बीएफ कुंवारी

छवि स्रोत,कुंवारी लड़की का सेक्सी बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

चुत की चुदाई व्हिडिओ: बीएफ कुंवारी, फिर सिसकती हुई रोने सी लगी- आंह बेबी प्लीज, बहुत दर्द कर रहा है … एक बार निकाल लो … बाद में फिर से डाल लेना.

अँग्रेजो की बीएफ

मैं गीता के स्तन, कमर, चुत, जांघें और गांड सहलाकर पानी से गीला कर रहा था. हिंदी बीएफ वीडियो में हिंदी मेंमेरी गांड फटी की फटी रह गई और मुझको बहुत तेज दर्द हुआ- हाय मर गया अम्मी अम्मी अम्मी छोड़ दे अम्मी छोड़ दे फट गई!लेकिन उसने मेरे चूतड़ों को कस के पकड़ लिया.

फिर उसने मेरी समीज़ को एक झटके में उतार दिया और वो धीरे धीरे से मेरे छोटे छोटे नींबू के साइज़ के चूचों पर किस करने लगा. सूअर वाला बीएफकुछ देर तक उसके ऊपरी हिस्से को चूमने के बाद मैं अपने घुटने पर बैठ गया और उसकी नाभि के आसपास का हिस्सा चूमते हुए नीचे की तरफ जाने लगा.

मगर उन्होंने कुछ रिस्पॉन्स नहीं दिया।शायद वो इसका मजा भी लेना था और देखना था की उसकी पटाका बच्ची क्या क्या करती है।अब मैंने मॉम के नाइटी के डोरी की गांठ खोल दी और नाइटी को थोड़ा हटा दिया।मॉम ने ब्रा नहीं पहनी थी तो अब उसके चूचे मेरे सामने नंगे हो गए।अपनी मॉम के चूचों की तो मैं पहले से कायल थी तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अब एक चूचे पे हाथ रखा और उसे हल्के से दबाया.बीएफ कुंवारी: मुझे ऐसा लगने लगा था कि उसके अन्दर भी पूरी आग लगी थी, पर मैं चुप था.

करिश्मा के बाथरूम जाने के दो मिनट बाद मैंने उसके दरवाजे को पीटना शुरू किया और इमरजेंसी का बहाना बनाया कि मेरे पेट में दर्द हो रहा है.मेरे जाने की खबर सुनकर दूसरे दिन रेशमा ने मुझसे कहा- वीरू जी, आप हमें भी ले चलिए ना? मैंने कभी मुंबई की जगमगाहट देखी नहीं है.

सेक्सी और बीएफ वीडियो - बीएफ कुंवारी

भाभी के मुँह से जोर से निकला- आआहह … मर गई … आंह धीरे राजा … फट गई.उसके बाद मैंने सोनी को मिशनरी आसन में कर दिया और उसके ऊपर आकर अपने लंड को उसकी बुर में घुसा कर अपनी कमर चलाने लगा.

थोड़ी देर बाद मैंने अपने हाथ से उसकी पीठ पर दबाव बनाया और उसकी पीठ को दबा दिया ताकि उसकी बुर थोड़ी बाहर की तरफ आ जाए. बीएफ कुंवारी पहले तो मैंने ऐसे ही ना-नुकर सी की, पर फिर सोचा कि नहा ही लेती हूँ.

उनकी नजरों से ऐसे लग रहा था कि यह मुझे आज तीनों मिलकर कच्चा चबा जाने वाले हैं और मेरा आज मेरा गैंग बैंग तो होना पक्का ही है.

बीएफ कुंवारी?

कुछ देर ऐसे ही मैंने उसे अपना लंड चुसाया, फिर उसे घोड़ी बना कर मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड पेला और एक ही झटके में पूरा लंड चूत के अन्दर चला गया. कुणाल ने स्नेहा को अपनी कुतिया बना कर पीछे से लंड चूत में डाल दिया और स्नेहा के हाथ पकड़ कर उसे चोदने लगा. तब मुझे अहसास हुआ कि वो यहीं पास में रहता है और दीदी को भी जानता है.

