बीएफ व्हिडिओ बिहार

छवि स्रोत,सुंदर भाभी का सेक्सी व्हिडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

निग्रो शॉट: बीएफ व्हिडिओ बिहार, बापू- अच्छा मैं तुझे इतना अच्छा लगता हूँ?काकी- हां लल्लू, गांव की न जाने कितनी औरतों के लिए तू रामबाण औषधि है.

सेक्सी धोती वाली

उसकी चूत में से ऐसी जबरदस्त खुशबू आ रही थी कि मेरा पागलपन और बढ़ गया था. घोड़े की सेक्सी मूवीउसके बाद वो मुझसे और खुल कर बात करने लगी और उस दिन के बाद हम दोनों में सेक्स की बातें होने लगीं.

वो बोले- हां, नाम तो मुझे भी ट्रू कॉलर पर आ गया था कि कोई प्रियंका का नम्बर है, मगर मुझे समझ नहीं आया था कि ये प्रियंका तुम हो. सेक्सी नया-नया वीडियोआप मुझे बताएं कि आपको मजा आया मेरी हॉट गांड Xxx कहानी पढ़ कर?nagmakhanfro[emailprotected].

जैसे ही वो बैठते समय थोड़ी सी झुकी तो उसके मम्मों की घाटी का हल्का सा नजारा दिखाई दिया.बीएफ व्हिडिओ बिहार: तब तक यह सो जाता है। आप ही बताओ हम क्या करें?मैडम ने कहा- आप लोग कहाँ रहते हो?मम्मी- हम लोग पास में ही रहते हैं स्कूल के!मैडम- फिर तो इसे मैं ही पढ़ा दूंगी.

मैं बोला- भाभी, लन्ड जा नहीं रहा है।भाभी बोली- साले कोशिश कर चला जायेगा। पहली बार गांड में लन्ड ले रही हूं।बहुत कोशिश करने पर मेरा लंड भाभी के गांड में घुस गया पर भाभी पूरा दर्द सह गयी.यह काम एक फील्ड वर्क वाला काम है, मुझे कस्टमर के घर जाकर काम करना होता है.

इंडियन नंगी सेक्सी पिक्चर - बीएफ व्हिडिओ बिहार

मैं अपनी चूत में कभी खीरा डाल लेती हूं तो कभी नकली लंड डाल लेती हूँ.मेरी पिछली कहानी थी:बुआ को उनकी सहेली के साथ चोदाआज मैंने अपनी सगी हॉट चाची की चुदाई की मनोरंजक सेक्स कहानी लेकर आया हूँ.

मैंने उसकी गांड साफ की और उसने मुझे पीठ पर साबुन लगा कर अपनी चूचियों से मेरी मालिश की. बीएफ व्हिडिओ बिहार मर्द को ख़ुशी ही तब होती है, जब औरत चुदाई के समय ऐसे दर्द से कराहती है और वो उसे उकसाती है कि चोदो और चोदो.

आप मुझे बताएं कि आपको मजा आ रहा है या नहीं कहानी पढ़ कर?[emailprotected]देसी वर्जिन गर्ल चुदाई कहानी का अगला भाग:.

बीएफ व्हिडिओ बिहार?

मैंने कहा- नहीं मुझे कुछ नहीं चाहिए बस तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ. मालिश के बाद मैं बेड से खड़ा हुआ और चाची को बेड पर ही कुतिया बना दिया. मैंने कहा- साहिला आंटी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो, मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ.

मैं थोड़ी शर्माने लगी और अपनी अधनंगी चूचियों को अपने हाथों से छुपाने की कोशिश करने लगी. उसने पीछे से मेरी पीठ पर चढ़ कर अपने हाथों से मेरे मम्मे पकड़ लिए और जोर जोर से दबाते हुए मेरी चूत चोदने लगा. मैंने महसूस किया कि उस बात से मैं और खाला, हम दोनों ही बहुत खुश थे.

मैंने मॉम से कहा- रुक जा बहन की लौड़ी, आज मैं तेरी चूत अच्छे से बजाऊंगा. मंजू हांफती हुई बोली- बुआ जब यह वियाग्रा खा लेता है तो रात भर चुदाई करता है. करीब चार मिनट के फोर प्ले के बाद शबाना के सब्र का बांध टूट गया और वो हाथ जोड़कर बोली- प्लीज अब अगला राउंड.

