सी बीएफ पंजाबी

छवि स्रोत,बीएफ भेजिए बीएफ फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ पिक्चर चलाओ: सी बीएफ पंजाबी, तभी पीछे से रवि ने मेरी गांड को पकड़ा और मेरी गांड के छेद पर लंड लगाकर ठूंस दिया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ जबरदस्ती वाला

मेरी कहानियों के बीच में इतना लम्बा अन्तराल आने के लिए मैं आपसे क्षमा चाहता हूं. हिंदी बीएफ दिखाइए हिंदी बीएफ हिंदी बीएफफिर उसने अपनी गांड मेरे मुंह पर लगा दी और मैं उसकी गांड की खुशबू में खो गया.

वो नींद में ही कुनमुनाती हुई बोली- सोने दो ना!मैंने उसको सहलाते हुए चाटना शुरू कर दिया. ऐश्वर्या राय का बीएफ वीडियोमैंने किस करते करते ही फिर से विपिन का लंड पकड़ लिया और उसको हाथ से ऊपर नीचे करके सहलाने लगी.

मेरी चूचियां मेरी साड़ी के ऊपर नंगी तनी हुई थीं और वो दोनों उनको उनके चार हाथों से मसलने में लगे हुए थे.सी बीएफ पंजाबी: रेशमा की छटपटाहट से और उसकी तंग चूत से ये साबित हो रहा था कि आज पहली बार रेशमा की चूत बड़ा लंड लेकर चुदवा रही थी.

थोड़ी देर बाद मैंने उनकी आंखों में झांका तो अंकल का ब्लडप्रेशर हाई हो गया था, लंड वापस खड़ा होने की गुंजाइश नहीं दिख रही थी.मुझे आपके प्यार भरे मेल मिले, जिसके लिए आपका राज दिल से धन्यवाद करता है.

सेक्सी बीएफ फॉरेन - सी बीएफ पंजाबी

मैंने पूछा- कितनी बार चोद चुके हो उसे?भूरा- अरे सर, एक दिन शाम को वह बकरियां बाड़े में बंद करने जा रही थी.इस तरह से अचानक से हाथ रख देने से भाभी थोड़ा चौंक गईं और धीमे से बोलीं- क्या कर रहे हो?मैंने भी कहा- क्या भाभी अब मुझसे क्या शर्माना … और वैसे भी मुझसे आपका दर्द देखा नहीं जाता है.

”मैंने अपने बैग में से बियर के दो कैन निकाले और सोनल से गिलास लाने के लिए कहा. सी बीएफ पंजाबी मैंने आंखों का इशारा किया तो वो शर्म से लाल हो गयी और आगे देखने लगी.

मम्मों पर उसका पारदर्शी दुपट्टा जो उसके डीप गले को ढकने की नाकाम कोशिश कर रहा था.

सी बीएफ पंजाबी?

जिसे देख चाची मेरे लंड को पकड़ कर हंसने लगीं और बोलीं- ये तो फिर से खड़ा हो गया … खैर, इसे मैं अभी ढीला कर देती हूँ. मुझे मालूम था कि ऐसी तंग चूत को खोलने के लिए एक जोरदार प्रहार की जरूरत है और उसकी चीख इस प्रहार से जरूर निकलेगी. मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और लुंगी लपेटकर मामी के पीछे लेट गया.

मैंने उसकी टांगों और चूत के बीच के भाग से चाटना शुरू किया और पहले पूरे चूत के एरिया को चाटा. ये सुनकर वो थोड़ा डर गई और बोली- अब कैसे पता चलेगा कि वो क्या चाहता है … और हम उसे दूर कैसे कर सकेंगे?मैंने कहा- आप चिंता मत करो, मैं हूँ न. वो मां की चूचियों को दबाते हुए बोला- इतनी बड़ी चूची तो पूरे मुहल्ले में किसी की नहीं होगी.

तुम बताओ की क्या वो रह पाएगा?अनन्या- तो क्या आप उससे पूछती नहीं हैं?मैं- हां, जब पूछो तो यही कहेगा कि तुम्हारी कसम मैंने आज तक किसी और की तरफ नजर ही नहीं डाली, चुत की तो बात ही छोड़ो. उसने कहा- ये तो तुम्हारा भाई है न!मैंने कहा- हां दुनिया की नजरों में, मगर मेरी नजरों में वो मेरा चोदू सईयां है. अब उन्होंने मेरे लोअर के अन्दर हाथ डालकर मेरे लंड को दबाया और उसे आगे पीछे करने लगीं.

