भाभी की भाभी की बीएफ

छवि स्रोत,సాయి పల్లవి సెక్స్ వీడియోస్

तस्वीर का शीर्षक ,

कांड मराठी: भाभी की भाभी की बीएफ, मैं भी उसकी इन मादक आवाजों से जोश में आ गया और जोर जोर से रेखा की चूत का भोसड़ा बनाने लगा.

आंटी हॉट सेक्स

भाभी कहती थीं- तुम इतना ही क्यों करते हो … आगे भी बढ़ो न!मगर मैं उन्हें सिर्फ गर्म करके वापस आ जाता था. सट्टा किंग नागपुर सट्टा किंगजब वो झड़ा तो उसने अपने लंड से वीर्य की पिचकारियां मेरे स्तनों और चेहरे पर मार दीं.

मैं दस मिनट तक ऐसे ही उसकी चुत चोदता रहा और उसके मुँह से आह आह आह आह की सिसकारियां निकलती रहीं. सेक्सी वीडियो प्ले सेक्सी वीडियोअब मैं भी उसकी गांड को सहलाकर गांड की छेद पर उंगली दबाने लगा तो रेखा और तेज गति से अपनी गांड हिलाकर लंड लेने लगी.

’मैंने जानबूझ कर थोड़ा सा पानी मुँह से बाहर निकाल दिया जो मेरे गले से होते हुए मेरे मम्मों की घाटी से होते हुए अन्दर चला गया.भाभी की भाभी की बीएफ: उसने कहा- अम्मी आप भी?अम्मी ने कहा- अरे तुम भी!मैंने खाला को थैंक्स बोला.

मैंने उन्हें देख कर एक स्माइल दी … और वो दोनों मुझे ‘हैलो गौरव भैया …’ बोल कर अपने जूते उतारने लगे.पहले मुझे चूत को जीभ से चाटना बेहद अजीब लगा लेकिन फिर भी मैंने चूत को चाटना जारी रखा और उसकी चूत की गहराई को जीभ से ही नापने लगा.

लैट्रिन साफ नहीं होती है - भाभी की भाभी की बीएफ

उसने अपनी दोनों टांगें मेरे दोनों बाजू कर दीं और अपने हाथों से लंड पकड़ कर अपनी चूत में अन्दर रख लिया.पूरा चूतरस पीने के बाद चूत के आसपास का भी चूतरस मैंने चाटकर साफ कर दिया.

मिनी बोली- मेरी चुत में थोड़ी जलन और दर्द हो रहा है, तुम थोड़ा सहला दो. भाभी की भाभी की बीएफ मैं आंख बंद करके लेट गया तो चाची उठीं और उन्होंने अपनी मैक्सी को ठीक किया और फिर से सो गईं.

उन्होंने मेरा सर अपनी चूत पर ऐसे दबाना चालू कर दिया मानो मेरा पूरा सर अपनी चूत में घुसाना चाहती हों.

भाभी की भाभी की बीएफ?

साली- जल्दी कुछ करो न जीजू … समय भी होता जा रहा है, फिर आपको जाना भी होगा. अब रवि पीछे आया और उसने भी एक ही झटके में पूरा लंड गांड के अन्दर डाल दिया. उसने मुझसे कहा- जान ये बात कभी भी तरह से मेरे पति तक नहीं पहुंचनी चाहिए.

मौसी- तो भैनचोद मना थोड़ी कर रही हूँ, चोदने को … लेकिन आराम से तो कर … मां के लौड़े चूत में बहुत दर्द हो रहा है. मुझे डर तो लग रहा था क्योंकि मेरे चूमने की वजह से पैंटी और मुठ मारने की वजह से ब्रा गीली हो गयी थी. अक्सर माइक लिए लोगों का मनोरंजन करते, बच्चों को गेम्स खिलाते देखा है.

मैं हौले हौले से चाची की मैक्सी को ऊपर सरकाने लगा और उनकी टांग की चमड़ी से अपनी टांग को रगड़ सुख देने लगा. [emailprotected]फर्स्ट टाइम लव स्टोरी का अगला भाग:कॉलेज में पहला पहला प्यार- 2. पहले प्रियंका ने पानी पिया और फिर रिंकू ने सड़ा सा मुँह बनाया मगर पी गया.

