देसी बीएफ सुहागरात

छवि स्रोत,सेक्सी शॉपिंग

तस्वीर का शीर्षक ,

ગુજરાતી પોર્ન વીડિયો: देसी बीएफ सुहागरात, मामी ज़ोर से चिल्ला उठीं, इतनी ज़ोर से चिल्लाईं कि अगर कोई छत पर होता तो जाग जाता.

राजस्थानी सेक्सी लड़कियों का वीडियो

इतना कहते ही अंकित मेरी चूत को फैला कर ऐसे चाटने लगा कि मैं उत्तेजित हो कर उछल पड़ी. सेक्सी बीपी वीडियो 2021अंकित के दूध चूसने का ऐसा मस्त स्टाइल था कि मैं सी सी आहह आहह करने लगी.

मैं 5 फुट 11 इंच की हाइट का एक बहुत ही गोरा और एथलीट बॉडी का मालिक हूँ. हिंदी सेक्सी बीपी चाहिएकुछ देर बाद मैंने उसके दोनों चूतड़ों को अलग करते हुए उसकी गांड के छेद को अपनी जीभ से सहलाने और चाटने लगा.

इधर मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था … क्योंकि मेरा लंड भी बहुत गर्म हो गया था.देसी बीएफ सुहागरात: अब मैं ये तो समझ गया था कि वो चुदने को बेताब है, पर मैं उसे तड़पाना चाहता था, इसलिए दूसरे दिन मैं उसकी स्कूटी से गया.

कॉलेज में लंच के टाइम उसने अपने एक दोस्त को बोला कि मिलने के लिए रूम चाहिए, हमें रूम मिल गया.वो मेरी चुची मसलते हुए बोला- वन्द्या, तू कब से चुदवाना शुरू करवा चुकी है, इतने मस्त तेरे फीचर्स हैं इतना जबरदस्त फिगर है वो भी इतनी छोटी उम्र में! वन्द्या तू लाजवाब है, इतनी छोटी उम्र में किसी भी लड़की का इतना मस्त फिगर नहीं होता है, तुम वन्द्या बहुत ज्यादा चुदाई करवा चुकी हो, सच बता मुझे भी!परन्तु मैं आज सच में कुछ नहीं बोल रही थी.

सेक्सी ब्लू फिल्म मूवी हिंदी में - देसी बीएफ सुहागरात

तेरे पूरे सेक्सी खूबसूरत बदन में सबसे खूबसूरत सेक्सी तेरी यह प्यारी सी नाक है.मैंने भी कहा- ठीक है!फिर मैंने कहा- रूम में चलें?तो रेशमा बोली- नहीं, दिन की चुदाई यहीं पर होगी; रात की चुदाई रूम में!मैंने कहा- कहीं आपकी नौकरानी आ गई तो?तो उन्होंने कहा- वो तुम जानो!तो मैं आश्चर्यचकित रह गया.

अब वो अजीब अजीब आवाज निकाल रही थी- आआह आआह हहह हहहह आआह सीईईई आआह और जोर जोर से चोद दे …वो गहरी सांसें ले रही थी. देसी बीएफ सुहागरात अच्छा जी … और अब … अब क्या करोगी?” मैंने उसकी आंखों में देखते हुए उससे पूछा और उसके गाल पर एक चुम्मी लेकर फिर से उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

धीरे-धीरे मैंने गर्दन से नीचे का रुख किया और उसकी गर्दन को चूमते हुए नीचे का रुख किया.

देसी बीएफ सुहागरात?

मुझे अपने सामने खड़ा किया, खुद बेड पर बैठकर मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. वो सब नहीं था, जिससे मुझे हिम्मत आ गई और मैं भाभी के पास जाकर बैठ गया. अब अगले ही दिन शाम को वो मेरे पास आई और बोली- लो तुम्ह़ारी रिपोर्ट तैयार है.

‘अहह…’ वो ज़ोर से कसमसाते हुए दर्द से कराहते हुए बोलीं- बेबी धीरे कर. ”फिर वो चली गई यार सच कहूँ, जब उससे बात कर रहा था तो मन कर रहा था कि उसके होंठों को ही चूमता रहूं. बस इतना कहते ही मेरी गांड में समाली अंकल का बहुत गर्म गर्म लंड रस छूट गया और मेरी गांड में भर गया.

स्नेहा की आँखें बंद थीं, होंठ खुले हुए थे और चेहरे पर संतुष्टि के भाव थे. मैंने भी करवट बदल कर अपना मुँह उसकी तरफ कर लिया और धीरे धीरे उसके नंगे बदन को सहलाते हुए कैसी रही? मैंने आंख मारकर कहा. क्लास ओवर हो गई, उसके बाद मैंने उनसे अपना मोबाइल लेने की बहुत रिक्वेस्ट की.

