हिंदी पुरानी बीएफ

छवि स्रोत,जींस पेंट वाली सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

मराठी सेक्सी कामवाली: हिंदी पुरानी बीएफ, मैं एक अच्छे बच्चे की तरह उसके बताये हुए काम जल्दी से और बिना कोई शोर किये करने चला गया।जब मैं वापस आया तो मुझे एक बात याद आ गयी, मैं किचन गया और वहाँ से एक चाकलेट उठा लाया.

सेक्सी वीडियो खचाखच चोदा चोदी

मेरे रूम पे आते ही उसने इशारे से मुझे पास बुलाया, मैं उससे कुछ पूछता, उससे पहले ही उसने कहा- वाशरूम में छिपकली है, मैं कपड़े कैसे चेंज करूं?मुझे उसकी बचकानी बात पर हसीं और प्यार दोनों आ रहा था. हिंदुस्तानी सेक्सी वीडियो ओपनयहाँ दोस्त कम और दुश्मन ज़्यादा मिलते हैं फिर तुम्हारे तो बहुत से खास दोस्त हैं, जो काम बनते हुए भी बिगाड़ना चाहेंगे.

मैं तो चुदाई करता ही रहता था लेकिन आज चुदासी जवानी का नज़ारा ही कुछ और था. सेक्सी चूत की लंडदर्द हुआ तो उसकी आँखों में से पानी आने लगा था और वो कहने लगी- प्लीज मुझे छोड़ दो.

अब घर में और कोई तो था ही नहीं, न भाई न बहन, तो सारा प्यार सिर्फ बापू और पद्मिनी में ही बंटता जाता था.हिंदी पुरानी बीएफ: मैंने देखा कि इतने गोल गोल, गोरे गोरे मम्मे हवा में उछलते हुए मुझसे शायद कह रहे थे कि थैंक्यू शुभ.

मेरा पूरा नंगा पेट, खुली नाभि और ब्लाउज में उभरे हुए चूचे देख कर कोई भी पागल हो जाता.उसने जवाब दिया कि मैंने उससे कई बार कोई ख़ास लड़की लाने के लिए बोला और उसने उस काम के लिए मुझसे जितने पैसे माँगे मैंने दे दिए.

भोजपुरी एक्ट्रेस की सेक्सी वीडियो - हिंदी पुरानी बीएफ

मोटे, गोरे, गोल मम्मे- चौड़ी मांसल कमर, सुन्दर मांसल पेट, अच्छी सुन्दर और मोटी सेक्सी गोरी टांगों और जांघों के बीच बिन बालों वाली पाव रोटी सी गोरी चूत, जिसमें एक छोटा सा चीरे का निशान था, जिसके अंदर चूत का वह हिस्सा था जिसमें मेरा बड़ा और मोटा लण्ड जाने वाला था.सुबह के 4 बज चुके थे, मगर मुझे नींद नहीं आ रही थी, बार बार फूफा जी का लंड मेरी आँखों के सामने घूम रहा था और मेरा मन कर रहा था कि एक बार और फूफा जी से चुदाई करवा लूँ क्योंकि सुबह फूफा जी अपने गाँव चले जाएँगे और फिर पता नहीं ऐसा मस्त लंड मिले या ना मिले!इसलिए मैं एक बार फिर से उठी और धीरे धीरे दरवाजा खोल कर फिर से फूफा जी के कमरे में चली गयी और दरवाजा लॉक कर दिया.

तभी उसने अपने एक दूध को हाथ में पकड़ कर उसका निप्पल मेरे होंठों पर रख दिया. हिंदी पुरानी बीएफ फिर मैंने उससे, उसके माथे पर किस करने की अनुमति माँगी… और उसने आँखें बंद कर के सिर हाँ के इशारे में हिलाया.

बापू ने पद्मिनी को उसकी पीठ के बल औंधा लिटा दिया… और खुद ने पद्मिनी की गांड पर अपना लंड रगड़ना शुरू कर दिया.

हिंदी पुरानी बीएफ?

रात को सबने साथ में खाना खाया और खाना खाते वक्त सुना कि पापा दोनों चाचा से कहीं जाने की बात कर रहे थे. और वो इतना टाइट पकड़ के चूस रहीं थीं कि मैं कुछ ही पल में उनके मुंह में ही ढेर हो गया. फिर मजा आने लगता है, फिर शौक हो जाता है फिर बिना मराए चैन नहीं पड़ता।यह अलग बात है कि दोस्त कभी कभी उस दोस्त को खुश करने के लिए उससे भी खुद गांड मरवाते रहते हैं। उसे किसी और चिकने की दिलाते हैं और वह लौंडा लौंडेबाज भी हो जाता है.

