हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी ब्लू फिल्म चोदते हुए

तस्वीर का शीर्षक ,

ایکس ایکس ایکس ویڈیو: हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ, बाद में मुझे याद आया कि मैंने शायद भाभी के होंठों को भी चूमने की कोशिश की थी.

तमन्ना सेक्सी व्हिडिओ

मैंने अपना एक हाथ भाभी के पेट के ऊपर से सरकाते हुए पहले नाभि में उंगली चलाई, फिर नीचे साड़ी में घुसेड़ कर चुत की ऊपरी हिस्से में घिसने लगा. राजस्थानी सेक्स देसी वीडियोअब ज्यादा फोरप्ले का समय तो मेरे पास था नहीं … तो मैंने मीनाक्षी की चूत में अपना किल्ला ठोक दिया.

अपनी किस न तोड़ते हुए मैंने हाथ पीछे ले जाकर उसकी ज़िप सरकानी शुरू कर दी. कुश्ती बीएफमैंने कहा- बेटा, हम लोग पंजाबी हैं, पंजाबियों की हर चीज बड़ी होती है, तुम्हारी चूत इसी साइज के लण्ड से संतुष्ट होगी.

उसके बूब्स भी बहुत छोटे छोटे नींबू के समान हैं … लेकिन देखने में वो किसी हीरोइन से कम नहीं लगती है.हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ: मैं तो अभी भी ख्यालों में ही था कि अचनाक से ऐसा लगा, जैसे किसी ने जन्नत के दरवाजे तक ले जाकर वापस कर दिया हो.

इतना बोल कर मम्मी सागर के गले लग गयी और सागर ने भी उनके अपने से चिपका लिया.जब भी वो छुट्टियों में आती तो मैं उसके लिए सैन्टर फ्रैश, सुपारी और चाकलेट लाता था और वो बहुत खुश होती थी.

सेक्सी वीडियो आज का ताजा - हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ

मैंने पूछा- कहां?वो बोली- जहां मन हो … वहां!मैंने पूछा- कॉलेज नहीं जाना?वो बोली- आज का दिन तुम्हारे लिए है … तुम कहीं भी ले जाओ, पर कॉलेज की छुट्टी के टाइम तक वापिस आ जाना.इस पर सुमन भाभी बोलीं- कोई बात नहीं … मेरे पास बहुत दूध है … वो भी ताज़ा.

सही में ये आकार इतना मस्त लगता है कि कोई भी उस तरह के शेप को देख कर मचल जाए. हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ मुझे मजा आने लगा, तो मैं आँख बंद करके पड़ी रही और चुत चुसाई का मज़ा लेने लगी.

हम रोज की तरह जो हमारे 4-5 दिन की दिनचर्या के अनुसार दूध निकाल कर लाये और फिर आज खाना खाकर और बच्चों को स्कूल छोड़ कर बाड़े गए … ताकि 5-6 घंटे आराम से तैर सकें.

हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ?

संजना आंटी का जिस वक्त चुत रस छूटता है, उस समय उनका पूरा बदन छटपटाती मछली जैसा कंपने लगता है. फिर मैंने मां की चुत पर तेल की बरसात से कर दी और अपने लंड को मालिश करके मां की चुत में अपना पूरा लंड पेल दिया. चाची के निप्पल एकदम से तन चुके थे जिनको मैं बीच बीच में दांतों से काट लेता था.

मौसी ने मुझे छाती पर चूमा, मेरी चूचियों के निप्पलों को चूसा और फिर पेट पर चूमा. दस मिनट तक लंड को चूसने के बाद ऐसा लगने लगा कि मैं अब ज्यादा देर नहीं टिक पाऊंगा. अब दीदी भी पूरी गर्म हो गई थीं, तो दीदी ने उठ कर उसका लंड पकड़ लिया.

मैं दिखने में औसत हूँ, उम्र 27 साल है, रंग गोरा है और हाइट 5 फुट 8 इंच है. फिर मैंने भी लड़की की जीन्स को उतार कर उसको पूरी तरह से नंगी कर दिया. मुझे बहुत ज्यादा अच्छा फील हो रहा था ऐसा लग रहा था मानो मैं जन्नत में हूं।मैं उसकी सलवार को पूरा उतार कर उसकी चूत को देखने लगा.