लेकिन कभी-कभी उसकी सफेद ब्रा की तनी बाहर झांक जाती थी, जिस वजह से मुझे ब्रा के रंग का पता चल गया था. मम्मी हंस कर बोलीं- क्या हुआ? कोई बुरा सपना देख रहा था क्या?मैंने बोला- नहीं.

मेरी शादी को एक साल हो गया है और मेरी मेरे हस्बेंड से ज्यादा बनती नहीं है इसलिए मैं उनसे झगड़ा करके मायके आ गई थी.

यह मेरी जिंदगी का वो एक महीना था जिसने मुझे पूरी तरह से बदल कर रख दिया.

फिर चाची बोलीं- आज की रात तू सबको भूल जा और अपनी चाची को जमकर चोद दे मेरे बेटे. वो मेरे सामने अपने नंगे 40 साइज़ के गोरे चिट्टे बूब्स 36 की कमर ओर 42 की गांड के साथ नंगी पड़ी मचल रही थीं. थोड़ी देर बाद मुझे अहसास हुआ कि उसका हाथ मेरी जांघों के जोड़ की तरफ बढ़ रहा है.

मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत में सरका दिया, गीली चूत में लंड का सुपारा आसानी से घुस गया. जैसे ही मैंने ज़्यादा ज़ोर लगा कर लंड घुसेड़ा, तो मेरा लंड का टोपा उसकी गांड के छेद में घुस गया. तब मैंने अपनी उंगलियां मॉम के मुँह से निकालीं और मैंने अपना लंड उनके मुँह में डाल दिया.

बापू ने बिना एक पल की देरी किए बिना अपना मुँह बुधिया काकी के एक मम्मे के काले जामुन से चूचुक पर लगा दिया.

कुछ दस मिनट बाद मैंने कुमकुम को खड़ा कर दिया और घोड़ी बना कर अपनी चचेरी बहन को चोदा. उनके जाते ही मैंने सुरेंद्र जी को फोन किया और उन्होंने बताया कि उनकी फ्लाइट शाम 6 बजे तक पहुंच जाएगी. उनकी कमर को सहलाते हुए मैं उन्हें किस करने लगा, उनके कानों को काटने लगा जिससे उनकी चीख निकल गई.

और थोड़ा सा तेल मैंने अपनी घुसी हुई उंगली पर डाला और उसकी गांड के छेद में चलाने लगा. मैंने तुरंत जलालुद्दीन साहब का लण्ड अपने मुंह में डाल लिया ताकि बचा खुचा वीर्य बर्बाद ना हो और मैं तब तक लण्ड को जोर जोर से चूसती रही जब तक कि लण्ड पूरा खाली नहीं हो गया. जलालुद्दीन आलिम ने मेरी कच्छी उठाई और पहले उस पर अपनी जीभ लगाईं और फिर उसको नाक के पास लाकर आराम से सूंघा और बोले- हम्म, खुशबू से तो लगता है कि ये बहुत जिद्दी जिन्न है, लेकिन हम भी कोई कम नहीं.

निर्धारित समय पर मैं दिल्ली से बीकानेर और वो नागौर से बीकानेर पहुंच गई.

जलालुद्दीन आलिम ने मुझे बिस्तर पर घोड़ी बनने को कहा तो मैं बिस्तर पर घोड़ी बन गई. मैंने मॉम के रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मैं उनके सेक्सी होंठों को चूसने लगा.

बीएफ व्हिडिओ बिहार कुछ पल बाद वो अपनी सहेलियों से जुदा हुई और खड़ी होकर किसी साधन का इन्तजार करने लगी. सोमवार को प्रोजेक्ट सबके सामने पेश होने वाला है, इसलिए आज कैसे भी कर के प्रोजेक्ट के सारे मसले हल करना थे.

बीएफ व्हिडिओ बिहार दरअसल वो पतले से कपड़े का क्रीम कलर का सलवार समीज पहनी हुई थी, जिससे उसकी कच्छी की कट दिख रही थी. दो दिन बाद सोनी ने मोटी मोमबत्ती तेल लगाकर मेरी गांड में डालकर काफी देर तक अन्दर बाहर की.