मैंने आखिर में जाकर उन लड़कों के रूम का दरवाजा खटखटाया तो अमित ने दरवाजा खोला. उन दोनों की कामुकता देख कर मैंने भी पहली बार किसी पुरुष की गांड मारने की ठान ली और मैं बिस्तर से नीचे उतर कर पॉल की गांड की तरफ चला गया. रीना ने भी अपनी दो उंगलियां अपने फुद्दी में घुसाते हुए मेरा बचा-खुचा वीर्य भी बाहर निकाल दिया.

थोड़ी देर तक मैंने स्नेहा की गांड मारी और मेरे लंड ने अपना सारा पानी स्नेहा की गांड में ही छोड़ दिया. कहानी के पिछले भागबेचारी कुंवारी गर्लफ्रेंड की बुर फट गयीमें आपने अब तक पढ़ा था कि सोनी को चुदाई में मजा आ गया था और उस दिन हम दोनों ने दो बार चुदाई का मजा लिया था. मेरे बर्थडे के यही कोई 10-12 दिन बाद हम वैसे ही लॉज में गए थे और हम दोनों एक दूसरे के साथ चूमाचाटी में लगे थे.

उसे पता चला तो वो क्या सोचेगी … और तुम उसके ब्वॉयफ्रेंड को कैसे जानती हो?स्नेहा- जान वो अभी कुछ दिन पहले ही उसका दोस्त बना है. हम दोनों सेक्स करना चाहते थे पर मेरी परी शर्मा रही थी, बार बार अपनी बुर को हाथ से छिपा रही थी.

मैंने मां को अपने सीने से लगा रखा था और उनके बदन को हाथों से रगड़ रहा था.

उसने मुझे बताया तो डर मुझे भी लगा लेकिन मैं उसके सामने खुद को कमजोर नहीं बताना चाहती थी और पता भी था कि पहली बार में ये सब हो सकता है.

नंदा ने नीचे के बाल आजकल में ही साफ किए हुए लग रहे थे, इसका मतलब शायद ये था कि उसने मुझे बिना देखे ही चुदने का मन पहले से बना रखा था. मैं मन ही मन मुस्कुरा देती कि मेरे भाई को मुझमें एक मस्त लौंडिया दिखाई देने लगी है. मैं सोच ही रहा था कि मामी को ऊपर कैसे बुलाऊं कि तभी मुझे एक तरकीब सूझी जिससे मैं रेन सेक्स का मजा लेने की कोशिश कर सकता था.

जैसे ही उसने ऊपर के 3 बटन खोले, मुझे एक बार फिर से ख्याल आया कि ये मैं क्या कर रही हूँ. मैंने कहा- बिना कपड़ों के खाना कौन खाता है यार?सुहानी बोली- खाता तो कोई नहीं है, पर तुमको खाना है प्लीज़. साथ ही मैं भी समझ रही थी कि वो तीनों भी मुझे बिना चोदे नहीं छोड़ने वाले हैं.

वो भी मजे ले लेकर लंड चुसवा रहा था, मेरे सिर को पकड़ कर मेरे मुँह को चोद रहा था.

यह तब की बात है, जब मैं अपने दोस्तों के साथ क्लब में अपनी एक फ्रेंड की बर्थडे पार्टी सेलिब्रेट कर रही थी और हमने जमकर शराब पी थी. तब उन्होंने मुझे मस्ती करने का एक प्लान बताया जिसे सुनकर मैं जोश में आ गयी और उनके प्लान में साथ देने को राज़ी हो गई. मुझे लगा आप शायद ऐसी जगह जाना पसंद न करें क्योंकि आप बहुत ऊंची पोस्ट पर है और आपका उठना बैठना बड़े लोगों के साथ होगा.

मैंने उसकी ब्रा को खोला और एक तरफ फैंक कर उसके दोनों मम्मों को अपने हाथों से सहलाने लगा. वो मेरा मोटा लंड देख कर घबरा गई और बोली- ये इतना बड़ा … मेरे अन्दर कैसे जाएगा. उसने कहा- यह कारण नहीं हो सकता, कुछ और बात है … सही बताओ?मैंने उससे कहा- तुम सुनकर मजाक तो नहीं बनाओगी?वो हंस दी.

बीच में मैं, रागिनी और रजनी थे तथा पीछे सासुजी एवं वसुंधरा भाभी थीं.