दूसरे ने दीदी की चुची पर हाथ जमाया और वो दीदी की चूची को दबाने लगा. उनकी चूत की मादक महक से मेरा मन मचल गया और मैंने लंड पर पैंटी लपेट कर मुठ मारनी शुरू कर दी.

इस बार वो बिंदास बोली- चोद दे मादरचोद … भैन के लौड़े … लंड बाहर क्यों निकाला, अन्दर डाल कमीने.

मैंने आंख दबाते हुए पूछा- क्या हुआ स्वीट हार्ट?वो मेरे सीने पर मुक्का मारती हुई बोली- साले तू बड़ा कमीना इंसान निकला.

मैं भी होने ही वाला था, मैंने भी अपनी स्पीड तेज कर दी और हम दोनों एक साथ स्खलित हो गए. मैं बीच बीच में उसकी चुत के दाने को दांतों से पकड़ कर हल्के से उसको काट भी देता था जिससे वो चिहुंक जाती थी. एक दिन मेरी नज़र मिली तो मैंने सोचा इससे बात करके, इसका नंबर ले लूं.

अगर आप हां करो, तो मैं तो आपको ही अपनी गर्लफ्रेंड बनाने के लिए तैयार हूँ. तभी मम्मी ने धीमी आवाज में कहा- क्या तुम मुझे चोदोगे नहीं?ये सुनकर पहले तो मेरी फट गयी, फिर मैं झट से चादर को हटाया और अपनी मम्मी को अपने ऊपर खींच कर लिटा लिया. विशाल ने बाहर आकर सोफे पर बैठकर एक पैग बनाया, उसने मोहन को भी पास बुलाया.

फिर उनसे रहा नहीं गया और वो बोलने लगीं- अब देर न करी मेरे राजा … जल्दी से अन्दर डाल दो.

अब वह चुदाई करते करते मेरे ऊपर आ गया और अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा. मैंने थोड़ा नाटक करते हुए शिल्पा को अलग किया और कहा- शिल्पा ये क्या कर रही हो?पर शिल्पा बोली- जब तुमने सब देख ही लिया है, तो अब छुपाने से क्या फायदा. रात में अंकल ने मुझे पास खींच लिया और कहा- सन्नो, कहीं तू औरत तो नहीं है?मैंने बोला- अंकल हूं तो नहीं, पर आप मुझे बना रहे हो.

सन्नी और उसके दोस्त से चुदाई के बाद मुझको गांड मराने की हवस सी हो गई थी. अब सरिता अपने दोनों हाथों से मेरी गांड को सहलाने लगी और नीचे से अपनी गांड हिला रही थी. मेरी आंखें पूरी लाल हो गई थी और चेहरे पर सांस ना आप आने के कारण आंखों से भी पानी निकल रहा था.

भाई ने मेरे पैरों से होते हुए अपने हाथों को मेरी कमर की तरफ बढ़ाया, फिर मेरे चूतड़ों पर हाथ फेरने लगा.

सुबह मम्मी ने आठ बजे जगाया और कहा- उठो हर्षद, तुम्हें नौ ऑफिस जाना है ना!मैं उठकर खड़ा हो गया. उनकी बड़ी बड़ी चुचियां मेरे सामने ब्रा में कैद थीं और बड़ी ही मोहक लग रही थीं.

भाभी की भाभी की बीएफ जैसे जैसे वक़्त बीत रहा था, हमें सामने लगी घड़ी की सुई की आवाज़ और दिलों की धड़कनें साफ सुनाई दे रही थीं. Xxx इंडियन भाभी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने काल्पनिक टाइम मशीन में भूतकाल में जाकर अपनी मम्मी को उनका देवर बनकर चोद दिया.

भाभी की भाभी की बीएफ जब वो अपनी गांड मटका कर चलती थी तो ऐसी लगती थी मानो कोई हंसनी चल रही हो. मैं समझ गया और नीचे ही नीचे चाची की साड़ी को पेटीकोट से निकाल दिया.

