हिंदी बीएफ देहाती देसी

छवि स्रोत,बिहार एक्सएक्सएक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सक्सक्स हिंदी भाभी: हिंदी बीएफ देहाती देसी, इससे मेरी भी उत्तेजना बढ़ जाती, तो मैं भी उन्हें वीडियो कॉल करके अपने कमरे में मुठ मारते हुए उनके सामने अपना वीर्य निकाल कर दिखाता.

एक्स एक्स एक्स इमेज फोटो

उसने पूछताछ की तो …दोस्तो, कैसे हो आप? उम्मीद करता हूं कि आप सभी ठीक होंगे।मैं हरजिंदर सिंह एक बार फिर से आप सभी का अन्तर्वासना पर स्वागत करता हूँ।दोस्तो, आप ने मेरी पिछली कहानीक्लासमेट की चुदाईपढ़ी होगी. बिहार की लडकीमैंने कहा- यार मैं किसी की लव लाइफ में परेशानी की वजह नहीं बनना चाहता हूँ, इसलिए ही मैं तुमसे बात नहीं करता हूँ.

ये हिम्मत मैंने पहले क्यूं नहीं दिखाई?मैं अपने आप से ही सवाल कर रहा था. ट्रेन की चुदाईमेरा और मेरी बीवी दोनों का पानी निकल गया और फिर हम दोनों चुम्बन ले दे कर सो गए.

शुभम गांड मार रहा था और बोल रहा था- रंडी टैक्सी … तुझे तो हर रोज़ अपने लौड़े पर बैठा कर घूमूँगा।फिर सभी लोगों ने लगातार चुदाई की.हिंदी बीएफ देहाती देसी: उसके बाद अलीमा बोली- अंकल, आपने तो अपने लंड का पानी मेरी चुत के अन्दर ही छोड़ दिया है.

इतनी भीड़ होने के बाद भी मैंने जैसे तैसे भाभी के बड़े वाले बैग और मेरे बैग को, जो मैंने कंधे पर लटका रखा था, उसको एक बर्थ पर एडजस्ट किया.मैं कोई चूतिया तो था नहीं … उनका इशारा समझ गया था कि उनकी चुत की आग धधक रही है.

सबसे लंबा सेक्स - हिंदी बीएफ देहाती देसी

फ्रेंड्स, आपको मेरी गे क्रॉसड्रेसिंग इन पब्लिक स्टोरी कैसी लगी मुझे जरूर बतायें.फिर उसने मेरे दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखकर लंड को मेरी चूत में डाल दिया.

फिर हम दोनों ने नाश्ता आदि किया और सामन लेकर मैं भाभी के साथ घर आ गया. हिंदी बीएफ देहाती देसी उसने अपने एक हाथ से उसकी कमर को पकड़ा और दूसरे हाथ में उसकी एक टांग को उठा कर अपना गर्मागर्म लौड़ा रानी की जलती हुई चूत में घुसा दिया।साहिल का लौड़ा मानो किसी धारदार चाकू की तरह किसी की चमड़ी में घुसा हो.

तभी मुझे लगा कि मेरा काम तमाम होने वाला है, तो मैंने अंकिता को अपने नीचे ले लिया.

हिंदी बीएफ देहाती देसी?

जैसा कि आप सबको पता है कि पोर्न साइट्स पर हर तरह के वीडियो होते हैं. कहानी के बारे में कुछ पूछना चाहते हैं तो नीचे दी गयी ईमेल पर संदेश भेजें. तभी दीदी ने करवट बदली और मेरा हाथ मैक्सी में अंदर घुस गया।मुझे दीदी की चूत के बाल महसूस हुए तो मैं समझ गया कि दीदी ने पैंटी उतार दी है।मैंने अब और रिस्क नहीं लिया और बाथरूम में घुस गया.

पर आप खुद ही देर कर रही।भाभी- मुझे क्या फायदा देर करने से। मेरा बस चले तो आज ही ले आऊँ।मैं- तो भाभी, आपने अपने घर बात क्यूँ ना करी. मेरी लंबाई बहुत छोटी है इस कारण मुझसे कोई लड़की बात ही नहीं करती थी। मेरे सारे दोस्तों की शादी हो चुकी थी और उनकी पत्नियों को देख देख कर मेरा भी मन करता था शादी करने का. फिर मैं उसके सामने लंड तानकर खड़ा हो गया; मेरा लंड उसके चेहरे के पास ले गया और बोला- तुम चूसना चाहोगी इसे?उसने थोड़ा नखरा किया लेकिन मेरे एक दो बार कहने पर मान गयी.

