ब्लूटूथ एचडी बीएफ

छवि स्रोत,बंगाली बीएफ बंगाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्रेस्ट क्रीम: ब्लूटूथ एचडी बीएफ, फिर उसने मुझे पूछा- रात कैसी कटी तुम्हारी?मैंने उत्तर दिया- ठीक रही.

అనుష్క సెక్స్ తెలుగు వీడియో

चूंकि हम पांच लड़कियां हैं और पांचों ही लड़कियों ने कॉलेज के दिनों से अपनी चूत चुदवानी शुरू कर दी थी तो इन कहानियों का सफर काफी लम्बा चलने वाला है जिसमें आपको पूरा मजा आने वाला है. ब्लू सेक्सी हिंदी फिल्म दिखाइएउसके चूचों के बीच में मैंने अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया और उसके चूचों की सफाई करने लगा.

यानि कविता और कांतिलाल को पहली बार संभोग के दृश्य दिखाना था, जिसमें कुंवारी कविता और कांतिलाल का कौमार्य भंग होने था. पाकिस्तान सेक्सी बीपी वीडियोमैं आपको बताना चाहूंगा कि मेरी पत्नी बहुत ही खुले विचारों वाली है और वह मुझसे सेक्सी बातें खुलकर करती है.

कमलनाथ ने झट से राजेश्वरी को रोका और उसे पीठ के बल चित्त लिटा दिया.ब्लूटूथ एचडी बीएफ: मैं उसकी चूचियों को ब्लाउज के ऊपर से ही पी रहा था और मैंने उसका ब्लाउज गीला कर दिया था.

थोड़ी देर बाद उसने मुझे अपनी ओर खींच कर बगल में लिटा लिया और मेरे होंठों पर उंगलियां फेरने लगा.दोस्तो, मैं आपको बता दूं कि मेरा लंड भी 7 इंच लंबा और काफी मोटा तगड़ा लंड है.

सेक्सी पिक्चर मराठी मध्ए - ब्लूटूथ एचडी बीएफ

एक बार तो मैं घबरा गया … लेकिन मामी जगी नहीं थी शायद … इसलिए मैंने दोबारा से कोशिश करने के लिए सोचा.फिर एक दिन मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने मुझसे कहा कि जगह का इंतजाम हो गया है, तुम जल्द ही मेरे पास आने की प्लानिंग कर लो.

मैंने भी झट से उसकी जांघों पर हाथ रख दिया और बोला कि अब बता के क्या फायदा? अब तो आपकी शादी हो गयी है. ब्लूटूथ एचडी बीएफ एकदम से उठते हुए वो दारू और गिलास लेकर आ गयी और कहने लगी- पिताजी, एक बार दो पैग लगा लो.

राजेश का लंड पता नहीं खड़ा हुआ या नहीं लेकिन मेरे लंड को जैसे स्वर्ग सा आनंद मिल रहा था.

ब्लूटूथ एचडी बीएफ?

फिर अचानक से राज मजे लेता हुआ बोला- अल्पना और सोना तो अभी से इतनी थक गई हैं कि सुबह स्वीमिंग पर नहीं आई हैं. अनिल उसकी चूत में अपना प्यासा फन फनाता लंड डाल कर धक्के पर धक्के दे रहा था. तो दोस्तो, यह घटना मेरे साथ मेरी जिंदगी में वास्तविक रूप से हुई थी.

मेरी मां की जवानी की तारीफ मैं ही नहीं कर रहा बल्कि उनको देखने वाला हर आदमी दीवाना हो जाता है. अब आगे मेरी देसी फुद्दी की चुदाई:गांड चुदवाने से मना करने के बाद अंकल ने मेरी चूत दोबारा से मारने की बात कही. थोड़ी देर में ही हम सेक्स करते करते झड़ गए, हमारा पानी निकल गया था और हम दोनों थक कर बिस्तर पर लेट गए थे.

वो फिर से मेरे सीने में समा गई और सरगोशी से मेरे कानों में बोली- तुम भी बहुत हॉट हो. मेम जब भी सामने होतीं, तो मेरा ध्यान उनके होंठ और मम्मों पर ही ज्यादा जाता था. जाते जाते उन्होंने बीजी से इशारा किया और कहा- इसका नहाना बाकी है … तुम दोनों नहा कर नाश्ता कर लेना.