वो भी मुस्कुराते हुए मेरी पास आई, तो मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपनी गोद में बिठा लिया. थोड़ी देर के बाद उन्होंने कसके शॉट मारा, तो तेल की वजह से लंड का सुपारा गांड की गहराई में चला गया.

थोड़ी देर बाद उठकर ललिता भाभी को सीधा लिटा दिया और मैं उसके ऊपर लेट गया.

तो मैंने उनसे कहा कि मेरी उसी सहेली की बहन का इधर कुछ काम है और वो हमारे यहां दो दिन ठहरना चाहती है … तो क्या मैं उसे तभी बुला लूं?पति ने उसके बारे में मुझसे पूछा.

तुम्हें सब मालूम है कि औरतों की कौन सी जगह छेड़ने से औरत गर्मा जाती है. उसके गोल मटोल गदराए हुए मम्मे उसके ब्लाउज से थोड़े बाहर निकले हुए थे. वो चुत चाटने की बोली, तो मैंने फिर से उसे अपने मुँह पर ले लिया और उसकी चूत चाटने लगा.

मैंने अपने तने हुए लिंग को नारियल के तेल में डुबोकर लिंगमुण्ड उसकी गुदाद्वार पर रखा।वो शायद इस हमले से अंजान थी. उसी समय मैंने अपनी जीभ को नुकीला किया और उसकी चुत की फांकों के बीच ठेल दी. इस आवाज को सुनकर मैं फिर मन में ही खुद से बोला- अबे यार … ये साला घर से बाहर निकलते टाइम क्यों टोकता है.

बुआ ने मेरे लंड को मुँह में लेते हुए कहा- आह इतने बड़े लंड को मैं कबसे अपने चूत में लेना चाहती थी.

हम शाम के 5:00 बजे ट्रेन में बैठे और हम दोनों ने सेकंड एसी में टिकट बुक की थी. रचना हंसकर बोली- बेबी, अब चुदाई के दिन ही देखेंगे तुम्हारे नीचे साँप है या चूहा. अंदर मैंने क्या नजारा देखा … आप भी जानें।दोस्तो, कैसे हो सब? मैं आपको अपनी पैसे की मजबूरी में हुई घटना के बारे में बता रहा था.

कुछ देर की चुसाई के बाद प्रियंका ने थोड़ी चॉकलेट अपने चूचों में गिरा दी और अनामिका के ऊपर पलट कर बैठ गई. फिर उसको घोड़ी बनने को बोला तो वो तुरंत बन गयी।बाप रे … घोड़ी बनते ही उसके माँसल नितंब और बड़े लगने लगे. अदिति मेरे होंठों को चूमती हुई बोली- हर्षद, अब डाल दो अपना लंड मेरी चूत में.

शायरा के लिए ये एक बड़ा झटका था, इसलिए उसकी आंखों में आंसू भर आए थे.

संजू ने उस गिफ्ट को खोला तो उसमें एक हीरा की अंगूठी थी, जिसे मैंने बाद में देखा, तो 3. मैं उसके गालों पर किस करने को जैसे ही पास गया, उसने मुँह पीछे कर दिया और हमारे होंठ एक दूसरे से मिल गए.

सी बीएफ पंजाबी जब मेरी शादी हुई थी तो मुझे लगा मेरी बीवी पहले से ही चुदाई की शौकीन है. वो हंस कर बोलीं- नहाने भी नहीं दोगे क्या?मैंने कहा- साथ में नहाते हैं न.

सी बीएफ पंजाबी यह भाई बहन सेक्स स्टोरी आप सबको कैसी लगी, ईमेल करके बताइएगा जरूर![emailprotected]. जब मैंने पूछा- आँटी, आपको चुदवाये कितने दिन हो गए हैं?तो आँटी उदास हो गई और कहने लगी- बड़े दिन हो गए हैं … 6 महीने से भी ज्यादा.

