पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ

छवि स्रोत,रेखा की नंगी सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

सुहागरात चुदाई हिंदी में: पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ, आपको इस सेक्स कहानी को पढ़ कर पता लग जाएगा कि ये मेरी एक सच्ची चुदाई कहानी है.

जयपुर कॉलेज की सेक्सी पिक्चर

फिर मैं उसकी जांघों पर बैठ गया और उसकी पीठ पर अपने हाथों का मूवमेंट शुरू किया. वेरी हॉट एंड सेक्सीसुहानी जल्दी से सिक्सटी नाइन की पोजीशन में आ गई और वो मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी थी कि मैं मस्त हो गया.

मैं और रीना एक दूसरे के आमने-सामने आ जाने से रीना ने फिर से अपना मुँह मेरे तरफ बढ़ाते हुए अपने गुलाबी होंठ मेरे होंठों पर चिपका दिए. हिंदी सेक्स हिंदी सेक्सी हिंदी सेक्सीमैं उसे किस करते हुए जैसे ही उसकी चूत तक आया तो तभी उसकी आह आह निकलने लगीं.

मैंने तो पहले उसकी कमर को पकड़ लिया और अपनी दोनों टांगों से उसकी टांगों को दबाने लगा.पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ: उन्होंने मेरे पूरे चेहरे को चूमा और हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को अपने होंठों से भींच लिया.

पर शायद इन दोनों को कुछ फर्क ही नहीं पड़ रहा था और यह दोनों सटासट सटासट मेरे दोनों छेदों के अन्दर अपने तगड़े लंड घुसा रहे थे.जैसे ही हम बेडरूम में आए, गीता ने मुझे अपनी बांहों में कसकर चूमते हुए कहा- हर्षद कैसे बताऊं तुम्हें कि मैं कितनी खुश हूँ.

प्रियंका चोपड़ा का सेक्सी चुदाई - पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ

नया लॉज था और नया कमरा भी तो एक बार चैक करना भी जरूरी था इसलिए मैंने फिर से पहली बार वाला ही तरीका अपनाया, कमरे की सारी लाइट्स ऑफ करके अपने मोबाइल के कैमरे से कमरे का हर एक कोना चैक किया.इस सबके चलते मैंने सोचा कि क्यों ना आज मैं अपनी चुदाई की कहानी लिख कर आपको भी मजा दे दूँ.

उधर आज अर्णव भी उत्साहित था, उसे भी मोहिनी के साथ जाने का इंतज़ार था. पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ मैं उसके पास लेट कर उससे अपने जिस्म को निहारने देती और खुद अनजान बन कर उसके जिस्म को निहारती.

अपने स्कूल में उसे कोई भी लड़की पसंद नहीं आती, वो सब में अपनी मां जैसी सुंदरता और व्यक्तित्व तलाशता … और जब उसे वो सब न मिलता, तो वो अपनी मां की तरफ झुक जाता.

पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ?

कुछ देर बाद वो ही मेरे पास आकर बोली- आप कहां जा रहे हैं?मैंने उसे गांव का नाम बोल दिया. मैं वाशरूम में गया, मुठ मारी और बेड के दूसरे किनारे पर लेट कर सो गया. सौतेली माँ ने अपनी इच्छा अपने बेटे को बताई तो …अन्तर्वासना के सभी दोस्तों को हर्षद का नमस्कार.

मैं मामी को पसंद करता था, उनके बूब्स बहुत रसीले लगते थे मुझे। मामी के साथ मेरे सेक्स संबंध बन गए … कैसे?नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम प्रदीप सिंह है और मैं पंजाब का रहने वाला हूं।मेरी उम्र 28 साल है और मेरी हाइट 5. ये सब स्कूल से दूर एक जगह कार्यक्रम था तो टीचर जी बोले- इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए तुमको कल सुबह जल्दी 8 बजे तक स्कूल आ जाना होगा और शाम को भी देर होगी. पांच मिनट बाद मैंने उसे घोड़ी बनने के लिए कहा और पीछे से लंड डालकर चुदाई शुरू कर दी.

उसने अपना मुँह रेशमा की चूत पर पूरा दबाया और एक ही बार में अपनी पूरी जीभ रेशमा की फुद्दी में घुसा कर बाहर निकाल ली. जिन्हें रिश्तों में चुदाई पढ़ना अच्छा नहीं लगता, उनसे कहना चाहूंगी कि वो लोग अभी कहानी पढ़ना बंद करके कोई दूसरी कहानी को पढ़ सकते हैं. ऐसा नहीं था कि मुझे लौड़ा नहीं चाहिए था … मेरी फुद्दी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी.