बिल्कुल मेरी बहू निदा की तरह। मुझे उसके मुंह से गालियां बहुत पसंद हैं।मैंने कहा- तेरी बुरचोदी बहू की की माँ की चूत … पहले यह बताओ क्या तुम अपनी बेटी बहू की बुर लेते हो?वह बोला- हां, वो ख़ुशी ख़ुशी देती है तो मैं ख़ुशी ख़ुशी लेता हूँ. उसने पीने से मना कर दिया लेकिन मैंने उसे जोर देते हुए कई बार कहा और डरते हुए ही सही उसने एक ग्लास शराब पी ली.

बीएफ कुंवारी मेरी बहन चित्रा ने मुझे स्पीड तेज करने को बोला और मैं तेज तेज शॉट लगाने लगा. कभी कभी तो नए लोग मेरी मम्मी और मेरी बहन को छोटी और बड़ी बहन समझ कर ग़लती कर देते हैं.

बीएफ कुंवारी दीवाली के त्यौहार के अगले दिन मम्मी पापा ने हफ्ज़ा और रेखा को खाने पर बुलाया. मोहिनी को भी बहुत दिनों बाद किसी का साथ पसंद आया था तो उसने हां कह दिया और कार कैफे की तरफ मोड़ दी.

पूरी रात में मैं दो की जगह चार ट्रिप करके सूर्योदय होने तक उसके साथ चुदाई करता रहा.

इंडियन साडी सेक्सी

सोनी फिर से मेरे और शिल्पा के बारे में सोच कर असहज होने लगी थी और बात बात पर मुझ पर कटाक्ष करती और कहती- सेक्स करने के लिए टाइम है तुम्हारे पास … और ऐसे मिलने के लिए टाइम नहीं है. मैं भी यही चाहता था कि वो किसी बहाने से भी मुझको अपने साथ घर में लेकर जाए. इधर मैं सोनी से भी नहीं मिल पा रहा था तो सोनी के ताने अलग मिल रहे थे.

करिश्मा मेरे कंधे पर सर रख कर सो गई और मैं उसके चूचे देखते देखरे सो गया. पर अर्णव ने उसकी न सुनी और ऊपर आकर अपना अंडरवियर टांगों से अलग कर दिया. मैंने उसको वहीं जमीन पर लिटा दिया और उसका लोअर और पैंटी उतार फैंकी.

मौसी उस वक़्त कानपुर गयी हुई थीं और मैं और भाभी घर पर अकेले रह गए थे.

मैंने मां को अपने सीने से लगा रखा था और उनके बदन को हाथों से रगड़ रहा था. मेरा मन उन्हें दबाने का कर रहा था लेकिन डर था कि साली वकील है, किसी तरह का केस ठोक दिया तो नौकरी भी जाएगी और इज्जत भी. मैंने भी पहली बार का ख्याल करते हुए ज्यादा जोर नहीं दिया और उसके होंठों को चूमने लगा, अपने हाथों से उसकी चूची जोर जोर से दबाने लगा.

अपनी चूत पॉल के मुँह पर रगड़ रगड़ कर वो अपने चूतरस को पॉल को चखा रही थी. अब वो अपने दोनों हाथों से मेरी गांड और पीठ सहलाती हुई अपनी गांड उठाकर लंड अन्दर बाहर करने लगी थी. मैंने जितना सोचा था, सुहानी मेरी उस सोच से ज्यादा ही प्यासी लग रही थी.

जिस लच्छो को मैंने दस साल पहले देखा था, वो छोटी सी फ्राक पहनकर गलियों में खेला करती थी. और रात में मुझे चोद कर मेरे साथ आए हुए राजीव के सामने नंगी खड़ी रह गई थी.

उन दोनों की इतनी मस्त चुदाई देखने के बाद मैं समझ गया था कि मम्मी को चुदाई में क्या कर दिया पसंद है. हॉट गर्लफ्रेंड गोवा सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी कहानी पढ़ कर गोवा की एक लड़की ने मुझसे दोस्ती की. कुछ देर ऐसे ही मैं रीना को देखता रहा, पर मेरे लौड़े में भी ऐसी आग लगी थी कि मैं रीना की चूत की तरफ खिंचा चला गया और एक ही झटके में पूरा लौड़ा अन्दर घुसाते हुए ताबड़तोड़ चुदाई करने लगा.

मैं घुटनों के बल बैठा और मुस्कान की एक टांग को उठा कर अपनी जीभ मुस्कान की चूत में रगड़ने लगा.

