रात का बीएफ

छवि स्रोत,ई-मेल मे सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हीरोइन के सेक्सी वीडियो: रात का बीएफ, न! उसको तो आजतक कानोंकान भी खबर नहीं हुई कि कोई बर्बाद हुआ जा रहा है उसके पीछे.

सेक्सी वीडियो हिंदी लाइव

दोस्तो, क्या बताऊं, नंगी सेक्सी जवान लड़की मेरे सामने मेरे लिंग को अपनी योनि में लेने के लिए तड़प रही थी. सेक्सी फिल्म ऐश्वर्या रायमैंने उसकी एक टांग को उठाया और साइड में लेटे लेटे लंड को चूत के अंदर घुसा कर उसे अपनी जफ्फी में ले लिया.

घर वालों तक उनके प्रेम प्रसंग की बात पहुंची और उनकी शादी भी तय हो गई. छत्तीसगढ़ी सेक्सी फिल्मस्टूडेंट्स के जाने के बाद वो बोली- लड़कियां तो दीवानी हैं राहुल जी आपकी.

भाभी के कोमल हाथों का स्पर्श मेरी छाती पर हुआ तो मेरे अंदर एक सरसरी सी दौड़ गई.रात का बीएफ: मैंने फिर कहा- रश्मि बोलो न … क्या मैं तुम्हारी चूत में अपना लंड डाल दूँ?वह थोड़ा खीजती हुई बोली- जो भी करना है … जल्दी करो.

मैंने उसकी चूची जोर से मसली, तो उसका मुँह खुल गया, तभी मैंने अपना लंड अपनी बहन के मुँह में ठूंस दिया.मैं खाना ख़ाकर ऊपर जा रहा था, तभी सीढ़ियों के नीचे आवाज़ आई- आर्यन यहां!मैंने देखा तो सुधा थी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी रंडी - रात का बीएफ

बेबी रानी ने कहा- राजे तू कपड़े पहन ले … अभी वो आता होगा न रूम सर्विस वाला … हम दोनों तो नंगी रहेंगी.मैंने पैंट की ज़िप खोली और एकदम टाइट खड़े लंड को बाहर निकाल कर सहलाने लगा.

जब भी मौका मिलता था, मैं उसकी साड़ी उठा कर उसकी पैन्टी नीचे कर देता था और नीचे बैठ कर कभी चूत चूमता, तो कभी उंगली से चूत के दाने को मसल देता था, तो कभी मेरे लंड से चूत के ऊपर रगड़ता था या तो मेरी जानू की कोरी चूत के अन्दर लंड डाल देता था. रात का बीएफ तभी तेरा पति आया और मुझे पीछे से पकड़ कर पीछे से मेरे गालों को किस करने लगा.

सफाई करते करते वहाँ मुझे कंडोम का पैकेट मिला और एक 72 घंटे के अन्दर खाने वाली गर्भनिरोधक गोली का पैकेट मिला.

रात का बीएफ?

नम्रता एक-एक करके सेक्सी पैन्टी-ब्रा, पारदर्शी नाईटी पहनती जाती और तारीफों के पुल बांधती जाती. कभी कभी पास बैठकर एक दूसरे के गले में हाथ डालकर बातें करते हुए बैठते हैं. सीमा ने मेरी बात सुन कर अपनी चूत को जोर से मेरे लंड पर मारा और उन्हें बोली- साली प्रियंका को अपनी गांड फड़वाने से डर लगता है, अब मुस्कान की गांड फड़वाएगी.

मैं धीरे से अपना एक हाथ ले जाकर शोना के चेहरे पे चलाने लगा … उसने भी अपना हाथ बढ़ाकर मेरे चेहरे पे रख दिया और मैं उसकी उंगलियाँ मुँह में लेकर चूसने लगा. वसुन्धरा ने धीरे से मेरा हाथ अपने दोनों हाथों में लिया और बोली- मैंने अपने सारे अधिकार, सारे इख़्तियार, खुद मैं … मेरी जिंदगी और मेरी जिंदगी से बावस्ता सारे फ़ैसले और उन फैसलों के सारे नतीज़े … मैंने बहुत साल पहले आप के नाम कर दिये थे, बस! आपको बताया ही नहीं था. पैंटी के उतरने के बाद मैं अपने पैर का अंगूठा चाची की बुर में देकर सहलाने लगा.