उस पर कुछ दिन पहले ही साफ़ किये हुए बाल एक काली और मखमली चादर से चुत को सजाए हुए थे.

सेक्स बीएफ पिक्चर सेक्सी पिक्चर

आज पति से झगड़ा हुआ, उन्होंने ये कहा, वो कहा, अब ये सब भी हम शेयर करने लगे थे. फिर उसके मुँह में वो सारा पानी निकाल दिया जिसे वो नीम्बू पानी की तरह पी गयी. फिर वह रवि का एक निप्पल चूस रहे थे, दूसरे निप्पल को उंगली से दबा और मरोड़ रहे थे.

मैंने भी चांस लेकर उसकी चुदाई करने की सोची और अपना हाथ सीधे ले जाकर उसकी चुत पर रख दिया. मैंने झट से अपना हाथ उसके मम्मे से हटा दिया कि कभी कोई उसकी आवाज सुनकर इधर ना आ जाए. वो पल जब बुर्के से उसकी आंखें दिखाई दीं … सच कहूँ तो आज भी वो पल मेरी आंखों में ताज़ा है.

लैगी तो आप जानते ही हैं कि एक ऐसी टाइट सलवार होती है, जो टांगों से एकदम चिपकी हुई रहती है.

वहां मामा की बेटी, मेरी साली अंगिका कुछ ज्यादा ही मेरा ख्याल रख रही थी।मुग्धा का एक बेटा भी है जो उस वक़्त स्कूल में पढ़ रहा था।शाम का वक़्त था और ठंड के मौसम के कारण अंधेरा जल्दी हो जाता था।घर पे सिर्फ मैं और मुग्धा थे, अंगिका अपने दोस्त के घर गई थी और मामा जी आये नहीं थे।मुग्धा मामी छत पर से कपड़े उतारने गयी थी कि तभी मैंने सीढ़ियों की लाइट बन्द कर दी।मैं ‘मामी जी … मामी जी …. मुझे हैरान देख कर वो बोली- क्यों कैसा लगा सॉफ्टवेयर?मैं उसे देखता रहा, कुछ बोल ही नहीं पाया. मेरे सामने वाले कमरे में एक भैया भाभी और उनका एक बेटा था, जो कि उस वक्त 5 साल का रहा होगा.

मुझे हैरान देख कर वो बोली- क्यों कैसा लगा सॉफ्टवेयर?मैं उसे देखता रहा, कुछ बोल ही नहीं पाया. उसने झट से मुझे खड़ा किया और मेरे वीर्य से भरे हुए मुंह और होंठों को अपने होंठों में ले लिया. कुछ देर में शिखा ने फिर अपनी गांड उचकाना शुरू किया तो मैंने उसे घुमाकर 69 में कर लिया.

उधर से एक कटोरी में सरसों का तेल लिया और उसे थोड़ा भी गर्म कर लिया. मैं किसी भी हालत में तुम्हारा मूसल जैसा लंड अपनी चूत में लेकर बरसों की प्यास बुझवा लूंगी हर्षद.

मैंने अपना एक हाथ उसकी चूची पर रखा तो पाया उसकी चूची खुली थी और टॉप पूरा ऊपर तक सरका हुआ था. वो अपनी गांड को जोर जोर से पीछे करती, जिससे जब दोनों के जिस्म एक साथ टकरा जाते. पूरे लंड को अन्दर रख कर मैं उसके होंठों और मम्मों को चूसने सहलाने लगा.

इससे उनको भी मजा आने लगा और वो मेरे 8-9 झटकों में ही झड़ने को हो गईं.

मेरे भाई ने मुस्कुराते हुए मुझे लैटर देने से पहले बियर पिलाने की बात तय करवा ली. शिल्पा बोली- देखो अभी आगे किया है ना … तो अभी तो कुछ नहीं मिलने वाली. मैंने पूछा- क्या इरादा है?वह मुस्कुरा कर बोली- सब अभी पूछोगे?उसकी आंखों में हवस का नशा छाने लगा था.