अब उसने मेरी तरफ हवस भरी नजर से देखा और बदले में मुझे भी किस कर दिया. फिर मैंने उसके अन्दर से अपना लंड निकाला और कंडोम हटा कर नीचे डाल दिया.

लंड उसकी चूत में था और उसकी चूत की गर्मी से लंड को जो सुकून मिल रहा था वो शब्दों में बयां किया ही नहीं जा सकता.

अब तक मैं अपने घर से बहुत आगे निकल आया था और सर का घर पास ही में था.

उसकी चूत को पांच-सात मिनट तक चाटने के बाद जब उससे रहा न गया तो वो बोली- बस करो मैडी … आह्ह … मेरी जान निकलने वाली है, जल्दी से कुछ करो, मैं और बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं. हमने एक लम्बा स्मूच किया और फिर अलग हो गये।वो बोली- तेरा स्टेमिना तो बहुत अच्छा है. मैंने भाभी से इतना सज धज कर आने का कारण पूछा, तो उन्होंने बताया कि शादी में जा रही हूं, मैं ऐसा अपने पति को बोल कर आई हूं … और वैसे भी आज हमारी सुहागरात तो है ही.

आज इसके हुस्न के गहरे समुन्दर में गोता लगा ही लूंगा और यदि चारू ने कोई आनाकानी की तो सॉरी बोलकर माफी मांग लूंगा. अब आप ही बताओ मम्मी मैं उस घर में कैसे खुश रह सकती हूँ?मैं उसकी बात सुन रही थी. उसके बाद मॉम ने अंकल का अंडरवियर नीचे खींच दिया और अंकल अपने लंड को हाथ में लेकर मॉम की चूत पर फिराने लगे.

कुछ समय बाद हम दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए बहुत ही ज्यादा बेताब हो गए थे.

मैं बस उसे ही देखने में खो सा गया तो उसने फिर से बोला- हम्म … मैंने कहा पापा जी आपको बुला रहे हैं. कमरे में आते ही सबसे पहले भाभी ने मुझे वह गोली खिला दी और उन्होंने भी खुद एक गोली खा ली. उसके ऊपर वाले होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच में दबा कर कसके चूमा.

अगले दिन शनिवार था … तो इस वीकेंड को मैंने पुरी जाने का प्लान बनाया. जैसे ही मैंने भाभी के घर की घंटी बजायी, तो सलोनी भाभी ने दरवाज़ा खोल दिया. साथ ही महिला पाठकों की जानकारी के लिए लिख रहा हूँ कि मेरा औजार भी अच्छा खासा है.

उसका कमरा काफी बड़ा था, कमरे के ठीक बीचों-बीच एक राउंड डबलबेड था और चारों तरफ सब कुछ अच्छे से सजाकर रखा हुआ था.

हम दोनों ने 3 दिन तक चुदाई में क्या क्या मस्ती की, वो भी आपको लिखूंगा. थोड़ी देर में ही शनाज़ को नींद आ गई क्योंकि दिन भर की दौड़धूप से वह थकी हुई थी.

हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ फिर भाभी ने मुझे साइड में किया और उन्होंने अपनी गांड के नीचे दूसरा तकिया रख दिया. मुझे पता नहीं था कि मौसी कैसे प्रतिक्रिया देगी लेकिन फिर उसने मेरे चेहरे की हवस को देखा और अपना मुंह खोलकर मेरे लंड को अंदर ले लिया.

हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ सुबह जब शकील जाने को हुआ तो अम्मी ने शकील से कहा- सुनीता, तुम्हें एक बार बात करने के लिए अंदर बुला रही है. चूत लंड में तेल लगा के होने के कारण मेरा लंड एकदम से मां की चुत में घुसता चला गया.

मैंने गिना तो नहीं लेकिन जब भी हम दोनों को मौका मिलता है … हम दोनों चाची के घर पर या ऐसे ही किसी होटल में चुदाई का मजा ले लेते हैं.