अगले दिन शाम की ट्रेन थी मतलब मैं और रेशमा रात भर एक ही कूपे में होंगे और यही सोच कर मेरा लंड अभी से फड़फड़ाने लगा था. अब शायद उसका दर्द भी कम हो चुका था और वो भी इस चुदाई का आनन्द लेने लगी थी.

साथ में वो अपने स्तन मेरी पीठ पर रगड़ रही थी और से गीता मेरे तने हुए लंड को, अंडगोटियों को और जांघों को बार बार साबुन लगाने के बहाने सहला रही थी.

मैं- हां भाभी प्लीज आप गुस्सा मत हो, देखो आकाश भाई तुमको पति होने के नाते सब जिम्मेदारी तो निभा ही रहे हैं.

मैंने भी उनकी आंखों में देखते हुए अपना लौड़ा किरण की चूत पर रखा और पूरी ताकत से एक झटका देते हुए लौड़े को घुसा दिया. शायद मेरा बड़ा भाई यानि अंकित ज़्यादा हैंडसम है इसलिए वो ही मेरे ख्यालों में आने लगा था. मैंने कहा- ऐसे नहीं भाभी जी, जब मैं अपनी जीभ आपके मुँह में डालूं, तो डालने देना.

फिर मैंने तकिया उसकी गांड के नीचे सैट किया और अपने लंड को उसकी चूत में रगड़ने लगा. नीता की इन्हीं बातों ने मुझे और जोश आ गया और अब मैं अपने लंड को सुपारे तक बाहर निकाल कर तेज गति से गांड में डालने लगा. कहानी के द्वीतीय अंशमेरी बुर की चूत बना दी पड़ोसी भैया नेमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपने बाजू वाले समीर भैया से चुद गई थी.

मैंने मन बना लिया कि अब मैं कोई न कोई लण्ड ननद की बुर में जरूर पेलूँगी।मैं भी देखना चाहती हूँ कि ननद बुर चोदी चुदवाती कैसे है, लण्ड चाटती कैसे है, लण्ड चूसती कैसे है? यह सब देखने में बड़ा मज़ा आएगा।बस मैं एक लण्ड की तलाश करने लगी।उस रात को मैं बड़े मूड में थी और नगमा भी!हम दोनों ब्लू फिल्म देख रहीं थीं.

मैं कभी किसी से कुछ नहीं कहूंगी और ना ही मैं तुम तीनों को कभी भी मना करूंगी. मम्मी ने अपने हाथों से इन्द्रेश अंकल के लंड को सहला कर फिर से खड़ा कर दिया. प्रोस्टीटयूट सेक्स कहानी को शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में बताना चाहता हूँ.

यह सच है कि मैं यहां वही कहानी लिखता हूँ, जो मेरी महिला साथी या कपल मुझे नाम बदल कर कहानी लिखने के लिए अपनी मंजूरी देते हैं. जब वह झटके से सुदिति की चूत में लंड डालता था तो सुदिति जोर से आ आ आ आहा चिल्लाती थी. रेशमा- हाय अम्मीईई … मैं कट गयी कुत्ते … उईईई मादरचोद आर-पार निकालेगा क्या लंड … आह कितनी अन्दर ठांस दिया है कमीने मालिक!ये कहती हुई रेशमा बह गयी, उसकी चूत में जमा हुआ पानी मेरे पेट, लौड़े और टट्टों को गीला करते हुए बिस्तर पर छूटने लगा.

नानाजी बाहर चक्कर मारने गये तब नशे में टुन्न नट्टू काका ने मुझे अपने पास बुलाया और प्यार करने लगे.

मैं माँ चुदाने के लिए तैयार हूँ अंकल। माँ ही चुदाना क्या … मैं तो लण्ड पाने के लिए कुछ भी कर सकती हूँ।मेरी खुली खुली बातों से उसे बड़ा मज़ा आया और बोला- तुम बहुत बोल्ड हो रेशमा. कुछ देर में एक वेटर हमारे खाने का आर्डर लेने आया, तो भैया ने उसे आर्डर दे दिया.

पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ चाची ने मुझे बेड पर लेटाया और मेरे ऊपर चढ़ गईं, मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगीं. उसके बाद मैं मां के साथ रजाई में घुस गया और सिर्फ अंडरवियर में लेट गया.

पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ उसके और मेरे पानी की महक हम दोनों के मुँह से आ रही थी जो हमें और बेकाबू कर रही थी. रीना जैसी हवस में अंधी होकर चुदवाने वाली औरत के साथ मैंने भी वासना के ऐसे ऐसे मुकाम हासिल किए कि जिंदगी के सारे मजे उस एक रात में ही समा गए थे.

परन्तु ऑन्टी के डर की वजह से कुछ बोलने या अपनी ओर से प्रतिक्रिया देने में पूर्णतः अक्षम था।मेरे होठों को चूसने के बाद ऑन्टी ने मेरी बनियान निकाल दी और मेरे सीने पर किस करते हुए एक एक कर दोनों स्तनों की घुंडियों को चूसने लगीं.

पंजाबी लड़की की नंगी चुदाई

उन्होंने कहा कि हमारी मुलाकातें सिर्फ और सिर्फ, मेरे मनोरंजन के लिए होंगी। वो अपना सारा समय सिर्फ मुझे चरम सुख दिलाने के लिए बिताएंगे. अब मेरे निप्पल पूरी तरह से टाइट हो गए थे और मेरे बूब्स आसमान की तरफ़ उठ गए थे और मैं अपनी उंगलियां चूत में चलाए जा रही थी. मैं थोड़ा दूर हुआ तो उसने मेरे कॉलर पकड़ कर मुझे करीब खींच लिया और होंठों पर होंठ लगा दिए.

अंकल धीरे-धीरे और करीब आ गए और वह भी फोटो देख कर बोलने लगे- यह वाला देखो, कितना जबरदस्त है. मुझे बिल्कुल उसी तरह की फीलिंग आ रही थी कि मैं सेक्स स्लेव हूं और इन तीनों की हवस मिटाने की डॉल हूँ. सर का वीर्य मेरी जुबान को स्वाद दिलाता हुआ मेरे हलक के नीचे उतर गया.

मैं कभी अपने लंड को उनके गालों में रगड़ता, तो कभी उनके गले में पूरा लौड़ा उतार देता.

उसकी टांगें हवा में उठ गईं और वो मादक आह भरती हुई मुझे अपनी गांड से जवाब देने लगी. जबकि वो हज़ारों बार पापा का लंड डलवा कर अपनी चूत का भोसड़ा बनवा चुकी थीं. एक दिन बॉस ने मुझे अपने चेंबर में बुला कर पूछा, तब मैंने कुछ और वक्त माँगा.

थोड़ी देर में वो मेरे ऊपर से उठा और उसका लौड़ा मेरी गांड से बाहर निकल कर लटक गया. आज मैं आप सभी के साथ एक और अनुभव हिमाचल सेक्स कहानी के रूप में लेकर आया हूँ. अदिति अपनी जांघों से मेरा सर पकड़कर मेरा मुँह अपनी चूत पर दबाए रखे थी.

दिन तो ऑफिस में निकल जाता, पर शाम को घर आने पर घर उसे काटने को लगता. मेरा लंड इतना बड़ा होने के बाद भी एक ही झटके में पूरा लौड़ा चूत के अन्दर घुस गया.

थोड़ी ही देर में उसका बदन अकड़ने लगा और वो एक लंबी आह के साथ भलभला कर आ गयी … मतलब वो एक बार स्खलित भी हो गयी. मैंने उसकी कमर पर हाथ रखा और धीरे से चड्डी की इलास्टिक में उंगलियां फंसा कर धीरे धीरे उसे नीचे को खिसकाने लगी. उसे निर्देश थे कि वो मेरी गांड नहीं मार सकता क्योंकि वो सिर्फ और सिर्फ पीटर ही मार सकता है।चूत में बोतल घुसा के उसने फिर तस्वीर ली और पीटर को भेज दी।उस बीयर की बोतल ने मुझे 2 बार झाड़ा.

ऐसे करते करते मैंने सुहानी की गांड में उंगली डाल दी, जिससे सुहानी की आंखें खुल गईं.