आने से पहले ही मैंने अपने पास्ट वाले अंकित से बता दिया था कि वो सौम्या की जमकर चुदाई करना शुरू कर दे ताकि हम सभी को मजा मिलता रहे. वो भी आवाज़ देते हुए आयी लेकिन अंधेरे में उसे कुछ दिख नहीं रहा था।मैं एक खाली जगह पे खड़े होकर अपने पैर पटकने लगा जैसे ऊपर चढ़ रहा हूँ।मुग्धा भी ‘दामाद जी’ कहती हुयी आयी.

रात को वो मेरे साथ एक ही कमरे में अलग बिस्तर पर सोती भी थी तो मैं उसे देखता रहता था. इतने में उसने पूछा- बोलो जनाब क्या बनाऊं आपके लिए?मैंने कहा- कुछ भी जो तुम्हें ठीक लगे. मामी- आलोक तुम आज यहां सो जाओ, भईया आज ऊपर वाले कमरे में सो गया है.

जपानी बीएफ जपानी बीएफ

रिया को घोड़ी बनाकर मैंने पीछे से उसकी चुत पर अपनी जीभ रख दी और जीभ को अन्दर तक घुमा घुमाकर चुत की चटायी करने लगा.

मैंने सोनाली की पीठ सहलाते हुए उसके ब्लाउज के हुक खोल दिए और नीचे हाथ डालकर उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया तो पेटीकोट जमीन पर गिर गया. लंड अन्दर घुसा तो उसके मुँह से दर्द और आनन्द दोनों की मिश्रित आवाज़ निकली. दोस्तो, पहली बार में ही काफी लंबा और मोटा लंड मेरी अनचुदी बुर में घुस रहा था तो दर्द तो होना ही था.

अब जेठ जी कभी अंदर करते … कभी बाहर!इतनी जोर से धक्के मार रहे थे कि मेरी गांड पूरी अंदर बेड में धंस जाती. चाची को भी काफी मजा आ रहा था, हम दोनों साथ मे कामुकता भरी अवाजे निकाल रहे थे, पूरा कमरा आह … ओह्ह … उई … उम्म … आह से गूंज रहा था।मैंने अब अपनी रफ्तार बढ़ाना शुरू किया. न्यू एचडी हिंदी सेक्सी वीडियोउस दिन उसने मेरा हाथ अपने हाथ में लिया था और मुझसे कहा भी था कि फ़ालतू में झगड़ा मत किया करो.

अगले दस मिनट में हम दोनों नंगे हो गए थे और हमारे बीचचुदाई की मस्ती शुरूहो गई थी. मैंने उससे कहा- मैं तुम्हारे साथ जो भी करूंगा, किसी से नहीं बताऊंगा.

फिर मैंने एक पट्टी उसकी आंखों पर बांध दी, जिससे उसे कुछ नहीं दिख रहा था. मेरा हाल भी ऐसा ही था लेकिन तभी शिल्पा ने मुझे एक बात बताई, जिसे सुन कर मेरे हाथ रुक गए. भाभी के दोनों दूध चूसते चूसते मेरा लंड तन कर सलामी देने लगा था और भाभी की चूचियां एकदम लाल पड़ गई थीं.

मुझे थोड़ा दर्द भी रहा था पर वो मानने को तैयार नहीं थे और थोड़ी कोशिश के बाद उसका पूरा लण्ड मेरी गांड में समा गया. मैंने कहा- सरिता क्या करूं यार … मैं अपने आपको रोक ही नहीं पा रहा था और मुझे तुम्हें खुशियां भी देनी थीं ना सरिता. उसका सब सुनने के बाद मैंने उसको सही गलत … और अभी क्या जरूरी है … वो समझाया.

[emailprotected]Xxx पेनफुल सेक्स कहानी का अगला भाग:मेरी सेक्स कहानी से मिली मुझे एक मस्त आइटम- 4.

शायद उसने भी इस बात को नोटिस कर लिया था और मुझे लगा कि वो इस बात से थोड़ा असहज हो गयी है. फिर एक दिन मेरी मां ने मुझे बताया कि तुम्हारे ताऊ की तबियत अचानक खराब हो गयी है तो मैं और तुम्हारे पापा उनको देखने जा रहे हैं.