अब सब लोग बोले- अब हम लोगों को चलना चाहिए … क्योंकि अब 2 घंटे बाद कैसीनो जाना है. मैं वहां से चल पड़ी तभी मुझे अपनी सहेलियों की बातें याद आने लगीं कि बदनामी और प्रेग्नेंसी के डर से वो पुरुषों से दूर रहती हैं और खीरा, ककड़ी आदि से मजा लेती हैं.

मुझे उसके फीगर का नाप बाद में पता चला था जब मैंने उसके साथ सेक्स किया था.

फिर कुछ देर के बाद मुझे पेशाब लगा तो मैंने यहां-वहां देखा कि कोई जगह मिल जाये.

अगर आपको बुरा न लगे और आपको कोई परेशानी न हो, तो क्या आप एक्सरसाइज करवाने के लिए मेरे घर पर आ सकते हैं?मैंने कुछ सोचने के बाद उससे बोला कि ठीक है … मेम पर मेरी फीस पांच हज़ार है. आज भी उसका लिंग पहले की ही तरह ताकतवर और अच्छे खासे मोटाई और लंबाई में था. मैंने देखा और समझ गया कि उन्होंने नीचे चड्डी या निक्कर नहीं पहनी थी.

जिनकी बुकिंग नागालैंड से मेरे पास आई वो दरअसल 32 साल की एक महिला थी. मैं बार बार जब भी मौका मिलता, भाभी की चूचियों को और गांड को दबा देता था. कुछ समय बाद मैंने उनके मम्मों पर हाथ रखा और धीरे-धीरे उन्हें दबाने लगा.

वो झट से वैसे ही बैठ गई फिर मैं उसके मुँह की तरफ गया और अपने लंड को हाथ से पकड़ कर उसे लंड को चूसने को कहा.

यानि कविता और कांतिलाल को पहली बार संभोग के दृश्य दिखाना था, जिसमें कुंवारी कविता और कांतिलाल का कौमार्य भंग होने था. दूसरी चुदाई में तो फरजाना ने खुद मुझे बहुत चूसा, मेरे होंठ चबा जाने तक चली गई. मैंने फिर उसके हाथ को पकड़ कर अंदर रजाई में कर दिया और फिर उसका हाथ अपने तने हुए लंड पर रखवा दिया.

मेरे पापा की उम्र 48 साल है, वे दूसरे शहर में जॉब करते हैं तो वो महीने में दो दिन के लिए ही घर आते हैं. अक्सर होता है ना कि लड़की हमसे कुछ और उम्मीद लगाकर बैठी होती है … और हम कुछ और भी लगा कर बैठे होते हैं. पति ने मेरे गाल दबाए तो मेरा मुँह खुल गया और महाशय ने अपना लंड मेरे मुँह के अन्दर डाल दिया.

वंदना भाभी को भी अहसास हो गया था कि बल्लू का माल चूत में निकल चुका है इसलिए उसको एक अलग ही नशा सा चढ़ा हुआ था.

मगर साथ ही मुझे ये बात भी अजीब सी लग रही थी कि चैट में ये दोनों ही कपल्स के लिए सेक्स की बात करते थे और अब यह कह रहा था कि वह सेक्स में शामिल नहीं हो पाता है. फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में डाल दिया और मेरे मम्मों को अपने हाथों से मसलते हुए मेरी चुदाई करने लगा.

ब्लूटूथ एचडी बीएफ जी हां, परिवार के मर्द ही उनको चोदते हैं, ये खुलासा आपको कहानी के अंत में हो जाएगा. मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया और अपने हाथ से उसकी चुचियों को दबाने लगा जिससे उसके अंदर भी वासना भर गई और वो मेरा भरपूर साथ देने लगी.

ब्लूटूथ एचडी बीएफ मैंने इससे पहले कभी अपने भाई को उस नजर से नहीं देखा था लेकिन आज उसका लंड देखने के बाद मेरे मन में कुछ अलग ही फीलिंग आ रही थी. तभी मकान मालिक की आवाज आई और अलग होकर अपने कपड़े पहनने लगी और वहां से जल्दी से बाहर निकल गई.