वो कहता है अगर मैं उससे मिलने नहीं गई तो वो मेरे पत्र स्कूल की दीवारों पर चिपका देगा. दोनों के माथे से पसीना बहने लगा था और दोनों के चेहरे पे अब शिकन दिखने लगी थी.

खैर जैसे-तैसे शाम हुई, अशोक घर आया और अपने कमरे में आराम करने चला गया.

मैंने कहा- क्या बात है मेरी रानी … आज बहुत रोमांटिक मूड में है?तो वह बोली- आज इस बारिश ने मूड रोमांटिक कर दिया!मैंने कहा- अच्छा ऐसी बात है तो आओ हम जन्नत में चलते हैं.

इतनी देर से यह सब चल रहा था, तो ज़ाहिर है कि मेरे लंड ने भी अपना काम रस निकाल दिया था. कोई और नजदीकी छेद ना मिल पाने के कारण दीमा ने अपने मोटे लंड को मेरी पत्नि के वक्ष और उसकी बाँह के बीच घुसेड़ कर अन्दर-बाहर करने लगा. ये मेरी लाइफ की रियल सेक्स स्टोरी है कि कैसे मैंने अपनी मौसी को उनके घर में ही चोदा.

मैंने जैसे ही दरवाजा बंद किया पीछे से ज्योति ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया. मैं भी उछल उछल कर उनके लम्बे लंड से गांड चुदाई के मजे ले रही थी और कामुक सिसकारियां निकाल रही थी ‘आहहह हहह. काफ़ी देर सहलाने के बाद उन्होंने मुझसे पूछा कि मुझे अच्छा लग रहा है क्या?मैंने हां में अपना सिर हिला दिया.

अब तो मैं थोड़ी थोड़ी देर में नजरें चुराकर उसकी चूत को देखने का आनन्द ले रहा था.

तो मैंने भी उनकी इसी बात का फायदा उठा लिया और बोला कि मेरे पास भी कुछ ऐसा है, जो मैं सबको दिखा दूँगा. इतने में अंकित ने अपना लन्ड मेरे गान्ड के छेद में टिका दिया और अपने मुंह से ढेर सारा थूक निकालकर लंड पर लगाया. फिर सारी खिड़कियां बंद करके फर्श पर चार पांच गद्दे एक के ऊपर एक बिछा कर बढ़िया मोटा बिस्तर चुदाई के लिए तैयार कर लिया और कम्मो का हाथ पकड़ कर उसे बिस्तर पर गिरा लिया और उसे दबोच कर मैं उसके ऊपर चढ़ बैठा.

मैं पूरे तरीके से तो नहीं देख पा रहा था, लेकिन मनीषा अन्दर पूरी नंगी बिस्तर पर पड़ी थी. अब मैं बिल्कुल निश्चिंत महसूस कर रहा था; सारी बाधाएं दूर हो गयीं थीं. वो चुदास में कामुक सीत्कार निकाल रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… ये क्या कर दिया … हां बस ऐसे ही यस यस बेबी चूस लो इन्हें … आह … न जाने ये इस पल के लिए कब से तड़प रहे थे’वो अपनी चुदास में न जाने क्या क्या बड़बड़ाती रही और मैं भी उसके मम्मों को चूसता और मसलता रहा.

सबके निकलने के बाद मैं सारे कमरे लॉक करके बारात में शामिल हो जाऊंगा, कोई कीमती सामान तो नहीं रखा है न?” मैंने उन्हें आश्वस्त किया और चाभियां उनसे ले लीं.

इस चुदाई से उसे खूब मजा आया था और वो मुझसे बहुत खुश हो गई थी और अब तो गाहे बगाहे उसकी चुदास को मेरा लंड शांत करने लगा था. मामा के 24 घंटे नशे में धुत्त रहने के कारण वो अब सेक्स नहीं कर पाते.

देसी बीएफ सुहागरात उसकी चूची को चूसते हुए मैंने अपने हाथ को हरकत दी और उसके चिकने बदन को ऊपर से नीचे तक सहलाने लगा. इससे उनकी गांड मेरे लंड पे रगड़ रही थी, जिस वजह से मेरा लंड अपना आकार ले रहा था.

देसी बीएफ सुहागरात वह इतना बेशर्म था कि उसने इतनी भीड़ भरी सड़क पर भी अपना लंड चेन से बाहर निकाल कर मुझसे सटा दिया. तब अंकित ने मेरी टांगों को चौड़ा किया और चूत में अपने हाथ से थपकी दी और उंगली से फैला कर अपने लंड को जैसे ही रखा, तो इतना मोटा लंड बिल्कुल फिट नहीं हो रहा था.