वो बोलीं- साला मानेगा नहीं, कमीना है पूरा!मैंने कहा- जब मालूम है तो कहती ही क्यों हो!मैंने कमरे में आकर आपा को बेड पर लिटा दिया. उसकी फूली हुई चूत को देख मैं बेकाबू हो गया और अपने होंठ उसकी चूत पर लगा दिए. चूचियां चूसते चूसते मैंने करिश्मा के लोअर में हाथ डाल कर उसके चूतड़ों को दबाना शुरू कर दिया.

चूमता हुआ जैसे ही अर्णव नीचे आया तो उसने मोहिनी की चूत के ऊपर पेड़ू पर कई चुम्बन लिए. फिर मैंने उसके चूचे दबाते हुए उसे किस किया और उसे वापस से गर्म करने लगा.

अब वो पूरे घर में अकेली थी, तो वो बेफ़िक्र होकर मुझे अपने रूम में बुला सकती थी. अब आगे गर्लफ्रेंड की गांड फक़:गीता और नीता दोनों मेरे लंड को देख रही थीं. मैंने सोच कर बताया कि मैं कभी भी एक स्त्री से संतुष्ट नहीं होता हूँ.

सेक्सी इमेज भेजो

मैंने कमरे में घुसते ही उसने मेरे पीछे से दरवाजा बंद कर दिया, वो सिर्फ तौलिए में था, नंगा, मादक और उत्तेजित!मेरे आने भर के ख्याल से उसका खड़ा था!उसने घुसते ही मुझे अपनी बांहों में लिया और बिना कोई वक्त खराब किए मुझे चूमने लगा, मेरे कपड़े उतार फेंके, और मुझे नंगी कर मेरी गीली चूत में उंगली करने लगा।वो खुश था कि मेरी चूत उसके लिए गीली है.

अब धीरे-धीरे मेरा और अंजलि का सेक्स का रिश्ता काफी मजबूत हो चला था. पांच मिनट बाद मैंने बिना पूछे सुहानी की चूत में अपना माल निकाल दिया और उसके बूब्स चूसने लगा. नंदा को बता दिया कि डिनर लेने के बाद कुछ देर विश्राम की जरूरत रहती है.

इससे पहले कि वो कुछ करता, मैंने जल्दी जल्दी पैंट पहनी और बाहर आकर खेत में बैठ गया. अगर मुझमें कोई कमी होती, तो तब भी नहीं होती … और मेरी तो सभी रिपोर्ट अभी भी बिल्कुल सही आई हैं. बीएफ पिक्चर चाहिए बीएफ पिक्चरराकेश के तने हुए लंड को देख कर मुझे पता चल गया था कि उसका लौड़ा अभी तनना शुरू हुआ है.

राकेश ने अपना हाथ हटा कर मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और लगभग आधा मिनट लंड को वैसे ही पेले रखा. ‘आआआह … मादरचोद साले जीजू … भैन के लौड़े एक बार में ही डाल दिया पूरा … आंह थोड़ा धीरे धीरे नहीं कर सकता … आंह मुझे दर्द हो रहा है.

मैं शर्ट उतारते ही शैली के ऊपर टूट पड़ा और शैली के होंठों को अपने होंठों के बीच दबा कर उसे बेतहाशा चूमने लगा. मां थोड़ी देर में नाइटी पहन कर वाशरूम से बाहर आ गईं और बोलीं- काफी ठंड है. जैसे ही मेरे सुपारे ने उसकी गांड में प्रवेश किया, तो किरण की चीखें निकलने लगीं.

उसको इतने सालों बाद देखने के बाद मैंने पाया कि उसकी खूबसूरती पर वक्त का बहुत कम असर नजर आ रहा था. सोनी फिर से मेरे और शिल्पा के बारे में सोच कर असहज होने लगी थी और बात बात पर मुझ पर कटाक्ष करती और कहती- सेक्स करने के लिए टाइम है तुम्हारे पास … और ऐसे मिलने के लिए टाइम नहीं है. उसकी बातों से मुझे लग रहा था कि इसे और अनुभव की जरूरत होगी, पर अगर ये मेरा निजी काम भी कर दे, तो भी मेरे लिए बहुत था.

कभी वो अर्णव की जीभ अपने मुँह में ले कर चूसती, तो कभी अपनी जीभ उसके मुँह में दे देती.