मुझे याद है, जब मैंने हाईस्कूल पास किया था, तो सभी लोग बहुत खुश हुए थे. वो बोली कि उसने ऐसा कभी नहीं किया और सुना है कि उसमें बहुत दर्द होता है. मैंने उससे पूछा कि इतना मस्त लंड चूसना किधर से सीखा है?वो हंस दी लेकिन कुछ बोली नहीं, उसकी इस अदा से मुझे पक्का यकीन होने लगा था कि साली लंडखोर है और चुदी चुदाई चुत है.

भी मम्मी भी उठी और चाय बनाने किचन में गयी!मम्मी को देख के शीतल ने कहा- भैया, साली की गांड देख रहे हो? मन हो रहा कि मारू अभी सुबह सुबह ही!मैंने कहा- जा मार ले!उसने कहा- ठीक है… लेकिन तुम भी पेलना!मैंने कहा- ठीक है!फिर उसने प्रभा को आवाज़ लगायी- ए रंडी, नंगी होकर चाय बना… हम चोदने आ रहे हैं तुझे!प्रभा ने कहा- मैं वायग्रा खा लेती हूँ, ज्यादा जोश आएगा तो तुम लोगों को भी अच्छा मज़ा दूंगी. मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम नरेंद्र जैन है, मेरी आयु 47 साल है, मैं एक सरकारी कर्मचारी हूँ, अच्छा वेतन पाता हूँ. मैं बतायी गई जगह पर पहुँचा तो वो औरत गजब का मेकअप किए हुए सूट सलवार में बैठी छज्जे पर मेरे आने का इंतजार कर रही थी.

इस बीच मैंने सोचा क्यों न कुछ मजे किये जायें!हमारे ऊपर कम्बल तो था ही इस बात का फायदा उठाते हुये मैंने अपना एक हाथ उसके पीछे से घुमा कर उसकी कमर पर रख दिया. पहले उसने अपना पजामा उतारा, जिससे उसकी नंगी टांगें दिखाई देने लगीं.

सगाई हो गयी तो अम्मी अब्बू ने बुलाया और कहा- बेटा आमिर, नूरी खाला से तो तुम मिल ही चुके हो, एक जरूरी काम से तुम्हें नूरी खाला के पास कश्मीर जाना होगा, उनका बहुत जरूरी काम है हम शादी बीच में छोड़ कर जा नहीं सकते और वहाँ जो खाला कहें, वह हमारा हुक्म मान कर पूरा करना.

मेरे दोस्त का तो पहले से सब सेट किया हुआ था, मैंने अपने दोस्त की गर्लफ्रेंड को भी चोदा था और मेरे लिए लाने के लिए बोला था तो वो अपनी सहेली को ले आई थी.

फिर मैंने कहा- ला मेरी जान पिला मुझे तेरा गरम पानी…ये कहते हुए मैंने भाभी के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया, पेटीकोट ‘सररर. उस नाइट में मेरा फ्रेंड अपने फ्रेंड को मेरे घर ले कर आ गया और मेरी वाइफ को बोला- देख लो भाभी… ये मेरा फ्रेंड है. हम ससुर बहू यूं ही झड़ते हुए एक दूजे की बांहों में कुछ देर समाये रहे.

उसके इतना कहते ही मैं उसकी चूत में ही झड़ गया, मेरा ढेर सारा माल उसकी चूत में ही समा गया और मैं निढाल होकर उसके ऊपर ही गिर गया. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है मेरे अंदर भरी हवस की … यह मेरी सच्ची कहानी है. राज ने मुझसे पूछा- मंजू जी नहीं आयी?तो मैंने उसे बताया कि वो रूम पर आराम कर रही है.

प्रेरणा- आप वहीं 5 मिनट रुकिए, मेरा ड्राइवर कार लेकर आता ही होगा, आप उसमें बैठ जाना, वो आपको ले आएगा.

भाभी अब बहुत तेज तेज सिसकारियाँ ले रही थीं और बहुत गरम हो चुकी थीं. अब इन्तजार है कि कोई और ग्राहक मिले और आशा करता हूँ कि कोई औरत ही मिले. मैं-आप पोर्न भी देखती है?सुकन्या- नहीं बस कभी कभार ऐसे ही!मैं- किस तरह के वीडियो ज्यादा पसंद करती हैं?सुकन्या- मैंने बताया न ज्यादा नहीं देखीं है लेकिन वो वाली जिनमें लड़की के साथ रफ़ तरीके से करते हैं, बाल खींचते हैं, मुंह में जबरदस्ती डालते हैं.

अब वे रुक गए, बोले- मैं धीरे धीरे करुंगा! और वे बाकी लंड भी पेलने लगे. जब मैं वापिस आई तो उसने दरवाजा बंद किया हुआ था और उसे दरवाजा खोलने में कुछ देर लग गई. पूरे रास्ते मैं यही सोचता रहा कि मॉम को कैसे सरप्राइज दूंगा, दीदी को कैसे सरप्राइज दूंगा.

होली वाले दिन उसने अपनी तीन सहेलियों के साथ मिल कर अपने युवा नौकर से भांग बनवा कर पी ली और सबको चढ़ गयी.