तभी उसने मेरे ब्लाउज के ऊपर से मेरे बूब्स को पकड़ा और जोर जोर से दबाने लगा. मेरे हर झटके के साथ उसकी गू गू की आवाज आ रही थी।फिर मैंने उसके हाथ पैर खोल दिये और वह मज़े से गांड मरवाने लगा।जब कुछ देर बाद मैं थक जाता तो लण्ड बाहर निकाल लेता … लेकिन मैंने अपना पानी नहीं निकलने दिया. उन्होंने मुझे दुकान के पीछे पार्टीशन की तरफ भेज दिया और कहा- मैं अभी दुकान बंद करके थोड़ी देर में आता हूं.

भाभी की चुदाई के दौरान ही उसी फ्लैट में एक औरमस्त सेक्स स्टोरीबन गई थी. उन लोगों ने फर्श पर नीचे ही एक गद्दा बिछाया हुआ था, उसी पर सब लोग बैठे थे.

मैंने जींस निकाल कर अंकिता को दे दी धोने के लिए जो उसने वाशिंग मशीन में अपने कपड़ों के साथ डाल दी. सुरेश के यह बोलने की देर थी कि अमित मेरे करीब आ गया और उसने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया. बस फिर क्या था … उनके मुँह से इतना सुनते ही मैंने उन्हें अपनी बांहों में भर लिया और उन्हें किस करना शुरू कर दिया.

देसी औरत का बीएफ वीडियो

कुछ देर के बाद उन्होंने अपनी वीर्य भरी पिचकारी मेरी बुर में ऊपर छोड़ दी और भैया हांफते हुए मेरे ऊपर ही ढेर हो गए.

मैं कभी आयी नहीं यहां … और आती भी किसके साथ, मेरा तो कोई दोस्त ही नहीं है. मैं बोली- बदमाश कहीं के … और कितना चोदोगे … थकते नहीं हो क्या?मंयक बोला- तेरी जैसी माल को देखकर लोगों की थकावट दूर हो जाती है. मैं पूरे जोर से अपना लंड रीना के बच्चेदानी के अन्दर घुसाते हुए गुर्राने लगा और उस नर्म नर्म मख़मली स्पर्श का स्वर्गसुख लेते हुए रीना के बच्चेदानी में अपने वीर्य की बौछार करने लगा.

यक़ीनन रीना की सिसकारियां इस बात का सबूत थीं कि पॉल की जीभ रीना की गीली फुद्दी में घुस चुकी थी. नंदा को बता दिया कि डिनर लेने के बाद कुछ देर विश्राम की जरूरत रहती है. चाचा भतीजी की सेक्सी ब्लू फिल्ममूवी में मां बनी औरत की उम्र 40 साल की रही होगी और वो अपने 19 साल के जवान बेटे का लंड चूस रही थी.

अब आगे पोर्न भाभी चुदाई का मजा:मेरी ससुराल में सासु जी के साथ, मेरे बड़े साले रमेश भैया 33 वर्ष, उनकी पत्नी वसुंधरा भाभी 30 वर्ष, छोटे साले दिनेश जी 28 वर्ष और साली रजनी 22 वर्ष इतने सदस्य थे. धीरे धीरे सोनी का भी दर्द गायब हो गया और वो अब कामुक सिसकारियां लेने लगी.

कई बार काम की वजह से हम शहर से बाहर भी घूमने जाते, वहां पर रेशमा बिल्कुल मुझसे सटकर ऐसे चलती, जैसे कि मैं ही उसका शौहर हूँ. Xxx लेडी टीचर सेक्स कहानी में मैंने एक स्कूल की प्रिंसिपल को उसके घर में आगे पीछे से चोदा. मन तो उसका भी बहुत कर रहा था लेकिन वह डर भी रही थी कि क्या वह सही कर रही है या नहीं.

फिर मार्च का महीना आया और मैंने होली के लिए ऑफिस से एक हफ्ते की छुट्टी ले ली क्योंकि मैं हर त्यौहार पर गांव जाता था. फिर जब मुझे आराम हुआ, तब मेरे जीवन का असली संभोग सुख मिलना शुरू हुआ. जिन दोस्तों को मेरी कहानियां पढ़नी हैं, वो साईट पर मेरी कहानियां पढ़ सकते हैं.

वो दर्द से कराहने लगी और बोली- एक महीने से पति चोद रहे हैं, तब तो इतना दर्द नहीं हुआ पर तुम्हारा लंड जाते ही चूत कांपने लगी.