हिंदी बीएफ फिल्में दिखाएं

मैंने एक ज़ोर से धक्का दिया, तो मेरा लंड पूरा अन्दर तक घुसता चला गया. निशा भाभी- क्यों क्या करना है!मैं- मैं आपका हाथ पकड़ कर गियर डालना सिखाता हूँ. लेकिन उस निर्मोही को मेरे ऊपर जरा सा भी तरस नहीं आया बल्कि अपना पूरा लंड मेरी चूत से नहीं निकाला और शनाया से मेरे मुँह पर पानी मरवाक़े मुझे होश में लाया कुछ देर रुकने के बाद धीरे धीरे अपने लंड को आगे पीछे करके हिलाने लगा.

इतने में पिंकी भी उठी और उसने अपनी कमीज को उतार कर वो भी ऊपर से नंगी हो गयी. मेरी पहली सेक्स कहानी है हरियाणवी चुदाई की, इससे पहले मैंने कोई भी कहानी लिखी नहीं है, अगर मुझसे कोई गलती हो जाए तो प्लीज़ नजर अंदाज कर दीजिएगा. शुरू में चिट्ठी में रोमांटिक बातें होती थी लेकिन धीरे धीरे अश्लील और गंदी बातें लिखने लगे.

ज़ोहरा के निकाह के बाद पिछले 6 साल में वो बीसियों बार अपने शौहर रफ़ीक़ के लंड का रस अपनी बच्चेदानी में ले चुकी थी.

जब मैं कभी उन आंटी के घर की तरफ गया, तो वो घर की खिड़की से मुझे देख कर मुस्कुरा देती थीं. उन्होंने बताया कि अचानक उनके पिता जी की तबियत काफ़ी खराब हो गयी तो उन्हें दखभाल के लिए गांव जाना पड़ा. कुछ देर तक मेरी फुद्दी पेलने के बाद संजय अंकल ने मुझसे गांड मरवाने को कहा, तो मैं फ़ौरन मान गयी.

रास्ते में एक मेडिकल शॉप दिखाई दी तो मैंने शॉप के बाहर गाडी़ रोक दी. मजा आ जायेगा।उसने हंसकर मेरे गाल पर एक चांटा मार दिया और बोली- बहुत कमीना हो गया है तू!मैंने कहा- तेरे बिना तो मैं कुछ नहीं जान … शिल्पी से कर न बात?वो बोली- ठीक है कमीने, मैं कुछ करती हूं. मेरी अम्मी की सहेली ने उनको बताया कि उसका पति ठीक से चुदाई नहीं कर पाता तो उसको बच्चा नहीं हो रहा.

बाहर से मेरे शौहर की आवाज आई- डेजी अंदर हो क्या?मैं दरवाजा खोलने को हुई तो नीरज ने हाथ पकड़ लिया और इशारा करने लगा कि दरवाजा न खोलूं. मैं भी ननदोई जी का साथ देने लगी और वे मेरे मम्मे दबाने लगे।वो सलवार के ऊपर से ही मेरी चूत दबाने लगे और मैंने उनका लण्ड पकड़ा हुआ था.

फिर मैं एक तरफ जाकर योगा करने लगा, तो थोड़ी देर बाद वो भी मेरे सामने आकर योगा करने लगी. पहले अंकल ने सुपारा मेरी गांड के छेद में फंसाया, तो मेरी आंखें फटने लगीं. मैंने बोला- भाभी मैं कॉलबॉय नहीं हूँ … वैसे कहिए आपकी क्या फरमाइश है?भाभी बोलीं- पहले खाना खा लो, मुझे भी खाना है.

आंटी- अरे ऐसे क्या देख रहे हो … इन्हें छूना नहीं चाहोगे?ये कहते हुए आंटी ने मेरा एक हाथ अपने स्तन पर रख दिया और बोलीं- आज मुझे खूब मजा कराओ मेरे राजा.

उनके लंड की गरम धार से मुझे बड़ी राहत मिली और मैं उन्हें किस करने लगा. मैंने उनसे बोला कि हम इसके बाकी दो तरफ एक मोटे कपड़े से पर्दे बना देंगे, तो आड़ हो जाएगी. मैं चारू के इस रूप को देखकर अत्यंत ही विस्मित था।होंठ से होंठ, छाती से छाती … एक दूसरे में जैसे समा जाने के लिए तत्पर थे हम!हम दोनों प्रेमी युगल एक बार फिर से एक दूसरे को चूमने चाटने में व्यस्त हो गये थे.