यहीं नाड़ा कस दूँ?” मैंने लहंगे को कूल्हे की बाहर को उभरी हड्डियों के ज़रा सा ऊपर टिका कर पूछा. उसका तना हुआ छह इंच लंबा और दो इंच मोटा लंड खड़ा मीरा को ललचा रहा था. ये बताओ क्या तुम्हारी बीवी वो कपड़े नहीं पहनती?मैं- यार यही तो बात है, तुम चाहती हो कि तुम्हारा आदमी तुमको रगड़ कर चोदे और मैं चाहता हूं कि मेरी औरत को मैं रगड़ कर चोदूं.

उसकी सिसकारियाँ सुन कर मोनू प्रियंका को चोदता हुआ बोला- उफ्फ … साली मुस्कान तो ऐसे तड़प रही है जैसे पहली बार चुद रही हो. मेरी चूची पर अपना माल छोड़ने के बाद वो मेरी चूत को चाटने लगे और मैं उनके माल को साफ़ करने लगी.

नम्रता- देखो डायनिंग टेबल पर … मैं पहले से ही मेरी झांटों को तुमसे शेव कराने के लिये सामान रख चुकी हूं और साथ में तुम्हारी लायी हुई बियर भी है, अब तुम जो पहले करना चाहो.

थोड़ा बहुत ब्राउनिश कलर के साथ उसकी चूत की पुत्तियां भी ऐसी लग रही थीं कि जैसे कि कच्ची सब्जियों के बीच दो कलियां फंसी हों.

वैसे जब मैंने प्रतिभा को डांस सीखने दौरान छुआ था, तब भी मन मचल उठा था, पर उस समय मैं असहाय था और मन की कामाग्नि को दबा लेने के सिवाए मेरे पास कोई दूसरा उपाय नहीं था. नहीं सर … बिल्कुल नहीं … आहह … अब रुको मत … और तेजी से चोदो!” मैं कामवासना में बहकी बहकी बातें करने लगी थी. जब मुझे लगा कि वो फुल गर्म हो गयी है तो मैंने उसको किचन की टेबल पर बैठाया और उसके सामने खड़ा होकर अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया.

मैंने अपने एक हाथ से खुद ही चूत को मसलना शुरू किया और जीजा की तरफ गुस्से से देखते हुए चूत को सहलाने लगी. उसने धीरे से मेरे दोनों हाथ पकड़कर नीचे किए और रुमित से कहा- यार रुमित … अब तू कार चला ले … हम दोनों पीछे बैठते हैं … और आशना की शरम मिटाते हैं. तो उसका रिप्लाई आया- ओके, वेटिंग कम फास्ट!मैं झटपट उसके पास गया।मैंने सोचा तो था कि कोई जबरदस्त पटाखा होगी.

अंकल अपना लंड मेरे गाल पर घिसते हुए बोले- मेरे लंड का टेस्ट तो लेकर देखो.

मेरी बीवी नहीं चाहती है कि मेरी बहनें, भाई या कोई रिश्तेदार मेरे घर आये. उसके बाद मैंने साना को नीचे लेटा दिया और उसकी चूत पर लंड को रख कर रगड़ने लगा. मैंने उसके पेटीकोट का नाड़ा ढीला करके उसके पेटीकोट को नीचे करके घुटनों में फंसा दिया.

कोई 10-15 मिनट बाद फिर से मेरे हर अंग को चूसने के बाद वो उठा और मेरी सहेली के बेड के दराज में क्रीम देखने लगा. मैं अभी तक नहीं झड़ा हुआ था और संजना यह बात जानती थी … तो उसने सीधे से आकर मेरा लौड़ा अपने मुँह में लिया और सीधे चूसने लगी. उन्होंने मुझसे मोबाइल नम्बर मांगा और रात को मोबाइल चालू रख कर सोने को कहा.

निष्ठा का दर्द कुछ कम होता दिख रहा था और अब उसके चेहरे पर आनंद के लक्षण दिखने लगे थे.

रात 9 बजे मैं उनके घर आ पहुंचा- भाभी दरवाजा खोलिए … बहुत ठण्ड लग रही है. लेकिन अब मैं क्या करूँ? कैसे शांत करूं इसको?जीजा ने मेरी बात का कोई जवाब न दिया.

रात का बीएफ अमित खड़े खड़े ही मुझे होंठों पर किस करने लगा … मेरे चुचे दबाने लगा. यूं मैंने ऐसे दर्शाया कि मुझे कुछ हुआ नहीं लेकिन अब के इस काम-केलि की डोर मुझे अपने हाथ ही में रखनी ही होगी नहीं तो आज की रात तो वसुन्धरा ने मुझे यक़ीनन उधेड़ कर रख देना था.

