बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ

छवि स्रोत,सेक्सी लड़कियों वाली वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

कर्बला का फोटो: बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ, उसने धीरे धीरे फिर अपने धक्कों की तेजी बढ़ाई, वो बिना रुके लगातार धक्के नियंत्रित तरीके से मार रहा था.

कैटरीना सेक्सी वीडियो वीडियो

अक्सर शाम को ग्राऊंड में अंधेरा हो जाने के बाद कोनों में लड़कों के साथ चूमा चाटी करते दिख जाती थीं. सेक्सी मारवाड़ी सेक्सीमेरी बॉडी भी बहुत अच्छी है, हाइट 6 फीट, वजन 80 किलो और चेहरा भी अच्छा ख़ासा है.

तभी नीरू ने सविता से पूछा- पहले तेरी चूत में डलवा दूँ या थोड़ा प्रैक्टिकल करके तुझको हम दोनों दिखलाएं कि चूत में लंड किस तरह घुसाया जाता है?सविता ने कहा- नहीं, पहले आप दोनों करो, आपको देख कर मैं भी मजा लूंगी. देवर भाभी की सेक्सी मस्तउनका चेहरा अब टमाटर की तरह लाल हो गया था और होंठ थरथराने से लगे थे.

यही कुछ 25-30 धक्कों के साथ ही मेरा रस निकल गया और मैंने उसकी बुर में रस डाल दिया और उसके ऊपर लेट गया.बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ: मैंने कुछ सेकंड रूककर जोरदार धक्का लगाया तो आधा लिंग उसकी चूत में चला गया.

मैं उसके मुँह पर मुँह डाल दिया और उसके होठों को चूसने लगा, जीभ मुख के अंदर तक घुसाने लगा और उसकी जीभ को चूसने लगा। साथ में मैं उसकी चूचियाँ भी मसलता जा रहा था।दीपक ने फिर एक जोर का धक्का लगाया तो सुशीला की आँखों से आँसू निकल आये.वैसे भी जो जानना और समझाना था, वह हो चुका।”मैं अपनी बात कर रही भाईजान.

ढोंगी बाबा का सेक्सी - बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ

आंटी की चूत अन्दर से बहुत गर्म थी और मेरी छोटी झांटों के साथ आंटी की लम्बी झांट मिक्स होने लगीं.वो उत्तेजित हो उठी लेकिन नारी सुलभ लज्जा के कारण बोली- छोड़ दो मुझे मुनीम जी!मैं कहाँ छोड़ने वाला था … मैं उसके होंठों को चूम लिया, उसकी चूचियों को मसलने लगा.

रजत जिद करते हुए- अभी बताओं ना माँ… प्लीज!विक्रम- हाँ माँ… बताओ ना… मुझे भी जिज्ञासा हो रही है. बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ ”मैंने उसकी शर्ट खोल दी और उसके लोअर को खींच घुटनों तक सरकाते हुए खुद भी नीचे बैठ गई.

मेम ने बोला कि 22 को दोपहर के ढाई बजे की फ्लाइट है, तो डेढ़ बजे एयरपोर्ट पे मिलते हैं.

बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ?

मज़ा आ रहा है कि नहीं?तब पूजा ने अपना चेहरा मेरी और घुमा कर बोली- साले मादरचोद, पहले तो मेरी गांड फाड़ दी अपना लंड घुसा कर और अब पूछ रहा है कि कैसा लग रहा है? साले, चल जल्दी जल्दी से मेरी गांड में अपना लंड से जोर जोर के धक्के लगा और मेरी गांड को भी मेरी चूत जैसी फाड़ दे. तभी मूछों वाले ठाकुर साब ने दरवाजे पर धक्का दिया और मुझसे बोले- जाओ अन्दर चली जाओ. मैंने पूजा के चूतड़ों को सहलाते हुए धीरे से कहा- रुकना मत, अभी तुम चालू रहो.

मगर तभी …ठीक है … ठीक है … पता है मुझे!” सुलेखा भाभी ने अब गुस्से से प्रिया की तरफ देखते हुए कहा, जिससे प्रिया सहम सी गयी और मेरी तरफ देखने लगी. फिर वो मुझसे बोली- आप पहले इंसान हैं, जिसे मैंने अपना पूरा घर दिखाया, मैं किसी को घर के अन्दर आने नहीं देती हूँ. मैं हर नाकाम कोशिश कर रहा था, मेरा लंड उसकी चूत के अंदर जा ही नहीं रहा था, उसकी चूत एकदम टाइट थी।जब मैंने जोर लगाया तब उसे दर्द होने लगा था, अब वो दर्द से चिल्लाने लगी थी.

नीट ही चार पैग बना लिये गये और हम आसपास बैठ कर अपने-अपने पैग चुसकने लगे।पक्का लाल पड़ गयी होगी ठुक के. हम दोनों को ही अब होश नहीं रह गया था और सुलेखा भाभी की तड़प तो इस चुम्बन से ही प्रतीत हो रही थी. मुझे बड़ा अजीब लगता था, लेकिन वाकयी बहुत मजा आ रहा है लंड चूसने में.