फिर उसका मोटा लौड़ा अपने मुँह में लेकर मैं लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

क्सक्सक्सक्स ड्राई रिव्यु

एक दिन सारा दिन बाहर घूमने के बाद जब मैं घर में भाभी से मिलने पहुंचा, तो भाभी प्यार से गुस्सा होती हुई बोलीं- देवर जी कहां थे सारा दिन … अपनी भाभी का तो आपको जरा भी ख्याल नहीं है … जानते हैं मैं कितना याद कर रही थी आपको सुबह से?’मैंने भी कहा- अच्छा जी, हमें याद किया जा रहा था. उससे दो चार बार मिलना होगा, धीरे धीरे उससे खुलना होगा और इसके लिए बातों को सिलसिला मुझे ही चालू रखना होगा. सुरेश ने मेरी बेटी सोनी को सीधा किया और उसकी गर्दन को अपने बाएं हाथ के डोले का सहारा देकर अपने साथ सटा लिया.

फिर उसने उसी क्लास में डेस्क पर झुका कर मेरी चूत पर एक बार अपना पानी झाड़ा और निढाल होकर वहीं उसी कुर्सी पर बैठ गया. मैं उनके घर तो जरूर जाता था किसी काम के बहाने … पर कुछ कर नहीं सकते थे. वो भी मेरे पीछे बैठ कर अपनी चूचियां मेरी पीठ से रगड़ रही थी और मेरे लंड को सहला रही थी.

वो सिसकारी ले लेकर चुदवा रही थी और बड़बड़ा रही थी- गजब मेरे राजा जी … मस्त पेलते हो आप … आंह और तेज से पेलो … आह पेलो फाड़ दो मेरे राजा और ज़ोर से … उई मां … आज तो मुनिया का भोसड़ा बन जाएगा … आह्ह्ह ज़ोर से … और ज़ोर से!बस यही सब चिल्लाते हुए उसने अपना पानी छोड़ दिया.

मैं टीवी देख रहा था, उतने में वसुंधरा भाभी केवल ब्रा और पैंटी में आकर मेरे बगल में बैठ गईं. हाथ बढ़ाकर मामी की नाइटी थोड़ा ऊपर खिसकाई तो मामी की गोरी गोरी मांसल जांघें ऊपर तक दिखने लगीं. रात तो भी यही प्रोग्राम चला और मैंने भाभी से बहुत सी सेक्सी बातें की.

मैंने अपने पड़ोस के एक लड़के को पटाया और उसने कई बार मेरी गांड मारी. अगले कुछ धक्कों के बाद मैं पूरी ताकत के साथ उसकी चूत को ठोकने लगा और फिर मेरे लंड से वीर्य छूट पड़ा. उसे असीम आनंद की अनुभूति होने लगी थी।इसी समय मैंने उसे रसोई की स्लैब पर पूरा झुकाया और चिकने लिंग को गुदाद्वार में धीरे से घुसाना शुरू कर दिया.

मैंने अपना लंड आपा की बुर पर रखा और लंड के सुपारे को आपा की बुर में रगड़ना शुरू किया. हम दोनों पूरे गर्म हो चुके थे और चुदाई के नशे में हमें कुछ नहीं दिख रहा था.

लेकिन शादी के बाद उन्होंने मुझे इस बारे में पूछा तो मैं भी हां बोलने में डर रही थी कि कहीं परिवार में बदनामी ना हो जाए।मैंने ये सब कह कर विजय के होंठों पर किस कर दिया, विजय का चेहरा खिल उठा. हैलो फ्रेंड्स मैं रूपा भाभी की ननद अनन्या आपको आगे की सेक्स कहानी सुनाती हूँ. उसका पति तो ऐसा था ही, शायरा की शादीशुदा जिन्दगी भी इतनी खास नहीं थी … क्योंकि उसका पति रहता ही कितना था उसके साथ.

मैंने बाहर देखा तो पीहू अपने शरीर में तेल लगा कर मालिश कर रही थी और मम्मों को अपने हाथ से दबा रही थी.

मेरा लौड़ा पूरे उफान में था और मेरे अंडरवियर में तोप की तरह मुंह उठाये हुए था. जैसे ही दरवाजा खुला और सामने साक्षात रतिरूपी उस अप्सरा को साड़ी में देखा तो जैसे कामदेव ने बाणों की बरसात कर दी।दरवाजे से ही देख कर जाना है क्या?” उसने हँसते हुए कहा और धीरे से हाथ पकड़ कर मुझे अन्दर बुला लिया।उस दिन पहली बार उसने मेरे शरीर को छुआ था. चाची जी ने मेरी निगाहों का पीछा किया और ये भांप लिया कि मेरी नजरें उनके चूचों पर हैं.