वो पूरी तरह से भीग चुकी थी, उसके बालों में से कपड़ों में से पानी टपक रहा था.

मुझे सेक्सी जोक सुनाओ

शायद डीके और मेरे साफ सुथरे रिश्ते की जिस्मानी रिश्ते में बदलने की यह शुरूआत थी. मैं उनसे मिलने गया, उन्होंने मुझे अन्दर बुला कर केबिन को अन्दर से बंद कर दिया और मुझे बैठने को बोला. जब कुछ प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने दो उंगलियां मौसी की चुत में डाल दीं.

फिर उसने कान में बोला कि गाजियाबाद में मेरे रूम पर चलना तो खूब मज़ा दूँगा. थोड़ी देर ऐसे ही भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने उनको घोड़ी बना दिया और गांड पर 3-5 चांटे मारते हुए एक झटके में लंड घुसा दिया. ”मैं- आपका नाम क्या है?सामने से साक्षी … और तुम्हारा?”मैं- जी रवि!साक्षी- तो क्या करते हो रवि?मैं- जी मैं बी.

अब मेरी टांग खोल कर मुझे बोला- झुक जाओ!मैं नहीं झुकी तो पकड़ के झुका दिया और सीधे मेरी दोनों टांगों के बीच बैठकर मेरी चूत को चाटने लगा और जोर से जीभ चलाने लगा.

मैं उठा कर ला रहा था तभी मेरी वासना इतनी प्रबल हो गई, मन किया कि पूजा को भी चोद दूँ. फिर मैं उसके होंठों को किस करने के लिए जैसे ही आगे बढ़ा कि ‘टिन-टिन. वो कुछ देर मेरे लंड पर उंगली घुमाती रही फिर जोर से मेरा लंड दबाने लगी। मैंने शावर चला दिया और हम नहाने लगे। मैंने उसकी ब्रा और पैंटी उतार दी.

तभी वो बाथरूम चला गया और उसे किसी का फोन बजा तो उसने बाथरूम से आवाज लगाई कि मैं काल कट कर दूँ. मैंने उसे कहा- मैंने तो सिर्फ किराए के लिए कहा था!तो उसने कहा- रख लो, मेरी तरफ से गिफ्ट … मैं तुमसे बहुत खुश हुई हूं. तभी सुनील ने अपना लंड पायल के मुँह में डाल दिया, इस वक्त पायल एकदम चुदासी हो गई थी, उसको नशे में कुछ नहीं सूझ रहा था.

मेरा वीर्य इतना ज्यादा निकला कि चाची की पूरी चूत ऊपर तक भर गयी और लंड रस बिस्तर तक बहने लगा. दिल्ली की भीड़, ट्रैफिक, गगनचुम्बी इमारतें और सजे धजे बाज़ार ये सबकुछ अचंभित कर रहा था उसे.

मैंने स्वाति को बेड पे पटका और उसके ऊपर आकर उसे किस करने लगा, वो भी मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी. मुझे धक्का देकर नेहा ने पीछे करने की कोशिश की, पर मैंने उसे कस कर पकड़ रखा था. तो ऐसे ही उन दिनों गर्मी का मौसम था जब मैं एक अनजान डगर पर आगे बढ़ गया.

अभी तक आपने इस कहानी में पढ़ा कि बहू ने अपनी विधवा सास की कामुकता को समझा और उसकी मदद करने की कोशिश की.

जैसे मैंने लड़की के ब्रेस्ट कैसे चूसे थे … फिर चूत कैसे लिक की … वग़ैरह वग़ैरह!उसके ऐसे बर्ताव की वजह से मुझे शक हुआ कि कहीं ये सेक्स की बातों के बहाने मुझसे सेक्स तो नहीं करवाना चाहती. मैं कुछ कुछ समझ तो गया था, सो मैं जल्दी से उनके बगल में ही लेट गया. मेरे मुँह से निकल गया- बापरे इतना मोटा??? मैंने तो लाइफ में पहली बार देखा है.

अशोक ने अपने हाथ से मयूरी की चूत को सहलाया और वो उसकी गुलाबी चूत को देखकर एकदम उस पर मोहित हो गया. मेरे सारे कपड़े तो पहले से ही भीग रहे थे, अब डर भी था और चुदने का मन भी कर रहा था.