’‘कैसी हो मेघा?’‘अच्छी हूँ सर … और आप!’‘मैं भी … आज अच्छा तो लगा न!’‘जी सर. दस मिनट बाद हार्दिक झड़ने वाला हो गया था तो हार्दिक ने शनाया से कहा. मैंने चाची की टांगों को फैलाकर दोबारा कोशिश की, तो इस बार लंड चुत को फैलाते हुए अन्दर चला गया.

इसका फायदा ये था कि जब मेरा मन करता था, तब मैं अपना लंड उसकी चुत में डाल देता था और हमारी घमासान चुदाई शुरू हो जाती थी. उस दिन ना मुझे कोई जल्दी थी ना रीटा को … क्योंकि दिन के 2 बजे से लेकर अगली सुबह 10 बजे तक हम दोनों कमरे में ही रुकने वाले थे. मैंने उसे देख लिया और रुक कर उससे पूछा- निशा, आप इस घर में रहती हो?उसने बोला- हां … क्या आप रोज इसी रास्ते से आते जाते हो?मैंने बोला- हां.

भाभी की भाभी की बीएफ मैंने अपने लंड को शान्त करने के लिए इतना हिलाया कि मेरा लंड का गाढ़ा पानी निकल गया. फिर निशा बोली- मेरा क्या?मैंने कहा- ठीक है आज उसको कर लेने दे … कल या परसों तुमको चोद दूंगा.

बीएफ ब्लू सेक्सी दिखाएं

मेरी बात सुनकर रेखा ने मेरे सीने पर अपना सर रख दिया और मेरे सीने पर अपने हाथों से सहलाती हुई बोली- हर्षद तुम मुझे भरोसेमंद इन्सान लगे इसलिए तो तुम्हें बुलाया है. खैर … कुछ समय बाद हम अलग हुए तो उसकी सहेली से मैंने हाथ मिलाकर हैल्लो कहा. [emailprotected]Xxx इंडियन भाभी की कहानी का अगला भाग:अनजान भाभी से मुलाकात और सेक्स- 2.

वास्तविक जीवन में भावनात्मक लगाव भी ज़रूरी होता है, जो हैडी में दिख रहा था. फिर आंटी कहने लगीं- अब और खड़ा नहीं हुआ जाता … अब मुझे लेटा कर चोद लो. सेक्सी राजस्थानी सेक्सीभाबी के दर्द के कारण आंसू निकाल आए और चूत से खून निकलना चालू हो गया.

गोरे बदन पर काली ब्रा और पैंटी देखकर ऐसा लग रहा था जैसे कोई परी मेरे लिए आ गई हो.

‘उम्मम्म सर मार डालोगे क्या इस्सस सर … ऐसे मत करो न यार …’‘तेरा मुँह जब तक खुला रहेगा … तू बोलती रहेगी. मेरे लंड का सुपारा सीधा सरिता की चूत के छेद पर रगड़ खा रहा था तो सरिता सीत्कारने लगी.

मैं जाकर एलिस्टेयर की गोद में बैठ गई।पर तीनों पता नहीं क्यों मुंह लटकाए हुए बैठे थे. मैंने शिल्पा को दीवार की तरफ खड़ा कर दिया, जिससे उसका चेहरा दीवार की तरफ हो गया था. अब मेरी पत्नी ने अपना दायाँ घुटनों में मोड़कर पैर का पंजा बेड पर रखकर बाहरी तरफ फैला दिया.

उस काले रंग में उसका गोरा जिस्म बिलकुल संगमरमर के पत्थर सा कसा हुआ एकदम चमक रहा था.

बीच बीच में रुक कर वो मेरी गांड पर जोरदार चमाट मार देता जिससे मुझे हल्का दर्द भी हो रहा था. समीर मुझे देख कर मेरे भाई से बोला- अरे वाह, तेरी बहन तो इस ड्रेस में मस्त माल लग रही है. अगले दिन मैंने उनका मोबाइल लेकर देखा तो उस कमेंट के जवाब में चाची ने लिखा था कि हां क्यों नहीं.