थोड़ी देर मनाने के बाद आख़िरकार मेरा लंड मुँह में लेने को मॉम तैयार हो गईं. लेकिन मैंने उसको अपने बांहों में भर लिया ज़ोर ज़ोर से उसके होंठों को चूमने लगा.

दोस्तो, हो सकता है कि आपको मेरी इस पहली सेक्स कहानी में सेक्स कम मिले, लेकिन ये मेरी सच्ची कहानी है. क़रीब 2 साल बाद फूफा जी बीमार रहने लगे इस वजह से फूफा कम आते थे लेकिन उनका बेटा शकील आता रहता था और मैं उनकी सारी बात रिकॉर्ड से सुनता था. अब मेरा लौड़ा सटासट सटासट अंदर बाहर करने लगा।20 मिनट बाद मैंने उसे बिस्तर पर सीधा लिटा दिया और उसकी चूत के अंदर लंड घुसा दिया और गपागप गपागप चोदने लगा।अब चूत लंड का जवाब देने लगी थी और आहह आहह ऊईई ऊईई करके वो अपनी क़मर चलाने लगी थी।उसकी आवाज तेज हो गई और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

दुल्हन का बीएफ वीडियो

मैं हंस दिया और उसे अपने साथ लेकर उसके रूम तक छोड़ने के लिए चल दिया.

मैं भी हवशी हो गया था और अब शर्म खत्म होने लगी थी और हवस हावी हो रही थी. इस पोजीशन में झुके झुके अवनीत को दिक्कत होने लगी तो उसने अपने हाथ मेज से हटाकर कुर्सी पर रख दिये जिसके कारण वो और ज्यादा झुक गई. फिर मैंने जल्दी जल्दी दो तीन धक्के और मारकर अपना पूरा लंड उसकी चुत में पेल दिया.

मैं ये सब देखकर हैरान था कि एक अजनबी के सामने माधवी भाभी ने ये सब बिना किसी डर के सामने रख दिया था. कुछ देर बाद अंकल ने अकड़ते हुए एक तेज धक्के के साथ अपना लंड मॉम में मुँह में अड़ा दिया और आह की आवाज करते हुए वो मॉम के मुँह में झड़ गए उन्होंने अपना वीर्य मॉम के मुँह में डाल दिया था. रंडी सेक्स मूवीआज उसने एक अलग जोश में मुझे आफिस में चोदा जिससे मेरी हालत खराब हो गई.

लंड को चूत पर रखने के बाद मैंने उसकी चूत में लंड को धकेला लेकिन लंड फिसल गया. भाई ने मेरा एक हाथ उठा कर अपने लंड पर रख लिया … और मुझसे करीब होकर लेट गया.

मैंने बड़ी बुआ की चूत चाटनी शुरू की और छोटी बुआ अब मेरा लंड मजे से मुँह में लेने लगीं. शिल्पी बाहर से ही बोली- कमरे में सामान रख लिया हो तो खाना खाने आ जाओ. हम दोनों एक दूसरे के ऊपर लेटे हुए थे, वो पूरी नग्न थी, सिर्फ एक पैंटी पहनी हुई थी.

मैंने उसकी गांड ऊपर करके कस कस के 20 मिनट तक धकापेल चुदायी की और इसके बाद सारा माल उसकी चूत में ही निकाल दिया. मुझे नहीं पता कि उसको कुछ पता चलता था या नहीं लेकिन कभी मैंने उसके चेहरे पर कोई रिएक्शन नहीं देखा. अम्मी उनका लंड पजामे के ऊपर से ही सहलाने लगीं और फूफा जी अम्मी के चूतड़ों को मसलने लगे.

माँ ने अपनी गांड को थोड़ा उचकाया, जिससे उनकी गांड का छेद मुझे दिख जाए.

बाहर से मेरे शौहर की आवाज आई- डेजी अंदर हो क्या?मैं दरवाजा खोलने को हुई तो नीरज ने हाथ पकड़ लिया और इशारा करने लगा कि दरवाजा न खोलूं. अंकल- अरे मैं हूँ ना … तो अकेलापन क्यों!मॉम- आप क्या कीजिएगा?अंकल- आपकी सेवा.