मैंने नीचे से उसकी साड़ी और पेटीकोट को खोल कर निकाल दिया और उसकी लाल रंग की पेंटी को भी निकाल कर अलग कर दी. आधा लंड डालने के बाद मैं थोड़ी देर रुका रहा, जब नेहा का दर्द कम हो गया तो मैंने एक और झटका मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी गर्म भट्टी में समा गया.

हिंदी पुरानी बीएफ वो मुझसे बोला कि मैं अपनी चूत उसके मुंह पर लाऊँ, मैं अपनी चूत उसके मुंह पर ले गयी और वो मेरी चूत को चूसने लगा. फिर मैं उसके पैरों से हल्के हाथ से मसाज करते हुए, कूल्हों से होते हुए गर्दन और पीठ तक पहुंचा.

हिंदी पुरानी बीएफ बस फिर एकदम से सैलाब निकल गया और हम दोनों शांत होकर एक दूसरे से चिपक गए. मेरे आने के बाद वो फ्रेश होने चली गईं और नहा कर बिना कुछ पहने ही मेरे सामने आ गईं.

मेरी चूत में से मेरा लावा फूटने लगा था और फूफा जी के लंड के साथ वो बाहर की तरफ़ बहने लगा था, अब मुझसे फूफा जी का लंड और सहन नहीं हो रहा था इसलिए मैंने फूफा जी को रुकने के लिए कहा.

देशी पोर्न वीडियो

फिर शाम होते ही दीदी ने मुझे कहा कि फ्रेश हो आओ, मैं भी फ्रेश होकर आती हूँ. मैंने उसके गालों पर किस किया और गले से लगा लिया और उनकी सपाट पीठ को सहलाने लगा. उनकी इस बात से मुझे याद आ गया कि जब भी बुआ उदास या गुस्से में होती थीं तो मैं उनसे मज़ाक करके उनको खुश कर देता था.

जैसे ही मैंने उस रूम के दरवाजे से चाभी वाले छेद में से झाँक कर देखा, तो मैं तो देखता ही रह गया. तो यारो, यह थी मेरी अपनी बड़ी साली रेखा रानी की साथ चुदाई के संबंधों की शुरुआत. अब मनोहर मेरी चूत के पास जो हल्के हल्के बाल थे, उनको सहलाने लगा और उसने मेरी चूत में अपना मुँह रख दिया और नाक से अपने चूत को मेरी सूंघने लगा.

उनके विरोध के बावजूद मैं उनके ऊपर चढ़ गया और उनके शरीर को अपने शरीर से दबाए रखा.

तभी उसका फोन बजने लगा, फोन रिसेप्शन से था, उसने कहा- मैं अभी कहीं बिजी हूँ, मुझे डिस्टर्ब मत करो, मैं थोड़ी देर बाद आपको फोन करती हूँ. कुछ ही देर में अलीगढ़ आने वाला था, तो वो बोली- राहुल, हम स्टॉप से पहले उतर जाते हैं. और मैंने हल्का सा धक्का लगाया तो मेरे लंड का सुपारा उसके अन्दर चला गया.

बस फिर क्या था वो कभी मेरे मम्मों को दबाता तो कभी मेरे गांड की छेद में उंगली करता. उसके बाद उन दोनों को मैंने अपने मोटर साईकिल से उनके घर के पास तक छोड़ दिया, उसके बाद मैं अपने दोस्तों को लेकर घर चला आया. मैंने नोट किया कि वह मोटर साइकिल सोसाइटी में से तो किसी की नहीं है.

बस फिर तो हम दोनों ही नंगी होकर सोने लग गयी और वही हुआ धीरे धीरे हम दोनों एक दूसरे से खेलने लगी. वह ब़ड़े प्यार से अंडों को सहला रही थी और तेज़ तेज़ सिर को आगे पीछे करती हुई लंड को मुंह में अंदर बाहर, अंदर बाहर, अंदर बाहर कर रही थी.

उसे पता था कि वो इस हालत में घर नहीं जा सकती, इसलिए वो कैसे ना कैसे ऑफिस पहुँच गई. पिटाई का अंदेशा था तो जो वह कर रहे थे, जरूर वह गलत ही था, क्योंकि पहले शाहिद शाजिया के केस में भी इसीलिये तमाशा हुआ था।लेकिन उस तमाशे से भी उसे उसके सवाल का जवाब कभी मिल नहीं पाया था और इस बार भी उम्मीद नहीं कि मिल जाये. तभी कविता ने ज्योति से पूछा- ज्योति ये बता कि तुझे चुदाई में कितना मजा आया?ज्योति ने जवाब दिया- दीदी मुझे बहुत मजा आया, आप दोनों का बहुत बहुत धन्यवाद.

तो दोस्तो, वो बस के अन्दर आई, उस समय मैं अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी को पढ़ रहा था.