रात का बीएफ वो मेरे होंठों को चूसते हुए मेरी लार को अपने मुंह में लेकर जा रही थी और कुछ इसी तरह मैं भी उसके मुंह के रस को पीने में लग गया. मुझे एकदम लगा कि ये तो गलत काम कर रही है अतः इसके मां बाप को बताना चाहिए.

फिर मेरे दिमाग ने सोचा कि ससुरजी भी हो सकते हैं क्योंकि सासु माँ को गुजरे हुए भी कई साल हो गये.

कुंवारी लड़की की चुदाई कहानी

मैंने थॉमस का पूरा लंड दो तीन मिनट तक अच्छे से चूसा और उसके बाद थॉमस भी मेरे मुँह में ही झड़ने लगा. मैंने देखा, लड़की ने सामने से अपना टॉप उठाया और उसमें से अपने बड़े बड़े, गोल और दूधिया मम्मों को बाहर निकाला. बहुत लेट कर दिया विपुल?”हां, हम एक मूवी टाईटेनिक देख रहे थे … तो उसमें वो सेक्स वाला सीन आ गया.

फिर बीच रास्ते में ही मैं भाभी को उतार कर चला गया ताकि किसी को हमारे ऊपर शक न हो. अब संजना सीधे से आकर मेरे मुँह के ऊपर अपनी चूत रख दी और आप मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी. (जरूर जरूर, हां)।रमेश ने उसके खुले मुंह में थूक दिया।रिया उसे अमृत समझ कर निगल गयी।रमेश- रिया माई बिच, हमारा फोन ले आओ।आदेश पर रिया सुरेश का फोन अपने मुँह में उठा लाई.

मेरे बाल साइड में कर के उन्होंने अपने होंठ मेरी गर्दन पर रखे और हाथों से मेरी पीठ को सहलाने लगे.

मेरी सीत्कारियां उनके अन्दर जोश भर रही थीं- सश्स … आहह … अंकल … कितना सता रहे हो … उम्म … आह … काटो मत … चूसो परर … प्लीज … काटो मत. वो कभी मेरे ऊपर आकर मुझे किस कर रहा था, तो मैं कभी उसके ऊपर जाकर उसको किस कर रही थी. परन्तु एक बार ट्राई करके देख यार!हमारे जोर देने पर मुस्कान तैयार हो गयी.

मेरे कंठ से लगातार आहें निकल रही थीं- उऊफ्फ्फ … आउच … आअह्ह्ह!मैं वासना से मदहोश होने लगी. एक दिन जब मैं क्रिकेट खेलने के लिए जा रहा था तो रास्ते में मुझे एक लड़की दिखाई दी. मैंने मंजू से पूछा- कुछ पूछूँ? बताओगी मंजू?वो बोली- जी!तुम्हारी घर से भागने वाली बात बताओगी?”वो बोली- जरूर … उस समय मेरा एक लड़के से सम्पर्क था.

तब जाकर हमने सांस ली और 5 मिनट के बाद हम दोनों एक दूसरे से अलग हो गए. तो आप लोगों को क्या लगा? क्या मैंने सही फैसला लिया? या मैंने गलती की?आप अपनी राय मुझे जरूर बताना।[emailprotected].

मुझे उसकी चूत से चॉकलेट मिक्स चूतरस का इतना मस्त स्वाद आ रहा था कि मैं सब भूल ही गया था. हां बीच-बीच में एक-दूसरे के जिस्म में समाने जाने का मौका मिल जाता था. कहते हुए उसने अपनी टांगें फैला लीं और अपनी बुर का मुंह को खोल दिया। मैं जांघों के बीच आकर उसकी लाल-लाल बुर पर एक बार फिर जीभ फेरने लगा.

लेकिन मैं अभी यह नहीं समझ पा रहा था कि मानसी की जगह हेतल कैसे आ गई.

मुझे और गुस्सा आ गया, मैंने उसके चूतड़ों पर थप्पड़ों की बारीश करके चूतड़ लाल कर दिए. मैं- देखो, वर्जिन गर्ल को पहली बार में तो दर्द होता है … पर बाद में सब ठीक हो जाता है. तो मंजू बोली- भड़वे … जब तक पियेगा नहीं तो चोदेगा क्या?मैं पेग लेकर सोफा पर बैठ गया.