उसने मेरे टॉप को उतार दिया और मेरे मम्मों पर जोर जोर से थप्पड़ मारने लगा. देखने में ऐसा लग रहा था जैसे किसी नवजात के लिए दूध की एक बहुत ही खूबसूरत बोतल को तैयार किया गया हो. हां मैं तुम्हें चोदना चाहता था, लेकिन मैं तुम्हें प्यार भी बहुत करता हूँ.

लेकिन वो गांड पे चांटे बहुत मरवाती थी जिसकी वजह से उसकी गांड भी बहुत सूजी थी 34″ की … और उसकी उम्र 23 की!तो अब साहिल उसके कपड़े सूंघ कर उसका स्पर्श ले रहा था. चाची ‘उईई ईई ईईश सीईई उम्म्ह … हाह’ की आवाज निकालने लगी।उसकी चूत नमकीन थी.

तो दोस्तो, आपको मेरी प्यासी पड़ोसन Xxx कहानी अच्छी लगी या नहीं? जरूर बताना.

फिर तुम आराम से अपनी बहन की लाइव चुदाई देख लेना कि कैसे तुम्हारी बहन चार लंड से चुदती है.

करीब आधे घंटे बाद मंजुला खाना बेडरूम में ही ले आई और फिर बिस्तर पर ही अखबार बिछा पर उस पर प्लेटें सजा दीं. 2 मिनट में मैंने भी दीदी की चूत को अपने लंड के पानी से भर दिया।दीदी ने मुझे जोर से हग कर लिया और मुझे चूमने लगी. लेकिन कभी मिला ही नहीं!जिस पे साहिल बोला- आज मिला है तो कर लो अपनी हसरत पूरी!राजसी बोली- क्या ये मुझे पहली और आखरी बार मिला है? क्योंकि इस तरफ के लन्ड से अगर मैं रोज़ चुदूँ तो मेरा जीवन खुशनसीब है.

फिर बातों बातों में हम दोनों तीसरे फ्लोर पर आ गए, जहां न ही कोई टीचर थी और न ही कोई स्टूडेंट. मैं उसे यूं ही प्यार कर रहा था और शबाना अपनी गांड की दरार में मेरे लंड को रगड़ कर मजा ले रही थी. मैंने फिर से चूची को हाथ में भरा और अबकी बार मॉम हटाने लगी तो मैंने कस कर दोनों हाथों से चूचियों को दबाना शुरू कर दिया.

पलंग के पास में रखी टेबल से मैंने पानी की भरी बोतल उठाकर हेमा चाची को दी.

अब आगे अकेली भाभी की चुदाई स्टोरी:शबाना भाभी की जीभ जैसे ही मेरे मुँह में चलने लगी मेरी समझ में आ गया कि माल टूट कर टपक गया है और अब इसकी चुत में लंड की सख्त जरूरत आन पड़ी है. फिर मैं बोला- ठीक है, बताओ क्या बात करनी है?वो बोली- आपको कम्प्यूटर की जानकारी है क्या? शायद मेरे कम्प्यूटर में कुछ खराबी आ गयी है. हम दोनों एक महीने के भूखे थे और एक दूसरे से चुदाई का पूरा मजा लेने लगे.

बस दुख इसका था कि अब मैं साहिल से प्यार करने लगी थी और अपना प्यार किसी से चुदे या किसी और को चोदे तब दुख होता है।बहरहाल अब कुछ किया नहीं जा सकता था. कुछ देर बाद मैंने उनको बेड पर लिटा दिया और उनके ऊपर आ गया और उनको फिर से चोदने लगा. फिर मैं उनके रूम में आई, तो देखा कि वो चारों केवल बनियान और हाफ लोवर में थे.

भाभी ने राज खोला कि ये शॉपिंग इसलिए हुई है कि मैं अपने घर जाऊंगी और तुम्हारे रिश्ते की बात करके आऊंगी।मैंने भाभी को बांहों में पकड़ कर बोला- भाभी मैं भी चलूं आपके साथ?वो बोली- तेरा जाना अच्छा नहीं लगेगा।मैं उदास हो गया और घर वापस आ गया.

मैंने बात बनाते हुए कहा- चाची अगर घर वाले आ गए, तो वो मुझे किसी न किसी काम में लगा देंगे … फिर मैं आपका टीवी ठीक करने कैसे आ पाऊंगा?हेमा चाची ने कहा- अरे हां भास्कर … तुम्हारी ये बात तो बराबर है. अम्मी ने बड़े प्यार से उसके सर पर हाथ फेरते हुए उसे ऊपर आने का इशारा किया.