मैंने उसकी स्कर्ट के अन्दर हाथ डाला और उसकी पैंटी को खींच कर उसके पाँव में गिरा दिया. मैं चिल्लाया- जीजू, पूजा को छोड़ दो वर्ना मैं अभी रीनू (मेरी छोटी बहन और रमेश की बीबी) को बुला के तेरी हरकत दिखाता हूँ. मैंने पूछा- आपका नाम क्या है?तो भाभी ने हँसते हुए कहा- मंजू दीक्षित.

थोड़ी देर बाद मेरा लण्ड फिर खड़ा हो गया लेकिन पूजा थोड़ी थोड़ी सो रही थी. बोलिए।”छाती की लकीरें देखने के लिए तुम्हें ब्लाऊज और ब्रा के बंधन से मुक्त होना पड़ेगा।”ठीक है.

तभी वो तपाक से बोली कि तो फिर जल्दी से मेरे फार्म हाउस पर आकर हम तीनों को शाँत कर दो और अपनी दुगुनी फीस लेकर दिल्ली चले जाओ. अब भी कभी कभी बात हो जाती है तो बोलती हैं कि बहुत मिस करती हूं तुम्हें. उसी वक्त मैंने सोच लिया कि आज मौका अच्छा है, घर पे कोई नहीं है, आपा को चोदने का इससे अच्छा मौका नहीं मिलेगा.

राजसथानी सेकसी विडीयो

अगले दिन घर पर यह बोल कर वो मुझे ले गया कि हम लोग हनीमून मनाने जा रहे हैं और कुछ दिनों बाद आएंगे.

मैंने उसके गले पर अपनी जीभ से किस करना चालू कर दिया, तो उसने मुझे अपने हाथों से जोर से दबा लिया. भाभी बेडरूम के अंदर आकर कहने लगी- तुम पीछे से मुझे बांहों में भर कर जोर से भींच कर ऊपर उठा दो. तो यारो, यह थी मेरी अपनी बड़ी साली रेखा रानी की साथ चुदाई के संबंधों की शुरुआत.

मैंने जब अपने लंड के नीचे सील पैक चुत का अहसास किया तो मैं मस्त हो गया और मैं उसे अब प्यार से किस कर रहा था. मैं जब कमरे के पास पहुँचा तो वे तीनों शशि, सुमेर व देवेश कमरे में थे, मुझे बाहर उनकी बातें सुनाई दे रहीं थीं. बाय-बाय सेक्सीमैंने जानबूझ कर पूछा- बाहर किस लिए चलना है भाभी?भाभी बोलीं- मदद करने का वायदा किया था, अब भूल गए हो क्या?मैंने हंसते हुए कहा- बस कन्फर्म कर रहा था भाभी.

उनकी गोरी टांगें एकदम खुली हुई थीं और वो आदमी भाभी के ऊपर चढ़ कर उनकी चूत में अपना लंड डाले हुए धकापेल चुदाई कर रहा था. धकापेल चुदाई चलने लगी और अंत में दीदी के दो बार झड़ने के बाद मैं भी उसकी चुत में ही झड़ गया.

मैंने मन में सोचा कि आपने पूरा नहीं बोला भाभी कि किसका इन्तजार करती रहती हो. वो जब मनोरमा के कमरे में वापिस आई, तो उसने गीता से कहा- पूरी नंगी हो जाओ. उसका बेडरूम भी मेरी तरह पहले फ्लोर पे था, मैं उसके कमरे के दरवाजे पर गया, दरवाजा थोड़ा सा खुला था, वो बेड पे लेटी सोई हुई थी, उसने सफेद पैंटी और सफेद बनियान जैसी टॉप पहनी हुई थी.

कुछ देर धक्के मारने के बाद वो रुक गया और फिर देखा कि वो दोनों अपना अपना चूतड़ मिला कर एक हो गए हैं और दोनों का मुँह एक दूसरे से उल्टी तरफ था. इसी सास ने अपने लड़के को बहुत ही भड़काया था और मेरी एक ना सुनी कि उसने मेरे साथ क्या करवा दिया. उसने अपनी पैंटी को अपने हाथ से साइड में करके मेरी जीभ को अपनी चूत पर लगाने के लिए जगह बना दी.

!मैंने कहा- देखती जाओ रानी…मैंने कपड़े से चुत साफ की और उसकी चुत पर अपना मुँह रख कर चुत चाटने लगा.

मैं अपनी सहेली के भाई के कपड़ों को निकालने लगी और मैं कुछ देर में ही उसको नंगा कर दिया. मुझे याद आया कि वो घर पर अकेली हैं क्योंकि उनके दोनों बच्चे उनकी नानी के यहां गए थे और चाचा काम पे गए थे.

उस दिन सुबह जब पापा दादाजी को दुकान छोड़ने गए और दादी नीचे काम कर रही थीं. मैंने फिर कहा- दीदी, तुमने तो मुझे दिखाया तो है ही नहीं, अब मुझे थोड़ा छू ही लेने दो. ऐसा लग रहा था मानो उनके गोरे चुचे सामने से दावत दे रहे हों कि आओ और हमको खा जाओ.