सासुजी और वसुंधरा भाभी ने मुझे डिनर सर्व किया और हम सबने एक साथ बैठकर डिनर लिया. उस ड्राइवर ने कहा- अरे तो चलिए साहब, आज मैं आपकी ये इच्छा पूरी करवा देता हूँ.

अभी मेरा नहीं हुआ था तो मैंने स्पीड कम नहीं की और वैसे ही झटके लगाता रहा. अब मेरे निप्पल पूरी तरह से टाइट हो गए थे और मेरे बूब्स आसमान की तरफ़ उठ गए थे और मैं अपनी उंगलियां चूत में चलाए जा रही थी. [emailprotected]हॉट गर्ल मसाज़ स्टोरी का अगला भाग:मेरे कुंवारे लंड का भोग लगाया मेरी सहकर्मी ने- 3.

तभी उसने मुझे नीचे लेटने को कहा और मेरे ऊपर बैठकर पूरे लंड को धीरे से अपनी चूत में घुसा लिया. मैं उसके नीचे अपने पैरों को चौड़ा करके लेटी हुई उसके लंड को अन्दर डालने का इंतजार कर रही थी. मैं वापस अपने ऑफिस से अपने रूम पर जा रही थी और एक फ्लोर चढ़ने के बाद जब तक मेरा फ्लैट आ रहा था, तो उसमें से एक लड़का, जिसका नाम राकेश था, उसने मेरे साथ एक हरकत कर दी.

पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ रीना जैसी हवस में अंधी होकर चुदवाने वाली औरत के साथ मैंने भी वासना के ऐसे ऐसे मुकाम हासिल किए कि जिंदगी के सारे मजे उस एक रात में ही समा गए थे. मैं मज़ाक में बोली- सिर्फ़ नहाना है या और कुछ …तभी उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मुझे ज़ोर ज़ोर से किस करने लगा.

सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चर बीएफ

उसने भी मेरी चुम्मियों का उत्तर देते हुए अपने हाथों से खुद को और मुझको नंगा कर दिया. चूंकि मेरी मम्मी घरेलू महिला थीं, कोई मॉर्डन महिला तो नहीं थीं कि इत्मीनान सेचुदाईकी इच्छा जाहिर कर देतीं. पूरी तरह से झड़ने के पाद पाटिल जी ने अपना लंड रेशमा की गांड से बाहर निकाला.

एक उंगली के बाद अब मैंने एक और उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसे 2 उंगलियों से जोर जोर से चोदने लगा. उसने बातों बातों में मुझे यह भी बताया था कि वह लगभग अट्ठारह साल से अकेली रह रही है और उसके भी कुछ अरमान हैं. सेक्सी वीडियो 10 अगस्त कामैं मां को बिना बताए उनकी चूत में ही झड़ गया और उन्हीं के ऊपर लेट गया.

मुझे सच में बहुत मज़ा आ रहा था, इतने सालो के बाद मैं रज के चुद रही थी, जैसे मैं एक बाजारू, बिकाऊ औरत बन गई सलीम की।काफी फिस्टिंग के बाद सलीम रुका और उसने 69 पोजीशन ली.

सचमुच लॉकडाउन के छह महीने के बाद मैं अपना कुछ समय अदिति को दे सकता था. उनके घर न आने से घर पर कोई फर्क नहीं पड़ा क्योंकि मैं इलेक्ट्रॉनिक्स सामानों को रिपेयर करने का काम करता हूँ, जिससे घर का खर्चा भी निकल जाता है और थोड़ी बहुत बचत हो जाती है.

बाद में उसके रूम के पास आकर मैंने उससे कहा- मुझे बाथरूम जाना है, बहुत तेज़ लगी है. मैंने भी अपने एक पैर को उसकी दूसरी टांग पर रख दिया और उसे अपने दूसरे हाथ से अपनी बांहों में लेकर सो गया. मैंने नंदा को आंख से इशारा करते हुए चुप रहने को कहा और दो टिकट मुम्बई के आज के बनाने को बोला.

थोड़ी देर में मैंने आंखें खोल कर अली की तरफ देखा, तो वो मेरी तरफ ही देख रहा था.