कुछ देर बाद मैंने बेबी को बोला- बेबी मेरा अब होने वाला है … कहां निकालूँ?वो बोली- मेरी चुत में डालो … तुम्हारा पानी मेरे चुत में रहेगा तो तुम्हारी याद बनी रहेगी. अब भाभी मनीष के ऊपर चढ़ गईं और किस करते हुए लंड को अपनी चूत में डालने लगीं.

मेरी नज़र उस पर ही थी, जब उसने मुझे लिटाया, तब उसकी नज़र मेरी पहाड़ जैसी चूचियों पर टिकी थी.

फिर मैंने अपने दोस्त को फ़ोन किया तो वो बोला- मुझे आने में एक घंटा लग जायेगा.

माइक का लिंग खून के दबाव से काफी गर्म और पत्थर से भी ज्यादा सख्त लगने लगा. मैं- अपनी बेटी की चुदाई तो तू आँखें फाड़ के देख रही थी … पराये मर्द का लंड अपनी बेटी की चूत में देखकर तुझे मजा आ रहा था या नहीं? और अपनी बारी आई तो सती सावित्री बनने लगी. घर आकर हम लोग सोफे पर आराम करने लगे, तो उस वक़्त मैंने जग से कहा- एक बात तो बताओ … तुम मुझे यूं घुमाने क्यों ले गए थे? ये सब तो तुम मुझे ऐसे भी पूछते चलने के लिए तो मैं चलती तुम्हारे साथ.

तो मैंने उसे हल्का सा धक्का मारा और उसे स्टाल पर गिरा कर उसकी चुचियों को दबाने लगा. लेकिन मन में डर था कि डैड घर में हैं और दूसरा ये कहीं किसी से बोल न दे. मैंने धीरे से हिंदी में अपनी बीवी को बोला- ये फिल्म देख अपने को उत्तेजित कर रहा था, देखो इसकी पैन्ट की ओर.

मुझे देख कर वो बोली- अरे मीता, तुम यहां कैसे?मैंने कहा- यार, सर में दर्द हो रहा था तो सोचा कि एक कप कॉफी ही पी लूँ.

बारह बजे के करीब जब मेरी नींद खुली और जब तक मैं तैयार होकर अपने कमरे से बाहर आया तो दोपहर के खाने का समय हो गया था. जैसे कोई करंट आ मेरी नाभि से होकर योनि तक चला गया और मैंने भी माइक के धक्कों के साथ अपनी कमर उचकानी शुरू कर दी. अगर लंड खड़ा होता है, तो फिर से अभी बाथरूम में जाकर ही साली को चोद दूँगा.

थोड़ी देर में वो सिकुड़ने लगा, तो मुझे धीरे धीरे राहत सी महसूस होने लगी. अब आगे:अब दोनों माँ बेटी थोड़ा आराम करने के मूड से बिस्तर पर लेट गयी और एक दूसरे को बड़े प्यार से देखने लगी. अगर सुलेखा भाभी को सब पता चल ही गया है तो फिर अभी तक वो मुझसे, या फिर नेहा व प्रिया से कुछ कह क्यों नहीं रही थीं.

तभी मैंने अपना एक हाथ नीचे ले जाकर अपनी दो उंगलियां मैडम की चूत में डाल दीं, तो उन्होंने चिहुँक कर अपनी आँखें खोल दीं और एक ज़ोर की सीत्कार के साथ फिर से अपनी आँखें बंद कर लीं.

उसने दोनों हाथों से अब भी मेरे सिर को पकड़ा हुआ था, मगर मुझे रोकने या हटाने का प्रयास वो बिल्कुल भी नहीं कर रही थी. मेरे दोस्त ने भी उसे चोदने की मंशा जाहिर की, तो नूर ने मना नहीं किया.

बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ जैसे ही पांच मिनट का भी मौका अकेले होने का मिला, झट से मेरे मुँह में लंड डाल कर चुसवा लेते, फिर जाते. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:अपने चोदू को माँ का पति बनवाया-4.

बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ उन्होंने कहा- अरे जय … सॉरी मैं रेडी नहीं हूँ … मुझे थोड़ी देर लगेगी. इससे पहले आगे चलूं, मैं आपको भाभी और उनकी सहेलियों के बारे में बता देता हूँ.

सिर्फ ब्लू फिल्म की जो चुदाई के वीडियो होते हैं, उसमें चुदाई करते देखे थे.