कुछ देर तक चोदने के बाद पिंकू और गर्म हो गई और मुझे नीचे करके खुद ऊपर आ गई।अब पिंकू अपनी गदराई गांड जोर-जोर से उठा उठा कर पटकने में लगी, पिंकू धीरे धीरे आहें भर रही थी।मेरे दोनों हाथ पिंकू की मखमली पीठ और गांड पर घुमने लगे. अदिति जोर जोर से सीत्कारने लगी- ओह हर्षद हम स् स् स्ह स्ह ऊं उफ्फ कितने दिनों बाद मेरी चूत को तुम्हारी जीभ का स्पर्श हुआ है हर्षद.

अदिति ने जोर से मेरे लंड को अपनी मांसल जांघों में जकड़ लिया और अपनी गांड ऊपर नीचे करने लगी. भाभी के पेटीकोट के अंदर अन्धेरा था और हवा भी कम थी तो मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और मुझे उल्टी जैसी होने लगी. मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागकार में चूत में उंगली करके मजा दियामें आपने पढ़ा था कि मैं मिडी उतार कर अपने भाई सनी ….

आंखों के बंद होने के साथ ही उसके होंठ दुबारा मेरे होंठों की गिरफ्त में आ गए. वो अर्णव से छूट कर अपने बेडरूम में आ गयी और शीशे के सामने खड़ी हो अपनी सांसों को संयंत कर ही रही थी कि तभी अर्णव ने पीछे से आकर फिर से उसे अपनों बांहों में भर लिया और लगातार उसकी गर्दन और कान को चूमने लगा. मेरे अन्दर हवस की आग लगी हुई थी और उधर विपिन का लंड भी पूरा खड़ा ही चुका था.

बीएफ कुंवारी रेन सेक्स का मजा मैंने लिया अपनी सेक्सी हॉट मामी के साथ जब मैं उनके घर रहने गया था. वाओ क्या चूचियां थीं … मेरा मन कर रहा था कि अपना मुँह लगा कर अभी के अभी इसके दूध चूस लूं.

सेक्सी अंग्रेजों का

सुखपाल नाम का एक लड़का मेरी कोचिंग में आता था।अंकित की तरह वो भी थोड़ा लापरवाह था तो मैंने उसके साथ भी मस्ती शुरु कर दी।इस गे स्टूडेंट सेक्स कहानी में उसी लड़की की गांड चुदाई का मजा लें. तो मैं भी मुस्कुरा कर देखने लगा।उसने फोन काट दिया और बोली- आपको नींद नहीं आ रही क्या?मैंने कहा- नींद तो आपको भी नहीं आ रही।फिर हमारी बातें होने लगी. उन्होंने बोला कि बहुत दिन हो गए अपनी बाबू को प्यार किए हुए और उसके नंगे बदन को देखकर उसको चोदे हुए.

आज मैं आपसे मेरे साथ हुए एक हॉट इंडियन गर्ल सेक्स कहानी को साझा करना चाहता हूँ. BDSM सेक्स कहानी में मैंने अपनी सहेली के पति को बाँध कर उसके चेहरे अपने चूतड़ रगड़ के उससे अपनी गांड का छेद चटवाया. हिंदी बीएफ एचडी सेक्सी फिल्ममैंने तुरंत मन बना लिया कि इस न्यू चूत की सील तो मैं ही तोड़ूँगा चाहे कुछ भी करना पड़े.

अभी तीन घंटा पहले ही चुदाई की हुई थी और कल की तीन चुदाई के कारण दोनों का स्खलन नहीं हो रहा था.

भैया मेरी दोनों चूचियों के बीच अपने मोटे लौड़े को ऐसे रगड़ने लगे थे, मानो वो मेरे मम्मों को चोदने लगे हों. मैंने उसकी चूत सहलाते हुए एक उंगली चूत में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा.

खाते खाते उसने कहा- कोविड-19 की वजह से घर में बैठे बैठे उसका जिस्म बहुत दर्द करता है. साथ ही मैं भी समझ रही थी कि वो तीनों भी मुझे बिना चोदे नहीं छोड़ने वाले हैं. मैं तेज गति से धक्के मारने लगा तो दो मिनट में ही हम दोनों झड़ने लगे थे.