दोस्तो, मेरी ये गे फ्रेंड सेक्स कहानी कैसी लग रही है, हमारी बाकी इच्छाएं जानने के लिए सेक्स कहानी पढ़ते रहें.

कल्याणी रानी

जब मैं उसे उठा कर चोद रहा था तब उसका पानी निकल गया और कुछ ही पल बाद मैंने भी अपना माल उसके अन्दर छोड़ दिया. मैंने सुरेंद्र जी को ये बात बता दी और उन्होंने भी मुझसे मिलने के लिए तैयारी कर ली. वो चिल्लाए जा रही थी- आंह और कसके … और कसके!फिर हम दोनों 69 में आ गए.

देसी पोर्न दृश्य को आगे बढ़ाते हुए चाची ने हवा में हाथ उठा कर दूध तानते हुए कहा- अब देख क्या रहा है … जल्दी से निकाल … मुझे कीड़ा काट रहा है. नितिन ने अपनी नौकरानी से इस विषय में बात की और उसकी नौकरानी ने मेरे घर पर काम करने के लिए एक लड़की की तलाश शुरू कर दी. जब मैंने हाथ को कुछ ऊपर उठाया तो मेरी उंगलियों में कुछ नरम सा महसूस हुआ.

मैंने पूछा- इतना रंगीन आदमी है कौन?वो बोला- तेरी कमसिन गांड की पूरी दुनिया दीवानी है, यह भी उनमें से कुछ दोस्त हैं.

कुछ देर बाद मैंने मोबाईल की लाईट से मीना की ओर देखा, तो‌‌ वो सो गई थीं. दरअसल हमारे घर के इस बाथरूम के दरवाजे में कुंडी नहीं है, इसलिए दरवाजे के पीछे बाल्टी अड़ा कर नहाना पड़ता हैउस दिन घर में कोई नहीं था, इसलिए वो ऐसे ही बिना बाल्टी अड़ाए नहा रही थी. उसका उल्टा हाथ मेरी जांघ पर मेरे लंड के एकदम पास था, बल्कि उसका अंगूठा, थोड़ा बहुत मेरी गोटियों के उभारों को महसूस भी कर रहा था.

अर्चना अभी भी रोए जा रही थी वह मुझसे मिन्नते कर रही थी- लंड बाहर निकालो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है. सोनी और रवि यदि तुम दोनों की सहमति हो तो मैं नौकरी छोड़कर यहां बसना चाहता हूँ. वह मज़ाक़ में निशा से बोली- तू तो मना कर रही थी, अब क्या हुआ?हम तीनों हंसने लगे.

हॉट कजिन सेक्स कहानी में मैंने अपने से छोटी अपनी बुआ की विवाहित बेटी को चोदा. मुझे नहीं पता था कि चाची यह सब देख रही थीं क्योंकि चाची की तरफ़ मेरा पिछवाड़ा था.

उसका बदन इतना गोरा कि क्या बताऊं, आज तक मैंने ऐसा जिस्म देखा नहीं था. तो भाभी ने बोला कि अभी तो 8:30 ही बज रहे हैं, अभी से कमरे में जाकर क्या करोगे?मैंने भी सोचा कि हां बात तो सही है. एकदम लाल लंड देख कर मीनू मुस्कुराने लगी और अपनी ननद से बोली- खुल गई तेरी चूत की मोरी!कोमल भी हंसने लगी.

लंड अन्दर बाहर अन्दर बाहर तेजी से होने लगा मैं बुआ की चूत को धकापेल चोदने लगा.

नंगी मॉम को देख कर बहन ने आंख बंद कर ली … क्योंकि मैं और मॉम दोनों नंगे थे. मैंने बीवी को घोड़ी बनाया और लंड को पीछे से एक ही झटके में चूत की गहराई में पहुंचा दिया. आंटी आईं और बोलीं- अरे यार, डॉक्टर साब चले गए क्या?मैं शैतानी से बोला- मैं तो हूँ ना.