नौकर और मालिक की चुदाई

माइक अब हांफने लगा था, पर वो लगातार मुझे खुद को काबू में रख धक्के मार रहा था, जिससे मुझे ज्यादा तकलीफ न हो और मैं उसके झड़ने तक उसका साथ दे सकूं. माइक मेरी इस हरकत से समझ गया कि अब उसके रास्ते में कोई रुकावट नहीं है. ये बात भाभी भी देख लेती थीं कि मेरा लंड फूल रहा है, तब शायना भाभी देखकर मुस्कुरा देती थीं, पर कुछ बोलती नहीं थीं.

पर इत्तेफाक से तुम्हें हटने वाले ही मिले।”मेरी बुरी किस्मत।”वैसे जो पोर्न देखती या पढ़ती हो. मैंने कपड़े पहने और आराम से रसोई में आ गई और उससे बोली- कहां है चाय?मुझे गुस्से में ना देख कर उसकी भी सांस में सांस आई. मैंने कहा- क्या हुआ?वह बोला- बस इसके आगे फिर मुझसे कंट्रोल नहीं हो पाएगा.

अब सच में मैं बहुत एक्साइटेड थी, तो उसका लौड़ा अपने हाथ में पकड़ कर अपनी जीभ से मैक के लंड का सुपाड़ा चाटने लगी.

मैं फ्रेश होकर बाहर आया और उससे पूछा- तुम तो नहा रही थी ना?तो उसने हंसकर अपने कान पकड़े और बोली- प्रकाश सॉरी यार, तेरा जैसा इंन्सान मैंने जिंदगी में पहली बार देखा, मैं तुम पे मरती हूँ, मैंने कितनी बार लाईन दी, लेकिन तुम हो कि आगे नहीं बढ़ रहे हो … तो बोलो मैं इससे ज्यादा क्या करती. अब मुझे इतना भरोसा तो हो ही गया था कि इसको बता सकूँ कि इसे क्या बोलते हैं. मैंने फिर समझाया कि इसने मूता नहीं है, ये उसका वीर्य है, जिससे बच्चे पैदा होते हैं.

मेरा पूरा मुँह उनके वीर्य रूपी अमृत से भर गया, जिसे मैंने पूरा पी लिया और पूरी चूत को चाट के साफ कर दिया. दाएं हाथ की एक उंगली को पूजा की चुत में डाला तो चुत पूरी गीली हो गई थी. इस बात पर सबने अपनी सहमति जताई।फिर नाश्ते के बाद सब लोग शॉपिंग के लिए निकल गए और मयूरी के लिए बहुत सारे कपड़े-वगैरह ले आये.

अब दोनों को इशारा करके मैंने ऊपर की ओर ही कह भी दिया और उसकी खूब मालिश करने और उकसाने को कहा. अब मैंने उनकी कमर के नीचे एक तकिया लगाया जिससे उनकी चुत ऊपर उठ गई, मैं लंड उनकी चुत पे रगड़ने लगा, वो तड़प उठीं, बोलीं- प्लीज़, अब इसे मेरी चूत में डाल दो!तभी मैंने एक धक्का मारा.

”उसने मेरे नाज़ुक पाँव को अपने हाथों से पकड़ा, तो मेरे बदन में सिहरन सी उठने लगी. मैं दिखने में भी बहुत सेक्सी हूँ और बहुत मजबूत इरादे वाली लड़की हूँ. पर इनके मित्र जगत जी ये कह रहे हैं कि जो वादा राज जी 15-20 साल से कर रहे हैं … इस बार पूरा कर देंगे … और दिल खोलकर खर्च करेंगे या नहीं करेंगे तो ये खुद गारंटी ले रहे हैं कि ये करेंगे.

रिया भाभी मुझे एकटक देख रही थीं, तो मैंने कहा- आप तीनों हसीनाओं के साथ बैठ कर मेरे पप्पू का ये हाल हुआ है और वोडका का नशा अलग से मुझे हॉट किए दे रहा था.

मैं- बड़े चाचा बड़ी चाची की गांड मारते हैं या नहीं?चाची- कभी कभी … जेठ जी का लंड तुमसे भी बड़ा है. फिर बहुत जल्दी ही उनकी टांगें काँप उठीं और उनकी चुत का सारा माल निकल गया. एक खाली पीरियड में मैं, पिंकी और रिचा ग्राउंड के कोने में बैठी थीं, तभी देवेंद्र भी आ गया.

सुलेखा भाभी ने प्रेस को बन्द करते हुए कहा और कमरे से बाहर चली‌ गईं. दोस्तो, क्या नजारा था … उसकी चूत बहुत ही उभार लिए हुई थी, गदराई हुई … पाव रोटी की तरह फूली हुई … इतनी मस्त चूत सविता की … उभार लिए हुए होंठ मोटे मोटे सफेद … अभी हल्के हल्के बहुत छोटे बाल थे उसकी चूत पर!जैसे ही मैंने उसकी चूत की दरार को दोनों उंगलियों से चौड़ा किया अंदर से बिल्कुल गुलाबी बहुत छोटा सा अंदर छेद ऊपर छोटा दाना … पूरी मस्त चूत थी.