हिंदी बीएफ देहाती देसी वो सीधा मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगीं और लंड को मुँह में लेने लगीं. कुछ पल बाद मैंने शबाना से कहा- चल मेरी शब्बो रानी, अब पोजिशन बदल ले.

हिंदी बीएफ देहाती देसी वो मेरे लंड के नीचे कैसे आयी?हैलो, सभी प्यारे लंडधारी और चुत गांड का छेद खोले हुए लड़कियां, भाभियां और आंटियां आपको लंड उठाकर मेरा नमस्कार. मैंने चुपके से हिमानी के कान में कहा- हिमानी मैं ऊपर थर्ड फ्लोर पर जा रहा हूं जहां कोने में एक छोटा सा कमरा है.

जब पहली बार मेरी पैंट के ऊपर से तुमने मेरा लंड पकड़ा था तो मुझे लगा था कि मैं पैंट में ही झड़ जाऊंगा.

मसानी क्या होती है

[emailprotected]सिस्टर इन लॉ सेक्स स्टोरी का अगला भाग:भाभी की बहन चोदकर बीवी बना ली- 2. इससे इतनी जोर से भाभी की चूत में धक्का लगा कि उसकी आह्ह … निकल गयी. मैं तो पूरे जोश से भर कर धक्के मारने लगा; और भाभी सिसकारी भरने लगी।मेरा पानी भाभी की चूत के के अंदर ही निकल गया.

मेरे परिवार में मैं, मेरी बड़ी बहन सुमन, पापा-मम्मी और एक छोटा भाई अरुण रहते हैं. जैसे ही अलीमा आंख मूंद रही थी, तो बलविंदर ने देख लिया था बस उस पोजीशन में जैसे ही अलीमा ने लंड के सुपारे को चूमा बलविंदर ने लौड़े को थोड़ा सा आगे कर दिया. मैंने अपने लंड को चूत के छेद पर सैट किया और धीरे से धक्का मारा, पर लंड फिसल गया.

झड़ने के बाद हेमा चाची थोड़ी ठंडी पड़ गई थीं और लेटे लेटे टीवी पर चल रही ब्लू फिल्म को देखने में लगी थीं.

ये सुन कर मेरा लंड बिल्कुल टाइट हो गया, जो अभी मेरी बीवी ने हाथ में पकड़ा हुआ था. मैं उनके ऊपर से उतरा और उनके बगल में लेट गया।थोड़ी देर बाद हम फिर से किस करने लगे। उन्होंने अपने नर्म हाथ में मेरा लन्ड पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया।मेरा लन्ड फिर से खड़ा होने लगा। वो उठकर लन्ड मुंह में डालकर चूसने लगी।जब लन्ड पूरा टाइट हो गया तो वो उठी और मेरे लन्ड पर अपनी चूत सेट करके बैठने लगी. हैलो साथियो, मैं आपका दोस्त भास्कर एक बार फिर से आपकी सेवा में अपनी पड़ोसन हेमा चाची की चुदाई की कहानी का मजा लेकर हाजिर हूँ.

यह भाभी हॉट सेक्स कहानी एक सेक्सी लेडी की चूत चुदाई की है जिसके घर मैं बिजली की रिपेयर का काम करने गया था. इस अंटी सेक्स की कहानी में नेकी करते समय हवस के जाग जाने का मसला है. अब जब भी हमें मौका मिलता है, हम साथ में टाइम व्यतीत करते हैं और मैं गर्लफ्रेंड की चुदाई करता हूँ.

सुमन धीरे से अंदर आ गई मैं मस्त होकर लंड को धीरे धीरे हिला रहा था।उसने चुपके से गेट बंद किया और मेरे पास आ गयी. दूसरे उसको प्रमोद की चिंता भी सता रही थी कि अगर ये ऐसे ही पैसे को बर्बाद करता रहा तो घर की जिम्मेदारी कभी नहीं समझ पायेगा.

भाभी मेरा साथ इतना एंजॉय कर रही थीं मानो न जाने कब से ही प्यासी हों. मेरे निप्पल तन गये और अब मैंने उसके सिर को चूचियों पर दबाना शुरू कर दिया. अब साहिल सिर्फ पैन्ट में था जो भीगी थी और ऊपर से नंगा जिस पर पूनम की नज़र थी।कुछ देर बाद साहिल ने पूछा- बताइए कि काम क्या था?तो उन्होंने बोला- एक कंप्यूटर खराब हो गया है, उसको देख लो।साहिल सामने रखे कंप्यूटर को देखने लगा और उसी के पीछे पूनम उसके और उसके आधे नंगे बदन को देख कर अपनी चूची मसलने लगी.