फिर अचानक से मम्मी ने कहा- उस वक्त बाथरूम के बाहर तुम क्या कर रहे थे?मैंने कहा- कुछ नहीं. गाली देते देते और चुदाई करते करते उनके धक्के तेज होते गए और मैं भी नीचे से जोर जोर से उछलने लगी थी.

फिर जलालुद्दीन आलिम ने अपना हाथ मेरे नीम्बू पर रख दिया और उसको सहलाने लगे. उनका लंड देख कर मैं सच में डर गयी कि मेरे अन्दर इतना बड़ा कैसे जाएगा. मुझको पेट के बल लिटाकर पहले अपनी एक उंगली में तेल लगाकर वो मेरी गांड में डालकर अन्दर बाहर करने लगा, फिर दो उंगली से!किताब में लिखा था कि गांड ढीली रखने से दर्द कम होता है और मजा ज्यादा आता है.

नंबर चाहिए लड़की का

उसने स्कर्ट पहनी हुई थी, उसकी गोरी गोरी भरी हुई जांघें देखकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

मैं उसको अपनी तरफ खींचते हुए उसकी चूत चाटने लगा।वो भी मदहोश होके बोलने लगी- उम्म आह म्म्ह … हां और तेज चाटो आर्यन … और तेज … कब से भरी पड़ी थी टंकी … आज खाली कर दो इसे!मैं भी तेजी से उसकी चूत चाटने लगा और अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल कर उसके चूत के दाने के साथ खेलने लगा. तब तक एक बात मैं जरूर कहना चाहूँगा कि सोशल मीडिया पर दोस्ती करने से पहले बहुत सजग रहने की जरूरत है. तब तक हिना ने हमारे लिए नाश्ता बनाया था तो हम दोनों अपनी चुदाई पूरी करके फ्रेश होकर नाश्ता करने आ गए.

फिर मैं मॉम को बोलने लगा- साली कुतिया सीमा, बहुत आग है ना तेरी चूत में … आज मैं तेरी चूत चोद चोद कर तेरी चूत का भोसड़ा बना दूंगा. मैंने बस पैंटी के ऊपर से एक थ्री फोर्थ पहनी और ऊपर टी-शर्ट पहन कर मैं चल दिया. एचडी सेक्सी कार्टूनमेरे कंधे, गर्दन, छाती, कमर और पेट सब अपने थूक से गीला करते हुए जीजू मेरी चूत तक आ गए.

मुझे नहीं पता था कि तुम इतना अच्छे से मेरी चूत की आग को शांत कर सकोगे. वो उंगली को बाहर निकालने के लिए छटपटाने लगी लेकिन मैं जोर जोर से चूत में उंगली हिलाता रहा.

थोड़ी देर तक उँगलियों से मेरी चूत खोदने के बाद जलालुद्दीन मेरे ऊपर चढ़ गए. मेरी इस बात पर चाची थोड़ी मुस्करा कर बोलीं- कैसी मौज मस्ती?मैं फिल्मी स्टाइल में बोला- थोड़ा घूमेंगे फिरेंगे और क्या?चाची इठला कर बोलीं- और अगर तेरे चाचा को पता चल गया तो?मैंने कहा- किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. वह अपनी बारी चलने ही जा रही थी कि मैंने उसे रोका- पहले ये तो बता, जीतने वाले को क्या मिलेगा?‘ह्म्म्म …’उसने थोड़ा सोचकर बोला- कुछ भी नहीं.

कुछ ही धक्कों में ही मैं ज़ोरदार तरीक़े से चाची के मुँह में ही झड़ गया. हम दोनों अपनी पूरी ताकत से लड़ रहे थे और एक दूसरे से आगे निकल जाने जैसी होड़ लगा रहे थे. यh बात उस दिन की है जब मेरी मां छन्नो राखी बांधने मेरे मामा के घर गई थीं.

फिर माधुरी ने एक झटके में मेरी कमर से मेरी पैंट के साथ साथ मेरी अंडरवियर भी उतार दी.

फिर मैंने उसके नाभि के आस पास चाटा और झट से अपने होंठ उसकी चूत पर रख दिए. भैया ने तभी पीछे से मेरे बाल पकड़ कर मेरी आंखों में आंखें डाल दीं और मुझे देखने लगा.