मैंने एक संदेश भेजा और पूछा कि क्या अभी भी तारा साथ है?उत्तर आया- खुद देख लो. क्योंकि हर दुल्हे और दुल्हन की सुहागरात कभी न भूलने वाली यादगार रात होती है. उस पर नेट वाली रेड ड्रेस … आह मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे मेरे सामने कोई अप्सरा आ खड़ी हो.

પંજાબી સેકસી વીડીયો

30 पे उसका कॉल आया पूछने के लिए मैं कब तक निकलूंगा फैक्ट्री से!मैंने ‘पांच मिनट’ बोल कर फ़ोन काट दिया.

गाहे-बगाहे मौका मिलते ही चूत चुदाई का खेल शुरू हो जाता था।दोस्तो, आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी मुझे इमेल करना।[emailprotected]. मेरी बात सुन कर सुशीला शर्मा कर जब वहां से जाने लगी तो मैंने उसको पकड़ के वहीं बेड के ऊपर बैठा दिया और खुद उसकी जांघों के बीच बैठकर उसकी चूत में मुँह घुसा दिया।वो सिसिया गयी … मैंने उसकी चूचियाँ ब्लॉउज के ऊपर से मसलनी आरम्भ कर दी तो वो और ज्यादा सिसकारने लगी।मैंने मानसी की मम्मी की चूत चाटना जारी रखा, साथ में चूचियों को मसलना भी … उसको मजा आने लगा था। वो आँखें बंद करके आनन्द लेने लगी थी. अबकी बार प्रिया ने अपनी नजरें घुमा लीं और अपनी मम्मी की तरफ देखने लगी.

मैंने लंड छुट के छेद पर टिका कर एक धक्का लगाया और लंड पूरा मैडम की चूत के अंदर…मैडम कराह उठी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…और फिर धकापेल चुदाई का सिलसिला शुरू हो गया. जीजू ने कुछ देर तक मेरी चूत को चाटने के बाद अपना लंड मेरी चूत में अन्दर पेल दिया और मजे से अन्दर बाहर करने लगे. लागे सेक्सीएक दिन वो कॉलेज से थक कर आई थी, मैं उसके घर गया, तो देखा वो सो रही थी.

हिमांशु पीछे से मेरी गांड में बहुत जोर से अपने लंड को अन्दर बाहर लंड करने लगा था. पुनीत बोला- तू बहुत चुदासी हो गई है, तेरी चूत को आज हम तीनों चोदकर भोसड़ा बना देंगें.

मेरा लंड उसकी चूत में फिर से जा घुसा और दो-तीन धक्के देने के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया. बहूरानी के चाचा जिनके लड़के का ब्याह था वो सबको तैयार होने का निर्देश दे रहे थे की जल्दी जल्दी तैयार होजाओ सब लोग कि साढ़े सात बजे बारात चढ़नी है क्योंकि रात दस बजे के बाद डी जे बजना मना था. मैं उसके मुँह पर मुँह डाल दिया और उसके होठों को चूसने लगा, जीभ मुख के अंदर तक घुसाने लगा और उसकी जीभ को चूसने लगा। साथ में मैं उसकी चूचियाँ भी मसलता जा रहा था।दीपक ने फिर एक जोर का धक्का लगाया तो सुशीला की आँखों से आँसू निकल आये.

उसने मुझसे कहा- हम इसी लिए इकठ्ठी हुई हैं ताकि तुझे जवानी के असली सुख और असली मज़े को दिखा सकें. मैं सूरत गुजरात का रहने वाला हूँ। मैं अन्तर्वासना का पिछले 8 साल से पाठक हूँ। मैंने कई लेखकों की कहानियाँ पढ़ी हैं। अन्तर्वासना की कहानियाँ मुझे बहुत अच्छी लगती हैं। मैंने भी सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी कहानी लिखूँ।ये बात तब की है जब मैं 12वीं में था. यह सब देख कर मुझे और जोश चढ़ रहा था और मैं धक्के पे धक्के लगाए जा रहा था.

बड़ा ही मनोरम दृश्य था वो, लाल साड़ी में लिपटी लाल लाल गालों से घिरा वो खूबसूरत सा चेहरा … जी कर रहा था कि उनके पूरे चेहरे को ही चूम-चाट लूँ.

धीरे धीरे मैंने उसकी कोमल गुदाज जांघों पर भी जीभ चलाना चालू कर दिया।जैसे ही मैंने पैंटी उतारने के लिए उसके इलास्टिक में अपनी उंगलियां फंसाई तो वो अपनी जांघें भींच कर रोकते हुए तपाक से खड़ी हो गई, मुझे मना करने लगी. तो मैंने कहा- जब इतनी रात हो गई है तो अब सुबह ही जाना!और मैं उसे किस करने लगा।फिर मैंने पीछे से उसके गाउन की ज़िप खोल दी और पीठ पर किस करने लगा और उसका गुलाबी गाउन उतार दिया.