मुझे बहुत मजा आ रहा था मगर इधर राहुल इतनी जोर से अपना लंड मेरे मुँह में डाल देता कि उसका लंड गले तक उतर जाता.

कविता- आह्ह साले … जा ना … तू क्या मेरे पति की बराबरी करेगा? तेरे लंड में इतना दम कहां मिलेगा. शालू उस सांड के नीचे दबी हुई थी और उसकी ठुकाई को बर्दाश्त कर रही थी और मजा ले रही थी. उसकी चूत से पानी किसी झरने की तरह बह रहा था, जिससे उसकी पैंटी गीली हो रही थी.

उसकी चूत मेरे मुंह पर आकर मेरी सांस रोक लेती थी और वो मेरे सिर को जैसे अपनी जांघों में दबाकर अपनी चूत में घुसाने की कोशिश कर रही थी. किसी किसी को लगता होगा कि ऐसा होता नहीं है, कहानी वाले झूठ लिख देते हैं.

अभी बाबा जोर जोर से आंटी को चोदने में लगे थे और वो आंटी किसी रंडी की तरह अपनी दोनों टांगें हवा में उठाए हुए सिसकार रही थी- आह और जोर से चोदो … मजा आ रहा है. 3 फीट है। उसका रंग दूध के जैसा सफेद है।मेरी उससे 6 साल से दोस्ती है। वो मुझे एक शादी के फंक्शन में मिली थी. इस हॉट पड़ोसन की चुदाई स्टोरी के सभी पात्रों के नाम और स्थान काल्पनिक हैं.

वाइफ एक्सचेंज

चाची बड़ी कामुकता से मेरे हाथों से अपने जिस्म पर वीर्य की मालिश करवा रही थीं.

उनका संगमरमर सा बदन देख कर मुझे उनके पति पर तरस आ रहा था कि साला वो कितना कमनसीब है कि ऐसे कुदरत के करिश्मे को सम्भाल नहीं पाया. जब हमारा नम्बर आया, तो मैं शबाना का हाथ पकड़ कर उसे डॉक्टर के केबिन के अन्दर ले कर गया. जैसा कि मैंने बताया कि रमेश का अपनी कंपनी के काम से बाहर आना जाना बहुत ज्यादा लगा रहता था.

इससे साहिल एकदम से चौंक कर पीछे घूमा।पूनम बोली- क्या हुआ? मैं ही हूँ. राज तो कई बार आ चुका था हमारे घर लेकिन परम और जय तीन चार बार ही आये थे. म्यूजिक सेक्स वीडियोकुछ पल बाद उसने अपनी पानी की बोतल से पानी पिया, तो थोड़ा पानी उसकी टी-शर्ट पर पड़ गया और उसने खुद ही से बुदबुदाते हुए कहा- अरे यार … शिट.

एक लड़का है अर्पित जो 23 साल का है और दूसरा है हर्षदीप जो 22 साल का है. अजीत- तू तो खेली हुई रंडी लगती है!अंजलि- तो तुमको क्या लगा था?शेखर- हम लोगों को तो पता ही है तेरे बारे में सब कुछ.

मैंने लंड मुँह से निकाल कर चूत पर रख दिया और पूरे लंड को झटके में चुत के अन्दर पेल दिया. मुझे मोना से एक तरह से नफरत होने लगी थी कि अगर वह यह सब काम मेरे सामने करती … तो मुझे दुख नहीं होता. मेरी अम्मी एक मरी हुई कुतिया सी बिलबिलाते हुए सलमान से चुद रही थीं.

जल्द ही उन्होंने मुझे फर्श पर खड़ा कर दिया और विजय ने एक झटके में मेरी फ्रॉक निकाल दी. कुछ देर बाद मेरे लंड ने जबाव दे दिया और वीर्य की तेज पिचकारियां शबाना के हलक में एक के बाद एक उतरती चली गईं. मैंने मनु से अपना बैग उठवाया और उसमें से चुदाई की पॉवर और सेक्स टाइम बढ़ाने की गोली निकाल कर खा ली.

देखो भास्कर जवानी में सेक्स की इच्छा हर किसी को होती है … और ज्यादातर कुंवारे लड़के और लड़कियां ब्लू फिल्म देखते ही हैं.