मुझे लगा कि इतना होने पर लंड आसानी से अन्दर तक चला जाएगा, पर उसकी चूत अभी भी टाइट थी. पूरा बड़ा हॉल जैसा रूम था, जिसमें 10×10 का एक बेड लगा हुआ था, उस बेड को ताजे फूलों से खूबसूरत तरीके से सजाया जा रहा था. मुन्ना अंकल बोले- हम लोग तो 50 साल के ऊपर हैं, तब भी देखो अपनी हालत … तुम्हारा भी लन्ड खड़ा हो चुका है, और मेरी हालत तो इस आइटम को देखकर बिगड़ती ही जा रही है, क्या गजब की माल है, देखो नंगी लेटी हुई एक कयामत लग रही है, ऐसा लग रहा है कि हुस्न का समंदर है.

सेक्सी चाहिए भाई

चाँदनी की हल्की सी रोशनी में हमारे बदन किसी छाया की तरह दिख रहे थे.

इधर रजत शीतल के सीने पर पड़े पड़े अपने एक हाथ को शीतल के पीछे ले जाकर उसकी गांड को धीरे-धीरे सहलाने लगा. दोस्तो, मैं आपका दोस्त कुणाल सिंह कानपुर से! मेरी एक सेक्स कहानीमेरी जयपुर वाली मौसी की ज़बरदस्त चुदाईपहले भी तीन भागों में अन्तर्वासना पर आ चुकी है. यूं तो उत्तर भारत में साउथ इंडियन खाने के तमाम रेस्टोरेंट्स हैं पर वो स्वाद आ ही नहीं पाता.

फिर उसने मेरे मोबाइल में देखते हुए अपनी टांगों के बीच हाथ ले जाकर जल्दी जल्दी कहीं खुजाया और कुछ देर अपना हाथ वहीं रखे रही; मैं समझ गया कि वो अपनी चूत का दाना मसल रही थी या चूत से खेल रही थी. तब मुझे याद आया मेरी जॉकी तो अन्दर ही पड़ी है, जिसपे मेरा रात का वीर्य लगा है. फुल सेक्सी नंगी फिल्मेंमैं हमेशा से उस गौरी भाभी को काम करते हुए देखता रहता था पर वो हमेशा छोटा समझ कर अनदेखा कर देती।इस तरह से दो साल निकल गए लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

मैंने बिना कोई देर किए, एक ओर झटका दिया और मेरा लंड उसकी चुत की दीवारों को फैलाकर अन्दर तक उतरता गया. गांव देहात में लड़कियों को कम ही शिक्षा दिलवाते हैं और शादी भी बहुत जल्दी कर देते हैं.

अब उसकी चुत हल्की सी फ़ैल चुकी थी, तो ज़्यादा टाइट महसूस नहीं हो रहा था. सर्दी में भी इस वक्त रजनी जी बाल बिखरे हुए हो गए थे और उनके शरीर से पसीना निकल रहा था. अब तक इस हॉट गर्ल सेक्स कहानीवो बरसात की हसीन शाम-1में आपने जाना कि मेरे मोहल्ले की शादीशुदा हॉट गर्ल पायल को हम तीन दोस्तों ने चुदाई के लिए राजी कर लिया था.

मयूरी चिहुँक पड़ी… हालाँकि वो इस चीज़ के लिए पहले से तैयार थी पर सेक्स को लेकर वो भी पहले से अनुभवी नहीं थी. माइक उसे धक्के मारते जा रहा था और मुनीर मदमस्त होकर सिसकारियों भरी आवाजें निकालते हुए माइक को कभी चूमती, कभी उसके सीने को कचोटती, कभी हाथों बांहों को दांतों से काटती, कभी टांगों से उसे जकड़ने का प्रयास करती. बदले में वो स्ट्रेट हो कर बैठ गयी और मेरा हाथ अपनी पीठ से हटा दिया.

भाभी हांफ़ने लगीं तो मैंने उन्हें सीधा करके एक पल के लिए चूत को हल्के से सहलाया और फिर भाभी की चिकनी चौड़ी जांघों को होंठों से काट काट कर चूमने लगा.

जैसे कोई पॉर्न फिल्म मेकर लाँग शॉट, क्लोजअप लेने के लिये अलग अलग पोजीशन्स लेता है. अंकल आगे बोले- लंड तो देख लिया, सूंघ भी लिया और अब इसे चाटना और चूसना रह गया है … इसे भी सीख लो.

मेरा लंड तो वो पहले भी कई बार टाकीज या पार्क वगैरह में चूस चुकी थी. मेरा लंड मोटा होने की वजह से भाभी को बहुत दर्द हुआ और वो ज़ोर से चिल्लाने लगीं- उईई ईईईईई माँ … मैं तो मर गयी! आह … प्लीज़ मुझे छोड़ दो. जब मैंने यह सुना तो मैंने अपने पति से कहा- सुनो, अगर तुम चाहो तो मुझे तलाक़ दे सकते हो मैं उसमें कोई रोड़ा नहीं बनूँगी.