मैंने भी सोचा कि यही सही समय है, लग जाओ प्यारे, हो सकता है कि कोई सैट हो जाए. कुछ टाइम बाद मॉम ने मुझसे पूछा- तुम रात को कौन सा सपना देख रहे थे?मैंने बोला- मैंने तो कुछ भी नहीं देखा. इस बार होली पर मेरी बहन आयेशा भी मेरे साथ थी तो इस बार होली बहुत ही सेक्सी वाली होने वाली थी जिसमें रंग के साथ हमें लंड का भी मज़ा मिलने वाला था.

मैंने उससे नाराज होते हुए कहा- अभी तुमने कहा था कि तुम जो चाहे वो मांग लेना, मैं दे दूंगी … और अभी तुम कह रही हो कि नहीं. मेरी नज़रें आंटी की गोल मोटी चूचियों और तने हुए निप्पल्स की तरफ हो गईं. मैंने पूछा- बर्थडे सेक्स का मजा आया?शबाना मुस्कुरा कर बोली- बहुत … और आपको?मैंने कहा- मुझे भी बहुत आनन्द आया.

बीएफ व्हिडिओ बिहार बुआ ‘और तेज और तेज चोद राजा … आह फाड़ दे मेरी चूत को आंह …’ कहती हुई चिल्ला रही थीं. उसके बाद वो मुझसे और खुल कर बात करने लगी और उस दिन के बाद हम दोनों में सेक्स की बातें होने लगीं.

ஸ்விச் பிபி வீடியோ

कुछ देर बाद उसके जाने का समय हो गया था और खुली जगह चुदाई के उतनी सेफ नहीं होती इसलिए हम दोनों वापस घर आ गए. वो बिन पानी की मछली जैसे छटपटाने लगी और उसकी आंखों से आंसू बहने लगे, उसके नाखून और मेरी पीठ में और अन्दर घुस गए. उन्होंने अपनी वाइफ से पूछा होगा और शायद उन्हें मेरा नम्बर दे दिया होगा.

भैया के लंड का सुपारा एकदम गुलाबी था और उस पर गीलेपन की चमक आ गई थी. खाला की चीख निकल गई- आह मर गई … उई अम्मी रे मर गई … आंह निकालो जल्दी सुलेमान … मैं अपने हाथ जोड़ती हूँ … आह निकाल लो जल्दी से वर्ना मैं मर जाऊंगी. সেক্স করোमैंने हंस कर कहा- आंटी, दरवाज़ा तो बंद कर लिया करो, कोई चोर वगैरह घुस सकता है.

अचानक उनकी टांगों में थिरकन होने लगी, उनका बदन अकड़ने लगा और उनका लण्ड गर्म हो गया.

न केवल मर्द को बल्कि औरत को भी उसकी चूची दबाते और मसलते, या उसकी गांड पर थप्पड़ मारते समय, उसके निप्पलों को मुँह में लेकर खींचते या काटते समय औरत को भी मजा आने लगता है. तो यह थी मेरी पहली चुदाई की पहली कहानी जिसमें मेरी आपा ने मुझे सेक्स के बारे में सिखाया.

तुम्हारे बदन को मसल कर हम बस थोड़े समय का इलाज कर सकते हैं, असली इलाज के लिए तुमको अपनी पूरी चुदाई करवानी होगी. मेरा लंड कोमल की चूत के अन्दर जड़ हो गया था और अब सुपारा चूत की दीवारों से रगड़ खाकर चुदाई का मजा देने लगा था. वो सेक्स कहानी बाद में बताऊंगा, पहले आप इस सेक्स कहानी पर कमेंट करके बताएं कि आपको ये कैसी लगी.

मैं 10 सेकेंड रुका और उसके बाद मैंने उसे जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया.

कोई कहता- बला का खूबसूरत चेहरा देने के साथ साथ अल्लाह ने तुमको बदन भी बला का तराशा हुआ दिया है. फिर मैंने उससे कहा- माधुरी, सच तो ये है कि मुझे तुम्हारी चूचियां बहुत अच्छी लगती हैं. मैं- नीना, इसको मिशनरी आसन कहते हैं, इसमें हम एक दूसरे का चेहरा देख सकते हैं और बात कर सकते हैं.