बीच बीच में वह मेरे लंड को दबा भी रही थी अपने हाथों की मुट्ठी में भर कर वह मेरे लंड को भींच देती थी। लेकिन लंड से अभी भी थोड़ा थोड़ा खून निकल रहा था.

हिंदी सेक्सी मूवी क्लिप

मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैंने प्रिया की गांड पर अपना लंड लगा दिया था. निधि को वाइल्ड सेक्स और रफ़ सेक्स भी पसंद है।मुझे कुणाल ने यह भी बताया था कि निधि के पहले भी कई सेक्स अफेयर रह चुके हैं और पहले भी बहुत लण्ड ले चुकी थी. यानि कविता और कांतिलाल को पहली बार संभोग के दृश्य दिखाना था, जिसमें कुंवारी कविता और कांतिलाल का कौमार्य भंग होने था.

वो वैसे तो मेरे नाप के ही थे, मगर मैंने ऐसे कपड़े कभी नहीं पहने थे … सो मुझे बहुत कसाव सा महसूस हो रहा था. मैंने पूछा- क्या हुआ? तुम इतना शरमा क्यूं रही हो? अब तो हम दोनों बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड बन गये हैं।उसने मेरी बात का कोई जवाब न दिया लेकिन मेरे लौड़े ने अपना जवाब दे दिया था. मेरी योनि से पानी छूटने लगा था और मैं उसे और अधिक उत्साहित करने लगी थी.

जब दिन में साराह मैम फोन करती थी तो कभी कभी मैं उदास रहता था, तो वो पूछने लगती कि आखिर क्यों दुखी लग रहे हो.

तब मुझे फेसबुक पर पता चला कि बहुत सारे लोगों ने कपल टू कपल सेक्स, ककॉल्ड और तरह-तरह के न्यूड फोटो वाले फेक (नकली) अकाउंट बनाये हुए हैँ. जैसे ही उन्होंने मेरे खड़े लौड़े को देखा, तुरंत ही लंड को अपने हाथों में ले लिया और सहलाने लगीं. इसी बीच मुझे पता लगा कि भाभी अपनी सहेली के भांजे से भी चुद चुकी हैं.

अब जब भी साराह मैम का फोन आता तो ज्यादातर बात गर्लफ्रेंड को लेकर ही होती और वो मुझे समझाती रहती थी. फिर उन्होंने खुद ही अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत के मुँह पर सैट किया और मुझे अन्दर पेलने को कहा. उस कुंवारी लड़की के चूतड़ों को हल्के हाथों से दबाते हुए मैंने उसे अपनी ओर खींचा तो मेरा लण्ड उसकी बूर से सट गया.

लेकिन मैंने मन ही मन ये सोच लिया था क़ि अपन साली को अब जल्दी ही चोदना है। मुझे मन ही मन अपनी चचेरी साली पर बहुत गुस्सा आ रहा था, अगर आज वो ना होती तो आज ही मैं अपनी साली के साथ चुदाई का मज़ा ले लेता. करीब 5 मिनट हो गए थे और मेरी सम्भोग की खुमारी सातवें आसमान को छूने को थी.

इस वजह से मैंने उसके भीतर जोश भरने के लिए उसके होंठों से अपने होंठ लगा कर उसे चूमना शुरू कर दिया. खैर … गाड़ी को शोरूम पर छोड़ने के बाद मैं और श्रुति होटल में खाना खाकर मूवी देखने चले गए. मैं उसके चेहरे पर थोड़ा गुस्सा और नाराज़गी देख रहा था, तो मैंने झट से अपूर्वा से बोला- अपूर्वा मुझे माफ़ कर दो प्लीज़ मुझे माफ़ कर दो, मैं तुम्हें सच में बहुत पसंद करता हूं और मैंने जो कुछ तुमसे कहा, वो सब सच है तुम्हारी कसम.

तू इंशा से कह देना कि रसूल फुफू आज से तुझे कुछ नहीं कहेंगे, मगर शिफा मेरे पास आती रहनी चाहिए.