फिर मैंने उसका चेहरा अपने हाथों में ले लिया और उसके माथे पर, गालों पे किस करता चला गया. अब मैंने लंड को चुत पर रखकर जैसे ही धक्का लगाया, तो लंड का सुपारा चुत में गायब हो गया और दर्द का रंग एकदम साफ से उसके चेहरे पर झलकने लगा. मेरी हिन्दी कहानी के पहले भागअनजानी दुनिया में अपने-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैं राजस्थान में जंगली इलाके में फंस गया और कैसे एक मां बेटी ने मेरी जान बचायी.

देसी बीएफ सुहागरात मैंने इससे पहले कई बार हस्तमैथुन किया हुआ था … लेकिन आज तक कभी चूत नहीं मारी थी. मैं हमेशा से उस गौरी भाभी को काम करते हुए देखता रहता था पर वो हमेशा छोटा समझ कर अनदेखा कर देती।इस तरह से दो साल निकल गए लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

हिंदी सेक्सी साड़ी में वीडियो

अपनी नयी सेक्स की स्टोरी लेकर हाजिर हूँ, सो लेडीज, आंटी, और भाभी अपनी अपनी चुत में उंगली डालने को तैयार रहो. उसने मुँह में 2 मिनट ही चोदा कि मैंने निकाल दिया।फिर वो कभी मेरी चूत फाड़ता तो कभी गान्ड… दोनों की बैंड बजा बजाकर चोदता रहा और तो मैं तो दर्द से सुन्न सी हो गयी थी।वो ऐसे ही 15-20 मिनट चोदता रहा। फिर उसने और स्पीड बढ़ा दी और बोला- रानी, मेरा अब निकलने वाला है।यह सुनकर मेरी दिल को सुकून आया और मैं भी उसके झटके का जवाब देने लगी. पर मैं वैसी ही हालत में आंख बंद किए लेटी हुई थी, सोई बनी हुई थी परन्तु मुझे इतना डर लग रहा था इतनी घबराहट कि लगता था धरती फट जाए और मैं उसमें समा जाऊं.

पर वो अपना ध्यान केंद्रित नहीं कर पाया क्योंकि नीचे से अब मयूरी की प्यारी नंगी खुली चुत साफ़ नजर आ रही थी. मैंने कहा- अच्छा सुन, शहद है क्या?बोली- अब शहद का क्या करेगा तू हैरी?मैं- अरे दूध में शहद मिला के पीने से वो वियाग्रा का काम करता है. सपना चौधरी सेक्सी वीडियो एक्स एक्समैंने कहा- क्यों आज कोई काम नहीं है क्या?वो बोली- आज मेरे पार्लर का हाफ डे है.

लेकिन मैंने अपने हाथों से अपनी चुचियों को ढकने की कोई कोशिश नहीं की.

दोनों एक दूसरे को देखते रह गए और कुछ पल तक बातों को समझने का प्रयास करते रहे. वो तो मेरे दोस्त को एकदम घरेलू जैसी ही चाहिए थी, सो मैंने बोला, बाकी जैसी उसकी मर्ज़ी, लेकिन जो भी है, मुझे कल बताना.

क्योंकि मेरे घर के मुख्य दरवाजे की चाभी दो लोगों के पास रहती है, एक मेरी मम्मी के पास और एक मेरे पास. मैं फिर से उफान पे आ गया और बिना देर किए मैंने भाभी को अपने नीचे लेटा कर उनके दोनों पैरों को फैला दिया. ऐसा तो हो नहीं सकता कि मैं किसी के घर चुदाई करने जाऊं और वो मुझे किसी और से ना मिलाएं.

दो मिनट में मेरा भी पानी निकल गया, लंड पहले ही काफ़ी गर्म हो चुका था … तो उसे पानी निकालने में ज्यादा टाइम नहीं लगा.

यह सुनते ही मेरी तो हवा निकल गयी, हम ऐसे इंटरनेशनल हालत में, कोई कच्छे में, कोई शॉर्ट में, मैं तौलिया लपेट के बैठा था, सभी ऊपर नंगे बदन ही बैठे थे. अशोक- और वो क्या है?मयूरी- मेरी चूत तो आपको सील तोड़ने को नहीं मिली पर आप मेरी गांड का सील तोड़ सकते हैं… उसमें आज तक किसी का लंड नहीं गया. इसी के साथ प्रिया की मादक सिसकारियां और उसकी चुदाई करते टाइम जो भी आवाज आतीं, उससे मेरा मन और भी जोशीला हो जाता था.