मैंने भी अपने होंठ खोल कर उनका स्वागत ठीक वैसे ही किया, जैसे मैंने अपनी चुत खोल कर किया था. सारी तैयारी करने के बाद मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी कोमल सी बुर के मुहाने पर रखा और उस पर उसे रगड़ने लगा.

सूजा हुआ लण्ड देख सारा और दिलिया घबरा गयी और बोली- हय अल्ला … ये क्या हो गया तुम्हारे लण्ड को?मैंने दिलिया से कहा- थोड़ा गर्म पानी ले आओ, सिकाई करूंगा तो ठीक हो जाएगा. और मैं बाहर निकल गया।जब मैं कमरे में वापस आया तो वहां का नजारा ही बदला हुआ था. मैंने तसल्ली के लिए भैया को हिलाया और कहा- भैया उठो न अभी तो और पीना है.

गर्लफ्रेंड के

मुझे पोर्न देखदेख कर और अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ पढ़ कर सारा अनुभव हो गया है, आप फ़िक्र मत करो.

हम दोनों एक दूसरे को लिप किस कर रहे थे, साथ ही मेरे हाथ मीना के बदन पर जगह जगह फिसल रहे थे. मैंने उसके ब्लाउज के हुक लगा दिए और पेटीकोट के डोरी को भी अच्छे से बांध दिया, जैसे कि पहले थी. उसमें से काजल की चूत की बहुत ही प्यारी खुशबू आ रही थी, जो मुझे पागल कर रही थी.

फिर बोली- पहले तो आप इसे मेरी चूत में डाल दो, फिर बाकी सब बाद में करेंगे. उनका मेरे अंगों को छेड़ने से चुत पर से मेरा कंट्रोल छूट रहा था, मुझे तो डर रहा कि कहीं सुसु पैंटी में ही ना निकल जाये. देहाती सेक्सी बीपी हिंदीउनकी जीभ को मुंह से चूसते हुए मैं इतनी जोर से उनकी लार को खींच रहा था कि चाची की सांसें उखड़ने लगीं.

’ये कहते हुए उसने अपने हाथ से मेरे हाथ को पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया. भैया अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ रहे थे तो मैं बहुत ही गर्म हो गई और वो अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे.

मेरे साथ हुई ये घटना सत्य है इसलिए मैंने ऐसे शब्दों का प्रयोग किया. इतने में चाची ने मेरे हाथों को ज़ोर से पकड़ लिया और ज़ोर से राहुल चिल्लाते हुए नाखूनों को मेरे हाथ में गड़ाते हुए फिर से झड़ गईं. मैंने सोनल को अपनी गोद में बिठा लिया था और उसकी नंगी पीठ पर हाथ घुमाने लगा.

लेकिन अब मैं केवल राज से प्यार करती हूं और मेरे मन में तुम्हारे प्रति कोई गलत विचार नहीं है।इस पर मैंने भाभी को बोला कि आप जैसी ईमानदार लड़की को भाभी के रूप में पाकर मुझे खुशी हुई। जितना हमारे बीच होटल के कमरे में हुआ था कोई उसके बाद भी संभल जाए ये बड़ी बात है।आज के बाद हम भाभी-देवर की तरह ही रहेंगे और बाकी हमारे बीच पुराना जो भी था उसे भूल जाएंगे. उन्होंने मेरी निक्कर को खींच दिया और मेरे अंडरवियर के ऊपर से मेरे लंड को मसलने और सहलाने लगी. आप लोगों को तो पता ही है कि गांव में लोग अक्सर जल्दी खाना खा पीकर सो जाते हैं.

लेकिन यह बात हो मुझे मालूम हो गयी थी कि वीणा में ऐसा बदलाव क्यों आया है। वह राजवीर भैया!यानि कि आपसे चुदाई करवाना चाहती थी.

”” राज! आप को सारी बात पता है क्या?”डिटेल में तो नहीं … पर इतना पता है कि सालों पहले आपके रिश्ते की बात चली थी कहीं और आपको वो लड़का बेहद पसंद भी था लेकिन आपके पापा को आर्मी ऑफिसर दामाद ही चाहिए था, इसलिए वहां आपका रिश्ता नहीं हो सका. फिर उसके दोनों दूधों को मुंह में लेकर चूसने के बाद मैंने उसकी सलवार को खोल दिया.