उनका लंड मेरी बच्चेदानी में जा कर टकराने लगा, तो मेरा मुँह खुल रह गया था. मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था।5-6 मिनट चूसा-चूसी का खेल चला उसके बाद मम्मी ने अपनी चूत से बैंगन को निकाल लिया और पूछा कि मेरी चूत मारना चाहता है क्या?मैंने कहा- फिर मैं इतनी देर से आपके साथ क्या लूडो खेलने के लिए खड़ा था?मम्मी ने कहा- ठीक है, मगर उससे पहले मैं तेरी गांड में बैंगन डालूंगी. नेहा की पकड़ ढीली होते ही मैंने अपना पूरा हाथ अब उसकी‌ पेंटी में घुसा दिया जो अन्दर से गीली गीली सी महसूस हो रही थी.

लेकिन शुरू शुरू में जब मैं शहर में आयी तो मुझे शहर के लोगों के साथ काफी दिक्कत हुई. कभी एक चूची चूसता और दूसरे की निप्पल को उंगलियों से घुमाता, कभी एक निप्पल को दांत से काटता और दूसरे को हाथों से बहुत जोर से दबाता. मैंने देखा कि भाभी की गांड बहुत ही सुन्दर थी और मेरे लंड ने भी सलामी देनी शुरू कर दी थी.

बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ वो डर सा गया- यह आप क्या कर रही मैडम?भीम जब से तुमने मुझे छुआ, मेरे जिस्म में सिहरन हो रही है. मैंने उसे अपना लंड हिला कर इशारा किया तो झट से उसने मेरा लंड मुँह में भर लिया और 5 मिनट तक लंड चूसा.

वीडियो में ब्लू पिक्चर

तो मैं बोला- मिल लेते हैं शाम को।वो बोली- नहीं, कहीं घूमने चलते हैं कहीं बाहर।उसने वृन्दावन जाने का प्रोग्राम बनाया, मैंने भी हाँ कर दी। मैंने कंपनी से शनिवार की छुट्टी ले ली और हमने शुक्रवार की शाम को जाने प्रोग्राम बना लिया। मैंने कंपनी से 4 बजे छुट्टी कर ली और उसे रास्ते में से पिक किया और वृन्दावन की ओर चल दिए. तो वो मेरी बात को अनसुना करते हुए बेशर्मी से बोली- मुझे निक्की ने बताया है कि तुम बहुत अच्छा चोद सकते हो … तुम्हारा लंड काफी बड़ा है. मुझे मेरे बॉस ने बोला कि देख जय तेरे को परसों जाना है … तू कल हाफ डे लेकर पैकिंग कर ले और प्रेजेंटेशन अच्छे से देना.

मैंने न केवल उसको अपने हाथ के दबाव से नीचे ही बैठे रहने दिया, बल्कि फुर्ती से उसके दोनों हाथ कुर्सी से बांध दिए. आंखों में गहरा काजल डाल रखा था उसने!अगर शोर्ट में कहूं तो कम्मो हरियाणवी डांसर सपना चौधरी की छोटी बहन जैसी लग रही थी; बिल्कुल वैसी ही कद काठी, वैसा ही जानलेवा जोबन, वैसा ही सलवार कुर्ता, वैसी ही सुन्दर और यौवन के जोश से लबालब. जवान की सेक्सी वीडियोमैं सहम कर वही बैठ गई।तुम कुछ बोलते क्यों नहीं विक्रम?” मम्मी ने पापा को बोला।सुधा… हो गयी छोटी सी गलती बेटी से.

थोड़ी देर आराम करने के बाद नेहा मैडम फिर से मेरे लंड से खेलने लगीं.

वे मेरे कंधे को जोर से पकड़ कर मुझसे लिपट गए और बेहद गर्म गर्म वीर्य अंकल का मेरी चूत में भर गया. मेरी पिछली कहानी थीचूची चूस चूस कर दोस्त की गर्लफ्रेंड को चोदायह नयी कहानी करीब तीन साल पहले की बात है, मैं काम के सिलसिले में हैदराबाद गया था.

दोस्त ने उसे अपनी बांहों में भरके चूमा और उसके दूध मसल कर हामी भर दी. एक दूसरे के बारे में जानकारी करने के बाद मैंने उसका नम्बर माँगा तो बोली- नम्बर का क्या करोगे?मैंने कहा- दोस्ती की है, तो नम्बर तो देना ही पड़ेगा. शायद उसने ब्रा नहीं पहनी थी क्योंकि शायद वो भी पूरी तैयारी के साथ चल रही थी.

फिर मैंने अगली बार उसकी तरफ अपने होंठ बढ़ाए तो उसने रजामंदी दिखाते हुए अपने होंठ चूमने के लिए आगे कर दिए.

