर ही बोल दिया था कि मैं आऊंगा और आपको पूरी नंगी देखूँगा, रेडी रहना. कन्धे पर तेल लगाने की वजह से मेरे हाथ उनके चूचे जो आधे से ज्यादा खुले थे, उनपे टच हो रहे थे और नीचे मेरा लंड उनकी चूत में घुसने को बेकरार था.

! तुझे पता भी है कि तू क्या बोल रहा है? ऐसा नहीं हो सकता ऐसा सोचना भी पाप है. अंजू- हाँ दीदी, हो सकता पहली बार देखा हो इसलिए… वैसे यहाँ के लड़के बहुत ख़राब हैं. कुछ देर बाद उसने मुझे उल्टा लिटाया और मेरी गांड को चाटने लगा और कहीं कहीं पर काटने भी लगा.

मां बेटी की सेक्सी पिक्चर

हम दोनों एक दूसरे के साथ एक दो बार फिल्म भी देखने गए थे और वहाँ पर चाचा ने मुझे किस भी करने की कोशिश की थी लेकिन मैंने उनको मना कर दिया क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि मुझे और चाचा को किस करते हुए कोई देखे. इस बार एक ओर मैं अपने लंड को भौजी के चूत पे रगड़ते हुए और दूसरी ओर उनके निप्पलों को दांतों से काटते हुए अपनी बहादुरी दिखाने का मौका ढूंढ रहा था. जो मैं कभी-कभी अपनी सहेलियों के फोन में देखती थी। थोड़ी देर में यश भी मेरा साथ देने लगे और मेरे होंठों को चूमते हुए मेरी चूचियों को दबाने लगे। मैं यह सोचकर खुश होने लगी.

मैंने उनसे फ्रेश होने के लिए कहा तो दोनों फ्रेश होने के लिए कमरे के ही वाशरूम में फ्रेश होने लगीं, इसके बाद हम तीनों ने नाश्ता किया.

चूंकि मैं कुछ देर पहले ही झड़ चुका था, इसलिए मैंने दीदी को करीब बीस मिनट तक चोदा.

कुछ मिनट के बाद उसके साथी ने अपना लंड पदमा की चूत पर सैट किया और एक जोर का धक्का दिया तो पूरा मोटा कलुआ लंड मेरी बीवी की चूत को शायद चीरता हुआ अन्दर घुस गया. लगभग 15 मिनट तक चूमने के बाद मैंने अपनी जीभ भाभी के मुँह में डाल दी और उनकी जीभ चूसने लगा. जापानी सेक्सी पिक्चर बताओभाबी छूटने की पूरी कोशिश कर रही थीं, लेकिन मेरी पकड़ भी बहुत मजबूत थी.

आओ ना समा जाओ मुझमे और कुचल डालो मुझे अच्छे से” बहूरानी ने फिर से मेरा लंड अपनी मुट्ठी में जकड़ लिया. मैं एकदम नंगी हो गई।वो मुझसे हाइट में काफ़ी छोटा था इसलिए मैं नीचे बैठ गई। उसने मुझे जफ्फी डाल ली. निशा ही क्यों? कहानी सुना रहे हो कि खुद बना रहे हो?”सुनाऊं या बनाऊं, तू सुनने से मतलब रखना.

उसकी आँखों से आंसू निकलने लगे, वो हिलने की पूरी कोशिश करती रही, मगर मैंने उसे हिलने नहीं दिया. इतने मैं उस आदमी ने मुझे हिलाया और हंसते हुए कहा- कहाँ खो गए करण? मैं विनोद.

अब तक आपने पढ़ा कि विक्रांत की व्ट्सएप फ्रेंड उसके दोस्त की बेटी थी.

इधर जोया, जो मोना की चूत चूसने की वजह से तेज तेज आवाजें कर रही थी, उसने राहुल को अपने पास बुला लिया. मैंने बगल में पड़ी किसी की सिगरेट उठा कर जलाई और सिराज की तरफ धुआँ छोड़ते हुए कहा- सिराज, तगड़ा ठोकते हो यार! कितने दिन का जोश जमा करके रखा था?सिराज ने हंस कर कहा- तेरा भी स्टैमिना जबरदस्त है छोकरी। एक साथ तीन को झेल गयी तू तो!सब हंस पड़े. चाची मुझे खाना देने के लिए जैसे ही झुकीं, तो उनकी चूचियां साफ नजर आ रही थीं.