बोले- आह्ह … तेरे ये रसीले होंठ और तेरी ये नशीली आंखें तो बहुत कातिल हैं. कोई बात है क्या?वह रूककर बोली- आपका बिस्तर गन्दा नहीं होगा?मैंने कहा- एक दिन में गन्दा थोड़े होता है. सारा बोलने लगी- रूई … कपड़ा … फूल!मैं वैसे ही दिलिया के ऊपर नीचे के ओंठ चूसते हुए धक्के मारने लगा.

इसके बाद सरोज बोली- ये थी मेरी कहानी! और इसको बताने का मकसद यह है कि औरत को हमेशा लण्ड और आदमी का साथ चाहिए और छोटी उम्र में तो जरूर चाहिए. पीछे से उसके चूतड़ फैले हुए थे जिसके कारण उसका काला सा छेद बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा था. मैं बयां नहीं कर सकता उस वक्त चाची के होंठों का रस पीने में कितना मजा आ रहा था.

रात का बीएफ इससे अच्छा तुम्हारी पेशाब लगी हुई चूत चाटना अच्छा लगता है, इसमें ज्यादा मजा नहीं आया. मैं जानता हूं कि तुम किसी ऐसे मर्द के साथ चुदाई में सहज नहीं हो सकती हो जिसको तुम जानती तक नहीं, लेकिन वो मेरे पीछे पड़ा हुआ है.

हिंदी सेक्सी ब्लू हिंदी सेक्सी

रानी ने जब दो चार इसी प्रकार बड़े बड़े सिप लेकर जो मुझे वाइन पिलाई तो मुख सुरा का सरूर पूरा परवान चढ़ गया. मैंने कहा- क्या यह सब करना तुम्हें अच्छा लगता है?बिन्दू ने मेरी तरफ देखा और हाँ में अपना सिर हिलाया. फिर तैयार कैसे हो गई?तो उसने कहा- पता नहीं कैसे मेरा मन कर गया और मैं अपने आप को रोक नहीं पाई.

मेरे उंगली चलाने से शलाका सिसयाने लगी और अपना हाथ मेरी पैंट की जिप के पास लाकर जिप को खोलने लगी. फिर मीरा ने आइसक्रीम का थोड़ा सा हिस्सा रितेश की गांड की छेद पे रखा और अपनी जीभ से उसे चाटने लगी. बढ़िया नंगी सेक्सी वीडियोउसके बाद तो नितिन ने अनेकों लड़कियों और भाभियों की मस्त चुदाई का धमाल किया.

मलाई जैसे लेस की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया.

उसने मुझे अपनी बाँहों में लेकर बिस्तर पर पटक दिया और मेरे ऊपर आकर मेरी चूची को दबाने और मसलने लगा. ऊई माँ!! उम्म्ह… अहह… हय… याह… अई ऐईई सी … सी … सी! मर गयी बॉस!” मैं जोर से चिल्लाने लगी.

यह समस्या वंशानुगत भी होती है अर्थात यदि मां में सेक्स ज्यादा रहा है तो बेटी में भी होगा. मैं उसके ऊपरी होंठ चूस रहा था और वो मेरे नीचे के होंठ चूसे जा रही थी. नीता- वाउ यार … क्या बात है … कौन है वो खुशनसीब?पिंकी- वो ही तेरा हैंडसम, सेक्सी मर्द.

लेकिन मुझे उसके मम्मे छोड़ने का बिल्कुल मन नहीं हो रहा था, इसलिए मैंने सोनल को खड़ा करके उसे घुमा कर उसको अपनी छाती से चिपका लिया.

आंखें बन्द करके मैं मूत निकलने का इंतजार करने लगा और जैसे-जैसे लंड ने पेशाब की धार छोड़नी शुरू की वैसे-वैसे मुझे बड़ी राहत मिलने लगी. उसके बाद मैंने उससे पूछा- तुम कहां से हो?दीपाली- मैं साऊथ इंडियन हूँ. बिन्दू झिझकते हुए बोली- आपने मेरी फ़ोटो खींची है?मैंने कहा- तुम वो सब क्या कर रही थी? तुम बहुत ही ग़लत काम कर रही थी.

सेक्सी वीडियो देहाती पोर्नउसको देख कर मन करता था कि दिल की बात कह दूं लेकिन समझ नहीं आ रहा था कि शुरूआत कैसे और कहाँ से करूं. बदले में मैंने भी सबकी नजरों से बचते हुए अपने लंड पर हाथ फेरकर और होंठ को गोल करके नम्रता को जवाब दिया.