प्रभा ने फटाफट ये कपड़े पहन लिए! ब्रा या पैंटी दोनों ही शीतल ने मम्मी को नहीं पहनने दिए. काजल दीदी मुझे देखकर खुश हो गईं, क्योंकि उन्होंने तो सुबह मेरा लंड चूसा था लेकिन ज्योति शर्मा रही थी. भाभी को दर्द हो रहा था लेकिन फिर भी वो बोल रही थीं- डाल दो अपना लंड मेरी गांड में… फाड़ दो इसे भी.

हिंदी पुरानी बीएफ ”मैं जल्दी से नहा कर जैसे ही दरवाजा खोल कर देखा कि कोई नहीं है तो मैं पूजा को बाहर करने लगा. पहले तो मैंने उनकी नंगी चूत को देखा, एकदम सफाचट चूत, आज ही शेव किया था.

ब्लू फिल्म सेक्सी वीडियो दिखाइए

बस वही सब तुम करो। मेरे लिये राशिद बन जाओ, फिर मैं तुम्हारे लिये बन जाऊंगी।”मेरे मस्ती से सराबोर दिमाग को झटका सा लगा और मैं उसे देखने लगी जो मंद-मंद मुस्करा रही थी।चलो ऐसे ही सही…अब वो लेट गयी और मैं अपनी दोनों टांगें उसके इधर-उधर करके उस पर लद गयी और ठीक उस दिन के अंदाज़ में उसे रगड़ने सहलाने लगी। मैंने महसूस किया कि उसके दूध मेरे दूध के मुकाबले थोड़े नरम थे, शायद इस्तेमाल के बाद यह फर्क आता हो. भाभी ने अपने पैर फैला लिए थे, जिससे अब उनकी चूत की लाइन साफ़ साफ़ नज़र आने लगी थी. उन्होंने मुझे बांहों में जब उठाया तो मुझे अलग सा महसूस हुआ, मेरे दूध को चूम कर अंकल बोले- बड़ी मस्त है लग रही है तू मेरी गोद में, मेरी बाहों में तू वन्द्या!और ले जाकर बगल से जो बिस्तर था, उसमें मुझे पटक दिया.

मैंने एकता की चुत से शुरू किया और अन्नू की चुत में उंगली गीली करके डालने लगा. मैंने कहा- आपको ऐसा क्यों लगता है?तो खाला ने सारा की पूरी कहानी बताई, खाला बोली- इमरान मेरे भाई का बेटा है, उसी ने जिद कर के सारा से शादी की थी लेकिन शादी के बाद पता चला उसका लंड बहुत छोटा था और वह सारा को चोद ही नहीं पाता था. सेक्सी वीडियो बुर्का चोदा चोदी वालाएक बार भाभी और मैं चुदाई करने में मस्त थे तो तभी अचानक दरवाजे की घंटी बजी.

एक दिन मेरी नानी की तबीयत बहुत खराब हो गई और मम्मी को उनके पास जाना पड़ा.

ये सब रासलीला अन्नू सामने बैठ कर देख रही थी और हमारे मजे ले रही थी. मैं तो उसके मम्मों पर और चूत पर हाथ मारा ही करती थी, मगर अब उसका हाथ भी मेरे मम्मों पर पड़ने लग गए.

अब दीदी ने सिगरेट का सुट्टा खींचा और धुआँ जीजा के लंड पर छोड़ते हुए लंड को अपने मुँह से चचोरने लगीं. जैसा कि आपने पिछले भाग में पढ़ा था कि मेरे ड्राइवर को अपने जाल में फंसा कर चुदाई का मजा लेने की प्लानिंग की गई थी. चन्द्रमुखी: जब अपनी बीवी बहुत प्यारी लगती है, उसकी डाँट झगड़ा भी शहद से लिपटा प्रतीत होता है.

फिर उसने अपनी स्पीड को तेज़ कर दिया, मेरा शरीर कसने लग गया और मैं चरम सीमा पर पहुंच गयी.

मुझे अपने ऑफिस के काम के चलते भाभी से बात करने का अधिक टाइम नहीं मिल पा रहा था. वो खड़े हुए तो मैंने जल्दी से उनकी पैन्ट के बटन को खोला और पैन्ट नीचे कर उनकी अंडरवियर भी नीचे खिसका दी. वहां सब लेडीज एक ही बड़े रूम में रहती हैं इसलिए मुझे साथ में नहीं ले जा सकती थीं.

सेक्सी जुनापाणीमैंने देखा कि मेरी बड़ी बहन सोनिया टाँगें फैलाकर अपनी चूत रगड़ रही है और आँखें बंद करके सिसकारियां ले रही है. आपको मेरी सेक्सी कहानी कैसी लग रही है, मुझे इमेल करके अपने विचार मुझ तक अवश्य पहुंचायें!धन्यवाद.