बायोलॉजी पढ़ने का सब्जेक्ट नहीं है क्या?फिर मैंने और थोड़ा कड़क होते हुए कहा- चलो चलो. मैं बोला- बेबी तुम आगे की सीट पकड़ कर झुक जाओ … अब मैं तुम्हारी गांड मारूंगा. मैंने देखा कि भाभी की गांड बहुत ही सुन्दर थी और मेरे लंड ने भी सलामी देनी शुरू कर दी थी.

मारवाड़ी सेक्सी पिक्चर वीडियो भेजोमैंने हां में गर्दन हिलाते हुए जवाब दे दिया लेकिन आवाज़ नहीं निकली. यदि उस वक्त डैड मॉम के साथ सेक्स करते थे, तो वे कोई भी बहाना बना देते और हम भाई बहन मान लेते थे.

मराठी झवा झवी

वो आते ही मेरे गले लग गई, मैं उसके होंठ अपने होंठों में लेकर चूसने लगा. जैसे ही उसने मेरे हाथ में तौलिया दिया, मैंने चिल्लाना शुरू कर दिया- ओ मर गई … पकड़ो मुझे … पकड़ो मैं गिर जाऊंगी. फिर मैंने उससे बोला- चलो घर चला जाए … मुझे तुम्हारे साथ कुछ टाइम बिताना है, क्योंकि तुम कल चली जाओगी फिर हम शायद ही कभी मिल पाएंगे.

वो लेटी हुई कंबल को खींच रही थी, शायद उसको मेरे सामने पहली बार नंगी होने में शर्म आ रही थी. मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरी बरसों की तमन्ना पूरी हो गयी हो।अब मैंने हल्के हल्के झटके मारने शुरू कर दिए. मैंने उसे उठा कर अपने सीने से लगा कर लिटा सा लिया और धीरे धीरे उसके सर को सहलाने लगा.

आंटी के करवट के बल सोने की वजह से उनकी चूत मुझे दिख नहीं रही थी, तो मैंने अब उनकी टांगें फैलाना शुरू कर दीं. या हिना भाभी को बाज़ार से कुछ मंगवाना होता, तो वो मुझे अपने बोल देती थीं. तभी पायल ने कहा- मुझे कुछ टाइम दो, मैं सोच कर बताती हूं!और उसके बाद वे दोनों सहेलियां हमारे घर से चली गई.

मुझसे सब्र नहीं हो रहा था, मैंने नीरू से कहा- यार इसकी ब्रा पेंटी भी निकालो ना ताकि मैं इसकी छोटी सी बंद बुर का दीदार कर सकूं और उसको जीभ से चाट सकूं!नीरू ने कहा- जीजू सब्र रखो, सब्र का फल मीठा होता है. उस तरह की फोटो देखना, मुझे अपने कक्षा के सिलेबस की बुक्स से ज्यादा सेक्सी कहानियां पढ़ने में इंटरेस्ट अपने आप रहता था.

अब शीतल के दोनों बेटे एक साथ अपनी माँ की गांड और चूत की बहुत ही जोरदार चुदाई कर रहे थे.

योजना के अनुसार जब हम वहां पहुंचे तो वो कम्प्यूटर पर ब्लू फिल्म देख रहा था. मुसलमानों की सेक्सी वीडियो चुदाईमैं बोला- तुमको ये सब कैसे पता है कि मैंने अपनी दीदी के साथ क्या किया था?इस पर वो बिंदास बोली- मुझे तुम्हारी बहन ने ही बताया है कि रात में मैंने अपने भाई का वर्जिन लंड अपने मुँह में लिया था, बहुत मज़ा आया था. हिंदी सेक्स ब्लू सेक्सीतारा केवल अपनी जुबान को मुनीर की योनि पे रखती थी और धक्के से काम हो जाता था. फिर हम लोग मॉल से निकल कर बाहर आये तो मुझे याद आया कि अभी कम्मो को गोलगप्पे खिलवाना तो रह ही गया.

मैंने नेहा से पूछा- तुमको कितनी देर है?तो नेहा ने भी बाथरूम से आवाज दे दी- हां बस अभी निकल रही हूँ.

एक हाथ से मेरी चुची दबाने लगा और दूसरे हाथ से मेरी पैंटी के ऊपर से मेरी चूत सहलाने लगा. उसने पहले अपने बड़े भाई विक्रम के लंड को अपने मुँह में लिया और रजत के लंड को अपने हाथ से हिलाने लगी. वो बोली- क्या हुआ?मैंने बताया- कुछ नहीं!फिर उसके हाथ पर हाथ रखकर उसे सब सिखाया.

करीब 10 मिनट तक हम एक दूसरे को ऐसे किस करते रहे फिर…अचानक से किसी ने दरवाज़ा खटखटाया. उसका स्टॉप आने वाला था तो उसने बोला- सर, अगर आप मेरे को रोज़ अपने साथ ले आया करें तो मेरा बहुत टाइम बच जायेगा क्योंकि वहां से रेगुलर बस सर्विस नहीं है. मैंने भी अब सोचा कि शायद वो मेरा वहम था, इसलिए कुछ देर बाहर की बातें सुनने के बाद मैं वापस अपने बिस्तर पर आकर लेट गया.