करिष्मा कपूर सेक्सी पिक्चरहालांकि कभी नाप कर नहीं देखा मगर किसी औरत या लड़की की सील तोड़ने और उसको तृप्त करने के लिए काफी है. भाभी ने मुझे उठाया और लंड को हाथ में पकड़ कर बोली- आज मेरी चूत की आग शांत होगी … बहुत मोटा और लम्बा लंड मुझे चोदेगा.

मेला फिल्म फुल एचडी

उसने पूछा- ओके बुआ आपको रोहित से अभी और चुदवाना है न?मैं बोली- रात में देखूंगी. उसकी चूचियां 36 साइज की भरी हुई, उसका टाइट ब्लाउज़ और उसकी बगलों में लगा हुआ पसीना. लंड को वापस खड़ा करने के लिए मैं लंड को सहलाने लगी और वापस मुँह में लेकर चूसने लगी.

सेक्स में औरत को कैसे संतुष्ट करना है, उसके लिए उससे ईमोशनली कैसे अटैच होना चाहिए, ये सब एक ज्ञान है. इसी पल मैंने अपने होंठ शबाना की नाभि पर चुम्बन के लिए सैट किया और हाथ से सलवार का नाड़ा खींच दिया. ये कह कर मैं एक पल के लिए रुका और इस आशंका से माधुरी की आवाज सुनने की प्रतीक्षा करने लगा कि वो अब चिल्लाई तब चिल्लाई.

नहीं नहीं झूठ नहीं बोलूंगा … मैं सिर्फ उसे देख रहा था कि चलने से उसके गोल स्तन ऊपर नीचे थिरक रहे थे, जो पल भर में ही किसी का भी मन डोला दे. मैं ये तो नहीं कहूंगा कि मैंने चाची को खूब चोदा, उल्टा करके चोदा, उनके मुँह में दिया. अब तक उसे पता चल चुका था, वो अब मेरे ख़ड़े लौड़े को अपनी जांघ पर महसूस कर रही थी और मुस्कुरा कर बोली- राहुल, यह क्या कर रहे हो?मैं बोला- कुछ नहीं यार, करने दो ना!फिर वो चुप हो गयी और मैं लौड़ा रगड़ता रहा उसकी गांड के पास!उसकी बड़ी गांड का स्पर्श पाकर मेरा लौड़ा से पानी टपकने लगा.

अगले पल मैंने एक और धक्का लगाया, चूत के चिपचिपे पदार्थ और वैसलीन जैली की चिकनाहट से मेरा आधे से ज्यादा लंड शबाना की चूत में पेवस्त हो गया था. थोड़ी देर बाद मैं अपने घर चला आया।आपको कज़िन सिस पोर्न कहानी कैसी लगी?आप मुझे मेल करके बता सकते हैं, रिप्लाई जरूर मिलेगा।धन्यवाद।[emailprotected].

कुछ देर मेरे मम्मों को मसलने के बाद जीजू किसी कुत्ते की तरह मेरा बदन चाटने लगे.

फिर मैंने कोमल से कहा- तुम भी मुँह में लेकर देखो, ये बड़ा हो जाएगा तो मैं तुम दोनों को चुदाई का मजा दूंगा. ससुराल सेक्सी वीडियोबड़ा ही गाढ़ा और नमकीन रस चाटने से मुझे नशा सा होने लगा था और भाभी की कसमसाहट लगातार बढ़ रही थी. करीना कपूर का नंगा फोटोदो ही मिनट के बाद मेरा लंड अपने चरम पर आ गया था और अब लंड से रस साक्षी की गांड में कभी भी छूटने वाला था. ये सुन कर मैं मुस्कुराने लगा और मैंने उसी वक्त जोर से साक्षी के निप्पल को काट लिया.

तभी अचानक से अर्चना का ध्यान मुझ पर गया और वो एकदम से सकपका कर शर्मा गई.

माधुरी मेरी इस क्रिया से ‘आहा … आह आउच …’ की सिसकारियां लेती और मेरे बालों में अपने हाथ घुमाती. अब मुझे बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था तो मैंने अमन और पुलकित को रोका और कहा- अब जाकर किसी और की चुदाई करो, मुझे अब दर्द हो रहा है. कुछ देर बाद मैं सर को झटका और उधर से सीधा रेलवे स्टेशन की तरफ बढ़ गया.