जब भाई और भाभी सो गए, तब मैं मिठाई लाया और वो पीस मम्मी को खाने को दे दिया. मैंने चुत को देखा तो बुआ ने कनखियों से मुझे ताड़ा और कुछ पैर और फैला दिए.

मैं जितनी बार लंड चूत में अन्दर बाहर कर रहा था, उससे उसे और मुझे दोनों को ही चरम सुख की प्राप्ति हो रही थी. तुम्हारी छोटी, गुलाबी और मखमल जैसी चूत का स्पर्श मेरे लंड को होते ही मेरी नींद टूट गयी थी. विपिन मुस्कुराया और वो धीरे धीरे नीचे झुकते हुए अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा.

सेक्सी पिक्चर गुजराती सेक्सी पिक्चर

एक बार फिर से सोनी ‘आह्ह … अंकल … आह्ह अंकल …’ करती हुी चिल्लाने लगी और उसके लंड को अपनी कोमल, छोटी सी चुदी हुई चूत में बर्दाश्त करने लगी.

फिर आंटी एकदम से उठीं और बोलीं- छोड़ो राहुल, इन बातों का क्या फायदा. अब वो खड़ा हो गया और मुझे घुटने पर बिठा कर मेरे दोनों चुचों के बीच अपने लंड का निशाना बना लिया. कुछ देर बाद चाची जी फिर से कगार पर आ गईं और उनके साथ ही मेरा लंड भी झड़ने को हो गया.

अब वह मेरे ऊपर आ गया था और मेरी टांगें उठाकर मेरी गांड में लंड घुसा दिया. उनके बेडरूम में आते ही मैंने उन्हें पकड़ कर बिस्तर पर धक्का दे दिया जिससे वो बिस्तर पर गिर गये. हिंदी बीएफ कुंवारी दुल्हनमैंने मीना की गांड चुदाई भी की।फिर एक दिन मेरे दोस्त मोहित को मेरे और मीना के बारे में पता चल गया तो उसने मुझसे बातचीत ही बंद कर दी.

अब कविता मुझसे जिद करने लगी कि किसी तरह कुछ उपाय लगाओ कि वो प्रीति से मिल सके. मेरे पति की ये आदत है कि वो संभोग करने से पहले ढेर सारी बातें करते हैं.

अब दूसरी बार नहीं!ज़ारा- अच्छा ये बात है? तो जाओ नहा लो!मैं- हां!ज़ारा- और सुनो रगड़-रगड़ के अच्छे से नहाना अकेले!ये सुनकर में हंसने लगा और बाथरूम में घुस गया. मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]देसी लड़की चुदाई कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. एक मेरी मॉम की चूत चाटने लगा और नमन मॉम के चुचे ज़ोर ज़ोर से दबा रहा था और काट रहा था.

उसकी शादी के समय सोनी नहीं चाहती थी कि मैं मुम्बई में रहूँ इसलिए मैं एक सप्ताह के लिए अपने गांव चला गया. मैंने उसके सिर को अपनी जांघों के बीच में लेकर दबा दिया और उसको चाटने के लिए कहा. मेरी पिछली कहानीकोटा में कोचिंग और चुदाई साथ साथआपको पसंद आई, इसके लिए शुक्रगुजार हूँ.

दूसरे दिन मैंने उन्हें उनके घर छोड़ा तो उन्होंने चाय के लिए बुला लिया.

एक दिन दोपहर में उसने मुझे वीडियो कॉल किया और हम उसी तरह की बातें कर रहे थे कि उसी समय मेरे पास प्रीति आ गयी. हम दोनों एक दूसरे से कुछ नहीं बोल रहे थे, बस अपने अंगों को खेलने दे रहे थे.

मैंने उनकी टांगों के ऊपर हाथ फेरना शुरू कर दिया और धीरे धीरे उनकी जांघों को दबाते हुए मसाज जैसा करना शुरू कर दिया. मैं भी लास्ट तक भाभी का सारा पानी पी गया और भाभी निढाल होकर अपने हाथ मेरे सिर से हटा कर जोर जोर से हाम्फ़ने लगी. शाम का वक्त हुआ और विक्रम बोला- ठीक है दोस्त और भाभी अब मैं चलता हूँ.