बीएफ सेक्सी वीडियो में दिखाइए

नितिन ने आव देखा न ताव, घर में घुसते ही सीमा, जो कि क़यामत की हद तक खूबसूरत थीं … उनको कस कर आलिंगन में भर लिया. शुभ्रा सिसकारने लगी- और जोर से … और जोर से … करो आह्ह … कर गोलू।मेरा हौसला भी बढ़ता जा रहा था। फिर अचानक मुझे लगा कि मेरा जिस्म अकड़ने लगा और लंड में एक तेज खुजली सी महसूस होने लगी. इससे पहले कि मैं अपनी नई कहानी शुरू करूँ मैं आप सबसे कहना चाहती हूं कि जो भी मैं यहाँ पर कहानियों के माध्यम से बताती हूँ वह सब मेरे साथ असल जिन्दगी में ही घटित हो चुका होता है.

वो मेरा सर अपनी चूत पे दबा रही थी और साथ साथ अपनी गांड को भी मेरी जीभ के साथ साथ हिला रही थी, साथ में वो बड़बड़ा रही थी- अर्पित … यू आर सो गुड … मैं मर जाऊंगी … मुझे कुछ हो रहा है. वह मेरे होंठों के रस को ऐसे चूसने लगा जैसे एक भंवरा शहद को चूसता है. फिर मैं अपने मुँह में लगे हुए लंड रस को उंगली से समेटते हुए अपने बेटे के लंड के माल को चाटने लगी.

कहते हैं कि उम्र के इस पड़ाव में आने के बाद अक्सर भाई-बहन एक-दूसरे के राज़दार हो जाते हैं।हम दोनों कुछ दिन पहले तक दिनभर एक-दूसरे से लड़ते और झगड़ते रहते थे, किंतु अब हम साथ बैठकर बातें करते थे, पढ़ाई करते थे और कभी-कभी पढ़ते-पढ़ते रात को साथ सो भी जाते थे।अब ये दोस्ती हुई कैसे? ये भी जान लें. भाभी के 36 के साइज के उभरे हुए बूब्स मुझसे सट गये। मैं तो आप सभी को बताना भूल ही गया कि मेरा और भाभी का रिश्ता बहुत ही अच्छा और हँसी-मजाक वाला है।भाभी से मैंने कहा- भाभी, आप हाथ-मुंह धो लो तब तक मैं आपके लिए कॉफी बनाता हूँ. उसने मुझे कमर से पकड़कर उलटा घुमा दिया … और पीछे से अपना लंड मेरी गांड में डालने लगा.

इस पिचकारी की धार शायद कुछ ज्यादा ही तेज थी कि संजना को खांसी आने लगी. जैसे ही वो अन्दर आई, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसके बिल्कुल पास आकर उससे बोला- आपने तो मुझे कल सोने ही नहीं दिया और मेरे दिलो दिमाग में छा गई हो.

तभी मुझे ख्याल आया कि हम लोग खुले में असुरक्षित जगह पर हैं जहां कोई भी अचानक हमें देख सकता है.

आपके बहुमूल्य कमेंट्स के जरिये ही मुझे पता लगेगा कि मेरी मेहनत कहां तक कामयाब हो पाई है इसलिए मेरी बंगाली हॉट सेक्स स्टोरी पर आप अपना फीडबैक देना जरूर याद रखें. हिंदी में सेक्सी गाना चाहिएइस बात पर उसने एक कातिल स्माइल दी और मैं जान गया कि काम जल्दी ही बन जायेगा. md सेक्सीऐसा करते करते चूत में लंड कब पूरा चला गया, न पिंकी को पता चला न नितिन को महसूस हुआ. इतना बोलने के बाद पैकेट खुलने की आवाज़ आई और थोड़ी देर कुछ सुनाई नहीं दिया.

वो मुँह पर अपना हाथ रख कर मेरे लंड को देखते हुए मेरे पास आकर बोली- ये क्या … प्लीज़ अभी जाने दो.

क्या हो रहा है समझ में आने से पहले ही अंकल ने बड़ी आसानी से मुझे अपनी गोद में उठा लिया और मुझे लेकर बेडरूम के तरफ जाने लगे. पहले तो उसने रोकने की कोशिश बहुत की लेकिन जब वह समझ गई कि कोई फायदा नहीं है तो वह भी मेरा साथ देने लगी. मैं उनके बोबे मसलता हुआ बोला- पर रात में तो भैया ही आपको नहीं छोड़ते.