फिर मैंने दो उंगलियों को अन्दर डाला, तो उसकी आंखों में दर्द का अहसास झलका, लेकिन वो उंगलियों का मजा लेती रही. भाभी तो खुशी के मारे चिल्ला रही थीं- अआहाह … ओहहहो … उईईईई और चूसो … आह खा जाओ इस निगोड़ी चुत को. इतना भरा फिगर होने के बाद भी मम्मी अभी भी बहुत सेक्सी साड़ी बहुत सेक्सी तरीके से पहनती हैं।मेरी मामी भी हमारे साथ रहती है और उनका फिगर 36-22-36 का है.

मेरा एक हाथ उसकी चूची पर जाकर हरकत करने लगा जिससे उसकी आह निकल गयी और वो और ज़्यादा उत्तेजित हो गयी. उसके साथ मैंने और क्या क्या किया वो सब मैं आप लोगों को फिर कभी बताऊंगा. लेकिन इससे ज्यादा कुछ नहीं होता था और न ही इससे आगे बढ़ने की कभी हिम्मत हुई.

हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ मैं उसे एक बार दुबारा देखना चाहता था, इसलिए कार से उतर कर अर्चना भाभी से इधर उधर की बातें करने लगा. और मैं वहां से अपने क्लास चली आयी।वैसे तो मैंने अब तक तीन लड़कों से बात की थी.

बीएफ चैनल सेक्सी

चारू हंसते हुए बोली- क्या नाम रखें फिर आपका?मैं- दीवाना …ये सुनकर वो जोर जोर से हंसने लगी।इस प्रकार मेरा और चारू का हंसी मजाक होता रहता. इतनी चिकनी चूत होने के बादजूद लण्ड आधा ही घुसा लेकिन मेघा ऐसे चीखी मानो किसी हाथी का लण्ड घुस गया हो उसकी चूत के अन्दर।मैंने किस करते हुए उसकी आवाज रोकी और चोदना जारी रखा. अब तो रोज दोपहर को तेरे दूध चूसने हैं अब तो मैं तुम्हें सिर्फ़ नंगी करके ही गाड़ी चलाने दूंगा.

अब चिकनाई की वजह से मेरा लंड सरलता से अन्दर बाहर हो रहा था और पूरे रूम में फच फच की आवाज आ रही थीं. मेरे बाद माधवी भाभी बाथरूम में गईं और नहा धोकर सब गहने पहन कर वापस आ गईं. सेक्स पिच्चरमैंने जैसे ही नज़र नीचे झुकाई, प्रिया भाभी ने मुझे मेरी कॉलर पकड़ कर मुझे अपनी ओर खींचा और मुझे किस करते हुए लात मार कर दरवाज़ा बंद कर दिया.

पूरे 6 महीने बाद मैं घर जा रहा हूँ, तो पिछले 6-7 महीने से सेक्स नहीं किया है.

नवम्बर महीने की बात है, मां की तबीयत खराब हो गई थी, तो खाना बनाने के लिए और मम्मी की देखभाल करने के लिए खुशबू को यहाँ आना पड़ा. कुछ देर बाद मुझे कुछ आराम हुआ, तो सर ने अचानक से एकदम झटका देते हुए लंड को अन्दर ठेला.

इतना कह कर मैं वैशाली भाभी के दोनों चूचों को अपने हाथों में लेकर दबाने लगा, उनके मुँह पर किस करने लगा. मैंने उसको समझाया कि देखो इस चीज़ से सबसे ज़्यादा मुझे दिक्कत होनी चाहिए, जो कि मुझे नहीं है. वो झुक कर कुछ काम कर रही थीं, जिससे उनका पल्लू गिरा हुआ था और उनके चुस्त ब्लाउज से उनकी आधी से ज्यादा चूचियां मुझे दिख रही थीं.

मेरी माँ मना कर रही थी; माँ कह रही थी- मत करो ना … यार अब हम कुछ नहीं कर सकते, मेरे बेटा घर पर है। अब तुम जाओ, तुम कल आ जाना, तब हम दोनों पूरी मस्ती करेंगे.