धीरे धीरे में किस करते करते उसकी गर्दन तक आ गया और उसकी गर्दन और चूचों के बीच की घाटी के ऊपर तक किस करने लगा. अपनी सहेलियों से ही उसने अंतर्वासना के बारे में जाना और को इसमें प्रकाशित सेक्स कहानी पढ़ना अब उसका शगल हो गया है. फिर मैंने एक दूसरे दोस्त की बहन की बात करना शुरू कर दी कि यार मनोज की बहन बड़ी माल लगती है, साली चोदने को मिल जाए तो मजा आ जाए.

नाना नानी के सेक्सी वीडियोमैंने उस मिडी पर बेडशीट को उठाकर ठीक से ओढ़ लिया और बोली- चलो शुक्र है, ऐसे मैं घर जा सकती हूं. दिन भर कंपनियों का चक्कर लगाता और रात को इंटरनेट के सहारे नई नई कंपनियों की वेबसाइट पर अपना बॉयोडाटा भेजता.

ताजा सेक्स वीडियो

अपनी ढीली ढाली साड़ी में ऑन्टी अपने चिरपरिचित अंदाज़ में घर के अंदर दाखिल हुईं।ऑन्टी ने थोड़ी देर अपने पति देव से बात करके फोन रख दिया. वह मेरी बात का मतलब तो समझ ही गई थी क्योंकि भगवान ने लड़कियों को सामने वाले की नजरों और बातों का मतलब पता करने की एक अलग सी शक्ति दे रखी है. काम मिल गया था और अभी काम करते हुए 15-20 दिन ही हुए थे कि मेरे घर वाले फिर से मुझ पर लड़की देखने का दबाव डालने लगे.

अब मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी सलवार को पैंटी सहित उसके जांघों तक नीचे खींच दिया. उसके 36 इंच के भारी भरकम मांसल चूचे बिना ब्रा के मेरे सामने नाच रहे थे. फिर उसने मुझसे कहा- मेरे आंसू देख कर आपने सेक्स बीच में ही छोड़ दिया जोकि किसी भी आदमी के लिए संभव नहीं है.

दोनों मम्मों को इसी तरह से सहलाते और चूसते ही वह गर्मा गई और सिसकारियां भरने लगी. मैं भी काफी ज्यादा उतेजित हो गया था और मैं भी अपनी चड्डी उतार कर अपने लंड को उसके सामने मसलने लगा. वो जींस के ऊपर से ही मेरा लंड सहलाए जा रही थीं जो कि पहले से ही अपने विकराल रूप में आ चुका था.

मेरे चोदू यारो,आप सबने मेरी पिछली कहानी65 साल के लंड से चूत चुदवा ली मैंनेपढ़ी होगी. उसने मुझसे कहा- तुझे ऐसा क्यों लगता है कि मैंने दीदी के साथ भी ये सब किया है?मैं उसकी बात का जवाब सोचने लगी.

अब मैंने उन दोनों से कहा- तुम दोनों एक दूसरे को किस करो और मैं अपना काम करता हूँ.

पर मुझे मालूम था कि वह झूठ बोल रही थी क्योंकि उसे डर था कि कहीं मैं उसके लेटर उसके पापा को ना दिखा दूँ. सेक्सी चोदने वाली दिखाइएमैं सोच में था कि साला एक 6 साल छोटा लड़का चुदाई में इतना मजा कैसे दे सकता है. सेक्सी चुदाई वाली पिक्चर दिखाओवो मेरे सर को अपने दूध पर दबा रही थी, जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. बाद में मेरे लंड को भी साफ किया और पेटीकोट को साइड में रख कर वापिस अपनी पुरानी पोजिशन बना कर लंड को चूत से सटा कर धड़ाम से बैठ गयी.

मैंने रसिका भाभी की नाजुक टांगें अपने कंधों पर चढ़ा लीं और फुल मस्ती में उसकी बुर पेलने लगा.

तो मैंने बात घुमाते हुए पूछा- क्या तुम लोग कभी अकेले में भी मिले थे?उसने शर्माते हुए जवाब दिया- जी साहब, मिली थी. अब मैं अपने आप से कंट्रोल खोने लगा।मुझे लग रहा था कि अभी जाकर मैं अपनी पिंकू की चूत फाड़ चुदाई कर दूं और उसके मखमली दूधों को चूस चूस कर और भी बड़े कर दूं. मुझे भी वो उस तरह से पसंद आने लगा था और उसे मैं!दो दिन तक तो ऐसे ही चला.