आंटी की सेक्सी

उसने कहा- मेरा हो गया, तुम्हारा कब होगा?मैंने कहा- चुत में डालूँ तो जल्दी से हो जाएगा. आपको देखकर मैं तो दीवाना हो गया हूँ!मैंने हल्की सी आवाज में बोला- आई लव यू खाला! आपको मालूम नहीं है मेरी क्या हालत है. मनोहर बोला- चाचा वन्द्या की चूत को जबरदस्त चोदूंगा, चाहे फट क्यों न जाए.

मैं उसको यही समझ कर चोदने की तैयारी में था कि साली को लंड खाने की आदत है और इसको बहुत दिनों से किसी का लंड मिला नहीं होगा इसी लिए लंड लंड चिल्ला रही है. उससे कुछ बात हुई औऱ बातों बातों में उसने बताया कि वो पीजी कर रही है. मैं जैसे जैसे सीढ़ियों से ऊपर अपनी क्लास की तरफ बढ़ रहा था, मुझे कुछ आवाज़ें सुनाई देने लगीं.

तभी लालजी बोला- तुमनेहिंदी ब्लू फिल्ममोबाइल में देखी है?तो पीयूष बोला- सारा दिन लालजी भैया यही करता हूं. जैसे ही अपने हाथ से लंड को दबाया, लालजी तड़प उठा और कसके मुझसे लिपट गया. फिर मैंने उसके दिए गए नंबर पर फोन किया तो उसने बोला कि थोड़ी देर बाद इसी नम्बर पर फोन करूंगी.

पीछे से जकड़ेगा तो ज़्यादह ताक़त लगा पायेगा… समझ ले तुझे इनका कीमा बनाना है. इतने में ही पता नहीं क्या इसमें जादू हुआ कि मेरा पूरा दर्द गायब होने लगा और धीरे-धीरे चूत और गांड दोनों जगह अजीब सी गुदगुदी लगने लगी.

और दो मेरा लण्ड अंकुश क़ो दिखाने लगी- देख भोसड़ी के… तेरे बाप का लण्ड तेरे लण्ड से लम्बा और मोटा है.

आप चाहो तो मुझे फेसबुक पर देख सकते हो लेकिन मैंने दूसरी गर्लफेंडस् नहीं बनाई इसलिये क्योंकि मैं उसे शायद अब तक भूल नहीं पाया या शायद मैंने कभी कोई गर्लफेंड बनाने की कोशिश ही नहीं की. विनोद खन्ना की सेक्सी पिक्चरअब तुम दोनों को सेक्स करते देख मेरे अंदर इतना सब कुछ बोलने की हिम्मत आई. कर्नाटक सेक्सी ओपनमुझे नवीन की किस्मत से जलन होने लगी थी कि इतनी मस्त परी जैसी जवानी को एक देहाती नौकर चूस रहा है. उनकी नजर मेरे खड़े लंड पर पड़ी वो अपने हाथों को आश्चर्य से अपने मुँह पर ले गईं और बोली- ओ गॉड इतना बड़ा.

अब एकता को भी अच्छा लगने लगा और अब वो खुद ही लंड ऊपर नीचे होते हुए पूरा लवड़ा अन्दर बाहर लेने लगी.

फिर सोनिया ने मेरी शर्ट को भी खोल दिया, जिससे हम दोनों ऊपर से नंगे हो गए. खाला ने लाल लहंगा, चोली चुनरी और ढेर सारे गहने पहने हुए थे और साथ में गजरा और फूलों से शृंगार किये हुए स्वर्ग से आयी हुई अप्सरा लग रही थी. ऐसा करते हुए मैंने कुछ ही देर में उसका पानी निकाल दिया और फिर उसके पानी को अपने मुँह में ले कर पी गया.

ये सब सेक्स की प्यासी हैं, मतलब हम सब समलैंगिक हैं, जरूरत पड़ने पर कोई भी किसी के साथ चला जाता है. वो अपनी टाँगें थोड़ी मोड़ कर फैला कर लेट गयी, मैं उसकी गोरी चिकनी टांगों के बीच में आया और अपना लंड उसकी चूत पर रख कर रगड़ने लगा. तब मैंने कोशिश करते हुए आखिर वो झिर्री तलाश ही ली, जिसके अन्दर मेरा टोपा घुस गया, फिर मैंने थोड़ा जोर लगा कर अपना आधा लंड नताशा की गांड में घुसेड़ दिया! अब आर्थर ने फिर से अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ानी शुरू कर दी, और उसके समान्तर घुसे मेरे लंड को भी उसी अनुपात में चुदाई तेज करनी पड़ी!नताशा थोड़ी बहुत कुनमुनाई, लेकिन उसे कुछ विशेष परेशानी हुई हो, ऐसा मुझे नजर नहीं आया.