कोई बीस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद परी ने मुझे अपने शरीर से जकड़ लिया और झड़ गई. लंड घुसवाते ही वो झटके से हिली, पर अगले ही पल उसे लंड का मज़ा आने लगा. तो दोस्तो, यह घटना मेरे साथ मेरी जिंदगी में वास्तविक रूप से हुई थी.

कुछ समय बाद मैंने उसकी पजामी में हाथ डालना चाहा लेकिन उसने डालने नहीं दिया. तू इंशा से कह देना कि रसूल फुफू आज से तुझे कुछ नहीं कहेंगे, मगर शिफा मेरे पास आती रहनी चाहिए.

उसने मेरे पास आकर पूछा कि इस जिम में आप ही ट्रेनर हो?मैंने कहा- हां जी कहिए, मैं ही ट्रेनर हूं. इतने में ही मेरी मम्मी का फोन आ गया तो मेरे को जाना पड़ा और मैं आंटी को किस करके आ गया और उनको बोला- तुम सलवार कुर्ते में बहुत अच्छी लगती हो।फिर दूसरे दिन वापस आंटी अपने बेबी के साथ फोन करने आयी. मेरी चूत की सील कैसे टूटी, उसके बाद पहली चुदाई कैसे हुई और पहली चुदाई होने के बाद किस तरह से मेरी जिन्दगी बदलती चली गयी.

कभी कभी सेक्सी

उन्होंने मुझे देखा और पूछा- क्या हुआ राज?मैंने कहा- दीदी एक सवाल का आंसर नहीं आ रहा है.

मैं बिना रुके एक सौ बीस की स्पीड से लगातार डॉली की चूत को फाड़ कर कीमा बनाने में लगा था. अपने बदन पर ब्रा को एडजस्ट करते हुए मां मुझसे पूछ रही थी कि कैसी लग रही है. डॉक्टर ने मेरी जाँच की और बताया कि आरसीटी करनी पड़ेगी, एक दिन छोड़कर एक दिन आना पड़ेगा.

उसके होंठों को चूसते हुए मेरा लंड दस मिनट के बाद फिर से खड़ा हो गया. जिसके वजह से उत्तेजना में उतार चढ़ाव बन जाता, तो चरम सीमा तक आसानी से नहीं पहुंचा जा सकता था. देहाती बीएफ वीडियोहम दोनों ने एक दूसरे को पकड़ लिया और कुछ देर यूँ ही उसी अवस्था में लेटे रहे.

कुछ देर के लिए हम ऐसे ही चिपक कर लेटे रहे और एक-दूसरे की जुबान को चूसते रहे. इतना कह कर वो मेरे ऊपर से उठ गया और घुटनों के बल बिस्तर पर बैठ गया.

निर्मला की योनि भीतर से तो गीली थी, मगर ऊपरी चमड़ी और पंखुड़ियां शायद सूखी थीं, इसी वजह से उसे तकलीफ हो रही थी. वहां पहुंचने के बाद देखा कि भाभी नीचे सो गई थीं और नलिनी ऊपर अकेली पैर मोड़ कर बैठी थी, क्योंकि लास्ट वाली सीट थी और ऊपर के दोनों लोग सो गए थे. अम्मा ने कहा- बेटे मैं वो अनुभव लेना चाहती हूँ, जिसमें औरत आदमी का लंड और आदमी औरत की चुत चाटता है.

मैंने बड़ी ही सावधानी से अपने लंड को धीरे धीरे अंदर डालना शुरू किया. और वो अपनी ब्रा को एक किनारे रख कर मुझे अपने चूचियों से चिपकाने लगी. उसके बाद जब मैं वापस आया तो मैंने देखा कि वो लड़की अपनी सीट पर बैठी हुई थी.

अगले कुछ ही मिनटों में वो मेरे होंठों को चूसते हुए अपनी कुंवारी चूत को मजे से चुदवाने लगी थी.

जब दो जिस्म आपस में बिना कपड़ों के मिलते हैं तो सुख दोगुना हो जाता है. उसका नाम पूजा था वो मेरी मम्मी की स्टूडेंट थी और स्कूल के हॉस्टल में रहती थी। उसकी उम्र 19 की और हाइट 4 फुट 9 इंच होगी.