मैंने नीचे देखा तो मुझे अहसास हुआ कि मेरा लंड अभी तक खड़ा था जो मेरे पजामे को तंबू बना रहा था. प्रियंका अपनी तीन उंगलियां अनामिका की चूत में डालने की कोशिश करने लगी थी. कुछ समय तक वो मेरे ऊपर लेटी ही रही जब तक कि मेरा लिंग उसकी योनि से बाहर नहीं आ गया। हम दोनों के साथ हमारे दोनों महारथी भी घमासान युद्ध करके थक चुके थे।मैंने रेनू के होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसना शुरू कर दिया। 10 मिनट के बाद वो बेड से उठी और कपड़े से अपनी योनि और मेरी जाँघें साफ कीं.

सी बीएफ पंजाबी अब परमजीत की शर्म खत्म हो चुकी थी और वो मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बेड की ओर ले गयी. मैंने बुआ को देखा और ढेर सारा तेल लेकर उनकी चूत की दरार में डाल दिया और हाथ से बुआ की चुत को रगड़ना चालू कर दिया.

सेक्स vidios

मैं उठा और विक्रम के कमरे में गया, तो बड़ा ही उत्तेजक दृष्य देखने को मिला. मुझे तो कुछ खास फर्क नहीं पड़ा क्योंकि मैं खुद चाहती थी कि कविता मुझसे दूरी बना ले. उसके बाद हम दोनों ने खुद को सही किया और बाहर आकर फिर से एक ऑटो पकड़ ली.

तो मैं उन्हें पकड़कर गेट तक ले गयी और उन्हें धक्का देकर बाहर करके उन्हें मुंह चिड़ाते हुए बोली- अब तो जो होगा, रात को ही होगा. जो आकर्षण एक अरसे से दबा हुआ था वो बाहर आने को मचलने लगा। मैंने उसे व्हाट्सएप पर फॉलो करना शुरू कर दिया. हरदोई की बीएफमैंने थोड़ा सा और ऊपर उठाकर देखा तो उसकी बुर, विक्रम के लंड से चुदाई के कारण सूज गई थी.

इससे मैं समझ गया कि आज मेरी छम्मक छल्लो अपनी जवानी लुटाने का मूड बना कर आई है.

फिर वो अपनी बीवी सरिता की ओर देखकर बोले- ऐसे करते हैं जबतक कोई इंतजाम नहीं होता तब तक यह अपने ऊपर वाले कमरे में ही रह लेगा. अब आगे सिस्टर सेक्स्क्स स्टोरी:मनीष के ऑफिस निकलते ही घर के अन्दर नेहा और स्नेहा दोनों बहनें सोफे पर आ गईं.

तुमने बोला था कि तुम मुझे खुश रखोगे … और सही में तुमने मुझे खुश कर दिया. उस दिन जब मैं उस चित्र को देख रहा था तो मेरे लोअर में मेरा लौड़ा तना हुआ था. इसका अर्थ ये ही था कि कहीं ना कहीं भगवान भी मुझे उससे मिलवा ना चाहते थे.

जानू, तुमने इतना प्यारे से खजाने को छुपा कर रखा था … क्या दिख रही है तुम्हारी चूत!”बेबी, तुम्हारे लिए ही संभाल कर रखी है ये चूत … आज जो करना है, कर लो.

भाभी के जाने के बाद मैं रागिनी से बोला- तुमने रात में भी उनको क्यों बुलाया? मैं तो रात में अपनी रागी को ही चोदना चाहता हूँ. जब मैं उनको बेड पर बिठा कर आंसू पौंछ रहा था, तब उन्होंने मेरे लंड के उभार को देख लिया था. आखिरकार एक चुदाई करने वाला ही दूसरी चुदाई करने वाली की व्यथा समझ पाता है.

नौकर मलकिन के बीएफउसे अपनी बांहों में लेकर उसके बूब्स को दबाता रहा और उसकी गर्दन पर किस करता रहा. उसने मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर काफी देर तक चूसा।अब उसके हाथ भी अमर्यादित होने लगे थे.