मौसी मेरे बाल पकड़ कर मुझे हटाते हुए कहने लगीं- सोनू, इतना टाइम नहीं है, ये सब फिर कभी करना … अभी अपना काम खत्म करो और निकलो यहां से. मैंने उसकी ही पैंटी से अपना और उसका मिक्स वीर्य के साथ निकला खून साफ किया. उसने मेरे लंड को चूसा और मैंने उसकी बुर को अन्दर तक अपनी जीभ से चूसा.

शुद्ध देसी सेक्स वीडियो

कमरे का दरवाजा खुला और अचानक से भैया रूम में आ गए … शायद बाहर पानी बरसने लगा था और इधर भाभी की चूत में भी बरसात हो चुकी थी. छुट्टी में घर जाते ही मैंने उसको एक व्हाट्सैप मैसेज किया- थैंक्स अर्चना, टिफिन के लिए. थोड़ी देर बाद वो एक बाल्टी और पौंछा लेकर आई और पौंछा लगाने लगी लेकिन तब मैंने देखा कि अब उनके एक नहीं, दोनों बूब्स बाहर हैं और एकदम पूरी तरह से.

आह्ह ऊऊ … अंदर गिराओगे ना अपना गाढ़ा मुठ? अपनी रंडी बेटी को दे दोगे ना अपना मीठा मुठ डैडी? अपना ताजा ताजा मुठ मुझे पिला दो डैडी … आह्ह मैं बहुत प्यासी हूं.

बस हम दोनों आज भी अपनी हवस मिटाने के लिए कहीं ना कहीं मिलते रहते हैं.

फिर भाभी ने अपने दोनों पैर फैला कर अपने पैर मेरे पैरों में फंसा लिए, कैंची सी डाल दी, जिससे मेरा लंड भाभी की चूत की गहराइयों में फंस सा गया. पति- अच्छा चलो, अब फोन रख रहा हूं तुम दिन ब दिन बेशर्म होती जा रही हो, तुम्हारी दो बात सुनकर मेरा भी खड़ा हो गया है. सेक्सी वीडियो देसाईऐसे ही कुछ दिन बीतने के बाद उसका कॉल आया कि आज मेरे घर पर सभी लोग शादी में गए हैं, दो दिन बाद लौटेंगे.

आख़िर भाभी को बोलना ही पड़ा और वो बोल उठीं- तुम शांत नहीं लेट सकते, रात भर से परेशान कर दिया, ना सो रहे हो ना सोने दे रहे हो. कुछ पल बाद वो भी मेरे लंड को चूसने लगी, लेकिन उस अच्छे से लंड चूसना नहीं आ रहा था. जब दीपाली का दर्द कम हुआ, तब उसने अपनी गांड उठा कर आगे बढ़ने का इशारा दिया.

अपने पति की बात सुनात सुनाते नम्रता मेरी तरफ देखते हुए बोली- तुम्हारे वीर्य ने मुझे वीर्य पीने का ऐसा दीवाना बनाया कि मैं राजेश के वीर्य के रस के एक बूंद को भी छोड़ना नहीं चाहती थी, इसलिए मैंने थोड़ा ऊपर की तरफ होते हुए राजेश के मुँह में अपनी चूची को चूसने के लिए दे दिया और खुद उनके वीर्य से सने मेरे हाथ को चाट-चाटकर साफ करने लगी. अदिति हंसते हुए बोली- अर्पित … क्या कर रहे हो यार … गुदगुदी होती है.

मैं- सरिता आज तक चुदाई से कोई भी नहीं मरा है … सभी लोग चुदाई करते हैं.

”मम्मी ने मेरे सिर से आँचल थोड़ा सरकाया और उपिंदर ने मेरी मांग में सिंदूर भर दिया।अंशु बोली- कामिनी अब से घर में तू बिना सिंदूर के नहीं रहेगी। हम दोनों में से किसी एक से रोज़ लगवाया करेगी. मैं जोर से चीख उठी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… हाँ!मैंने अपने पैरों से उनकी कमर को भींच लिया और उन्हें अपने बदन पर खींचा. करीब दस मिनट तक लंड चूसने के बाद उन्होंने अपने लंड के लावा को मेरे मुँह में छोड़ दिया.

एचडी वीडियो सेक्सी फुल एचडी वीडियो ”सच में नीतू दो दिन में बहुत अच्छा सीख गई हो, तुम्हें तो इनाम मिलना चाहिए. फिर वह क्रम में बोलने लगी- रूई … कपड़ा … फूल … कपड़ा … रूई … कपड़ा … फूल … कपड़ा … कपड़ा … कपड़ा … रूई … रूई … फूल … फूल!सच हम दोनों को बहुत मजा आया.