मगर जब मैंने दोबारा से आंखें खोलीं तो वो अपनी मैक्सी को अंधेरे में ही नीचे करके वापस लेट चुकी थी. अपने बदन पर ब्रा को एडजस्ट करते हुए मां मुझसे पूछ रही थी कि कैसी लग रही है. अब भाभी से जब रुका नहीं गया तो उसने पीछे हाथ लाकर मेरे चूतड़ों को अपने हाथों में पकड़ लिया और मेरी गांड को आगे की तरफ धकेलते हुए अपनी चूत के अन्दर मेरे लंड के धक्के मरवाने लगी.

मैंने उसके लहंगे का नाड़ा खींच दिया और वो एक पैंटी में मेरे सामने आ गई. उसके बाद उन्होंने दोबारा से मुझे सीधा किया और मेरी चूत में अपना लंड घुसा दिया. उस वक्त मुझे काफी गंदा लगा क्योंकि अंकल मेरी गांड का छेद चाट रहे थे। शौच करने वाली जगह को चटवाने में मुझे बहुत अजीब लग रहा था.

ब्लूटूथ एचडी बीएफ मैं मुस्कुराती हुई सोफे पर चित लेट गई और अपनी एक टांग को सोफे के नीचे झुला दिया. पर मैं बहुत थक गई थी, इसलिए मैं उससे विनती करने लगी कि अब और नहीं हो पाएगा.

मराठी में फुल सेक्सी वीडियो

उसने मेरी टांगें अपनी कंधों पर रखीं और अपने लंड को मेरी चूत में लगा दिया. इधर काव्या मुझे गुस्सा दिखाने लगी- क्या कर रहे थे तुम? अगर राकेश देख लेता तो?मैंने बोला- देख लेता तो क्या? उसको भी पता है कि उसकी बीवी को देखकर कोई भी रुक नहीं सकता. इसी लिए उसकी हरकत से लग रहा था कि पिछले धक्के में जो कमी रह गई हो, वो अगले धक्के में न हो.

दीदी की योनि में लंड को डालकर मैंने धीरे-धीरे अपने बदन को दीदी के बदन पर घिसना शुरू किया. वो मेरी योनि में उंगली डाल चाट रहा था और मैं एक हाथ से उसका लिंग हिला रही थी, दूसरे हाथ से उसके आंडों को सहला रही थी. वीडियो नंगी सेक्सी पिक्चरमैंने देखा तो अम्मा सोयी हुई तो थीं, लेकिन उन्होंने अपनी साड़ी ऊपर ली हुई थी और उनका हाथ उनकी चुत पर था.

ऐसे ही बातें करते हुए उन्होंने मुझे बाध्य कर दिया कि मुझे शादी में पक्का आना है.

उसने भी ज्यादा समय न खराब करते हुए मेरी टांगों के बीच में खुद को चुदाई की पोजीशन में सैट कर दिया. मेरी बगलों से मेरे चूचे भी दिख रहे थे … क्योंकि मैं अन्दर ब्रा नहीं पहने थी.

कुछ देर बाद मैंने उसका टॉप उतार दिया और उसके उरोजों को ब्रा के बाहर से ही दबाने लगा. उन्होंने आंखें बंद कर ली थीं और मैं धीरे धीरे उनके सांवले हाथों को सहला रहा था. इसके बात शुरुआत में हमने फोन पर बात करनी शुरू की, फिर न जाने कब हमारी वीडियो कॉल पर भी बातें होने लगीं, इसका अहसास ही नहीं हुआ.

मैंने भाभी को चोदा … भाभी की चुदाई की कहानी को विस्तार से अगले भाग में लिखूँगा.

मैं दिखने में गोरा हूँ और लंड का साइज भी ठीक है … लेकिन ये थोड़ा सा मोटा ज़्यादा है, जिससे आम तौर पर चूत चुदने के बाद बेहाल सी हो जाती है. मुझे लगा उन्हें दर्द हो रहा है … क्योंकि मैंने पहले कभी सेक्स नहीं किया था. अंकल ने मेरे दूधों को अपने हाथों में भर लिया और उनको दबाने सहलाने लगे.