फ़िर विपिन ने मेरी हथेलियों को पकड़ा और धीरे धीरे उन्हें जबरदस्ती नीचे करने लगा. वो वासना से बोली- बस इन्हें ऐसे ही देखते रहोगे … कुछ करोगे नहीं, इनके साथ खेलोगे नहीं क्या?उसके ये बोलते ही मैं अपनी साली के मम्मों पर झपट पड़ा और ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को चूसने चूमने लगा. किरण की चूत सच में भोसड़ा ही थी, ना जाने कितने मर्दों से चुदवा-चुदवा कर उसने अपनी चूत का ये हाल बना लिया था.

हिंदी जंगल बीएफ

उसने अपने पड़ोस के लड़के से दोस्ती करके पहले सेक्स का रास्ता साफ़ किया. मुझे ये डर भी था कि कहीं अंकित गुस्सा ना हो जाए या उसने मेरी इस चाहत को घर में किसी को बता दिया तो मेरी क्या हालत होगी. रीना के दर्द की परवाह किए बिना मैंने फिर से मेरा लौड़ा सुपारे तक उसकी चूत से बाहर खींचा और उसी ताकत से अन्दर घुसा दिया.

पिताजी की उम्र के हिसाब से अब उन्होंने भी धीरे धीरे धंधे का सारा भार मेरे कधों पर डाल दिया था और मैं भी अपने ख़ानदानी पेशे को आगे बढ़ा रहा था.

मैंने अपने एक हाथ से उसकी गुलाबी चिकनी चूत पर क्रीम फैला दी और उंगलियों से उसकी चूत में भी लगा दी.

अब मेरी लाइन क्लियर हो गई थी … लेकिन मैं उसे सरप्राइज देकर चोदना चाहता था. वो ये सब देख रही थीं और वो भी तेज सासें ले कर अपनी चूचियों को उभार रही थीं. सेक्सी पिक्चर दिखाइए अच्छी वालीकरिश्मा को किस करते करते करते मैंने उसकी नाईटी और ब्रा उतार दी और करिश्मा के चूचे अपने हाथों में लेकर चूसने लगा.

जिससे मुझे पता चला के उसके पति को गुज़रे हुए दस साल हो गए थे और उसे 2 लड़के भी हैं. हो सकता है आप में से कुछ पाठकों ये सब गलत लगे, पर आप सबमें से कुछ लोगो के साथ तो ऐसा जरूर हुआ होगा कि अपनी रिश्तेदारी में ही किसी पर दिल आ गया होगा … या कम से कम अच्छा तो लगने लगा होगा. अपने फोन पर मैंने एक जबरदस्त हिन्दी डब मां बेटे की चुदाई की सेक्सी मूवी लगा दी.

उनकी चूचियों की दरार मुझे दिखी, वो जानबूझ कर हिला कर दिखाने लगीं और कातिलाना स्माइल दे दी. हम दोनों ने पूरे दिन बात की, घूमे और बाजार से चाट पकौड़ी खाकर घर आ गए.

अगले ही दिन मुलाक़ात होना तय हुई थी तो मैंने फटाफट जाकर अपने बाबूराव के आसपास का जंगल साफ किया और मालिश करने लगा.

मेरी अपनी विधवा बुआ रूपा की शानदार चुदाई की एक और सच्ची मनोरंजक सेक्स कहानी का मजा लीजिए. उन दोनों के मुँह से तड़प भरी आवाजें निकल रही थीं और पूरे रूम में आनन्द का समागम चल रहा था. एनल पोर्न सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी रिश्तेदार लड़की की चुदाई की.

पंजाबी सेक्सी पिक्चर एचडी में कुछ देर बाद मैंने उसे अपने लंड पर बैठा लिया और वो मेरे लंड के ऊपर नीचे होती हुई चुदने लगी. उसने शर्माते हुए मेरे लंड को दोनों हाथों से पकड़ लिया, उसके सुपारे की चमड़ी को बार बार आगे पीछे करने लगी.

मैं समझ गया कि आज ये मज़े लेती हुई चुद रही है और मेरे कहे अनुसार मुझे पूरा मजा दे रही है. अंकल का पूरा जिस्म सफेद बालों से भरा हुआ था और उनका लंड जो नीचे लटक रहा था, वह काफी बड़ा था. हालांकि ऐसा भी नहीं था कि मम्मी बिल्कुल खुली हुई हों और किसी का भी लंड ले लें, वो बिल्कुल घरेलू महिला थीं लेकिन उनका चुदाई का मन बहुत होता था, तो चुदने के टाइम पर खुल कर चुदती थीं.