ब्लू फिल्म दिखाओ चुदाई

दस मिनट की चुदाई के बाद सोनिया बहुत गरम हो गयी और नीचे से ही अपनी गांड उछाल उछाल के मेरा लवड़ा लेने लगी. वॉशरूम का गेट खुला था और उन्होंने कुछ नहीं पहना था, उन्होंने अपने पेटीकोट को ऊपर चढ़ा कर अपनी चूचियों को छुपा कर बाँध रखा था. वाओ… गोल संतरे जैसे चुचे जिंदगी में पहली बार मेरे सामने थे, मैं तो झपट पड़ा उस पर पहले तो मैंने उन दोनों चुचियों को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर प्यार से सहलाया, फिर दबाया और फिर जोर जोर से मसलने लगा.

पद्मिनी के मुँह में लगे हुए अपने वीर्य को साफ़ करके उसने उसे बहुत प्यार किया और फिर उसे बांहों में लेकर सो गया.

वीर्य की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया.

खुद पद्मिनी ने अपनी कमर को थोड़ा सा ज़्यादा बापू के जिस्म से दबाया और बापू के लंड को अपने पेट के नीचे मोटा और तना हुआ महसूस किया. जब उन्होंने दो दो तीन तीन पैग पी लिए तो एक दोस्त बोला- यार भाबी को क्यों भूल गए… उसभी तो यह अमृत पिलाओ. एक्स एक्स एक्स सेक्सी भेजो सेक्सीकामिनी- तुम्हारा वो कितना बड़ा है ना…मैंने हिम्मत दिखाई पर थोड़ा मजाक के लहजे में बोला- यार अगर तुम्हें यह पसंद आ गया हो तो आज के लिए ये तुम्हारा ही है!यह सुनते ही कामिनी मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगी.

फिर उसने अपनी स्पीड को तेज़ कर दिया, मेरा शरीर कसने लग गया और मैं चरम सीमा पर पहुंच गयी. उसके जिस्म की गर्मी मेरा लन्ड भी नहीं झेल पा रहा था! मानो भट्टी में तप रहा हो. सच में मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, जब आपकी जैसी इतनी सेक्सी लड़की मिलेगी तो जरूर बना लूँगा.

कौन तुम्हें कुछ कह रहा है?मैं चुप हो गया और कुछ सोचते हुए बोला- ये साड़ी का थान कैसे खुलेगा?मुझे क्या पता, ये तुम्हारा काम है तुम जानो. शबाना से कैसे बात हुई और कैसे उसको दोबारा अपने घर पर बुला कर चोदा, ये जानने के लिए मेरी दूसरी कहानी का इंतजार करें.

तैयार न होती तो यह न कहती कि कल की कल देखेंगेबल्कि साफ़ साफ़ मना कर देती.

मैं उसको किस करता हुआ सीधा बेडरूम में ले गया और नेहा को बेड पर लेटा दिया. उस पर एक तौलिया बिछा कर पहले मैं पीठ के बल लेटा और डॉली को अपने मुँह के पास खींचा. घर वापिस आ कर मैंने उसे बिंदु के हवाले कर दिया और उससे कहा कि इसको समझाओ ताकि यह समझ जाए कि इसकी ड्यूटीज क्या क्या हैं.

सेक्सी वीडियो घचाघच घचाघच उनकी चूचियों का मैं इतना बड़ा दीवाना था कि जिस दिन वो आतीं, उस दिन मुझे मुठ मारनी पड़ती थी. धीरे-धीरे उनकी स्पीड बढ़ती ही जा रही थी और वो लगातार धक्के लगा रहे थे.

उस पर मनोरमा ने नमक छिड़क दिया, मनोरमा ने उससे कहा- तुम घर पर बोल दो कि मैं कुछ लेट आऊंगी और तुम मेरे साथ डॉक्टर के पास चलो. उस रात को मैं ये देख कर अपने कमरे में आया और सोचा कि बहन को लौड़े की ज़रूरत है, मुझे घर पर हो रहे रोज़ के कलेश को भी खत्म करना था, तो मैंने सोचा कि बहन की चुत की खुजली मिटानी पड़ेगी. मैं काफ़ी देर से देख रहा था कि इस बात से चाचियां हल्के से मुस्कुरा रही थीं.

चूत और लंड का वीडियो

एक दिन उसने कहा कि पता नहीं कैसे वो लड़का मेरी फ्रेंड की चुत को चाटता है. देखते ही देखते एक तेज स्वर के साथ के साथ मैं पहले स्खलित होने लगा मेरे स्खलन से हुए लन्ड के तनाव और गर्म वीर्य से मंजू भी मेरे साथ साथ में स्खलित हो गयी, उसकी सिसकारियों से कमरा गूंज उठा. उस रात मैंने उन्हें दो बार ही चोदा था क्योंकि इतने में ही सुबह के साढ़े चार बज गए थे.