सेक्सी वीडियो डाउनलोड 2021अंधे को और क्या चाहिए बस दो आंखें … उस रात मैंने 2 बार उनकी गांड मारी और 1 बार चूत!आखिर में वो बोली- अब समझ में आया मुझे कि आजकल गे लड़के क्यों बढ़ते जा रहे हैं. चोद कर थकने के बाद जब उसका लंड पानी छोड़ने वाला था तो उसने अपना लंड उसकी गांड से निकाला और मयूरी को पलट कर सीधा किया और अपना लंड सीधा अपने बेटी के मुँह में जबरदस्ती डाल दिया.

मराठी आदिवासी सेक्सी व्हिडिओ

कुछ देर मिशनरी पोज में मेरी चूत में धक्के लगाने के बाद उनका गर्म गर्म माल मेरी चुत में उतर गया. बस, अब तो हो गया, यह आखिरी दर्द था … बस थोड़ा सा और सह लो … फिर सब ठीक हो जाएगा. लेकिन मुझे कोई नहीं दिखाई दिया, तो किसी तरह मैंने स्नान किया और तैयार हो गई.

अगर वो बात कर के आपस में सुलह नहीं करते तो उनकी वो कामदेवी बहन उन्हें अपना चूत तो क्या … एक चुम्बन भी नहीं देने वाली थी. पिंकी किसी भी तरह का विरोध नहीं कर रही थी बल्कि उसका पूरा साथ दे रही थी. मेरे पिता बचपन में ही गुजर गए थे और माँ भाई के पास रहती थीं, जो ऑस्ट्रेलिया में ही बस चुका था.

उसने रशीद के लंड को दरकिनार कर दिया, वो बोली- पहले जीजू का अन्दर जाएगा. फिर मैं बोला- जान, ये मेरा लंड ऐसे नहीं मान रहा … इसे तो आपकी चूत चाहिए. फिर 5 मिनट बाद मैं झड़ गया और अपना लंड खींच कर सारा वीर्य उसकी नाभि में डाल दिया.

बहू ‘वो वाला सामान’ शब्द जोर देकर बोली और एक कुर्सी मेरे लिए खिसका दी. मैंने हंसते हुए कहा- अच्छा! मैं तो सोच रहा था कि तेरा लॉक पहले से ही किसी तोड़ दिया है.

अब उसके अंदर का पिता पता नहीं कहा चला गया, वो अपने आप को जो महसूस कर पा रहा है वो है ‘बस एक मर्द’ जो इस वक्त बहुत ही ज्यादा कामुक हुआ पड़ा है.

तब मैं वापिस लौटा और उनके बेडरूम में आ गया, वहां वो अकेली बैठीं कुछ सोच रहीं थीं. सेक्सी भोजपुरी सेक्सी फिल्म”मैं दिखा रही हूँ?” नेहा मेरे सामने खड़े हो कर बनावटी गुस्से से मेरी तरफ देख रही थी और लड़ना चाहती थी. सेक्सी डाउनलोड राजस्थानीजब करवाचौथ के चार दिन बाकी रह गए तो सभी सुहागिन औरतें तैयारी में लगी हुई थी कि तभी उस पड़ोसन भाभी ने मुझे फ़ोन किया। अनजान नंबर था इसलिए मैंने एक बार में नहीं उठाया. तो मैंने बोला- कमी? किस चीज की कमी? मुझे क्या दिक्कत है?तब वो मेरे सामने बैठकर बोलीं- तुम्हें नहीं है.

भाभी ने मुझे इशारा किया और मैंने हिमानी के कंधे पकड़ कर एक झटका और मारा तो लण्ड पूरा अंदर बैठ गया और हिमानी की चीख को भाभी ने अपने हाथ को उसके मुँह पर रख कर दबा लिया.

हमारे यहां पर कचरा की गाड़ी आती है तो घर का कचरा नीचे जाकर देना पड़ता था. आगंतुक अन्दर आये, तो सर ने बोला- आओ सुशील बैठो?उन्होंने पूछा- ये कौन है?तो सर ने बोला- ये मेरा स्टूडेंट है. मैं- चोदूँ?चाची- हां चोद!मैं- ये लो … ये लो … ये लो!बस यही बोलते हुए मैं फिर से चाची को चोदने लगा.

तो मैंने उनके पास जाकर पूछा- क्या हुआ दिव्या? कुछ बोल क्यों नहीं रही हो?दिव्या जैसे मेरे इसी प्रश्न का इंतजार ही कर रही थी, अपनी मां की ओर देखते हुए मुझे बोली- मैं जानती हूँ कि मेरी माँ एक औरत है, उसके शरीर की भी कुछ जरूरतें हैं. साथ ही चुदास इतनी अधिक बढ़ चुकी थी कि हम दोनों एक दूसरे के अन्दर सामने के लिए आतुर हो रहे थे. इस स्टाईल में उन्हें दोनों तरफ से इतना मज़ा आ रहा था कि वो ‘आहह, ऊहह, फफफ्फ़.