सेक्स वीडियो एचडी अंग्रेजीजब मैं अंदर गया तो देखा कि केवल मैं ही आमंत्रित था, कोई और नहीं!मेरे पूछने पर उसने बताया कि कॉलेज में केवल मैंने ही उस विश किया था, और किसी ने नहीं।यह सुनकर कि घर पर हम दोनों अकेले हैं, मेरे दिमाग में हवस का शैतान आना शुरू हो गया लेकिन मैंने कुछ जाहिर नहीं होने दिया. सुबह जब विशाल बाथरूम गए तो मोहन ने रवि को पूछा- कैसी रही दूसरी बार की चुदाई?रवि बोला- मस्त … ऐसी चुदाई तो अब मैं रोज चाहूँगा.

बीएफ कुत्ता वाली बीएफ

वो खड़े लौड़े के ऊपर चूत फंसा कर बैठ गई और हल्के हल्के से ऊपर नीचे होने लगी. मैंने कहा- यदि तुम मुझे इतना ही प्यार करती हो तो मुझे कुछ और भी पिला दो. मैं नहाने लगा और नहाने के बाद उधर बाथरूम में कहीं तौलिया नहीं दिखी, जोकि मुझे पहले से ही मालूम था.

मैंने उनके मुँह को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी तरफ किया और उनके होंठों पर अपने होंठ रख कर जोरदार किस करने लगा. तो सोनाली ने पूछा- क्या हुआ हर्षद?मैंने कहा- नीचे उतरो और आगे की सीट पर बैठो. ये सुनते ही शिल्पा ने मुझे अपनी तरफ खींच कर अपनी बांहों में ले लिया और अगले ही पल शिल्पा ने मेरे होंठों पर अपने होंठों को रख कर चूमने लगी.

मैंने अपनी दोनों टांग फैलाईं और अपने हाथों से उसका सर पकड़ कर अपने लंड की तरफ कर दिया. मेरा लंड किसी भी महिला या लड़की को सम्पूर्ण आनन्द तक पहुंचाने के लिए काफी है. बीस मिनट के बाद मैं वैसे ही उसकी चूचियों के साथ खेलने लगा और अपना मुरझाया हुआ लंड उसकी चुत पर रगड़ रहा था.

वो मेरे लंड से अपनी चुत की खुजली शान्त करवा कर अपने कपड़े ठीक करके नीचे चली गई थी. मैंने उन्हें एक झटके में पीछे घुमा दिया और उनके मुँह को पकड़ कर किस करने लगा.

लंड घुस चुका था तो मैंने उसकी एक टांग अपने हाथ में उठायी और उसे धक्के मारने लगा.

खाला ने उससे कहा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है?उसने सर नीचे झुका लिया और खाला से कहा- धीरे बोलिए, भाईजान सुन लेगा. सेक्स हिंदी मूवीमैं उनका बेडरूम देख ही रही थी कि तभी दोनों केविन और लांस अचानक गायब हो गए. देश भक्ति फोटो डाउनलोडिंगमैंने उनसे व्हाट्सएप नंबर मांगा तो उन्होंने मुझे फेसबुक पर एड कर लिया और बोलीं- यदि अच्छा लगा तो व्हाट्सएप नंबर भी दे दूंगी. इसके बाद मैं बिना मुड़े उसे तड़पता छोड़ कर घर की ओर निकल गया क्योंकि रात के 10 बज चुके थे और घर से मैं अभी भी 2.

उधर समीर को भी रोहन के कपड़े नहीं आ रहे थे इसलिए समीर ने बस रोहन का अंडरवियर पहना था, जिससे समीर का आधा लंड अंडरवियर में से बाहर निकल रहा था.

मिनी के ऊपर चढ़कर प्राची ने अपनी गांड को उठा दिया जिससे प्राची डॉगी स्टाइल में हो गई. मेरे प्यारे पाठको, आपको कैसी लगी मेरी यह जेठ बहू Xxx कहानी?[emailprotected]. फिर उसने सोचा कि मैं उसके साथ शादी नहीं करना चाहता हूँ … इसीलिए ऐसी बातें कर रहा हूं.