बहन भाई की सेक्सी पिक्चर हिंदी चूंकि हमने कभी एक दूसरे को देखा नहीं था तो मैंने उनको फ़ोन पर बताया कि मैं स्टेशन के बाहर गाड़ी पार्किंग मैं उनका इन्तजार करूंगा. पर हर कहानी क्या सच में सिर्फ़ कहानी ही होती है? मेरा तो ख्याल है कि बिल्कुल नहीं… खैर! यह वार्ता फिर कभी… अब वापिस आते है अपनी कहानी पर!जिन पाठकों ने मेरी पिछली कहानी ‘हसीन गुनाह की लज़्ज़त’ नहीं पढ़ी है मैं उन पाठकों से अनुरोध करता हूँ कि इस रचना का संपूर्ण आनन्द लेने के लिए पहले आप मेरी पिछली कहानी पढ़ लें.

मैंने एक क्रीम उठाई और काफ़ी मात्रा में उनकी गांड के छेद पर लगा दी और अपनी उंगली पर लगाकर गांड के अन्दर तक क्रीम लगाने लगा. उन दोनों में से एक तो रीना की छोटी बहन कविता थी और एक उसकी मामी की लड़की जिसका नाम रेनू था. मैंने चाय दी और कहा- और कहिए संजय भाई कौन सा कमरा सिलेक्ट किया आपने?संजय- भाभीजी ये बाल्कनी वाला कमरा ही ठीक रहेगा.

ಕೇರಳ ಚೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ

क्या तुम इसे भी रोशनी जैसा कॉन्फिडेंट बना दोगे?”इतने में रोशनी चाय लेकर आई. वो मेरी बांहों में बिन पानी की मछली की तरह तड़प रही थी और मेरे हाथ उसके नंगे जिस्म को सहला रहे थे. उसका नंगा पिछवाड़ा और होने वालीभाभी के मटकते चूतड़बहुत मस्त लग रहे थे.

मैंने मौसा जी को नमस्ते की और अजय मेरे पैर छूने के लिए झुका तो मैंने रोक दिया. फिर दूसरे ही पल उसने टॉपिक चेंज कर दिया और हम यहां वहां की बातें करने लगे.

उसने मेरी मम्मी को कहा- चाची, आप मेरे साथ मेरे घर में सो जाऊ, मुझे डर लग रहा है.

उसके बिस्तर की सफ़ेद चादर पर बहुत खून गिर गया था पर मैंने चोदना शुरू ही रखा. उसके मोटे लंड से मुझे बहुत ही दर्द हो रहा था लेकिन मजा भी आ रहा था. फिर उसने मेरे हिप्स मसाज करना शुरु कर दिए फिर उसने मेरी पूरी बॉडी की मसाज कर दी और वो चला गया.

साथ ही सोने पे सुहागा ऐसा हुआ कि अजय भैया की नाईट शिफ्ट भी चल रही थी. ठीक है सब कुछ उतार के इस बिस्तर पर सीधे लेट जाओ, मैं तुम्हारी झांटों की मस्त वी शेप बनाता हूँ. फिर वो मोना की जांघों को प्यार से चूम कर वापिस उसकी योनि के पास आ गया.

बच्चों के लिए मैंने बात कर ली है इधर पास में ही एक चाइल्ड केयर सेंटर है, तू उससे बात कर लेना.

हिंदी बीएफ देना: भाभी को मैंने बहुत चोदा, इतना कि मैं जब दूसरी बार झड़ा तो भाभी के ऊपर ही गिर गया. उसने मेरा लंड पहले भी पकड़ा था पर हमेशा चड्डी के ऊपर से, आज पहली बार इस तरह से छुआ था.

मैं उन दोनों की बकचोदी सुन रहा था और इरशाद के लंड का मजा ले रहा था. फिर मैंने पूरा जोर लगा कर एक और धक्का लगाया तो मेरा लंड पूरा अन्दर चला गया. तभी खुद सोनी ने भाई से कहा- मुझे बीच में बैठने दे क्योंकि मैं लड़की हूँ, पीछे बैठने में मुझे डर लगता है कि कहीं गिर ना जाऊं.

मैं- अरे दीदी, आप मेरे पर गुस्सा क्यूँ कर रही हो, और इसका इलाज़ अभी नहीं करना, सही टाइम आने पर करना है.

चाचा कभी कभी मुझे अपनी मोबाइल में पोर्न मूवीज भी दिखाते थे और हम दोनों लोग एक दूसरे को किस भी करते थे जब मेरे घर कोई नहीं रहता था. उसकी चुचियां और गांड का शेप देख कर तो मन कर रहा था कि बस उस पर अपना हाथ फिराता ही रहूँ. दीदी की टांगों के बीच में चूत पर काले घने बाल देख कर मैंने दीदी से कहा कि आपने तो कहा था कि लड़कियों के बाल नहीं होते.