दोस्त की गर्लफ्रेंड को चोदा

कुछ ही पलों में रेशमा की गांड ने पाटिल जी के लौड़े को अपना घर बना लिया और फिर से सलमान हिजड़े की बीवी दो पराये मर्दों से चुदने लगी. मगर मेरा लंड शांत होने का नाम नहीं ले रहा था तो मैंने करिश्मा को मनाया और उसे किस किया. थोड़ी देर बाद डिब्बे की लाइट बंद हो गई और अब पर्याप्त अंधेरा हो चुका था।जब डिब्बे में सब नार्मल हो गया तो मैं भी चुपचाप अपनी सीट पर लेट गया।हमरे कैबिन में हम तीन ही सवारियां थी.

उसने लगातार मेरे दोनों गोटों को मुँह में लेकर चूसा और उसने आखिरी बूंद निकलने तक मेरे गोटों की मालिश करना जारी रखा था. कुछ देर बाद मैंने लंड चूत से खींचा तो मामी के चेहरे पर गुस्सा सा झलकने लगा था.

पॉल के मुँह पर थूकते हुए उसने पॉल को एक ज़ोरदार चांटा मारते हुए कहा- मुँह खोल ना कमीने … मां की चूत तेरी कुत्ते.

मैं समझ गया कि चाची को ये सब अच्छा लग रहा है, नहीं तो अभी तक चाचा तक बात पहुंच गई होती. फिर रीना ने अपने मुँह से थूक निकाल कर पॉल की गांड का छेद गीला कर दिया और अगले ही पल उसने उस रबर के लौड़े का सुपारा पॉल की गांड में घुसा दिया. चूंकि हम दोनों एक दूसरे के सामने बैठे थे तो मैं उठ कर उसके बगल में उससे चिपक कर बैठ गया और अपना हाथ सीधे उसकी जांघों में रख दिया.

उस दिन के बाद हम अक्सर लॉज में जाने लगे और सब कुछ भूल कर एक दूसरे के साथ समय बिताने लगे. फिर मैंने भी उससे उसके ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछ लिया तो वो मुस्कुरा कर बोली- हां एक था लेकिन मैंने उसे छोड़ दिया. इसके बाद भैया अपने मोटे हल से मेरे बंजर पड़े खेत की नॉन स्टॉप जुताई करने लगे.

कुछ देर में उसके लंड ने पानी छोड़ दिया जिसे मैंने अपने मुँह के अन्दर ले लिया.

पंजाबी बीएफ फिल्म पंजाबी बीएफ: उसके तने हुए बूब्स देखते ही में पागल हो गया और उन्हें पागलों की चूमने लगा. मैंने अब फिल्म देखना बंद कर दिया और लैपटाप बंद करके चादर में मुँह देकर सोने की कोशिश करने लगी.

यह बात कुछ महीने पहले तब की है, जब मैं अपनी स्कूल की पढ़ाई खत्म करके आगे की पढ़ाई करने कोटा आया था. मेरी पिछली कहानीपड़ोसन भाभी का प्यार या वासनाअपने पढ़ी होगी और मजा लिया होगा. मैं बोली- क्यों पापा आपको मम्मी नहीं चाटने देती क्या?तो पापा बोले- नहीं मेरी परी, तेरी मम्मी को तो तेरे मामा से चुदवाने की ही फुरसत नहीं मिलती.

मैंने मज़ाक करते हुए कहा- मेरे जैसी मिलनी तो मुश्किल है, चलो मुझे ही बना लेना.

शायद हम दोनों ही उस वक़्त कुछ नहीं सोच रहे थे, बस जवानी के आग में एक दूसरे के होंठों को चूम रहे थे और हमारी आंखें बंद थीं. मैं जैसे ही दरवाजा बंद करने के लिए उनकी तरफ मुड़ी तो अमित धीरे-धीरे मुस्कुरा रहा था और उसके चेहरे पर ऐसी मुस्कान थी जैसे उसने पूरी दुनिया जीत ली हो. पिछले 15 दिनों की प्यासी बुआ लंड चुसाई में आज सेक्सी मूवी की मां को भी पीछे छोड़ चुकी थी.