साथ ही साथ मैं अपने दोनों हाथों को उसके बगल से ले जाकर फिर से उसके मम्मों को मसलने लगा. इतने में ही पीछे से उस मादरचोद अजीम ने ढेर सारा थूक निकाला और अपनी उंगली से थूक अंदर लगाते हुए अपनी उंगली को मेरी गांड में आगे पीछे लगा।पहले एक उंगली, फिर दो और फिर बाद में तीन उँगलियाँ मेरी गाँड में डालकर उसने मेरी कोमल सी गांड का भोसड़ा बना दिया। थोड़ा सा दर्द हो रहा था तीन उँगलियाँ जाने से और मुँह में समीर ताबड़तोड़ लंड पेल रहा रहा था. फिर शांता बर्तन धोने के लिए चली गयी और मैं सोने के लिए चला गया।अभी तो रात बाकी थी.

सऊदी अरब बीएफचाची ने मेरे लंड पर हाथ रख दिया और मैंने उसकी गांड पर हाथों को दबा दिया. ट्रेन आई तो संजय अंकल के दोस्त आगे बैठ गए और पीछे की सीट पर पहले तनिष्क, फिर मैं और मेरी फ्रेंड, उसके बगल में आंटी बैठ गईं.

यूपी बीएफ एचडी

वो पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को सहलाने लगे।अब वो गर्म हो गई और मुंह से हल्की सी आह्ह निकल गई. मेरे लंड को देख कर चाची के मुंह से सहसा ही निकल गया- आह्ह … तू तो सच में बहुत बड़ा हो गया है रे … ऐसा लंड तो मैंने अपनी जिन्दगी में आज तक नहीं देखा है. खुश इसलिए था कि मेरे आगे भी लड़कियां थीं और मेरे साइड में भी लड़कियां थीं.

वो पागल हो उठी, पर बंधी होने के कारण कुछ कर नहीं पा रही थी, सिर्फ छटपटा रही थी. उसने मेरे पांव छुए, तो मैंने कहा- सदा मुझसे अपनी गांड-चुत मरवाती रहना और मेरा लंड तेरे मुँह में रहे. पहले तो मेरी बीवी ने राजीव को अपने पास देखा तो बहुत डर गई और वो सकते में आ गई.

बहन की चूत, साफ साफ क्यों नहीं बता रही कि गोली तुझे ही चाहिए है खाने के लिए! चौधरी साहब ने भी न जाने क्या खाकर बेटी पैदा की है कि जन्नत की हूर हो गई है. मैं चारू के इस रूप को देखकर अत्यंत ही विस्मित था।होंठ से होंठ, छाती से छाती … एक दूसरे में जैसे समा जाने के लिए तत्पर थे हम!हम दोनों प्रेमी युगल एक बार फिर से एक दूसरे को चूमने चाटने में व्यस्त हो गये थे. कुछ देर बाद भाभी ने अगले रविवार को जिस होटल में मैं और चाची रुके थे, उसी होटल में रूम बुक कर दिया.

उसकी ससुराल में सब बहुत खुश हैं और उसका पति भी उसे खूब प्यार दे रहा है।वो बोली- राज तुम मेरी जिंदगी में खुशियां लेकर आए।दोस्तो, मेरी भाभी सुहागरात कहानी पसंद आयी होगी. तो क्या ज़ोहरा आपा ने जानबूझकर …?तभी शनाज़ दोबारा छत पर आई और मेरे पास आकर बोली- आज मैं आपा को पहले ही दूसरे कमरे में सोने के लिये कह दूंगी.

वैसे मुझे श्रुति भाभी ने पहले ही बता दिया था कि आप मुझे बुलाने वाली हो!भाभी बोली- कोई बात नहीं!और भाभी ने मुझे तारीख बतायी कि किस दिन आना है.