उसके बाद कई बार चेन्नई जाना हुआ, जब भी जाता तो अभिलाषा खुद तो मेरा लंड लेती ही थी, मेरी पसंद की दो तीन लड़कियों की चूत और दिलवाई. पद्मिनी ने जवाब दिया- मैं इस्तरी कर चुकी हूँ बापू… कल रात आप कितने बजे वापस आए थे, मुझको नींद लग गयी थी.

इससे पहले मैं जब स्कूल के आखिरी साल में था, तब मॉम पापा के साथ ही सोता था.

चूत पर हाथ लगाया तो पूरी गीली हो रही थी, जिससे उसकी पैंटी भी गीली हो रही थी. उसके पैर मोड़ने की वजह से तो उसकी छोटी सी स्कर्ट और भी ऊपर उठ गयी थी. उनके बाल खुले हुए थे, सामने की लटें बार बार सामने आ जातीं तो भाभी काम की उलझनों का भाव अपने चेहरे पे लाते हुए उनको पीछे की ओर धकेल देतीं.

एक दिन वह दरवाजे पर खड़ा था, मैं कमरे से बाहर निकली तो उसने स्माइल की, मैंने भी स्माइल की, इस तरह दोनों में धीरे धीरे बात का सिलसिला प्रारंभ हो गया. अब उसने मेरी स्कर्ट को निकाल दिया और मेरे ऊपर के कपड़े को भी निकाल दिया और मुझे अपनी शर्ट और पैन्ट निकालने के लिए बोला. अंकल बोले- मजा आ गया यार… तुझे कैसे लगा?मैं बोला- अंकल पहली बार मुझे इतना मजा आया… बचपन की इच्छा आज पूरी हो गई!अंकल बोले- कैसे?मैं बोला- अंकल, मुझे बचपन से ही आप जैसे बुड्ढे लोगों को नंगा देखना बहुत अच्छा लगता था लेकिन कभी सोचा नहीं था कि एक दिन उनके साथ मजा करने को भी मिलेगा।धन्यवादआपका दोस्त विनोद[emailprotected].

अब मिंटू ने मुझे चोदना शुरू किया, उसका लंड मेरी बेचारी सी चूत में अपनी जगह बनाने लगा तो मुझे भी कुछ रहत मिली दर्द से… कुछ ही देर बाद मैं उसकी पीठ को पकड़ कर उससे चुदवा रही थी।वो धक्के देने लगा और मैं उसका साथ देने लगी।वो मेरी चूत को चोदते हुए झड़ गया और मैं भी उसके साथ झड़ गयी।हम दोनों कुछ देर लेटे रहे फिर बाथरूम में गए और एक दूसरे को साफ़ किया.

हिंदी पुरानी बीएफ: वो सिसक उठी- आह… माँ…उसकी सिसकारियों ने मुझे और जोश दिला दिया और मैं उसके खूबसूरत मम्मों पर भूखे भेड़िये की तरह टूट पड़ा और उन्हें कभी चूसता. मेरे होंठों को छोड़ कर दिनेश बोला कि चाचा अब वन्द्या बहुत ज्यादा चुदासी हो गई है.

सससस…मैंने नेहा की टांगों को फैलाया और घुटनों पर बैठकर लंड उसकी चूत पर रखा, वह चुदने बेताब थी. मेरे दोस्त के पास बाइक थी तो दोस्त को बोला कि उस एड्रेस पे पहुँचा दे. वो बोली- छोड़िए ना… क्या कर रहे सुबह सुबह…मैंने कहा- प्यार कर रहा हूँ.

उसने कहा कि एक काम करते हैं, जब घर पर कोई नहीं होगा, तब हम आराम से मज़े से करेंगे.

आआआ… फट गई! आआआआ… ओओओओओ… मर गई! प्लीज निकाल लो…”आर्थर ने घबरा कर अपना लंड बाहर निकाल लिया, तो नताशा कराहते हुए बोली- ओओओ ओओओह… कितना भयंकर धक्का था! ऐसे तो मेरी छोटी सी गांड ही फट जाएगी!! तुम प्लीज बस मेरी चूत में ही डालो…बस डार्लिंग! इतने में ही फट गई… तुम तो कह रही थी, कि तुम रिया सन से भी अच्छी तरह कर सकती हो?” आर्थर ने होंठों पर ब्य्यंग पूर्ण मुस्कान के साथ कहा. मैंने पूछा- राज क्या ढूँढ रहे हो?वो बोला- यार यहाँ मेरी चड्डी रखी हुई थी…मुझे तौलिये में राज बहुत अच्छा लग रहा था, उसके लंड का हल्का सा उभार मुझे दिख रहा था, मैं बोल बैठी- तुम तो ऐसे ही सुन्दर लग रहे हो, चड्डी की क्या जरूरत है?यार मजाक मत कर… तेरे पास है क्या?”नहीं… देख लो!”वो मेरे एकदम नजदीक आ गया और मेरी जांघों में हाथ रख आसपास देखने लगा. मेरी इस हरकत से उनकी जोर से सिसकारी निकल गई और काँपती हुए आवाज में भाभी बोल उठीं- आह.