दोस्तो, मैं अगम अपनी दुबई वाली पाठिका फ़लक के साथ चुदाई का मजा आपको सुना रहा था. मौसी कसमसाने लगीं- आह अरुण, ये क्या कर रहा है … भला चूत भी कोई चाटता है क्या?मैं- मौसी आपने कभी चूत नहीं चटवाई क्या?मौसी- भला इतनी गंदी चीज़ को भी कोई चाटता है?मैं- मौसी बस आप आराम से लेटी रहो, मुझे अपना काम करने दो. मुझे उम्मीद है कि आप मेरी पहले वाली Xxx कहानीटीचर से चुदाई की तमन्नाको पढ़ कर मुझे एक बार फिर से अपना प्यार देंगे.

हिंदी बीएफ घोड़े वाली

उन दिनों हमारी डांस टीचर बहुत व्यस्त रहती थीं क्योंकि फेयरवेल पार्टी बहुत नजदीक थी. और यही मौका था मेरे पास अपनी बहन को चोदने का!तो फिर मैं पूरा नंगा बाथरूम में से बाहर आ गया. आपकी पहचान सिर्फ मुझ तक और सिर्फ मुझ तक रहेगी, मैं अपनी ज़ुबान देता हूं.

रेखा के मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं, इससे मैं जोश में आकर उसके कूल्हे जोर जोर से मसलने लगा तो मेरे लंड का दबाव उसकी चूत पर बढ़ने लगा.

मैंने कहा- ये जेबाँ तो आज घर पर है, हम लोग कैसे मजा करेंगे?वो बोली- मुझे भी समझ नहीं आ रहा है.

मिनी ने मुस्कुराते हुए मुझसे पूछा- मजा आया या और चूस दूं?मैंने उसे अपने पास खींच कर किस किया और बोला कि बहुत मजा आया. नैना को कोई और मिल गया था और उसने मुझे एक दिन कोचिंग में रिसेप्शन पर बैठी लड़की के साथ देख लिया तो हमारी बात होना ही बंद हो गयी. हिंदी अभिनेत्रीमैंने नोटिस किया कि सौम्या डार्लिंग को सुबह 10 बजे कॉलेज जाना होता था.

आह … अब मेरे सामने आंटी की फूली सी चूत पर्पल कलर की पैंटी में बंद नजर आने लगी थी. उसे भी चुत चटवाने में मजा आने लगा और वो धीरे धीरे मेरा साथ देने लगी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:बस स्टॉप पर एक भाभी से दोस्ती और प्यार- 3.

मैंने कहा- जब बेबी को पैदा किया था तब दर्द नहीं हुआ था?इस पर भाभी हंस दीं और मुझे चूमने लगीं. मैंने अब सरिता को ऐसे ही नीचे ले लिया और मैं अपने घुटने के बल बैठ गया.

मैंने शालू से पूछा कि क्या कंडोम लाऊं?वो खुल कर बोली- नहीं नहीं कंडोम नहीं … ऐसे ही करने का मन है.

पत्नी ने अपनी मैक्सी के अन्दर से अपने दोनों मम्मों को बाहर निकाल दिया और मेरा सर पीछे से पकड़ कर निप्पल पर लगा दिया. मैंने उसके ब्लाउज की डोरी खोल दी और उसका ब्लाउज उसके जिस्म से अलग कर दिया. मैं एक बार फिर से सरिता की दोनों चूचियां अपने दोनों हाथों से रगड़ने लगा.

सेक्सी व्हिडिओ इंग्लिश कुछ ही पल में सीमा के पीछे जा कर मयंक ने उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया।सीमा ने धीरे धीरे ब्रा की स्ट्रिप को अपने कंधों से सरकाया और ब्रा निकाल फेंकी। सीमा ने पीछे से ही मयंक के दोनों हाथ पकड़कर अपने स्तनों पर रखवाये।मयंक की दिल की धड़कन सीमा के स्तन पकड़ते ही और भी तेज हो गयी. मगर अगले ही पल मेरे मन में लड्डू फ़ूटने लगे कि अच्छा मौक़ा हाथ आ गया.