देसी सेक्स वीडियोस

तब उसने बोला- कोई बात नहीं, पर गिफ्ट तो तुम अभी भी मुझे दे सकते हो. मैं कुछ देर रुका रहा और उसकी चीखों को अनसुना करके अपने लंड पर चूत की गर्मी का मजा लेता रहा. अब क्या होगा? मेरी पिटाई होने में अब तो बस प्रिया‌ के जवाब देने की‌‌ ही देर थी.

मयूरी- थैंक्स माँ… पर पता नहीं वो दिन कब आएगा जब मुझे कोई आदमी अपने लंड से चोदेगा… आप तो बहुत भाग्यशाली हो माँ जो आपको पापा का लंड रोज़ मिलता है… मैंने आप दोनों को चुदाई करते हुए कई बार देखा है.

फिर वो धीरे धीरे नीचे जाने लगा, उसके ऐसा करने से मैं होश में ही ना रही, बस मैं पागल हो रही थी.

इतने में मैंने उनकी गर्दन पे एक किस कर दिया तो वो एकदम से दूर होके बोलीं- बेटा, ये क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- आप बहुत सुंदर लग रही हो. ह्म्म्म … आआह …!” एक मदभरी आनन्द भरी आह मीता के होंठों से निकली और तभी मैंने अपने कूल्हों को हरकत दी और मेरा लन्ड थोड़ा सा बाहर आ गया और चूत उसे अपने अंदर लेने की अभिलाषा लेने की आशा में फड़फड़ाती रह गयी. एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो कोलकातातभी मम्मी आयी और बताया कि आज सुबह पवन भैया कुछ दिनों के लिए गाँव गए हैं तो कुछ दिन नीचे रीना भाभी के पास सो जाना।मैंने कहा- भाभी सिर्फ पढ़ने को बोलती रहेगी।तो मम्मी बोली- मैंने उसको बोल दिया है कि ज्यादा पढ़ाई करने को न बोले तुझे!अब ठीक है!” मैंने सोचा कि बहुत अच्छा मौका है अब तो भाभी से सब कुछ पूछ लूँगा।तो मैंने हाँ कर दी।शाम को साढ़े 8 बजे मैं भाभी के पास अपनी किताबें लेकर पहुँच गया.

अब मैं अपने कॉलेज में अब ब्वॉयफ्रेंड के चक्कर में नहीं पड़ती थी और इस तरह की सब प्यार मोहब्बत से मेरा विश्वास खत्म हो गया था. मालती ने मेरी चूत पर हाथ रख कर कहा कि यह है असली चूत और अब तो इसका मनका (छूट का दाना) भी नजर आने लगा है, जिस पर लिखा है कि यही है स्वर्ग का दरवाजे का कुंडा. गुलाबी रंग के कुंवारी लड़कियों जैसे निप्पल और एक रुपये के सिक्के के साइज़ का हल्के गुलाबी रंग का एरोला, पतली कमर करीब.

प्रिया के जैसी ही छोटी सी मगर काफी फूली हुई चुत थी उसकी, जो कि छोटे छोटे काले घने बालों से भरी हुई थी. साथ साथ मैं अन्तर्वासना के एकवरिष्ठ और उत्कृष्ट लेखकश्री सुकांत शर्मा जी को भी धन्यवाद कहना चाहूँगा जिन्होंनेकामुक कहानी लिखने की कलानाम से एक लेख लिखा.

आज उनकी वजह से हम सबको यह सुख मिला था, तो हमने सोचा हम तीनों मिलकर उनको चाटेंगे.

थोड़ी देर तक पूजा मेरे लंड के सुपारे को खोलती और बंद करके खेलती रही. कोई और होता तो मेरी लालसा का लाभ उठाता और मेरी चूत और गांड दोनों फाड़ देता. मेरी चूत का पानी नमकीन था और मेरी मौसी का लड़का मेरी चूत को चाट कर मजा लिए जा रहा था.

सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी में चलने वाली मैं थोड़ा डर गया लेकिन फिर पूछा- बैंगन गांड में डालने से क्या मतलब है?मम्मी ने कहा- मुझे अच्छा लगता है. राज ने तीनों अंकल के पैर छुए और अंकित ने भी!जिनका घर था, उनके पास अंकित गया और बोला- अंकल जी, अब दरवाजा बंद कर दीजिए, कोई दिक्कत तो नहीं है?वे अंकल बोले- बिल्कुल कोई दिक्कत नहीं, मेरी बीवी और बेटी बहुत अन्दर सो रही हैं.