यह एक लड़के जिसका नाम रिक्की है, उसके, उसकी विधवा मां मोहिनी और उसके प्रेमी अर्णव के सेक्स सम्बंधों को लेकर है.

भैया ने मुझसे रिमोट मांगा और बोले- लाओ, मैं कोई अच्छी पिक्चर लगा दूँ. गांड में लंड के मजे आ रहे थे और मेरे मुँह से भी उसकी तेजी के कारण आवाज निकल रही थी. अब मेरे निप्पल पूरी तरह से टाइट हो गए थे और मेरे बूब्स आसमान की तरफ़ उठ गए थे और मैं अपनी उंगलियां चूत में चलाए जा रही थी.

पाकिस्तानी बीएफ एचडी वीडियोफिर मैं उसके पेट पर अपना हाथ फेरने लगा और पेट को चूमने लगा, जहां हमारा बीज पड़ चुका था और अगले कुछ महीनों में बाहर आने वाला था. काफी देर तक उसी पोज़ में चोदने के बाद भैया खुद नीचे लेट गए और मैं अपनी गांड उनके लंड पर फंसा कर खुद से चुदने लगी.

मंदाकिनी सेक्सी व्हिडिओ

वो छत पर लगा पानी का गेटवाल्व बंद कर रहा था और वापस आकर पाइप को ठीक करने की कोशिश कर रहा था, तब तक मेरा ध्यान उसके भीगे हुए लौड़े पर ही टिका था. ये देख कर भाभी एकदम से सकपका गई लेकिन अगले ही पल उसने मुस्कान दे दी. उसने कहा- आपने जवाब नहीं दिया सर?तो मैंने हड़बड़ाकर कहा- हां हां क्यों नहीं मैडम, मुझे क्या दिक्कत होगी.

तब नीता ने उसे अपनी जकड़ से आजाद कर दिया और वो बाजू होकर गीता की गांड सहलाने लगी. मैंने कई बार उसे सहवास के लिए मनाने की कोशिश भी की, पर हर बार सोनी साफ साफ मना कर देती. उस दिन मुझे पता चला कि मर्द को भी अपने सीने की घुंडियों को चुसवाने में मज़ा आता है.

एक हल्की सी सिसकारी के साथ वो मेरे पीछे को झुक गई और उसने अपनी आंखें बंद कर लीं. अम्मी- अहह … आदिल … मैं तेरी अम्मी हूँ … कोई अपनी अम्मी के साथ ऐसा नहीं करता. वहां जाकर पहले तो मैंने अपने गंदे कपड़े बदल दिए और फिर एक टब गर्म पानी से अच्छा सा बाथ लिया.

हम दोनों की सांसें तेज हो चुकी थीं और हम भूल चुके थे कि हम कहां हैं. रिक्की कुछ ढूंढता हुआ उसके बेडरूम में आया तो उसने देखा उसकी मॉम नहाने गयी है.

वंदना ने कहा- हां … पर वो पूछेगा क्या?वो- मैंने साहिल से बोला है कि अगर तुम घर में किसी से नहीं बताओगे तो मैं वंदना को तुमसे चुदवा दूँगा.

साथ ही साथ अपने सभी दोस्तों, जानपहचान वालों को भी बोल दिया कि मेरे लिए नौकरी तलाशने के लिए मदद करें. बीएफ चोदा चोदी भाईमैं उसे गाली देने लगा- बता कुतिया मज़ा आ रहा है न!वो बोली- हां आ रहा है साले … ऐसे ही चोद मादरचोद. बीएफ साड़ी वाला सेक्सीतो दोनों ने अमन को भी विश किया।असद बोला- अरे यार शन्नो, तुम तो लाजवाब हो गयी हो। एकदम मस्त जवान हो गई हो तुम. एक दिन मैं दोपहर में घर पर खाना खा रहा था और उस वक़्त घर पर सिर्फ मैं और भाभी ही थे.

मोहिनी को ये सब पसंद आया और उसके मुँह से बरबस ही निकल गया- बड़ी ही बढ़िया जगह है, आपकी पसंद मुझे भी पसंद आई.

फिर जब तक राकेश मेरे घर के अन्दर आता, तब तक पूरे घर के अन्दर पानी फैल गया था. उसे मैंने बाथरूम में पूरी नंगी देख लिया तो मेरा मन उसे चोदने का हो गया. बार बार मेरा धन्यवाद करती हुई जैसे ही वो जाने के लिए पलटी, उसी पल मैंने ठान लिया कि किसी ना किसी दिन इसको घोड़ी बनाकर इसकी गांड जरूर मारूंगा.