उन दिनों मैं अपने मोहल्ले में रहने वाली एक लड़की को ट्यूशन पढ़ाने जाता था. सेक्स सेक्स चाहिएइसी कारण मैं भी नई-नई हसीनाओं, भाभियों व आंटियों की चूत का दीवाना रहता हूं. एक्स एक्स एक्स बीएफ सनी लियोन काफिर उन्होंने मेरे सिर को पकड़ लिया और जोर से लंड को अंदर घुसाने लगे. उन्होंने मेरे लन्ड को जोर से पकड़ा और उनकी चूत के मुंह के सामने रख दिया और कहा- प्यारे भांजे … अपनी मामी की आग और मत भड़काओ … अपने इस गर्म हथियार को मेरे बदन के अंदर डाल दो और अपनी मामी की प्यास बुझा दो।मैंने मामी की बात पर हामी भरते हुए उनकी चूत में लन्ड को डाल दिया जिसकी वजह से उनकी हल्की सी चीख निकल गई.

मैंने धीरे से आंखें खोल कर देखा, तो वो बाथरूम से केवल एक अंडरवियर में बाहर आ गया था.

मकानमालिक की बेटी से मेरी दोस्ती हो गयी थी लेकिन बात आगे नहीं बढ़ी थी. जब मैं कॉलेज में प्रथम वर्ष में था तो जया अपनी बारहवीं पास करने वाली थी. मुझे समझ नहीं आया कि उसने ऐसा क्यों किया मगर मैंने उम्मीद न खोते हुए एक बार फिर प्रयास करना शुरू किया.

जब अज़ीम ने हाथ निकाल कर अपना लंड डाला तो कुछ आराम मिला। फिर वह दोनों बहुत जोश में आ गये. अब उधर अंकल मॉम की गांड में उंगली आगे पीछे करने में लगे थे और इधर मॉम अंकल का लंड चूसती रहीं. मैंने उसे बिस्तर पर लेटाया और अपना नाड़ा खोल कर लण्ड पर थूक लगा कर अपना सुपारा उसकी चूत में पेल दिया.

बीएफ हिंदी में भाभी की चुदाई

और परीक्षा केन्द्र भी मेरे ससुराल वाले शहर यानि मेरी पत्नी के मायके में ही था। मेरी पत्नी की परीक्षा 15-16 दिन तक चलनी थी. ज़ोहरा ने कुछ नींद और कुछ होश में सोचा कि शायद यह मजार पर दुआ करने के कारण हो रहा है. आप कहानी के नीचे दिये गये कमेंट् बॉक्स में भी अपनी बात लिख सकते हैं.

इस बार मैंने लंड पर थोड़ा ज्यादा सा थूक लगाया और फिर से धक्का दे मारा.

वो बोलीं- अब नहीं बर्दाश्त होता जी … चोद दो मुझे … चोद कर फाड़ दो अपनी सोनाक्षी की चूत.

मेरे लंड को देख कर चाची के मुंह से सहसा ही निकल गया- आह्ह … तू तो सच में बहुत बड़ा हो गया है रे … ऐसा लंड तो मैंने अपनी जिन्दगी में आज तक नहीं देखा है. हमने सोचा था कि घर में कोई नहीं है तो हमें चिंता की कोई बात नहीं है. हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफमेरे तो मुंह में पानी आ गया उनको नीचे से नंगा देखकर।चाचा ने मुझे उनको घूरते हुए देख लिया.

उनकी नाभि में किस करते हुए ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं गुलाब के फूल को चूसने का मजा ले रहा हूँ. इसलिए मैं धीरे धीरे उसके निकट जाने लगा था और वो भी मुझसे अब खुल के बातें करने लगी थी. फिर चारू कातिल मुस्कान लिये मेरी ओर देखती हुई, अपनी मखमली गांड को हिलाते हुए, चाय बनाने के लिए किचन में चली गयी.

ननदोई जी का मोटा लंड उनकी चूत में फंसा था।उसके बाद तेजी के साथ धक्के लगाने शुरू कर दिये. मेरे घर में मेरे अलावा मेरी मम्मी है जिनका नाम सुधा सक्सेना है। इनका फिगर 34D-30-46 है।मम्मी की उम्र अभी 40 की है लेकिन अभी भी वो एकदम माल है.

अभी तक मैंने अपनी बीवी शनाज़ से बीती रात की घमासान चुदाई पर बात नहीं की थी.