नौकरानी के सेक्सी वीडियोआपको मेरी मस्तानी भाभी की चुदाई की सेक्स स्टोरी पसन्द आई या नहीं … प्लीज़ मुझे मेल जरूर करना. मम्मी मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोल रही थीं- आह … पी जा बेटा … अपनी मम्मी की चूची को पूरा पी जा … खा जा इनको.

खेती की सेक्सी वीडियो

क्या देखा था मैंने?दोस्तो, मेरा नाम अभि है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. कुछ देर तक ऊपर से ही उसकी चूत को चाटने के बाद मैंने उसकी पैंटी को निकाल दिया. मैं अपने आपको रोक नहीं पाया और मैं भी अपने उन तमाम यादगार पलों में से एक अनमोल और जीवन की पहली आपबीती आपके सामने लाने को विवश हो गया हूँ।बात तब की है जब मेरी उम्र 27 वर्ष थी उस समय मेरी शादी को 2 वर्ष हो चुके थे। मेरी ससुराल मेरठ में है.

चूंकि अंगिका से बातें करते हुए मुझे तीन दिन हो गये थे इसलिए मुझे भी मजा आ रहा था. मेरी बीवी काफी शांत स्वभाव है मगर सेक्स के मामले में वो बहुत ही जोशीली है. वो वैसे ही मेरे जांघों के बीच अपने घुटनों पर खड़े होकर लिंग हाथ से हिलाता हुआ इंतजार करने लगा.

मैंने अपने लंड को, जिसके ऊपर सोनाली की गांड और चूत थी, उसकी चड्डी के ऊपर से ही रगड़ने लगा. पहला कारण यह कि मेरी मां की शादी छोटी उम्र में ही हो गई थी और इस वजह से उनको बच्चा भी जल्दी हो गया. एक तरफ जहां मैं पूरी ताकत लगा कर उसे धक्के मारते हुए अपनी योनि का रस उसके लिंग पर छोड़ने लगी, वहीं कमलनाथ भी नीचे से झटके देता हुआ मेरी योनि के भीतर अपने वीर्य की पिचकरी मारने लगा.

मैंने अपने हाथ से लंड को पकड़ कर उसकी चूत पर रखा और एडजस्ट करते हुए उसकी चूत में लंड को घुसाने लगा तो वो चुपके से मेरे कान के पास आकर बोली- यहां सेक्स करना सेफ नहीं है. जब मैं अय्याशी की दुनिया में उतरा तो कई लड़कियां मुझ पर फिदा रहती थी.

विशाखा कहने लगी- मैं आपको अपने शादी के टाइम से लाइक कर रही थी, पर बोलने में डर लगता था.

इस पर मैंने कहा- फिर तो साइज़ का अंदाज हो ही गया होगा कि क्या साइज़ ठीक रहता है. हिंदी में नई सेक्सी बीएफबुआ भी नीचे से चूतड़ उठा उठा के मेरा साथ दे रही थी।फिर मैंने बुआ को नीचे खड़ी करके चारपाई पर हाथ रखवा कर घोड़ी बना लिया और पीछे से लंड बुआ की चूत में घुसेड़ दिया।अब मैं जोर जोर से बुआ की चूत की चुदाई करने लगा. बीएफ सेक्सी वीडियो भोजपुरी देहातीमैं अभी शांत होने को ही थी कि उसने भी अपनी पिचकारी जोरदार धक्कों के साथ छोड़नी शुरू कर दी. मैं अभी भी दिमाग से काम ले रही थी और कांतिलाल को इतना उत्तेजित कर देना चाहती थी कि वो संभोग के लिए तैयार हो जाए या झड़ जाए.

इसके बाद कुछ समय आराम करने के बाद जब मैं जागी, तो कान्तिलाल मेरे साथ सम्भोग करने को आतुर हो रहा था.

मुझे काफी दर्द होने लगा लेकिन उसने बिना देरी किये मुझे चोदना शुरू कर दिया. मेरे लिए ये सब बहुत अनोखा था, पर रमा के जिद के आगे मुझे झुकना ही पड़ा. साराह मैम अब मेरे से मिलने की जिद करने लगी थीं कि तुम अब जल्दी से मुम्बई आ जाओ और मुझ से मिल कर जाओ.