देसी बिहारी सेक्स

वहां जाकर मैंने उसको सामने से देखा तो वो बंदा काफी हैंडसम दिख रहा था. ज़ारा- क्या जान? इकट्ठे नहाते हैं ना!मैं- तुमने नहाना थोड़े है!ज़ारा- और बाथरूम में मैं कव्वालियां गाऊंगी?मैं- बाथरूम में तुमने नहाने के बहाने सेक्स करना है. मैंने चॉकलेट बोतल मेज पर रखी और दरवाजा बंद करके उस छोटे से बॉक्स को खोला, तो उसमें काले रंग की जालीदार ब्रा पैंटी थी.

उसका सात इंची मेरी चूत को खोलता हुआ अंदर जा घुसा और मैं उसके सीने से लिपट गयी. मैं बहुत खुश हुआ और बहुत जल्द ही तैयार होकर चुदाई की परिकल्पना करते हुए उस पते पर चला गया. फ्रेंड्स, ये मेरी पहली गांड चुदाई की कहानी है, जो मैंने सचमुच में की थी.

वो बोला- नाश्ता पूरी रात होता रहा है, अब आपकी ननद रानी को नींद आ गई है. वे पांच फुट तीन इंच लम्बी है, एकदम छरहरा शरीर है, बड़े और गोल चुचे, भोली सी मुस्कराहट और गोल गांड है. मेरी चुदास देख कर अब सब मुझ पर एक साथ टूट पड़े और अगले ही कुछ सेकंड में उन लोगों में से एक ने एक झटके में मुझे नंगी कर दिया और सोफे पर बिठा दिया.

मैं मन ही मन मुस्कुराते हुए दुआ करने लगा कि आज चाची जी की चुत चोदने मिल जाए. मैंने लिंग उसके योनिछिद्र पर लगाया और तेज गति से प्रहार शुरू कर दिया.

तभी आँटी ने अपनी पकड़ तेज की और उन्होंने अपने चूतड़ों और अपनी चूत के हिस्से की हरकत बढ़ाते हुए चूत को लण्ड पर ज़ोर से रगड़ना शुरू कर दिया.

उसके बाद उसने मेरी गांड में उंगली दे दी और खड़े खड़े ही मेरी गांड में उंगली करने लगा. चाइनीस बीएफ सेक्स वीडियोवाइफ ऐस फक स्टोरी में पढ़ें कि सुहागरात में चूत चुदाई के बाद मेरा मन बीवी की गांड मारने का किया तो मैंने उसे कहा. अक्षय कुमार के बीएफमुझे कमरे में देख कर वो थोड़ा सकपका गई और बोलने लगी- तुम यहां क्या कर रहे हो?मैंने भी बोल दिया- मुझे आंटी ने तुम्हारे रूम में घास चरने भेजा है. दूसरी तरफ ममता भी अपना मुँह खोल कर ज़्यादा से ज़्यादा मेरे लंड को मुँह में लेकर चूस रही थीं.

पापा ने एकदम से कहा- अरे तो फार्म देख लेते हैं, उधर किसी भी डेकोरेटर से बात करके शादी के लिए रेडी करवा लेते हैं.

मैं यहां पर कहानी रोक कर अपने साथी भाइयों को बताना चाहूंगा कि अगर आप औरत के साथ सेक्स में जल्दबाज़ी करेंगे तो सिर्फ आपको ही चरम सुख मिलेगा. जब मैंने उसका चेहरा देखा तो रचना रो रही थी, उसकी आंखें लाल हो गयी थीं. काफी देर चूत की चुदाई का मजा लेने के बाद हम दोनों स्खलित हो गए और एक दूसरे से अलग हो गए.

उसने मुझे देखा और मुस्कराकर अगले कदम के लिए आमंत्रित किया। अब युद्ध का आरम्भ होना था. फिर मैंने हेलीमा को घोड़ी बना दिया और गुलजान को कोल्ड क्रीम लाने को बोला. देसी अंकल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मेरे पड़ोसी अंकल को मैंने रात को अपने घर बुलाया.