मेरा सारा बदन उसका हो गया था, लेकिन मैंने अपने होंठों में उसे जीभ नहीं डालने दी थी. जल्दी ही चाची की चुत आग उगलने लगी और मैंने उन्हें पूरी नंगी कर दिया.

अभी बमुश्किल पांच मिनट ही बीते होंगे कि शबाना का जिस्म ढीला पड़ने लगा और वो मेरे मुँह में अपनी जुबान डाल बैठी. एक तेज आवाज के साथ अलीमा ने लंड लील लिया और धकापेल चुदाई का मंजर शुरू हो गया. रंग की थोड़ी सांवली है मगर फिगर ऐसा कि किसी भी हालत खराब कर सकता है.

मगर अगले ही पल उसने मेरे हाथ पर हाथ मारा और मेरे हाथ को बाहर खींचकर निकलवा दिया. तब मैं उसके घर से निकल गया और मैं वापस आ गया।फिर मुझे कुछ महीनों के लिए लखनऊ से बाहर जाना पड़ा।पर हम लोग रोज फ़ोन पर बातें करते रहते थे एक दूसरे से मिलने को बेताब रहते थे. अपना वास्तविक नाम न बताने के लिए मैं आपसे प्रारंभ में ही क्षमा मांग लेता हूं क्योंकि मैं यहां पर अपनी पहचान नहीं बता पाऊंगा.

हिंदी बीएफ देहाती देसी बाद में मुझे पता चला कि मैंने अपनी पत्नी के साथ जो रूबी को याद करके जो चुदाई की मस्ती में बना दिए थे, वो निशान रूबी ने देख लिए थे. थोड़ी देर में मैंने उसका टॉप उतार दिया और उसकी पिंक ब्रा में कसे हुए उसके मम्मों को देखने लगा.

ब्लू वीडियो डॉट कॉम

विजय ने मेरा मुँह दबाया हुआ था इससे मेरी आंखें बाहर को निकल आई थीं. मैं चेयर पर बैठा हुआ था और उनकी गर्म सांसों को अपने कानों के पास महसूस करने लगा. वो सेक्स कहानी मैं अगली बार लिखूंगा और आपको बताऊँगा कि आंटी के साथ और क्या क्या हुआ.

उसकी चुत चाटने के साथ साथ मैं अपनी दो उंगलियां भी उसकी चूत में अन्दर बाहर करने लगा. उसके मुँह से चीख निकलने की कोशिश कर रही थी … मगर मेरे होंठ अपनी ड्यूटी पर थे. हिंदी में बीएफ भेजिएक्यों न रात में भाभी की चुदाई करके उसको मनाया जाये?वैसे भी भैया भाभी को तो साथ लेकर नहीं जायेंगे क्योंकि उनकी खेत वाली चूत चुदाई का सारा मजा खराब हो जायेगा.

फिर इसी तरह से मात्र कुछ ही मिनटों में मैं धीरे धीरे फिर से मूड में आने लगा था.

उसके बाद बलविंदर अलग हुआ और बोला- मैं तुम्हारा पति तो नहीं हूँ, लेकिन प्यार तो मैं भी तुझे बहुत करता हूं. बस पूजा शुरू होने वाली है।मैं जब वहां पहुँची तो साहिल वहीं पर सफेद रंग का कुर्ता पजामा पहने बैठा था.

चाचा के जाने के बाद मुझे रात में हेमा चाची के पास रुकने का मौका मिला और मैं अपने पजामे की जेब में उस वीर्य से भरी शीशी को छिपाकर हेमा चाची के पास ले आया. मैं तो इस आनंद को रोक कर रख ही नहीं पाया और मेरा वीर्य निकल गया।दीदी ने उसको पूरा गटक लिया और चूसती रही. अब तो मेरी अंतर्वासना का ज्वालामुखी फूट पड़ा और मैंने जल्दी से अपना पजामा और चड्डी उतार दिया.

एक बार तो उन दोनों ने मेरे दोनों छेदों में एक साथ लंड पेल कर मेरी सैंडविच चुदाई भी की.

चूंकि बलविंदर का लंड एकदम चिकना और अकड़ा हुआ था तो उससे भी नहीं रहा गया और उसने भी अलीमा की चुत में लौड़ा ठेल दिया. मेरे होंठ उसके होंठों पर चिपक गए।वो तो चुपचाप वैसे ही खड़ा था लेकिन उसने होंठों से जैसे ही मेरे होंठ छुए तो मेरे ना चाहते हुए भी मेरे होंठ चलने लगे. वो धीरे धीरे बोलने लगी थी- आह बाबू प्लीज़ मुझे चोद दो … आह बाबू प्लीज़ अब मुझसे नहीं रहा जाता … बाबू प्लीज़ जल्दी करो प्लीज़.