विलास मेरे पास आया और अपने दोनों हाथों में मेरा लंड पकड़कर बोला- यार, तेरे मोटे लंड ने मुझे बहुत मजा दिया. तभी मैंने देखा कि जो कपड़े मैंने आज सुबह धोकर सूखने डाले थे, वो सब भीग गए थे … और मैं जो कपड़े पहनी हुई थी, वो भी पूरे भीग चुके थे. मेरे टमाटर काटने की स्पीड को देख कर बोली- क्या बात है … आपकी बीवी तो आपसे बड़ा खुश रहेगी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ एचडी फुल

उसकी दाहिनी चूची के ऊपर एक तिल था जो उसको और भी ज्यादा खूबसूरत बना रहा था. उसने मेरी तरफ एक बार सरसरी निगाह से देखा और फिर अपना काम करने लगी।हालांकि वो कोई खूबसूरत नहीं थी और ना ही मैंने उसे कभी बुरी नजर से देखा था. हाय हैलो के अलावा मैं उसको गंदे चुटकुले भी भेज देता और उसके जवाब पर चुम्बन के इमोजी भेज देता.

मैंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी, मेरा पूरा लंड पत्नी के चुत में अन्दर बाहर हो रहा था. फिर मैंने मम्मी को अपने नीचे लिया और उनकी चड्डी को उतार कर दूर फैंक दिया.

मैं दस मिनट तक ऐसे ही उसकी चुत चोदता रहा और उसके मुँह से आह आह आह आह की सिसकारियां निकलती रहीं.

उसने फिर से नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए और उसने भी अपने लंड का सारा पानी मेरी चूत में निकाल दिया. हॉट लड़की की देशी सेक्स कहानी में पढ़ें कि हमारे घर में पड़ोसियों के रिश्तेदार ठहरे तो उनमें एक लड़की मेरी उम्र की थी. मेरे पास अपने लौड़े को हिलाने के अलावा (हस्तमैथुन) कोई इलाज नहीं रहता था.

मैं चाह कर भी अपनी नजरें उसके कड़क हो चुके निप्पलों पर से हटा नहीं पा रहा था. पर साली के कान में लीड लगी हुई थी जिस वजह से उसको कुछ सुनाई ही नहीं दिया. उसने लाल रंग की नाइटी पहन रखी थी जिसमें वह इतनी ज्यादा सेक्सी लग रही थी कि लंड फुदकने लगा था.

मैंने उसकी गांड के छेद को चाटा और उसकी गांड पर झापड़ मारा, उसकी गांड में उंगली डाल दी.

भाभी की भाभी की बीएफ: एक बात बताऊं, मुझे पता था कि तुम्हारा बॉयफ्रेंड है, पर मैंने इसलिए नहीं बोला कि तुमको कोई परेशानी ना हो. मैंने कॉल उठाते ही कहा- हां पम्मी आंटी … बस मैं 5 मिनट में आता हूं.

जिससे मैं थोड़ी आगे बढ़ गयी लेकिन उसका आधा लंड मेरी चूत में घुस गया था. फिर चाची ने ऐसा कुछ पूछा, जिसकी मुझे उम्मीद ही नहीं थी- अच्छा ये बता तू वॉशरूम में ये सब क्यों कर रहा था?मैं कुछ नहीं बोला और सिर नीचे करके बैठा रहा. वो बोली- आपको पता है क्या … मैं बेवा हूं … लेकिन आपको देख कर मेरी नियत फिसल गई.

मेरा मन वाकयी में उसकी गांड मारने का हो गया, मैंने उससे कहा कि अब गांड में लंड डाल रहा हूँ.

वो अपने हाथ ऊपर करती रही औऱ धीरे से पहले मेरी नाभि पर उसके होंठ आ गए. मैं उठ गया और बोला- मॉम, मामी की शादी वाला कपड़े पहन कर आओ, बिना सिंदूर लगाए. जब मैं दीदी को याद करके अपना लंड हिला रहा था, तभी दीदी का कॉल आ गया.