पहले शॉवर ऑन किया और लंड में साबुन लगा कर अम्मा की गांड में लंड पेल दिया. लेकिन मेरा लंड पूरा मेरी सगी बहन की बेटी की चूत में समा चुका था और उसकी सील टूट चुकी थी. चूंकि राज और रुचि कजिन थे, तो राज रुचि के मम्मों को ज्यादा नहीं देख सकता था.

तीन लड़कियों की सेक्सी वीडियो

मैंने पीछे भाभी की गांड के छेद पर लंड लगाया और उसकी गांड में लंड को धकेल दिया. शोभा को इस हालत में देख कर मेरा तो लन्ड खड़ा हो चुका था, ये युक्ता ने भी महसूस कर लिया था. वो चूत पर हथेली बजाते हुए बोली- आ जा मेरे राजा … आज अपनी दीवानी को अपना शिकार बना ले.

मैंने मन में सोचा कि क्या खूबसूरत आंखें हैं इसकी … दिल तो कर रहा था कि पट्ठी को यहीं चूम लूँ.

मामी जी लेट गई और मामा जी मिशनरी पोजिशन में आकर उन्हें चोदने लगे और 7-8 धक्कों के बाद ही मामा जी का निकल गया और वह चुपचाप लेट गए.

राज मुझसे करीब पाँच साल छोटा है और उसका शरीर व शक्ल एकदम लड़की के जैसा है. मैं- अच्छा और मेरा क्या एक तो मेरा बीएफ नहीं आया … ऊपर से तुम्हारे पास मेरे लिए टाइम नहीं है. मराठी लड़की बीएफतुम्हारी दीदी और जीजा जी रात को क्या करते हैं?राजेश्वरी ने उत्तर दिया- मुझे क्या पता क्या करते हैं.

मैंने सोचा कि यही मौका है उसको सांत्वना देने के बहाने उससे प्यार करने का!तभी मैंने उसको चूमना शुरू कर दिया और उसके होंठों को चूमने लगा. उसके घर जाते हुए मुझे एक महीना हो चुका था, तो जाहिर सी बात है कि हम दोनों में अच्छी जान पहचान हो चुकी थी. थोड़ी देर हुई थी और अंगिका मेरे आधे शरीर पर मानो कब्ज़ा सा कर चुकी थी.

औरतें केवल ब्रा और पैंटी में … और मर्द केवल जांघिया या हाफ पैंट में थे. इस दौरान हम दोनों ये तो भूल ही गए थे कि कोई चुपके से हम दोनों को देख रहा है.

मैं भी अब अपने लंड को पूरा अन्दर बाहर कर रहा था और चाची की चूत में उंगली किए जा रहा था.

मुझे इस तरह वेश्या का किरदार करने से खुद निर्लज्ज स्त्री की भांति जिज्ञासा जागने लगी थी. हमें बिल्कुल भी होश नहीं था कि हम सिनेमा हॉल में एक पब्लिक प्लेस में हैं. मेरी तीनों सहेलियां अल्पना, सोना और रुचि कमाल की शारीरिक फ़िगर वाली थीं.

ओपन चुड़ै यही सोच कर मेरा लंड पैंट के अंदर ही तन गया, अब मेरे मन में केवल अपनी साली को चोदने का ख्याल घूमने लगा।शाम को जब मैं घर आया तो मेरी साली बिल्कुल नॉर्मल दिखी, वो वैसे भी मुझसे कम ही बात करती थी और मैं भी उससे ज़्यादा बात नहीं करता था. मैं- अच्छा और मेरा क्या एक तो मेरा बीएफ नहीं आया … ऊपर से तुम्हारे पास मेरे लिए टाइम नहीं है.

तो भाबी बोली- निखिल, मैं इसके निचले हिस्से पर अभी पट्टी बांध देती हूं जिससे खून रुक जाएगा. उसका लिंग सरसराता हुआ मेरी योनि में आ जा रहा था और मुझे कराहने पर विवश करे दे रहा था. तो मैंने कुछ इंतजाम किया और उसे मैंने अपने शहर जाने वाली बस में बिठा दिया.