सेक्सी बीएफ देसी फोटोमेरा सुपारा उसकी चूत में फंस गया और कपड़े के अंदर से ही उसके मुंह से जोर की चीख निकली. तभी साहिल उनके पास गया और उनको चुप कराने लगा।अब मुझे भी बुरा लग रहा था कि मैंने कुछ बिना सोचे समझे इतना कुछ बोल दिया.

छत की गैलरी की डिजाइन

दरअसल जब मैंने रीति को 15 हजार की रिंग गिफ्ट में दी थी तभी से भाभी को हमारे प्यार के बारे में पता लग गया था. उसने फर्स्ट फ्लोर पर एक कमरे की लाइट ऑन की और मुझे बोली- यहां सोना है आपको. मुझे अभी ये सब नहीं करना!वो मुझे मनाने लगा और विश्वास दिलाने लगा कि वो ज्यादा जोर से नहीं करेगा.

मैं एक हाथ से उसके लंड को सहलाते हुए मुस्कान भरी नजरों से उसे देख रही थी. करते रहो … आह्ह … मेरी चूत!मैं बोला- अब मैं तुम्हारी चूत में जीभ घुमा रहा हूं. अर्पित और हर्ष अब दोनों साथ साथ बैठे थे और आंटी उन दोनों के बीच में नीचे बैठी थी.

अब चाची सिसकारियां भरने लगी और बोली- राज, और तेज़ चोद मुझे! आज अपनी चाची की चूत फ़ाड़ दे! आहह चोद मुझे … ओहह अआह!अब मैं जोश में आ गया और तेज़ी से अंदर-बाहर करने लगा. सुमन धीरे से अंदर आ गई मैं मस्त होकर लंड को धीरे धीरे हिला रहा था।उसने चुपके से गेट बंद किया और मेरे पास आ गयी. फिर मैं अपने दोस्त के घर तक गया और वहां से वापस आकर दूसरी गली से भाभी के घर के पास पीछे की ओर पहुंचा.

जब भी मैं सलोनी से बातें करता तो मेरा ध्यान बस उसके 34 साइज के बूब्स पर होता था जिसको कई बार सलोनी ने भी नोटिस किया मगर उसने कभी मुझे कुछ कहा नहीं. उसके घर जाने से पहले मैंने उसको फोन पर बता दिया था कि दरवाजा खुला रखना.

क्योंकि जब मैंने फ़ोन किया था तब शायद तुम फ़ोन काटना भूल गयी थी और मैंने सब सुन लिया था.

वो खाँसने लगी, मैं अनसुनी करते हुए उसके मुँह में झटके देने लगा और उसके मुँह को चोदने लगा. हिंदी ब्लू मूवी दिखाएंवो मेरी तरफ देख कर बोलीं- साहब, भूखे मरने से अच्छा है कि खा कर मरो. बीएफ सेक्स ब्लू फिल्मअजमेर से भीलवाड़ा का सफर ज्यादा दूर का नहीं है तो थोड़ी देर में ट्रेन भीलवाड़ा पहुंचने वाली थी … पर हमारा खेल बिना कुछ बोले चलता चला जा रहा था. चाचा कमरे में आए और उन्होंने मुझे देखकर कहा- अरे भास्कर कैसा है … तू शादी में क्यों नहीं आया?मैंने कहा- चाचा वो मेरे कॉलेज में टेस्ट परीक्षाएं आने वाली हैं, तो उसी की तैयारी में लगा था.

कुछ दिन फेसबुक मैसेंजर पर बातें होने के बाद उसने मुझे अपना व्हाट्सएप नम्बर भी दे दिया और अब हमारी व्हाट्सएप चैट भी होने लगी.

बलविंदर ने भी अलीमा की इस बात को समझा और वो बिना लंड चुसवाए अलीमा को चोदने की पोजीशन बनाने लगा. वो मेरे पेट पर आ बैठी और मेरी छाती पर अपने हाथों से सहलाने लगी; मेरे पेट से लेकर मेरी निप्पल्स और गले को सहलाने लगी. एक दिन वहां कोई नहीं था तो मैं बिकनी में मस्ती में आकर अपनी चूत सहलाने लगी.