पांघरून मराठी मूवी

अब आगे सिस्टर सेक्स्क्स स्टोरी:मनीष के ऑफिस निकलते ही घर के अन्दर नेहा और स्नेहा दोनों बहनें सोफे पर आ गईं. तुम मेरा हर काम करते हो तो मैं भी इतना कर ही सकती हूं कि अपने भाई का लंड चूस लूं. वह एक पेशेवर चुदक्कड़ औरत की तरह लंड को चूस रही थी।मैं भी उसके बाल पकड़ कर उसके मुंह को आगे पीछे कर रहा था और उसका मुंह चोदे जा रहा था।अब मैंने उसे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया और उसे गले पर किस करने लगा, उसके होंठ चूमने लगा.

तीसरा लड़का मेरी बीवी के मुँह में लंड पेल कर खड़ा था और वह मेरी बीवी के मुँह को ही चोदे जा रहा था.

फिर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और अपने तने हुए लंड के ऊपर रखते हुए बोले- देख … तेरे लिए इतने दिन से बेताब है मेरा लंड!कसम से दोस्तो, उनके लंड पर जब हाथ रखा तो सोच में पड़ गई थी कि इतना बड़ा और मोटा लंड कैसे मैं अपनी बुर में घुसवा लूंगी!उस वक्त उन्होंने लोवर पहना था और उनका लंड उसमें ही तमतमाया हुआ था। अभी तक मैंने लंड को देखा नहीं था.

थोड़ी देर ऐसा करने के बाद उन्होंने मुझे उठाया और 69 की अवस्था में कर लिया. उसने मुझे इतनी जोर से भींचा कि उसके हाथ में दबोचा हुआ तकिया की रुई फटकर बिखर गई थी. मराठी मूवी सेक्सी बीएफवो हैरानी से बोली- अच्छा मतलब इसकी लेते रहते हो क्या?मैंने कुछ नहीं कहा, बस उसको छोड़ कर बाहर निकल गया.

हैलो फ्रेंड्स मैं रूपा भाभी की ननद अनन्या आपको आगे की सेक्स कहानी सुनाती हूँ. चाची की चुदाई के बाद 2-3 बार तो मैंने ही उनकी गांड से मैक्सी निकाली है, उस वक्त चाची मुस्कुरा कर मेरा हाथ झटक देती थीं. मगर उस समय तो मुझे भी उसकी चुदाई पराये मर्द से देखने में असीम आनंद आ रहा था.

तभी मैंने फिर से चूत में उंगली डाली, चूत के दाने को चाटने लगा और गांड में वाइब्रेटर डाल दिया. अगर यह तीनों मुझे इसके बाद बोलते कि भरे पूरे रास्ते के सामने बीच चौराहे पर अगर यह मेरी चूत चुदायी करने वाले हैं, तब भी मैं इन तीनों को मना नहीं करती.

अब मैं उसकी तरफ मुड़ा और प्यार से पूछा- बताओ क्या परेशानी है? जो भी बात हो तुम खुल कर बताओ; शायद तुम्हारी कोई मदद हो जाये।उसने अपने आंसू पौंछते हुए जवाब दिया- अंकल, मैं यहाँ इंदौर में अपने चाचा के यहाँ रहती हूं.

नीचे उसने काले रंग की जाली वाली ही पैंटी पहन रखी थी जिससे उसकी चुत का रस रिस कर उसकी लैगी को भिगो गया था. हिंदी बीएफ दिखाइए हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ. उसने थोड़ा सा हिम्मत करके सुपारे पर जीभ फेरी, लेकिन फिर बोली- भैया प्लीज नहीं.

बहन को चोदने वाली बीएफ बस मेरी इस चूत की गर्मी मिटा दे मेरे राजा।अब ब्यूटी की चूत लंड मांग रही थी. उसकी समझ में आ गया था कि अकेले में रहने को मिलेगा तो चुदाई का खेल भी खेला जा सकता है.

मैंने अपना लंड निकाल कर भाभी के मुँह में डाल दिया और भाभी अपना चूत रस चाट गईं. ऐसे ही बातें करते करते पता नहीं चला कि कब हम दोनों सेक्स की बातें करने लगे. रास्ते में भाभी की दर्द भरी चीखों से बुरा भी लग रहा था और भाभी की साड़ी ऊपर हो जाने की वजह से उनकी नंगी चिकनी जांघ देख कर अच्छा भी लग रहा था.