पंजाबी सेक्सी चलाओ

इतने में प्रिया ‘ओह … आह … मर गई … मैं गई …’ करते हुए झड़ गई और वहीं 20 से 25 झटके मारते हुए मुझे भी लगा कि अब मेरा निकलने वाला है. वो लोग अपने दोस्तों से चटखारे लेकर ये बोल देते हैं कि वो लोग मेरी फलां सहेली को चोद चुके हैं. भाभी दिखने में खूब गोरी तो नहीं, पर उनका रंग साफ है और वो घर में साड़ी पहनती हैं.

मैं एक बिल्कुल सीधा साधा सा व्यक्ति हूँ लेकिन कभी कभी जीवन में इस प्रकार की घटनाएं घट जाती हैं, जो कि व्यक्ति के जीवन को पूरी तरह बदल देती हैं.

घर में सिर्फ मैं और मामी, सर्दी का मौसम और साथ में पूरी रात, माहौल तो बना हुआ था.

सर का लंड चूस के बहुत अच्छा लग रहा था, बस गांड के मरवाने का इंतज़ार था. और उसके पके तोतापरी आम जैसे विशाल गुलाबी मम्में मेरे सामने उजागर हो गये. लड़की सेक्सी वीडियो डाउनलोडमैं चुपके से अन्दर गया और देखा कि भाभी के बेडरूम का दरवाजा पूरा बन्द नहीं था.

अब मम्मी जी भी गर्म हो गयी थीं, वे बोलीं- समधी जी, प्यार से कीजिये न. अब छोड़ के क्या करोगे? वैसे यह बताओ कितनी बार ले सकते हो रात भर में?”यह उम्र पे डिपेंड रहता है। एक ताजा जवान हुआ लौंडा सात आठ बार भी चोद सकता है लेकिन मेरे लिये तीन बार बहुत है। बाकी एक बार सुबह निकलने से पहले भी कर सकता हूँ।”ठीक है. इस के साथ-साथ घर के कुछ लोगों के जीवन के कुछ बहुत ही पुराने राज़ भी खुल गए थे और सब एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे हो चुके थे, पर आश्चर्य की बात यह थी कि कोई भी लाज-हया नहीं दिखाई दे रही थी इतने बड़े बड़े रहस्यों के खुलने के बाद भी … सब उत्साहित होकर एक-दूसरे को अपनी कहानियाँ बता रहे थे.

मुझे कुछ याद नहीं अंकल जी … आप मुझे बना तो नहीं रहे न?” कम्मो ने असमंजस से मेरी तरह देखा. मुझे उस टाइम पर कोई गे सेक्स का आइडिया नहीं था कि ऐसा भी कुछ होता है.

वो बाथरूम नहाने गयी और जानबूझकर नहाने के बाद पहनने वाले कपड़े लेकर नहीं गयी.

चुदाई की बातें तो नहीं होती थी पर एडल्ट जोक्स आपस में बहुत किया करते थे. मुझे अहसास हुआ कि मनीषा ने भी मुझे देख लिया है था, पर मैं फिर भी दरवाजे से हटा नहीं. इसी लिए सभी औरतों ने मिलकर पायल को भी काम करने के लिए और खुद के पैरों पर खड़ा होने के लिए बहुत समझाया.

देहाती भौजी की सेक्सी उसकी फोटो मैंने जय को भेजी तो वो शालिनी का दीवाना हो गया। मैंने जय को उसका रेट बताया और बात पूरी पक्की कर ली।2 दिन बाद रविवार था, जय ठीक समय पर मेरे पास आ गया. हिमानी तड़पने लगी, मैंने एक दो बार और अन्दर बाहर किया तो हिमानी दर्द से बिलखने लगी.

भाभी ने मुझे जाने को बोला, पर मैं एक राउंड और चाहता था लेकिन उन्होंने मना कर दिया. अब मैं चाचा ससुर के लम्बे लंड को अपनी चुत में लेकर पूरे मजे ले रही थी. चार ताकतवर लोगों से गांड मरवाने के बाद क्या होता है यह तो वही समझ सकता है जिसने मरवाई हो.

कतरीना सेक्सी विडिओ

जब मुझे दर्द होता था तो वो बार बार मेरी चूत में से लंड निकाल कर मेरी चूत को चाटने लगता. हम किस करते रहे और फिर मैं दोबारा से उनकी चुचियों को चूसने लगा और उनकी चुत में उंगली करने लगा. फिर मैंने पूछा कि तेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड है क्या?उसने भी ना में अपना सिर हिला दिया.