मेरी बीवी ने अपने चूत का पूरा माल मेरे मुँह में निकाल दिया, जिसे मैंने जीभ डाल कर चाट लिया. फिर अंदर लंड को गीला करके बोली- राज अब तड़पाओ न चोदो मुझे!मैंने मामी को लिटा दिया और चूत में लन्ड घुसा कर झटके मारने लगा. फिर सुमन बोली- मुझे आधा घंटा दो … और आप दूसरे कमरे में मेरी प्रतीक्षा करो.

एकस विडियो

वो बोली- ओह्ह अच्छा … तो तू इसलिए मुझे हर टाइम ऐेसे घूरता रहता है?ये सुनकर मैं चुप हो गया और मैंने अपना सिर नीचे कर लिया. उस बात पर धीरज बोला- ठीक है अंजलि, मैं बढ़ा दूँगा, लेकिन तुझे अपना टार्गेट पूरा करना पड़ेगा. वो बोली- साले मैं मर जाती तो!मैं- मरी तो नहीं न मेरी जान … पर अब जरूर मर जाएगी साली.

मुझे जब भी मौका मिलता, तो मैं उसे किस कर लेता, उसके दूध दबा देता, वो भी मेरे गले से लग जाती.

कुछ देर बाद आंटी ने अपने दोनों बड़े बड़े मम्मों के बीच में लंड को फंसाया और मेरे लंड को रगड़ने लगीं.

रहने दो सर जी, अब इत्ते टेस्टी भी ना हैं, मैं भी तो साथ में खा ही रहीं हूं न!”मैं झूठ क्यों बोलूँगा भला? दिल से कह रहा हूं सच में बहुत ही गजब का स्वाद हैं तुम्हारे हाथों में और ये बर्फी और सेव भी कितने स्वादिष्ट हैं. होंठों को मैंने उसके होंठों पर कस दिया और धक्के देते हुए उसको चूसने लगा. मुसलमानी लड़की का सेक्सी वीडियोउसने कहा कि मैं बहुत अच्छा हूँ।हम लोग उस दिन करीब 2 घंटे साथ में रहे और खूब बातें की।इसी तरह से समय बीतता गया.

घर आया, तो मैंने किसी अजनबी जनाब को घर की बैठक में अम्मी के साथ गुफ्तगू करते हुए पाया. तभी फ़रज़ाना दीदी की नजर अचानक मुझ पर गयी और उसने मुझे उसके चूचे ताड़ते हुए देख लिया और सीधी होकर बैठ गयी।तब मैं थोड़ा डर गया कि वो किसी को बता न दे. वो मुझ पर झपटने लगे तो मैं बोली- यहां नहीं, अंदर बेडरूम में चलते हैं.

लेकिन मेरे दिमाग अब बस यही चल रहा था कि मुझे भी अब शांति आंटी की चूत को भोसड़ा बनाना है. meri-bahan-chud-gayiवहाँ साहिल के पापा ने एक और घर शहर से थोड़ा बाहर लिया हुआ है.

पूरे कमरे में नन्दा की गर्म आवाजों और लंड चुत की फचाफच की आवाजें गूंजने लगीं.

सुबह 7 बजे मैं उठा तो मेरी बहन अपना लंच पैक कर रही थी।लगभग 8 बजे बहन स्कूल चली गई। मेरे कॉलेज की 3 दिन की छुट्टी थी। सुबह के 10 बज रहे थे. वो भी टांगें हवा में उठा कर लंड का पूरा मजा लेते हुए मेरा साथ देने लगी थीं. वो सीधा मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगीं और लंड को मुँह में लेने लगीं.

भोपाल का बीएफ तू एक काम कर … छोटू (शिवम्) के साथ चली जा।मैं खुश हो गया।माँ- छोटू जा तू ले जा बहू को … इसको सामान लाना है शहर से!मैं- ठीक है माँ … पर मैं अपने लिए भी कपड़े लूंगा।माँ- दो महीने पहले तो लाया ही था। इतने पैसे खराब माँ करते भाई … थोड़ा खर्च करा करते।तभी भाभी ने मुझे चुप होने का इशारा किया और अपनी तरफ बुलाया- शिवम्, चलो कपड़े बदल लो और जल्दी करो. फिर मैंने अनमोल को बोला- चलो बाहर तक छोड़ दो मुझे।अनमोल मुझे छत की सीढ़ियों की तरफ ले गया और बोला कि रूम का गेट खुला ही रखेंगे.