सेक्सी मूवी बढ़िया सेक्सी

उस दिन जब मैंने अपनी मां के दूध से श्वेत बदन को देखा तो मुझे पता चला कि क्यों सारे मर्द मेरी मां को इस तरह से हवस भरी नजरों के साथ घूरते रहते हैं. उसने थोड़ा झिझकते हुए कहा- क्या पेनिस को ही लंड कहते हैं सर?एक जवान लड़की के मुंह से लंड शब्द सुन कर मैं तो जैसे बेकाबू सा हो गया. मेरा मन उसकी गांड की चुदाई करने का भी कर रहा था लेकिन अभी ये हमारा पहली बार था तो अभी मैं उसकी गांड में लंड डाल कर उसको डराना नहीं चाहता था.

रमा की बात तो सही ही थी कि कांतिलाल ने मुझे निचोड़ कर रख दिया था, पर आनन्द भी उतना ही आया था. अगर आपको बुरा न लगे और आपको कोई परेशानी न हो, तो क्या आप एक्सरसाइज करवाने के लिए मेरे घर पर आ सकते हैं?मैंने कुछ सोचने के बाद उससे बोला कि ठीक है … मेम पर मेरी फीस पांच हज़ार है.

लोगों को पर्सनल ट्रेनिंग देने के लिए, जिसमें लड़के और लड़कियां, आदमी और महिलाएं सब आते थे.

जब भाभी से रहा न गया तो भाभी ने पीछे हाथ ले जाकर बल्लू के लंड को उसकी पैंट के ऊपर से पकड़ लिया और उसको सहलाने लगी. मैंने अपनी आंखें बन्द कर रखी थीं और होंठों को राजशेखर के होंठों से चिपका रखा था. डॉक्टर साहब मेरे करीब आये, मेरा मुँह खोलकर देखा और फिर अचानक मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी.

आंटी का अंगूठा चाटते चाटते मैं उनकी साड़ी को सरकाते हुए उनकी संगमरमर जैसी जांघ पर पहुंच गया. मैं उसकी जांघों पर बैठ उसके गोद में आ गई और योनि में फिर से थूक मलकर लिंग को अपनी योनि में प्रवेश कराते हुए राजशेखर को पकड़ लिया. मैंने प्रिया की पजामी को नीचे कर दिया और उसकी पैंटी मुझे मेरी नजरों के सामने दिखाई देने लगी.

ऊपर माथे पर लाल बिंदी, होंठों पर गहरे लाल रंग की लिपस्टिक लगी हुई थी.

ब्लूटूथ एचडी बीएफ: कुछ देर तक कमरे में घमासान धुआंधार चुदाई चलती रही … कब मैं स्खलित हो गई, मुझे पता ही नहीं चला. हम जिस घर में रहते थे, वहां अब बिल्डिंग बनने वाली थी, इसलिए ठेकेदार ने हमें कुछ समय रहने के लिए एक अलग जगह पर मकान दिला दिया.

वो कोई और नहीं बल्कि शोभा ही थी और मुझे और युक्ता को देख कर हंस रही थी. जब चूत पूरी तरह गीली हो गई तो मैं बोला- आओ मेरी जान … अब हम दोनों एक हो जाएँ. मुझे डर लगने लगा कि कमरे की साफ सफाई के लिए जो भी आएगा, वो समझ जाएगा.

वो सर्दियों के दिन थे, एक दिन शाम को मैं मरी पत्नी और मेरी भांजी बैठे हुए बातें कर रहे थे.

उसके बाद राकेश बोला- बिल्कुल मिलेंगे दोस्त … मैं हमेशा तुम्हारे टच में रहूँगा. धीरे धीरे मुझे अच्छा लग रहा था कि ये आदमी अपनी कुशलता के अनुसार किसी प्रकार की हड़बड़ी में नहीं था … बल्कि मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे मेरे बदन का आनन्द लेने के साथ मुझे भी तृप्त करना चाहता है. तब मैंने उससे पूछा, तो उसने कहा- हां मामाजी हल्का सा दर्द महसूस हो रहा है.