हम समझ गए कि उन्हें भी अब पूरी चुदाई करनी है क्योंकि आगे की सीट पर चूत में लंड दल कर चुदाई नहीं हो सकती, सिर्फ चूमाचाटी, लंड चुसाई वगैरा ही हो सकता है. उन मेल में आप सबने मुझसे अगली कहानी लिखने के लिए भी बोला था, तो आज मैं अपनी दूसरी कहानी आप सभी के मजे के लिए लिख रही हूँ.

मैं उनसे मिलने गया, उन्होंने मुझे अन्दर बुला कर केबिन को अन्दर से बंद कर दिया और मुझे बैठने को बोला.

अभी अच्छा मौका था जब अपनी बड़ी बहन को चोद सकता था पर मयूरी के अचानक से बदले ऐसे व्यवहार से वो परेशान था. तब राज अंकल बोले- चल तेरे लिए यह मैं करवा दूंगा और तुझे कभी भी अगर कुछ दिक्कत आई या तेरी मम्मी जान भी गई तो कुछ नहीं बोल पाएगी. उसी वक्त उसके मुँह से जोर से चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ शायद दीदी को दर्द हुआ और वह मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी.

मैं उसे देख कर एकदम से उत्तेजित हो कर सोचने लगा कि क्या माल है और ऐसा लग रहा है कि जैसे ये भी मेरे साथ मस्ती करना चाहती है. उस समय करीब रात के 12 बज चुके थे, रास्ते में मैंने उससे कहा कि उसे उसके रूम पर छोड़ देता हूं तो उसने मना कर दिया और बोलने लगी कि इतनी रात को घर का गेट कोई नहीं खोलेगा तो अब वो सुबह ही जा सकती हैं।अब मेरे पास भी कोई जगह नहीं थी उसे ले जाने के लिए तो मैंने उसे रात किसी होटल में गुजरने के लिए बोला और वो फट से मान गयी. उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैं तेरे लंड को देख सकता हूँ?मैंने हां में सिर हिला दिया और उन्होंने मेरी पैंट की ज़िप खोल कर लंड बाहर निकाल कर उसे अपने हाथों में ले लिया.

मैंने कहा- मां जी, अगर यह बच्चा मेरा होता और मैं अपनी ननद की जगह मैं होती तो क्या होता? यही सोच कर मैं बहुत डर गई.

देसी बीएफ सुहागरात: भाभी ने लंड की तरफ लालसा से देखा तो मैंने अपने लंड को हाथ में पकड़ कर कहा- लो भाभी चूसो न लंड को. प्रिया के ऐसा करने से मेरी उंगली उसके प्रवेशद्वार में थोड़ा और घुस गयी, जिससे प्रिया के मुँह से इइईईई … श्श्शशश … आआआह्ह्हह …” की जोरों से आवाज निकल गयी.

मेरी प्यासी चूत की कहानी के पहले भागशादी में चूत चुदवा कर आई मैं-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैं अपने पति के साथ राजस्थान के एक गाँव की शादी में आई. कई बार तो हमने बाहर होटल में जाकर भी खुब चुदाई की।और एक बात जो मैं सभी पाठकों को ख़ास तौर से बताना चाहूँगा कि संगीता में एक बहुत बड़ा गुण था कि वो लण्ड को चूसना बहुत अच्छे से जानती थी।आप लोगों को मेरी यह सेक्स कहानी कैसी लगी? प्लीज मुझे मेल करके बतायें और अगर कोई गलती हो तो मुझे क्षमा करें। मेरी कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद. हम करीब 5:00 बजे उठे तो सरिता ने कहा- अच्छा, अब मैं अपने घर जा रही हूं.

टॉप और निक्कर के बीच में थोड़ा सा नाभि के पास का उसका गोरा और गदराया हुआ पेट झलक रहा था.

मुझे मेरे चाचा और चाची ने अपना कर्ज़ चुका ना पाने की वजह से तुम्हारे बाप के पास बेचा था. ‘क्यों टॉयलेट क्यों जाना है?’ मैंने पूजा की चूची को दबाते हुए पूछा. मेरी मंशा जानकर वो पहले तो मुस्कुराईं फिर अपने दोनों पैर खोल कर मेरा स्वागत किया।मैंने भी देर न करते हुए अपने होंठ उनके नीचे वाले होठों (चूत) पर लगा दिये और अपने तरीके से पहले धीरे धीरे अपनी जीभ से फिर जल्दी जल्दी उनके चूत के दाने से खेलने लगा और वो मस्ती में सिसकारियां भरने लगी.