कांख में दर्द

दूसरे दिन मैं जल्दी उठ गया और नहा धोकर एक धोती पहने हुए छत पर चला गया. अब मेरे देखने लायक कुछ भी नहीं बचा था मगर फिर भी मैं सुरेश का मुर्झाया हुआ लंड देखना चाहता था।कुछ देर बाद सुरेश का लंड जब मेरी बेटी की चूत से बाहर निकला तो ऐसे लग रहा था जैसे किसी कोबरा सांप की खाल छील दी गयी हो. मैंने उसको अपनी बांहों में जकड़ कर रोक लिया और ऊपर को गांड उचकाते हुए लंड अन्दर लिए ही फच्छ फच्छ करके झड़ने लगीं.

मैंने नीचे देखा तो मुझे अहसास हुआ कि मेरा लंड अभी तक खड़ा था जो मेरे पजामे को तंबू बना रहा था. हम दोनों ऐसे ही बाथरूम में चले गए और खुद को साफ़ करके ऐसे ही नंगे रूम में आकर सो गए.

मैं- ज़ारा!ज़ारा- हुम्म?मैं- चूसोगी या गांड में डाल दूं?ज़ारा- गांड में डाल दो जान!मैंने चूत से निकाल कर उसकी गांड में लंड का सुपारा घुसा दिया.

फिर मुझे दोबारा से जोश आने लगा और मैं उसकी चूचियों को फिर से दबाने लगा. जब मैं अपना हाथ हटाने वाला था, तब उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने हाथों से अपने मम्मों के ऊपर खींच लिया और अपने दूध दबवाने लगी. कुछ देर चूत चाटने के बाद मैंने उससे कहा- मुझे तुम्हारी चूत में अपना लंड डालना है.

लेकिन विजय के मुंह से यह सब प्यार भरे शब्द सुनने के बाद उसका सॉरी बोलना और दुबारा मेरे साथ जबरदस्ती नहीं करने से मुझे पक्का यकीन हो गया कि विजय मुझसे दिल से प्यार करता है. फिर उसको पलटाकर मैंने दीवार से चिपका दिया और पीछे से उसके चुचों को जोर जोर से मसलने लगा. वो मुझसे रानी के लिए पूछने लगी कि तुझे रानी में ऐसा क्या पसंद आ गया जो उस पर मर मिटा.

वो 38-30-40 के भरे पूरे गदराए शरीर की मालकिन थी और पूरी क़यामत लग रही थी.

सी बीएफ पंजाबी: उसी दिन मैंने रात को राकेश को बांहों में भर लिया और कहा कि आप टेंशन मत लो. सच सच बताइए क्या देख रहे थे?मैंने बोला कि जब आपको पता ही है, तो क्यों पूछ रही हैं?वो बोली- मैं आपके मुँह से सुनना चाहती हूँ.

[emailprotected]ट्रेन हॉट सेक्स कहानी का अगला भाग:प्राइवेट सेक्रेटरी की रसीली चूत का मजा- 3. फिर मेरी उनसे कुछ बातें हुईं, तो पता चला कि कुछ दिन बाद उनका कोई एग्जाम है, फिर वो वापस चली जाएंगी. सफर में मेरी चुदाई की कहानी का मजा लेंलेखक की पिछली कहानी:छोटे भाई की बीवी के साथ सुहागरात-1अन्तर्वासना के सभी दोस्तों को मेरा हैलो.

मैंने पूछा- यामिना, कुछ अपने बारे में बताओ?यामिना- साहब, मैं मेरे दो बच्चे हैं, लड़की ने दो महीने पहले प्लस टू पास किया है, लड़का अभी पांचवीं क्लास में पढ़ता है, पति चार साल पहले हमें छोड़कर चला गया और दूसरी शादी कर ली.

जब मैं उसके दोनों मम्मों पर अच्छे से चॉकलेट लगा चुका तो प्रियंका से बोला- चल तू इसका एक आम चूस … एक मैं चूसता हूँ. मेरे अकेलेपन में अन्तर्वासना ने मेरा बहुत साथ दिया है तो मैंने भी सोचा कि आज मैं भी अपनी जिंदगी के कुछ किस्से आप सबसे शेयर करूं. सामान देख कर मैं और प्रीति एक पल एक दूसरे को देख चौंक सी गईं और अगले ही पल लज्जित भरे भाव से नजर छुपाने लगीं.