कुछ मिनट में ही मैं उसके मुँह में झड़ गया और वो किसी भूखी लोमड़ी सी मेरे वीर्य को खा गई. मोहिनी की हालत खराब हो रही थी, वो ज़ोर से उसका सर अपनी चूत पर दबाने लगी. आप सभी पाठकों से उम्मीद करता हूँ कि मेरी हिमाचल सेक्स कहानी आपको पसंद आई होगी.

भोजपुरी के गाने सेक्सी

पाटिल जी- आआहह विराज जी, मैं तो अब आ रहा हूँ, ले मादरचोद रेशमा रंडी, आज तेरी गांड मेरे लौड़े का पानी पिएगी मां की चूत तेरे रंडीईईई!पाटिल जी ने रेशमा को और उसकी मां को गाली देते हुए अपना वीर्य रेशमा की फटी हुई गांड में खली करना चालू कर दिया. उस वक्त उसका मुझे इस तरह से किस करने का आभास भी नहीं था, तो मैं उसे किस करते ही एकदम से डर गई और एक अजीब से अहसास से अन्दर से हिल गई. मैंने अपने लंड पर हाथ फेरा तो वास्तव में लंड फूल कर कुप्पा हो गया था.

उधर आज अर्णव भी उत्साहित था, उसे भी मोहिनी के साथ जाने का इंतज़ार था.

मैं अब तक चूंकि बहुत बार झड़ चुकी थी, जिससे मैं अन्दर से थकी हुई थी.

तब मैंने उसे एक स्माइल दी और उसने देर ना करते हुए मेरे एक पैर को थोड़ा ऊपर उठाया और लंड सैट करके एक झटके में पूरा लंड मेरी बुर में पेल दिया. पर जैसे जैसे मेरी उंगलियों ने अन्दर बाहर करना शुरू किया, वैसे वैसे सोनी गर्म आहें भरने लगी. देवर ने भाभी को चोदा बीएफहम दोनों की झिझक और शर्म की वजह से पहली मुलाकात में मैं सिर्फ उसका हाथ पकड़ सका और जाते हुए उसे गले लगा कर वापस निकल पड़ा क्योंकि इससे ज्यादा कुछ करने या कहने की हिम्मत नहीं बनी.

ऐसा करते वक़्त सुहानी के चेहरे से साफ लग रहा था कि उसको जिस सुख की इच्छा थी, वो पूरी हो रही है. जिस दिन मम्मी का चुदने का मन होता था, उस दिन सुबह उठते ही वो पेटीकोट ब्लाउज में सारा काम करती थीं और शाम 8 बजे से फिर से साड़ी उतार कर सिर्फ पेटीकोट ब्लाउज में ही खाना बनाती थीं. अब मुझे यकीन तो हो गया था कि मेरा भाई भी मुझे चोदना चाहता है, पर वो कहने से डरता है.

मुझे उन चीखों से मेरे मन में उठे सवाल का जवाब भी मिल गया कि सच में किरण की गांड मुश्किल से एक दो बार ही चुदी है. हम सब एक साथ ही रहने वाले थे, तो मेरे घर वालों को इस बात से कोई परेशानी भी नहीं हुई.

रूमी के घर आने से मैं बहुत खुश था क्योंकि हम दोनों बचपन से अच्छे दोस्त थे.

मैंने उसकी आवाज पहचानते हुए कहा- हां मनीषा बोलो … क्या बात है?वो बोली- मुझे नींद नहीं आ रही है. फिर धीरे से मैं सरककर उसके सामने आ गया और एक हाथ से एक दूध को दबाता और दूसरे को चूसता था. पापा जी और मम्मी जी ने बताया कि वे तीन-चार दिन के लिए नानी के यहां जा रहे हैं.

बीएफ सेक्सी बुर रीना ने उसका मुँह ऊपर करते हुए पॉल के मुँह पर थूकते हुए कहा- साली तेरी मां किस हिजड़े से चुदी थी कि तेरे जैसा नामर्द पैदा हो गया. वो मुझसे अकेले में मां कहने की जगह अपना अदिति लेकर बुलाने को कहती थीं.