यह कहकर मैंने मोहित की गांड पकड़कर फैला दी तो उसकी गांड का छेद नुमाया हो गया. मैं चूंकि चाची के साथ ही रहता था तो चाची अपना हर काम मुझसे ही करवाने लगी थीं. अब वो खड़ी हुई और मुझे किस करने लगी, मेरे सीने के दोनों दानों को बारी बारी से चूसने लगी.

मुन्नी मेट्रिक पास

देसी औरत की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने बापू को पड़ोस की एक सेक्सी विधवा औरत की चूत चुदाई करते देखा अपने ही घर में आधी रात को!दोस्तो, मेरा नाम आरुष है ओर में खरगोन जिले के बड़गांव में रहता हूं. मुझे चोदते चोदते वो एक बार फिर से झड़ गयी और एकदम से मेरे ऊपर गिर पड़ी. मम्मी ने मेरे मुँह को अपने बूब्स के बीच दबा कर मुझे हग किया, फिर लिप किस करने के बाद बोलीं- चल अब जल्दी से नाश्ता कर ले.

मैंने झट से अपना डिब्बा छोड़ दिया और माधुरी का हाथ पकड़ कर उसे प्यासी निगाहों से देख कर पूछा- क्या सच में आज मुझे तुम्हारा दूध पीने को मिलेगा?माधुरी ने भी प्यारी सी स्माइल देकर कहा- हां पी लो न … जितना चाहे उतना पी लो.

वो बोली- यह क्या कर रहे हो आप?पर मुझे पता था कि उसको मन ही मन में अच्छा लग रहा है.

अब तक ऐसा होता था कि मैं हरकत करता था और चाची चुप रह कर मेरी हरकतों को नजरअंदाज कर देती थीं. फिर भी मैंने हाथ को रोका नहीं और उंगली को चूत में अन्दर बाहर करने लगा. ওপেন এডেলये कह कर बुधिया काकी बापू की तरफ घूम गईं और उन्होंने अपना एक दूध बापू के मुँह की तरफ बढ़ा दिया.

एक दिन मैंने उसे अन्तर्वासना की भी बहन वाली स्टोरी भेज दी, जिसे देख कर उसका पहली बार रिप्लाई आया- छी: इतनी गंदे लोग भी होते हैं?मैंने कहा- हां ऐसा होता है. मैंने मॉम की चूत से अपनी दोनों उंगलियां निकालीं और देखा कि मेरी दोनों उंगलियां मॉम की चूत के पानी से पूरी तरह गीली हो चुकी थीं. जो लोग अपने को स्ट्रेट बोलते हैं, एक बार किसी बॉटम से लंड चुसवा कर देखें, फिर कहें कि तुम्हारा स्ट्रेट होने का घमंड कैसे मिट्टी में मिल जाता है.

एक दिन में कई कई बार चुदाई की फ़िल्में देखता था और मैं अपना लंड पकड़ कर मुठ मारता रहता था. तेरे इस जवान लंबे मोटे लंड ने मेरे दोनों छेदों को अच्छे से शांत कर दिया है.

मेरे हाथों का स्पर्श पाकर वह मचलती चली गई और अपनी उसने मैक्सी को उतार फेंका.

फिर हम कॉफी पीकर जाने ही वाले थे कि उसने कहा- मुझे आज रात तुम्हारे साथ में बितानी है. मेरे यूं देखने से Xxx चाची ने अपनी हरकत को गति दे दी और वो बिंदास मेरे लौड़े को सहलाने लगीं. मैं अपनी चूत में कभी खीरा डाल लेती हूं तो कभी नकली लंड डाल लेती हूँ.

भोजपुरी में देवर भाभी का सेक्सी वीडियो एक हिजड़े ने पाने से जलालुद्दीन के लंड को धोया और साफ़ टॉवल से पौंछ दिया. अब जलालुद्दीन साहब भी पीछे से मेरी गांड ठोकते ठोकते थक चुके थे तो उन्होंने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया.