अब मेरा लण्ड भी पिचकारी छोड़ने वाला था तो मैंने पूछा- ज्योति कहाँ गिराऊं माल को?भाभी भी पूरी तरह दूसरे राऊंड के मजे ले रही थी और बोली- राजू अंदर ही डालना, बाहर नहीं निकालना है। मेरी चूत की प्यास बहुत बड़ी है. इशा- आह जीजा आराम से … क्या मार ही डालोगे … पूरे जानवर हो … मुझे फंसा ही लिया. इस बीच मैंने लगभग रोज ननदोई जी से चुदाई करवायी क्योंकि ननद रोज टहलने जाया करतीं थीं.

हिंदी बीएफ सेक्सी पिक्चर वीडियो में मगर फिर भी हम किसी न किसी तरह से चुदाई की जगह और समय निकाल ही लेते थे. उन्होंने मेरे सामने ही अलमारी खोल दी और अपने सब गहने मेरे सामने रख दिए.

चूंकि चाची ने साड़ी पहनी थी इसलिए चूत को हाथ सही से नहीं महसूस कर पा रहा था. गांड मरवाने की कहानी में पढ़ें कि जवान होते ही मेरी गांड में खुजली होने लगी थी. मैंने उसकी नहीं सुनी और पूरा लंड चुत में अन्दर ही डाल दिया और रुक गया.

बीएफ वडियो

काश तुम मुझे पहले मिले होते! आह चोदो और जोर से चोदो! फाड़ दो मेरी गांड!और मैं अपनी स्पीड बढ़ाता गया. उसकी गांड का छेद खुला हुआ ही था, तो उंगली घुसाने में मुझे कोई खास तकलीफ नहीं हुई. राजीव- कुछ नहीं होगा मेरी जान … विशाल नशे में सो रहा है, उसे कौन बताएगा.

मैंने उसका हाथ अपने लौड़े पर रख दिया और कहा- ये वाला?उसने मुझे चूमते हुए हां कह दिया. तो मैं निढाल होकर बेड पर लेट गई और अपने बदन को टाइट करके उसके धक्कों का सामना करने लगी.

उसने मेरा लंड फिर से चूसना शुरू कर दिया … इससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने मां की जांघों पर तेल टपकाया और जांघों पर मल कर मालिश करने लगा. थोड़ी देर की मेहनत और मॉम की आंखों से निकले आंसू के बाद आखिरकार मेरा लंड अन्दर चला ही गया. फूफा और शकील को दोनों को नहीं पता था कि उनका अकाउंट एक ही बैंक में है.

मैं अपनी आपा की चूत ऐसे चाटने लगा जैसे प्यासा कुत्ता अपनी जीभ से लपर लपर पानी पीता है. फिर मुझे नीची आवाज़ में बोली- मेरे जानू, जब भी मुझे टाइम मिलेगा तो मैं तुम्हें कॉल कर दूँगी. रानी की चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मगर तभी पिंकी ने रानी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया.

भाभी की मोटी गोल गांड की वजह से इस स्टाइल में चुदाई करने में हम दोनों को बहुत मजा आ रहा था.

हिंदी पिक्चर दिखाएं बीएफ: रास्ते में भाभी ने मेडिकल स्टोर पर बाइक रोकने को कहा और वह खुद मेडिकल स्टोर पर जाकर लंबे समय तक सेक्स करने वाली गोलियां खरीद लाईं. मैंने पार्क में थोड़ी एक्सरसाईज की और पार्क के दो तीन चक्कर धीरे-धीरे दौड़कर लगाये.

[emailprotected]मेरी न्यू अन्तर्वासना स्टोरी का अगला भाग:मेरे चोदू यार का लंड घर में सभी के लिए- 2. इस बारे में ज्यादा कुछ न बोल कर वो फिर से लंड अन्दर लेकर जोर जोर से चूसने लगी. उसके बाद मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसकी चूचियों को दबाते हुए पीने लगा.

उसके बाद घर में और ज्यादा दुःख का माहौल हो गया।मैं दफ्तर में गया और सब जानने की कोशिश की.

मैंने उनको एक गाल पर किस करते हुए कहा- आज तो अलग ही मूड है क्या?मैं उनके लन्ड को सहलाने लगी. थोड़ी देर किस करने के बाद हमसे रहा नहीं गया और हम अपने कमरे के तरफ चल पड़े. फिर एक दिन क्लास में कुसुम को छेड़ते हुए मेरा हाथ उसके मम्मों में जोर से लगा गया.