”मैंने मुँह खोला ही था- कै…स …तभी शैली ने मेरे होंठों से अपने होंठ लगा दिए और मेरे होंठों को अपने दांतों से काटती हुई अलग हो गई. फिर अर्णव एक हाथ से हल्के से मोहिनी के दूध को मसलने लगा; अपनी दो उंगलियों में एक चूचुक को मींजने लगा. मैं उसके चूचे की बिटनिया को जब भी काटता, तब वो मेरे सर को पकड़ कर अपने दूध पर टिकाए रखती.

বেঙ্গলি ব্লু ফিল্ম বেঙ্গলি

मैंने उसकी ब्रा को खोला और एक तरफ फैंक कर उसके दोनों मम्मों को अपने हाथों से सहलाने लगा. फिर मम्मी को चोदने का ख्याल मन में तब आया, जब मेरे घर के एक हिस्से में एक किरायेदार अंकल आंटी रहने आए. दूसरी बात यह थी कि हम तीनों लड़कियों में यह सब बातें करना मुझे पसंद नहीं था, इसलिए जब मैं ऑफिस से निकलती थी, तभी अपने ब्वॉयफ्रेंड से बात कर लिया करती.

एक बार मैंने उन्हें अपनी सेक्स स्टोरी की लिंक भेजी थी, जिससे वह प्रभावित हुई थीं और उन्होंने मुझे अपनी कहानी लिखने के लिए बोल दिया था. हर बात पर रेशमा को टोक देना, किसी के भी सामने उसकी बेइज्जती कर देना उसके लिए मामूली बात थी.

या अम्मी के बूब्स देखते हुए बोल देता- आज तुम्हारे बहुत मोटे लग रहे हैं.

काफी विरोध के बाद शीरीं हार गई और उसने फ़ज़लू का विरोध करना बंद कर दिया. फिर जैसे ही मैं सोनी को कॉल करता, सबसे पहले सोनी यही पूछती- रश्मि से बात कर रहे थे क्या?मैं समझ गया था कि सोनी रश्मि को लेकर असहज महसूस करने लगी है इसलिए मैं रश्मि को नजरअंदाज करने लगा. रीमा अपनी चुदाई तो करवाना चाहती थी, पर उसने मेरे सामने शर्त रखी कि वो अपना मोबाइल नंबर मुझे नहीं देगी और न ही अपनी फोटो भेजेगी.

एक हाथ से मैंने उसकी मोटी गांड पर थप्पड़ मार मार कर उसे लाल कर दिया. रविवार के दिन मैं प्लान के हिसाब से तैयार होकर यशवंत भैया के रूम पर पहुँच गई. मेरी गांड पूरी खुली हुई थी तो गांड में गर्म पानी बड़ा मजा दे रहा था.

इसके बाद अपने हाथों से मेरी गांड का छेद खोल कर अपना टोपा रख कर मेरे ऊपर चढ़ गए.

बीएफ कुंवारी: जब लगभग दस मिनट में मेरे लंड ने फिर हिलोरें लेना शुरू कर दिया तो लंड उसकी चूत के अन्दर ही टाईट होने लगा. मैं उसके मुँह को अपनी गांड के और अन्दर दबाते हुए गांड चटवाने का आनन्द लेने लगा.

सच में दोस्तो, एक पैग और पीने के बाद तो मेरी साली और मजा देने लगी थी. मैंने दीदी से लगभग एक महीने तक बात नहीं की, ना ही उससे नजरें मिलाईं. मैं उसका चेहरा उठा कर उसे फिर से किस करने लगा और दोनों हाथों से उसके दोनों चूचे दबाने लगा.

शायद हम दोनों ही उस वक़्त कुछ नहीं सोच रहे थे, बस जवानी के आग में एक दूसरे के होंठों को चूम रहे थे और हमारी आंखें बंद थीं.

अगले कुछ पल बाद उसने अपना लौड़ा बाहर निकाला और मेरे मुँह में दे दिया. साथ में वो बोल रही थी- मेरी कमीनी बहन … साली आज तूने मेरी गांड में पूरा लंड एक बार में ही डलवा दिया. हालांकि मैं जानता हूं कि मम्मी की चूत में बहुत आग है और उन्हें हफ्ते में 3-4 बार चुदने के लिए लंड तो चाहिए ही होता था.