मेरे उठे हुए मम्मे और मेरी तोप सी तनी हुई गांड किसी भी मर्द को मेरी ओर आकृष्ट करने के लिए पर्याप्त हैं. इससे पहले की मौका हाथ से निकल जाता, मैंने सोचा क्यों ना गरम लोहे पे हथौड़ा मार दिया जाए. आशा करता हूँ आप लोगों को कहानी पसंद आएगी, थोड़ी लम्बी है क्योंकि जैसा जैसा मेरी ज़िन्दगी में हुआ वैसा वैसा ही मैं लिख रहा हूँ.

सिक्सी व्हिडीओ

फिर मैंने उन्हें अपने ऊपर लिया और हम थोड़ी देर इसी तरह एक दूसरे के ऊपर लेटे रहे. क्या करूं जाऊं या नहीं? जीजा बोलते हैं अभी चलते हैं खरीददारी हो जाएगी, बाजार रात तक रहता है. नीरू का और मेरा घर पास में ही थे, नीरू ने मुझे फोन किया- जीजू, सविता और मैं आपके यहां आना चाह रही हैं, मम्मी से कोई बहाना करके आ जाती हैं.

सच कहूं मुझे बहुत दर्द हो रहा था, जब वो मेरी चूची दबा रहा था मगर उस दर्द से कहीं ज्यादा मज़ा भी आ रहा था. उनके गहरे गले वाले कपड़ों से झांकते गोरे दूध देख कर मेरा लंड पूरा तनकर पेंट में तंबू बना देता था.

शिवानी फटाफट आयी, सोनू ने कहा कि धीरे धीरे ये बोतल से बियर अपनी मम्मी के लहंगे में डालती जाना.

उसकी जांघें भी कुछ ज्यादा ही भरी हुई व काफी सुडौल थीं, जिससे उसकी चुत दोनों जांघों के बीच बिल्कुल छुपी हुई थी. लड़की जब सेक्स की इस सिचुएशन में आ जाती है, तब उसे सम्हालना असंभव हो जाता है. नीता आंटी- दीदी, आज से हर फ्राइडे मैं यहीं सोया करूँगी क्योंकि मुझे हर शनिवार सुबह स्कूल जाना पड़ता है और घर से यहां आने में बहुत वक़्त जाया हो जाता है … इसीलिए मैंने सोचा कि आपसे पूछ लूँ … यदि आपको कोई दिक्कत न हो तो मैं ऐसा कर लूँ?मॉम- अरे पगली … ये कोई पूछने की बात है … तू यहीं रुका कर.

मैं तो एक दम जन्नत में था और कुछ मिनट बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. मेरी चुदाई की स्पीड और नेहा का दर्द देख कर रवि डर गया और कुछ देर बाद उसने अपनी वाली रंडी को चोदना बंद कर दिया. पूजा धीरे से मेरे कंधों पर से अपना सर उठाया और मुझे अपनी आधी बंद आंखों से देखते हुए मुझे तीन-चार चुम्मे दिए.

मेरी बातों को सुनते ही पूजा की आंख चमक उठी और मुझसे बोली- क्या फिर से करोगे.

बीएफ एचडी फिल्म दिखाओ: मैं कुछ दिन से अपनी वाइफ यूं ही छेड़ रहा था और जब भी वो सेक्स करने को कहती तो कुछ बहाना बना देता. चाची अपना चेहरा बिगाड़ बिगाड़ कर फांक में रगड़ मारते हुए लंड को देखने लगीं- क्या लंड है तेरा रे … कितना तगड़ा और गर्म लंड है तेरा.

मगर आज उसकी भीगी हुई चुत को छूते ही मेरा दिल अचानक उसे देखने‌ के‌ लिए बेताब हो गया. वो बोली- हां तेरी बात तो सही है, पर यार … सच में रोज नया लंड लेने बड़ा मजा आता है. इसके साथ ही दो धक्कों के बीच का अंतराल भी बढ़ता चला गया और एक पल ऐसा आया, जब माइक एक आखिरी धक्का मार अपने लिंग को तारा की योनि में स्थिर कर उसके ऊपर गिर कर निढाल हो गया.

भाभी की टांगें अब फ़ैलने लगी थीं, चुत पूरी खुल गई थी, पर अभी पैंटी से कवर थी.

मैंने अपनी चूत को उसके लंड पर रगड़ा तो वो कहने लगा- अब तू जितना गंदा हो सके गाली दे हम दोनों को … और जो मन पड़े … खूब बोल. सतीश ने बहुत सारा थूक निकाल कर मेरी गांड में लगाया और हिमांशु से बोला- तू अपना लंड या तो इसके मुँह में दे या तो इसकी चूत में डाल दे. पूर्वी- उस टाइम तक तो आप मेरे साथ रहोगे, तो डिनर कब करोगे?मैं- यहाँ से फ्री होने के बाद किसी होटल या रेस्टोरेंट में खा लूँगा.