चाँदनी की चूत में अर्पित ने अपना लन्ड डाला और शीतल की चूत में हर्षदीप का लन्ड गया. जो नये लड़के इस मेल प्रोस्टीटयूशन धंधे में जाना चाहते हैं खासकर उनके लिए मैंने ये जानकारी लिखी. मैंने सोचा कि ये कुछ ज्यादा ही चुदक्कड़ लग रही है इसलिए कॉन्डम लगा लेता हूं.

y2mate से गाना कैसे डाउनलोड होते हैं

मैंने उनसे पूछा- बाबा इतनी सुबह सुबह कहां जा रहे हैं?उन्होंने बोला- हां मेरे दोस्त के यहां कुछ जमीन का झगड़ा हो गया है, वहीं जा रहा हूं. तो मैं उसे उठाकर उसके बैडरूम तक आ गया।फिर मैंने उसके कपड़े उतार दिये. उसके बाद तो हमारी लाइफ और ज्यादा रंगीन हो गई।मैं और दीदी रोज चुदाई करते रहे और दीदी ने मेरे लंड से दो बच्चे पैदा कर दिये.

वो कामुक सिसकारियां भरती रहीं और मेरा सिर चूत पर दबा दबा कर मजा लेने लगीं. वो बोली- सच बताओ कि हम दोनों में से तुम्हें किसकी चुदाई करने में मजा आया?मैं बोला- कल्पना, तुम लंड बहुत अच्छा चूसती हो.

अब मेरा मन सेक्स से हट चुका था और मैं अब हेमा चाची से चिपकने की बजाए उनसे दूर हट कर लेट गया.

फिर वो जब तक थोड़ी शांत होतीं, तब तक मैं उनके मम्मों को दबाते हुए उनको चूमता रहा. मैंने कॉल उठाई तो कल्पना कहा- कैसे हो मेरे दोस्त? कैसे लगी उसकी चूत?मैंने कहा- कमाल है साक्षी की चूत. फिर दिन बीतते गए लेकिन मेरे हस्बैंड ने ना उस रात के बारे में बात की और ना मुझे ऐसा फिर से मजा दिलवाने के बारे में बात की.

वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी जिसके बाद हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. दोस्तो, कैसे हैं आप लोग? कहीं सब बहनों की चुदाई में व्यस्त तो नहीं?आपको मेरी पिछली कहानीमेरी कच्ची कुँवारी बहन की सील तुड़ाईपसंद आई ही होगी. फिर जैसे ही हमने सेक्स करने का मूड बनाया, तभी अचानक से मेरे मोबाईल पर मेरे घर से फोन आ गया.

अगर उसको अपने जीवनसाथी से पर्याप्त कामसुख या संतुष्टि नहीं मिल रही है तो वह फिर बाजार से उसको खरीदना पसंद करती है.

हिंदी बीएफ देहाती देसी: ये बात मोना के माध्यम से मुझ तक आई, तो मैं तुरंत राजी हो गया और उस महिला से मिलने जाने का पक्का कर लिया. मगर मेरी तो किस्मत ही ख़राब है कि ऐसा दोस्त कभी मिला ही नहीं।उनकी इस बात से मुझे लगा कि शायद ये मेरे से चुदवा सकती हैं।फिर मैंने थोड़ा सोचा और हिम्मत करके कहा- अगर आप चाहो तो हम दोनों एक दूसरे की मदद कर सकते हैं और एक दूसरे के लिए कुछ ऐसा कर सकते हैं जैसा कि हम दोनों को ही पसंद है.

काफी डरी हुई और बहुत नरवस भी थी क्योंकि मैंने काफी सुना था कॉलेज में रैगिंग के बारे में. आज मैं बहुत खुश था, तो मेरी सगी बहन ने मुझे पूछ लिया कि भाई क्यों आज इतना खुश क्यों हो?मैंने कहा- कुछ नहीं … बस यूं ही. अगर उसको अपने जीवनसाथी से पर्याप्त कामसुख या संतुष्टि नहीं मिल रही है तो वह फिर बाजार से उसको खरीदना पसंद करती है.

रो रही थी क्या?मैं बोला- अरे भाभी, अब जमाना बदल गया है, जरूरी नहीं कि लड़की की आंखें लाल हो रही हों तो वो रो रही हो.

बल्कि अगर वो साहिल को देख लेती तो; वो एक बहुत बड़ी चुदक्कड़ लौंडिया है मेरी फ्रेंड वो हमेशा चूत चुदाई की बात करती है. मैंने नशीले अंदाज में कहा- तो आप मेरा लंड भी मुँह में ले लो … मुझे भी ये मज़ा मिल जाए. जब मैं जिज्ञासवश उनके पास गया तो उन्होंने मेरी गांड ही चोद दी!दोस्तो, ये मेरी पहली कहानी है.