उस रात मैंने दो बार अपने लंड को शांत किया और अगले दिन की सोच कर मैं सो गया. फिर डर भी लगा कि कहीं ऑफिस जाकर उसने मेरी शिकायत किसी से की तो मेरा काम उठ जाएगा. माधुरी को साड़ी में सजी संवरी सोच कर बाथरूम जाकर अपने लंड को शांत कर आया.

विवाह पिक्चर हिंदी

कुछ घंटों के आराम के बाद फिर वही दौरे पड़ने शुरू हो गए और मुझे झटके लगने लगे. मेरे अंदर भी सेक्स का तूफ़ान उठने लगा था, मैं सोच रही थी कि काश आपा कि जगह मैं उधर होती तो और भी मजा आता. अब मैं अपनी सारी शर्म लज्जा त्याग कर उन दोनों के बीच औंधी होकर लेट गई.

कुछ देर ऐसे ही मजा लेने के बाद मैंने उन्हें बेड पर लिटा दिया और मैं उनके ऊपर चढ़ गया. लेकिन फिर भी मैं कॉपी में लिखने का नाटक करने लगा लेकिन मेरा ध्यान उनकी तरफ ही था।अब मैडम ने मम्मी को बांहों में भर रखा था और उन दोनों के स्तन आपस में टच हो रहे थे.

मेरे होंठ चूसते चूसते जीजू ने अपना एक हाथ मेरे दूध पर रखा और मसलने लगे.

इस तरह से मेरी चचेरी बहन और मैं घर पर रह गए, बाकी सब लोग शादी में जाने की तैयारी करने लगे. मैं बार बार लंड अन्दर बाहर करता रहा, उसे कुछ देर दर्द महसूस हुआ, फिर सब कुछ नार्मल हो गया. मैंने उसकी टांगों को फैलाकर अपने लंड को उसकी कसी हुई चूत पर रखा और हल्का सा धक्का दे दिया.

तो उसने मना कर दिया, बोली- ये नहीं हो पायेगा।‘कोई नहीं!’ बोल के मैंने अंजलि के दोनों हाथों को पकड़ के उठाया और बोला- चलो अब बेड पर चलते हैं।और अंजलि को बेड पर जाने का इशारा किया. कमरे में आकर सोनी बोला- मैं बहुत जल्दी झड़ गया, मैं बहुत जोश में आ गया था. वैसे ही मैं कुछ मिनट तक लगा रहा और लंड को धीरे धीरे आगे पीछे करते हुए चूत में जगह बना रहा था.

चाची ने बताया कि पिछले 20-22 दिनों में चाचा ने एक बार भी उन्हें नहीं चोदा था.

बीएफ व्हिडिओ बिहार: खिड़की के पर्दे से टकरा कर आने वाली हवा उनमें नई शक्ति का संचार कर रही थी. क्या मस्त अहसास था!जलालुद्दीन ने उंगली मेरी चूत में आगे पीछे की और थोड़ी देर में एक और उंगली डाल दी.

उसकी पीठ इतनी कामुक लग रही थी और उसमें उसकी ब्रा की डोर तो मानो किसी को घायल ही कर दे. उस दिन भाभी ने रेड कलर का सूट पहना हुआ था जिसमें से उनके चूचे पूरे ऐसे टाइट दिख रहे थे मानो उनकी सूट का ऊपर वाला हिस्सा अभी फट जाएगा और उनके दोनों पपीते अभी के अभी बाहर आ जाएंगे. वो एकदम लंबे चौड़े और बहुत हैंडसम थेउनके पढ़ाते समय मैं उनके पैंट की तरफ देखता रहता था.

फिर शाम को जब वो अकेली दिखी तो मैं उसके पास गया और जाते ही सॉरी बोल दिया.

उसने मुझे देख कर कहा- क्यों कैसे लगी मेरी नयी दुकान … अभी सैट की है पूरी शॉप को. शायद कवि लखमी चंद ने उसके लिए ही ये रागनी लिखी थी- छाती खिचमा पेट सुकड़मा …बीच रास्ते में उसे किसी का फोन आया और उसने फोन पर बताया कि वो कोमल (बदला हुआ नाम) ही बोल रही है. मुझे मतली आने लगी थी लेकिन मैं कुछ कर नहीं सकती थी इसलिए मैं उसका गन्दा लंड चूसने लगी.