कुछ पहले से ही सूजन थी ऊपर से जूली की कसी हुई चूत और साथ में सारा की चुदाई करके लंड लाल गाजर के जैसा हो गया था. अब रास्ता खुल चुका था, सो हम दोनों को जब भी मौका मिलता था, तो सेक्स का मजा कर लेते थे. वो इतनी जोर से मेरे लंड को चूस रही थी कि जैसे मेरे लंड को खा ही जायेगी.

सेक्स बिडीवो

जहां मेरा हाथ बहुत ही नाजुक तरीके से उसके शरीर पर घूम रहा था, वहीं मेरे होंठ उसको बेदर्दी से चूस रहे थे. मेरी बात का यकीन नहीं हो तो मर्द खुद की प्रेमिका और बीवी में दोनों में कौन ज्यादा मज़ा देती है, इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं. उसने शर्ट को बड़े मादक अंदाज से मेरी आंखों में देखते हुए बेड के नीचे गिरा दिया.

कहिये! मंज़ूर?”तत्काल वसुन्धरा के चेहरे पर एक मुस्कान आ गयी और उसने अपनी स्वप्निलिप्त आधी खुली आँखों सहित हाँ” में सर हिला कर हामी भरी. कुछ ही देर बाद मेरा बदन अकड़ने लगा, मैं अपने पैर छटपटाते हुए झड़ने लगी.

नीतू अब पेट के बल लेट जाओ, कल तुम्हारी पीठ की चुम्मी लेना ही भूल गया.

मैं उसके चूतड़ों पर ज़ोर ज़ोर से चपेट मार रहा था, जिससे उसके चूतड़ लाल टमाटर की तरह हो गए थे. बाली रानी का मुंह एक निप्पल के दबाये हुए था और दूसरी निप्पल पर रानी उंगली और अंगूठे से दबा रही थी. वो किस्सा भी लिखूंगा जब उसके भाई और मैंने मिल कर अमीषी की एक साथ ली और उसकी गांड भी मारी.

इसके अलावा नीचे दिये गये कमेंट बॉक्स में भी अपने विचार रख सकते हैं. मेरी उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकल गई लेकिन मुझे इस वक्त लंड इतना मजा दे रहा था कि बस मेरी आंखें मस्ती से बंद होकर लंड का मजा ले रही थीं. रिया पीछे मुड़ते हुए बड़बड़ायी- आह्हह डैडी, बहुत मजा आ रहा है … आह्ह चोदते रहो डैडी, मेरे प्यारे डैडी, मेरी गांड को दिन रात चोदते रहो.

मैंने बिल्कुल ऐसे ही किया और उसको नीचे फर्श पर लिटा कर फिर से अपना लंड उसकी चूत से मिला दिया.

रात का बीएफ: नम्रता- अरे वाह इसका मतलब जल्दी ही तुम्हारे लंड और मेरी चूत के बीच जंग छिड़ने वाली है. जब भी मैं किसी अच्छे दिखने वाले लड़के की तरफ देखता था तो मेरा ध्यान सबसे पहले उसकी पैंट की ओर चला जाता था.

एक गैर मर्द के नीचे लेट उसके लिंग का भोग जो कर रही थी मैं!राज मुझे बिस्तर पर मसल रहा था. फिर मैंने घूमने का या फिर यूं कहिए कि अनिता को भोग करने का प्लान बनाया।उसके बाद आया वो दिन जिसका मैं कितने दिन से इन्तजार कर रहा था. तो हुआ यूं कि एक दिन में बाहर गया था और पापा को उस दिन काम से छुट्टी थी तो वो घर पर थे.

चुदाई ख़त्म करके मैंने उसको गाड़ी की रिपेयर करने को कहा तो वो बोला- गाड़ी तो ठीक है.

पता नहीं माँ मुझे उनकी चुत क्यों नहीं चाटने दे रही थीं, मगर मुझे तो माँ की चुत का स्वाद बहुत ही नमकीन लगा था. मेरे मामा के लड़के ने मुझे बहुत देर तक चोदा और उसके बाद हम दोनों का पानी निकल गया. इसी लिए दीपाली की चुत पर मुँह रख के बहुत जोर से चूसा और ढेर सारा थूक उसकी चुत पर मल दिया.